#टेक्नोलॉजी

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:51
नहीं बोलकर पर जो गुमनाम होकर सवाल पूछते हैं क्या उनका किसी तरह से पता लगाया जा सकता है तू यह भी संभव है बट हर एक इंसान ऐसा नहीं कर सकता है जो बोलकर पर आज बोलकर का परिवार बना हुआ है वह चाहे कि मैं सभी प्रश्न जो पूछे जा रहे हैं उनके नाम और किसके द्वारा पूछा जा रहा है तो पता कर सकती संभव नहीं है बट यह भी हो सकता है कि हमारे बीच जो लोग हैं वह भी पूछ सकते हैं बोलकर टीम के द्वारा कुछ जो प्रश्न है वह भी पूछे जाते हैं डाले जाते हैं या कहीं न कहीं से ढूंढ के लाए जाते हैं बोलकर बोलकर पर हम सभी के लिए यह प्रश्न डाले जाते हैं और हमारी जिंदगी से रिलेटेड होते हैं कहीं ना कहीं एक आदमी के लिए उस प्रश्न सही हर एक प्रश्न से जुड़ी चीजें होती है जो हमारे जीवन में घटती हैं या हमारे जीवन में सीख मिलती है तो इस परिवार पर हम यह बस यही कहना चाहे जरूरी नहीं है कि हमें जिसके द्वारा एक प्रश्न पूछा जाए उसी के बारे में जानकारियों में उस प्रश्न से बहुत सारे ऐसे ही मिलनी चाहिए हमें उससे लाभ जो मिला है उसे हमें अब जॉब करना चाहिए अपनी जिंदगी में क्योंकि वही हमारी जिंदगी में काम आएगा ना कि पूछे जगह जिनके द्वारा पूछा गया है उस पर उस आदमी से या उस ट्रेन से या उस उस जो भी जिसके द्वारा पूछा गया उससे हमें नहीं मतलब होगा हमें हमें तो मतलब होगा आपने जिंदगी में कितनी हम उसको अपनी जिंदगी में उतार पाते अपनी जिंदगी में रख पाते हैं कितना मैं अपनी जिंदगी को आगे बढ़ा सकते हैं यह सबसे जरूरी है और किसी न किसी मकसद के साथ आपने पूछा होगा कि मैं गुमनाम लोगों का पता जान सकूं तो शायद यह तो आपको बोलकर टीम से ही संपर्क करना पड़ेगा उसके अलावा और कोई ऑप्शन नहीं है
Nahin bolakar par jo gumanaam hokar savaal poochhate hain kya unaka kisee tarah se pata lagaaya ja sakata hai too yah bhee sambhav hai bat har ek insaan aisa nahin kar sakata hai jo bolakar par aaj bolakar ka parivaar bana hua hai vah chaahe ki main sabhee prashn jo poochhe ja rahe hain unake naam aur kisake dvaara poochha ja raha hai to pata kar sakatee sambhav nahin hai bat yah bhee ho sakata hai ki hamaare beech jo log hain vah bhee poochh sakate hain bolakar teem ke dvaara kuchh jo prashn hai vah bhee poochhe jaate hain daale jaate hain ya kaheen na kaheen se dhoondh ke lae jaate hain bolakar bolakar par ham sabhee ke lie yah prashn daale jaate hain aur hamaaree jindagee se rileted hote hain kaheen na kaheen ek aadamee ke lie us prashn sahee har ek prashn se judee cheejen hotee hai jo hamaare jeevan mein ghatatee hain ya hamaare jeevan mein seekh milatee hai to is parivaar par ham yah bas yahee kahana chaahe jarooree nahin hai ki hamen jisake dvaara ek prashn poochha jae usee ke baare mein jaanakaariyon mein us prashn se bahut saare aise hee milanee chaahie hamen usase laabh jo mila hai use hamen ab job karana chaahie apanee jindagee mein kyonki vahee hamaaree jindagee mein kaam aaega na ki poochhe jagah jinake dvaara poochha gaya hai us par us aadamee se ya us tren se ya us us jo bhee jisake dvaara poochha gaya usase hamen nahin matalab hoga hamen hamen to matalab hoga aapane jindagee mein kitanee ham usako apanee jindagee mein utaar paate apanee jindagee mein rakh paate hain kitana main apanee jindagee ko aage badha sakate hain yah sabase jarooree hai aur kisee na kisee makasad ke saath aapane poochha hoga ki main gumanaam logon ka pata jaan sakoon to shaayad yah to aapako bolakar teem se hee sampark karana padega usake alaava aur koee opshan nahin hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बोलकर,
URL copied to clipboard