#भारत की राजनीति

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:08
कॉल राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार को कृषि कानून वापस लेने के लिए 2 अक्टूबर जितना लंबा सफर कर दिया है 2 अक्टूबर का समय है क्योंकि जितनी आंदोलन करते उनके नेता महात्मा गांधी जी का जन्म दिवस होता है और क्या करेंगे परंतु इतना लंबा है कहीं ना कहीं कोई राजनीति हो सकता है और गिरजा करके यह जो चीज है इसके ऊपर गौर किया जाए
Kol raakesh tikait ne kendr sarakaar ko krshi kaanoon vaapas lene ke lie 2 aktoobar jitana lamba saphar kar diya hai 2 aktoobar ka samay hai kyonki jitanee aandolan karate unake neta mahaatma gaandhee jee ka janm divas hota hai aur kya karenge parantu itana lamba hai kaheen na kaheen koee raajaneeti ho sakata hai aur giraja karake yah jo cheej hai isake oopar gaur kiya jae

और जवाब सुनें

vikas Singh Rajput Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए vikas जी का जवाब
Unknown
6:57
राकेश टिकैत मत बोलिए राकेश डकैत कर इन्हें आप संबोधित करिए क्योंकि इन्होंने इस तरीके से आंदोलन किया है उसकी मैं जितनी भी निंदा करूं भारत कोरोनावायरस का उसे बुझा कुणाल 2020 का ही निकल गया और यह लोग 2021 शुरू होने से पहले ही किसानों के नाम पर आंदोलन शुरू कर दी संकटकाल में वैसे ही देश की स्थिति पर स्थिति खराब हो गई थी न जाने कितने लोग बेरोजगार हो गए थे देश की जीडीपी नीचे आ गई थी और पर भी उसका प्रभाव पड़ा था लेकिन उसकी इन्हें कोई चिंता नहीं है देश के गरीबों को गरीबों की विपक्षी सभी पॉलिटिकल पार्टियों को कोई चिंता नहीं है चाहे कुछ भी हो यह लोग आंदोलन करना शुरू किए अब कुछ किसान भाई भी भ्रमित होगा वह भी आंदोलन में जाकर बैठ गए विपक्षी सभी पॉलिटिकल पार्टियां राजनीति शुरू कर दी और फिर इस आंदोलन में टुकड़े टुकड़े गैंग शाहीन बाग के लोग देश को तोड़ने वाले वामपंथी सभी लोग इकट्ठा हुए 19 जनवरी के दिन रैली का इन लोगों ने ऐलान किया कि जनवरी के दिन ही नहीं करना चाहिए था क्योंकि 26 जनवरी के दिन पूरा विश्व भारत को देखता है भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है अब यह लोग 26 जनवरी के दिन ट्रैक्टर रैली में क्या किए हमें बताने की जरूरत नहीं है खालिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाया गया भारतीय तिरंगे का अपमान एक महिला पुरुष पुलिसकर्मी को कुछ लोगों ने घेर कर मारा पीटा हमारे पुलिसकर्मियों के ऊपर पाजी ठीक है आप किसान आंदोलन किसान कभी भी पुलिस कर्मियों के ऊपर लाठी डंडे से बात कर सकता है इस साल कभी भी किसी लेडीस पुलिस को खेत कर सकता है क्या किसान कभी भी भारतीय तिरंगे का अपमान करता है नहीं कर सकता है ना या नहीं यह लोग किसान नहीं है राकेश जी ने तो सुबह तक का समय दिया है पता है कि वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है और इस प्रकार को देश की जनता का समर्थन मिल रहा है देश के किसानों का समर्थन मिल रहा है देश के युवाओं का समर्थन मिल रहा है देश के अल्पसंख्यकों का भी समर्थन मिल रहा है दिल के देश के बहुसंख्यक उनका भी समर्थन मिल रहा है कुछ लोग हैं जो भ्रमित हैं जो इन के माया जाल में फंसे हुए हैं पॉलिटिकल पार्टियों के माया जाल में फंसे हुए उन्हें भी समझ आ जाएगा कुछ दिन के बाद यानी ज्यादातर वोट बैंक भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में ही है और 2024 तक तो थोड़े बहुत आंदोलन में भ्रमित होकर बैठे हैं वह भी उनको भी लगेगा कि आज मोदी जी ने तो अच्छा किया हमसे गलती हो गई वह भी मोदी जी के पक्ष में अपना वोटिंग करेंगे कहने का मतलब है कि आंदोलन में जो दो-चार 10 लोग दो 4000 लोग बैठे हैं 10000 लोग उन्हें पता है कि कानून सरकार वापस नहीं लेगी क्योंकि मोदी जी की सरकार है और इस कानून का समर्थन देश के किसानों ने किया है दोस्तों हरियाणा और पंजाब के दो राज्य ऐसा है जहां के किसान बहुत पहले से एमएसटी पर अनाज रिश्ते आ रहे हैं हम सभी भारतवासियों को खुशी है इन राज्यों में जो बिचौलिया होते थे यह क्या करते थे दूसरे राज्यों से सस्ते दाम पर अनाज खरीद कर अपने राज्य की मंडियों में महंगे दाम पर बेच देते थे अब उन्हें फायदा होता था उन के माध्यम से पूरे देश के किसानों को मंडी में भी अनाज बेचने का अधिकार मिल गया है और मंडी से बाहर किसी व्यापारी को भी न्यूनतम समर्थन मूल्य से अधिक दाम पर अनाज बेचने का अधिकार प्राप्त हो गया है अब बिचौलियों को कांग्रेस पार्टी को सभी विपक्षी पॉलिटिकल पार्टियों को दिक्कत हो रही होगी क्योंकि इनकी दुकान उसी से चलती थी अब दुकान बंद हो जाएगी क्योंकि किसानों को उनका अधिकार प्राप्त हो गया है देशवासियों भारत के किसान को इस कानून से स्वतंत्रता प्राप्त हुई है कहीं भी किसी को भी अपनी इच्छा से अपने अनाज का दाम खुद से तय करके किसान भेज सकता है और यह बहुत बड़ी बात है ऐसा ही डॉ राजीव दीक्षित साहब भी कहते थे डॉ राजीव दीक्षित साहब के सपने को साकार करने का काम प्रधानमंत्री मोदी जी ने किया है देश का किसान मोदी जी के साथ है चाहे यह लोग आंदोलन अक्टूबर तक करें चाहे 2 साल करें कि किसान बिल किसान कानून तीनों कृषि कानून वापस नहीं होगा तो नहीं होगा धन्यवाद
Raakesh tikait mat bolie raakesh dakait kar inhen aap sambodhit karie kyonki inhonne is tareeke se aandolan kiya hai usakee main jitanee bhee ninda karoon bhaarat koronaavaayaras ka use bujha kunaal 2020 ka hee nikal gaya aur yah log 2021 shuroo hone se pahale hee kisaanon ke naam par aandolan shuroo kar dee sankatakaal mein vaise hee desh kee sthiti par sthiti kharaab ho gaee thee na jaane kitane log berojagaar ho gae the desh kee jeedeepee neeche aa gaee thee aur par bhee usaka prabhaav pada tha lekin usakee inhen koee chinta nahin hai desh ke gareebon ko gareebon kee vipakshee sabhee politikal paartiyon ko koee chinta nahin hai chaahe kuchh bhee ho yah log aandolan karana shuroo kie ab kuchh kisaan bhaee bhee bhramit hoga vah bhee aandolan mein jaakar baith gae vipakshee sabhee politikal paartiyaan raajaneeti shuroo kar dee aur phir is aandolan mein tukade tukade gaing shaaheen baag ke log desh ko todane vaale vaamapanthee sabhee log ikattha hue 19 janavaree ke din railee ka in logon ne ailaan kiya ki janavaree ke din hee nahin karana chaahie tha kyonki 26 janavaree ke din poora vishv bhaarat ko dekhata hai bhaarat duniya ka sabase bada lokataantrik desh hai ab yah log 26 janavaree ke din traiktar railee mein kya kie hamen bataane kee jaroorat nahin hai khaalistaan jindaabaad ka naara lagaaya gaya bhaarateey tirange ka apamaan ek mahila purush pulisakarmee ko kuchh logon ne gher kar maara peeta hamaare pulisakarmiyon ke oopar paajee theek hai aap kisaan aandolan kisaan kabhee bhee pulis karmiyon ke oopar laathee dande se baat kar sakata hai is saal kabhee bhee kisee ledees pulis ko khet kar sakata hai kya kisaan kabhee bhee bhaarateey tirange ka apamaan karata hai nahin kar sakata hai na ya nahin yah log kisaan nahin hai raakesh jee ne to subah tak ka samay diya hai pata hai ki vartamaan mein bhaarateey janata paartee kee sarakaar hai aur is prakaar ko desh kee janata ka samarthan mil raha hai desh ke kisaanon ka samarthan mil raha hai desh ke yuvaon ka samarthan mil raha hai desh ke alpasankhyakon ka bhee samarthan mil raha hai dil ke desh ke bahusankhyak unaka bhee samarthan mil raha hai kuchh log hain jo bhramit hain jo in ke maaya jaal mein phanse hue hain politikal paartiyon ke maaya jaal mein phanse hue unhen bhee samajh aa jaega kuchh din ke baad yaanee jyaadaatar vot baink bhaarateey janata paartee ke paksh mein hee hai aur 2024 tak to thode bahut aandolan mein bhramit hokar baithe hain vah bhee unako bhee lagega ki aaj modee jee ne to achchha kiya hamase galatee ho gaee vah bhee modee jee ke paksh mein apana voting karenge kahane ka matalab hai ki aandolan mein jo do-chaar 10 log do 4000 log baithe hain 10000 log unhen pata hai ki kaanoon sarakaar vaapas nahin legee kyonki modee jee kee sarakaar hai aur is kaanoon ka samarthan desh ke kisaanon ne kiya hai doston hariyaana aur panjaab ke do raajy aisa hai jahaan ke kisaan bahut pahale se emesatee par anaaj rishte aa rahe hain ham sabhee bhaaratavaasiyon ko khushee hai in raajyon mein jo bichauliya hote the yah kya karate the doosare raajyon se saste daam par anaaj khareed kar apane raajy kee mandiyon mein mahange daam par bech dete the ab unhen phaayada hota tha un ke maadhyam se poore desh ke kisaanon ko mandee mein bhee anaaj bechane ka adhikaar mil gaya hai aur mandee se baahar kisee vyaapaaree ko bhee nyoonatam samarthan mooly se adhik daam par anaaj bechane ka adhikaar praapt ho gaya hai ab bichauliyon ko kaangres paartee ko sabhee vipakshee politikal paartiyon ko dikkat ho rahee hogee kyonki inakee dukaan usee se chalatee thee ab dukaan band ho jaegee kyonki kisaanon ko unaka adhikaar praapt ho gaya hai deshavaasiyon bhaarat ke kisaan ko is kaanoon se svatantrata praapt huee hai kaheen bhee kisee ko bhee apanee ichchha se apane anaaj ka daam khud se tay karake kisaan bhej sakata hai aur yah bahut badee baat hai aisa hee do raajeev deekshit saahab bhee kahate the do raajeev deekshit saahab ke sapane ko saakaar karane ka kaam pradhaanamantree modee jee ne kiya hai desh ka kisaan modee jee ke saath hai chaahe yah log aandolan aktoobar tak karen chaahe 2 saal karen ki kisaan bil kisaan kaanoon teenon krshi kaanoon vaapas nahin hoga to nahin hoga dhanyavaad

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:08
आपका सवाल है राकेट भेज देना केंद्र सरकार को कृषि कानून वापस लेने के लिए 2 अक्टूबर जितना लंबा समय तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार से है राकेश जी के जी ने केंद्र सरकार के जो तीन काले कानून बनाए हैं उनको भाग लेने के लिए 2 अक्टूबर तक का टाइम है इसलिए दिया है कि सरकार में कुछ जो सोच है उनको को सुधार सकें भेजो काले कानून है इनको वापस ले चुके इसलिए सोचने का टाइम दिया है 2 अक्टूबर को गांधी जयंती है इसलिए वहां तक का टाइम दिया है कि कैसे भी करके और केंद्र सरकार ने 3 किलो को वापस ले और राकेश जी के जी और हमारे देश के अन्नदाता शांतिपूर्ण कर रहे हैं गांव गांव में काले कानूनों का विरोध कर रहे हैं धन्यवाद साथियों खुश रहो
Aapaka savaal hai raaket bhej dena kendr sarakaar ko krshi kaanoon vaapas lene ke lie 2 aktoobar jitana lamba samay to doston aapake savaal ka uttar is prakaar se hai raakesh jee ke jee ne kendr sarakaar ke jo teen kaale kaanoon banae hain unako bhaag lene ke lie 2 aktoobar tak ka taim hai isalie diya hai ki sarakaar mein kuchh jo soch hai unako ko sudhaar saken bhejo kaale kaanoon hai inako vaapas le chuke isalie sochane ka taim diya hai 2 aktoobar ko gaandhee jayantee hai isalie vahaan tak ka taim diya hai ki kaise bhee karake aur kendr sarakaar ne 3 kilo ko vaapas le aur raakesh jee ke jee aur hamaare desh ke annadaata shaantipoorn kar rahe hain gaanv gaanv mein kaale kaanoonon ka virodh kar rahe hain dhanyavaad saathiyon khush raho

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:31
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार को किसी कानून वापस लेने के लिए 2 अक्टूबर जेल नंबर समय क्यों दिया है तो फिर यह किसान आंदोलन अक्टूबर तक चलेगा ऐसा राकेश टिकैत जीना ईशा नेताओं ने कहा है और लंबा समय इसलिए दिया है कि ताकि यह लोग सरकार किसान कानून है जो वापस ले ले वह लोग बोल रहे हैं कि इतना टाइम है आपके पास आप किसान कान में वापस ले लीजिए नहीं तो यान दोलन अक्टूबर तक चलेगा धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn raakesh tikait ne kendr sarakaar ko kisee kaanoon vaapas lene ke lie 2 aktoobar jel nambar samay kyon diya hai to phir yah kisaan aandolan aktoobar tak chalega aisa raakesh tikait jeena eesha netaon ne kaha hai aur lamba samay isalie diya hai ki taaki yah log sarakaar kisaan kaanoon hai jo vaapas le le vah log bol rahe hain ki itana taim hai aapake paas aap kisaan kaan mein vaapas le leejie nahin to yaan dolan aktoobar tak chalega dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • राकेश टिकेट कौन है ? क्या सही में राकेश टिकेट एक किसान परिवार से है ?
URL copied to clipboard