#टेक्नोलॉजी

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:26
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न किया विज्ञान में पूछने वाले ज्यादातर लोग अंधविश्वास के समर्थक होते हैं तो आप फ्रेंड से जो लोग अंधविश्वास को मानते हैं वही लोग विज्ञान को पूछते हैं क्योंकि विज्ञान में बहुत सारी जब भी सेट करी जाती है बहुत सारी खोजें करने के बाद ही कोई चीज सामने आती है तो विज्ञान पर हमें विश्वास करना चाहिए और जो अंधविश्वासी लोग होते हैं विवरण को नहीं मानते हैं
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn kiya vigyaan mein poochhane vaale jyaadaatar log andhavishvaas ke samarthak hote hain to aap phrend se jo log andhavishvaas ko maanate hain vahee log vigyaan ko poochhate hain kyonki vigyaan mein bahut saaree jab bhee set karee jaatee hai bahut saaree khojen karane ke baad hee koee cheej saamane aatee hai to vigyaan par hamen vishvaas karana chaahie aur jo andhavishvaasee log hote hain vivaran ko nahin maanate hain

और जवाब सुनें

Pradumn kumar Vajpayee Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Pradumn जी का जवाब
Bijneas9369174848
0:50
विज्ञान के क्वेश्चन वाले ज्यादातर लोग अंधविश्वास के समर्थक होते हैं वहां दोस्तों बहुत से लोग अंधविश्वासों पर काफी यकीन करते हैं जबकि विज्ञान इस बात को नहीं मानता कई ऐसे सौदों में देखा गया है कि वैज्ञानिक तथ्य जो निकाले गए वह अंधविश्वास को नहीं मानते अंधविश्वास के चक्कर में कई व्यक्तियों की जाने चली जाती है उनसे कहा जाता है कि आपका बीमार है उसको डॉक्टर को दिखाएं फिर भी लोग नहीं मानते और झाड़-फूंक फुलेरा के चक्कर में पड़कर काफी समय बर्बाद कर देते हैं बाद में पछताते हैं लेकिन बाद में पछताने से कोई फायदा नहीं और ऐसे ही व्यक्ति विज्ञान का क्वेश्चन धन्यवाद
Vigyaan ke kveshchan vaale jyaadaatar log andhavishvaas ke samarthak hote hain vahaan doston bahut se log andhavishvaason par kaaphee yakeen karate hain jabaki vigyaan is baat ko nahin maanata kaee aise saudon mein dekha gaya hai ki vaigyaanik tathy jo nikaale gae vah andhavishvaas ko nahin maanate andhavishvaas ke chakkar mein kaee vyaktiyon kee jaane chalee jaatee hai unase kaha jaata hai ki aapaka beemaar hai usako doktar ko dikhaen phir bhee log nahin maanate aur jhaad-phoonk phulera ke chakkar mein padakar kaaphee samay barbaad kar dete hain baad mein pachhataate hain lekin baad mein pachhataane se koee phaayada nahin aur aise hee vyakti vigyaan ka kveshchan dhanyavaad

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:03
विज्ञान के कोसने वाले ज्यादातर लोग अंधविश्वास के समर्थक होते हैं जी हां दोस्तों बिल्कुल ना एक बार एक टीवी देख रहा था जिसमें कुछ न्यूज़ पत्रकार जो थे वह कुलधरा गए जो कि काफी प्रसिद्ध चीज के लिए डरावने के लिए आ जाता वहां पर वहां पर एक वाक्य व्यक्ति के ऊपर कवरेज किया जा रहा था तब एक वहां पर एक पंडित जी भी बैठे हुए थे जो कि शास्त्रों के जानकार थे और वापस टीवी डिबेट के अंदर बैठा हुआ था तो पूरी तरीके से और कह रहे थे कि विज्ञान जो है इस बात को मान ले कि भूत प्रेत इत्यादि भी होते हैं तो मुझे बिल्कुल दोस्तों इस चीज का अंदाजा वहीं से लगेगा कि विज्ञान उसने वाले लोग देकर अंधविश्वास होते हैं
Vigyaan ke kosane vaale jyaadaatar log andhavishvaas ke samarthak hote hain jee haan doston bilkul na ek baar ek teevee dekh raha tha jisamen kuchh nyooz patrakaar jo the vah kuladhara gae jo ki kaaphee prasiddh cheej ke lie daraavane ke lie aa jaata vahaan par vahaan par ek vaaky vyakti ke oopar kavarej kiya ja raha tha tab ek vahaan par ek pandit jee bhee baithe hue the jo ki shaastron ke jaanakaar the aur vaapas teevee dibet ke andar baitha hua tha to pooree tareeke se aur kah rahe the ki vigyaan jo hai is baat ko maan le ki bhoot pret ityaadi bhee hote hain to mujhe bilkul doston is cheej ka andaaja vaheen se lagega ki vigyaan usane vaale log dekar andhavishvaas hote hain

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:35
प्रणाम सर आपका प्रश्न है क्या विज्ञान के और स्नेह वाले ज्यादातर लोग अंधविश्वास के समर्थक होते हैं तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है जो विज्ञान पर विश्वास नहीं करते हैं विज्ञान को कौन देने का कार्य करते हैं वह ज्यादातर लोग अंधविश्वास की तरफ ज्यादा चुका होता है वह अंधविश्वासों पर ज्यादा ध्यान देते हैं धन्यवाद साथियों खुश रहो
Pranaam sar aapaka prashn hai kya vigyaan ke aur sneh vaale jyaadaatar log andhavishvaas ke samarthak hote hain to doston aapake savaal ka uttar is prakaar hai jo vigyaan par vishvaas nahin karate hain vigyaan ko kaun dene ka kaary karate hain vah jyaadaatar log andhavishvaas kee taraph jyaada chuka hota hai vah andhavishvaason par jyaada dhyaan dete hain dhanyavaad saathiyon khush raho

T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
4:58
आपने प्रश्न किया है कि क्या विज्ञान के कोसने वाले ज्यादातर लोग अंधविश्वास के समर्थक होते हैं ऐसा बिल्कुल नहीं है विज्ञान का अपना फायदा है और इसे अंधविश्वास तो नहीं कहना चाहिए लेकिन जब हम विज्ञान को कुछ ऐसी जगह कोसते हैं जहां वह सीधा-सीधा प्रकृति को चुनौती देता है या विज्ञान कभी-कभी जब प्रकृति के खिलाफ खिलवाड़ करता है तो हम उसे भविष्य की चुनौतियों के रूप में भी देखने हैं और वर्तमान के खतरों के रूप में भी देखते अब आपसे कह सकते हैं कि विज्ञान के अपने फायदे हैं में विज्ञान को पूछने की बात नहीं करूंगा लेकिन मुझे एक बात बताइए कि अभी जिस तरीके से हिमस्खलन हुआ उत्तराखंड में जिस तरह से तबाही सामने आई विज्ञान में क्या करें और आप माने या ना माने लेकिन इतनी बड़ी तबाही के पीछे कहीं न कहीं विज्ञान का हद से आगे बढ़ना ही इस तरीके से उन पहाड़ों के अंदर खनन हो रहा है जिस तरीके से वहां पर बांध बनाए जा रहे हैं जिस तरीके से उन पहाड़ों में सुरंग बनाई जा रही है और उससे कहीं ना कहीं पहाड़ कमजोर हुए हैं और उसकी वजह से इतनी बड़ी त्रासदी सामने आई क्या कर लिया विज्ञान क्या उसी में खनन को विज्ञान रोक पाया ताश के पत्तों की तरह जो भागवत रचनाएं थी उसको प्रकृति ने तबाह कर दिया क्या विज्ञान उसको रोक पाया आज हम देखते हैं कि कितनी पड़ी कई बार सुनामी आती हजारों लोग उनका घर तबाह हो जाते हैं क्या विज्ञान उसको रोक पाया इसलिए हमेशा एक तरफा नहीं सोचना चाहिए मेरा यह कहना है कि विज्ञान के अपने फायदे भी हैं जहां पर विज्ञान ने कई जगह मानव जीवन को सरल बनाया है लोगों के लिए उन्नति के रास्ते खोले हैं लोगों को अत्यावश्यक सुविधाएं प्रदान की है लेकिन कई जगह विज्ञान अपनी हदें तोड़ रहा है और प्रकृति के साथ में सामंजस्य नहीं बिठा पा रहा है और जब प्रकृति अपना विकराल रूप धारण करती है मेरा विश्वास कीजिए दुनिया का कोई विज्ञान प्रकृति को नहीं रोक सकता प्रकृति की एक हल्की सी छोटी सी करवट संसार के सारे विज्ञान पुत्र था बता सकते इसलिए हम आप कुछ को अंधविश्वास मत कहिए हम यह कहते हैं जहां विज्ञान अपनी सीमाओं प्रकृति के साथ खिलवाड़ न करते प्रकृति की सूचनाओं को न रोते हुए मानव कल्याण के लिए मानव जी उनके कल्याण के लिए जो अच्छा कर सकता है विज्ञान उसको जरूर करना चाहिए लेकिन विज्ञान को प्रकृति की संरचनाओं के साथ प्रकृति की व्यवस्थाओं के साथ में सामंजस्य बिठाते हुए आगे बढ़ना चाहिए वरना आप प्रकृति से कभी नहीं जीत पाएंगे प्रकृति से आप किसी भी रूप में कभी भी किसी भी स्थिति में किसी भी कालखंड के अंतर्गत प्रकृति को चुनौती नहीं देता आज क्या विज्ञान ने इतनी तरक्की कर ली क्या विज्ञान को कम करो क्या विज्ञान ज्वालामुखी को रोक पाया क्या विज्ञान सुनामी को रोक पाना क्या विज्ञान हिमस्खलन पूर्व पाया क्या विज्ञान प्रतिवर्ष
Aapane prashn kiya hai ki kya vigyaan ke kosane vaale jyaadaatar log andhavishvaas ke samarthak hote hain aisa bilkul nahin hai vigyaan ka apana phaayada hai aur ise andhavishvaas to nahin kahana chaahie lekin jab ham vigyaan ko kuchh aisee jagah kosate hain jahaan vah seedha-seedha prakrti ko chunautee deta hai ya vigyaan kabhee-kabhee jab prakrti ke khilaaph khilavaad karata hai to ham use bhavishy kee chunautiyon ke roop mein bhee dekhane hain aur vartamaan ke khataron ke roop mein bhee dekhate ab aapase kah sakate hain ki vigyaan ke apane phaayade hain mein vigyaan ko poochhane kee baat nahin karoonga lekin mujhe ek baat bataie ki abhee jis tareeke se himaskhalan hua uttaraakhand mein jis tarah se tabaahee saamane aaee vigyaan mein kya karen aur aap maane ya na maane lekin itanee badee tabaahee ke peechhe kaheen na kaheen vigyaan ka had se aage badhana hee is tareeke se un pahaadon ke andar khanan ho raha hai jis tareeke se vahaan par baandh banae ja rahe hain jis tareeke se un pahaadon mein surang banaee ja rahee hai aur usase kaheen na kaheen pahaad kamajor hue hain aur usakee vajah se itanee badee traasadee saamane aaee kya kar liya vigyaan kya usee mein khanan ko vigyaan rok paaya taash ke patton kee tarah jo bhaagavat rachanaen thee usako prakrti ne tabaah kar diya kya vigyaan usako rok paaya aaj ham dekhate hain ki kitanee padee kaee baar sunaamee aatee hajaaron log unaka ghar tabaah ho jaate hain kya vigyaan usako rok paaya isalie hamesha ek tarapha nahin sochana chaahie mera yah kahana hai ki vigyaan ke apane phaayade bhee hain jahaan par vigyaan ne kaee jagah maanav jeevan ko saral banaaya hai logon ke lie unnati ke raaste khole hain logon ko atyaavashyak suvidhaen pradaan kee hai lekin kaee jagah vigyaan apanee haden tod raha hai aur prakrti ke saath mein saamanjasy nahin bitha pa raha hai aur jab prakrti apana vikaraal roop dhaaran karatee hai mera vishvaas keejie duniya ka koee vigyaan prakrti ko nahin rok sakata prakrti kee ek halkee see chhotee see karavat sansaar ke saare vigyaan putr tha bata sakate isalie ham aap kuchh ko andhavishvaas mat kahie ham yah kahate hain jahaan vigyaan apanee seemaon prakrti ke saath khilavaad na karate prakrti kee soochanaon ko na rote hue maanav kalyaan ke lie maanav jee unake kalyaan ke lie jo achchha kar sakata hai vigyaan usako jaroor karana chaahie lekin vigyaan ko prakrti kee sanrachanaon ke saath prakrti kee vyavasthaon ke saath mein saamanjasy bithaate hue aage badhana chaahie varana aap prakrti se kabhee nahin jeet paenge prakrti se aap kisee bhee roop mein kabhee bhee kisee bhee sthiti mein kisee bhee kaalakhand ke antargat prakrti ko chunautee nahin deta aaj kya vigyaan ne itanee tarakkee kar lee kya vigyaan ko kam karo kya vigyaan jvaalaamukhee ko rok paaya kya vigyaan sunaamee ko rok paana kya vigyaan himaskhalan poorv paaya kya vigyaan prativarsh

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:32
हे भगवान तो आज आप का सवाल है कि क्या विज्ञान के क्वेश्चन वाले ज्यादातर लोग अंधविश्वास के समर्थक होते हैं तो देखिए क्या होता है एक तरफ विज्ञान आता है और एक तरफ आपके आज भी धार्मिक किताबों में लिखा होता वही आते आते एक क्यूरी आता व्यक्ति कल जैसे आता है सिम वैसे ही ज्ञान की बात करें तो हर एक बहुत ही प्रैक्टिकल लग रही है चीज हो रहा है तू क्यों हो रहा है कब हो रहा है कैसे आया आपको हर एक डिटेल में मिलता है लेकिन वह धार्मिक किताबों के बारे में उस में पढ़ते हैं तो मैं यह नहीं कह रही हूं कि हाउस में विश्वास नहीं करता लेकिन उसमें हम बस विश्वास करते हम यह जानने की कोशिश नहीं करते कि सच में क्या क्या यह लैंग्वेज में कैसे लिखा जाए यह लैंग्वेज कहां से आया है पहले जब दो इंसान आए थे यहां पर कैसे क्या आगे हर चीज बड़ा हम भी नहीं जानते कि हमारे दिमाग में है मतलब डाल दिया गया फिर कर दिया गया है कि बस विश्वास करना है तो बहुत सारी चीजों पर देखिए रहता है वह सच में सही बात भी है करना चाहिए हर एक इंसान को अपने धार्मिक किताबों पर विश्वास करना चाहिए था लोगों का अपना अपना एक अटूट विश्वास भी होता है लेकिन विज्ञान की बातों को भी नहीं झुठला सकते क्योंकि जिस तरह से पोलूशन हो रहा है जिस तरह सुरक्षित परिवर्तन आता विज्ञान में कभी भी कोई चीज झूठ नहीं लिखा होता अगर आप देखेंगे कि जो चीज के बारे में नहीं पता था आप को हर जगह दिखा दे जाते चीज के बारे में विचार चल रहा है क्या फिर साइंटिस्ट को विज्ञानिक को अभी तक इस बारे में कुछ भी चीज नहीं पता कुछ भी झूठ मूठ में बिना किसी प्रूफ बिना कुछ एविडेंस के आपको साइंस में नहीं देखने के लिए मिलेगा तो आप ऐसे कर सकते कि जो लोग विज्ञान और साइंस में नहीं विश्वास करते हैं वह में भी बहुत ज्यादा अपनी रिलीजियस या फिर उनके पूर्वज या फिर जो भी उनके सामने जिस तरह से बात होता है थी और उसको लेकर कैसे क्या परंपरा चलती आ रही बस उस चीज पर विश्वास करो तुम लोगों का होता है कि मुझसे ज्यादा विश्वास करते हैं और सोचने की विज्ञान किसानों की तरफ से लाया गया है इंसानों को इतना नहीं पता ईश्वर को ज्यादा पता है ऐसा बहुत सारे लोग अलग अलग से बातें बोलते हैं तो मेरे हिसाब से देख कर मैं यह नहीं कह रहा कि विज्ञान भी गलत है और हमारे धार्मिक किताबें भी गलत है बस यह देखना है कि किसी भी चीज में आंख बंद करके अंधविश्वासी बनकर कुछ गलत कदम ना उठाए किसी के मतलब बारे में गलत ना बोले और कभी हमारे विश्वास अंधविश्वास के चक्कर में कभी किसी के धर्म को या फिर चाहे वह साइंस हो या फिर कोई भी धर्म हो किसी को भी कभी कुछ ठेस ना पहुंचे
He bhagavaan to aaj aap ka savaal hai ki kya vigyaan ke kveshchan vaale jyaadaatar log andhavishvaas ke samarthak hote hain to dekhie kya hota hai ek taraph vigyaan aata hai aur ek taraph aapake aaj bhee dhaarmik kitaabon mein likha hota vahee aate aate ek kyooree aata vyakti kal jaise aata hai sim vaise hee gyaan kee baat karen to har ek bahut hee praiktikal lag rahee hai cheej ho raha hai too kyon ho raha hai kab ho raha hai kaise aaya aapako har ek ditel mein milata hai lekin vah dhaarmik kitaabon ke baare mein us mein padhate hain to main yah nahin kah rahee hoon ki haus mein vishvaas nahin karata lekin usamen ham bas vishvaas karate ham yah jaanane kee koshish nahin karate ki sach mein kya kya yah laingvej mein kaise likha jae yah laingvej kahaan se aaya hai pahale jab do insaan aae the yahaan par kaise kya aage har cheej bada ham bhee nahin jaanate ki hamaare dimaag mein hai matalab daal diya gaya phir kar diya gaya hai ki bas vishvaas karana hai to bahut saaree cheejon par dekhie rahata hai vah sach mein sahee baat bhee hai karana chaahie har ek insaan ko apane dhaarmik kitaabon par vishvaas karana chaahie tha logon ka apana apana ek atoot vishvaas bhee hota hai lekin vigyaan kee baaton ko bhee nahin jhuthala sakate kyonki jis tarah se polooshan ho raha hai jis tarah surakshit parivartan aata vigyaan mein kabhee bhee koee cheej jhooth nahin likha hota agar aap dekhenge ki jo cheej ke baare mein nahin pata tha aap ko har jagah dikha de jaate cheej ke baare mein vichaar chal raha hai kya phir saintist ko vigyaanik ko abhee tak is baare mein kuchh bhee cheej nahin pata kuchh bhee jhooth mooth mein bina kisee prooph bina kuchh evidens ke aapako sains mein nahin dekhane ke lie milega to aap aise kar sakate ki jo log vigyaan aur sains mein nahin vishvaas karate hain vah mein bhee bahut jyaada apanee rileejiyas ya phir unake poorvaj ya phir jo bhee unake saamane jis tarah se baat hota hai thee aur usako lekar kaise kya parampara chalatee aa rahee bas us cheej par vishvaas karo tum logon ka hota hai ki mujhase jyaada vishvaas karate hain aur sochane kee vigyaan kisaanon kee taraph se laaya gaya hai insaanon ko itana nahin pata eeshvar ko jyaada pata hai aisa bahut saare log alag alag se baaten bolate hain to mere hisaab se dekh kar main yah nahin kah raha ki vigyaan bhee galat hai aur hamaare dhaarmik kitaaben bhee galat hai bas yah dekhana hai ki kisee bhee cheej mein aankh band karake andhavishvaasee banakar kuchh galat kadam na uthae kisee ke matalab baare mein galat na bole aur kabhee hamaare vishvaas andhavishvaas ke chakkar mein kabhee kisee ke dharm ko ya phir chaahe vah sains ho ya phir koee bhee dharm ho kisee ko bhee kabhee kuchh thes na pahunche

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारतीय समाज में अंधविश्वास, अंधविश्वास का अर्थ, अंधविश्वास क्या है
URL copied to clipboard