#भारत की राजनीति

bolkar speaker

किसान आंदोलन का कड़वा सच क्या है?

Kisaan Aandolan Ka Kadva Sach Kya Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:19
दुल्हन का कड़वा सच क्या है दी किसान आंदोलन का कोई कड़वा सच नहीं है बस इतना है कि किसान आंदोलन जो हो रहा है उस को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है कुछ लोग उनको किराए पर बैठे हुए गुंडे और कुछ व्यक्ति कोई और किसान आंदोलन जो किसानों के लिए और उनके लिए धन्यवाद
Dulhan ka kadava sach kya hai dee kisaan aandolan ka koee kadava sach nahin hai bas itana hai ki kisaan aandolan jo ho raha hai us ko badanaam karane kee koshish kee ja rahee hai kuchh log unako kirae par baithe hue gunde aur kuchh vyakti koee aur kisaan aandolan jo kisaanon ke lie aur unake lie dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसान आंदोलन का कड़वा सच क्या है?Kisaan Aandolan Ka Kadva Sach Kya Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:23
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका इस में किसान आंदोलन का कड़वा सच क्या है फ्रेंड्स किसान आंदोलन का कड़वा सच यही है कि किसान आंदोलन रुक नहीं रहा है और किसान आंदोलन तेजी के साथ हो रहा है और सब जगह सुनाएं हो रही हैं सहेलियां निकल रही हैं और यह बंद होने का नाम नहीं ले रहा है धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka is mein kisaan aandolan ka kadava sach kya hai phrends kisaan aandolan ka kadava sach yahee hai ki kisaan aandolan ruk nahin raha hai aur kisaan aandolan tejee ke saath ho raha hai aur sab jagah sunaen ho rahee hain saheliyaan nikal rahee hain aur yah band hone ka naam nahin le raha hai dhanyavaad

bolkar speaker
किसान आंदोलन का कड़वा सच क्या है?Kisaan Aandolan Ka Kadva Sach Kya Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:39
प्रणाम साथियों आपका सवाल है किसान आंदोलन का कड़वा सच क्या है तो साथियों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है किसान आंदोलन का जन्म इसलिए होता है क्योंकि किसान अपने हक का पूरा जो बेनिफिट नहीं मिल पाता है और किसान को अपनी समस्या ज्यादा होने पर ही दर्द महसूस होता है जिसकी वजह से किसान आंदोलन का जन्म होता है धन्यवाद साथियों खुश रहो
Pranaam saathiyon aapaka savaal hai kisaan aandolan ka kadava sach kya hai to saathiyon aapake savaal ka uttar is prakaar hai kisaan aandolan ka janm isalie hota hai kyonki kisaan apane hak ka poora jo beniphit nahin mil paata hai aur kisaan ko apanee samasya jyaada hone par hee dard mahasoos hota hai jisakee vajah se kisaan aandolan ka janm hota hai dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
किसान आंदोलन का कड़वा सच क्या है?Kisaan Aandolan Ka Kadva Sach Kya Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:29
किसान आंदोलन का कड़वा सच क्या है कि किसान आंदोलन को कुछ लोग जायज बता रहे हैं कुछ लोग बता रहे हैं कि यह पूरी तरह से गलत है और एक कहीं ना कहीं लोगों की चाल है तो हमें कहते हैं कि देखे किसान आंदोलन वही है जो अपने हक की लड़ाई आज भी लड़ रहा है और करीब लगभग 80 दिन हो गए और इस पर पड़ा हुआ है लेकिन उसकी बातों को सुनने का कोई मतलब कोई सुनने को राजी ही नहीं है जहां तक कड़वा सच की बात करें किसानों के प्रति किसानों की तो बात सभी करते हैं चाहे जो भी सरकार किसानों की बात तो सभी करते हैं लेकिन किसान की समस्या की बात कोई नहीं करता किसान कानून पर तो किसान कानून पर तो सभी बात करते हैं लेकिन किसान से किसान को कितनी कानून से परेशानियां होगी उसकी कोई बात नहीं करता हम स्वदेश की बात करते हैं हम सुधीर की बात करते हैं लेकिन किसानों की भविष्य की कुछ भी बात नहीं करते हम तो बात करते हैं बस जो चंद लोगों हैं चंद लोग हैं उनकी बात करते हैं वही देखा जाए तो किसान बजट की जो आज आंदोलन हो रहा है किसान बजट किसान कानून की वजह से हो रहा है लेकिन किसान बजट अभी पेश हुआ है हम किसान बजट की तो बात करते हैं लेकिन किसान बजट से किसान के लिए जो बजट पेश किया गया है इस बजट से क्या कृषि व्यवस्था की सुधार हो पाएगी कि ऋषि की कमियां जो है वह क्या सुधार हो पाएगी हम उसकी बात नहीं करते हैं हम तो बस ढोल पीटते हैं कि हमने इतना पैसा दे दिया हमने इतना कर दिया हमने बहुत बड़ी पहले की अपेक्षा उसमें बहुत ज्यादा सुधार लाने के लिए लेकिन उसकी व्यवस्था क्या उससे कमी दूर हो पाएगी इसकी कोई बात नहीं करता यह भी एक कड़वा सच है उसके अलावा सभी लोग कहते हैं कि हम आत्मनिर्भर हैं हम आत्मनिर्भर की बात करते हैं लेकिन किसान आंदोलन की तो कोई बात ही नहीं करता किसान आंदोलन या आत्मनिर्भर नहीं बनाता है हमारी कृषि व्यवस्था है क्या हमें आत्मनिर्भर नहीं बनाती उसकी तो कोई बात नहीं करती नहीं करता यह भी कड़वा सच है तू हकीकत बात तो यही है कि कड़वा सच यही है कि लोग किसानों की तो बात करते हैं लेकिन किसानों की परेशानियों की कोई बात नहीं करता
Kisaan aandolan ka kadava sach kya hai ki kisaan aandolan ko kuchh log jaayaj bata rahe hain kuchh log bata rahe hain ki yah pooree tarah se galat hai aur ek kaheen na kaheen logon kee chaal hai to hamen kahate hain ki dekhe kisaan aandolan vahee hai jo apane hak kee ladaee aaj bhee lad raha hai aur kareeb lagabhag 80 din ho gae aur is par pada hua hai lekin usakee baaton ko sunane ka koee matalab koee sunane ko raajee hee nahin hai jahaan tak kadava sach kee baat karen kisaanon ke prati kisaanon kee to baat sabhee karate hain chaahe jo bhee sarakaar kisaanon kee baat to sabhee karate hain lekin kisaan kee samasya kee baat koee nahin karata kisaan kaanoon par to kisaan kaanoon par to sabhee baat karate hain lekin kisaan se kisaan ko kitanee kaanoon se pareshaaniyaan hogee usakee koee baat nahin karata ham svadesh kee baat karate hain ham sudheer kee baat karate hain lekin kisaanon kee bhavishy kee kuchh bhee baat nahin karate ham to baat karate hain bas jo chand logon hain chand log hain unakee baat karate hain vahee dekha jae to kisaan bajat kee jo aaj aandolan ho raha hai kisaan bajat kisaan kaanoon kee vajah se ho raha hai lekin kisaan bajat abhee pesh hua hai ham kisaan bajat kee to baat karate hain lekin kisaan bajat se kisaan ke lie jo bajat pesh kiya gaya hai is bajat se kya krshi vyavastha kee sudhaar ho paegee ki rshi kee kamiyaan jo hai vah kya sudhaar ho paegee ham usakee baat nahin karate hain ham to bas dhol peetate hain ki hamane itana paisa de diya hamane itana kar diya hamane bahut badee pahale kee apeksha usamen bahut jyaada sudhaar laane ke lie lekin usakee vyavastha kya usase kamee door ho paegee isakee koee baat nahin karata yah bhee ek kadava sach hai usake alaava sabhee log kahate hain ki ham aatmanirbhar hain ham aatmanirbhar kee baat karate hain lekin kisaan aandolan kee to koee baat hee nahin karata kisaan aandolan ya aatmanirbhar nahin banaata hai hamaaree krshi vyavastha hai kya hamen aatmanirbhar nahin banaatee usakee to koee baat nahin karatee nahin karata yah bhee kadava sach hai too hakeekat baat to yahee hai ki kadava sach yahee hai ki log kisaanon kee to baat karate hain lekin kisaanon kee pareshaaniyon kee koee baat nahin karata

bolkar speaker
किसान आंदोलन का कड़वा सच क्या है?Kisaan Aandolan Ka Kadva Sach Kya Hai
Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
1:16
किसान आंदोलन के बाद देश में ना जाने कैसी कशिश तक हो जाएगी यह बहुत से लोग सोचने लगी है और आंखों का साफ-साफ बताओ किसान अपनी बताओ सच मेरे साथ से तुम्हें सोचता है कि हम आशा करते थे जय जवान जय किसान लेकिन किस मोड़ पर आ गए हैं कि हम लोग जिन किसानों का नाम लिखकर तो भेजो भारत के लिए नोट पर किसानों की फोटो लगा कर दी थी किसानों की बात नहीं सुनने या शाम की बात नहीं समझ रहे क्या ऑप्शन बात करना चाहते हो वह किसान पागल होना वहां बैठे हैं ऑफिस में ग्रुप में बात करना चाह रहे हो मैं गलत बात ना कहना चाहेंगे सरकार के कहने से आ रही है अभी तक इस मुद्दे पर कोई पूर्ण तरह निर्णय लेकर कमी नहीं है लेकिन प्लीज बात कर ही नहीं सकता क्योंकि जो हमारे देश का किसान हमारे पैसों के नोटों का करता है जिसे हम ना होते तो जय जवान जय किसान भाई किसान देश के बॉर्डर बैठा है अपने न्याय मांग रहा है अभी बात होगी भविष्य में क्या उनको उनकी मांग है वह पूरी हो पाएगी या सरकार जो अपना कानून सचिव कानून पास होगा अभी मैं इस मुद्दे पर कोई बात नहीं कोई बहस नहीं करूंगा करना चाहता इस वक्त की कि मैं किसकी तरफ नहीं किसी के पास में यह बस एक कड़वा सच यह है कि गलती से मैसेज पहुंच रहे हो यह पूछ रहा हूं कि भारत में प्रदूषण किसान है वह अपनी मांग को लेकर ही देश के बल पर ब्याह दिल्ली के बॉर्डर पर बैठा हुआ है
Kisaan aandolan ke baad desh mein na jaane kaisee kashish tak ho jaegee yah bahut se log sochane lagee hai aur aankhon ka saaph-saaph batao kisaan apanee batao sach mere saath se tumhen sochata hai ki ham aasha karate the jay javaan jay kisaan lekin kis mod par aa gae hain ki ham log jin kisaanon ka naam likhakar to bhejo bhaarat ke lie not par kisaanon kee photo laga kar dee thee kisaanon kee baat nahin sunane ya shaam kee baat nahin samajh rahe kya opshan baat karana chaahate ho vah kisaan paagal hona vahaan baithe hain ophis mein grup mein baat karana chaah rahe ho main galat baat na kahana chaahenge sarakaar ke kahane se aa rahee hai abhee tak is mudde par koee poorn tarah nirnay lekar kamee nahin hai lekin pleej baat kar hee nahin sakata kyonki jo hamaare desh ka kisaan hamaare paison ke noton ka karata hai jise ham na hote to jay javaan jay kisaan bhaee kisaan desh ke bordar baitha hai apane nyaay maang raha hai abhee baat hogee bhavishy mein kya unako unakee maang hai vah pooree ho paegee ya sarakaar jo apana kaanoon sachiv kaanoon paas hoga abhee main is mudde par koee baat nahin koee bahas nahin karoonga karana chaahata is vakt kee ki main kisakee taraph nahin kisee ke paas mein yah bas ek kadava sach yah hai ki galatee se maisej pahunch rahe ho yah poochh raha hoon ki bhaarat mein pradooshan kisaan hai vah apanee maang ko lekar hee desh ke bal par byaah dillee ke bordar par baitha hua hai

bolkar speaker
किसान आंदोलन का कड़वा सच क्या है?Kisaan Aandolan Ka Kadva Sach Kya Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:22
खुश रहने की के समंदर की सेवा संस्थान श्री गंगानगर का कड़वा सच इस प्रकार है कि किसान जो भी हम लोग आ जाएंगे पैसे के लिए कर रहे हैं इस पार्टी में बड़े भाई के सामने तेरे नैना कैसी है कैसे लिया और बोल रहे हैं कि आप छोटे किसानों को पैसा घंटे और इस चैनल को चलाते हुए
Khush rahane kee ke samandar kee seva sansthaan shree gangaanagar ka kadava sach is prakaar hai ki kisaan jo bhee ham log aa jaenge paise ke lie kar rahe hain is paartee mein bade bhaee ke saamane tere naina kaisee hai kaise liya aur bol rahe hain ki aap chhote kisaanon ko paisa ghante aur is chainal ko chalaate hue

bolkar speaker
किसान आंदोलन का कड़वा सच क्या है?Kisaan Aandolan Ka Kadva Sach Kya Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
4:58
अपना प्रश्न है कि किसान आंदोलन का कड़वा सच क्या है कि किसान आंदोलन का कड़वा सच वैसे तो कड़वा नहीं है क्योंकि अगर हम ईमानदारी से सत्य को स्वीकार करें तो सत्य अमृत की तरह और अमृत कभी जहरीला नहीं होता ठीक उसी तरीके से सत्य विजय लीला नहीं होता कभी कड़वा नहीं होता बशर्ते हम इस बात को स्वीकार करें किसान आंदोलन का कड़वा सत्य है कि जो वास्तविक एक किसान है जो इस देश का आम किसान है जो किसानी करता है मैं इस आंदोलन का हिस्सा मुझे नहीं दिखता और कुछ लोग अगर है भी तो उनको भ्रमित किया गया है उनको भट्ट गाया गया है उनके मन में गलत सूचनाएं देकर के गलत धारणाएं पैदा की गई है और दूसरा इसका जो कड़वा सत्य है वह यह है कि किसान आंदोलन के नाम पर कुछ नेता किसान नेता कथित किसान नेता अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं को पूर्ण करने के लिए प्राप्त करने के लिए देश और समाज में एक गलत संदेश प्रचारित करें अगर यह कृषि बिल आया तो आप की जमीनें चली जाएगी आपको फसल के दाम नहीं मिलेंगे कुछ पूंजीपति आपकी सारी दौलत लूट लेंगे इसका कारण है क्योंकि आज भी हमारा बहुत है जो किसान है वह इतनी अच्छी तरीके से शिक्षित नहीं इसलिए उसको जैसा भ्रमित किया जाता है क्योंकि निसंदेह एक किसान के लिए जो उसकी जमीन होती है वह उसका माता-पिता उसका सब कुछ होता तो जब उसको जमीन का डर दिखाया जाता है तो स्वाभाविक रूप से वह भ्रमित हो सकता है और यही काम यहां पर हो रहा है कि कुछ किसान नेता जैसे कि राकेश डकैत जरूरत नहीं हो डकैत दूसरा आप राकेश डकैत को ही देख लीजिए उसका पुराना इतिहास से चुनाव लड़ने को लेकर के और अब तो जिस तरीके की खबरें आ रही है कि अब से 100 करोड की प्रॉपर्टी है किस तरीके से उसने दलाली करके और लोगों को राजनेताओं को अपने इस किसान नेता होने के बल पर किस तरीके से उसने पेट्रोल पंप किस तरह कैसे बड़ी-बड़ी प्रॉपर्टी खड़ी की है किस तरीके से उसने रोड के अंदर ठेके ले रखे हैं तो यह सिर्फ कुछ नहीं है वह कुछ आने वाले समय में आप देख लेंगे यह व्यक्ति कांग्रेस से यह हो सकता है अखिलेश की पार्टी से आने वाले टाइम में सांसद का या विधानसभा का टिकट लेगा और यह चुनाव लड़ेगा और इसकी यही पूर्ण महत्वाकांक्षा यही तीसरा जो इसका कड़वा सत्य है वह यह है जो भी किसान नेता है जो बड़े-बड़े के साथ जो जागीरदारी के साथ है जो बड़े-बड़े भूमि पति पूंजीपति जिन की सैकड़ों बीघा जमीन है जो खुदा आरती हैं जो खुद खेती नहीं करते गरीब मजदूरों से ला करके अपने खेत पर काम करवाते हैं उनका शोषण करते हैं और कहते यह कि वह किसान है जबकि वह किसानी खुद नहीं करते इन लोगों को जिनके खुद की अपनी मंडियां है जो खुद आरती का काम करते हैं तो इन को शक है कि यह प्रश्न बिल आया तो इससे इनकी यह मंडिया इनका यह जो वर्चस्व है यह वर्चस्व खत्म हो जाएगा और चौथा जो कड़वा सत्य है वह कुछ राजनीतिक पार्टियों द्वारा इनको पीठ पीछे पूरा अपनी राजनीतिक हितों को साधने के लिए पूरा समर्थन है और यही सब कारण है कि यही सब कड़वे सत्य है और यह बहुत
Apana prashn hai ki kisaan aandolan ka kadava sach kya hai ki kisaan aandolan ka kadava sach vaise to kadava nahin hai kyonki agar ham eemaanadaaree se saty ko sveekaar karen to saty amrt kee tarah aur amrt kabhee jahareela nahin hota theek usee tareeke se saty vijay leela nahin hota kabhee kadava nahin hota basharte ham is baat ko sveekaar karen kisaan aandolan ka kadava saty hai ki jo vaastavik ek kisaan hai jo is desh ka aam kisaan hai jo kisaanee karata hai main is aandolan ka hissa mujhe nahin dikhata aur kuchh log agar hai bhee to unako bhramit kiya gaya hai unako bhatt gaaya gaya hai unake man mein galat soochanaen dekar ke galat dhaaranaen paida kee gaee hai aur doosara isaka jo kadava saty hai vah yah hai ki kisaan aandolan ke naam par kuchh neta kisaan neta kathit kisaan neta apanee raajaneetik mahatvaakaankshaon ko poorn karane ke lie praapt karane ke lie desh aur samaaj mein ek galat sandesh prachaarit karen agar yah krshi bil aaya to aap kee jameenen chalee jaegee aapako phasal ke daam nahin milenge kuchh poonjeepati aapakee saaree daulat loot lenge isaka kaaran hai kyonki aaj bhee hamaara bahut hai jo kisaan hai vah itanee achchhee tareeke se shikshit nahin isalie usako jaisa bhramit kiya jaata hai kyonki nisandeh ek kisaan ke lie jo usakee jameen hotee hai vah usaka maata-pita usaka sab kuchh hota to jab usako jameen ka dar dikhaaya jaata hai to svaabhaavik roop se vah bhramit ho sakata hai aur yahee kaam yahaan par ho raha hai ki kuchh kisaan neta jaise ki raakesh dakait jaroorat nahin ho dakait doosara aap raakesh dakait ko hee dekh leejie usaka puraana itihaas se chunaav ladane ko lekar ke aur ab to jis tareeke kee khabaren aa rahee hai ki ab se 100 karod kee propartee hai kis tareeke se usane dalaalee karake aur logon ko raajanetaon ko apane is kisaan neta hone ke bal par kis tareeke se usane petrol pamp kis tarah kaise badee-badee propartee khadee kee hai kis tareeke se usane rod ke andar theke le rakhe hain to yah sirph kuchh nahin hai vah kuchh aane vaale samay mein aap dekh lenge yah vyakti kaangres se yah ho sakata hai akhilesh kee paartee se aane vaale taim mein saansad ka ya vidhaanasabha ka tikat lega aur yah chunaav ladega aur isakee yahee poorn mahatvaakaanksha yahee teesara jo isaka kadava saty hai vah yah hai jo bhee kisaan neta hai jo bade-bade ke saath jo jaageeradaaree ke saath hai jo bade-bade bhoomi pati poonjeepati jin kee saikadon beegha jameen hai jo khuda aaratee hain jo khud khetee nahin karate gareeb majadooron se la karake apane khet par kaam karavaate hain unaka shoshan karate hain aur kahate yah ki vah kisaan hai jabaki vah kisaanee khud nahin karate in logon ko jinake khud kee apanee mandiyaan hai jo khud aaratee ka kaam karate hain to in ko shak hai ki yah prashn bil aaya to isase inakee yah mandiya inaka yah jo varchasv hai yah varchasv khatm ho jaega aur chautha jo kadava saty hai vah kuchh raajaneetik paartiyon dvaara inako peeth peechhe poora apanee raajaneetik hiton ko saadhane ke lie poora samarthan hai aur yahee sab kaaran hai ki yahee sab kadave saty hai aur yah bahut

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलन का कड़वा सच क्या है किसान आंदोलन का कड़वा सच
URL copied to clipboard