#जीवन शैली

bolkar speaker

विचारों का मनुष्य के व्यक्तित्व और आदतों पर क्या प्रभाव पड़ता है?

Vicharo Ka Manushey Ke Vyectitve Or Adato Par Kya Prabhaav Padta Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:30
विचारों का मनुष्य के व्यक्तित्व और आदतों पर क्या प्रभाव पड़ता है दोस्तों बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ता है विचारों को लेकर की बात करें तो संगोली माल का ह्रदय परिवर्तन हो गया और वह अंगुलिमाल धोता एक डाकू बन गया दोस्तों यह विचारों से युक्त और उसके व्यक्तित्व की आदत छूट गई दोस्तों संत पीपाजी या कहूं दादू जी यह क्या थी यह भी एक राजा राज्य परिवार से थी परंतु इनका भी यानी कि विचारों के संपर्क में आए तो इनके विचार बदल गई राजा से यह भी ज्योति संत बन गए सम्राट अशोक का नाम ले लीजिए 22 सम्राट अशोक जो के क्रूर शासक थे और उनको भी जब ऐसे विचार मिले हैं उनको अच्छे तो वह भी जो थे वह दे बन गए दोस्तों इस समाज के अंदर इस देश के अंदर इस पूरे ब्रह्मांड विश्व के विचारों का जो मनुष्य की व्यक्ति की और आंखों पर प्रभाव पड़ा है वह बहुत ज्यादा है यह मनुष्य ही नहीं बल्कि आदतों का प्रभाव तो जो है वह जो मनुष्य मात्र पर ही नहीं बल्कि पशुओं तक कर भी आप देख सकते हैं
Vichaaron ka manushy ke vyaktitv aur aadaton par kya prabhaav padata hai doston bahut jyaada prabhaav padata hai vichaaron ko lekar kee baat karen to sangolee maal ka hraday parivartan ho gaya aur vah angulimaal dhota ek daakoo ban gaya doston yah vichaaron se yukt aur usake vyaktitv kee aadat chhoot gaee doston sant peepaajee ya kahoon daadoo jee yah kya thee yah bhee ek raaja raajy parivaar se thee parantu inaka bhee yaanee ki vichaaron ke sampark mein aae to inake vichaar badal gaee raaja se yah bhee jyoti sant ban gae samraat ashok ka naam le leejie 22 samraat ashok jo ke kroor shaasak the aur unako bhee jab aise vichaar mile hain unako achchhe to vah bhee jo the vah de ban gae doston is samaaj ke andar is desh ke andar is poore brahmaand vishv ke vichaaron ka jo manushy kee vyakti kee aur aankhon par prabhaav pada hai vah bahut jyaada hai yah manushy hee nahin balki aadaton ka prabhaav to jo hai vah jo manushy maatr par hee nahin balki pashuon tak kar bhee aap dekh sakate hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
विचारों का मनुष्य के व्यक्तित्व और आदतों पर क्या प्रभाव पड़ता है?Vicharo Ka Manushey Ke Vyectitve Or Adato Par Kya Prabhaav Padta Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:56
सवाल यह है कि विचारों का मनुष्य के व्यक्तित्व रास्तों पर क्या प्रभाव पड़ता है मनुष्य का समस्त जीवन उनके विचारों के सांचे में डलता है सारा जीवन आंतरिक विचारों के अनुसार ही प्रकट होता है कारण के अनुरूप कार्य के समान ही प्रकृति का यह निश्चित नियम है कि मनुष्य जैसा भीतर से होता है वैसे ही मैं बाहर से मनुष्य के भीतर की अथवा निम्न स्थिति का बहुत कुछ परिचय उनके बाह्य रूप को देखकर पता लगाया जा सकता है जिससे शरीर पर अस्त-व्यस्त पटेल जी थोड़े और गंदगी दिखलाई दे समझ लीजिए कि मैं मलिन विचारों वाला व्यक्ति है इसके मन में पहले से ही अस्त-व्यस्त था जड़ जमाए बैठी है विचार सूत्र से ही आंतरिक और बाह्य जीवन का संबंध जुड़ा हुआ है विचार जितने परिष्कृत उज्जवल और दिव्य होंगे अंतर भी उतना ही उज्जवल तथा दैवी संपदा ओं से आलोकित होगा इसका प्रकाश पाही द्वारा चंपा फुलकारी में प्रकट होगा जिस कलाकार अथवा साहित्यकार की भावनाएं जितनी ही प्रखर और उच्च कोटि की होंगी उनकी रचना भी उतनी ही उच्च और उत्तम कोटि की होगी भावनाओं और विचारों का प्रभाव और स्थूल शरीर पर पड़े बिना नहीं रहता बहुत समय तक प्रकृति के शब्द स्वाभाविक नियम पढ़ना विश्वास किया गया और ना उपयोग और लोगों को इस विषय में जरा भी चिंता नहीं थी कि मानसिक स्थितियों का प्रभाव वाही स्थिति पर पड़ता है और आंतरिक जीवन का कोई संबंध मनुष्य के बाल जीवन से हो सकता है दोनों को एक दूसरे से पृथक मानकर गतिविधि चलती रहती है आज जो शरीर शास्त्री अथवा चिकित्सकीय मानने लगे हैं कि विचारों का शारीरिक स्थिति से बहुत घनिष्ठ संबंध है मैं पहले बहुत समय तक औषधियों जैसी जड़ वस्तुओं का शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है इसके प्रयोग पर ही अपना ध्यान केंद्रित किए रहे हैं
Savaal yah hai ki vichaaron ka manushy ke vyaktitv raaston par kya prabhaav padata hai manushy ka samast jeevan unake vichaaron ke saanche mein dalata hai saara jeevan aantarik vichaaron ke anusaar hee prakat hota hai kaaran ke anuroop kaary ke samaan hee prakrti ka yah nishchit niyam hai ki manushy jaisa bheetar se hota hai vaise hee main baahar se manushy ke bheetar kee athava nimn sthiti ka bahut kuchh parichay unake baahy roop ko dekhakar pata lagaaya ja sakata hai jisase shareer par ast-vyast patel jee thode aur gandagee dikhalaee de samajh leejie ki main malin vichaaron vaala vyakti hai isake man mein pahale se hee ast-vyast tha jad jamae baithee hai vichaar sootr se hee aantarik aur baahy jeevan ka sambandh juda hua hai vichaar jitane parishkrt ujjaval aur divy honge antar bhee utana hee ujjaval tatha daivee sampada on se aalokit hoga isaka prakaash paahee dvaara champa phulakaaree mein prakat hoga jis kalaakaar athava saahityakaar kee bhaavanaen jitanee hee prakhar aur uchch koti kee hongee unakee rachana bhee utanee hee uchch aur uttam koti kee hogee bhaavanaon aur vichaaron ka prabhaav aur sthool shareer par pade bina nahin rahata bahut samay tak prakrti ke shabd svaabhaavik niyam padhana vishvaas kiya gaya aur na upayog aur logon ko is vishay mein jara bhee chinta nahin thee ki maanasik sthitiyon ka prabhaav vaahee sthiti par padata hai aur aantarik jeevan ka koee sambandh manushy ke baal jeevan se ho sakata hai donon ko ek doosare se prthak maanakar gatividhi chalatee rahatee hai aaj jo shareer shaastree athava chikitsakeey maanane lage hain ki vichaaron ka shaareerik sthiti se bahut ghanishth sambandh hai main pahale bahut samay tak aushadhiyon jaisee jad vastuon ka shareer par kya prabhaav padata hai isake prayog par hee apana dhyaan kendrit kie rahe hain

bolkar speaker
विचारों का मनुष्य के व्यक्तित्व और आदतों पर क्या प्रभाव पड़ता है?Vicharo Ka Manushey Ke Vyectitve Or Adato Par Kya Prabhaav Padta Hai
Satyam Srivastava Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Satyam जी का जवाब
Faculty for Civil Services Exams (UPSC PCS)
2:58
कोई भी इंसान चाहे वह आप हो या कोई और वर्तमान में प्रजेंट में वह जिस स्थिति में है जिस जगह खड़ा है यानी की लाइफ के जिस मोड़ पर खड़ा है तो वह आज क्यों है आज ऐसा क्योंकि उसके विचारों के कारण उसके कर्मों के कारण यानी कि आज आप जो भी हैं वह आपके विचारों आपके कर्मों के कारण आप हैं आपका जैसा व्यक्तित्व है आपकी जैसी आदतें हैं वह आपके विचारों के कारण हैं आपके क्या सोचते हैं आपके मस्तिष्क में आपके दिमाग में किस तरह के थॉट्स आते हैं इस तरह के विचार आते हैं किस तरह की आप सोच रखते हैं उसी आधार पर आप अपने काम करते हैं यह विचार ही हैं जो कर्म में परिवर्तित हो जाते हैं कन्वर्ट हो जाते हैं विचार ही एक बीज होता है जो रियलिटी में वास्तविकता में बदलता है कोई भी चीज रियलिटी में ग्राउंड में यानी वास्तविकता में बदलने से पहले एक विचार मात्री होती है इन्हें की विचार ही एक तरह का बीज होता है उसी पर जो हम काम करते हैं उसे एक्जिक्यूट करते हैं कार्यान्वित करते हैं तो वहीं वास्तविकता में परिवर्तित हो जाता है या नहीं वह एक कर्म बन जाता है एक्शन में चेक बन जाता है और हमें वही रियालिटी दिखाई देती है तो हमारा जिस तरह के विचार आते रहते हैं जिस तरह के कर्म हम करते रहते हैं उसी तरह का हमारा व्यवहार बिहेवियर होता जाता है उसी तरह की पर्सनालिटी हमारी व्यक्तित्व हमारा भी बनता जाता है पूरी उसी तरह के कैरेक्टर स्टिक्स हम तो करते हैं तो हमारे उत्तर के टेस्ट बनते जाते हैं हाथों में वह चीज हो जाती है तो विचार तो ऐसे बहुत सारे आते जाते रहते हैं तो बहुत सारे विचार यूं ही उड़ जाते हैं और कुछ ही विचार ऐसे होते हैं प्रभावी जिन्हें हम रियलिटी में बदल पाते हैं यानी कि हमने हम बहुत कुछ सोचते हैं कि हमें यह करना है यह करना है कि सारी चीजें तो हम नहीं कर पाते हैं लेकिन कोई भी कोई ऐसा प्रभावी इफेक्टिव विचार जिसको हम अपना कमिटमेंट बना लेते हैं संकल्प बना लेते हैं तो वह विचार रियल्टी में कन्वर्ट हो जाता है अगर हम चाहे कि हमारी पर्सनालिटी हमारी आदतें हमारी ट्रेड हमारा व्यवहार बहुत ही अच्छा हो तो हम अपने विचारों पर काम करें तो विचारों पर जितना अधिक हम काम करेंगे उतना अधिक हमारी पर्सनालिटी जो है वह बहुत अच्छी होती जाएगी और हमारा बिहेवियर बहुत ही अच्छा होता जाएगा हमारी ग्रोथ बहुत अच्छी होगी हमारा डेवलपमेंट बहुत अच्छी तरह से जाएगा अगर हमारी पकड़
Koee bhee insaan chaahe vah aap ho ya koee aur vartamaan mein prajent mein vah jis sthiti mein hai jis jagah khada hai yaanee kee laiph ke jis mod par khada hai to vah aaj kyon hai aaj aisa kyonki usake vichaaron ke kaaran usake karmon ke kaaran yaanee ki aaj aap jo bhee hain vah aapake vichaaron aapake karmon ke kaaran aap hain aapaka jaisa vyaktitv hai aapakee jaisee aadaten hain vah aapake vichaaron ke kaaran hain aapake kya sochate hain aapake mastishk mein aapake dimaag mein kis tarah ke thots aate hain is tarah ke vichaar aate hain kis tarah kee aap soch rakhate hain usee aadhaar par aap apane kaam karate hain yah vichaar hee hain jo karm mein parivartit ho jaate hain kanvart ho jaate hain vichaar hee ek beej hota hai jo riyalitee mein vaastavikata mein badalata hai koee bhee cheej riyalitee mein graund mein yaanee vaastavikata mein badalane se pahale ek vichaar maatree hotee hai inhen kee vichaar hee ek tarah ka beej hota hai usee par jo ham kaam karate hain use ekjikyoot karate hain kaaryaanvit karate hain to vaheen vaastavikata mein parivartit ho jaata hai ya nahin vah ek karm ban jaata hai ekshan mein chek ban jaata hai aur hamen vahee riyaalitee dikhaee detee hai to hamaara jis tarah ke vichaar aate rahate hain jis tarah ke karm ham karate rahate hain usee tarah ka hamaara vyavahaar biheviyar hota jaata hai usee tarah kee parsanaalitee hamaaree vyaktitv hamaara bhee banata jaata hai pooree usee tarah ke kairektar stiks ham to karate hain to hamaare uttar ke test banate jaate hain haathon mein vah cheej ho jaatee hai to vichaar to aise bahut saare aate jaate rahate hain to bahut saare vichaar yoon hee ud jaate hain aur kuchh hee vichaar aise hote hain prabhaavee jinhen ham riyalitee mein badal paate hain yaanee ki hamane ham bahut kuchh sochate hain ki hamen yah karana hai yah karana hai ki saaree cheejen to ham nahin kar paate hain lekin koee bhee koee aisa prabhaavee iphektiv vichaar jisako ham apana kamitament bana lete hain sankalp bana lete hain to vah vichaar riyaltee mein kanvart ho jaata hai agar ham chaahe ki hamaaree parsanaalitee hamaaree aadaten hamaaree tred hamaara vyavahaar bahut hee achchha ho to ham apane vichaaron par kaam karen to vichaaron par jitana adhik ham kaam karenge utana adhik hamaaree parsanaalitee jo hai vah bahut achchhee hotee jaegee aur hamaara biheviyar bahut hee achchha hota jaega hamaaree groth bahut achchhee hogee hamaara devalapament bahut achchhee tarah se jaega agar hamaaree pakad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • विचारो का आदमी के जीवन पर क्या असर पड़ता है ... विचारों का आदान प्रदान
URL copied to clipboard