#भारत की राजनीति

bolkar speaker

वह कौन कौन से कारण हैं जिसके कारण एक नेता का बेटा ही नेता बन पाता है?

Vah Kaun Kaun Se Karan Hai Jiske Karan Ek Neta Ka Beta Hi Neta Ban Pata Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:50
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि वह कौन कौन से कारण हैं जिसके कारण एक नेता का बेटा ही नेता बन पाता है तो दोस्तों उसके पीछे कई कारण हैं एक कारण तो यह है कि मुझे उसका बेटा नेता बन चुका होता है तो उसका पहले से ही व्यापार या आय का स्रोत बहुत अच्छा होता है और वह किसी सरकारी एमपी एमएलए या सरपंच बन जाता है तो इतनी धनराशि इकट्ठा कर लेता है कि उसके आय के स्रोत बहुत अच्छे बन जाते हैं भले उस पद पर रहे ना रहे तो बेटा को भी इसी क्षेत्र में इतने लाना हो तो सारी चीजों को जानता है कैसे आगे बढ़ा जा सकता है ऐसे ही आर्थिक क्रिया की कोई जरूरत होती है क्योंकि सारी चीजें उनके आय के स्रोत पहले से बने होते हैं कि की फैक्टरी होती है कि से किराया आ रहा होता है और फिर इसको एक पेशे के रूप में चला रहे होते हैं भले बोलना ना आए लेकिन पैसा है तो आप देखेंगे कि कभी ना कभी मौका मिलेगा यह सिस्टम में रहे हैं साधारण व्यक्ति सिस्टम में आ नहीं सकता है तो पैसा चाहिए फिर रसूख वाले लोगों से मुलाकात चाहिए लेकिन एक बार उसके पिता का रूप होता है तो उसको उस क्षेत्र में घोषणा आसान होता है उस लोगों से मिलना आसान होता है पहचान अलग से पहले से ही बनी रहती है तो उसको ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती है यही कारण है कि नेता कविता नेता ही बन पाता है ऐसे ही आप किसी ऐसे में देखेंगे डॉक्टर का बेटा हो सकता है कि डॉक्टर बन जाता है आसानी से किसी डॉक्टर को पिता है एवं मार्गदर्शन आसानी से कर देता है जरूरी नहीं कि डॉक्टर बन जाए लेकिन कोशिश करता है उसको सारी चीजें उसके हिसाब से बच्चे को तैयार करता है ऐसे ही दूसरे पैसे वालों को भी देखोगे तो उस पैसे में कई बार बच्चे उनके सफल हो जाते ही नेतागिरी का ही है धन्यवाद
Namaskaar doston prashn hai ki vah kaun kaun se kaaran hain jisake kaaran ek neta ka beta hee neta ban paata hai to doston usake peechhe kaee kaaran hain ek kaaran to yah hai ki mujhe usaka beta neta ban chuka hota hai to usaka pahale se hee vyaapaar ya aay ka srot bahut achchha hota hai aur vah kisee sarakaaree emapee emele ya sarapanch ban jaata hai to itanee dhanaraashi ikattha kar leta hai ki usake aay ke srot bahut achchhe ban jaate hain bhale us pad par rahe na rahe to beta ko bhee isee kshetr mein itane laana ho to saaree cheejon ko jaanata hai kaise aage badha ja sakata hai aise hee aarthik kriya kee koee jaroorat hotee hai kyonki saaree cheejen unake aay ke srot pahale se bane hote hain ki kee phaiktaree hotee hai ki se kiraaya aa raha hota hai aur phir isako ek peshe ke roop mein chala rahe hote hain bhale bolana na aae lekin paisa hai to aap dekhenge ki kabhee na kabhee mauka milega yah sistam mein rahe hain saadhaaran vyakti sistam mein aa nahin sakata hai to paisa chaahie phir rasookh vaale logon se mulaakaat chaahie lekin ek baar usake pita ka roop hota hai to usako us kshetr mein ghoshana aasaan hota hai us logon se milana aasaan hota hai pahachaan alag se pahale se hee banee rahatee hai to usako jyaada mehanat nahin karanee padatee hai yahee kaaran hai ki neta kavita neta hee ban paata hai aise hee aap kisee aise mein dekhenge doktar ka beta ho sakata hai ki doktar ban jaata hai aasaanee se kisee doktar ko pita hai evan maargadarshan aasaanee se kar deta hai jarooree nahin ki doktar ban jae lekin koshish karata hai usako saaree cheejen usake hisaab se bachche ko taiyaar karata hai aise hee doosare paise vaalon ko bhee dekhoge to us paise mein kaee baar bachche unake saphal ho jaate hee netaagiree ka hee hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • नेता का बेटा ही नेता क्यों बनता है,
URL copied to clipboard