#जीवन शैली

bolkar speaker

हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है?

Hum Use Kyun Nahin Dekh Paate Jinhein Pana Hi Humare Jeevan Ka Lakshy Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:27
साले के हमसे क्यों नहीं देख पाते हैं जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है अक्सर ऐसा होता है जो भी अपने लक्ष्य अपने जीवन के लिए निर्धारित कर रखा है जो भी आप सो जाता है जो टारगेट आप में सोच रखे हैं निश्चित तौर पर आप जब उनको पाने की कोशिश करते हैं तो आपके दिमाग में कुछ कुछ उसे ज्यादा ही उम्मीदें बढ़ जाती हैं कुछ ज्यादा ही नया सेटअप पहुंचाता है यही चीज है कि जो आप प्राप्त करना चाहते हैं जो टारगेट आप आना चाहते हैं उस जगह आप पहुंचने के बावजूद उस चीज को आप नहीं देख पाते हैं आपका दिन शुभ रहे थे
Saale ke hamase kyon nahin dekh paate hain jinhen paana hee hamaare jeevan ka lakshy hai aksar aisa hota hai jo bhee apane lakshy apane jeevan ke lie nirdhaarit kar rakha hai jo bhee aap so jaata hai jo taaraget aap mein soch rakhe hain nishchit taur par aap jab unako paane kee koshish karate hain to aapake dimaag mein kuchh kuchh use jyaada hee ummeeden badh jaatee hain kuchh jyaada hee naya setap pahunchaata hai yahee cheej hai ki jo aap praapt karana chaahate hain jo taaraget aap aana chaahate hain us jagah aap pahunchane ke baavajood us cheej ko aap nahin dekh paate hain aapaka din shubh rahe the

और जवाब सुनें

bolkar speaker
हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है?Hum Use Kyun Nahin Dekh Paate Jinhein Pana Hi Humare Jeevan Ka Lakshy Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:05
हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन पर वही जो अदृश्य चीजों को लक्ष्य बना लोगे तो देख नहीं पाओगे और जो हम सोच लोगे लेकिन अगर आप दृश्य चीजों का लक्ष्य बताओगे उसे देखने पाओगे इन दोनों चीजों में आप कहना चाह रहे हो कि हमें हम उसे क्यों नहीं देख पाते इन्हें पाना ही हमारा जीवन का जवाब बता दो कि आपके जीवन का लक्ष्य है वह चीज है जो जीवन का लक्ष है जिसके बिना अब जी नहीं सकते हो और क्या वह दिखाई नहीं देती तो बहुत सारी चीजें खराब कर रही हो सकता है कुछ धार्मिक हो सकता है दार्शनिक भाव से हो सकता है मनोवैज्ञानिक हो सकता है लेकिन जीवन का लक्ष्य आपने अपने जीवन को कोनसा लेसन लचकदार किया है जो आपके आंखों से अदृश्य है जिसको आप देखते ही पर शुरू जीवन के लक्ष्य को हासिल कैसे पर अब कहोगे वही मानव जीवन का लक्ष्य परोपकार है चरित्र निर्माण है मानव सेवा है यदि आपकी कार्यप्रणाली क्या आप उसको अच्छे कर्म करोगे तो आपको दिखाई नहीं देगा क्या आपका लक्ष्य बहुत अच्छा ऑफिसर बनना चाहिए सर करना तो उसके लिए पढ़ाई करोगी योग्यता है कि आपके अंदर ज्ञान होगा आपके अंदर स्किल होगी तो कोशिश कल को पता हनुमान आप लगा पा रहे कि नहीं लगा पा रहे हैं तो भूत दिखाई क्यों नहीं दे रहा है यह दृश्य कहां है यह कहना थोड़ा सा जो चीज दिखाई नहीं देगी उसका कोई लक्ष्य नहीं होगा और ना ही वह सैनी से उस लक्ष्य को हासिल कर पाए
Ham use kyon nahin dekh paate jinhen paana hee hamaare jeevan par vahee jo adrshy cheejon ko lakshy bana loge to dekh nahin paoge aur jo ham soch loge lekin agar aap drshy cheejon ka lakshy bataoge use dekhane paoge in donon cheejon mein aap kahana chaah rahe ho ki hamen ham use kyon nahin dekh paate inhen paana hee hamaara jeevan ka javaab bata do ki aapake jeevan ka lakshy hai vah cheej hai jo jeevan ka laksh hai jisake bina ab jee nahin sakate ho aur kya vah dikhaee nahin detee to bahut saaree cheejen kharaab kar rahee ho sakata hai kuchh dhaarmik ho sakata hai daarshanik bhaav se ho sakata hai manovaigyaanik ho sakata hai lekin jeevan ka lakshy aapane apane jeevan ko konasa lesan lachakadaar kiya hai jo aapake aankhon se adrshy hai jisako aap dekhate hee par shuroo jeevan ke lakshy ko haasil kaise par ab kahoge vahee maanav jeevan ka lakshy paropakaar hai charitr nirmaan hai maanav seva hai yadi aapakee kaaryapranaalee kya aap usako achchhe karm karoge to aapako dikhaee nahin dega kya aapaka lakshy bahut achchha ophisar banana chaahie sar karana to usake lie padhaee karogee yogyata hai ki aapake andar gyaan hoga aapake andar skil hogee to koshish kal ko pata hanumaan aap laga pa rahe ki nahin laga pa rahe hain to bhoot dikhaee kyon nahin de raha hai yah drshy kahaan hai yah kahana thoda sa jo cheej dikhaee nahin degee usaka koee lakshy nahin hoga aur na hee vah sainee se us lakshy ko haasil kar pae

bolkar speaker
हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है?Hum Use Kyun Nahin Dekh Paate Jinhein Pana Hi Humare Jeevan Ka Lakshy Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:52
हम उससे क्यों नहीं देख पाते हैं जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य बहुत अच्छा सवाल अभी भी आप देखें जब समंदर में नाव चलती है बीच समंदर में तो हमें एक किनारा नहीं दिखाई पड़ता है और उस समय हो जो नाव चलाने वाला कैप्टन है उसके पास उसके बाद पास होता है होता है जब के थ्रू उसको रास्ता पता चलता है और उसको पता चलता है कि सही नाम क्या है और उसके हिसाब से वह अपना ही दिशा तय करता है कि मुझे समझ जाना इस चर्चा ने व्यस्त जान आप समझ लो कि अगर आप समुंदर के अंदर में हो नहीं आपके पास कोई कंपास है और आपको कुछ भी नहीं पता है कहां जाना है ऐसी स्थिति हो जाए तो आप क्या करोगे आप सेक्टर 13 जन आपको कुछ भी नहीं पता चल रहा है कि आप कहां हो तो अपने लाइफ के अंदर भी ऐसे ही होता है कि जब हम लाइफ जीते रहते हैं तो बस हमें कल दिन पता होता है कि अभी कल का दिन आएगा निकलेगा लेकिन मोटा मोटी तौर पर हमें किस लक्ष्य की तरफ जाना है वह चीज हम लोग हमारे लिए तय नहीं करते हम लोग काफी छोटे छोटे लक्ष्य के अंदर फस जाते हैं जैसे कि मुझे महीने का इतना पैसा मिलना चाहिए या घर में कोई शादी है या कोई फंक्शन है या फिर अभी मुझे घर बनाना है इस तरीके से समंदर है कि मुझे मैं 18 साल 1 साल का हो गया हूं समझदार हो गया और वहां से लेकर मुझे यह पूरा लाइफ अपना जीना है तो यह पारा ओ होते कि आप 30 साल के हो जाओगे 40 साल के हो जाओगे 50 साल के 60 साल के हो जाते पांडव किस तरीके से आगे लेकर जाएंगे तो उसके लिए अगर हम लोग किसी गोले लक्ष्य को बना दे भले ही आप अभी कुछ क्लियर भी ना भी देख पाऊं लेकिन अगर हम लोग अखिलेश कम से कम अगले 5 साल के लिए भी सोचते क्या बात करना तक पहुंचना चाहते हैं तो मोटा मोटी तोड़ते आप अपने आप ही आपका बिहेवियर चेंज होना शुरू हो जाता है आपका रिवर प्लानिंग करके रिकॉर्डिंग करके हम लोग अपने आप 3 महीने में क्या करेंगे 6 महीने में क्या करेंगे 1 साल में क्या करेंगे ताकि हरेक करने वाली चीज खाने का अचीवमेंट क्वालिटी भूषण करें आपके पास साल बाद में जो गोल आपको पाना हो तो यह लाइन पर हम लोग प्लान करते हैं तो तो हमें जिस चीज को पाना है उस चीज के तरफ निकल पड़ते हैं और यह सब कर्मों की चीजें वह आपका हेल्प आपका और आपके पारिवारिक संबंधों और आपके यहां पर क्योंकि इंसान सोशल है तो वह खराब प्रबंध बनाकर नहीं रह सकता है अगर वह ऐसे करेगा तो आप अपने लक्ष्य तक पहुंचने में बहुत दिक्कत होगी जबकि खेल और आपके पारिवारिक संबंधों की आपके दोस्तों के साथ का समन इन सब चीजों को प्रसन्न करने के लिए लगने वाली चीजें भी हमें साथ में करते रहना पड़े 30 तारीख आगे जा पाएंगे
Ham usase kyon nahin dekh paate hain jinhen paana hee hamaare jeevan ka lakshy bahut achchha savaal abhee bhee aap dekhen jab samandar mein naav chalatee hai beech samandar mein to hamen ek kinaara nahin dikhaee padata hai aur us samay ho jo naav chalaane vaala kaiptan hai usake paas usake baad paas hota hai hota hai jab ke throo usako raasta pata chalata hai aur usako pata chalata hai ki sahee naam kya hai aur usake hisaab se vah apana hee disha tay karata hai ki mujhe samajh jaana is charcha ne vyast jaan aap samajh lo ki agar aap samundar ke andar mein ho nahin aapake paas koee kampaas hai aur aapako kuchh bhee nahin pata hai kahaan jaana hai aisee sthiti ho jae to aap kya karoge aap sektar 13 jan aapako kuchh bhee nahin pata chal raha hai ki aap kahaan ho to apane laiph ke andar bhee aise hee hota hai ki jab ham laiph jeete rahate hain to bas hamen kal din pata hota hai ki abhee kal ka din aaega nikalega lekin mota motee taur par hamen kis lakshy kee taraph jaana hai vah cheej ham log hamaare lie tay nahin karate ham log kaaphee chhote chhote lakshy ke andar phas jaate hain jaise ki mujhe maheene ka itana paisa milana chaahie ya ghar mein koee shaadee hai ya koee phankshan hai ya phir abhee mujhe ghar banaana hai is tareeke se samandar hai ki mujhe main 18 saal 1 saal ka ho gaya hoon samajhadaar ho gaya aur vahaan se lekar mujhe yah poora laiph apana jeena hai to yah paara o hote ki aap 30 saal ke ho jaoge 40 saal ke ho jaoge 50 saal ke 60 saal ke ho jaate paandav kis tareeke se aage lekar jaenge to usake lie agar ham log kisee gole lakshy ko bana de bhale hee aap abhee kuchh kliyar bhee na bhee dekh paoon lekin agar ham log akhilesh kam se kam agale 5 saal ke lie bhee sochate kya baat karana tak pahunchana chaahate hain to mota motee todate aap apane aap hee aapaka biheviyar chenj hona shuroo ho jaata hai aapaka rivar plaaning karake rikording karake ham log apane aap 3 maheene mein kya karenge 6 maheene mein kya karenge 1 saal mein kya karenge taaki harek karane vaalee cheej khaane ka acheevament kvaalitee bhooshan karen aapake paas saal baad mein jo gol aapako paana ho to yah lain par ham log plaan karate hain to to hamen jis cheej ko paana hai us cheej ke taraph nikal padate hain aur yah sab karmon kee cheejen vah aapaka help aapaka aur aapake paarivaarik sambandhon aur aapake yahaan par kyonki insaan soshal hai to vah kharaab prabandh banaakar nahin rah sakata hai agar vah aise karega to aap apane lakshy tak pahunchane mein bahut dikkat hogee jabaki khel aur aapake paarivaarik sambandhon kee aapake doston ke saath ka saman in sab cheejon ko prasann karane ke lie lagane vaalee cheejen bhee hamen saath mein karate rahana pade 30 taareekh aage ja paenge

bolkar speaker
हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है?Hum Use Kyun Nahin Dekh Paate Jinhein Pana Hi Humare Jeevan Ka Lakshy Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:37
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका तो पुलिस ने उसे क्यों नहीं देख पाते जीने पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य तो फ्रेंड सम कभी-कभी यह सब चीजें नहीं देख पाते कि हमारे जीवन का क्या लक्ष्य जब किसी चीज का टारगेट बनाते हैं अपने जीवन का कोई लक्षण आते हैं तो फिर हम उसके बारे में कुछ ज्यादा सोचने लगती है और बहुत ज्यादा उम्मीद है उसे बांध लेते हैं और जितना मिलता है उतने में खुश नहीं होते और ज्यादा पानी की कोशिश में दिन रात लगे रहते हैं तो फिर हम अपने जीवन के लक्ष्य से भटकने लगते हैं और हम अपने लक्ष्य को देख नहीं पाते हैं क्योंकि मैं और ज्यादा पाने की चाहत बढ़ जाती है धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka to pulis ne use kyon nahin dekh paate jeene paana hee hamaare jeevan ka lakshy to phrend sam kabhee-kabhee yah sab cheejen nahin dekh paate ki hamaare jeevan ka kya lakshy jab kisee cheej ka taaraget banaate hain apane jeevan ka koee lakshan aate hain to phir ham usake baare mein kuchh jyaada sochane lagatee hai aur bahut jyaada ummeed hai use baandh lete hain aur jitana milata hai utane mein khush nahin hote aur jyaada paanee kee koshish mein din raat lage rahate hain to phir ham apane jeevan ke lakshy se bhatakane lagate hain aur ham apane lakshy ko dekh nahin paate hain kyonki main aur jyaada paane kee chaahat badh jaatee hai dhanyavaad

bolkar speaker
हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है?Hum Use Kyun Nahin Dekh Paate Jinhein Pana Hi Humare Jeevan Ka Lakshy Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:01
आज आप का सवाल है कि हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य होता है हमें डिस्टलेशन और हमें जाना कहां है किस तरह से जाना मैं नहीं पता होता है आपके पास 10 15 होता आपको कभी कदार कैसे आप गलत चीज खा लेते हैं आपको लगता नहीं अच्छा लगता ज्यादा अच्छा लग रहा था आप ट्राई करते हैं अभी कुछ अच्छा तो जब आपको पता नहीं है कि नहीं पहले पीरियंस नहीं होता या फिर जब तक आप ट्राई नहीं करते टेस्ट नहीं करता आपको पता नहीं चलता कि वैसी हो तो होती है कि आपके पास तो बहुत कुछ आपको पता होता है कि यह चीज करना है वह चीज करना क्या गंदी बातें पता चलता है जो मेहनत करता है कर सकता हूं
Aaj aap ka savaal hai ki ham use kyon nahin dekh paate jinhen paana hee hamaare jeevan ka lakshy hota hai hamen distaleshan aur hamen jaana kahaan hai kis tarah se jaana main nahin pata hota hai aapake paas 10 15 hota aapako kabhee kadaar kaise aap galat cheej kha lete hain aapako lagata nahin achchha lagata jyaada achchha lag raha tha aap traee karate hain abhee kuchh achchha to jab aapako pata nahin hai ki nahin pahale peeriyans nahin hota ya phir jab tak aap traee nahin karate test nahin karata aapako pata nahin chalata ki vaisee ho to hotee hai ki aapake paas to bahut kuchh aapako pata hota hai ki yah cheej karana hai vah cheej karana kya gandee baaten pata chalata hai jo mehanat karata hai kar sakata hoon

bolkar speaker
हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है?Hum Use Kyun Nahin Dekh Paate Jinhein Pana Hi Humare Jeevan Ka Lakshy Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:53
देखिए यदि हम कोशिश करके देख सकते हैं मगर हम उसके लिए पढ़ता नहीं करते कि इसे पाना हमारे जीवन का लक्ष्य है हम हम इस संसार के बंधन में फंसे रहते हैं वास्तव में तोहर पानी के लिए उनका लक्ष्य एक ही है उस परमात्मा को पाना हम उस परमात्मा को फूल का जीवन के दूसरे लक्ष्य में खो जाते हैं और यह भूल जाते हैं कि हमें जिस परमात्मने जीवन दिया है एक जुलूस रात में विलीन होना है इसलिए इंसान यदि चाहे तो उस परमात्मा को जानने की खोज ने की देखने की कोशिश करें तो देख सकते हैं मगर उसकी मोह माया बंधन में हम सब कुछ भूल जाते हैं और फिर देख पाते
Dekhie yadi ham koshish karake dekh sakate hain magar ham usake lie padhata nahin karate ki ise paana hamaare jeevan ka lakshy hai ham ham is sansaar ke bandhan mein phanse rahate hain vaastav mein tohar paanee ke lie unaka lakshy ek hee hai us paramaatma ko paana ham us paramaatma ko phool ka jeevan ke doosare lakshy mein kho jaate hain aur yah bhool jaate hain ki hamen jis paramaatmane jeevan diya hai ek juloos raat mein vileen hona hai isalie insaan yadi chaahe to us paramaatma ko jaanane kee khoj ne kee dekhane kee koshish karen to dekh sakate hain magar usakee moh maaya bandhan mein ham sab kuchh bhool jaate hain aur phir dekh paate

bolkar speaker
हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है?Hum Use Kyun Nahin Dekh Paate Jinhein Pana Hi Humare Jeevan Ka Lakshy Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:29
हमको कुछ नहीं हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें बाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है तो आपको बता दें कि जब तक व्यक्ति की आंखों पर भौतिकता बाद का चश्मा लगा रहेगा तब तक वह अपने कल्याण स्वरूप को नहीं देख सकता है वह नहीं जान सकता कि किन बातों में उसका कल्याण होगा और कुछ बहुत तक दवा से बाहर निकलना होगा तभी आप अपना कल्याण कर पाएंगे मन शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Hamako kuchh nahin ham use kyon nahin dekh paate jinhen baana hee hamaare jeevan ka lakshy hai to aapako bata den ki jab tak vyakti kee aankhon par bhautikata baad ka chashma laga rahega tab tak vah apane kalyaan svaroop ko nahin dekh sakata hai vah nahin jaan sakata ki kin baaton mein usaka kalyaan hoga aur kuchh bahut tak dava se baahar nikalana hoga tabhee aap apana kalyaan kar paenge man shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है?Hum Use Kyun Nahin Dekh Paate Jinhein Pana Hi Humare Jeevan Ka Lakshy Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
2:11
दी कि हम उसे नहीं देख पाते जीने पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य और क्यों नहीं देख पाते इसका रीजन है कि हम समाज के और परिवार के दबाव में अक्सर आ जाते हैं माता-पिता का इच्छा होता है बैंक में जा सकती करेंगे बड़ा कंपनी में काम करें रेलवे में काम करें और हम बनना चाहते कुछ और हम कभी बनना चाहते हैं हम आर्किटेक्ट बनना चाहते हैं हम एक्टर बनना चाहते हैं या फिर कुछ भी लेखक बनना चाहते हैं या कुछ भी इन्नोवेटिव तो अगर आप अपना इंटरेस्ट को दबा दोगे फैमिली के जवाब में समाज के दबाव में आकर तो अपना जीवन का लक्ष्य नहीं पा सकते सचिन तेंदुलकर अगर दबा देता तो नहीं बन पाता क्रिकेटर नवाजुद्दीन सिद्दीकी दबा देता तो आज नहीं बन पाता है तू अपना इंटरेस्ट को आप घबराओ मत आपको साइड बाय साइड रखो आप और जो काम कर रहे हो करो अगर और अगर घर का फाइनेंस एसोसिएशन इकोनॉमिकल सिचुएशन आपका स्ट्रांग है इंटरेस्ट को हॉबिको आप अपना लाइफ का नाम बताओ मेरा इतना ही करना है बस जीवन का लक्ष्य आपकी खुशी में है और आपका खुशी उस चीज में उसको करने में आपको सही में सेटिंग करते हैं तब देखो कि आप किस काम में अच्छी हो दिल से किस काम को करने में आपको काफी होता है खुशी महसूस होता है वह अपना जीवन का वर्क बनाओ घर परिवार के दबाव में आकर मिल सकता यह देखो आपको क्या अच्छा लगता है बिजनेस अच्छा लगता है पेंटिंग अच्छा लगता है क्या अच्छा संदीप महेश्वरी आज मोटिवेशनल स्पीकर कितने दिल की अपनी आवाज उसमें अगर आप दिन की आवाज को सुनेंगे दिन टाइम लगेगा लेकिन उसमें अच्छा करोगे तो थोड़ा संघर्ष करना सीखो अच्छा रहेगा क्योंकि
Dee ki ham use nahin dekh paate jeene paana hee hamaare jeevan ka lakshy aur kyon nahin dekh paate isaka reejan hai ki ham samaaj ke aur parivaar ke dabaav mein aksar aa jaate hain maata-pita ka ichchha hota hai baink mein ja sakatee karenge bada kampanee mein kaam karen relave mein kaam karen aur ham banana chaahate kuchh aur ham kabhee banana chaahate hain ham aarkitekt banana chaahate hain ham ektar banana chaahate hain ya phir kuchh bhee lekhak banana chaahate hain ya kuchh bhee innovetiv to agar aap apana intarest ko daba doge phaimilee ke javaab mein samaaj ke dabaav mein aakar to apana jeevan ka lakshy nahin pa sakate sachin tendulakar agar daba deta to nahin ban paata kriketar navaajuddeen siddeekee daba deta to aaj nahin ban paata hai too apana intarest ko aap ghabarao mat aapako said baay said rakho aap aur jo kaam kar rahe ho karo agar aur agar ghar ka phainens esosieshan ikonomikal sichueshan aapaka straang hai intarest ko hobiko aap apana laiph ka naam batao mera itana hee karana hai bas jeevan ka lakshy aapakee khushee mein hai aur aapaka khushee us cheej mein usako karane mein aapako sahee mein seting karate hain tab dekho ki aap kis kaam mein achchhee ho dil se kis kaam ko karane mein aapako kaaphee hota hai khushee mahasoos hota hai vah apana jeevan ka vark banao ghar parivaar ke dabaav mein aakar mil sakata yah dekho aapako kya achchha lagata hai bijanes achchha lagata hai penting achchha lagata hai kya achchha sandeep maheshvaree aaj motiveshanal speekar kitane dil kee apanee aavaaj usamen agar aap din kee aavaaj ko sunenge din taim lagega lekin usamen achchha karoge to thoda sangharsh karana seekho achchha rahega kyonki

bolkar speaker
हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है?Hum Use Kyun Nahin Dekh Paate Jinhein Pana Hi Humare Jeevan Ka Lakshy Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:33
सवाल यह है कि हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है ऐसा इसलिए होता है कि हम अक्सर दूसरे लोगों की जिंदगी यों के बारे में देखना शुरु करते थे उनके बारे में जाना शुरु कर देते हैं और हमारे मन में भी उसी के जीवन को लेकर लक्ष्य बन जाता है और इस तरह के लक्षण बार-बार बदलते रहते हैं क्योंकि इंसान बदलते हैं उनकी कामयाबी बदलती रहती है और हम ऐसे इंसानों को देख कर ही अपना लक्ष्मी बदलते रहते हैं पर अपनी सफलता और कर्मों को और परिस्थिति के अनुसार बदलते रहते हैं जो कि करना गलत है स्वामी विवेकानंद कहते हैं कि जीवन में एक ही लक्ष्य बनाओ और रात दिन उसी लक्ष्य के बारे में सोचो सपने में भी तुम्हें वही लगते दिखाई देना चाहिए फिर जुट जाओ उस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए धुन सवार हो जानी चाहिए आपको सफलता अवश्य आपके कदम चूमेगी असल में आप जवाब कोई काम कर्म करते हैं तो जरूरी नहीं कि आपको सफलता मिल ही जाए फिर आपको ऐसा संस्थाओं से घबराना नहीं चाहिए अगर बार बार भी असफलता हाथ आती है तो भी आपको निराश नहीं होना है लक्ष्य नहीं बदलना है इस बारे में विवेकानंद कहते हैं एक हजार बार प्रयास करने के बाद यदि आप हार कर गिर पड़ते हैं तो एक बार फिर से उठे और प्रयास करें हमें लक्ष्य की प्राप्ति तक स्वयं को स्वयं पर विश्वास और आस्था रखनी चाहिए और अपनी सोच को हमेशा सकारात्मक रखना चाहिए
Savaal yah hai ki ham use kyon nahin dekh paate jinhen paana hee hamaare jeevan ka lakshy hai aisa isalie hota hai ki ham aksar doosare logon kee jindagee yon ke baare mein dekhana shuru karate the unake baare mein jaana shuru kar dete hain aur hamaare man mein bhee usee ke jeevan ko lekar lakshy ban jaata hai aur is tarah ke lakshan baar-baar badalate rahate hain kyonki insaan badalate hain unakee kaamayaabee badalatee rahatee hai aur ham aise insaanon ko dekh kar hee apana lakshmee badalate rahate hain par apanee saphalata aur karmon ko aur paristhiti ke anusaar badalate rahate hain jo ki karana galat hai svaamee vivekaanand kahate hain ki jeevan mein ek hee lakshy banao aur raat din usee lakshy ke baare mein socho sapane mein bhee tumhen vahee lagate dikhaee dena chaahie phir jut jao us lakshy kee praapti ke lie dhun savaar ho jaanee chaahie aapako saphalata avashy aapake kadam choomegee asal mein aap javaab koee kaam karm karate hain to jarooree nahin ki aapako saphalata mil hee jae phir aapako aisa sansthaon se ghabaraana nahin chaahie agar baar baar bhee asaphalata haath aatee hai to bhee aapako niraash nahin hona hai lakshy nahin badalana hai is baare mein vivekaanand kahate hain ek hajaar baar prayaas karane ke baad yadi aap haar kar gir padate hain to ek baar phir se uthe aur prayaas karen hamen lakshy kee praapti tak svayan ko svayan par vishvaas aur aastha rakhanee chaahie aur apanee soch ko hamesha sakaaraatmak rakhana chaahie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • तुम्हारे जीवन का क्या लक्ष्य है, जीवन में कैसे आगे बढ़े, मनुष्य जीवन का चरम लक्ष्य क्या है
URL copied to clipboard