#undefined

bolkar speaker

साष्टांग प्रणाम करने का कारण स्पष्ट करें?

Sashtang Pranaam Karne Ka Karan Spasht Kare
Vaishnavi Pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Vaishnavi जी का जवाब
Student / Artist
1:08
नमस्कार आप ने प्रश्न किया है कि साष्टांग प्रणाम करने का कारण स्पष्ट करें तो देखें शास्त्रों में इसे दंडवत प्रणाम भी कहा जाता है प्राचीन काल में दंड जो है देवास को कहा जाता था उसको भूमि पर लेटा कर यानी स्थल रख देते थे तो उस मुद्रा को दंडवत कहा जाता था जब शरीर को इसी अवस्था में मुंह के बल भूमि पर लिटा दिया जाता है तो इससे दंडवत प्रणाम कहते हैं ऐसा माना जाता है कि दंडवत प्रणाम व्यक्ति जो है वह सब कुछ भूल कर केवल अपने स्वयं के प्रति पूरी तरह से समर्पित हो जाता है प्रणाम की मुद्रा में जो व्यक्ति है उसकी सभी इंद्रियों को पांच पांच ज्ञानेंद्रियों और पांच कर्मेंद्रियों को कछुए की तरह समेटकर अपने शब्द है को समर्पित होना पड़ता है और जब वह दंडवत प्रणाम करता है तो उसे ऐसा महसूस क्या बात में निवेदन और मौन श्रद्धा के अलावा उसे कुछ
Namaskaar aap ne prashn kiya hai ki saashtaang pranaam karane ka kaaran spasht karen to dekhen shaastron mein ise dandavat pranaam bhee kaha jaata hai praacheen kaal mein dand jo hai devaas ko kaha jaata tha usako bhoomi par leta kar yaanee sthal rakh dete the to us mudra ko dandavat kaha jaata tha jab shareer ko isee avastha mein munh ke bal bhoomi par lita diya jaata hai to isase dandavat pranaam kahate hain aisa maana jaata hai ki dandavat pranaam vyakti jo hai vah sab kuchh bhool kar keval apane svayan ke prati pooree tarah se samarpit ho jaata hai pranaam kee mudra mein jo vyakti hai usakee sabhee indriyon ko paanch paanch gyaanendriyon aur paanch karmendriyon ko kachhue kee tarah sametakar apane shabd hai ko samarpit hona padata hai aur jab vah dandavat pranaam karata hai to use aisa mahasoos kya baat mein nivedan aur maun shraddha ke alaava use kuchh

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • साष्टांग प्रणाम करने का कारण स्पष्ट करें साष्टांग प्रणाम करने का कारण
URL copied to clipboard