#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

क्या सचमुच बारिश के साथ केचुए भी गिरते हैं यदि नहीं तो अचानक कहां से आते हैं?

Kya Sachmuch Baarish Ke Sath Kechue Bhe Girte Hain Yadi Nahin To Achanak Kaha Se Aate Hain
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:01
तुम ऐसे मिले क्या सचमुच प्राइस के साथ कि छोड़ दी जाती है तो नहीं पहचाना कहां से आते हैं देखें बारिश के साथ में नहीं है और क्या होता है कि जब बारिश का मौसम खत्म हो जाता है यानी कि पृथ्वी जमीन में नमी की मात्रा नहीं लगती तो कछु नीचे चले जाते हैं जमीन के अंदर वहां पर वह मतलब पानी के साथ रहते हैं मतलब जो नबी मुक्ति पानी में रहते जमीन में और जब बाद शुरू होती तो ऊपर आ जाती क्योंकि उस वक्त बारिश का मौसम हो तो आपने देखा भी होगा कि जो बारिश करके सीधे उधर घूमती मिल जाएंगे तो जो बारिश का मौसम होता है तो अगर बरसात होती तो केवल पानी जमीन पर जा कर लेते की बारिश हो रही है तो ऊपर आ जाते हैं आपको यही लगता है कि जो बारिश से गिरे हैं ऐसा नहीं होता कि जो जमीन के अंदर डालते हैं तो मैं करता हूं धन्यवाद
Tum aise mile kya sachamuch prais ke saath ki chhod dee jaatee hai to nahin pahachaana kahaan se aate hain dekhen baarish ke saath mein nahin hai aur kya hota hai ki jab baarish ka mausam khatm ho jaata hai yaanee ki prthvee jameen mein namee kee maatra nahin lagatee to kachhu neeche chale jaate hain jameen ke andar vahaan par vah matalab paanee ke saath rahate hain matalab jo nabee mukti paanee mein rahate jameen mein aur jab baad shuroo hotee to oopar aa jaatee kyonki us vakt baarish ka mausam ho to aapane dekha bhee hoga ki jo baarish karake seedhe udhar ghoomatee mil jaenge to jo baarish ka mausam hota hai to agar barasaat hotee to keval paanee jameen par ja kar lete kee baarish ho rahee hai to oopar aa jaate hain aapako yahee lagata hai ki jo baarish se gire hain aisa nahin hota ki jo jameen ke andar daalate hain to main karata hoon dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या सचमुच बारिश के साथ केचुए भी गिरते हैं यदि नहीं तो अचानक कहां से आते हैं?Kya Sachmuch Baarish Ke Sath Kechue Bhe Girte Hain Yadi Nahin To Achanak Kaha Se Aate Hain
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:35
आकाश यानी कि क्या सचमुच बारिश के साथ इनके बीच में भी कहते हैं यदि नितेश में कहां से आता है तो कैसे जमीन की सबसे ऊपरी परत जिसमें हुमन आ जाते हैं इसके नीचे पाए जाते हैं जो बारिश का मौसम आता है तो उल्टी की रिपोर्ट है हम इसके कारण या बारिश के कारण सभी जगह से हट जाते हैं और कच्चे तथा अन्य जितने भी छोटे-छोटे जी जनता रे मारा जाता है धन्यवाद
Aakaash yaanee ki kya sachamuch baarish ke saath inake beech mein bhee kahate hain yadi nitesh mein kahaan se aata hai to kaise jameen kee sabase ooparee parat jisamen human aa jaate hain isake neeche pae jaate hain jo baarish ka mausam aata hai to ultee kee riport hai ham isake kaaran ya baarish ke kaaran sabhee jagah se hat jaate hain aur kachche tatha any jitane bhee chhote-chhote jee janata re maara jaata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या सचमुच बारिश के साथ केचुए भी गिरते हैं यदि नहीं तो अचानक कहां से आते हैं?Kya Sachmuch Baarish Ke Sath Kechue Bhe Girte Hain Yadi Nahin To Achanak Kaha Se Aate Hain
Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
2:16
जी नहीं ऐसा नहीं होता है कि अब बारिश के बाद या बारिश के साथ है कि छुए गिरते हैं आसमान से बारिश के रूप में ऐसा नहीं होता है अब होता क्या है कि विश्व हमारी धरती है जो हमारी देखते हैं मिट्टी देखते हैं आई एम 8:00 बजे बोलते हैं आज इसके ऊपर हम हैं जो धरती मां है यह बहुत पावरफुल है अब आप और हम अगर देखें तो आप और हम तो पंचतत्व से बने हुए हैं राइट हर एक इंसान उन्हें पांच तत्वों से बना हुआ है इसी तरीके से हर प्राणी हर जीव-जंतु किसी न किसी कंपोजीशन से बनता है जब हम धरती में रहने वाले कछुए की बात करते हैं तो बारिश के बाद बोल जमीन में आ जाते हैं और वो धरती से ही उत्पन्न होते हैं क्योंकि बारिश में जो जो केमिकल सोते हैं केमिकल मैं तो वैसे केमिकल रसायनिक मत समझ गए लेकिन जो कंपनसेशन होता है जो उस समय नमी होती है उस समय जो न में मिट्टी में होती है उस समय मत्ती का मर्डर का जो चीज होता है और एक और इन सारे कॉन्बिनेशन से खींच में उत्पन्न होते हैं वह धरती में से ही क्रिएट होते हैं इस तरीके से आप देखेंगे कि अचानक से बारिश होती है और बजे बारिश के बाद आपको मेडक नजर आने लगते हैं वैसे क्या होता है जी कई बार तो यह भी देखा जाता है या बताए जाते हैं मेंढक मरते नहीं है वह होते हैं लेकिन जब बारिश होनी शुरू हो जाती है और तू धरती से उत्पन्न हो जाते हैं तो यह अलग अलग अलग से या कॉमिनेशन से कौन सी ट्रेन से यह धरती में से निकलते हैं तो इस तरीके से होता है इनका रेट और होती हैं उनके बारिश के अगले दिन और रात को शाम को उनके पर निकलने रोज आते हैं तो ऐसा क्या होता है तो यह सब इमो चेंज इन कांस्टीट्यूएंट होता है आज इस कारण से ऐसा परिवर्तन होता है और हमें वह देखने को मिलता है ऐसा नहीं होता कि आसमान से यह शब्द गिरते हैं वगैरह जी नहीं
Jee nahin aisa nahin hota hai ki ab baarish ke baad ya baarish ke saath hai ki chhue girate hain aasamaan se baarish ke roop mein aisa nahin hota hai ab hota kya hai ki vishv hamaaree dharatee hai jo hamaaree dekhate hain mittee dekhate hain aaee em 8:00 baje bolate hain aaj isake oopar ham hain jo dharatee maan hai yah bahut paavaraphul hai ab aap aur ham agar dekhen to aap aur ham to panchatatv se bane hue hain rait har ek insaan unhen paanch tatvon se bana hua hai isee tareeke se har praanee har jeev-jantu kisee na kisee kampojeeshan se banata hai jab ham dharatee mein rahane vaale kachhue kee baat karate hain to baarish ke baad bol jameen mein aa jaate hain aur vo dharatee se hee utpann hote hain kyonki baarish mein jo jo kemikal sote hain kemikal main to vaise kemikal rasaayanik mat samajh gae lekin jo kampanaseshan hota hai jo us samay namee hotee hai us samay jo na mein mittee mein hotee hai us samay mattee ka mardar ka jo cheej hota hai aur ek aur in saare konbineshan se kheench mein utpann hote hain vah dharatee mein se hee kriet hote hain is tareeke se aap dekhenge ki achaanak se baarish hotee hai aur baje baarish ke baad aapako medak najar aane lagate hain vaise kya hota hai jee kaee baar to yah bhee dekha jaata hai ya batae jaate hain mendhak marate nahin hai vah hote hain lekin jab baarish honee shuroo ho jaatee hai aur too dharatee se utpann ho jaate hain to yah alag alag alag se ya komineshan se kaun see tren se yah dharatee mein se nikalate hain to is tareeke se hota hai inaka ret aur hotee hain unake baarish ke agale din aur raat ko shaam ko unake par nikalane roj aate hain to aisa kya hota hai to yah sab imo chenj in kaansteetyooent hota hai aaj is kaaran se aisa parivartan hota hai aur hamen vah dekhane ko milata hai aisa nahin hota ki aasamaan se yah shabd girate hain vagairah jee nahin

bolkar speaker
क्या सचमुच बारिश के साथ केचुए भी गिरते हैं यदि नहीं तो अचानक कहां से आते हैं?Kya Sachmuch Baarish Ke Sath Kechue Bhe Girte Hain Yadi Nahin To Achanak Kaha Se Aate Hain
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:58
हाय फ्रेंड्स क्वेश्चन पूछा गया कि क्या सचमुच में जो होता है बारिश के साथ केंचुए भी कहते हैं तो यह बात गलत है कि और यह धारणा है कि लोग कहते हैं कि केंचुए जो होते हैं बरसात के मौसम में बारिश होने जो होते हैं ऊपर से गिरते हैं बल्कि अगर देखा जाए तो बरसात में क्या होता है कि अत्याधिक वर्षा होने के कारण जमीन का जो होता है भागवत धीरे-धीरे जो होता है उसका चला था ऊपर उठने लगता है और इस स्थिति में जो होता है हमारे पृथ्वी के इंटरनल पार्ट में जो होता है वह मौजूद रहते हैं वह किस में हो या फिर बरसाती मेंढक इस सब सोते हैं बरसात के मौसम में जो ऊपर आने लगते हैं जिससे क्या होता है कि हमें आभास होता है कि कीजिए जो होते हैं या फिर बरसाती मेंढक या डायरेक्ट बरसात में जो है मैं देखने को मिलते हैं तो यह जो होता है आश्चर्यचकित जो है करने की बात सामने आ जाती है बट ऐसा नहीं होता है
Haay phrends kveshchan poochha gaya ki kya sachamuch mein jo hota hai baarish ke saath kenchue bhee kahate hain to yah baat galat hai ki aur yah dhaarana hai ki log kahate hain ki kenchue jo hote hain barasaat ke mausam mein baarish hone jo hote hain oopar se girate hain balki agar dekha jae to barasaat mein kya hota hai ki atyaadhik varsha hone ke kaaran jameen ka jo hota hai bhaagavat dheere-dheere jo hota hai usaka chala tha oopar uthane lagata hai aur is sthiti mein jo hota hai hamaare prthvee ke intaranal paart mein jo hota hai vah maujood rahate hain vah kis mein ho ya phir barasaatee mendhak is sab sote hain barasaat ke mausam mein jo oopar aane lagate hain jisase kya hota hai ki hamen aabhaas hota hai ki keejie jo hote hain ya phir barasaatee mendhak ya daayarekt barasaat mein jo hai main dekhane ko milate hain to yah jo hota hai aashcharyachakit jo hai karane kee baat saamane aa jaatee hai bat aisa nahin hota hai

bolkar speaker
क्या सचमुच बारिश के साथ केचुए भी गिरते हैं यदि नहीं तो अचानक कहां से आते हैं?Kya Sachmuch Baarish Ke Sath Kechue Bhe Girte Hain Yadi Nahin To Achanak Kaha Se Aate Hain
Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
𝔖𝔱𝔲𝔡𝔢𝔫𝔱 | 𝔈𝔡𝔲𝔠𝔞𝔱𝔦𝔬𝔫𝔦𝔰𝔱
0:50
क्या सचमुच बारिश के साथ है कि इसमें भी गिरते हैं यदि नहीं तो अचानक कहां से आ जाते हैं देखिए ऐसा बिल्कुल नहीं है कि बारिश होती है तो उसके साथ में खींच में ही गिरते हैं जो बारिश होती है तो केवल जल होता है हालांकि वह प्रदूषित जल भी हो सकता है किसी के बारे में अम्लीय वर्षा भी होती है जिसके कारण जो ऐतिहासिक इमारतें होती हैं यह संगमरमर की बनी हुई इमारत खास तौर पर उनका छेड़ भी हो जाता है तो जो प्रदूषित जल जरुर हो सकता है हालांकि जो वह जो जल होता है स्तर पर अम्लीय वर्षा का जल ना हो तो उसे हम पी सकते हैं इतना शुद्ध पानी होता है जो वर्षा का पानी होता है उसके साथ में किसी भी प्रकार की कुछ भी नहीं करते हैं हालांकि यह कैसी भेजो होते हैं एक खास तौर पर मिट्टी के अंदर ही अपने आप कर सकते हैं जान ले लेते हैं या उनके पूर्वज होते हैं उसे यह पनम जाते हैं धन्यवाद
Kya sachamuch baarish ke saath hai ki isamen bhee girate hain yadi nahin to achaanak kahaan se aa jaate hain dekhie aisa bilkul nahin hai ki baarish hotee hai to usake saath mein kheench mein hee girate hain jo baarish hotee hai to keval jal hota hai haalaanki vah pradooshit jal bhee ho sakata hai kisee ke baare mein amleey varsha bhee hotee hai jisake kaaran jo aitihaasik imaaraten hotee hain yah sangamaramar kee banee huee imaarat khaas taur par unaka chhed bhee ho jaata hai to jo pradooshit jal jarur ho sakata hai haalaanki jo vah jo jal hota hai star par amleey varsha ka jal na ho to use ham pee sakate hain itana shuddh paanee hota hai jo varsha ka paanee hota hai usake saath mein kisee bhee prakaar kee kuchh bhee nahin karate hain haalaanki yah kaisee bhejo hote hain ek khaas taur par mittee ke andar hee apane aap kar sakate hain jaan le lete hain ya unake poorvaj hote hain use yah panam jaate hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या सचमुच बारिश के साथ केचुए भी गिरते हैं यदि नहीं तो अचानक कहां से आते हैं?Kya Sachmuch Baarish Ke Sath Kechue Bhe Girte Hain Yadi Nahin To Achanak Kaha Se Aate Hain
Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
1:20
वेलकम बैक स्वागत है आप सबका मेरी बोलकर ए प्रोफाइल पर और आप सुन रहे हैं रोहित राठौर को तो क्या सचमुच बारिश के साथ खींचो गिरते हैं तो इसका जवाब ही नहीं खींच कभी बारिश के साथ नहीं गिरते क्या आपने कभी देखेंगे जो गिरते हुए बारिश में कई लोग बारिश का मजा लेते हैं इसमें इंजॉय करते हैं के लोग भी मिलते हैं बारिश में फर्क है आपने कभी देखा ऊपर से खींचो गिर रहे हैं उन लोगों के ऊपर एक इतना हाथ से जन्म हो गया मतलब कितना पानी होगा उस समय जगत पूछोगे तो खींच कभी भी ऊपर से नहीं गिरते बारिश के साथ हैं और यह चांद कहां से आते हैं तो फिर जब बारिश गिरती है तो हमारी पृथ्वी पर जो पानी आता है वह इस प्रकार से नहीं होती है जो धरती के अंदर जो मिट्टी में यह केंचुए उसी पानी से पद होते हैं जो कीचड़ बना हुआ होता है आपने कई बार देखा होगा कि पौधों में भी खींच वाया जाते हैं केवल नीचे से क्यों निकल जाते हैं उसी कारण होते हैं नमी के कारण अपने आप को बनाते हैं और यह विकसित हो जाते हैं यही कारण है कि केंचुए अचानक से जमीन में बारिश के समय पर आ जाते हैं और यह आज मगर उमस बढ़ने है धूप पड़ने के कारण अभी धीरे-धीरे लुप्त या बोले थे गायब भी हो जाते हैं क्योंकि यह विकसित नहीं हो पाते और यह होते भी हैं तो फिर एक गहरी अंदर जमीन में होते हैं ऊपर नहीं आते सदा तक धन्यवाद सुनते से अगले सवाल में पर याद रखिएगा कभी भी बारिश के साथ केंचुए नहीं गिरते हैं धन्यवाद
Velakam baik svaagat hai aap sabaka meree bolakar e prophail par aur aap sun rahe hain rohit raathaur ko to kya sachamuch baarish ke saath kheencho girate hain to isaka javaab hee nahin kheench kabhee baarish ke saath nahin girate kya aapane kabhee dekhenge jo girate hue baarish mein kaee log baarish ka maja lete hain isamen injoy karate hain ke log bhee milate hain baarish mein phark hai aapane kabhee dekha oopar se kheencho gir rahe hain un logon ke oopar ek itana haath se janm ho gaya matalab kitana paanee hoga us samay jagat poochhoge to kheench kabhee bhee oopar se nahin girate baarish ke saath hain aur yah chaand kahaan se aate hain to phir jab baarish giratee hai to hamaaree prthvee par jo paanee aata hai vah is prakaar se nahin hotee hai jo dharatee ke andar jo mittee mein yah kenchue usee paanee se pad hote hain jo keechad bana hua hota hai aapane kaee baar dekha hoga ki paudhon mein bhee kheench vaaya jaate hain keval neeche se kyon nikal jaate hain usee kaaran hote hain namee ke kaaran apane aap ko banaate hain aur yah vikasit ho jaate hain yahee kaaran hai ki kenchue achaanak se jameen mein baarish ke samay par aa jaate hain aur yah aaj magar umas badhane hai dhoop padane ke kaaran abhee dheere-dheere lupt ya bole the gaayab bhee ho jaate hain kyonki yah vikasit nahin ho paate aur yah hote bhee hain to phir ek gaharee andar jameen mein hote hain oopar nahin aate sada tak dhanyavaad sunate se agale savaal mein par yaad rakhiega kabhee bhee baarish ke saath kenchue nahin girate hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या सचमुच बारिश के साथ केचुए भी गिरते हैं यदि नहीं तो अचानक कहां से आते हैं?Kya Sachmuch Baarish Ke Sath Kechue Bhe Girte Hain Yadi Nahin To Achanak Kaha Se Aate Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:32
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका आपका प्रश्न है क्या बारिश बारिश के साथ किए हुए भी गिरते हैं यदि नहीं तो अचानक कहां से आते हैं तो सेंड बारिश के साथ कभी भी केंचुए नहीं गिरते हैं और कीजिए जब बारिश होती है तो जो मिट्टी तसल्ली हो जाती है तो मिट्टी के अंदर जो नमी होती है उसी नवी में कीजिए पैदा होते हैं और जमीन के अंदर ही मिट्टी में ही इनका जन्म होता है और यह मिट्टी में पैदा होते हैं और मिट्टी में ही पलते और बढ़ते हैं तो यह मिट्टी से उत्पन्न होते हैं बारिश से नहीं गिरते हैं धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka aapaka prashn hai kya baarish baarish ke saath kie hue bhee girate hain yadi nahin to achaanak kahaan se aate hain to send baarish ke saath kabhee bhee kenchue nahin girate hain aur keejie jab baarish hotee hai to jo mittee tasallee ho jaatee hai to mittee ke andar jo namee hotee hai usee navee mein keejie paida hote hain aur jameen ke andar hee mittee mein hee inaka janm hota hai aur yah mittee mein paida hote hain aur mittee mein hee palate aur badhate hain to yah mittee se utpann hote hain baarish se nahin girate hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या सचमुच बारिश के साथ केचुए भी गिरते हैं यदि नहीं तो अचानक कहां से आते हैं?Kya Sachmuch Baarish Ke Sath Kechue Bhe Girte Hain Yadi Nahin To Achanak Kaha Se Aate Hain
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:40
सवाल ये है कि क्या सचमुच बारिश के साथ किए हुए भी करते हैं यदि नहीं तो अचानक में कहां से आ जाते हैं तो ऐसा नहीं है बारिश के साथ केस में नहीं करते कि जो इस जमीन की सबसे ऊपरी परत जैसे ह्यूमन ह्यूमन कहा जाता है उसके नीचे पाए जाते हैं जब वह बारिश का मौसम आता है तो मिट्टी की ऊपरी परत अज्ञानी हो बस बारिश के कारण अपनी जगह से हट जाती है और केंचुए तथा अन्य छोटे छोटे जीव जंतुओं को बाहर आ जाते हैं ऐसा बारिश में एक ही होता है बाकी मौसम में इन जंतुओं के लिए प्रतिकूल होते हैं और वे हाइबरनेशन था चित्र में चले जाते हैं उनके अनुकूल मौसम में आने पर वे बाहर आते हैं जैसे के मेंढक सांप भालू छिपकली आदि के संघ के सदस्य हैं चित्र सहित कई खंडों का बना होता है इसे ध्यान से देखेंगे तो उसके शरीर पर कई वाला ईयररिंग जैसी रचनाएं दिखाई देती हैं इसके शरीर में 100 से 120 तक खंड होते हैं एक लिंगी प्राणी है अर्थात नर तथा मादा जननांग एक एक ही शरीर में पाए जाते हैं सबसे पहले 18 सो 81 में चार्ल्स डार्विन ने और केतु की उपयोगिता के बारे में बताया था कि जो को किसानों का मित्र कहा जाता है यह जीवित तथा मृत दोनों अवस्थाओं में मनुष्य के काम ही आता है इनको पालने की विधि को वर्मी कल्चर कहते हैं उनके द्वारा बनी खाद को वर्मी कंपोस्ट कहते हैं
Savaal ye hai ki kya sachamuch baarish ke saath kie hue bhee karate hain yadi nahin to achaanak mein kahaan se aa jaate hain to aisa nahin hai baarish ke saath kes mein nahin karate ki jo is jameen kee sabase ooparee parat jaise hyooman hyooman kaha jaata hai usake neeche pae jaate hain jab vah baarish ka mausam aata hai to mittee kee ooparee parat agyaanee ho bas baarish ke kaaran apanee jagah se hat jaatee hai aur kenchue tatha any chhote chhote jeev jantuon ko baahar aa jaate hain aisa baarish mein ek hee hota hai baakee mausam mein in jantuon ke lie pratikool hote hain aur ve haibaraneshan tha chitr mein chale jaate hain unake anukool mausam mein aane par ve baahar aate hain jaise ke mendhak saamp bhaaloo chhipakalee aadi ke sangh ke sadasy hain chitr sahit kaee khandon ka bana hota hai ise dhyaan se dekhenge to usake shareer par kaee vaala eeyararing jaisee rachanaen dikhaee detee hain isake shareer mein 100 se 120 tak khand hote hain ek lingee praanee hai arthaat nar tatha maada jananaang ek ek hee shareer mein pae jaate hain sabase pahale 18 so 81 mein chaarls daarvin ne aur ketu kee upayogita ke baare mein bataaya tha ki jo ko kisaanon ka mitr kaha jaata hai yah jeevit tatha mrt donon avasthaon mein manushy ke kaam hee aata hai inako paalane kee vidhi ko varmee kalchar kahate hain unake dvaara banee khaad ko varmee kampost kahate hain

bolkar speaker
क्या सचमुच बारिश के साथ केचुए भी गिरते हैं यदि नहीं तो अचानक कहां से आते हैं?Kya Sachmuch Baarish Ke Sath Kechue Bhe Girte Hain Yadi Nahin To Achanak Kaha Se Aate Hain
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:22
प्रसाद लेके क्या सच में बारिश के साथ कैसे हो गई है यदि नहीं तो अचानक कहां से आ जाता है तो लेकिन बारिश के साथ भेजो बिल्कुल भी नहीं देते हैं किस में धरती के अंदर मीटिंग में ही रहते हैं बारिश होने की वजह से मिट्टी दी है नंबर जाती है ढीली पड़ जाती है और यही जाने की किसी बाहर निकल आते हैं और आपको ऐसा लगता है कि बारिश के दिनों में ही खींच भी देख देख रहे हैं आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Prasaad leke kya sach mein baarish ke saath kaise ho gaee hai yadi nahin to achaanak kahaan se aa jaata hai to lekin baarish ke saath bhejo bilkul bhee nahin dete hain kis mein dharatee ke andar meeting mein hee rahate hain baarish hone kee vajah se mittee dee hai nambar jaatee hai dheelee pad jaatee hai aur yahee jaane kee kisee baahar nikal aate hain aur aapako aisa lagata hai ki baarish ke dinon mein hee kheench bhee dekh dekh rahe hain aapaka din shubh rahe dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या सचमुच बारिश के साथ केचुए भी गिरते हैं यदि नहीं तो अचानक कहां से आते हैं क्या बारिश के साथ केचुए भी गिरते हैं
URL copied to clipboard