#भारत की राजनीति

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
4:23
हां बिल्कुल सच कहा आपने क्योंकि लोक कल्याणकारी राज्य में होता है जिसमें कि उसके जो बॉटम का नागरिक है जिसको कामना करते हैं उसका जीवन भी सुनिश्चित न्यूनतम स्तर को प्राप्त हो और उसके पास जीने की इतनी सुविधाएं मुहैया हो जिससे कि वो आराम से अपना जीवन गुजार सके लेकिन दुर्भाग्य इस बात का है कि सुनीता से पहले की जो राजनीति थी बेटे वह जन कल्याण से संबंधित थी देश सेवा से संबंधित थी वह देश के नागरिकों के हितों से संबंधित थी सफलता के बाद की जो राजनीति की गई है पॉलीटिकल पार्टीज के द्वारा सभी जनहितकारी नहीं कही जा सकती है जल सेवा कार्य नहीं कही जा सकती है वह सहित स्वामी स्वार्थ की पूर्ति बंद करने वाली और खुदगर्जी से भरी हुई राजनीति नहीं है उसी का दुष्परिणाम है कि भारत में आज लोकतंत्र है लेकिन यह लोकतंत्र एक पैसा लोकतंत्र है इसमें तुम देखते हो को कम मत लो जरा राजनीतिक पार्टियां बढ़ रही हैं देश में नेता इस कदर बढ़ रहे हैं कि गली-गली आपको नेता देखने को प्राप्त हो जाएंगे जबकि करता नहीं क्योंकि आज की राजनीति व्यवसाय बन चुकी है आज की राजनीति व्यापार बन चुकी है इसमें लोक कमाने आते हैं अपना अपनी पूर्ति करते हैं अपनों की पूर्ति करते हैं मैं मेरी की राजनीति आज हो रही है भारत में किस लिए यह तुम देख रहे हो क्या जनकल्याण देश सेवा देश के प्रति वफादारी देश के प्रति निष्ठा केवल शब्दों में रह गई है और इनकी कार्य बिल्कुल ठीक कथनी और करनी में इनके को सिद्ध करते हैं उनकी कथनी करनी का अंतर हमारे भारतीय राजनीति में सर्वाधिक है आप इन देश के नेताओं की यदि बैकस्ट्रीट निकाल कर देखेंगे सभी नेताओं के बारे में देखिए आप 30 से 40 साल पहले यह नेता सभी एंड कुमावत कंडीशन में थे लेकिन आज की डेट में हजार 1000 करोड़ के मकानों में रहते हैं वह तो ओपन है इनकी अब सोचो कि उनके पास इतना पैसा थी 40 सालों में इतना कहां से आ गया आप एक-एक हजार करोड़ के मकान में रहते हैं इनकी संता ने विदेशों में पढ़ती हैं और इनके पास सूची कितनी अथाह संपत्ति आ गई वह कहां से आ गई यह सब बच्चे विषय अन्वेषण के हैं क्योंकि दर्शन यह तुम्हारी हमारी भूल है कि हम तुम समझते हैं कि यह पार्टी गई यह पार्टी आई है शासन में कुछ होगा जनता ने 74 साल में यही आशा करते रहे हर बार सरकार पर सरकारें बदलती नहीं बदलते रहे लेकिन शराब भाई पुरानी रही क्योंकि हर नेता ने हर सरकार ने केवल अपने मेरी की ही अपनों की घरवाली बाकी आम नागरिक तो वहीं आम आम की तरह रहा जिसके जूस को यह चूसते रहें और अंत में वह नागरिक विचारा आम की गुठली की तरह सूख गया है वह आज दिखाई दे रहा है कि बड़ा दुर्भाग्य का विषय है काश हमारे देश की राजनीति यदि अच्छी होती जनहितकारी होती जन कल्याणकारी हो आम नागरिकों की जाने वाली होती देश हित में होती तो आज भारत विकसित श्रेणी की राष्ट्रों में कभी कब पहुंच गया होता क्योंकि भारत के इंटेलिजेंस वैज्ञानिक और इंटेलिजेंस व्यक्ति जो हैं वह सारे संसार में आप देख लो जो भी भारत छोड़कर गया वो प्रसिद्धि पा गया क्योंकि उन लोगों ने कार्य किए हैं लेकिन भारत में हमारी गंदी राजनीति ने सब कुछ ही उलटफेर कर रखा है स्वार्थ का वातावरण बना रखा है यह बड़ा दुर्भाग्य का विषय है इस राजनीति के कारण ही हमारा देश पिछड़ा हुआ है
Haan bilkul sach kaha aapane kyonki lok kalyaanakaaree raajy mein hota hai jisamen ki usake jo botam ka naagarik hai jisako kaamana karate hain usaka jeevan bhee sunishchit nyoonatam star ko praapt ho aur usake paas jeene kee itanee suvidhaen muhaiya ho jisase ki vo aaraam se apana jeevan gujaar sake lekin durbhaagy is baat ka hai ki suneeta se pahale kee jo raajaneeti thee bete vah jan kalyaan se sambandhit thee desh seva se sambandhit thee vah desh ke naagarikon ke hiton se sambandhit thee saphalata ke baad kee jo raajaneeti kee gaee hai poleetikal paarteej ke dvaara sabhee janahitakaaree nahin kahee ja sakatee hai jal seva kaary nahin kahee ja sakatee hai vah sahit svaamee svaarth kee poorti band karane vaalee aur khudagarjee se bharee huee raajaneeti nahin hai usee ka dushparinaam hai ki bhaarat mein aaj lokatantr hai lekin yah lokatantr ek paisa lokatantr hai isamen tum dekhate ho ko kam mat lo jara raajaneetik paartiyaan badh rahee hain desh mein neta is kadar badh rahe hain ki galee-galee aapako neta dekhane ko praapt ho jaenge jabaki karata nahin kyonki aaj kee raajaneeti vyavasaay ban chukee hai aaj kee raajaneeti vyaapaar ban chukee hai isamen lok kamaane aate hain apana apanee poorti karate hain apanon kee poorti karate hain main meree kee raajaneeti aaj ho rahee hai bhaarat mein kis lie yah tum dekh rahe ho kya janakalyaan desh seva desh ke prati vaphaadaaree desh ke prati nishtha keval shabdon mein rah gaee hai aur inakee kaary bilkul theek kathanee aur karanee mein inake ko siddh karate hain unakee kathanee karanee ka antar hamaare bhaarateey raajaneeti mein sarvaadhik hai aap in desh ke netaon kee yadi baikastreet nikaal kar dekhenge sabhee netaon ke baare mein dekhie aap 30 se 40 saal pahale yah neta sabhee end kumaavat kandeeshan mein the lekin aaj kee det mein hajaar 1000 karod ke makaanon mein rahate hain vah to opan hai inakee ab socho ki unake paas itana paisa thee 40 saalon mein itana kahaan se aa gaya aap ek-ek hajaar karod ke makaan mein rahate hain inakee santa ne videshon mein padhatee hain aur inake paas soochee kitanee athaah sampatti aa gaee vah kahaan se aa gaee yah sab bachche vishay anveshan ke hain kyonki darshan yah tumhaaree hamaaree bhool hai ki ham tum samajhate hain ki yah paartee gaee yah paartee aaee hai shaasan mein kuchh hoga janata ne 74 saal mein yahee aasha karate rahe har baar sarakaar par sarakaaren badalatee nahin badalate rahe lekin sharaab bhaee puraanee rahee kyonki har neta ne har sarakaar ne keval apane meree kee hee apanon kee gharavaalee baakee aam naagarik to vaheen aam aam kee tarah raha jisake joos ko yah choosate rahen aur ant mein vah naagarik vichaara aam kee guthalee kee tarah sookh gaya hai vah aaj dikhaee de raha hai ki bada durbhaagy ka vishay hai kaash hamaare desh kee raajaneeti yadi achchhee hotee janahitakaaree hotee jan kalyaanakaaree ho aam naagarikon kee jaane vaalee hotee desh hit mein hotee to aaj bhaarat vikasit shrenee kee raashtron mein kabhee kab pahunch gaya hota kyonki bhaarat ke intelijens vaigyaanik aur intelijens vyakti jo hain vah saare sansaar mein aap dekh lo jo bhee bhaarat chhodakar gaya vo prasiddhi pa gaya kyonki un logon ne kaary kie hain lekin bhaarat mein hamaaree gandee raajaneeti ne sab kuchh hee ulatapher kar rakha hai svaarth ka vaataavaran bana rakha hai yah bada durbhaagy ka vishay hai is raajaneeti ke kaaran hee hamaara desh pichhada hua hai

और जवाब सुनें

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:58
लोक कल्याणकारी राज्य और जो समाज वह समाज है जिसके प्रत्येक नागरिक को जीवन को सुनिश्चित मिलता सुख सुविधाओं के साथ उसको करते हैं सही बात है और लोक कल्याण और आज भी यही है कि सरकार जो होती है वह जनता के सुख सुविधाओं के लिए ही बनाई जाती है पहले 1 राज्यों की व्यवस्था थी राजा लोग उसमें होते तो और मनमाना टैक्स वसूल करते थे लेकिन जो सरकार जनता के लिए बनाई गई स्कूल लोकतंत्र क्या लोकतंत्र के माध्यम से जो कार्य कराए जाते हैं वह जनता के हित के ही होते हैं उसमें देखा जाता है कि ज्यादा टैक्सेशन हो पढ़ने से अच्छी व्यवस्था हो पानी की अच्छी व्यवस्था व शिक्षा की अच्छी व्यवस्था और लोगों को अच्छा रोजगार मिले और खाद्य सुरक्षा गारंटी हो इन सब चीजों के लिए जो सरकार जो कार्य करती है वह समाज सेवा के ही कार्य होते हैं और समाज में प्रचलित दुर्ग व्यवस्था को दूर करना भी सरकार का ही काम होता है इसलिए जब समाज सेवा के जो कार्य होते हैं वह लोग कल्याणी कर वहीं राज्य सबसे अच्छा माना जाता है और यह लोकतंत्र की व्यवस्थाएं सब्जी गई
Lok kalyaanakaaree raajy aur jo samaaj vah samaaj hai jisake pratyek naagarik ko jeevan ko sunishchit milata sukh suvidhaon ke saath usako karate hain sahee baat hai aur lok kalyaan aur aaj bhee yahee hai ki sarakaar jo hotee hai vah janata ke sukh suvidhaon ke lie hee banaee jaatee hai pahale 1 raajyon kee vyavastha thee raaja log usamen hote to aur manamaana taiks vasool karate the lekin jo sarakaar janata ke lie banaee gaee skool lokatantr kya lokatantr ke maadhyam se jo kaary karae jaate hain vah janata ke hit ke hee hote hain usamen dekha jaata hai ki jyaada taikseshan ho padhane se achchhee vyavastha ho paanee kee achchhee vyavastha va shiksha kee achchhee vyavastha aur logon ko achchha rojagaar mile aur khaady suraksha gaarantee ho in sab cheejon ke lie jo sarakaar jo kaary karatee hai vah samaaj seva ke hee kaary hote hain aur samaaj mein prachalit durg vyavastha ko door karana bhee sarakaar ka hee kaam hota hai isalie jab samaaj seva ke jo kaary hote hain vah log kalyaanee kar vaheen raajy sabase achchha maana jaata hai aur yah lokatantr kee vyavasthaen sabjee gaee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • लोक कल्याणकारी राज्य की अवधारणा किसमें निहित है, लोक कल्याणकारी राज्य का क्या अभिप्राय है, लोक कल्याणकारी राज्य की अवधारणा आधारित है
URL copied to clipboard