#जीवन शैली

bolkar speaker

कोई मनुष्य अपने मन की चंचलता को किस प्रकार से कम कर सकता है?

Koi Manushya Apne Man Ki Chanchalta Ko Kis Prakar Se Kam Kar Sakta Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:50
अनुषा अपने मन की चंचलता को किस प्रकार से कम कर सकता है दोस्तों मन की चंचलता को व्यक्ति कंट्रोल भी कर सकता है और बना भी सकता है मन की चंचलता यदि आपको कम करनी है तो सीधी बात या दोस्तों आप जिस चीज के बारे में सोच रहे हैं उसके बारे में सोचना बंद कर दीजिए इस चलता है वह कम हो जाएगी जो चीज के बारे में ज्यादा मत सोचिए कुछ हल्का होगा सोच लीजिए थोडा को कम करने का भी यही एक यानी काम है कि आप उसके बारे में कम 100 से ज्यादा नहीं और जिस दिन आपने कम सोचना स्टार्ट कर दिया दूसरी साइड के तरफ ध्यान दे दिया आपका जो चंचल मन हो जाएगा
Anusha apane man kee chanchalata ko kis prakaar se kam kar sakata hai doston man kee chanchalata ko vyakti kantrol bhee kar sakata hai aur bana bhee sakata hai man kee chanchalata yadi aapako kam karanee hai to seedhee baat ya doston aap jis cheej ke baare mein soch rahe hain usake baare mein sochana band kar deejie is chalata hai vah kam ho jaegee jo cheej ke baare mein jyaada mat sochie kuchh halka hoga soch leejie thoda ko kam karane ka bhee yahee ek yaanee kaam hai ki aap usake baare mein kam 100 se jyaada nahin aur jis din aapane kam sochana staart kar diya doosaree said ke taraph dhyaan de diya aapaka jo chanchal man ho jaega

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कोई मनुष्य अपने मन की चंचलता को किस प्रकार से कम कर सकता है?Koi Manushya Apne Man Ki Chanchalta Ko Kis Prakar Se Kam Kar Sakta Hai
sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
1:35
गुड इवनिंग सवाल है कि कोई मनुष्य अपने मन की चंचलता को किस प्रकार से कम कर सकता है मन की चंचलता को कम करने के लिए ध्यान ही है जो भी कम कर सकता बस में ध्यान लगाना मेडिटेशन होता है कोई कोई व्यक्ति बहुत अधिक चंचल होता है उसे हर हमेशा लगता है मतलब कुछ लोगों का मैं देखा है सुबह एक जगह स्त्री नहीं होते वह मतलब हमेशा मैंने बेचैनी रहती है कोई कुछ कर ले कुछ कर ले इस तरह का होता है और चंचल मन होता है उनको शांत मन नहीं होता तो इसके लिए तो यही है कि वह ध्यान करें मेडिटेशन करें से थोड़ा सामान उसका शांत हो सकता है और इसके बाद ज्योतिष शास्त्र में भी है एवं कुछ उसका उपाय बताया जाता है मोती की अंगूठी पहनाई जाती है या मोती के माला पहना हालांकि इस पर मैं बहुत अधिक नहीं कर सकता निश्चित रूप से किया जाता है इस पर भी इसमें जिसको जितना विश्वास हो उसके अनुसार ही उसको मिलता है तो यही है लेकिन सबसे अच्छा मुझे ही उपाय लगता है कि मेडिटेशन ज्यादा से ज्यादा जब वह करेगा बेटा तो अपनी चंचलता को कम कर सकता है थैंक यू
Gud ivaning savaal hai ki koee manushy apane man kee chanchalata ko kis prakaar se kam kar sakata hai man kee chanchalata ko kam karane ke lie dhyaan hee hai jo bhee kam kar sakata bas mein dhyaan lagaana mediteshan hota hai koee koee vyakti bahut adhik chanchal hota hai use har hamesha lagata hai matalab kuchh logon ka main dekha hai subah ek jagah stree nahin hote vah matalab hamesha mainne bechainee rahatee hai koee kuchh kar le kuchh kar le is tarah ka hota hai aur chanchal man hota hai unako shaant man nahin hota to isake lie to yahee hai ki vah dhyaan karen mediteshan karen se thoda saamaan usaka shaant ho sakata hai aur isake baad jyotish shaastr mein bhee hai evan kuchh usaka upaay bataaya jaata hai motee kee angoothee pahanaee jaatee hai ya motee ke maala pahana haalaanki is par main bahut adhik nahin kar sakata nishchit roop se kiya jaata hai is par bhee isamen jisako jitana vishvaas ho usake anusaar hee usako milata hai to yahee hai lekin sabase achchha mujhe hee upaay lagata hai ki mediteshan jyaada se jyaada jab vah karega beta to apanee chanchalata ko kam kar sakata hai thaink yoo

bolkar speaker
कोई मनुष्य अपने मन की चंचलता को किस प्रकार से कम कर सकता है?Koi Manushya Apne Man Ki Chanchalta Ko Kis Prakar Se Kam Kar Sakta Hai
Hitesh jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Hitesh जी का जवाब
Blogger- Content Writer
2:50
आज का सवाल है कोई मनुष्य अपने मन की चंचलता को किस प्रकार से कम कर सकता है तो मन की चंचलता को अगर कम करना है तो सबसे पहले आपको यह जानना होगा कि आपका मन पहली बात तो चंचल किस चीज के लिए हो रहा है क्या है वह चीज जिससे आपका मन चंचल हो रहा है और क्यों आप अपने एक काम पर फोकस नहीं कर पा रहे और अलग-अलग कामों की ओर भागे जा रहा है आपका मन तो पहले आपको खुद वेट करके सोचना होगा कि आपको क्या करना है लाइफ में और आपका मन चंचल है तो किस वजह से पहले आपको वह वजह फाइंड आउट करनी होगी और आपको यह भी पता करना होगा कि जो रास्ता अपनी चुना है या जीत में मैं आपको जाना है अगर आपका मन चंचल है वह नहीं जाने दे रहा है तो आपको अपने माइंड में गोल सेट करके चलना होगा जिससे आपकी मन की चंचलता कम होगी और बार-बार यह समझाना होगा कि अगर मैं यह काम नहीं करूंगा और मेरा मन चंचल है अगर मैं इधर-उधर के काम करूंगा मैं अपने गोल पर फोकस नहीं करूंगा ध्यान नहीं दूंगा तो मैं वह चीज कभी नहीं पापा लूंगा फिर मुझे उस बात का बहुत बुरा लगेगा तो जब भी मन चंचल हो आपको आपके काम में आपका ध्यान ना लगने दे मानो तो अपने मन को कंट्रोल करने की कोशिश करें और उसे बार-बार दिमाग में यही विचार लायक के अगर मैं काम नहीं करूंगा तो मैं यह चीज नहीं पापा लूंगा आपका गोल आपको कभी नहीं मिलेगा तो अपने गोल पर ध्यान दें ताकि धीरे-धीरे आपका मन कंट्रोल हो जाएगा और चंचलता बंद हो जाएगी और दूसरी बात है अगर नहीं हो रहा है फिर भी तो आपको मेडिटेशन यानी कि ध्यान करने की बहुत ज्यादा जरूरत है आपको ध्यान करना ही होगा अगर आप ध्यान करेंगे तो आप को देखेंगे आपका मन शांत होने लगेगा और जब भी मन चंचल हो तब लंबी गहरी सांसे ले 25 बार गहरी सांस लें हर एक सांस को पूरी तरह से अपने फेफड़ों में बड़े और के छोड़े फिर बड़े और फिर छोड़े को कम से कम यह रुके बिना कंटिन्यू करना है आपको 20 बार इस आपका मन शांत होगा आप की चंचलता शांत होगी और ज्यादा से ज्यादा और योगा प्राणायाम मेडिटेशन करें और खाने-पीने का अच्छे से ध्यान रखें सेहत का ध्यान रखें दोस्तों से मिले बाहर जाए घूमे फिरे और लोगों के साथ अच्छे से रहे सत्कर्म करें और सबके लिए अच्छा सोचें और खुद भी अच्छा करें आपका भला हो सभी का भला हो यही मन में रखते चले तो आई हो क्या आपको मेरा यह ऑडियो मैसेज जो है अच्छा लगा हो तो प्लीज लाइक शेयर एंड सब्सक्राइब करना एंड सब को सेंड करना थैंक यू
Aaj ka savaal hai koee manushy apane man kee chanchalata ko kis prakaar se kam kar sakata hai to man kee chanchalata ko agar kam karana hai to sabase pahale aapako yah jaanana hoga ki aapaka man pahalee baat to chanchal kis cheej ke lie ho raha hai kya hai vah cheej jisase aapaka man chanchal ho raha hai aur kyon aap apane ek kaam par phokas nahin kar pa rahe aur alag-alag kaamon kee or bhaage ja raha hai aapaka man to pahale aapako khud vet karake sochana hoga ki aapako kya karana hai laiph mein aur aapaka man chanchal hai to kis vajah se pahale aapako vah vajah phaind aaut karanee hogee aur aapako yah bhee pata karana hoga ki jo raasta apanee chuna hai ya jeet mein main aapako jaana hai agar aapaka man chanchal hai vah nahin jaane de raha hai to aapako apane maind mein gol set karake chalana hoga jisase aapakee man kee chanchalata kam hogee aur baar-baar yah samajhaana hoga ki agar main yah kaam nahin karoonga aur mera man chanchal hai agar main idhar-udhar ke kaam karoonga main apane gol par phokas nahin karoonga dhyaan nahin doonga to main vah cheej kabhee nahin paapa loonga phir mujhe us baat ka bahut bura lagega to jab bhee man chanchal ho aapako aapake kaam mein aapaka dhyaan na lagane de maano to apane man ko kantrol karane kee koshish karen aur use baar-baar dimaag mein yahee vichaar laayak ke agar main kaam nahin karoonga to main yah cheej nahin paapa loonga aapaka gol aapako kabhee nahin milega to apane gol par dhyaan den taaki dheere-dheere aapaka man kantrol ho jaega aur chanchalata band ho jaegee aur doosaree baat hai agar nahin ho raha hai phir bhee to aapako mediteshan yaanee ki dhyaan karane kee bahut jyaada jaroorat hai aapako dhyaan karana hee hoga agar aap dhyaan karenge to aap ko dekhenge aapaka man shaant hone lagega aur jab bhee man chanchal ho tab lambee gaharee saanse le 25 baar gaharee saans len har ek saans ko pooree tarah se apane phephadon mein bade aur ke chhode phir bade aur phir chhode ko kam se kam yah ruke bina kantinyoo karana hai aapako 20 baar is aapaka man shaant hoga aap kee chanchalata shaant hogee aur jyaada se jyaada aur yoga praanaayaam mediteshan karen aur khaane-peene ka achchhe se dhyaan rakhen sehat ka dhyaan rakhen doston se mile baahar jae ghoome phire aur logon ke saath achchhe se rahe satkarm karen aur sabake lie achchha sochen aur khud bhee achchha karen aapaka bhala ho sabhee ka bhala ho yahee man mein rakhate chale to aaee ho kya aapako mera yah odiyo maisej jo hai achchha laga ho to pleej laik sheyar end sabsakraib karana end sab ko send karana thaink yoo

bolkar speaker
कोई मनुष्य अपने मन की चंचलता को किस प्रकार से कम कर सकता है?Koi Manushya Apne Man Ki Chanchalta Ko Kis Prakar Se Kam Kar Sakta Hai
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:45

bolkar speaker
कोई मनुष्य अपने मन की चंचलता को किस प्रकार से कम कर सकता है?Koi Manushya Apne Man Ki Chanchalta Ko Kis Prakar Se Kam Kar Sakta Hai
अनन्या सिहं Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए अनन्या जी का जवाब
शिक्षारत
0:33
यह कार्य तो कठिन है पर यह हो सकता है भगवान श्री कृष्ण ने गीता में अर्जुन को समझाते हुए कहा कि वास्तव में मन को वश में किया जाना तो अत्यंत दुष्कर कार्य है परंतु अभ्यास और वैराग्य से इसे घर में किया जाना संभव है महर्षि पतंजलि ने भी कहा है कि अभ्यास और वैराग्य से इस मन को वश में किया जा सकता है मन ही जीव का बंधन कारण भी है और मन यही जी का उदाहरण भी है
Yah kaary to kathin hai par yah ho sakata hai bhagavaan shree krshn ne geeta mein arjun ko samajhaate hue kaha ki vaastav mein man ko vash mein kiya jaana to atyant dushkar kaary hai parantu abhyaas aur vairaagy se ise ghar mein kiya jaana sambhav hai maharshi patanjali ne bhee kaha hai ki abhyaas aur vairaagy se is man ko vash mein kiya ja sakata hai man hee jeev ka bandhan kaaran bhee hai aur man yahee jee ka udaaharan bhee hai

bolkar speaker
कोई मनुष्य अपने मन की चंचलता को किस प्रकार से कम कर सकता है?Koi Manushya Apne Man Ki Chanchalta Ko Kis Prakar Se Kam Kar Sakta Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
3:00
सवाल यह है कि कोई मनुष्य अपने मन की चंचलता को किस प्रकार से काम कर सकता है तो हम सभी जानते हैं कि मन बहुत ही चंचल होता है चरण चरण पर बदलता रहता है मन बदलता रहता है तो बुद्धि भी स्थिर नहीं रह पाती इसलिए कहा गया है कि शरीर के विकास के साथ अमन के विकास पर भी ध्यान देना आवश्यक है मन पर जिन का नियंत्रण है उनका नैतिक विकास भी उन्नत है वे अच्छे कर्म में प्रवृत्त रहते हैं जिनका मन नियंत्रित नहीं है उनकी बुद्धि भी भ्रष्ट रहती है और कर्म निश्चित रूप से इस लायक नहीं होता है लेकिन मन की चंचलता बुरी बात भी नहीं है मन की चंचलता उसके जीवन होने का प्रमाण है जहां जीवन है वहां गति है जहां जीवन नहीं है चढ़ता है वहां कोई गति नहीं मन की चंचलता आप के जीवित रहने का लक्षण है चंचलता रोक लेना कोई कोई अर्थ की बात नहीं होती है चंचलता रुक जा ना ही कोई बड़ी गहरी खोज नहीं है और चंचलता को रोकने की जितने अभ्यास हैं वह सब मनुष्य की बुद्धि माता को एकदम को उसके इंटेलिजेंस को उसकी समाज उसकी अंडरस्टैंडिंग को उसकी छोड़ कर सबको सेंड करते हैं और काम करते हैं मस्तिष्क मेधावी नहीं रह जाता गीता के छठे अध्याय में अर्जुन ने भगवान कृष्ण से पूछा है हे भगवान मन बड़ा चंचल है और मत देने वाला है इसमें इसे वश में करना मानव वायु को वश में करने जाता है यानी जैसे हवा को वश में नहीं किया जा सकता वैसे मन को वश में करना दुष्कर है भगवान कृष्ण ने कहा अर्जुन मन को रोकना कठिन है लेकिन अभ्यास और वैराग्य के द्वारा इसे वश में किया जा सकता है अर्जुन ने पूछा अभ्यास कैसा आठवें अध्याय में भगवान ने कहा है मन जहां जहां जाए उसे रोककर बार-बार भगवान में डालना इसे कुछ संत अभ्यास योग भी कहते हैं लेकिन यह कैसे संभव है यह तभी संभव होगा जब आप अपनी पैनी नजर पर पैनी नजर रखें आप ध्यान कर रहे हैं और मन को भी देख रहे हैं हां यह भगवान में लगा है अचानक ही आपको चकमा देता और सांसारिक प्रपंच में लग जाता है क्योंकि आप अपने मन की प्रति सजग और सचेत हैं इसलिए इसे फिर भगवान के पास खींच लाई है इसमें उगने का काम नहीं चलेगा मन की चालाकियां आपको पकड़नी पड़ेगी आप कहेंगे मन तो मेरा है यह चला कि कैसे करता है तो मन बहुत चलाक है और अगर आपके बस में होता है तो फिर चिंता ही क्या थी मगर वश में है तो आप मुक्त हो जाते हैं लेकिन वह और वश में नहीं है तो आप इसके ही गुलाम हो जाते हो और यही बंधन है इसी से मुक्त होने के लिए तो साधक छठ पट आता है भगवान से प्रार्थना करता है करता है जब और ध्यान करता है वह लगातार भगवान से योग चाहता है भगवान से हमारा जब तक विवि योग है तब तक दुख और पीड़ा है तनाव और तकलीफ है लेकिन जो ही योग हो गया
Savaal yah hai ki koee manushy apane man kee chanchalata ko kis prakaar se kaam kar sakata hai to ham sabhee jaanate hain ki man bahut hee chanchal hota hai charan charan par badalata rahata hai man badalata rahata hai to buddhi bhee sthir nahin rah paatee isalie kaha gaya hai ki shareer ke vikaas ke saath aman ke vikaas par bhee dhyaan dena aavashyak hai man par jin ka niyantran hai unaka naitik vikaas bhee unnat hai ve achchhe karm mein pravrtt rahate hain jinaka man niyantrit nahin hai unakee buddhi bhee bhrasht rahatee hai aur karm nishchit roop se is laayak nahin hota hai lekin man kee chanchalata buree baat bhee nahin hai man kee chanchalata usake jeevan hone ka pramaan hai jahaan jeevan hai vahaan gati hai jahaan jeevan nahin hai chadhata hai vahaan koee gati nahin man kee chanchalata aap ke jeevit rahane ka lakshan hai chanchalata rok lena koee koee arth kee baat nahin hotee hai chanchalata ruk ja na hee koee badee gaharee khoj nahin hai aur chanchalata ko rokane kee jitane abhyaas hain vah sab manushy kee buddhi maata ko ekadam ko usake intelijens ko usakee samaaj usakee andarastainding ko usakee chhod kar sabako send karate hain aur kaam karate hain mastishk medhaavee nahin rah jaata geeta ke chhathe adhyaay mein arjun ne bhagavaan krshn se poochha hai he bhagavaan man bada chanchal hai aur mat dene vaala hai isamen ise vash mein karana maanav vaayu ko vash mein karane jaata hai yaanee jaise hava ko vash mein nahin kiya ja sakata vaise man ko vash mein karana dushkar hai bhagavaan krshn ne kaha arjun man ko rokana kathin hai lekin abhyaas aur vairaagy ke dvaara ise vash mein kiya ja sakata hai arjun ne poochha abhyaas kaisa aathaven adhyaay mein bhagavaan ne kaha hai man jahaan jahaan jae use rokakar baar-baar bhagavaan mein daalana ise kuchh sant abhyaas yog bhee kahate hain lekin yah kaise sambhav hai yah tabhee sambhav hoga jab aap apanee painee najar par painee najar rakhen aap dhyaan kar rahe hain aur man ko bhee dekh rahe hain haan yah bhagavaan mein laga hai achaanak hee aapako chakama deta aur saansaarik prapanch mein lag jaata hai kyonki aap apane man kee prati sajag aur sachet hain isalie ise phir bhagavaan ke paas kheench laee hai isamen ugane ka kaam nahin chalega man kee chaalaakiyaan aapako pakadanee padegee aap kahenge man to mera hai yah chala ki kaise karata hai to man bahut chalaak hai aur agar aapake bas mein hota hai to phir chinta hee kya thee magar vash mein hai to aap mukt ho jaate hain lekin vah aur vash mein nahin hai to aap isake hee gulaam ho jaate ho aur yahee bandhan hai isee se mukt hone ke lie to saadhak chhath pat aata hai bhagavaan se praarthana karata hai karata hai jab aur dhyaan karata hai vah lagaataar bhagavaan se yog chaahata hai bhagavaan se hamaara jab tak vivi yog hai tab tak dukh aur peeda hai tanaav aur takaleeph hai lekin jo hee yog ho gaya

bolkar speaker
कोई मनुष्य अपने मन की चंचलता को किस प्रकार से कम कर सकता है?Koi Manushya Apne Man Ki Chanchalta Ko Kis Prakar Se Kam Kar Sakta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:33
स्वागत है आपका आपका किसने कोई मनुष्य अपने मन की चंचलता प्रकार से कम कर सकता है तो फ्रेंड से अगर आपका मन को ज्यादा ही चंचल है तो आप अपना मन अपने काम में लगाया कि हमारी बातों में मत लगाइए आप कोई अच्छी किताब पढ़ी है जिससे आपको अच्छे फ्रेंड ना मिले कोई प्रेरणादायक किताब पढ़ी मोबाइल पर कुछ अंडा देखिए प्रेरणादायक और आप थोड़ी देर भगवान की पूजा में मन लगाइए आपको चंचल मन बिल्कुल हो जाएगा और आप अच्छे लोगों के साथ बैठिए सत्संग कीजिए अच्छी बातें करिए तो आपकी मन की चंचलता ठीक हो जाएगी धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka kisane koee manushy apane man kee chanchalata prakaar se kam kar sakata hai to phrend se agar aapaka man ko jyaada hee chanchal hai to aap apana man apane kaam mein lagaaya ki hamaaree baaton mein mat lagaie aap koee achchhee kitaab padhee hai jisase aapako achchhe phrend na mile koee preranaadaayak kitaab padhee mobail par kuchh anda dekhie preranaadaayak aur aap thodee der bhagavaan kee pooja mein man lagaie aapako chanchal man bilkul ho jaega aur aap achchhe logon ke saath baithie satsang keejie achchhee baaten karie to aapakee man kee chanchalata theek ho jaegee dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कोई मनुष्य अपने मन की चंचलता को किस प्रकार से कम कर सकता है मनुष्य चंचलता को किस प्रकार से कम कर सकता है
URL copied to clipboard