#undefined

bolkar speaker

गाय हमें अपने जीभ से क्यों चाटती है क्या वह हमें अपना भोजन समझती है?

Gaay Hume Apne Jeebh Se Kyun Chaatti Hai Kya Vah Hume Apna Bhojan Samajhti
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
3:03
प्रश्न है कि गाय हमें अपनी जीभ से क्यों चाहती है क्या वह हमें अपना भोजन समझती है देखिए ऐसा नहीं है क्योंकि माना जाता है कि हिंदू धर्म में गाय की पूजा करना बहुत ही अनिवार्य है और बहुत ही कहा जाता है कि यह फलदायक होता है क्योंकि हिंदू धर्म में मान्यता है कि गाय के सभी गाय में सभी 33 करोड़ देवी देवताओं का वास है इसलिए गाय की सेवा के लिए कहा जाता है कि आप जितना गाय माता की सेवा करेंगे तो बहुत ज्यादा आपको लाभ मिलेंगे उसके साथ-साथ हमारी सरकार भी गाय माता की सेवा करने के लिए कहती है ताकि प्रोत्साहन देती है उसमें भी गौशाला खोलने के लिए भी प्रोत्साहन देती है ताकि हर तरह की परेशानी को वह हार्ले जब गाय किया पूजा करते हैं तो क्या होता है कि यह मान्यता है कि वह ताकि आपकी जो भी परेशानियों हर लेती है जैसे अब तो विज्ञान भी इस बात को स्वीकार करने लगा है कि गाय की पीठ पर हाथ फिराने से व्यक्ति के ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है विज्ञान का विज्ञान का कहना है बात करें तो यदि कोई व्यक्ति को नजर लग गई हो तो उसे गाय की पूंछ से झाड़ लेने से क्या होता है कि बुरी तरह से वह जो उसकी बुरी नजर होती है वह उतर जाती है और सही हो जाता है कुछ ऐसा है मान्यता है कुछ लोगों के लेकिन आप बात कर रहे हैं कि जीप से चाटने वाली तू ही बात मैं आपको एक को छोटी सी घटना के द्वारा बताना चाहता हूं कि जैसे आपको किए भाग्य नहीं साथ दे रहे हो तू यह हमारे शास्त्रों में मान्यता है कि आप क्या करें कि अपने हाथ पर खून रख कर गया गाय को ऑफ खिलाइए अगर गाय आपके हथेली को चाहती है तो आपके भाग्य खुल जाएंगे और जहां तक की प्रश्न सवाल है कि क्या हमें गाय माता जब चाहती है तो क्या मैं अपना भोजन समझती है ऐसा नहीं है गाय माता जो होती है अपना प्यार जताने के लिए अपने मालिक को या अपने जो भी उन्हें खिलाते हैं उन्हें सोचती है कि मैं भी उसे प्यार करूं जिसे हम लोग के हाथ रहते हैं तो हम अपने हाथों से इशारा करके अपने प्यार को बताते हैं या आपको छैला के छोटे बच्चे को खिलाते तो साला के उसे हाथों के द्वारा यूज करते हैं प्यार करते हैं उसी तरह गाय माता दी है अपने जीत के द्वारा ही आपको अपने अपने प्यार प्यार को जगाती है और एहसास दिलाती है कि मैं भी आप ही की तरह प्यार करता हूं या करती हूं जैसे आप मुझे मानते हो मैं भी आपको बहुत मानती हूं और यही विश्वास रखती हूं कि हम दोनों का जो रिलेशन है मतलब एक दूसरे के प्रति जो रिलेशन है बना रहेगा तो बस यही मतलब होता है कि गाय माता अपनी जीत पर चढ़ती है मैं तो वह भी अपना एक प्यार दिखाती है कि हां जैसे आप मुझे खाना खिलाते हो हर तरीके से आप मुझे एहसास कराते हो मैं भी आपको भी एहसास कराती हूं भोजन नहीं समझती है
Prashn hai ki gaay hamen apanee jeebh se kyon chaahatee hai kya vah hamen apana bhojan samajhatee hai dekhie aisa nahin hai kyonki maana jaata hai ki hindoo dharm mein gaay kee pooja karana bahut hee anivaary hai aur bahut hee kaha jaata hai ki yah phaladaayak hota hai kyonki hindoo dharm mein maanyata hai ki gaay ke sabhee gaay mein sabhee 33 karod devee devataon ka vaas hai isalie gaay kee seva ke lie kaha jaata hai ki aap jitana gaay maata kee seva karenge to bahut jyaada aapako laabh milenge usake saath-saath hamaaree sarakaar bhee gaay maata kee seva karane ke lie kahatee hai taaki protsaahan detee hai usamen bhee gaushaala kholane ke lie bhee protsaahan detee hai taaki har tarah kee pareshaanee ko vah haarle jab gaay kiya pooja karate hain to kya hota hai ki yah maanyata hai ki vah taaki aapakee jo bhee pareshaaniyon har letee hai jaise ab to vigyaan bhee is baat ko sveekaar karane laga hai ki gaay kee peeth par haath phiraane se vyakti ke blad preshar niyantrit rahata hai vigyaan ka vigyaan ka kahana hai baat karen to yadi koee vyakti ko najar lag gaee ho to use gaay kee poonchh se jhaad lene se kya hota hai ki buree tarah se vah jo usakee buree najar hotee hai vah utar jaatee hai aur sahee ho jaata hai kuchh aisa hai maanyata hai kuchh logon ke lekin aap baat kar rahe hain ki jeep se chaatane vaalee too hee baat main aapako ek ko chhotee see ghatana ke dvaara bataana chaahata hoon ki jaise aapako kie bhaagy nahin saath de rahe ho too yah hamaare shaastron mein maanyata hai ki aap kya karen ki apane haath par khoon rakh kar gaya gaay ko oph khilaie agar gaay aapake hathelee ko chaahatee hai to aapake bhaagy khul jaenge aur jahaan tak kee prashn savaal hai ki kya hamen gaay maata jab chaahatee hai to kya main apana bhojan samajhatee hai aisa nahin hai gaay maata jo hotee hai apana pyaar jataane ke lie apane maalik ko ya apane jo bhee unhen khilaate hain unhen sochatee hai ki main bhee use pyaar karoon jise ham log ke haath rahate hain to ham apane haathon se ishaara karake apane pyaar ko bataate hain ya aapako chhaila ke chhote bachche ko khilaate to saala ke use haathon ke dvaara yooj karate hain pyaar karate hain usee tarah gaay maata dee hai apane jeet ke dvaara hee aapako apane apane pyaar pyaar ko jagaatee hai aur ehasaas dilaatee hai ki main bhee aap hee kee tarah pyaar karata hoon ya karatee hoon jaise aap mujhe maanate ho main bhee aapako bahut maanatee hoon aur yahee vishvaas rakhatee hoon ki ham donon ka jo rileshan hai matalab ek doosare ke prati jo rileshan hai bana rahega to bas yahee matalab hota hai ki gaay maata apanee jeet par chadhatee hai main to vah bhee apana ek pyaar dikhaatee hai ki haan jaise aap mujhe khaana khilaate ho har tareeke se aap mujhe ehasaas karaate ho main bhee aapako bhee ehasaas karaatee hoon bhojan nahin samajhatee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
गाय हमें अपने जीभ से क्यों चाटती है क्या वह हमें अपना भोजन समझती है?Gaay Hume Apne Jeebh Se Kyun Chaatti Hai Kya Vah Hume Apna Bhojan Samajhti
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:24
मैं तो संभालेगा ए हमें अपनी जेब से क्यों झड़ते क्या वह हमें अपना भोजन समझती है दोस्तों बहुत जन नहीं समझती है दरअसल का कोई भी पशु जो होता है जब आपको चाहता है तो वह आपके प्रति प्यार जताना जाने की प्रेम भाव से बाप को 4:00 तक इस तरीके से हम अपने बच्चे को चुंबन करते हैं यानी कि किस करते हैं ठीक उसी तरीके से गाय भी जो हमको चाहिए
Main to sambhaalega e hamen apanee jeb se kyon jhadate kya vah hamen apana bhojan samajhatee hai doston bahut jan nahin samajhatee hai darasal ka koee bhee pashu jo hota hai jab aapako chaahata hai to vah aapake prati pyaar jataana jaane kee prem bhaav se baap ko 4:00 tak is tareeke se ham apane bachche ko chumban karate hain yaanee ki kis karate hain theek usee tareeke se gaay bhee jo hamako chaahie

bolkar speaker
गाय हमें अपने जीभ से क्यों चाटती है क्या वह हमें अपना भोजन समझती है?Gaay Hume Apne Jeebh Se Kyun Chaatti Hai Kya Vah Hume Apna Bhojan Samajhti
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:40

bolkar speaker
गाय हमें अपने जीभ से क्यों चाटती है क्या वह हमें अपना भोजन समझती है?Gaay Hume Apne Jeebh Se Kyun Chaatti Hai Kya Vah Hume Apna Bhojan Samajhti
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:37
सवाल ये है कि गाय हमें अपनी जीभ से क्यों चाहती है क्या वह हमें अपना भोजन समझती है तो जी ऐसा बिल्कुल नहीं है जिस तरह हमारी मां हमारे गालों पर हमारे सिर पर हाथ रखकर हमें लाड़ करती हैं ठीक उसी तरह गाय भी हमें चाट कर हमें प्यार करती है गाय अपने बच्चों को भी चैट कर लाड़ करती है अब उनके हाथ पैर तो है नहीं तो वह चाट कर ही अपनी खुशी जाहिर करती हैं जो पालतू जानवर होते हैं उसमें हम उन्हें अपने मालिक के लिए बहुत सारी संवेदन संवेदना जुड़ी होती हैं
Savaal ye hai ki gaay hamen apanee jeebh se kyon chaahatee hai kya vah hamen apana bhojan samajhatee hai to jee aisa bilkul nahin hai jis tarah hamaaree maan hamaare gaalon par hamaare sir par haath rakhakar hamen laad karatee hain theek usee tarah gaay bhee hamen chaat kar hamen pyaar karatee hai gaay apane bachchon ko bhee chait kar laad karatee hai ab unake haath pair to hai nahin to vah chaat kar hee apanee khushee jaahir karatee hain jo paalatoo jaanavar hote hain usamen ham unhen apane maalik ke lie bahut saaree sanvedan sanvedana judee hotee hain

bolkar speaker
गाय हमें अपने जीभ से क्यों चाटती है क्या वह हमें अपना भोजन समझती है?Gaay Hume Apne Jeebh Se Kyun Chaatti Hai Kya Vah Hume Apna Bhojan Samajhti
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:31
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका आपका प्रश्न है गाय हमें अपने जीभ से क्यों चढ़ती है क्या वह हमें अपना भोजन समझती है तो फ्रेंड बाय अपना प्यार दिखाने के लिए हमें अपनी जीभ से चाहती है इस तरह कुत्ता भी अपना प्यार दिखाने के लिए जीप से चढ़ता है उसी तरह गाय भी अपने प्यार निभाने के लिए जीत सकती है मैं अपना भोजन नहीं समझती है क्योंकि गाय मांसाहारी नहीं होती है जो अपना भोजन समझकर चाटे कि मैं अपना प्यार दिखाने के लिए ही हमें चाहती है
Helo doston svaagat hai aapaka aapaka prashn hai gaay hamen apane jeebh se kyon chadhatee hai kya vah hamen apana bhojan samajhatee hai to phrend baay apana pyaar dikhaane ke lie hamen apanee jeebh se chaahatee hai is tarah kutta bhee apana pyaar dikhaane ke lie jeep se chadhata hai usee tarah gaay bhee apane pyaar nibhaane ke lie jeet sakatee hai main apana bhojan nahin samajhatee hai kyonki gaay maansaahaaree nahin hotee hai jo apana bhojan samajhakar chaate ki main apana pyaar dikhaane ke lie hee hamen chaahatee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • गाय हमें अपने जीभ से क्यों चाटती है क्या वह हमें अपना भोजन समझती है गाय हमें अपने जीभ से क्यों चाटती है
URL copied to clipboard