#भारत की राजनीति

bolkar speaker

क्या किसान आंदोलन की छवि असामाजिक तत्वों ने खराब कर दि है

Kya Kishan Andholan Ki Esamajik Tatvo Ne Chavi Kharab Ki
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:00
दोस्तो आपका सवाल लेकर किसान आंदोलन के असामाजिक तत्वों की छवि खराब की है जिया दोस्तों यह बात बिल्कुल सत्य है कि किसान आंदोलन की जिंदगी खराब की है जैसे कि बीच में जा रहे हैं कुछ लोग और इस तरीके का माहौल पैदा कर रहे हैं क्योंकि तो है नहीं परंतु किसानों को बदनाम करने काम कर रहे हैं अभी कोई व्यक्ति जा रहा है वहां पर बीच में जाकर के पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा रहे हैं और को पकड़ रहे हैं जब बाद में पता कर रहे थे उसका किसानों से कोई लेना-देना ही नहीं है बीच में जा रहे हैं किसान तो बोल रही थी किसान जिंदाबाद किसान नेता जिंदाबाद और वह लोग बीच में जारी मोदी मुर्दाबाद उनको पकड़ रहे जब बाद में बताते हैं कि उनका किसान आंदोलन दोस्तों लोगों ने जो कुछ विशेष जो है यह तो ऐसे हैं जिन्होंने किसानों के आंदोलन को सामाजिक तौर पर काफी ज्यादा इनकी छवि खराब कर रहे हैं
Dosto aapaka savaal lekar kisaan aandolan ke asaamaajik tatvon kee chhavi kharaab kee hai jiya doston yah baat bilkul saty hai ki kisaan aandolan kee jindagee kharaab kee hai jaise ki beech mein ja rahe hain kuchh log aur is tareeke ka maahaul paida kar rahe hain kyonki to hai nahin parantu kisaanon ko badanaam karane kaam kar rahe hain abhee koee vyakti ja raha hai vahaan par beech mein jaakar ke paakistaan jindaabaad ke naare laga rahe hain aur ko pakad rahe hain jab baad mein pata kar rahe the usaka kisaanon se koee lena-dena hee nahin hai beech mein ja rahe hain kisaan to bol rahee thee kisaan jindaabaad kisaan neta jindaabaad aur vah log beech mein jaaree modee murdaabaad unako pakad rahe jab baad mein bataate hain ki unaka kisaan aandolan doston logon ne jo kuchh vishesh jo hai yah to aise hain jinhonne kisaanon ke aandolan ko saamaajik taur par kaaphee jyaada inakee chhavi kharaab kar rahe hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन की छवि असामाजिक तत्वों ने खराब कर दि हैKya Kishan Andholan Ki Esamajik Tatvo Ne Chavi Kharab Ki
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:34
जी हां दोस्तों किसानों ने सामाजिक तत्वों की छवि खराब की है और उनको ऐसा नहीं करना चाहिए था वह कुछ ज्यादा ही कर रहे हैं लेकिन अगर सही मानता है तो वह किसान नहीं है उसमें से बहुत सारे लोग नेता हैं और बहुत सारे उग्रवादी भी उसमें शामिल है इसलिए किसान तो उसमें बहुत कम है और चूंकि इसमें समय मदद कर रहा है उसका पता अभी तक नहीं चल पा रहा है इतना पैसा कहां से आ रहा है उसे भी भेजा भेजा जा रहा है वैसे काम उपद्रव की वजह से कर रहे हैं दोस्तों अगर आपको जो अच्छा लगा हो तो जल्दी से लाइक करते का धन्यवाद
Jee haan doston kisaanon ne saamaajik tatvon kee chhavi kharaab kee hai aur unako aisa nahin karana chaahie tha vah kuchh jyaada hee kar rahe hain lekin agar sahee maanata hai to vah kisaan nahin hai usamen se bahut saare log neta hain aur bahut saare ugravaadee bhee usamen shaamil hai isalie kisaan to usamen bahut kam hai aur choonki isamen samay madad kar raha hai usaka pata abhee tak nahin chal pa raha hai itana paisa kahaan se aa raha hai use bhee bheja bheja ja raha hai vaise kaam upadrav kee vajah se kar rahe hain doston agar aapako jo achchha laga ho to jaldee se laik karate ka dhanyavaad

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन की छवि असामाजिक तत्वों ने खराब कर दि हैKya Kishan Andholan Ki Esamajik Tatvo Ne Chavi Kharab Ki
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
4:58
आपका प्रश्न है कि क्या किसान आंदोलन की और सामाजिक तत्वों ने छवि खराब कर मुझे ऐसा नहीं लगता क्योंकि जिस दिन से किसान आंदोलन शुरू हुआ यह आंदोलन तब सही किसान आंदोलन था ही नहीं इस आंदोलन के पीछे कुछ देश विरोधी तत्व असामाजिक तत्व कांग्रेस वामपंथी टुकड़े टुकड़े गैंग शुरू से ही इस आंदोलन के पीछे थी इस आंदोलन की आग को हवा देने के लिए किसानों को भड़काने के लिए भ्रमित करने के कुछ दृश्य बिल के अंदर जिन बातों का उल्लेख ही नहीं है उन बातों का गलत प्रचार प्रसार कर के किसानों को आंदोलित करने का प्रयास शुरू से ही किया जा रहा है और किसान आंदोलन तो सिर्फ बहाना है मोदी सरकार को गिराना है और इसी वजह से यह सारा आंदोलन जो है यह कोई आज से उसकी छवि खराब है यह जब से शुरू हुआ तब से ही पता था कि आंदोलन कहां से शुरू हुआ है इस आंदोलन को सबसे पहले आग किसने फैलाई इस आंदोलन की है राहुल गांधी जब पंजाब में गया था और उसने कुछ दूरी पर वहां पर ट्रैक्टर चलाया और लोगों को भ्रमित किया वहां पर दूसरी बात इस किसान आंदोलन के पीछे जो किसान आंदोलन करने वाले बड़े नेता हैं उनकी खुद की अपनी मंडियां हैं खुद की खुद अपने आप में वह आरतियां हैं सैकड़ों हजारों बीघा उनके पास जमीन है बड़े पूंजीपति की शान है वो खुद खेती करते नहीं है फिर भी किसान कहते हैं अपने आप गरीब मजदूरों का शोषण करके उनके यहां पर उनसे खेती कराई जाती हैं देखिए यह सारा झोल है इस सारे किसान आंदोलन के अंदर ही किसान आंदोलन कभी था ही नहीं अभी जिस तरीके से राकेश टिकैत जिसको मैं राकेश बोलता हूं डकैत की करीब 100 करोड़ की संपत्ति का पता चला है अब बताइए भलाई काहे की किसान किसानों के नाम पर जनता को पागल बना रहे हैं अरे हम किसान हैं अरे हम अन्नदाता है अरे भाई जो वास्तविक अन्नदाता है वह तो अपने घर पर हैं और वह खेती कर रहा है और वह देश को आगे बढ़ाने में अपना सहयोग कर रहा है और तुम जैसा गुंडा नहीं है वह तुम जैसा देश विरोधी व्यक्ति नहीं है जो लाल किला पर जा कर के उस दिन पूरे राष्ट्र को शर्मसार कर रहा हूं वह वास्तविक किसान यहां पर नहीं है तुम गुंडे नेताओं की वजह से जो कुछ मुट्ठी भर लोग हैं जो कि उन्होंने लाल किले पर जिस तरह का दुस्साहस किया पूरे हमारे भारतीयों का पूरे विश्व के अंदर हम को शर्मसार किया गणतंत्र दिवस के दिन जो कि हमारा पवित्र राष्ट्रपति भलाई कहे कि किसान हैं और एक काहे का किसान आंदोलन है जो है इस सब असामाजिक तत्व ही थे कि किसी अन्य को बहाना बनाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए और यह छवि तो इनका शुरू से खराबी था किसान से शुरू से ही नहीं इसमें इस आंदोलन में टुकड़े-टुकड़े गैंग थी जो कि अपनी खोई हुई सत्ता की जमीन को पुनः प्राप्त करने के लिए कुछ किसान नेताओं के कंधे पर बंदूक रखकर के अपना हित साधने की कोशिश कर रहे हैं और जो किसान है उनकी वह जो कुछ किसान नेता है कथित किसान नेता वह भी अपनी व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाओं को प्राप्त करने के लिए भविष्य में चुनाव लड़ने के लिए नेता नगरी करने के लिए और उस नेता नगरी से जिस तरह से राकेश डकैत ने पैसा कमाया उस तरीके से बाकी किसान नेता भी उस डकैत की तरह लूटमार करेंगे ना यह कोई किसान आंदोलन है यही तो प्रश्न है यह वास्तव में लघु और सीमांत किसानों के लिए छोटे किसानों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है लेकिन जब आप हुए हैं जो वहां पर भीड़ भरत बढ़ा रहे हैं उनकी अपनी व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा हैं उनको लगता है कि उनकी स्वयं की मंडियां खत्म हो जाएगी वह जो आरती का अब तक काम कर रहे थे वह खत्म हो जाएगा इसलिए सच्चाई को हम को स्वीकार करने की जरूरत है वह कोई किसान आंदोलन वाला नहीं है यह सारे गुंडाराज और असामाजिक तत्व राज्य को कि संगठन एवं धन्यवाद
Aapaka prashn hai ki kya kisaan aandolan kee aur saamaajik tatvon ne chhavi kharaab kar mujhe aisa nahin lagata kyonki jis din se kisaan aandolan shuroo hua yah aandolan tab sahee kisaan aandolan tha hee nahin is aandolan ke peechhe kuchh desh virodhee tatv asaamaajik tatv kaangres vaamapanthee tukade tukade gaing shuroo se hee is aandolan ke peechhe thee is aandolan kee aag ko hava dene ke lie kisaanon ko bhadakaane ke lie bhramit karane ke kuchh drshy bil ke andar jin baaton ka ullekh hee nahin hai un baaton ka galat prachaar prasaar kar ke kisaanon ko aandolit karane ka prayaas shuroo se hee kiya ja raha hai aur kisaan aandolan to sirph bahaana hai modee sarakaar ko giraana hai aur isee vajah se yah saara aandolan jo hai yah koee aaj se usakee chhavi kharaab hai yah jab se shuroo hua tab se hee pata tha ki aandolan kahaan se shuroo hua hai is aandolan ko sabase pahale aag kisane phailaee is aandolan kee hai raahul gaandhee jab panjaab mein gaya tha aur usane kuchh dooree par vahaan par traiktar chalaaya aur logon ko bhramit kiya vahaan par doosaree baat is kisaan aandolan ke peechhe jo kisaan aandolan karane vaale bade neta hain unakee khud kee apanee mandiyaan hain khud kee khud apane aap mein vah aaratiyaan hain saikadon hajaaron beegha unake paas jameen hai bade poonjeepati kee shaan hai vo khud khetee karate nahin hai phir bhee kisaan kahate hain apane aap gareeb majadooron ka shoshan karake unake yahaan par unase khetee karaee jaatee hain dekhie yah saara jhol hai is saare kisaan aandolan ke andar hee kisaan aandolan kabhee tha hee nahin abhee jis tareeke se raakesh tikait jisako main raakesh bolata hoon dakait kee kareeb 100 karod kee sampatti ka pata chala hai ab bataie bhalaee kaahe kee kisaan kisaanon ke naam par janata ko paagal bana rahe hain are ham kisaan hain are ham annadaata hai are bhaee jo vaastavik annadaata hai vah to apane ghar par hain aur vah khetee kar raha hai aur vah desh ko aage badhaane mein apana sahayog kar raha hai aur tum jaisa gunda nahin hai vah tum jaisa desh virodhee vyakti nahin hai jo laal kila par ja kar ke us din poore raashtr ko sharmasaar kar raha hoon vah vaastavik kisaan yahaan par nahin hai tum gunde netaon kee vajah se jo kuchh mutthee bhar log hain jo ki unhonne laal kile par jis tarah ka dussaahas kiya poore hamaare bhaarateeyon ka poore vishv ke andar ham ko sharmasaar kiya ganatantr divas ke din jo ki hamaara pavitr raashtrapati bhalaee kahe ki kisaan hain aur ek kaahe ka kisaan aandolan hai jo hai is sab asaamaajik tatv hee the ki kisee any ko bahaana banaane kee koshish nahin karanee chaahie aur yah chhavi to inaka shuroo se kharaabee tha kisaan se shuroo se hee nahin isamen is aandolan mein tukade-tukade gaing thee jo ki apanee khoee huee satta kee jameen ko punah praapt karane ke lie kuchh kisaan netaon ke kandhe par bandook rakhakar ke apana hit saadhane kee koshish kar rahe hain aur jo kisaan hai unakee vah jo kuchh kisaan neta hai kathit kisaan neta vah bhee apanee vyaktigat mahatvaakaankshaon ko praapt karane ke lie bhavishy mein chunaav ladane ke lie neta nagaree karane ke lie aur us neta nagaree se jis tarah se raakesh dakait ne paisa kamaaya us tareeke se baakee kisaan neta bhee us dakait kee tarah lootamaar karenge na yah koee kisaan aandolan hai yahee to prashn hai yah vaastav mein laghu aur seemaant kisaanon ke lie chhote kisaanon ke lie kisee varadaan se kam nahin hai lekin jab aap hue hain jo vahaan par bheed bharat badha rahe hain unakee apanee vyaktigat mahatvaakaanksha hain unako lagata hai ki unakee svayan kee mandiyaan khatm ho jaegee vah jo aaratee ka ab tak kaam kar rahe the vah khatm ho jaega isalie sachchaee ko ham ko sveekaar karane kee jaroorat hai vah koee kisaan aandolan vaala nahin hai yah saare gundaaraaj aur asaamaajik tatv raajy ko ki sangathan evan dhanyavaad

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन की छवि असामाजिक तत्वों ने खराब कर दि हैKya Kishan Andholan Ki Esamajik Tatvo Ne Chavi Kharab Ki
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:33
आपका सवाल है कि क्या किसान और जल की छवि असामाजिक तत्वों ने खराब कर दी है तो मेरे ख्याल से अलग भी यही राय है समाज के साथ-साथ जो गणेश के बड़े नेता हैं उन्होंने बहुत ज्यादा पैसे लेकर इस अनुभव को चना चलाने का वादा किया था वह इनके पीछे जो व्यक्ति थे जो धीरे-धीरे अब अलग होते जा रहे हैं
Aapaka savaal hai ki kya kisaan aur jal kee chhavi asaamaajik tatvon ne kharaab kar dee hai to mere khyaal se alag bhee yahee raay hai samaaj ke saath-saath jo ganesh ke bade neta hain unhonne bahut jyaada paise lekar is anubhav ko chana chalaane ka vaada kiya tha vah inake peechhe jo vyakti the jo dheere-dheere ab alag hote ja rahe hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या किसान आंदोलन सही है ..किसान क्यों आंदोलन कर रहे है
URL copied to clipboard