#धर्म और ज्योतिषी

Krishnpal kanwer Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Krishnpal जी का जवाब
Unknown
0:34
आपने पूछा करो ना के प्रभाव को देखते हुए इस बार होली हमें किस प्रकार बनानी चाहिए देखे अभी फिलहाल समय में रोना की वैक्सीन आ चुका है तो हमें इतना अधिक डर तो नहीं है लेकिन हमें थोड़ी सुधरी तो बरतनी होगी उसके लिए हम इस्तेमाल में ला सकते हैं पिचकारी वॉटर ब्लूम यह सब से दूर से होली खेल सकते हैं और यदि कोई अपने घर में ही इनके साथ आप एक साथ रह रहे हो हमसे हम गले में मिल सकते हो और गुलाल भी लगा सकते हो मगर जो दूर से आए हैं उनसे थोड़ा सुधार करें
Aapane poochha karo na ke prabhaav ko dekhate hue is baar holee hamen kis prakaar banaanee chaahie dekhe abhee philahaal samay mein rona kee vaikseen aa chuka hai to hamen itana adhik dar to nahin hai lekin hamen thodee sudharee to baratanee hogee usake lie ham istemaal mein la sakate hain pichakaaree votar bloom yah sab se door se holee khel sakate hain aur yadi koee apane ghar mein hee inake saath aap ek saath rah rahe ho hamase ham gale mein mil sakate ho aur gulaal bhee laga sakate ho magar jo door se aae hain unase thoda sudhaar karen

और जवाब सुनें

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:26
दिवाली की कोरोनावायरस देखते हुए इस बार हमें होली किस सरकार बनानी चाहिए तो देखिए होली में वैसे भी ज्यादा हुड़दंग करना अच्छा नहीं होता तो आपको ज्यादा से ज्यादा लोगों से मिलने से बचना है जितना हो सके अपने घर में रहेंगे अगर कहीं बाहर जा भी रहे हैं तो मुंह पर मास्क लगाइए और किसी से फिजिकल कांटेक्ट में ना आए इससे आप सुरक्षित बिरंगे जो कि सबसे इंपॉर्टेंट बात है
Divaalee kee koronaavaayaras dekhate hue is baar hamen holee kis sarakaar banaanee chaahie to dekhie holee mein vaise bhee jyaada hudadang karana achchha nahin hota to aapako jyaada se jyaada logon se milane se bachana hai jitana ho sake apane ghar mein rahenge agar kaheen baahar ja bhee rahe hain to munh par maask lagaie aur kisee se phijikal kaantekt mein na aae isase aap surakshit birange jo ki sabase importent baat hai

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
कोरोना के प्रभाव को देखते हुए इस बार होली हमें किस प्रकार बनानी चाहिए इस बहाने तो थोड़ी चिकित्सा करने का भाव करने की तकलीफ थोड़े से दिमाग को दी जाए तो इस देश का कुछ बुरा नहीं होने वाला है हर चीज की फिर से समीक्षा करनी पड़ेगी करनी चाहिए होली क्यों मनाते हैं उसमें क्या होता है आखिर भारतीय योग के उत्सव जो है वह आखिर क्या रिजल्ट लाते हैं कैसे मूलभूत और बुनियादी स्ट्रक्चर जो है उसमें कोई बदलाव होते हैं या नहीं सामाजिक स्तर आर्थिक सुरक्षा कौटुंबिक या सांस्कृतिक अभी तो हम तो वैसे मना रहे हैं जैसे मुझे बकरियों वाला होता है ना बकरी चराने वाला और वह जो तो उसके जो बकरी होती है और बकरियां होती है वह समूह में होती है संख्या में दूसरे होती है 200 200 400 उनको कभी भी आप जरूर करो वह नीचे देखते हुए सीधा चलती है अगर उनके साथ चरवाहा नहीं होता होगा तो अगर यह ऐसी नीचे देख कर सामने अगर एक कोई खाई भी हो तो उस खाई में भी चलती चलती चली जाएंगी आगे देखते ही नहीं हम कहां से आए हैं और कहां जाना है देखते ही नहीं है उदयपुर तरीके की भारतीय समाज की व्यवस्था बिना कोई अर्थ वाली चीजें जो है वह बड़े इमानदारी से पुराने भक्ति सॉन्ग करले निकलकर भी करते उसका क्या अर्थ कारण है इसमें किसका फायदा है और किसकी बर्बादी है करुणा के बहाने ही सही सोचने के लिए एक वक्त एक संधि है सरकार ने जब सब किया था नियम तो सब ने रोक दिया था ना भवन को भी छोड़ दिया था इसका मतलब यह है कि यह भगवान भी नकली है उनको महीन भगवानों को मानना भी नकली असली बात नहीं है यह अंदर से आया हुआ वह भाव नहीं है जो बड़े हैं तो पुरुष हुए हैं उन्होंने बताया वह उसके उसमें कोई बात नहीं और उनसे जो उत्सव है दसवीं महाराष्ट्र में 10 दिन चलता है गणेशोत्सव इसमें भी इसी तरह मूर्खों को मुकुल की भीड़ होती है और उनको जानबूझकर थोड़े थोड़े थोड़े पैसे इन केशव मंडल होते हैं गली गली में इनको सेठ लोग और लोकप्रतिनिधी पॉलिटिक्स के अंदर के लोग देते हैं और उनका चुनाव में इस्तेमाल करते हैं अब यह सब बेरोजगार लड़की होते हैं और कुछ लड़कियां भी इसके बहाने घर से बाहर निकलकर मेकअप करके लड़कों को देखने के लिए और लड़कों और लड़कियों ने देखी है देखेंगे इसके कारण ऐसे उत्सव का गाने का फायदा भरना लेकर फायदा उठाकर अपनी मिस्त्री भावनाओं को व्यक्त करती है उसमें कोई आपत्ति नहीं है लेकिन ऐसी सारे उत्सव का अर्थ कारण का सारा उसमें से बता देता हूं कि यह सब व्यापारियों का फायदा करने वाले त्योहार और उत्सव है ओरिया का बचा हुआ जो वर्ग है इस देश का किसान और बाकि का सारा भोजन बहुजन वर्ग और आदिवासी वर्ग इनका आर्थिक शोषण करने वाली सबूत सर्वे क्रिकेट के टूर्नामेंट भी भरवा थे अभी लोकल लीडर्स और पूरा दिन भर मैच चलता है कॉमेंट्री चलती है और देख तेरे देखने वाली भी सैकड़ों की संख्या में और पूर्व खेलने वाली भी लड़के सैकड़ों की संख्या में गांव गांव से आते और इनको डोनेशन देता है वहां का दो नंबर का पैसा पैसे वाला जिसका हराम का कमाया हुआ होता है और इनका इस्तेमाल किया जाता है और इनका जो लक्ष्य है वह मूल प्रश्नों से हटाकर ऐसे एंटरटेनमेंट वाली विषय में कुछ देर तक रखने में सफल हो जाते हैं इससे विद्रोह नहीं होता है ना और उनकी 70 ऐसी बनी रहती है धन्यवाद
Korona ke prabhaav ko dekhate hue is baar holee hamen kis prakaar banaanee chaahie is bahaane to thodee chikitsa karane ka bhaav karane kee takaleeph thode se dimaag ko dee jae to is desh ka kuchh bura nahin hone vaala hai har cheej kee phir se sameeksha karanee padegee karanee chaahie holee kyon manaate hain usamen kya hota hai aakhir bhaarateey yog ke utsav jo hai vah aakhir kya rijalt laate hain kaise moolabhoot aur buniyaadee strakchar jo hai usamen koee badalaav hote hain ya nahin saamaajik star aarthik suraksha kautumbik ya saanskrtik abhee to ham to vaise mana rahe hain jaise mujhe bakariyon vaala hota hai na bakaree charaane vaala aur vah jo to usake jo bakaree hotee hai aur bakariyaan hotee hai vah samooh mein hotee hai sankhya mein doosare hotee hai 200 200 400 unako kabhee bhee aap jaroor karo vah neeche dekhate hue seedha chalatee hai agar unake saath charavaaha nahin hota hoga to agar yah aisee neeche dekh kar saamane agar ek koee khaee bhee ho to us khaee mein bhee chalatee chalatee chalee jaengee aage dekhate hee nahin ham kahaan se aae hain aur kahaan jaana hai dekhate hee nahin hai udayapur tareeke kee bhaarateey samaaj kee vyavastha bina koee arth vaalee cheejen jo hai vah bade imaanadaaree se puraane bhakti song karale nikalakar bhee karate usaka kya arth kaaran hai isamen kisaka phaayada hai aur kisakee barbaadee hai karuna ke bahaane hee sahee sochane ke lie ek vakt ek sandhi hai sarakaar ne jab sab kiya tha niyam to sab ne rok diya tha na bhavan ko bhee chhod diya tha isaka matalab yah hai ki yah bhagavaan bhee nakalee hai unako maheen bhagavaanon ko maanana bhee nakalee asalee baat nahin hai yah andar se aaya hua vah bhaav nahin hai jo bade hain to purush hue hain unhonne bataaya vah usake usamen koee baat nahin aur unase jo utsav hai dasaveen mahaaraashtr mein 10 din chalata hai ganeshotsav isamen bhee isee tarah moorkhon ko mukul kee bheed hotee hai aur unako jaanaboojhakar thode thode thode paise in keshav mandal hote hain galee galee mein inako seth log aur lokapratinidhee politiks ke andar ke log dete hain aur unaka chunaav mein istemaal karate hain ab yah sab berojagaar ladakee hote hain aur kuchh ladakiyaan bhee isake bahaane ghar se baahar nikalakar mekap karake ladakon ko dekhane ke lie aur ladakon aur ladakiyon ne dekhee hai dekhenge isake kaaran aise utsav ka gaane ka phaayada bharana lekar phaayada uthaakar apanee mistree bhaavanaon ko vyakt karatee hai usamen koee aapatti nahin hai lekin aisee saare utsav ka arth kaaran ka saara usamen se bata deta hoon ki yah sab vyaapaariyon ka phaayada karane vaale tyohaar aur utsav hai oriya ka bacha hua jo varg hai is desh ka kisaan aur baaki ka saara bhojan bahujan varg aur aadivaasee varg inaka aarthik shoshan karane vaalee saboot sarve kriket ke toornaament bhee bharava the abhee lokal leedars aur poora din bhar maich chalata hai komentree chalatee hai aur dekh tere dekhane vaalee bhee saikadon kee sankhya mein aur poorv khelane vaalee bhee ladake saikadon kee sankhya mein gaanv gaanv se aate aur inako doneshan deta hai vahaan ka do nambar ka paisa paise vaala jisaka haraam ka kamaaya hua hota hai aur inaka istemaal kiya jaata hai aur inaka jo lakshy hai vah mool prashnon se hataakar aise entaratenament vaalee vishay mein kuchh der tak rakhane mein saphal ho jaate hain isase vidroh nahin hota hai na aur unakee 70 aisee banee rahatee hai dhanyavaad

Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
1:06
दोस्तों आपका स्वागत कोरोना के प्रभाव को देखते हुए इस बार की होली हमें किस प्रकार की मांग चाहिए तो पुराना काल के देखते हुए रंगों का त्यौहार होली आने ही वाला है लेकिन क्या सच है कोरोनावायरस खतरनाक खतरे के बीच होली खेलना बहुत ही रिस्की होगी तो होली हो सकता है आप होली ग्रंथ कलर हो तो बिल्कुल भी ना करें क्योंकि कल खेलने से आपको वायरस का फैलाव बढ़ सकता है तो इसलिए ध्यान रखा कि होली पर आप कलर मत खेले और अगर आप किसी डॉक्टर से बात करते तो डॉक्टर की बातों को सलाम आने और इस बार इस साल की होली मनाने से भी बचे हो सकता है तो आप अतुल कार्यक्रम हो होली पर तो जाने से बचे वहां पर होली मिलन कार्यक्रम भी जाने से बचे सुरक्षित रहेंगे आप और सुरक्षा सावधानी आपके हाथ में आप डिसाइड कर लीजिए कि आपको होली मना नहीं है या नहीं अगर आप होली मनाते हो तो कोई दिक्कत नहीं होली मना सकते हो पर अपनी खुद की सेफ्टी खुद के पास होनी चाहिए धन्यवाद दोस्तों
Doston aapaka svaagat korona ke prabhaav ko dekhate hue is baar kee holee hamen kis prakaar kee maang chaahie to puraana kaal ke dekhate hue rangon ka tyauhaar holee aane hee vaala hai lekin kya sach hai koronaavaayaras khataranaak khatare ke beech holee khelana bahut hee riskee hogee to holee ho sakata hai aap holee granth kalar ho to bilkul bhee na karen kyonki kal khelane se aapako vaayaras ka phailaav badh sakata hai to isalie dhyaan rakha ki holee par aap kalar mat khele aur agar aap kisee doktar se baat karate to doktar kee baaton ko salaam aane aur is baar is saal kee holee manaane se bhee bache ho sakata hai to aap atul kaaryakram ho holee par to jaane se bache vahaan par holee milan kaaryakram bhee jaane se bache surakshit rahenge aap aur suraksha saavadhaanee aapake haath mein aap disaid kar leejie ki aapako holee mana nahin hai ya nahin agar aap holee manaate ho to koee dikkat nahin holee mana sakate ho par apanee khud kee sephtee khud ke paas honee chaahie dhanyavaad doston

sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
2:17
गुड इवनिंग सवाल यह है कि कोरोनावायरस भाव को देखते हुए इस बार होली हमें किस प्रकार बनानी चाहिए देखिए सावधानी ही सुरक्षा है कहा गया है कोरोनावायरस और जालौर प्रभावित है वहां के लिए तो निश्चित रूप से ही घातक है और जहां नहीं है वहां से कुछ भी नहीं है जैसे हम लोग जहां है अभी यहां कोरोनावायरस कुछ भी नहीं है लोग समझते हैं कि बिल्कुल ही कुछ नहीं है यह एक ऐसे ही है जिसका कुछ भी तो नहीं है और इसीलिए लोगों ने सावधानी भी करना छोड़ दिया करो हम बिल्कुल सामान्य जीवन हो गया है खुद ना लोगों के मन में जो भय था पहले वह बिल्कुल भी नहीं है और सामान्य तरह से ठीक है यह अच्छी तरह जीवन जीना उचित भी नहीं है लेकिन हां सावधानी रखनी चाहिए हमें सावधान रहना चाहिए क्योंकि हो जाने के बाद कुछ भी फिर पछताना पड़ता है इसलिए होली को मतलब हो मुझे लगता है कि यह दिवाली होली नहीं खेलने चाहिए कोरोना प्रभाव को देखते हुए दूर-दूर से ही जो हो जाए जितना हो जाए और जो मतलब है नाखून आंख का यह सब बचा कर मतलब ढीली होने से ही ज्यादा खतरा है करोड़ों का एड्रेस सुखी वही जो हम खेलते हैं अभीर गुलाल लगा लेते हैं तो उसे बहुत अधिक नहीं है तो सावधान होकर ही खेला जाए तो ज्यादा उचित है
Gud ivaning savaal yah hai ki koronaavaayaras bhaav ko dekhate hue is baar holee hamen kis prakaar banaanee chaahie dekhie saavadhaanee hee suraksha hai kaha gaya hai koronaavaayaras aur jaalaur prabhaavit hai vahaan ke lie to nishchit roop se hee ghaatak hai aur jahaan nahin hai vahaan se kuchh bhee nahin hai jaise ham log jahaan hai abhee yahaan koronaavaayaras kuchh bhee nahin hai log samajhate hain ki bilkul hee kuchh nahin hai yah ek aise hee hai jisaka kuchh bhee to nahin hai aur iseelie logon ne saavadhaanee bhee karana chhod diya karo ham bilkul saamaany jeevan ho gaya hai khud na logon ke man mein jo bhay tha pahale vah bilkul bhee nahin hai aur saamaany tarah se theek hai yah achchhee tarah jeevan jeena uchit bhee nahin hai lekin haan saavadhaanee rakhanee chaahie hamen saavadhaan rahana chaahie kyonki ho jaane ke baad kuchh bhee phir pachhataana padata hai isalie holee ko matalab ho mujhe lagata hai ki yah divaalee holee nahin khelane chaahie korona prabhaav ko dekhate hue door-door se hee jo ho jae jitana ho jae aur jo matalab hai naakhoon aankh ka yah sab bacha kar matalab dheelee hone se hee jyaada khatara hai karodon ka edres sukhee vahee jo ham khelate hain abheer gulaal laga lete hain to use bahut adhik nahin hai to saavadhaan hokar hee khela jae to jyaada uchit hai

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
2:33
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि कोरोना के प्रभाव को देखते हुए इस बार होली हमें किस प्रकार मनानी चाहिए तो दोस्तों पिछले वर्ष की 2020 की आप होली याद कीजिए उस समय कोरोना महामारी का प्रारंभ था और किस प्रकार होली में काफी लोग तो करी गई थी लोग दूरी बना रहे थे और कई लोगों को इकट्ठा होने को मना किया जा रहा था उसने लोगों ने समूहों ने खोली ना मनाने का फैसला किया था वैसी ही घड़ी समय भी है उस समय प्रारंभ होता तो इस समय पूर्णा का एक तरह से धीरे-धीरे अंत होता जा रहा है इसकी गति निशान आ चुकी है तो हमें लेकिन बचाव करना है अपना दोस्तों का करना है पड़ोसियों करना है तो सोशल डिस्टेंसिंग को होली में हो नहीं सकती है तो रहना है लेकिन माफ जरूर लगाएं कोशिश करें कि किसी को रंग ना लगाएं वैसे यूपी-बिहार में जैसे कि मैं देखा रिवाज है बड़ों को तो रंग लगा ही नहीं जाता है उनके चरणों पर रंग रखा जाता है अपने से बनी तो पाश्चात्य सभ्यता यार थोड़ा कल्चर खुला कल चला बोल सकते हैं गैरों में परिवार के सदस्य हैं लगाकर रखे और समूह में ना जाएं का समूह का कोई आपके परिवार का यह कुछ जानकार मित्रों का समूह है तो उसमें आप ही मना सकते हैं पिछली बार याद है कि होली से कतरा रहे थे लेकिन हमने एक होली में बड़े स्तर पर प्रोग्राम किया था कॉलोनी के ही लोगों से मिलकर करते भगवान की दया से सब कुछ नहीं निकल गया इस बार हमने भी ऐसा मन में सोचा है कितना फिर से होली का आयोजन किया जाए लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग से मात्र लगाकर सावधानी से बच्चे भी लेते हैं अनजान व्यक्ति से संपर्क में आ रहे हैं क्योंकि आप पड़ोसी आसपास के मित्रों के साथ ना दे तो आप जानते हैं क्यों कहीं बाहर से नहीं गया है कहीं से आया नहीं है लेकिन तो भी सावधानी होती है तो जग रहे हैं लेकिन अपने त्यौहार को मनाएं क्योंकि बहुत लगा देते हैं कि त्योहार नहीं मनाते दोस्तों अपनी संस्कृति को बचाकर रखना भी एक अहम हमें भूमिका निभानी है और सावधानी बरतनी है धन्यवाद
Namaskaar doston prashn hai ki korona ke prabhaav ko dekhate hue is baar holee hamen kis prakaar manaanee chaahie to doston pichhale varsh kee 2020 kee aap holee yaad keejie us samay korona mahaamaaree ka praarambh tha aur kis prakaar holee mein kaaphee log to karee gaee thee log dooree bana rahe the aur kaee logon ko ikattha hone ko mana kiya ja raha tha usane logon ne samoohon ne kholee na manaane ka phaisala kiya tha vaisee hee ghadee samay bhee hai us samay praarambh hota to is samay poorna ka ek tarah se dheere-dheere ant hota ja raha hai isakee gati nishaan aa chukee hai to hamen lekin bachaav karana hai apana doston ka karana hai padosiyon karana hai to soshal distensing ko holee mein ho nahin sakatee hai to rahana hai lekin maaph jaroor lagaen koshish karen ki kisee ko rang na lagaen vaise yoopee-bihaar mein jaise ki main dekha rivaaj hai badon ko to rang laga hee nahin jaata hai unake charanon par rang rakha jaata hai apane se banee to paashchaaty sabhyata yaar thoda kalchar khula kal chala bol sakate hain gairon mein parivaar ke sadasy hain lagaakar rakhe aur samooh mein na jaen ka samooh ka koee aapake parivaar ka yah kuchh jaanakaar mitron ka samooh hai to usamen aap hee mana sakate hain pichhalee baar yaad hai ki holee se katara rahe the lekin hamane ek holee mein bade star par prograam kiya tha kolonee ke hee logon se milakar karate bhagavaan kee daya se sab kuchh nahin nikal gaya is baar hamane bhee aisa man mein socha hai kitana phir se holee ka aayojan kiya jae lekin soshal distensing se maatr lagaakar saavadhaanee se bachche bhee lete hain anajaan vyakti se sampark mein aa rahe hain kyonki aap padosee aasapaas ke mitron ke saath na de to aap jaanate hain kyon kaheen baahar se nahin gaya hai kaheen se aaya nahin hai lekin to bhee saavadhaanee hotee hai to jag rahe hain lekin apane tyauhaar ko manaen kyonki bahut laga dete hain ki tyohaar nahin manaate doston apanee sanskrti ko bachaakar rakhana bhee ek aham hamen bhoomika nibhaanee hai aur saavadhaanee baratanee hai dhanyavaad

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:56
कुरौना के प्रभाव को देखते हुए इस बार होली हमें किस प्रकार से मनानी चाहिए प्लीज सबसे अच्छी बात है कि हमें क्रोनाका इफेक्ट देखते हुए ही कोई त्यौहार मनाना चाहिए और यह होली का त्यौहार होता है एक दूसरे से हम मतलब कहा जाए कि चिपक के हम काम करते हैं एक दूसरे से सटके या तो उसको रंग लगाएंगे तो उसे हम जरूर संपर्क में आएंगे तो क्या है कि अगर जहां पर कोरोनावायरस एक्ट ज्यादा है या कम है तब जहां पर करो ना कहीं फैक्ट है वहां तो लोगों को एक डिस्टेंस बनाकर ही रखनी चाहिए बस एक त्यौहार के नाम पर आप हमसे नमस्कार कर लीजिए हैप्पी होली के रूप में आप बोल सकते हैं लेकिन जहां पर कुरोना का कोई इफेक्ट नहीं है वहां पर तो आप होली का त्यौहार मना सकते हैं क्योंकि हमारे एक राष्ट्रीय पर्व है राष्ट्रीय त्योहार के रूप में मनाया जाता है और बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाती है इसमें हम एक दूसरे के साथ गले मिलते हैं वीर लगा दे रंग लगाते हैं उन्हें गुजिया खिलाते हैं उन्हें बहुत सारे ऐसे घर के पकवान होते हम खिलाते हैं और एक कहा जाए कि कुछ ऐसी बातें होती है जो हम इसलिए भूल कर हम दोस्ती का हाथ भी बढ़ाते हैं तो इस तरीके से हमें अच्छा से हर्षोल्लास के साथ मनाया चेक इन कोरोनावायरस है कुछ भी अगर ही हो खुराना की फैक्ट्री कहां पर हमें एक दूसरे दूसरे से डिस्टेंस बनाकर रखनी चाहिए और दिखा जा तू मैक्सिमम भारत में बहुत अच्छी स्थिति हो गई है कि बहुत कम आ रहे हैं और आपको बता दें कि इसमें त्यौहार को बढ़िया अच्छा से मनाना चाहिए और जहां तक है कि आप भी थोड़ा सा एक विंटेज डिस्टेंस मेंटेन करके भी मनाते हैं तो आपके लिए बेस्ट होगा क्योंकि अगली साल आपका बेस्ट होगा क्योंकि इस 2021 में हमको रोना से पूरी तरह से हमारा देश मुक्त हो जाएगा हम आशा और विश्वास के साथ कह रहे हैं और इसके साथ हम आने वाला हर त्यौहार को बड़े खुशी के साथ रहेंगे
Kurauna ke prabhaav ko dekhate hue is baar holee hamen kis prakaar se manaanee chaahie pleej sabase achchhee baat hai ki hamen kronaaka iphekt dekhate hue hee koee tyauhaar manaana chaahie aur yah holee ka tyauhaar hota hai ek doosare se ham matalab kaha jae ki chipak ke ham kaam karate hain ek doosare se satake ya to usako rang lagaenge to use ham jaroor sampark mein aaenge to kya hai ki agar jahaan par koronaavaayaras ekt jyaada hai ya kam hai tab jahaan par karo na kaheen phaikt hai vahaan to logon ko ek distens banaakar hee rakhanee chaahie bas ek tyauhaar ke naam par aap hamase namaskaar kar leejie haippee holee ke roop mein aap bol sakate hain lekin jahaan par kurona ka koee iphekt nahin hai vahaan par to aap holee ka tyauhaar mana sakate hain kyonki hamaare ek raashtreey parv hai raashtreey tyohaar ke roop mein manaaya jaata hai aur bade harshollaas ke saath manaaya jaatee hai isamen ham ek doosare ke saath gale milate hain veer laga de rang lagaate hain unhen gujiya khilaate hain unhen bahut saare aise ghar ke pakavaan hote ham khilaate hain aur ek kaha jae ki kuchh aisee baaten hotee hai jo ham isalie bhool kar ham dostee ka haath bhee badhaate hain to is tareeke se hamen achchha se harshollaas ke saath manaaya chek in koronaavaayaras hai kuchh bhee agar hee ho khuraana kee phaiktree kahaan par hamen ek doosare doosare se distens banaakar rakhanee chaahie aur dikha ja too maiksimam bhaarat mein bahut achchhee sthiti ho gaee hai ki bahut kam aa rahe hain aur aapako bata den ki isamen tyauhaar ko badhiya achchha se manaana chaahie aur jahaan tak hai ki aap bhee thoda sa ek vintej distens menten karake bhee manaate hain to aapake lie best hoga kyonki agalee saal aapaka best hoga kyonki is 2021 mein hamako rona se pooree tarah se hamaara desh mukt ho jaega ham aasha aur vishvaas ke saath kah rahe hain aur isake saath ham aane vaala har tyauhaar ko bade khushee ke saath rahenge

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:52
स्वागत है आपका आपका प्रश्न करो ना कि प्रभाव को देखते हुए इस बार होली हमें किस प्रकार मनानी चाहिए तो फ्रेंड से हम सभी को पता है कि इस समय कोरोनावायरस चल रहा है तुम लोगों को होली बहुत ही ज्यादा भीड़ भाड़ लगाकर नहीं मनाना है मैं सिंपल तरीके से होली मनाना है और ज्यादा हम लोगों को सामूहिक तौर पर नहीं मनाना है अपने घर में ही रहकर होली मनाइए और अपने घर के सदस्यों को एक दूसरे को टीका लगा लेना है और बहुत ज्यादा यहां वहां मैं घूमने नहीं जाना है और हम लोगों को करो ना का जो भी प्रोटोकोल है उसको फॉलो करना है मास्क लगाना है सैनिटाइजर से हाथ धोना है और हम लोगों को दूरी बना कर रखना इन लोगों से तो इस बार होली में भी हमें जैसे हमने हर फेस्टिवल मनाए हैं सिंपल तरीके से उसी प्रकार से मैं बोली भी इस बार सिंपल तरीके से ही मनाना है धन्यवाद
Svaagat hai aapaka aapaka prashn karo na ki prabhaav ko dekhate hue is baar holee hamen kis prakaar manaanee chaahie to phrend se ham sabhee ko pata hai ki is samay koronaavaayaras chal raha hai tum logon ko holee bahut hee jyaada bheed bhaad lagaakar nahin manaana hai main simpal tareeke se holee manaana hai aur jyaada ham logon ko saamoohik taur par nahin manaana hai apane ghar mein hee rahakar holee manaie aur apane ghar ke sadasyon ko ek doosare ko teeka laga lena hai aur bahut jyaada yahaan vahaan main ghoomane nahin jaana hai aur ham logon ko karo na ka jo bhee protokol hai usako pholo karana hai maask lagaana hai sainitaijar se haath dhona hai aur ham logon ko dooree bana kar rakhana in logon se to is baar holee mein bhee hamen jaise hamane har phestival manae hain simpal tareeke se usee prakaar se main bolee bhee is baar simpal tareeke se hee manaana hai dhanyavaad

srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:52

Chetan Chandrawanshi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chetan जी का जवाब
Finding a part time job
1:30
वैसे तो कोरोना कब हो गया है और वैपकिंग भी आ गई है उसकी लेकिन कम हुआ है खत्म नहीं हुआ यह देखते हुए होली मनाएं एकजुट होकर मिलजुल कर मनाएं लेकिन हो सके तो मास्क लगाने और सावधानियां बरती देखिए मास लगाने में लोगों को प्रणाम इतनी होती है कि सांस लेने में थोड़ी परेशानी होती है और उससे उससे फायदा यह है कि हमारी सांस लेने की क्षमता बढ़ेगी और हम जो बोलते हैं वह भी आवाज थोड़ी कम आती है तो सामने वाले को सुनने में परेशानी होती है तो उसको समझने के लिए ज्यादा फोकस करता है तो इसमें भी है वह आदत सी हो जाएगी काम निकलने वाली आवाज को समझने की अच्छी बात है और एक पॉल्यूशन जो बहुत ही बढ़िया है पूरी दुनिया में इससे भी बताते हैं मां तो मां मुझे नहीं लगता कोई घाटा फायदा ही शानदार क्यों अभी से एडवांस में हैप्पी होली मनाई मिलकर बनाएंगे खुश रहिए सावधानी करें धन्यवाद
Vaise to korona kab ho gaya hai aur vaipaking bhee aa gaee hai usakee lekin kam hua hai khatm nahin hua yah dekhate hue holee manaen ekajut hokar milajul kar manaen lekin ho sake to maask lagaane aur saavadhaaniyaan baratee dekhie maas lagaane mein logon ko pranaam itanee hotee hai ki saans lene mein thodee pareshaanee hotee hai aur usase usase phaayada yah hai ki hamaaree saans lene kee kshamata badhegee aur ham jo bolate hain vah bhee aavaaj thodee kam aatee hai to saamane vaale ko sunane mein pareshaanee hotee hai to usako samajhane ke lie jyaada phokas karata hai to isamen bhee hai vah aadat see ho jaegee kaam nikalane vaalee aavaaj ko samajhane kee achchhee baat hai aur ek polyooshan jo bahut hee badhiya hai pooree duniya mein isase bhee bataate hain maan to maan mujhe nahin lagata koee ghaata phaayada hee shaanadaar kyon abhee se edavaans mein haippee holee manaee milakar banaenge khush rahie saavadhaanee karen dhanyavaad

Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
1:48
बहुत है पता कि आप ने प्रश्न किया है कि करुणा के प्रभाव को देखते हुए इस बार होली हमें किस प्रकार मनाना चाहिए तो देखिए अभी जो है जिस प्रकार आंकड़े अभी भी करो ना कि आ रहे हैं तो इसमें आपको थोड़ा गुस्सा होना नहीं तो भरत नहीं चाहिए क्योंकि हम सभी जानते हैं कि जो रंग गुलाल जो केमिकल युक्त है आजकल आ रहे हैं और पिछले वर्ष देखा गया कि चीनी सामानों को काफी हद तक होली में बहिष्कार किया गया लेकिन अभी भी डर है कि वह चीजें हमारे सामने आ सकती है और किस रूप में आएंगे हमें पता नहीं है तो मुझे लगता है कि इस स्थिति में आपको रंग और गुलाल से परहेज करना ही चाहिए हालांकि हम सभी जानते हैं कि यह भाईचारे का त्यौहार है सभी एक दूसरे से गले मिलते हैं तो यह बात तो जरूर है लेकिन मुझे लगता है कि करुणा काल में भी अभी इतनी छोटी अपनी सुंदरता नहीं है जिसकी वजह से पहले जैसा हम इस त्यौहार को मना पाए मुझे लगता है कि इसमें आपको बीच दूरी अभी बनाना चाहिए आप अपने परिवार में अपने आसपास से जिसको आप जानते हो उसे होली अब खेल सकते हैं लेकिन आप अजनबी या अन्य लोगों से आपके दिल में होली ना खेलें उनके साथ में जितना कम हो ना उतना कम ही उनके संपर्क में रहे तो यह बातें हैं कि आप सभी को इसमें थोड़ा सा कंट्रोल करना चाहिए क्योंकि धीरे धीरे मुझे लगता है कि सब्जी की सामान्य हो जाएंगे तो आप वाले की भांति जो है होली खेल सकते हैं
Bahut hai pata ki aap ne prashn kiya hai ki karuna ke prabhaav ko dekhate hue is baar holee hamen kis prakaar manaana chaahie to dekhie abhee jo hai jis prakaar aankade abhee bhee karo na ki aa rahe hain to isamen aapako thoda gussa hona nahin to bharat nahin chaahie kyonki ham sabhee jaanate hain ki jo rang gulaal jo kemikal yukt hai aajakal aa rahe hain aur pichhale varsh dekha gaya ki cheenee saamaanon ko kaaphee had tak holee mein bahishkaar kiya gaya lekin abhee bhee dar hai ki vah cheejen hamaare saamane aa sakatee hai aur kis roop mein aaenge hamen pata nahin hai to mujhe lagata hai ki is sthiti mein aapako rang aur gulaal se parahej karana hee chaahie haalaanki ham sabhee jaanate hain ki yah bhaeechaare ka tyauhaar hai sabhee ek doosare se gale milate hain to yah baat to jaroor hai lekin mujhe lagata hai ki karuna kaal mein bhee abhee itanee chhotee apanee sundarata nahin hai jisakee vajah se pahale jaisa ham is tyauhaar ko mana pae mujhe lagata hai ki isamen aapako beech dooree abhee banaana chaahie aap apane parivaar mein apane aasapaas se jisako aap jaanate ho use holee ab khel sakate hain lekin aap ajanabee ya any logon se aapake dil mein holee na khelen unake saath mein jitana kam ho na utana kam hee unake sampark mein rahe to yah baaten hain ki aap sabhee ko isamen thoda sa kantrol karana chaahie kyonki dheere dheere mujhe lagata hai ki sabjee kee saamaany ho jaenge to aap vaale kee bhaanti jo hai holee khel sakate hain

Manish Bhati Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Manish जी का जवाब
Life coach, professional counsellor & Relationship expert. Fitness & Motivational Coach
1:08
दीपक दिशा क्या क्वेश्चन है करो ना को प्रभाव को देखते हुए इस बार हमें होली किस प्रकार मनाना चाहिए आपके जैसा क्वेश्चन है मैं आपको बताना चाहता हूं काम करने का प्रभाव तो बहुत अच्छा है काफी कम भी हो गया लेकिन मैं आपको होली हरदम तिलक होली मनाने क्यों खोली कि कोई और नहीं है क्योंकि काफी बुरे प्रभाव में आंखों में कलर चले जाना केमिकल से नाम पहुंचा फरजाना देखा जाए तो काफी लोग गंदे प्रकार से होली मनाते हैं तो वह होली का यह मतलब है आप तिलक होली मनाइए को सबसे बेस्ट होती है इसलिए मना नहीं चाहिए क्योंकि वह ऐसे में अगर आपको किसी ने तो आप नॉर्मल गुलाल से खेली पक्के रखना करुणा का प्रभाव को देखते रहे और इससे भी अच्छी चीज है अगर करो ना तो देखते हो किसी से हैं आप गलत हो गया पहन के तिलक होली लगा सकते हैं आपके लिए सबसे बेस्ट है आप वन टाइम यूज़ वाले क्लब सुला पहन के होली खेल सकते हैं अगर आपको खेलनी है तो मैसेज धन्यवाद
Deepak disha kya kveshchan hai karo na ko prabhaav ko dekhate hue is baar hamen holee kis prakaar manaana chaahie aapake jaisa kveshchan hai main aapako bataana chaahata hoon kaam karane ka prabhaav to bahut achchha hai kaaphee kam bhee ho gaya lekin main aapako holee haradam tilak holee manaane kyon kholee ki koee aur nahin hai kyonki kaaphee bure prabhaav mein aankhon mein kalar chale jaana kemikal se naam pahuncha pharajaana dekha jae to kaaphee log gande prakaar se holee manaate hain to vah holee ka yah matalab hai aap tilak holee manaie ko sabase best hotee hai isalie mana nahin chaahie kyonki vah aise mein agar aapako kisee ne to aap normal gulaal se khelee pakke rakhana karuna ka prabhaav ko dekhate rahe aur isase bhee achchhee cheej hai agar karo na to dekhate ho kisee se hain aap galat ho gaya pahan ke tilak holee laga sakate hain aapake lie sabase best hai aap van taim yooz vaale klab sula pahan ke holee khel sakate hain agar aapako khelanee hai to maisej dhanyavaad

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:08
करा करो ना के प्रभाव को देखते हुए एक बार हमें होली किस प्रकार बनानी चाहिए होली का त्यौहार होता है तो आप ही मना सकते हैं जैसे होली करके देखा जाता है कि आप अभी रंग डाले जाते हैं तो आप अगर करो ना आप को देखना चाहते हैं तो थोड़ा बहुत भी अगर आप पार्टी मनाते हैं जैसे खुशियों का त्योहार आप एक अच्छे से मिल सकते हैं बातें कर सकते हैं एक दूसरे के साथ बैठ सकते हैं और एक साथ खाना खाते हैं अच्छे-अच्छे पकवान बनाकर खा सकते हैं अगर आप ऐसा करते हैं आपको अरोड़ा के बचे रह सकते हैं आपके अपना ध्यान में रखते हुए होली को मनाई होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएं करते हैं सवाल का जवाब पसंद आएगा आप लोग को भी खुश रखे
Kara karo na ke prabhaav ko dekhate hue ek baar hamen holee kis prakaar banaanee chaahie holee ka tyauhaar hota hai to aap hee mana sakate hain jaise holee karake dekha jaata hai ki aap abhee rang daale jaate hain to aap agar karo na aap ko dekhana chaahate hain to thoda bahut bhee agar aap paartee manaate hain jaise khushiyon ka tyohaar aap ek achchhe se mil sakate hain baaten kar sakate hain ek doosare ke saath baith sakate hain aur ek saath khaana khaate hain achchhe-achchhe pakavaan banaakar kha sakate hain agar aap aisa karate hain aapako aroda ke bache rah sakate hain aapake apana dhyaan mein rakhate hue holee ko manaee holee kee bahut-bahut shubhakaamanaen karate hain savaal ka javaab pasand aaega aap log ko bhee khush rakhe

Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:08
नमस्कार दोस्तों कैसे सामाजिक उर्मिला के प्रभाव को देखते हुए इस बार होली हमें किस प्रकार बनानी चाहिए थी क्या हमारी राय जहां तक है तो आपको मतलब इस बार होली मनाने का मतलब यह है कि आप मिले एकदम साधारण तरीके से होली मना है क्योंकि देखिए खुश होना के कारण हाथ में बड़े-बड़े लोगों से लोगों को बंद हो गए तो बोली में कौन सी चीज है वही तो हर साल आती है पर चाल में फंस उल्लास के साथ बना सकते लेकिन इस बार की बात की जाए तो इस पर हम जिस प्रकार खेलते गुलाल खेलते दूसरे के गले मिलते थे दोस्तों के रिश्तेदारों को बिल्कुल नहीं करना जहां तक तो हमें यह भी करना कि मैं अपने घर पर रहना सुरक्षित रहना क्योंकि देखे क्या है कि अगर आप अपने घर पर रहते सुरक्षित रहते हम लोग बाहर नहीं निकलते तो आप मंडप सेक्सी दिखाएंगे और लोग गले तो आप किसी से मिले ही ना मिलो किसी प्रकार से और रंग गुलाल बिना के लिए मगर हमको खेल नहीं तो अपनी सुरक्षा से मिलोगे बाकी आप लोगों की मर्जी है तो हमारी सबसे तो आप यही सब पर ही तो उम्मीद करता हूं उसका जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
<HTML><HEAD><meta http-equiv='c

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कोरोना के प्रभाव को देखते हुए इस बार होली हमें किस प्रकार मनानी चाहिए इस बार होली हमें किस प्रकार मनानी चाहिए
URL copied to clipboard