#भारत की राजनीति

bolkar speaker

1917 में रूस में जार का शासन के समाप्त हो गया?

1917 Mein Ruce Me Jaar Ka Shasan Ke Samapt Ho Gaya
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:20
सवाल है कि 1917 में रूस में जार का शासन क्यों समाप्त हो गया तो उन सन 1917 की सर्दियों में राजस्थानी पेट्रोग्राड राजधानी की हालत बहुत बुरी खराब थी मजदूरों के इलाके में खाद पदार्थों की बहुत ज्यादा कमी पैदा हो गई थी 22 फरवरी को शहर की एक फैक्ट्री में ताला बंदी का ऐलान कर दिया गया इसी के चलते अगले दिन फैक्ट्री के मजदूरों ने भी हड़ताल की घोषणा कर दी 25 फरवरी को सरकार ने ड्यूमर यानी कि सांसद को बर्खास्त कर दिया सरकार ने इस फैसले के विरोध में राजनीतिज्ञ बयान देने लगी 26 फरवरी को प्रदर्शनकारी भारी संख्या में बाएं तट के इलाके में एकत्रित हुए सरकार ने स्थिति पर काबू पाने के लिए घुड़सवार सैनिकों को तैनात कर दिया लेकिन सवार सैनिकों को प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाने से साफ इंकार कर दिया मजदूर तथा सिपाही से बतिया परिषद का गठन करने के लिए एकत्रित हुए और यहां शिव पेट्रोग्राफी व्यास का जन्म हुआ अगले दिन एक प्रतिनिधिमंडल जाट से मिलने गया सैनिक कमांडरों ने उन्हें सलाह दी कि वे राजगद्दी को छोड़ दें उन्होंने उनकी बात मान ली और 2 मार्च 1917 को गद्दी छोड़ दी देश चलाने के लिए एक अंतरिम सरकार का गठन किया गया
Savaal hai ki 1917 mein roos mein jaar ka shaasan kyon samaapt ho gaya to un san 1917 kee sardiyon mein raajasthaanee petrograad raajadhaanee kee haalat bahut buree kharaab thee majadooron ke ilaake mein khaad padaarthon kee bahut jyaada kamee paida ho gaee thee 22 pharavaree ko shahar kee ek phaiktree mein taala bandee ka ailaan kar diya gaya isee ke chalate agale din phaiktree ke majadooron ne bhee hadataal kee ghoshana kar dee 25 pharavaree ko sarakaar ne dyoomar yaanee ki saansad ko barkhaast kar diya sarakaar ne is phaisale ke virodh mein raajaneetigy bayaan dene lagee 26 pharavaree ko pradarshanakaaree bhaaree sankhya mein baen tat ke ilaake mein ekatrit hue sarakaar ne sthiti par kaaboo paane ke lie ghudasavaar sainikon ko tainaat kar diya lekin savaar sainikon ko pradarshanakaariyon par golee chalaane se saaph inkaar kar diya majadoor tatha sipaahee se batiya parishad ka gathan karane ke lie ekatrit hue aur yahaan shiv petrograaphee vyaas ka janm hua agale din ek pratinidhimandal jaat se milane gaya sainik kamaandaron ne unhen salaah dee ki ve raajagaddee ko chhod den unhonne unakee baat maan lee aur 2 maarch 1917 ko gaddee chhod dee desh chalaane ke lie ek antarim sarakaar ka gathan kiya gaya

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • 1917 में रूस में कौन सी क्रांति हुई .. 1917 में रूस किसका शाशन था
URL copied to clipboard