#भारत की राजनीति

bolkar speaker

क्या मुकेश अंबानी सरकार गिरा सकते हैं, अगर हां तो कैसे?

Kya Mukesh Ambani Sarkar Gira Sakte Hai Agar Ha To Kese
Saurabh Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए Saurabh जी का जवाब
Software Engineer
2:12
कमलेश ने की क्या मुकेश अंबानी सरकार गिरा सकते हैं अगर हां तो कैसे तो देखे मुकेश अंबानी ने शिव सरकार गिरा सकते हैं बल्कि अगर वे चाहें तो भाजपा को अपने घुटनों पर बुला सकते हैं और कांग्रेस की तो कहीं ज्यादा बुरी हालत कर सकते हैं आप ध्यान दें तो बाकी जितने भी कारोबारी हैं वह सरकारों से सिर्फ अपनी सुविधानुसार बातचीत करते रहते हैं और लाभ के लिए सरकार से संबंध रखते हैं पर मुकेश अंबानी का सत्ता से संबंधित अगर शक्ति की बात करें तो वह शक्ति जो है अपने हाथ में रखने के लिए शक्ति जो है केंद्र पर नियंत्रण जो है वह करते हैं भाजपा सरकार की असफलताएं देखिए चौमुखी हैं चाहे वह बात करें आप शिक्षा की क्या बात करें स्वास्थ्य की चाय बात करी रोजगार की जय बात करें अब गरीबी की महंगाई की तो कहीं ना कहीं ऐसा तो है नहीं कि हर जगह हर मुद्दे पर सरकार जो है वह सफल ही हुई है सरकार की बहुत सारी नाकामी है लेकिन कहीं ना कहीं मीडिया का एहसास समर्थन रहा है और चीजें ऐसी रही है कि ज्यादातर चीज है जो है उनके बारे में पॉजिटिव से निकल कर आती हैं अगर आप भाजपा सरकार की बुराइयों की अगर बात करेंगे तो वह भी निकल कर आएंगे कोई इसमें कोई बड़ी बात नहीं है सरकार के पास कुछ पॉजिटिव होता है कुछ निगेटिव होता है लेकिन सरकार सरकार कैसे बनती हैं वह सरकार बनती हैं उद्योगपतियों के माध्यम से उद्योगपति जो है कहीं न कहीं सरकार को सुनैन चली जाए बहुत भयंकर तरीके से सपोर्ट करते हैं तभी आप देखते हैं चुनाव में करोड़ों करोड़ों रुपए जो है ऐसे ही भाग जाते हैं आखिर वह पैसा आ कहां से रहा है वह पैसा ही नहीं उद्योगपतियों से आ रहा है अभी रिसेंटली मैंने एक बड़ी अच्छी टीवी सीरीज देखी थी तांडव और उसे देख कर मुझे यह समझ में आया सबसे ज्यादा मजा जो है वह गद्दी पर बैठने में नहीं है क्यों मैं कर बनने में किंग मेकर मतलब गद्दी पर किसी और को बिठाने में है अगर आपके पास वह ताकत है तो आपके पास समझिए पूरी ताकत है तो यह जो जितने भी उद्योगपति जो होते हैं नहीं कहीं ना कहीं एक प्रकार की किंग मेकर ही होते हैं और ऐसा सिर्फ भारत में ही नहीं है जितनी भी डेमोक्रेसी है क्या कहीं की व्याप उठा ले ले हर जगह आपको यह चीज है जो है देखने को मिलेंगे मिलेंगे धन्यवाद
Kamalesh ne kee kya mukesh ambaanee sarakaar gira sakate hain agar haan to kaise to dekhe mukesh ambaanee ne shiv sarakaar gira sakate hain balki agar ve chaahen to bhaajapa ko apane ghutanon par bula sakate hain aur kaangres kee to kaheen jyaada buree haalat kar sakate hain aap dhyaan den to baakee jitane bhee kaarobaaree hain vah sarakaaron se sirph apanee suvidhaanusaar baatacheet karate rahate hain aur laabh ke lie sarakaar se sambandh rakhate hain par mukesh ambaanee ka satta se sambandhit agar shakti kee baat karen to vah shakti jo hai apane haath mein rakhane ke lie shakti jo hai kendr par niyantran jo hai vah karate hain bhaajapa sarakaar kee asaphalataen dekhie chaumukhee hain chaahe vah baat karen aap shiksha kee kya baat karen svaasthy kee chaay baat karee rojagaar kee jay baat karen ab gareebee kee mahangaee kee to kaheen na kaheen aisa to hai nahin ki har jagah har mudde par sarakaar jo hai vah saphal hee huee hai sarakaar kee bahut saaree naakaamee hai lekin kaheen na kaheen meediya ka ehasaas samarthan raha hai aur cheejen aisee rahee hai ki jyaadaatar cheej hai jo hai unake baare mein pojitiv se nikal kar aatee hain agar aap bhaajapa sarakaar kee buraiyon kee agar baat karenge to vah bhee nikal kar aaenge koee isamen koee badee baat nahin hai sarakaar ke paas kuchh pojitiv hota hai kuchh nigetiv hota hai lekin sarakaar sarakaar kaise banatee hain vah sarakaar banatee hain udyogapatiyon ke maadhyam se udyogapati jo hai kaheen na kaheen sarakaar ko sunain chalee jae bahut bhayankar tareeke se saport karate hain tabhee aap dekhate hain chunaav mein karodon karodon rupe jo hai aise hee bhaag jaate hain aakhir vah paisa aa kahaan se raha hai vah paisa hee nahin udyogapatiyon se aa raha hai abhee risentalee mainne ek badee achchhee teevee seereej dekhee thee taandav aur use dekh kar mujhe yah samajh mein aaya sabase jyaada maja jo hai vah gaddee par baithane mein nahin hai kyon main kar banane mein king mekar matalab gaddee par kisee aur ko bithaane mein hai agar aapake paas vah taakat hai to aapake paas samajhie pooree taakat hai to yah jo jitane bhee udyogapati jo hote hain nahin kaheen na kaheen ek prakaar kee king mekar hee hote hain aur aisa sirph bhaarat mein hee nahin hai jitanee bhee demokresee hai kya kaheen kee vyaap utha le le har jagah aapako yah cheej hai jo hai dekhane ko milenge milenge dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या मुकेश अंबानी सरकार गिरा सकते हैं, अगर हां तो कैसे?Kya Mukesh Ambani Sarkar Gira Sakte Hai Agar Ha To Kese
harikeshharikesh85n@gmail.com  Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए harikeshharikesh85n@gmail.com जी का जवाब
कृषि
6:44
पटना अनुसार मुकेश अंबानी सरकार गिरा सकते हैं देखिए मैं इस बारे में केवल एक ही जवाब देना चाहूंगा कि मुकेश अंबानी टाटा बिरला जो भी जितने ग्रुप जो पैसे वाले हैं वह अपने हिसाब से सारी चीजों का नाम से अपने बिजनेस के अनुरूप काटते हैं और बिजनेस के अनुरूप पर आने के बाद हर वो चीज का नाम से सुन लोग करते हैं कि कैसे क्या हमारे विदेश में घाटा हो सकता है रही बात सरकार की तो एक बात मैं बताना चाहूंगा जिसको न कोई बता सकता है ना कोई कह भी सकता है जाहिर सी बात है कि हमारे जैसे बहुत से व्यक्ति होंगे जो इस बात को कह भी देंगे जैसे किस भारत में सरकार बनाना और गिराना केवल पैसों पर आधारित है इसलिए यह देश आज तक विकासशील है अगर यह विकसित हुआ होता तो भारत का इतिहास दूसरा होता उधार था कि जिस समय रावण कलाई एक अंग्रेज था जिस समय रॉबर्ट क्लाइव सिराजुद्दौला के 18000 सैनिकों को बंदी बनाकर लेकर जा रहा था उसमें वह अपनी किताब में लिखता है कि जिस समय वह बंदी ग्रह से बंदी गृह में डालने के लिए उस 18000 सैनिकों को लेकर जा रहा था जबकि उसके पास केवल सैनिक 3:30 हजार थे अगर उस समय एक एक सैनिक एक पत्थर मारे होते तो आज भारत का इतिहास कोई दूसरा होता है और वह ना मारे क्योंकि वह हमारे गुलाम थे उस समय क्योंकि वह अपनी किताब में लिख रहा है मैं थोड़ी कह रहा हूं तो उसने अभी लिखा कि जो हथौड़ी पीट रहे थे जो यहां की जनता थी उस जनता ने अगर एक एक पत्थर मारे होते तुम्हारी भारत का इतिहास कुछ दूसरा होता है लेकिन यहां की जनता केवल भावार्थ देखती है इतिहास नहीं इतिहास देखने वाले कभी भी ऐसी बातें नहीं करते तो रही बात मुकेश अंबानी का सरकार गिराना या गिराना बनाना काली युग में काल माने होता है समयोग माने होता है संसार मतलब हो गया कि वह समय जीने के लिए उपयुक्त हो इसी को कहते हैं तो काल माने समय हमारे संसार इस समय के संसार में जिसके पास पैसा है उसके पास सब कुछ है और जिसके पास पैसा नहीं है उसके पास कुछ भी नहीं है तीन चीज लेकर चलो इस संसार में तो आप अंबानी हो आप अडानी हो आप प्रधानमंत्री हो आप मुख्यमंत्री पहला पैसा दूसरा व्यवहार तीसरा आत्मशक्ति जो देश संकल्प होता है तू अगर ऐसी बातों को अंबानी और अडानी लेकर चले सरकार गिराना बनाना कौन कौन सी बड़ी बात है इस भारतवर्ष में केवल भारतवर्ष में क्योंकि अगर ऐसा नहीं होता यह चीज आसान नहीं होता तो 200 साल तक अंग्रेज और 800 साल तक मुगल इस देश में शासन नहीं करते शासन इसलिए के के दो व्यक्ति इस संसार में होते हैं वही राज करते एक विजडम और अकेली लीजेंट जो बुद्धिमान होता है वह अपनी बातों को रख कर गुलाम बनाता है जो भी नाम होता है बुद्धिमता के हिसाब से कार्य करता है उसी को मुगल कहते हैं तो कुल मिलाकर बात यही है कि मुकेश अंबानी या फिर अडानी पूंजीपति कोई हो वह अपने हिसाब से इस भारत को नचाने की क्षमता इसलिए रखता है क्योंकि वह सिर्फ पर बैठा है किसके पैसे के पैसे के बल पर आप भी नाचोगे यह जिसने भी बनाया वह पैसे की लालच में बनाया यह ऐप में जिस आदमी को जोड़ा यह जिस हिसाब से अपनी बुद्धिमता का इस्तेमाल किया वहीं जानकर किया कि मैं पैसे कमा लूंगा अगर वह इंटेलिजेंट है तो भी इसी बात को यह ले लो कि केवल पैसे कमाने का एक जरिया चाहे व्हाट्सएप हो बोलकर हो ना इस ऐप को बनाने वाला मुझसे बात करें और मैं यह कहता हूं कि वह अगर पैसा नहीं कमाना चाहता तो फ्री इंटरनेट दे दे मैं मान जाऊंगा की वास्तविकता यह है क्या ऐसा नहीं है लेकिन इस समय के संसार में पैसा सब कुछ नहीं है लेकिन पैसा ही सबसे प्रथम व्यक्ति है जो आपको परिचय करा सकता है इस संसार से चाहे वह किसी भी माध्यम से क्यों न हो तो व्यक्ति या प्रश्न अनुसार प्रश्न करने वाले व्यक्ति से मैं यही दुआ करना चाहता हूं कि आप केवल अपने पास तीन चीजें रखो अब आनंदानी नहीं जिसको चाहा वही आ जाएगा चाहे वो ब्रिटेन का प्रधानमंत्री ही क्यों न हो पर आपके पास तीन चीजें रहना चाहिए पैसा व्यवहार और आत्मविश्वास धन्यवाद सरकार गिरा नहीं सरकार को कई बार गिरा के बना भी सकते हैं जिनके पास तीन चीज हो धन्यवाद
Patana anusaar mukesh ambaanee sarakaar gira sakate hain dekhie main is baare mein keval ek hee javaab dena chaahoonga ki mukesh ambaanee taata birala jo bhee jitane grup jo paise vaale hain vah apane hisaab se saaree cheejon ka naam se apane bijanes ke anuroop kaatate hain aur bijanes ke anuroop par aane ke baad har vo cheej ka naam se sun log karate hain ki kaise kya hamaare videsh mein ghaata ho sakata hai rahee baat sarakaar kee to ek baat main bataana chaahoonga jisako na koee bata sakata hai na koee kah bhee sakata hai jaahir see baat hai ki hamaare jaise bahut se vyakti honge jo is baat ko kah bhee denge jaise kis bhaarat mein sarakaar banaana aur giraana keval paison par aadhaarit hai isalie yah desh aaj tak vikaasasheel hai agar yah vikasit hua hota to bhaarat ka itihaas doosara hota udhaar tha ki jis samay raavan kalaee ek angrej tha jis samay robart klaiv siraajuddaula ke 18000 sainikon ko bandee banaakar lekar ja raha tha usamen vah apanee kitaab mein likhata hai ki jis samay vah bandee grah se bandee grh mein daalane ke lie us 18000 sainikon ko lekar ja raha tha jabaki usake paas keval sainik 3:30 hajaar the agar us samay ek ek sainik ek patthar maare hote to aaj bhaarat ka itihaas koee doosara hota hai aur vah na maare kyonki vah hamaare gulaam the us samay kyonki vah apanee kitaab mein likh raha hai main thodee kah raha hoon to usane abhee likha ki jo hathaudee peet rahe the jo yahaan kee janata thee us janata ne agar ek ek patthar maare hote tumhaaree bhaarat ka itihaas kuchh doosara hota hai lekin yahaan kee janata keval bhaavaarth dekhatee hai itihaas nahin itihaas dekhane vaale kabhee bhee aisee baaten nahin karate to rahee baat mukesh ambaanee ka sarakaar giraana ya giraana banaana kaalee yug mein kaal maane hota hai samayog maane hota hai sansaar matalab ho gaya ki vah samay jeene ke lie upayukt ho isee ko kahate hain to kaal maane samay hamaare sansaar is samay ke sansaar mein jisake paas paisa hai usake paas sab kuchh hai aur jisake paas paisa nahin hai usake paas kuchh bhee nahin hai teen cheej lekar chalo is sansaar mein to aap ambaanee ho aap adaanee ho aap pradhaanamantree ho aap mukhyamantree pahala paisa doosara vyavahaar teesara aatmashakti jo desh sankalp hota hai too agar aisee baaton ko ambaanee aur adaanee lekar chale sarakaar giraana banaana kaun kaun see badee baat hai is bhaaratavarsh mein keval bhaaratavarsh mein kyonki agar aisa nahin hota yah cheej aasaan nahin hota to 200 saal tak angrej aur 800 saal tak mugal is desh mein shaasan nahin karate shaasan isalie ke ke do vyakti is sansaar mein hote hain vahee raaj karate ek vijadam aur akelee leejent jo buddhimaan hota hai vah apanee baaton ko rakh kar gulaam banaata hai jo bhee naam hota hai buddhimata ke hisaab se kaary karata hai usee ko mugal kahate hain to kul milaakar baat yahee hai ki mukesh ambaanee ya phir adaanee poonjeepati koee ho vah apane hisaab se is bhaarat ko nachaane kee kshamata isalie rakhata hai kyonki vah sirph par baitha hai kisake paise ke paise ke bal par aap bhee naachoge yah jisane bhee banaaya vah paise kee laalach mein banaaya yah aip mein jis aadamee ko joda yah jis hisaab se apanee buddhimata ka istemaal kiya vaheen jaanakar kiya ki main paise kama loonga agar vah intelijent hai to bhee isee baat ko yah le lo ki keval paise kamaane ka ek jariya chaahe vhaatsep ho bolakar ho na is aip ko banaane vaala mujhase baat karen aur main yah kahata hoon ki vah agar paisa nahin kamaana chaahata to phree intaranet de de main maan jaoonga kee vaastavikata yah hai kya aisa nahin hai lekin is samay ke sansaar mein paisa sab kuchh nahin hai lekin paisa hee sabase pratham vyakti hai jo aapako parichay kara sakata hai is sansaar se chaahe vah kisee bhee maadhyam se kyon na ho to vyakti ya prashn anusaar prashn karane vaale vyakti se main yahee dua karana chaahata hoon ki aap keval apane paas teen cheejen rakho ab aanandaanee nahin jisako chaaha vahee aa jaega chaahe vo briten ka pradhaanamantree hee kyon na ho par aapake paas teen cheejen rahana chaahie paisa vyavahaar aur aatmavishvaas dhanyavaad sarakaar gira nahin sarakaar ko kaee baar gira ke bana bhee sakate hain jinake paas teen cheej ho dhanyavaad

bolkar speaker
क्या मुकेश अंबानी सरकार गिरा सकते हैं, अगर हां तो कैसे?Kya Mukesh Ambani Sarkar Gira Sakte Hai Agar Ha To Kese
nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
0:55
नमस्कार आपका प्रश्न है कि क्या मुकेश अंबानी सरकार गिरा सकते हैं अगर हां तो कैसे जी नहीं आप क्यों जो यह सवाल है वह बहुत गलत है मुकेश अंबानी जी ठीक है इस देश के एक सम्मानीय बिजनेसमैन है एक को व्हाइट कॉलर व्यवसाई हैं बहुत अच्छे हैं बहुत देश में और विदेश में उनके नाम की गिनती होती है और लेकिन इतनी पावर उनके पास अभी नहीं है या उन्होंने इस देश के लोकतंत्र की जिम्मेदारी नहीं ली हुई उनका काम है खाली व्यवसाय करना और अपना तथा अपने कर्मचारियों का पालन पोषण करना इस देश की आर्थिक समृद्धि में योगदान देता लेकिन वह सरकार नहीं गिरा सकते अभी ऐसा कोई कानून नहीं बना कि कोई भी बिजनेसमैन सरकार को गिरा सकता हूं या सरकार के खिलाफ वोट दे सकता हूं ऐसा कोई अभी कानून नहीं बना आपका विचार गलत है धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki kya mukesh ambaanee sarakaar gira sakate hain agar haan to kaise jee nahin aap kyon jo yah savaal hai vah bahut galat hai mukesh ambaanee jee theek hai is desh ke ek sammaaneey bijanesamain hai ek ko vhait kolar vyavasaee hain bahut achchhe hain bahut desh mein aur videsh mein unake naam kee ginatee hotee hai aur lekin itanee paavar unake paas abhee nahin hai ya unhonne is desh ke lokatantr kee jimmedaaree nahin lee huee unaka kaam hai khaalee vyavasaay karana aur apana tatha apane karmachaariyon ka paalan poshan karana is desh kee aarthik samrddhi mein yogadaan deta lekin vah sarakaar nahin gira sakate abhee aisa koee kaanoon nahin bana ki koee bhee bijanesamain sarakaar ko gira sakata hoon ya sarakaar ke khilaaph vot de sakata hoon aisa koee abhee kaanoon nahin bana aapaka vichaar galat hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मुकेश अंबानी कौन है ? मुकेश अंबानी किस कंपनी के मालिक है ?
URL copied to clipboard