#जीवन शैली

KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
घर पर ही रहता हूं बैटरी बनाने का कार्य करता हूं और मोबाइल रिचार्ज इत्यादि
1:56
सवाल है आचार्य चाणक्य के अनुसार वह कौन सी तीन चीजें हैं जो मनुष्य की काबिलियत चेहरे का तेज और सम्मान को समाप्त कर देती है कि आचार्य चाणक्य की नीतियां और विचार भले ही आपको थोड़ी कठोर लगे लेकिन यह कठोरता ही जीवन की सच्चाई है हम लोग भाग दौड़ भरी जिंदगी में इन विचारों को भले ही नजरअंदाज कर दें लेकिन यह वचन जीवन की हर कसौटी पर आपकी मदद करेंगे आचार्य चाणक्य के इन्हीं विचारों में से आज हम एक और विचार का विश्लेषण करेंगे आज का यह विचार अहंकार क्रोध और लालच पर आधारित है अहंकार क्रोध और लालच इंसान की काबिलियत खा जाता है आचार्य चाणक्य के अंत इस कथन का अर्थ है कि मनुष्य को तीन चीजें खत्म कर सकती है यह तीन चीजें अहंकार क्रोध और लालच है यह तीनों चीजें इंसान की काबिलियत को धीरे-धीरे पूरी तरह से नष्ट कर देती है यह तीनों चीजें जब भी इंसान के ऊपर अपना कब्जा जमा लेती है तो इंसान का सम्मान काबिलियत चेहरे का तेज सभी कुछ समाप्त होकर हो जाता है इंसान के ऊपर अपना कब्जा जमाने पर मनुष्य इनकी इज्जत नहीं करता उसकी सोचने और समझने की क्षमता सबसे पहले खत्म हो जाती मनुष्य फिर वही सोचता है और करता है जो यह चीजें उच्च करवाती है धन्यवाद
Savaal hai aachaary chaanaky ke anusaar vah kaun see teen cheejen hain jo manushy kee kaabiliyat chehare ka tej aur sammaan ko samaapt kar detee hai ki aachaary chaanaky kee neetiyaan aur vichaar bhale hee aapako thodee kathor lage lekin yah kathorata hee jeevan kee sachchaee hai ham log bhaag daud bharee jindagee mein in vichaaron ko bhale hee najarandaaj kar den lekin yah vachan jeevan kee har kasautee par aapakee madad karenge aachaary chaanaky ke inheen vichaaron mein se aaj ham ek aur vichaar ka vishleshan karenge aaj ka yah vichaar ahankaar krodh aur laalach par aadhaarit hai ahankaar krodh aur laalach insaan kee kaabiliyat kha jaata hai aachaary chaanaky ke ant is kathan ka arth hai ki manushy ko teen cheejen khatm kar sakatee hai yah teen cheejen ahankaar krodh aur laalach hai yah teenon cheejen insaan kee kaabiliyat ko dheere-dheere pooree tarah se nasht kar detee hai yah teenon cheejen jab bhee insaan ke oopar apana kabja jama letee hai to insaan ka sammaan kaabiliyat chehare ka tej sabhee kuchh samaapt hokar ho jaata hai insaan ke oopar apana kabja jamaane par manushy inakee ijjat nahin karata usakee sochane aur samajhane kee kshamata sabase pahale khatm ho jaatee manushy phir vahee sochata hai aur karata hai jo yah cheejen uchch karavaatee hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आचार्य चाणक्य,
URL copied to clipboard