#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

हावड़ा ब्रिज बनाने के पीछे का क्या कारण था ?

Hawda Bridge Bnane Ke Pechye Kya Kaaran Tha
Md Mahmud Alam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Md जी का जवाब
स्टूडेंट विद्यार्थी
0:49
आज का सवाल है हावड़ा ब्रिज निर्माण के पीछे का क्या कारण है यह सवाल बहुत जबरदस्त बहुत अच्छा है हावड़ा ब्रिज निर्माण के पीछे का प्रमुख कारण यह है कि मुझे आज हवा भी जगजीत समय नहीं बना था उस समय से पहले हावड़ा ब्रिज बनाने से पहले उस समय वहां पर एक नदी हुआ करता था ठीक है तो उस समय क्या होता था जब नदी था तो उस समय एक दो एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए नाव का सहारा लेना पड़ता था कभी-कभी इतना पानी आ जाता था जिसके कारण संभव हो जाता था तब वह बंगाल के सरकार ने यह योजना बनाई की एक फूल का निर्माण किया जाए और उन्होंने 1988 में से लेकर 874 के बीच में यह हावड़ा ब्रिज का निर्माण करवाएं धन्यवाद
Aaj ka savaal hai haavada brij nirmaan ke peechhe ka kya kaaran hai yah savaal bahut jabaradast bahut achchha hai haavada brij nirmaan ke peechhe ka pramukh kaaran yah hai ki mujhe aaj hava bhee jagajeet samay nahin bana tha us samay se pahale haavada brij banaane se pahale us samay vahaan par ek nadee hua karata tha theek hai to us samay kya hota tha jab nadee tha to us samay ek do ek jagah se doosaree jagah jaane ke lie naav ka sahaara lena padata tha kabhee-kabhee itana paanee aa jaata tha jisake kaaran sambhav ho jaata tha tab vah bangaal ke sarakaar ne yah yojana banaee kee ek phool ka nirmaan kiya jae aur unhonne 1988 mein se lekar 874 ke beech mein yah haavada brij ka nirmaan karavaen dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
हावड़ा ब्रिज बनाने के पीछे का क्या कारण था ?Hawda Bridge Bnane Ke Pechye Kya Kaaran Tha
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:15
ऑफिस वाले की हावड़ा ब्रिज निर्माण की पिक्चर का क्या कारण है तो वह हावड़ा ब्रिज कोलकाता के प्रसिद्ध हावड़ा ब्रिज की शुरुआत लगभग 1942 में हुई थी यानी कि हुगली यानी कि गंगा नदी पर पुल का निर्माण 1939 में शुरू हुआ था और 4 साल बाद जनता के लिए खोल दिया गया था और हावड़ा ब्रिज कोलकाता को जोड़ने वाला हावड़ा ब्रिज बनकर तैयार हुआ तो उसका नाम न्यू हावड़ा ब्रिज वर्ष 1965 के बाद स्कूल का नाम नोबेल पुरस्कार विजेता गुरु गोविंद रविंद्र नाथ टैगोर के नाम पर या रविंद्र से दूर कर दिया लेकिन आज भी इसे हावड़ा ब्रिज के नाम से ही लोग जानते हैं और पहचानते हैं यह कोलकाता की पहचान है इससे पहले मिली नदी पर तैनात था पुल था इसे अपनी ऊंचाई कम ऊंचाई कमी थी इसी कारण नदी पर पानी बैठ जाने पर पुल का जाम लग जाता था और 1933 में ऐसी जगह खड़ा भी बनाने का फैसला किया गया था
Ophis vaale kee haavada brij nirmaan kee pikchar ka kya kaaran hai to vah haavada brij kolakaata ke prasiddh haavada brij kee shuruaat lagabhag 1942 mein huee thee yaanee ki hugalee yaanee ki ganga nadee par pul ka nirmaan 1939 mein shuroo hua tha aur 4 saal baad janata ke lie khol diya gaya tha aur haavada brij kolakaata ko jodane vaala haavada brij banakar taiyaar hua to usaka naam nyoo haavada brij varsh 1965 ke baad skool ka naam nobel puraskaar vijeta guru govind ravindr naath taigor ke naam par ya ravindr se door kar diya lekin aaj bhee ise haavada brij ke naam se hee log jaanate hain aur pahachaanate hain yah kolakaata kee pahachaan hai isase pahale milee nadee par tainaat tha pul tha ise apanee oonchaee kam oonchaee kamee thee isee kaaran nadee par paanee baith jaane par pul ka jaam lag jaata tha aur 1933 mein aisee jagah khada bhee banaane ka phaisala kiya gaya tha

bolkar speaker
हावड़ा ब्रिज बनाने के पीछे का क्या कारण था ?Hawda Bridge Bnane Ke Pechye Kya Kaaran Tha
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
2:13
नमस्कार दोस्तों फ्यूजन पहुंचा हावड़ा ब्रिज निर्माण के पीछे क्या कारण था फिर बताना चाहूंगा हावड़ा ब्रिज पश्चिम बंगाल और कोलकाता के बीच में हावड़ा को जोड़ने वाला एक ब्रिज है क्योंकि असल में यह एक कैथली वकील है क्लेवरब्रिज है जाने की झूले जैसा जो है अंग्रेजों के खंभों के ऊपर इसका पूरा का पूरा भार टिका हुआ यह जानकर हैरानी होगी कि स्कूल में एक भी नेटवर्क नहीं है और यह अपने टाइप का अपनी किस्म का अपनी तरह का छठा सबसे बड़ा पुल है इस पुल का जो मूल नाम था को न्यू हावड़ा ब्रिज था पर 15 जनवरी 1965 में महाकवि रवींद्रनाथ टैगोर की के ऊपर इनका नाम रख दिया गया लेकिन नाम चेंज करने के बावजूद भी आदमी है हावड़ा ब्रिज के नाम से जाना जाता है इस कानून निर्माण पहली बार अट्ठारह सौ बासठ में प्रस्तावित किया गया था बंगाल सरकार ने होली नदी पर पुल का निर्माण करना चाहती थी फर्स्ट इंडिया रेलवे कंपनी के चीफ इंजीनियर को अध्ययन करने के लिए योजना के साथ आने के लिए कहा गया था बहुत से कारणों से वे उनकी वह योजना अमल में नहीं लाई गई और समाज में ठाकुरों के दशक में हावड़ा कोलकाता के बीच में 1212 फ्लोटिंग ब्रिज बनाया गया था मैं वह इतना मजबूत नहीं था कि दोनों शहरों के बीच में कनेक्टिविटी प्रॉपर तरीके से दे पाए ना ही इतना चौड़ा था कि बार-बार आने जाने के बारे में ट्रैफिक लिए गाड़ियों के बाहर को संभाल पाए और एक टाइम पर एक टाइम पर एक ही आदमी आए बड़ा ट्रक रिया को आ जा सकता था कि वह किसी बड़े समुद्री तूफान को जेल पाता था और उसी को देखते हुए बंगाल सरकार ने जो है इसका विकल्प जो है ढूंढना जारी रखा और बाद में उनको उनका जो दो ना जो है खत्म हुआ उनका जो ठेका उन्होंने उस टाइम में ब्लैक पिटबुल एंड जॉब सब कंस्ट्रक्शन कंपनी ने लिया था और यह जो है उस टाइम में 19 और 1943 में बनकर तैयार हो गया था तो फिर तू कैसी लगी आपको इस चीज के बारे में इसके कारण आशा करता हूं आपको पसंद आया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Namaskaar doston phyoojan pahuncha haavada brij nirmaan ke peechhe kya kaaran tha phir bataana chaahoonga haavada brij pashchim bangaal aur kolakaata ke beech mein haavada ko jodane vaala ek brij hai kyonki asal mein yah ek kaithalee vakeel hai klevarabrij hai jaane kee jhoole jaisa jo hai angrejon ke khambhon ke oopar isaka poora ka poora bhaar tika hua yah jaanakar hairaanee hogee ki skool mein ek bhee netavark nahin hai aur yah apane taip ka apanee kism ka apanee tarah ka chhatha sabase bada pul hai is pul ka jo mool naam tha ko nyoo haavada brij tha par 15 janavaree 1965 mein mahaakavi raveendranaath taigor kee ke oopar inaka naam rakh diya gaya lekin naam chenj karane ke baavajood bhee aadamee hai haavada brij ke naam se jaana jaata hai is kaanoon nirmaan pahalee baar atthaarah sau baasath mein prastaavit kiya gaya tha bangaal sarakaar ne holee nadee par pul ka nirmaan karana chaahatee thee pharst indiya relave kampanee ke cheeph injeeniyar ko adhyayan karane ke lie yojana ke saath aane ke lie kaha gaya tha bahut se kaaranon se ve unakee vah yojana amal mein nahin laee gaee aur samaaj mein thaakuron ke dashak mein haavada kolakaata ke beech mein 1212 phloting brij banaaya gaya tha main vah itana majaboot nahin tha ki donon shaharon ke beech mein kanektivitee propar tareeke se de pae na hee itana chauda tha ki baar-baar aane jaane ke baare mein traiphik lie gaadiyon ke baahar ko sambhaal pae aur ek taim par ek taim par ek hee aadamee aae bada trak riya ko aa ja sakata tha ki vah kisee bade samudree toophaan ko jel paata tha aur usee ko dekhate hue bangaal sarakaar ne jo hai isaka vikalp jo hai dhoondhana jaaree rakha aur baad mein unako unaka jo do na jo hai khatm hua unaka jo theka unhonne us taim mein blaik pitabul end job sab kanstrakshan kampanee ne liya tha aur yah jo hai us taim mein 19 aur 1943 mein banakar taiyaar ho gaya tha to phir too kaisee lagee aapako is cheej ke baare mein isake kaaran aasha karata hoon aapako pasand aaya hoga laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
हावड़ा ब्रिज बनाने के पीछे का क्या कारण था ?Hawda Bridge Bnane Ke Pechye Kya Kaaran Tha
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:47
स्वागत है आपका आपका प्रश्न है हावड़ा हावड़ा ब्रिज निर्माण के पीछे क्या कारण था तो फ्रेंड के हुगली नदी पर बना हुआ है और इसके पीछे यही कारण था कि है कोलकाता से जोड़ने वाला ब्रिज ब्रिज बना तब से कोलकाता आने जाने में लोगों को बहुत ही सुन लिया थी तो यह हावड़ा ब्रिज जो है यह बहुत ही कोलकाता का फेमस ब्रिज है और यह हुगली नदी पर बना हुआ है इसमें पहले कच्चा पुल बना हुआ था उसके बाद यह हावड़ा ब्रिज का निर्माण क्यों किया गया जो रविंद्र नाथ टैगोर जी के नाम पर भी रखा गया लेकिन इसे अभी भी हावड़ा ब्रिज ही बोला जाता है इसके पीछे यही कारण है कि यह पहले कच्चा था फिर बाद में से पक्का बनाया गया जिसमें कोलकाता आने-जाने लोगों को सुविधा हो सके धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka prashn hai haavada haavada brij nirmaan ke peechhe kya kaaran tha to phrend ke hugalee nadee par bana hua hai aur isake peechhe yahee kaaran tha ki hai kolakaata se jodane vaala brij brij bana tab se kolakaata aane jaane mein logon ko bahut hee sun liya thee to yah haavada brij jo hai yah bahut hee kolakaata ka phemas brij hai aur yah hugalee nadee par bana hua hai isamen pahale kachcha pul bana hua tha usake baad yah haavada brij ka nirmaan kyon kiya gaya jo ravindr naath taigor jee ke naam par bhee rakha gaya lekin ise abhee bhee haavada brij hee bola jaata hai isake peechhe yahee kaaran hai ki yah pahale kachcha tha phir baad mein se pakka banaaya gaya jisamen kolakaata aane-jaane logon ko suvidha ho sake dhanyavaad

bolkar speaker
हावड़ा ब्रिज बनाने के पीछे का क्या कारण था ?Hawda Bridge Bnane Ke Pechye Kya Kaaran Tha
RAM NIWASH AWASTHI Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए RAM जी का जवाब
विद्यार्थी
1:10
जैसा कि आप का सवाल है हावड़ा ब्रिज निर्माण के पीछे क्या कारण रहा था तीन चौथाई सदी किसे कोलकाता की पहचान बना हावड़ा ब्रिज यानी रवींद्र सेतु इस लंबे सफर के दौरान कोई ऐतिहासिक घटनाओं का मुंह गवाह रहा है 1936 में इसका निर्माण कार्य शुरू हुआ था और 1942 में या पूरा हो गया था 3 फरवरी 1945 को इसे जनता के लिए खोल दिया गया था 2018 में इसके 75 साल पूरे हुए इसका निर्माण के पीछे एक कारण यह भी हो सकता है इससे पहले कोलकाता पर हावड़ा के बीच हुगली नदी पर पहले कोई ब्रिज नदी पार करने के लिए एकमात्र जरिया था बंगाल सरकार की ओर से 18 से 71 में हावड़ा ब्रिज अधिनियम पारित होने के बाद 18 सो 74 में फर्क ब्रेड गोल्ड रेट इन ने नदी पर पीपे के पुल का निर्माण कराया था धन्यवाद
Jaisa ki aap ka savaal hai haavada brij nirmaan ke peechhe kya kaaran raha tha teen chauthaee sadee kise kolakaata kee pahachaan bana haavada brij yaanee raveendr setu is lambe saphar ke dauraan koee aitihaasik ghatanaon ka munh gavaah raha hai 1936 mein isaka nirmaan kaary shuroo hua tha aur 1942 mein ya poora ho gaya tha 3 pharavaree 1945 ko ise janata ke lie khol diya gaya tha 2018 mein isake 75 saal poore hue isaka nirmaan ke peechhe ek kaaran yah bhee ho sakata hai isase pahale kolakaata par haavada ke beech hugalee nadee par pahale koee brij nadee paar karane ke lie ekamaatr jariya tha bangaal sarakaar kee or se 18 se 71 mein haavada brij adhiniyam paarit hone ke baad 18 so 74 mein phark bred gold ret in ne nadee par peepe ke pul ka nirmaan karaaya tha dhanyavaad

bolkar speaker
हावड़ा ब्रिज बनाने के पीछे का क्या कारण था ?Hawda Bridge Bnane Ke Pechye Kya Kaaran Tha
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:26
सवाल है कि हावड़ा ब्रिज निर्माण के पीछे क्या कारण कोलकाता हावड़ा के बीच हुगली नदी का पहले कोई प्रेशर नहीं था नदी पार करने के लिए गांव की एकमात्र जरिया थी बंगाल सरकार की ओर से वर्ष 1831 में हावड़ा ब्रिज अधिनियम पारित होने के बाद 5 अट्ठारह सौ 74 में सब रेड फोर्ट लिसीने नदी पर पीपे का पुल का निर्माण कराया था साल 18 सो 74 में 22 क्लॉक रुपए की लागत से नदी पर पीपर का एक पल बनाया गया जिसकी लंबाई 15 से 28 फीट और ऊंचाई और चौड़ाई 62 फीट 306 में हावड़ा स्टेशन बनने के बाद धीरे-धीरे ट्रैफिक और लोगों की आवाजाही बढ़ने लगी तब स्कूल की जगह एक लोडिंग बिरयानी चढ़ता हुआ पुल बनाने का फैसला किया गया लेकिन तब तक पहला विश्वयुद्ध शुरू हो चुका था इस वजह से काम शुरू नहीं हुआ साल 1922 में न्यू हावड़ा ब्रिज कमीशन का पठन करने के कुछ साल बाद इसके लिए निविदाएं आमंत्रित की गई तब जर्मनी की एक पढ़ने सबसे कम दल की नेता जमा की थी लेकिन तक जर्मनी और ब्रिटेन के आपसी संबंधों में भारी तनाव रहने की वजह से जर्मन क्यों की फर्म को ठेका नहीं लिया गया बाद में काम ब्रेथवेट वन एंड थे सेम कंस्ट्रक्शन कंपनी को सौंपा गया इसके लिए ब्रिज निर्माण अधिनियम में संशोधन किया गया
Savaal hai ki haavada brij nirmaan ke peechhe kya kaaran kolakaata haavada ke beech hugalee nadee ka pahale koee preshar nahin tha nadee paar karane ke lie gaanv kee ekamaatr jariya thee bangaal sarakaar kee or se varsh 1831 mein haavada brij adhiniyam paarit hone ke baad 5 atthaarah sau 74 mein sab red phort liseene nadee par peepe ka pul ka nirmaan karaaya tha saal 18 so 74 mein 22 klok rupe kee laagat se nadee par peepar ka ek pal banaaya gaya jisakee lambaee 15 se 28 pheet aur oonchaee aur chaudaee 62 pheet 306 mein haavada steshan banane ke baad dheere-dheere traiphik aur logon kee aavaajaahee badhane lagee tab skool kee jagah ek loding birayaanee chadhata hua pul banaane ka phaisala kiya gaya lekin tab tak pahala vishvayuddh shuroo ho chuka tha is vajah se kaam shuroo nahin hua saal 1922 mein nyoo haavada brij kameeshan ka pathan karane ke kuchh saal baad isake lie nividaen aamantrit kee gaee tab jarmanee kee ek padhane sabase kam dal kee neta jama kee thee lekin tak jarmanee aur briten ke aapasee sambandhon mein bhaaree tanaav rahane kee vajah se jarman kyon kee pharm ko theka nahin liya gaya baad mein kaam brethavet van end the sem kanstrakshan kampanee ko saumpa gaya isake lie brij nirmaan adhiniyam mein sanshodhan kiya gaya

bolkar speaker
हावड़ा ब्रिज बनाने के पीछे का क्या कारण था ?Hawda Bridge Bnane Ke Pechye Kya Kaaran Tha
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:12
कॉल किया गया हावड़ा ब्रिज बनाने के पीछे क्या कारण है दोस्तों कोलकाता और हावड़ा के बीच अगली नदी पर पहले कोई ब्रिज नहीं था नदी पार करने के लिए नाम ही एकमात्र जरिया से बंगाल सरकार की ओर से 1821 गवर्नमेंट के हावड़ा ब्रिज अधिनियम पारित होने के बाद में सबरी नदी का पुल का निर्माण तो लंबाई की बात करें तो 1528 फीट और चौड़ाई की बात करें तो 62 फीट है इसको बनाने का वोटों की गिनती तो के लिए कोलकाता जोका दो एक महत्वपूर्ण क्षेत्र था कि पहले जो भारतीय गवर्नर जनरल अन्य साधनों के माध्यम से भी यह काम हो जाता तो व्यापार का
Kol kiya gaya haavada brij banaane ke peechhe kya kaaran hai doston kolakaata aur haavada ke beech agalee nadee par pahale koee brij nahin tha nadee paar karane ke lie naam hee ekamaatr jariya se bangaal sarakaar kee or se 1821 gavarnament ke haavada brij adhiniyam paarit hone ke baad mein sabaree nadee ka pul ka nirmaan to lambaee kee baat karen to 1528 pheet aur chaudaee kee baat karen to 62 pheet hai isako banaane ka voton kee ginatee to ke lie kolakaata joka do ek mahatvapoorn kshetr tha ki pahale jo bhaarateey gavarnar janaral any saadhanon ke maadhyam se bhee yah kaam ho jaata to vyaapaar ka

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हावड़ा ब्रिज कहा पर है .. हावड़ा ब्रिज कब और किसने बनवाया ?
URL copied to clipboard