#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

आज वैलेंटाइन डे है आज मुझे लड़कियों के हाथ से मार खाना है क्या यह सही है?

Aaj Valentine Day Hai Aaj Muje Ladkiyo Ke Haath Se Maar Khana Hai Kya Yah Sahi Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
2:46
आज वैलेंटाइन डे तो है तो आज के लिए मुझे लड़कियों के हाथ से मार खाना है तो क्या यह सही है बिल्कुल गलत है मित्र किसी के हाथ से मार क्यों खाना क्या बदतमीजी करना चाहते लड़कियां भी हाथ क्यों उठाएंगे तभी नहीं उठाएंगे तब उनके साथ आप कोई बदतमीजी करेंगे तो बदतमीजी करना पहली बात तो गलत बात है और बदतमीजी करते हुए मार खाने की मानसिकता तो बहुत ही घिनौनी है हर आईडी आपका स्वाभिमान कहां चला गया आप पुरुष हैं या स्त्री हैं समझे आप ना आपके अंदर ही कभी मान होना चाहिए पुरुष होने का या स्त्री होने का अभिमान की रक्षा होनी चाहिए यही तो जीवन है समझा अपना एक भिखारी भी जीवन जीता है और एक परिश्रमी भी जीवन जीता है और थोड़ा सा और उल्टा चलिए एक गरीब परिवार की बहू समझा अपना जो अपने पति से अपने बच्चों से अपने परिवार से प्यार रखती है और फटे कपड़ों में भी जो सा मृत्यु एक बच्चा के पास स्वाभिमान नहीं होता भले ही वह करोड़पति हो तो ध्यान में रखे आज पैसे वालों की इज्जत को से ज्यादा होती है पैसा जो है वह सुख शांति देने वाला नहीं है तो आपके मन में यह दूर विचार क्यों है मेरी समझ में नहीं आ रहा है निवेदन है कि एक स्वाभिमान से जीने की मानसिकता बनाइए और सामान से जीने की कोशिश करिए कि वैलेंटाइन डे अगला वैलेंटाइन कोशिश करी एक उपलब्धियों के धरातल पर आप वहां पहुंच जाएं जहां लड़कियां आप के प्रति आकर्षित हो वैसे भी वैलेंटाइन डे किस रूप में मनाया जाता है उस हीरो का नहीं है वैलेंटाइन तो एक बहुत ही पवित्र दिवस है क्योंकि किसी संत के प्रति आस्था के कारण किसी लड़की की आंखों की रोशनी लौटी थी रूम में और कहा जाता है कि उस तंत्र को फांसी की सजा दी गई हुई थी तो आज के दिन ही उस लड़की को क्योंकि उसके अगले दूसरे तीसरे दिन उनको शायद फांसी दी जानी थी तो उन्होंने उस लड़की के लिए है जिसकी आंखों की रोशनी आज के दिन लौटी थी इस शब्द लिख करके भेजा था रामनगर वैलेंटाइन एक संत ने आस्था से जुड़ी हुई लड़की के प्रति जो शब्द रखा था वहां वैलेंटाइन का और तो नहीं होता जो आज लोग लगाते हैं हाथ में तो थोड़ा सा हमें कभी-कभी परंपरा बड़ी गलत चल जाती हैं और हम आंख मूंदकर के उसी पर विश्वास कर लेते हैं तो आते हैं जो बहुत दिखता बढ़ रही है वह हमें सलाह देती है कि हम किसी बात पर विश्वास तब करें जब अंतर्मन हमारा उसके लिए तैयार हो जाएं हालांकि इसके लिए आप विश्वास करना जरूरी नहीं है लेकिन आप मुझ पर विश्वास भी नहीं करना चाहिए थैंक यू
Aaj vailentain de to hai to aaj ke lie mujhe ladakiyon ke haath se maar khaana hai to kya yah sahee hai bilkul galat hai mitr kisee ke haath se maar kyon khaana kya badatameejee karana chaahate ladakiyaan bhee haath kyon uthaenge tabhee nahin uthaenge tab unake saath aap koee badatameejee karenge to badatameejee karana pahalee baat to galat baat hai aur badatameejee karate hue maar khaane kee maanasikata to bahut hee ghinaunee hai har aaeedee aapaka svaabhimaan kahaan chala gaya aap purush hain ya stree hain samajhe aap na aapake andar hee kabhee maan hona chaahie purush hone ka ya stree hone ka abhimaan kee raksha honee chaahie yahee to jeevan hai samajha apana ek bhikhaaree bhee jeevan jeeta hai aur ek parishramee bhee jeevan jeeta hai aur thoda sa aur ulta chalie ek gareeb parivaar kee bahoo samajha apana jo apane pati se apane bachchon se apane parivaar se pyaar rakhatee hai aur phate kapadon mein bhee jo sa mrtyu ek bachcha ke paas svaabhimaan nahin hota bhale hee vah karodapati ho to dhyaan mein rakhe aaj paise vaalon kee ijjat ko se jyaada hotee hai paisa jo hai vah sukh shaanti dene vaala nahin hai to aapake man mein yah door vichaar kyon hai meree samajh mein nahin aa raha hai nivedan hai ki ek svaabhimaan se jeene kee maanasikata banaie aur saamaan se jeene kee koshish karie ki vailentain de agala vailentain koshish karee ek upalabdhiyon ke dharaatal par aap vahaan pahunch jaen jahaan ladakiyaan aap ke prati aakarshit ho vaise bhee vailentain de kis roop mein manaaya jaata hai us heero ka nahin hai vailentain to ek bahut hee pavitr divas hai kyonki kisee sant ke prati aastha ke kaaran kisee ladakee kee aankhon kee roshanee lautee thee room mein aur kaha jaata hai ki us tantr ko phaansee kee saja dee gaee huee thee to aaj ke din hee us ladakee ko kyonki usake agale doosare teesare din unako shaayad phaansee dee jaanee thee to unhonne us ladakee ke lie hai jisakee aankhon kee roshanee aaj ke din lautee thee is shabd likh karake bheja tha raamanagar vailentain ek sant ne aastha se judee huee ladakee ke prati jo shabd rakha tha vahaan vailentain ka aur to nahin hota jo aaj log lagaate hain haath mein to thoda sa hamen kabhee-kabhee parampara badee galat chal jaatee hain aur ham aankh moondakar ke usee par vishvaas kar lete hain to aate hain jo bahut dikhata badh rahee hai vah hamen salaah detee hai ki ham kisee baat par vishvaas tab karen jab antarman hamaara usake lie taiyaar ho jaen haalaanki isake lie aap vishvaas karana jarooree nahin hai lekin aap mujh par vishvaas bhee nahin karana chaahie thaink yoo

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आज वैलेंटाइन डे है आज मुझे लड़कियों के हाथ से मार खाना है क्या यह सही है?Aaj Valentine Day Hai Aaj Muje Ladkiyo Ke Haath Se Maar Khana Hai Kya Yah Sahi Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
2:46
आज वैलेंटाइन डे तो है तो आज के लिए मुझे लड़कियों के हाथ से मार खाना है तो क्या यह सही है बिल्कुल गलत है मित्र किसी के हाथ से मार क्यों खाना क्या बदतमीजी करना चाहते लड़कियां भी हाथ क्यों उठाएंगे तभी नहीं उठाएंगे तब उनके साथ आप कोई बदतमीजी करेंगे तो बदतमीजी करना पहली बात तो गलत बात है और बदतमीजी करते हुए मार खाने की मानसिकता तो बहुत ही घिनौनी है हर आईडी आपका स्वाभिमान कहां चला गया आप पुरुष हैं या स्त्री हैं समझे आप ना आपके अंदर ही कभी मान होना चाहिए पुरुष होने का या स्त्री होने का अभिमान की रक्षा होनी चाहिए यही तो जीवन है समझा अपना एक भिखारी भी जीवन जीता है और एक परिश्रमी भी जीवन जीता है और थोड़ा सा और उल्टा चलिए एक गरीब परिवार की बहू समझा अपना जो अपने पति से अपने बच्चों से अपने परिवार से प्यार रखती है और फटे कपड़ों में भी जो सा मृत्यु एक बच्चा के पास स्वाभिमान नहीं होता भले ही वह करोड़पति हो तो ध्यान में रखे आज पैसे वालों की इज्जत को से ज्यादा होती है पैसा जो है वह सुख शांति देने वाला नहीं है तो आपके मन में यह दूर विचार क्यों है मेरी समझ में नहीं आ रहा है निवेदन है कि एक स्वाभिमान से जीने की मानसिकता बनाइए और सामान से जीने की कोशिश करिए कि वैलेंटाइन डे अगला वैलेंटाइन कोशिश करी एक उपलब्धियों के धरातल पर आप वहां पहुंच जाएं जहां लड़कियां आप के प्रति आकर्षित हो वैसे भी वैलेंटाइन डे किस रूप में मनाया जाता है उस हीरो का नहीं है वैलेंटाइन तो एक बहुत ही पवित्र दिवस है क्योंकि किसी संत के प्रति आस्था के कारण किसी लड़की की आंखों की रोशनी लौटी थी रूम में और कहा जाता है कि उस तंत्र को फांसी की सजा दी गई हुई थी तो आज के दिन ही उस लड़की को क्योंकि उसके अगले दूसरे तीसरे दिन उनको शायद फांसी दी जानी थी तो उन्होंने उस लड़की के लिए है जिसकी आंखों की रोशनी आज के दिन लौटी थी इस शब्द लिख करके भेजा था रामनगर वैलेंटाइन एक संत ने आस्था से जुड़ी हुई लड़की के प्रति जो शब्द रखा था वहां वैलेंटाइन का और तो नहीं होता जो आज लोग लगाते हैं हाथ में तो थोड़ा सा हमें कभी-कभी परंपरा बड़ी गलत चल जाती हैं और हम आंख मूंदकर के उसी पर विश्वास कर लेते हैं तो आते हैं जो बहुत दिखता बढ़ रही है वह हमें सलाह देती है कि हम किसी बात पर विश्वास तब करें जब अंतर्मन हमारा उसके लिए तैयार हो जाएं हालांकि इसके लिए आप विश्वास करना जरूरी नहीं है लेकिन आप मुझ पर विश्वास भी नहीं करना चाहिए थैंक यू
Aaj vailentain de to hai to aaj ke lie mujhe ladakiyon ke haath se maar khaana hai to kya yah sahee hai bilkul galat hai mitr kisee ke haath se maar kyon khaana kya badatameejee karana chaahate ladakiyaan bhee haath kyon uthaenge tabhee nahin uthaenge tab unake saath aap koee badatameejee karenge to badatameejee karana pahalee baat to galat baat hai aur badatameejee karate hue maar khaane kee maanasikata to bahut hee ghinaunee hai har aaeedee aapaka svaabhimaan kahaan chala gaya aap purush hain ya stree hain samajhe aap na aapake andar hee kabhee maan hona chaahie purush hone ka ya stree hone ka abhimaan kee raksha honee chaahie yahee to jeevan hai samajha apana ek bhikhaaree bhee jeevan jeeta hai aur ek parishramee bhee jeevan jeeta hai aur thoda sa aur ulta chalie ek gareeb parivaar kee bahoo samajha apana jo apane pati se apane bachchon se apane parivaar se pyaar rakhatee hai aur phate kapadon mein bhee jo sa mrtyu ek bachcha ke paas svaabhimaan nahin hota bhale hee vah karodapati ho to dhyaan mein rakhe aaj paise vaalon kee ijjat ko se jyaada hotee hai paisa jo hai vah sukh shaanti dene vaala nahin hai to aapake man mein yah door vichaar kyon hai meree samajh mein nahin aa raha hai nivedan hai ki ek svaabhimaan se jeene kee maanasikata banaie aur saamaan se jeene kee koshish karie ki vailentain de agala vailentain koshish karee ek upalabdhiyon ke dharaatal par aap vahaan pahunch jaen jahaan ladakiyaan aap ke prati aakarshit ho vaise bhee vailentain de kis roop mein manaaya jaata hai us heero ka nahin hai vailentain to ek bahut hee pavitr divas hai kyonki kisee sant ke prati aastha ke kaaran kisee ladakee kee aankhon kee roshanee lautee thee room mein aur kaha jaata hai ki us tantr ko phaansee kee saja dee gaee huee thee to aaj ke din hee us ladakee ko kyonki usake agale doosare teesare din unako shaayad phaansee dee jaanee thee to unhonne us ladakee ke lie hai jisakee aankhon kee roshanee aaj ke din lautee thee is shabd likh karake bheja tha raamanagar vailentain ek sant ne aastha se judee huee ladakee ke prati jo shabd rakha tha vahaan vailentain ka aur to nahin hota jo aaj log lagaate hain haath mein to thoda sa hamen kabhee-kabhee parampara badee galat chal jaatee hain aur ham aankh moondakar ke usee par vishvaas kar lete hain to aate hain jo bahut dikhata badh rahee hai vah hamen salaah detee hai ki ham kisee baat par vishvaas tab karen jab antarman hamaara usake lie taiyaar ho jaen haalaanki isake lie aap vishvaas karana jarooree nahin hai lekin aap mujh par vishvaas bhee nahin karana chaahie thaink yoo

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • आज वैलेंटाइन डे है मै क्या गिफ्ट दू .. वैलेंटाइन डे पर कहा जाना ठीक रहेगा ?
URL copied to clipboard