#टेक्नोलॉजी

Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:03
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप लोग गांव के लोग वाहनों के पीछे की लाइट के बगैर तो चलते हैं जबकि रात के समय या दुर्घटना का बड़ा कारण होता है देखिए जो मैं आपके सहमत हूं कि गांव के लोग जुड़ते बगैर टिकट के चलते लेकिन तुम ही सफर करते हैं जो गांव के लोग होते हो बल्ब दिन को तो इधर-उधर घूमते टहलते हैं लेकिन रात को उनका ज्यादा मिला कोई ऐसा काम नहीं होता जो मलो एक स्थान से दूसरे स्थान पढ़ाया जाए तो इसलिए मालूम असफल नहीं करते अगर वह जो लोग सफर करते हैं तो अपनी पूरी सुरक्षा के साथ में लोग अपने वाहनों की लाइट को हम लोग चालू रखते हैं और जो लोग केवल ऐसे ही सिमट के काम की नहीं जाती तो की गाड़ी के पीछे लगने का मतलब लाइट नहीं होती तो मेरे दुर्घटना जो रात को चलती नहीं तो दुर्घटना का कोई सवाल ही नहीं पड़ता है तो बाकी आप लोगों की गलत लग रहे हो सकती तुम कदम सवाल का जवाब है तो लव कर लो
Namaskaar doston kaise hain aap log gaanv ke log vaahanon ke peechhe kee lait ke bagair to chalate hain jabaki raat ke samay ya durghatana ka bada kaaran hota hai dekhie jo main aapake sahamat hoon ki gaanv ke log judate bagair tikat ke chalate lekin tum hee saphar karate hain jo gaanv ke log hote ho balb din ko to idhar-udhar ghoomate tahalate hain lekin raat ko unaka jyaada mila koee aisa kaam nahin hota jo malo ek sthaan se doosare sthaan padhaaya jae to isalie maaloom asaphal nahin karate agar vah jo log saphar karate hain to apanee pooree suraksha ke saath mein log apane vaahanon kee lait ko ham log chaaloo rakhate hain aur jo log keval aise hee simat ke kaam kee nahin jaatee to kee gaadee ke peechhe lagane ka matalab lait nahin hotee to mere durghatana jo raat ko chalatee nahin to durghatana ka koee savaal hee nahin padata hai to baakee aap logon kee galat lag rahe ho sakatee tum kadam savaal ka javaab hai to lav kar lo

और जवाब सुनें

Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:39
गांव के लोग वाहनों के पीछे की लाइफ के बगैर तो चलते हैं जबकि रात के समय दुर्घटना का बड़ा कारण होता है यह बिल्कुल देखा गया है कि गांव के लोग जो है पीछे वाली लाइट को बंद रखते हैं लेकिन वह बहुत समय होता है क्योंकि पीछे आने वाले व्यक्ति को जानकारी नहीं है कि सामने कोई बाहर न सी दुर्घटना हो सकती है उससे टकराकर तो पीछे वाले लाइट को हमेशा जलाकर रखना चाहिए
Gaanv ke log vaahanon ke peechhe kee laiph ke bagair to chalate hain jabaki raat ke samay durghatana ka bada kaaran hota hai yah bilkul dekha gaya hai ki gaanv ke log jo hai peechhe vaalee lait ko band rakhate hain lekin vah bahut samay hota hai kyonki peechhe aane vaale vyakti ko jaanakaaree nahin hai ki saamane koee baahar na see durghatana ho sakatee hai usase takaraakar to peechhe vaale lait ko hamesha jalaakar rakhana chaahie

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:57
गांव के लोग वाहनों के पीछे की लाइट के बगैर तुझको दे दूंगी रात के समय यह दुर्घटना का बड़ा कारण होता है दोस्तों यह आपकी जो राय दे रहे हैं मुझे नहीं लगता सैयद गांव के लोग जो अपने गांव के द ट्रैफिक रूल्स को फॉलो करते हैं शान से कट मार रहे हैं तो वहां पर में इंडिकेटर देते हैं और इस बैक लाइट की बात करें तो उनकी होती है और मुझे पूरी तरह से पता है कि कुछ लोग जो होते हैं वह लापरवाह होते विशेष तौर पर गांव के अंदर की जो पीछे की लाइट कम नहीं होती है रात के समय दुर्घटना का कारण बन सकते क्योंकि हम जानते हैं गांव के अंदर जो दोस्तों एक भी जा रही है तो पड़ोसियों को भी सुन कर दूसरे जो ड्राइवर है उसको भी सुन लेता है दुर्घटनाएं नहीं होती परंतु इतना कह सकते हैं कि 100 में से कोई एक दुर्घटना ऐसी हो जाती है परंतु ज्यादा दुर्घटनाएं नहीं होती है इसमें से
Gaanv ke log vaahanon ke peechhe kee lait ke bagair tujhako de doongee raat ke samay yah durghatana ka bada kaaran hota hai doston yah aapakee jo raay de rahe hain mujhe nahin lagata saiyad gaanv ke log jo apane gaanv ke da traiphik rools ko pholo karate hain shaan se kat maar rahe hain to vahaan par mein indiketar dete hain aur is baik lait kee baat karen to unakee hotee hai aur mujhe pooree tarah se pata hai ki kuchh log jo hote hain vah laaparavaah hote vishesh taur par gaanv ke andar kee jo peechhe kee lait kam nahin hotee hai raat ke samay durghatana ka kaaran ban sakate kyonki ham jaanate hain gaanv ke andar jo doston ek bhee ja rahee hai to padosiyon ko bhee sun kar doosare jo draivar hai usako bhee sun leta hai durghatanaen nahin hotee parantu itana kah sakate hain ki 100 mein se koee ek durghatana aisee ho jaatee hai parantu jyaada durghatanaen nahin hotee hai isamen se

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:18
नाम था आपका सवाल है गांव के लोग वाहनों के पीछे लाइट बगैर तो चलते हैं जबकि रात के समय यह दुर्घटना का बड़ा कारण होता है तो साथ आपके सवाल का उत्तर यह है कि गांव के लोग हो या शहर के लोग हो जो भी साधन चलाएं उसमें आगे और पीछे लाइट की व्यवस्था होना बहुत ही जरूरी है क्योंकि अगर आप रात को अगर गाड़ी चला रहे हो अगर लाइट नहीं रहेगी तो आपको रोड पर चलते हुए कोई जानकारी नहीं पता चले कि कौन सा साधना आ रहा है कौन सा जा रहा है कौन सा जो पशु आ रहे हैं इसलिए आपको लाइट दोनों आगे पीछे होनी बहुत ही जरूरी है जिससे आप दुर्घटना से पढ़ सकते हो और किसी दूसरा व्यक्ति है वह भी इस दुर्घटना से बस सकता है नहीं तो आप दोनों का ही नुकसान होगा दुर्घटना कराने वाला और दुर्घटना होने वाला इसलिए आप आगे और पीछे लाइट की व्यवस्था रखें जिससे आमजन को इस दुर्घटना से बचाया जा सके धन्यवाद साथियों खुश रहो
Naam tha aapaka savaal hai gaanv ke log vaahanon ke peechhe lait bagair to chalate hain jabaki raat ke samay yah durghatana ka bada kaaran hota hai to saath aapake savaal ka uttar yah hai ki gaanv ke log ho ya shahar ke log ho jo bhee saadhan chalaen usamen aage aur peechhe lait kee vyavastha hona bahut hee jarooree hai kyonki agar aap raat ko agar gaadee chala rahe ho agar lait nahin rahegee to aapako rod par chalate hue koee jaanakaaree nahin pata chale ki kaun sa saadhana aa raha hai kaun sa ja raha hai kaun sa jo pashu aa rahe hain isalie aapako lait donon aage peechhe honee bahut hee jarooree hai jisase aap durghatana se padh sakate ho aur kisee doosara vyakti hai vah bhee is durghatana se bas sakata hai nahin to aap donon ka hee nukasaan hoga durghatana karaane vaala aur durghatana hone vaala isalie aap aage aur peechhe lait kee vyavastha rakhen jisase aamajan ko is durghatana se bachaaya ja sake dhanyavaad saathiyon khush raho

Rajesh Kumar swami Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Student
1:18
गांव के लोग वाहनों के पीछे की लाइट के बगैर चलते हैं जबकि रात के समय यह दुर्घटना का बड़ा कारण होता है क्योंकि एक गांव के लोग होते हैं तो बिना लाइट के चलते हैं उनका ज्यादा काम गांव गांव के अंदर रहते हैं सेंटर जाना काम पड़ता नहीं है अगर जाना पड़े तो तुम कितनी गाड़ी आती है उसको तो साइन होना जरूरी है ना आज को पीछे का गला यदि गाड़ी ब्रेक मारने वाली लिपस्टिक लाइट खराब हो गई उसको पता चलेगा कि ब्रेक मार रही है तो इसमें नुकसान भी हो सकती है गाड़ी वाले का सम्मान भी टूट सकता है गाड़ी खराब हो सकती है तो इसमें बहुत से नुकसान है और घर वाले सब के पास रहना पड़ता है उसे देना पड़ता है तो उनका याद रहता नहीं और आप जिम्मेदार जाते भी नहीं है बाहर जाते हैं तो गांव के अंदर भेजते हैं और चले जाते हैं अपने घर तो यह तो गांव के लोगों के बहाने उनके बच्चे लाइट नहीं होने का बड़ी बड़ी दुर्घटना कारण आइए सबसे बड़ी दुर्घटना हो सकती है
Gaanv ke log vaahanon ke peechhe kee lait ke bagair chalate hain jabaki raat ke samay yah durghatana ka bada kaaran hota hai kyonki ek gaanv ke log hote hain to bina lait ke chalate hain unaka jyaada kaam gaanv gaanv ke andar rahate hain sentar jaana kaam padata nahin hai agar jaana pade to tum kitanee gaadee aatee hai usako to sain hona jarooree hai na aaj ko peechhe ka gala yadi gaadee brek maarane vaalee lipastik lait kharaab ho gaee usako pata chalega ki brek maar rahee hai to isamen nukasaan bhee ho sakatee hai gaadee vaale ka sammaan bhee toot sakata hai gaadee kharaab ho sakatee hai to isamen bahut se nukasaan hai aur ghar vaale sab ke paas rahana padata hai use dena padata hai to unaka yaad rahata nahin aur aap jimmedaar jaate bhee nahin hai baahar jaate hain to gaanv ke andar bhejate hain aur chale jaate hain apane ghar to yah to gaanv ke logon ke bahaane unake bachche lait nahin hone ka badee badee durghatana kaaran aaie sabase badee durghatana ho sakatee hai

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:09
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न एक गांव के लोग वाहनों के पीछे की लाइट के बगैर तो चलते हैं जबकि रात के समय यह दुर्घटना का बड़ा कारण होता है तो फिर से गांव के लोगों की कोई कोई जून के वाहन होते हैं उनके पीछे की लाइट नहीं होती है तो लाइट खराब होती है तो वह लोग यह सोचते हैं कि हमें गांव गांव में चलना है तो क्या करना है इसका लाइट का इस तरह की सोच रखते हैं और जो गांव के अंदर चलती है लेकिन कभी अचानक जब उनको शहर की तरफ जाना पड़ा तो रात के वक्त जब भी चल रहे होते हैं अचानक ब्रेक लगाते हैं तो पीछे से गाड़ी की कोई लाइट खुश दिखती नहीं तो पीछे से जुबान आता है तो उसको छोड़ देता है आकर तो उसका नुकसान होता है और बहुत सारी दुर्घटनाएं होती हैं यहां तक की मौत तक हो जाती है गाड़ी वाले की तो यह सब लापरवाही है ऐसा नहीं करना चाहिए गाड़ी में हमेशा पीछे भी लाइट होना चाहिए आगे पीछे लाइट सब दोस्त होना चाहिए गाड़ी में कभी उसी रोड में चलना चाहिए जैसे शहर में होता है वैसा ही गांव वालों को भी करना चाहिए नीचे पान की सिटी लाइट है उसको बिलकुल दुरुस्त करके चलना चाहिए नहीं तो यह दुर्घटना का कारण जरूर बनती है और इससे मौत तक हो जाती है धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn ek gaanv ke log vaahanon ke peechhe kee lait ke bagair to chalate hain jabaki raat ke samay yah durghatana ka bada kaaran hota hai to phir se gaanv ke logon kee koee koee joon ke vaahan hote hain unake peechhe kee lait nahin hotee hai to lait kharaab hotee hai to vah log yah sochate hain ki hamen gaanv gaanv mein chalana hai to kya karana hai isaka lait ka is tarah kee soch rakhate hain aur jo gaanv ke andar chalatee hai lekin kabhee achaanak jab unako shahar kee taraph jaana pada to raat ke vakt jab bhee chal rahe hote hain achaanak brek lagaate hain to peechhe se gaadee kee koee lait khush dikhatee nahin to peechhe se jubaan aata hai to usako chhod deta hai aakar to usaka nukasaan hota hai aur bahut saaree durghatanaen hotee hain yahaan tak kee maut tak ho jaatee hai gaadee vaale kee to yah sab laaparavaahee hai aisa nahin karana chaahie gaadee mein hamesha peechhe bhee lait hona chaahie aage peechhe lait sab dost hona chaahie gaadee mein kabhee usee rod mein chalana chaahie jaise shahar mein hota hai vaisa hee gaanv vaalon ko bhee karana chaahie neeche paan kee sitee lait hai usako bilakul durust karake chalana chaahie nahin to yah durghatana ka kaaran jaroor banatee hai aur isase maut tak ho jaatee hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • गांव लोगो और शहर के लोगो में क्या फर्क होता है ? क्या सही में गांव के लोग अच्छे होते है ?
URL copied to clipboard