#भारत की राजनीति

Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
𝔖𝔱𝔲𝔡𝔢𝔫𝔱 | 𝔈𝔡𝔲𝔠𝔞𝔱𝔦𝔬𝔫𝔦𝔰𝔱
1:01
पिछला अथवा कठिन न्यायालय अपने अधिकार क्षेत्र का उल्लंघन ना करें इस विषय में दिया जाने वाला आदि अनुच्छेद 32 के हिसाब से जो हमारा सर्वोच्च न्यायालय है वह 5 तरह की की रिट जारी करता है जिसके द्वारा हम अपने मौलिक अधिकारों को प्रवर्तन करा देते हैं इसमें एक होता है प्रति से दिल्ली की यानी कि प्रोविजन इसके अनुसार क्या होता है यह ज्ञापन सर्वोच्च न्यायालय तथा उच्च न्यायालय द्वारा निर्णय न्यायालय व अर्ध न्यायिक न्यायाधिकरण को जारी करते समय आदेश दिया जाता है कि इस मामले में अपने यहां कार्यवाही ना करें कि मामला उनके अधिकार क्षेत्र के बाहर अगर कोई भी छोटा निहाल है यह जमीनी स्तर पर निराले होते हैं वह अपने अधिकार क्षेत्र से बाहर के किसी भी मामले पर कार्रवाई करता है तो जो बढ़ाने वाले होता है उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय वह यह दे दे सकता है कि अपने यह कार्यवाही न करें या आपके अधिकार क्षेत्र के बाहर
Pichhala athava kathin nyaayaalay apane adhikaar kshetr ka ullanghan na karen is vishay mein diya jaane vaala aadi anuchchhed 32 ke hisaab se jo hamaara sarvochch nyaayaalay hai vah 5 tarah kee kee rit jaaree karata hai jisake dvaara ham apane maulik adhikaaron ko pravartan kara dete hain isamen ek hota hai prati se dillee kee yaanee ki provijan isake anusaar kya hota hai yah gyaapan sarvochch nyaayaalay tatha uchch nyaayaalay dvaara nirnay nyaayaalay va ardh nyaayik nyaayaadhikaran ko jaaree karate samay aadesh diya jaata hai ki is maamale mein apane yahaan kaaryavaahee na karen ki maamala unake adhikaar kshetr ke baahar agar koee bhee chhota nihaal hai yah jameenee star par niraale hote hain vah apane adhikaar kshetr se baahar ke kisee bhee maamale par kaarravaee karata hai to jo badhaane vaale hota hai uchch nyaayaalay aur sarvochch nyaayaalay vah yah de de sakata hai ki apane yah kaaryavaahee na karen ya aapake adhikaar kshetr ke baahar

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • न्यायालय के क्षेत्राधिकार, संविधान के संशोधन में कौन-कौन सी संस्थाएं सम्मिलित नहीं होती, सर्वोच्च न्यायालय की शक्तियां और कार्य
URL copied to clipboard