#जीवन शैली

bolkar speaker

पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है?

Police Apradh Ke Aaropi Ka Chehra Kapde Se Kyuyn Chupa Kar Rakhti Hai
अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
1:21
में पूछा गया कि पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से छुपा कर रखती है तो देखें सबसे पहले हम आपको बता दें कि मानव अधिकार कानून कहता है कि जब तक किसी को सजा नहीं मिल जाती तब तक किसी को अपराधी नहीं माना जा सकता है कभी-कभी देखिए इस प्रकार के सामने आ जाते हैं कि f.i.r. में दोषी के नाम को नहीं दिया गया होता है और दवा भी दिखे उसको नहीं पहचान पाते ऐसे में दिखी पुलिस अपराधी की पहचान के लिए पीड़ित के लिए पहचान परेड कराती है तो इस परेड में देखिए पीड़ित को आरोपी के अलावा कई अन्य लोग भी दिखाई जाते हैं तो अब आप ही देखिए सोचिए यदि दोषी का चेहरा पहले ही समाज को दिखा दिया जाए तब पीड़ित के द्वारा की गई पहचान पर कैसे विश्वास किया जा सकता है तो असल में देखिए गवाही और सुन्नत की सुनीता को बनाए रखने के लिए ही तो उसी का चेहरा ढका जाता है इस प्रकार से देखा जाए तो पुलिस अपने हिसाब से देखिए सही कार्य करती है पर हम लोगों में से अधिकतर किस बात को नहीं जानते इसलिए ही हमें देखिए अपराधियों का चेहरा ढकने का पुलिस द्वारा किया कार्य सही लगता है तो यही कारण है कि पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा वह कपड़े से छुपा कर रखती जय हिंद जय भारत
Mein poochha gaya ki pulis aparaadh ke aaropee ka chehara kapade se chhupa kar rakhatee hai to dekhen sabase pahale ham aapako bata den ki maanav adhikaar kaanoon kahata hai ki jab tak kisee ko saja nahin mil jaatee tab tak kisee ko aparaadhee nahin maana ja sakata hai kabhee-kabhee dekhie is prakaar ke saamane aa jaate hain ki f.i.r. mein doshee ke naam ko nahin diya gaya hota hai aur dava bhee dikhe usako nahin pahachaan paate aise mein dikhee pulis aparaadhee kee pahachaan ke lie peedit ke lie pahachaan pared karaatee hai to is pared mein dekhie peedit ko aaropee ke alaava kaee any log bhee dikhaee jaate hain to ab aap hee dekhie sochie yadi doshee ka chehara pahale hee samaaj ko dikha diya jae tab peedit ke dvaara kee gaee pahachaan par kaise vishvaas kiya ja sakata hai to asal mein dekhie gavaahee aur sunnat kee suneeta ko banae rakhane ke lie hee to usee ka chehara dhaka jaata hai is prakaar se dekha jae to pulis apane hisaab se dekhie sahee kaary karatee hai par ham logon mein se adhikatar kis baat ko nahin jaanate isalie hee hamen dekhie aparaadhiyon ka chehara dhakane ka pulis dvaara kiya kaary sahee lagata hai to yahee kaaran hai ki pulis aparaadh ke aaropee ka chehara vah kapade se chhupa kar rakhatee jay hind jay bhaarat

और जवाब सुनें

bolkar speaker
पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है?Police Apradh Ke Aaropi Ka Chehra Kapde Se Kyuyn Chupa Kar Rakhti Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:43
पुलिस अपराध के उपराज्यपाल के कुचेरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती हूं छुपा कर किस लिए होता है कि उसके कार्रवाई से नार्थ की जाती है ताकि उस व्यक्ति को कोई दूसरा पहचान न सके जो उसके गवाही दो वही लोग जाने तो इसलिए कपड़ा में उसका चेहरा छुपा कर के ले जाया जाता है उसको लॉकअप में रखा जाता है और जब मजिस्ट्रेट को कार्यवाही शिनाख्त के लिए बुलाता है तो उस व्यक्ति को का कपड़ा जो है उस तरह के चार पांच लोगों को खड़ा कर दिया देखो इनमें से कौन सा व्यक्ति है वह हमारे संविधान में व्यवस्था है कि किसी भी तरह से जो अपराधी है वो छूटने न पाए लेकिन उसके बदले में जो निर्दोष है वह हंसने न पावे इन सब चीजों के लिए सब व्यवस्था की गई है
Pulis aparaadh ke uparaajyapaal ke kuchera kapade se kyon chhupa kar rakhatee hoon chhupa kar kis lie hota hai ki usake kaarravaee se naarth kee jaatee hai taaki us vyakti ko koee doosara pahachaan na sake jo usake gavaahee do vahee log jaane to isalie kapada mein usaka chehara chhupa kar ke le jaaya jaata hai usako lokap mein rakha jaata hai aur jab majistret ko kaaryavaahee shinaakht ke lie bulaata hai to us vyakti ko ka kapada jo hai us tarah ke chaar paanch logon ko khada kar diya dekho inamen se kaun sa vyakti hai vah hamaare sanvidhaan mein vyavastha hai ki kisee bhee tarah se jo aparaadhee hai vo chhootane na pae lekin usake badale mein jo nirdosh hai vah hansane na paave in sab cheejon ke lie sab vyavastha kee gaee hai

bolkar speaker
पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है?Police Apradh Ke Aaropi Ka Chehra Kapde Se Kyuyn Chupa Kar Rakhti Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:41
पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है दोस्तों पुलिस द्वारा अपराधी के जो होता है उसकी जानकारी है उसका चेहरा गुप्त रक्षा के अखबारों के अंदर की कुछ ना कुछ चीजें बहुत रख सके क्योंकि आप जानते तस्वीर देखने से आदमी के बारे में कंफर्म होता है ना की जानकारी को ले करके जो चेहरा इसलिए रखा जाता है की जानकारी कौन सा व्यक्ति को कहां है क्या कर रहा है कौन से कपड़े
Pulis aparaadh ke aaropee ka chehara kapade se kyon chhupa kar rakhatee hai doston pulis dvaara aparaadhee ke jo hota hai usakee jaanakaaree hai usaka chehara gupt raksha ke akhabaaron ke andar kee kuchh na kuchh cheejen bahut rakh sake kyonki aap jaanate tasveer dekhane se aadamee ke baare mein kampharm hota hai na kee jaanakaaree ko le karake jo chehara isalie rakha jaata hai kee jaanakaaree kaun sa vyakti ko kahaan hai kya kar raha hai kaun se kapade

bolkar speaker
पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है?Police Apradh Ke Aaropi Ka Chehra Kapde Se Kyuyn Chupa Kar Rakhti Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:44
साले की पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से छुपा करके क्यों रखती है तो देखें चटक अपराध सिद्ध नहीं हो जाता है आप किसी को भी अपराधी घोषित नहीं कर सकते हैं किसी भी व्यक्ति को अपराधी घोषित करना यह सजा देना यह सिर्फ और सिर्फ यह अदालत का काम होता है और यही वजह है किस की पहचान छुपा कर के रखी जाती है हर एक व्यक्ति से मीडिया थे जिससे कि दुनिया में उसका चेहरा उजागर ना हो क्योंकि अगर वह व्यक्ति दोषी नहीं पाया जाता है और मस्जिद भरी हो जाता है तो ऐसे में समाज का जीना मुहाल कर देता है इसलिए उसकी पहचान छुपा के रखना बहुत जरूरी होता है साथ ही साथ अगर वह को दोषी पाया नहीं जाता है और कोई अहम गवाह होता है तो दूसरों की नसों में पहचान में ना आए जिसे किसकी जान को कोई खतरा ना हो यह भी एक कारण होता है उसका चेहरा और पहचान छुपाने की आपका दिन शुभ रहे थे नहीं बात
Saale kee pulis aparaadh ke aaropee ka chehara kapade se chhupa karake kyon rakhatee hai to dekhen chatak aparaadh siddh nahin ho jaata hai aap kisee ko bhee aparaadhee ghoshit nahin kar sakate hain kisee bhee vyakti ko aparaadhee ghoshit karana yah saja dena yah sirph aur sirph yah adaalat ka kaam hota hai aur yahee vajah hai kis kee pahachaan chhupa kar ke rakhee jaatee hai har ek vyakti se meediya the jisase ki duniya mein usaka chehara ujaagar na ho kyonki agar vah vyakti doshee nahin paaya jaata hai aur masjid bharee ho jaata hai to aise mein samaaj ka jeena muhaal kar deta hai isalie usakee pahachaan chhupa ke rakhana bahut jarooree hota hai saath hee saath agar vah ko doshee paaya nahin jaata hai aur koee aham gavaah hota hai to doosaron kee nason mein pahachaan mein na aae jise kisakee jaan ko koee khatara na ho yah bhee ek kaaran hota hai usaka chehara aur pahachaan chhupaane kee aapaka din shubh rahe the nahin baat

bolkar speaker
पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है?Police Apradh Ke Aaropi Ka Chehra Kapde Se Kyuyn Chupa Kar Rakhti Hai
Rajesh Kumar swami Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Student
1:24
पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है तो इसका मेन और मोटा कारण है वह यही है कि पुलिस उनका इसलिए छुपा के रखती है ताकि आगे चोरी हो तो वहीं छोड़ दो बस वही कर सके और वह चेहरा समाधि सामने ना आए कि इस लड़के ने पिछली बार चोरी की थी पुलिस पकड़ कर ले गई थी फिर छोड़ दिया तो वह कोई कंप्लेन इकट्ठे होंगे उनके खिलाफ कि आपने छोड़ा किशोर को किसने चोरी की थी उस इलाके के ऑफिस के बाद कांग्रेस ने पुलिस ने पकड़ा छोड़ दिया क्योंकि पुलिस के बाद सभी वह उनको चाहिए बस और कोई करता है उसे पहले वाली पुलिस चोरी होने की आधे घंटे बाद में जाती है अगर ज्यादा ज्यादा मामला बढ़ गया तो चोर को पकड़ लेती है नहीं उठा तो चोर खुलेगा खुलेआम घूमता है फिर वापस वही करता है तस्लीम पुलिस क्या किशोर का मूड खेलती है ताकि किसी को पता ना चले कि यह चोर यह है या दूसरा है कि आगे वह चोरी करे तो उसको कोई दूसरे को सकते हैं कि वह चोरी किया था उसने पकड़ा वापस छोड़ दिया तो उसके प्रति कम लेट हो सकती है क्या झूठ चलता है तो इसलिए पुलिस और बताओ के लिए अपनी मजदूरी करने के लिए और गांव के रखती है पुलिस काले कपड़े से
Pulis aparaadh ke aaropee ka chehara kapade se kyon chhupa kar rakhatee hai to isaka men aur mota kaaran hai vah yahee hai ki pulis unaka isalie chhupa ke rakhatee hai taaki aage choree ho to vaheen chhod do bas vahee kar sake aur vah chehara samaadhi saamane na aae ki is ladake ne pichhalee baar choree kee thee pulis pakad kar le gaee thee phir chhod diya to vah koee kamplen ikatthe honge unake khilaaph ki aapane chhoda kishor ko kisane choree kee thee us ilaake ke ophis ke baad kaangres ne pulis ne pakada chhod diya kyonki pulis ke baad sabhee vah unako chaahie bas aur koee karata hai use pahale vaalee pulis choree hone kee aadhe ghante baad mein jaatee hai agar jyaada jyaada maamala badh gaya to chor ko pakad letee hai nahin utha to chor khulega khuleaam ghoomata hai phir vaapas vahee karata hai tasleem pulis kya kishor ka mood khelatee hai taaki kisee ko pata na chale ki yah chor yah hai ya doosara hai ki aage vah choree kare to usako koee doosare ko sakate hain ki vah choree kiya tha usane pakada vaapas chhod diya to usake prati kam let ho sakatee hai kya jhooth chalata hai to isalie pulis aur batao ke lie apanee majadooree karane ke lie aur gaanv ke rakhatee hai pulis kaale kapade se

bolkar speaker
पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है?Police Apradh Ke Aaropi Ka Chehra Kapde Se Kyuyn Chupa Kar Rakhti Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
0:59
आष्टा दोस्तों प्रार्थना है कि पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है दोस्तों इसलिए वह छुपा के रखती है पुलिस की शतक गुनाह साबित ना हो जाए तब तक वह सामने ना पाए कई बार ऐसा होता है कि वह बेगुनाह होता तो बदनामी हो जाती है और कैसा कानून भी है कि अगर वह नाबालिक है और चाय लड़की है उसका चेहरा या उसकी पहचान को गुप्त रखा जाता है या कोई बहुत ही खास आतंकी होते हैं उनका भी चेहरा ढक के रखा जाता है कि वह कहीं का ज्ञान ना हो बस यही कारण है इसकी वजह से पुलिस अपराधियों का कुछ अपराधियों का चेहरा देखेंगे सकती है धन्यवाद
Aashta doston praarthana hai ki pulis aparaadh ke aaropee ka chehara kapade se kyon chhupa kar rakhatee hai doston isalie vah chhupa ke rakhatee hai pulis kee shatak gunaah saabit na ho jae tab tak vah saamane na pae kaee baar aisa hota hai ki vah begunaah hota to badanaamee ho jaatee hai aur kaisa kaanoon bhee hai ki agar vah naabaalik hai aur chaay ladakee hai usaka chehara ya usakee pahachaan ko gupt rakha jaata hai ya koee bahut hee khaas aatankee hote hain unaka bhee chehara dhak ke rakha jaata hai ki vah kaheen ka gyaan na ho bas yahee kaaran hai isakee vajah se pulis aparaadhiyon ka kuchh aparaadhiyon ka chehara dekhenge sakatee hai dhanyavaad

bolkar speaker
पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है?Police Apradh Ke Aaropi Ka Chehra Kapde Se Kyuyn Chupa Kar Rakhti Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:09
सवाल यह है कि पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है तो हमारा कानून यह कहता है कि हम किसी भी व्यक्ति को तब तक अपराधी नहीं मानते जब तक की अदालत उसे दोषी ना करार दे या नहीं जब कभी भी कोई अपराध होता है तो उस अपराध के आरोप में किसी को पुलिस पकड़ती है तो उस वक्त उसका चेहरा इसलिए ढक दिया जाता है क्योंकि अभी वह न्यायालय में जाएगा न्यायालय में उसका ट्रायल होता है न्यायालय में गवाह और सबूत पेश किए जाते हैं और यदि वह वहां से भी वह दोषी करार हो जाता है तब उसका चेहरा सामने आए तो कोई फर्क नहीं पड़ता है लेकिन जब वह जब तक वह देश की सभी अदर अदालतों में दोषी साबित नहीं हुआ है और केवल में आरोपी है ऐसी स्थिति में आरोपी का चेहरा दिखाना ना केवल मानव अधिकार का उल्लंघन है बल्कि ऐसा भी हो सकता है कि क्या पता वह निर्दोष ही हो और किसी तरह से फंसा दिया गया हो तो वह सकता है की पूरी जिंदगी बर्बाद हो जाए तो यही वजह है कि अपराध के आरोपी का चेहरा ढक दिया जाता है जब कभी भी उसे पुलिस पकड़ती है तो
Savaal yah hai ki pulis aparaadh ke aaropee ka chehara kapade se kyon chhupa kar rakhatee hai to hamaara kaanoon yah kahata hai ki ham kisee bhee vyakti ko tab tak aparaadhee nahin maanate jab tak kee adaalat use doshee na karaar de ya nahin jab kabhee bhee koee aparaadh hota hai to us aparaadh ke aarop mein kisee ko pulis pakadatee hai to us vakt usaka chehara isalie dhak diya jaata hai kyonki abhee vah nyaayaalay mein jaega nyaayaalay mein usaka traayal hota hai nyaayaalay mein gavaah aur saboot pesh kie jaate hain aur yadi vah vahaan se bhee vah doshee karaar ho jaata hai tab usaka chehara saamane aae to koee phark nahin padata hai lekin jab vah jab tak vah desh kee sabhee adar adaalaton mein doshee saabit nahin hua hai aur keval mein aaropee hai aisee sthiti mein aaropee ka chehara dikhaana na keval maanav adhikaar ka ullanghan hai balki aisa bhee ho sakata hai ki kya pata vah nirdosh hee ho aur kisee tarah se phansa diya gaya ho to vah sakata hai kee pooree jindagee barbaad ho jae to yahee vajah hai ki aparaadh ke aaropee ka chehara dhak diya jaata hai jab kabhee bhee use pulis pakadatee hai to

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • पुलिस अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है अपराध के आरोपी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती पुलिस
URL copied to clipboard