#पढ़ाई लिखाई

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:11
नमस्कार दोस्तों बसने की दूसरी भाषा सीखना इतना ही आसान होता है तो जिन लोगों को इंग्लिश आती है वह हिंदी इतनी आसानी से क्यों नहीं सीख पाते हैं दोस्तों ऐसा कथन गलत है आप देखते होंगे कि हिंदी इतनी आसान भाषा है कि कोई भी आसानी से नमस्कार कह देता है जय विदेश के लोग आते हैं चाहे कहीं के लोग आते हैं और जैसे कि आप उदाहरण के तौर पर अगर आपको पंजाबी सीखनी है तो आप पंजाब में चले जाएं तो आपको धीरे-धीरे पंजाबी आ जाएगी तो कहने का अर्थ यह है कि आप उस वातावरण में रहेंगे वह भाषा बोलने वाले लोगों के साथ रहेंगे आप साउथ इंडिया चले जाइए वहां पर आप मलयालम सीख जाएंगे कन्नड़ सीख जाएंगे आप जिस वातावरण परिवेश में रहते हैं वहां से हम चीजें सीख लेते हैं ऐसी आप देखेंगे बाहर के विदेशी लोग आते हमारे जाते वह भी टूटी-फूटी हिंदी बोलना शुरू कर दे देते हैं तो भाषा कोई मुश्किल नहीं होती है बस भाषा के हम उस करीब हो उन लोगों बोलने वालों के साथ हूं वह उसके हम किताबें पढ़ें न्यूज़पेपर पढ़ें मूवी देखें समाचार सुनाएं जितना करीब रहेंगे उतना भाषा का हम सभी को ज्ञान होगा चाहे हिंदू हो चाहे अन्य कोई भाषा हो धन्यवाद
Namaskaar doston basane kee doosaree bhaasha seekhana itana hee aasaan hota hai to jin logon ko inglish aatee hai vah hindee itanee aasaanee se kyon nahin seekh paate hain doston aisa kathan galat hai aap dekhate honge ki hindee itanee aasaan bhaasha hai ki koee bhee aasaanee se namaskaar kah deta hai jay videsh ke log aate hain chaahe kaheen ke log aate hain aur jaise ki aap udaaharan ke taur par agar aapako panjaabee seekhanee hai to aap panjaab mein chale jaen to aapako dheere-dheere panjaabee aa jaegee to kahane ka arth yah hai ki aap us vaataavaran mein rahenge vah bhaasha bolane vaale logon ke saath rahenge aap sauth indiya chale jaie vahaan par aap malayaalam seekh jaenge kannad seekh jaenge aap jis vaataavaran parivesh mein rahate hain vahaan se ham cheejen seekh lete hain aisee aap dekhenge baahar ke videshee log aate hamaare jaate vah bhee tootee-phootee hindee bolana shuroo kar de dete hain to bhaasha koee mushkil nahin hotee hai bas bhaasha ke ham us kareeb ho un logon bolane vaalon ke saath hoon vah usake ham kitaaben padhen nyoozapepar padhen moovee dekhen samaachaar sunaen jitana kareeb rahenge utana bhaasha ka ham sabhee ko gyaan hoga chaahe hindoo ho chaahe any koee bhaasha ho dhanyavaad

और जवाब सुनें

pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
0:21
दूसरी भाषा सीखना इतना ही आसान होता है तो जिन लोगों को इंग्लिश आती है अभी हिंदी आसानी से क्यों नहीं सीख पाते होता क्या है जैसे अगर हम हिंदी बोलते हैं ना में तो हमको अंग्रेजी बोलने में थोड़ी दिक्कत आती है उसी तरीके से जो नॉर्मल इंग्लिश बोलते हैं उनको हिंदी बोलने में दिक्कत आती है छुट्टी
Doosaree bhaasha seekhana itana hee aasaan hota hai to jin logon ko inglish aatee hai abhee hindee aasaanee se kyon nahin seekh paate hota kya hai jaise agar ham hindee bolate hain na mein to hamako angrejee bolane mein thodee dikkat aatee hai usee tareeke se jo normal inglish bolate hain unako hindee bolane mein dikkat aatee hai chhuttee

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:46
सवाल है कि दूसरी भाषा सीखना इतना ही आसान होता है तो जिन लोगों को इंग्लिश आती है हिंदी इतनी आसानी से क्यों नहीं सीख पाते हैं तो देखिए कोई भी भाषा सीखना इतना आसान नहीं होता मान लीजिए आप इंडिया में है तो आपने बचपन से आपके आसपास के लोगों ने हिंदी में ही बात करी तो मैं आपकी आदत बनी हुई है आप कुछ भी किसी भी चीज में अपने आप को हिंदी में बोलने में ज्यादा कंफर्टेबल पाते हैं वैसे ही बाहर के लोग जिन्हें इंग्लिश आती है उनका माहौल इंग्लिश माहौल में पले बढ़े हुए हैं तो उन्हें हिंदी बोलने में दिक्कत आती है यह सभी माहौल पर डिपेंड करता है जिसमें वह माहौल में जोर पड़ा पड़ा होगा उसको वही सूटेबल रहेगा और मैं उसी में ज्यादा अच्छे से बोल पाएगा
Savaal hai ki doosaree bhaasha seekhana itana hee aasaan hota hai to jin logon ko inglish aatee hai hindee itanee aasaanee se kyon nahin seekh paate hain to dekhie koee bhee bhaasha seekhana itana aasaan nahin hota maan leejie aap indiya mein hai to aapane bachapan se aapake aasapaas ke logon ne hindee mein hee baat karee to main aapakee aadat banee huee hai aap kuchh bhee kisee bhee cheej mein apane aap ko hindee mein bolane mein jyaada kamphartebal paate hain vaise hee baahar ke log jinhen inglish aatee hai unaka maahaul inglish maahaul mein pale badhe hue hain to unhen hindee bolane mein dikkat aatee hai yah sabhee maahaul par dipend karata hai jisamen vah maahaul mein jor pada pada hoga usako vahee sootebal rahega aur main usee mein jyaada achchhe se bol paega

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
दूसरी भाषा सीखना इतना ही आसान होता है तो जिन लोगों को इंग्लिश आती है वह हिंदी भाषा क्यों नहीं सीखते एक बहुत अच्छे सवाल यह पूछा गया है तो इसमें एक इतिहास भी साइकोलॉजी भी है मा साइकोलॉजी समूह मनुष्य सभी है आर्थिक व्यवस्था भी है शिक्षा की व्यवस्था भी है और अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था जो है अक्षता और प्रकरण में इंग्लिश भाषा का उपयोग अंडा सारी दुनिया में ऐसा किया गया है कि इंग्लैंड के लोग और उन्नयन की जो भाषा थी वह सबसे श्रेष्ठ भाषा है और बाकी लोग जो जो भी लोग कर भाषाएं दुनिया में है वह अप्रगत लोगों की है गुलाम लोगों के अनपढ़ लोगों की है आदिवासियों की है सब नीचे वाले लोगों की और इंग्लिश भाषा सब ऊपर के लोगों की यह करने में कॉलोनियल पीरियड जिस वक्त ब्रिटेन का शासन लगभग सारी दुनिया में था तो यह भाषा दुनिया में और उनका शासन और सब सिस्टमैटिक था तू लोकल भाषा वालों को इनके प्रति एक प्रकार का आदर भी था वह भी उधर भी था गीत सुनाए जो थी वह सिस्टमैटिक लेफ्ट राइट लेफ्ट राइट करती थी अमरलोक रिश्ते में ऐसा कुछ नहीं करती लेफ्ट राइट लेफ्ट राइट सीधा गोष्टी थी या तो मर जाती थी या मार मार मार दी थी उन्होंने आधुनिक तंत्र के से जो आज की मिलिट्री उसका निर्माण में उस वक्त किया था भारत में जगह जगह पर रेजीमेंट्स अंग्रेजों के जमाने के बटालियन से लगभग हर जिले में एक आर्मी कैंप होता है आदमी को समझ से भी दूर रखा गया था उनमें कड़क प्रशासन भी रखा था कर्मकार उबर का ऑफिस इन कामकाज होता था वॉइस कॉलोनियल पीरियड में इंग्लिश भाषा का था लोकल भाषा एक नहीं सैकड़ों लोकल भाषा और पूरी दुनिया को थोड़ा बहुत कि ही सही समझ में आ जाए ऐसी भाषा इंग्लिश भाषा बन गई थी तो इसमें साइकोलॉजी बन गई यह साइकोलॉजी का मामला है मैंने कुछ बच्चे इंग्लिश में जनपद मेले में पढ़ने वाली पांचवी तक सातवीं तक गए हुए हैं लेकिन मराठी आती नहीं तो इनका जो भावनिक जीवन है वही खत्म हुआ हो जाता है इंसान अपनी मातृभाषा में निश्चित रूप से अभिव्यक्त होता है अंग्रेजी भाषा भी इसको आती नहीं है तो जो कृत्रिम तरीके से लाई गई भाषाएं उसने उसकी प्रतिभा नहीं कर सकती इसलिए इंग्लिश में लिंग के स्टूडेंट्स में कोई भी उनकी प्रतिभा का साइंटिस्ट या साहित्यिक संशोधन किया कभी नहीं निकल रहा है सारे लोकल भाषा से निकलकर आए हुए मोदी जी गुजराती गुजराती शायरी शरद पवार मराठी मराठी से आए ना कोई शासन में और ना कोई प्रोग्राम संसद में उड़ने ओरिजिनल अपनी मातृभाषा में समझ कर सकता है या तो हिंदी या तो फिर इंग्लिश तो एक मा साइकोलॉजी बन गई और लोगों को ऐसा लगने लगा कि मातृभाषा को एक अनपढ़ गवार व्यक्ति का लक्षण है इसलिए उसको दिखाना नहीं चाहिए को दिखाना चाहिए धन्यवाद
Doosaree bhaasha seekhana itana hee aasaan hota hai to jin logon ko inglish aatee hai vah hindee bhaasha kyon nahin seekhate ek bahut achchhe savaal yah poochha gaya hai to isamen ek itihaas bhee saikolojee bhee hai ma saikolojee samooh manushy sabhee hai aarthik vyavastha bhee hai shiksha kee vyavastha bhee hai aur antararaashtreey vyavastha jo hai akshata aur prakaran mein inglish bhaasha ka upayog anda saaree duniya mein aisa kiya gaya hai ki inglaind ke log aur unnayan kee jo bhaasha thee vah sabase shreshth bhaasha hai aur baakee log jo jo bhee log kar bhaashaen duniya mein hai vah apragat logon kee hai gulaam logon ke anapadh logon kee hai aadivaasiyon kee hai sab neeche vaale logon kee aur inglish bhaasha sab oopar ke logon kee yah karane mein koloniyal peeriyad jis vakt briten ka shaasan lagabhag saaree duniya mein tha to yah bhaasha duniya mein aur unaka shaasan aur sab sistamaitik tha too lokal bhaasha vaalon ko inake prati ek prakaar ka aadar bhee tha vah bhee udhar bhee tha geet sunae jo thee vah sistamaitik lepht rait lepht rait karatee thee amaralok rishte mein aisa kuchh nahin karatee lepht rait lepht rait seedha goshtee thee ya to mar jaatee thee ya maar maar maar dee thee unhonne aadhunik tantr ke se jo aaj kee militree usaka nirmaan mein us vakt kiya tha bhaarat mein jagah jagah par rejeements angrejon ke jamaane ke bataaliyan se lagabhag har jile mein ek aarmee kaimp hota hai aadamee ko samajh se bhee door rakha gaya tha unamen kadak prashaasan bhee rakha tha karmakaar ubar ka ophis in kaamakaaj hota tha vois koloniyal peeriyad mein inglish bhaasha ka tha lokal bhaasha ek nahin saikadon lokal bhaasha aur pooree duniya ko thoda bahut ki hee sahee samajh mein aa jae aisee bhaasha inglish bhaasha ban gaee thee to isamen saikolojee ban gaee yah saikolojee ka maamala hai mainne kuchh bachche inglish mein janapad mele mein padhane vaalee paanchavee tak saataveen tak gae hue hain lekin maraathee aatee nahin to inaka jo bhaavanik jeevan hai vahee khatm hua ho jaata hai insaan apanee maatrbhaasha mein nishchit roop se abhivyakt hota hai angrejee bhaasha bhee isako aatee nahin hai to jo krtrim tareeke se laee gaee bhaashaen usane usakee pratibha nahin kar sakatee isalie inglish mein ling ke stoodents mein koee bhee unakee pratibha ka saintist ya saahityik sanshodhan kiya kabhee nahin nikal raha hai saare lokal bhaasha se nikalakar aae hue modee jee gujaraatee gujaraatee shaayaree sharad pavaar maraathee maraathee se aae na koee shaasan mein aur na koee prograam sansad mein udane orijinal apanee maatrbhaasha mein samajh kar sakata hai ya to hindee ya to phir inglish to ek ma saikolojee ban gaee aur logon ko aisa lagane laga ki maatrbhaasha ko ek anapadh gavaar vyakti ka lakshan hai isalie usako dikhaana nahin chaahie ko dikhaana chaahie dhanyavaad

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:22
नमस्कार दूसरी भाषा सीखना आसान नहीं होता है लेकिन बात करें हम भारतीयों के तो हम भारतीय दूसरी भाषा सीखने में बहुत तेज है इसलिए भारतीय लोग अंग्रेजी को बहुत जल्दी सीख लेते हैं और बहुत ही अजीब लगे लेकिन हिंदी एक ऐसी भाषा है जो कठिन भाषा है उसके दूसरे को विदेशियों के लिए खासकर यूरोप और अमेरिका इसके लिए तो बहुत मुश्किल है इसलिए कोई भी यूरोप और अमेरिका ने हिंदी शब्दों को हिंदी भाषा को सटीकता से नहीं बोल पाता है बहुत कम ऐसे मिलते हैं सीखते हैं बहुत सारे लेकिन बोल नहीं पाते हैं कि किस प्रकार भारत के लोग इंग्लिश बोलते हैं इस प्रकार भारतीय लोग फ्रेंड्स बोलते हैं जिस प्रकार भारतीय लोग दूसरी भाषाओं को बोल देते हैं और सामने वाले को ऐसा लगता ही नहीं कीजिए मारुति है या दूसरे देश का उनको ऐसा लगता है कि इनकी खुद की भाषा से यह साबित होता है कि हाल के लोग दूसरी भाषा सीखने में बहुत एक्सपर्ट है बहुत जल्दी सीखते हैं उन देशों के लोगों की तुलना में जिन देशों की भाषा अंग्रेजी है या कोई और भाषा है
Namaskaar doosaree bhaasha seekhana aasaan nahin hota hai lekin baat karen ham bhaarateeyon ke to ham bhaarateey doosaree bhaasha seekhane mein bahut tej hai isalie bhaarateey log angrejee ko bahut jaldee seekh lete hain aur bahut hee ajeeb lage lekin hindee ek aisee bhaasha hai jo kathin bhaasha hai usake doosare ko videshiyon ke lie khaasakar yoorop aur amerika isake lie to bahut mushkil hai isalie koee bhee yoorop aur amerika ne hindee shabdon ko hindee bhaasha ko sateekata se nahin bol paata hai bahut kam aise milate hain seekhate hain bahut saare lekin bol nahin paate hain ki kis prakaar bhaarat ke log inglish bolate hain is prakaar bhaarateey log phrends bolate hain jis prakaar bhaarateey log doosaree bhaashaon ko bol dete hain aur saamane vaale ko aisa lagata hee nahin keejie maaruti hai ya doosare desh ka unako aisa lagata hai ki inakee khud kee bhaasha se yah saabit hota hai ki haal ke log doosaree bhaasha seekhane mein bahut eksapart hai bahut jaldee seekhate hain un deshon ke logon kee tulana mein jin deshon kee bhaasha angrejee hai ya koee aur bhaasha hai

Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:51
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सब लोग दूसरी भाषा सीखना इतना ही आसान होता है तो जिन लोगों को इंग्लिश आती है हिंदी भी आसानी से क्यों नहीं सीख पाते तो देख ली जहां तक आप लोगों का मानना होगा कि दूसरी बात भाषा सीखना इतना आसान है मेरा मानना तो ऐसा बिल्कुल नहीं क्यों किया कर आपने देखी देखी तो आप पर इसलिए क्षेत्र में अगर आप रहते हैं मस्तानी लैंग्वेज होती है यानी की भाषा होती वहीं आपसे करते हैं विशेषकर हिंदी क्योंकि देखिए भारत की जो राजभाषा राष्ट्रभाषा हिंदी है तो अधिकांश लोग हिंदी बोलते हैं हम पर वाक्य मतलब ऐसे ही देखा जाता है जो मराठी होते मारवाड़ी होते हैं हम वतन के लोगों से हैं और हिंदी में बोलते इसके अतिरिक्त स्थानीय भाषा भी बोलते लेकिन अधिकांश लोग को तो क्यों हिंदी बोलते तो हमारे हिसाब से दूसरी भाषा सीखना इतना आसान नहीं होता क्योंकि दूसरों का सप्तमी सीखते जब आप दूसरे अपनों में जागते तथा वहां के लोगों से मिलते हैं तब आपको वहां के भाषा की जरूरत होती है और आप वहां की भाषा को सीखते हैं तो ऐसा नहीं होता है कि मतलब दूसरी भाषा सीखना इतना आसान तरीके जो अंग्रेज होते हैं वो भी हिंदी फिल्म जज्बाती होती हिंदी सीखने के लिए पाते जबकि हम लोग में लोग को भी इंग्लिश सीखने की बहुत ज्यादा जल्द बात हुई थी तब तक हम लोग भी मेहनत किए गए इंग्लिश सीखते परंतु क्या होता है कि इंग्लिश हम सीख जाते हैं पर इतना ज्यादा नहीं बोल पाते इंग्लिश कमजोर है सुमित करता हूं फोन का जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hain aap sab log doosaree bhaasha seekhana itana hee aasaan hota hai to jin logon ko inglish aatee hai hindee bhee aasaanee se kyon nahin seekh paate to dekh lee jahaan tak aap logon ka maanana hoga ki doosaree baat bhaasha seekhana itana aasaan hai mera maanana to aisa bilkul nahin kyon kiya kar aapane dekhee dekhee to aap par isalie kshetr mein agar aap rahate hain mastaanee laingvej hotee hai yaanee kee bhaasha hotee vaheen aapase karate hain visheshakar hindee kyonki dekhie bhaarat kee jo raajabhaasha raashtrabhaasha hindee hai to adhikaansh log hindee bolate hain ham par vaaky matalab aise hee dekha jaata hai jo maraathee hote maaravaadee hote hain ham vatan ke logon se hain aur hindee mein bolate isake atirikt sthaaneey bhaasha bhee bolate lekin adhikaansh log ko to kyon hindee bolate to hamaare hisaab se doosaree bhaasha seekhana itana aasaan nahin hota kyonki doosaron ka saptamee seekhate jab aap doosare apanon mein jaagate tatha vahaan ke logon se milate hain tab aapako vahaan ke bhaasha kee jaroorat hotee hai aur aap vahaan kee bhaasha ko seekhate hain to aisa nahin hota hai ki matalab doosaree bhaasha seekhana itana aasaan tareeke jo angrej hote hain vo bhee hindee philm jajbaatee hotee hindee seekhane ke lie paate jabaki ham log mein log ko bhee inglish seekhane kee bahut jyaada jald baat huee thee tab tak ham log bhee mehanat kie gae inglish seekhate parantu kya hota hai ki inglish ham seekh jaate hain par itana jyaada nahin bol paate inglish kamajor hai sumit karata hoon phon ka javaab achchha laga hoga dhanyavaad

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:08
रक्त उसने दूसरी भाषा सीखना इतना ही आसान होता है तो जिन लोगों को इंग्लिश आती है वहीं दीदी आसानी से क्यों नहीं सीख पाते नहीं तो आपको बताना चाहेंगे की भाषा सीखना तो आसान है लेकिन कोई भी कार्य संतति होता है जवाब उसके रेगुलर बेस प्रैक्टिस करें मेहनत करें अगर आप सोचें कि आप 2 दिन के अंदर दूसरी भाषा से ही जाएंगे तो बहुत नेक्स्ट में पॉसिबल है भाषा सीखने में इतना आसान कार्य नहीं होता और हिंदी भाषा में तो वैसे भी इतने सारे शब्द ऐसे होते हैं 57 इतने सारे प्रकाशित होते हैं जो कि सही उच्चारण करना ही अपने आप में एक कला है तो यहां पर वक्त लगता है सारी चीज़ों को सीखने में समझने में जिस वजह से जो व्यक्ति है वह हिंदी भाषा इतनी जल्दी नहीं सीख पाता और ही तो सिर्फ किसी भी भाषा है किसी भी काम के लिए कहा जा सकता है कि जब तक आप डेडीकेटेड होकर काम नहीं करेंगे तब तक इस तरह की परी क्योंकि आपके सामने आते रहेंगे और आप आसानी से उसका ले कोई आसमानों को नहीं सीख पाएंगे मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Rakt usane doosaree bhaasha seekhana itana hee aasaan hota hai to jin logon ko inglish aatee hai vaheen deedee aasaanee se kyon nahin seekh paate nahin to aapako bataana chaahenge kee bhaasha seekhana to aasaan hai lekin koee bhee kaary santati hota hai javaab usake regular bes praiktis karen mehanat karen agar aap sochen ki aap 2 din ke andar doosaree bhaasha se hee jaenge to bahut nekst mein posibal hai bhaasha seekhane mein itana aasaan kaary nahin hota aur hindee bhaasha mein to vaise bhee itane saare shabd aise hote hain 57 itane saare prakaashit hote hain jo ki sahee uchchaaran karana hee apane aap mein ek kala hai to yahaan par vakt lagata hai saaree cheezon ko seekhane mein samajhane mein jis vajah se jo vyakti hai vah hindee bhaasha itanee jaldee nahin seekh paata aur hee to sirph kisee bhee bhaasha hai kisee bhee kaam ke lie kaha ja sakata hai ki jab tak aap dedeeketed hokar kaam nahin karenge tab tak is tarah kee paree kyonki aapake saamane aate rahenge aur aap aasaanee se usaka le koee aasamaanon ko nahin seekh paenge main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:31
नमस्कार दोस्तों दूसरी भाषा सीखना आसान तो होता है लेकिन इंग्लिश वाले हिंदी जल्दी नहीं सीख पाते हैं क्योंकि दोस्तों हिंदी बोलने में काफी उनको दिक्कत होती है क्योंकि हिंदी एक बहुत ही कठिन लैंग्वेज उनके लिए है और वह हिंदी सही से नहीं बोल पाते हैं पहले उनको का खा गा अच्छे से सीखना पड़ेगा कि उसको उच्चारण कैसे किया जाता है तभी वह हमारी हिंदी भाषा को सीख पाएंगे तो दोस्तों अगर आपको जानकारी अच्छी लगी हो तो प्लीज जल्दी से लाइक कर दे
Namaskaar doston doosaree bhaasha seekhana aasaan to hota hai lekin inglish vaale hindee jaldee nahin seekh paate hain kyonki doston hindee bolane mein kaaphee unako dikkat hotee hai kyonki hindee ek bahut hee kathin laingvej unake lie hai aur vah hindee sahee se nahin bol paate hain pahale unako ka kha ga achchhe se seekhana padega ki usako uchchaaran kaise kiya jaata hai tabhee vah hamaaree hindee bhaasha ko seekh paenge to doston agar aapako jaanakaaree achchhee lagee ho to pleej jaldee se laik kar de

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:48
हेलो फ्रेंड जैसा कि आपका प्रश्न है दूसरी भाषा सीखना इतना ही आसान होता है तो जिन लोगों को इंग्लिश आती है वह हिंदी इतनी आसानी से क्यों नहीं सीख पाते यह बात आपकी जो है वह और मैं गलत कहना चाहूंगा ऐसी बात नहीं है फ्रेंड की भाषा जो है सीखना सरल होता है भाषा सीखना बहुत ही कठिन होता है कठिन माना जाता है जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं कि हम हिंदू हैं और जो है हिंदी बोलते हैं या फिर भारत के नागरिक है मर्जी हमारी पैदाइश जो है जहां हुई है वहां की लैंग्वेज हिंदी है तो हम बहुत ही अच्छी तरीके से हिंदी बोलेंगे उसी कंडीशन में दूसरी तरफ अगर देखा जाए तो कोई लड़का अगर हमें क्या फायदा होता है क्लीन पैदा होता है जिसकी मातृभाषा जो है इंग्लिश है वह बचपन से शुरुआत से इंग्लिश लैंग्वेज का प्रयोग करती आता है उस लेवल से उसका जोक इंग्लिश से का जो रूटीन होता है बोलने का इंग्लिश की जोत एक ऐप न्यू होती है वह मजबूत हो जाती है क्योंकि वह उसी वातावरण में जो है बचपन से पाला पड़ा होता है आदित्य फ्रेंड की जिस वातावरण में हम बचपन से पहले बड़े होते हैं वह हम लाख छुपाएं की कोशिश करें लेकिन वह छुपती नहीं है फ्रेंड उसी तरीके से हम जब पर हमारी जो पैदाइश होती है चाहे वह इंग्लैंड में हुई हो चाहे वह अदर कंट्री में हुई हो जैसे कि अगर मुस्लिम इलाके में जाए जैसे कि सऊदी अरब वगैरह हो गया तो वहां पर जो लैंग्वेज चलती है वह हमें जो है समझ में नहीं आती है पंजाब अगर हम चला जाए तो वहां पर पंजाबी जो है होती है बोली जाती है तो जहां की जैसी मातृभाषा होती है वहां के लोग जो है उसी अवस्था में बचपन से पहले बड़े होते हैं इसलिए उनको जो है अपनी भाषा सरल लगती है और दूसरी भाषा को सीखने में उन्हें समझने में टाइम लगता है अगर आपको विश्वास ना हो तो आप किसी दूसरी कंट्री में चले जाइए आप देखेंगे पहले आपको तो खुद समझ नहीं आएगा कि यह बंदा बोल क्या रहा है या फिर कोई अंग्रेज आपकी कंट्री में आ जाएगा तुझे खुद नहीं समझ में आएगा कि आप बोल क्या रहे हैं जब तक आप उसे थोड़ी सी इंग्लिश लैंग्वेज में ट्रांसलेशन नहीं करेंगे तब तक उसे आपकी भाषा जो है समझ नहीं आएगी कि आप बोल क्या रहे हैं तो यह कंडीशन ऐसी होती है फ्रेंड और इनफेक्ट मैं यह कहना चाहूंगा कि भाषा जो होता है वह हालांकि दिल से उतरती है अगर सही शब्द इस्तेमाल किया जाए लेकिन भाषा भी सीखना जो फ्रेंड हो एक कला है और बहुत ही मेहनत का काम यह भी है आशा है कि आप सभी को यह जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Helo phrend jaisa ki aapaka prashn hai doosaree bhaasha seekhana itana hee aasaan hota hai to jin logon ko inglish aatee hai vah hindee itanee aasaanee se kyon nahin seekh paate yah baat aapakee jo hai vah aur main galat kahana chaahoonga aisee baat nahin hai phrend kee bhaasha jo hai seekhana saral hota hai bhaasha seekhana bahut hee kathin hota hai kathin maana jaata hai jaise ki aap sabhee log jaanate hain ki ham hindoo hain aur jo hai hindee bolate hain ya phir bhaarat ke naagarik hai marjee hamaaree paidaish jo hai jahaan huee hai vahaan kee laingvej hindee hai to ham bahut hee achchhee tareeke se hindee bolenge usee kandeeshan mein doosaree taraph agar dekha jae to koee ladaka agar hamen kya phaayada hota hai kleen paida hota hai jisakee maatrbhaasha jo hai inglish hai vah bachapan se shuruaat se inglish laingvej ka prayog karatee aata hai us leval se usaka jok inglish se ka jo rooteen hota hai bolane ka inglish kee jot ek aip nyoo hotee hai vah majaboot ho jaatee hai kyonki vah usee vaataavaran mein jo hai bachapan se paala pada hota hai aadity phrend kee jis vaataavaran mein ham bachapan se pahale bade hote hain vah ham laakh chhupaen kee koshish karen lekin vah chhupatee nahin hai phrend usee tareeke se ham jab par hamaaree jo paidaish hotee hai chaahe vah inglaind mein huee ho chaahe vah adar kantree mein huee ho jaise ki agar muslim ilaake mein jae jaise ki saoodee arab vagairah ho gaya to vahaan par jo laingvej chalatee hai vah hamen jo hai samajh mein nahin aatee hai panjaab agar ham chala jae to vahaan par panjaabee jo hai hotee hai bolee jaatee hai to jahaan kee jaisee maatrbhaasha hotee hai vahaan ke log jo hai usee avastha mein bachapan se pahale bade hote hain isalie unako jo hai apanee bhaasha saral lagatee hai aur doosaree bhaasha ko seekhane mein unhen samajhane mein taim lagata hai agar aapako vishvaas na ho to aap kisee doosaree kantree mein chale jaie aap dekhenge pahale aapako to khud samajh nahin aaega ki yah banda bol kya raha hai ya phir koee angrej aapakee kantree mein aa jaega tujhe khud nahin samajh mein aaega ki aap bol kya rahe hain jab tak aap use thodee see inglish laingvej mein traansaleshan nahin karenge tab tak use aapakee bhaasha jo hai samajh nahin aaegee ki aap bol kya rahe hain to yah kandeeshan aisee hotee hai phrend aur inaphekt main yah kahana chaahoonga ki bhaasha jo hota hai vah haalaanki dil se utaratee hai agar sahee shabd istemaal kiya jae lekin bhaasha bhee seekhana jo phrend ho ek kala hai aur bahut hee mehanat ka kaam yah bhee hai aasha hai ki aap sabhee ko yah javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:21
हेलो विवाह तू आज आपका सवाल है कि दूसरी भाषा सीखना इतना ही आसान होता है तो जिन लोगों को इंग्लिश आती है वह हिंदी इतनी आसानी से क्यों नहीं सीख पाता है तो देखें आपको बता दूं कि और सब की भाषा की तुलना में हिंदी थोड़ा मतलब कठिन होता है मुश्किल होता है क्योंकि हिंदी में देखिए एक इंसान को आप को कभी आप बोलना पड़ता है कभी तुम तो कभी तू ऐसे बहुत सारे मतलब आप भेज के हिसाब से रिलेशन के हिसाब से आप लगाते हैं लेकिन इंग्लिश में वही बात कीजिए चाहे वह बड़ा हो बुजुर्ग वह छोटा हो बच्चों सबवे यू लगता है तुम इतना ज्यादा मतलब कॉम्प्लिकेटेड नहीं होता वह बहुत ही सिंपल है इंग्लिश एक मतलब जो नहीं सीख पाते उनको डर लगता हाड लगता है क्योंकि वह भी नहीं जानते लेकिन इंग्लिश सीखना इतना भी तो अपने आप को सुधार क्या होता लोग आपको बोलकर कुछ भी चले जाते आप उसे निकालते कि इंसान भोला के ग्रामर पर आप इतना ध्यान नहीं देते लेकिन मैं हिंदी में बोल रहा है बोल रहे हैं उल्टा है सारी चीजें निकलती है तो बाकी सब की भाषा से स्पेशल इंग्लिश की बात करें तो इतना सरल होता है उस हिंदी कठिन होता है इसलिए जो लोग इंग्लिश जानते हैं उनको इस तरह का प्रदर्शन और फिर इस तरह का बातचीत और इस तरह पूरी तरह से सीखना कब किसको क्या बुरा वक्त कंफ्यूज हो जाते थे उनके लिए थोड़ा मुश्किल होता है हिंदी सीखना
Helo vivaah too aaj aapaka savaal hai ki doosaree bhaasha seekhana itana hee aasaan hota hai to jin logon ko inglish aatee hai vah hindee itanee aasaanee se kyon nahin seekh paata hai to dekhen aapako bata doon ki aur sab kee bhaasha kee tulana mein hindee thoda matalab kathin hota hai mushkil hota hai kyonki hindee mein dekhie ek insaan ko aap ko kabhee aap bolana padata hai kabhee tum to kabhee too aise bahut saare matalab aap bhej ke hisaab se rileshan ke hisaab se aap lagaate hain lekin inglish mein vahee baat keejie chaahe vah bada ho bujurg vah chhota ho bachchon sabave yoo lagata hai tum itana jyaada matalab kompliketed nahin hota vah bahut hee simpal hai inglish ek matalab jo nahin seekh paate unako dar lagata haad lagata hai kyonki vah bhee nahin jaanate lekin inglish seekhana itana bhee to apane aap ko sudhaar kya hota log aapako bolakar kuchh bhee chale jaate aap use nikaalate ki insaan bhola ke graamar par aap itana dhyaan nahin dete lekin main hindee mein bol raha hai bol rahe hain ulta hai saaree cheejen nikalatee hai to baakee sab kee bhaasha se speshal inglish kee baat karen to itana saral hota hai us hindee kathin hota hai isalie jo log inglish jaanate hain unako is tarah ka pradarshan aur phir is tarah ka baatacheet aur is tarah pooree tarah se seekhana kab kisako kya bura vakt kamphyooj ho jaate the unake lie thoda mushkil hota hai hindee seekhana

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:31
ऐसी भाषा सीखना इतना ही आसान होता है तो जिन लोगों को इंग्लिश नहीं आती है वह हिंदी में आसानी से क्यों नहीं सीख पाते हैं तो देखे कोई दूसरी भाषा सीखना आसान नहीं होता है किसने कहा है आपसे कि आसान होता है आसान तो कुछ भी नहीं है दुनिया में सांस लेना भी आसान नहीं होता है लेकिन फिर भी इंसान का प्रयास करेंगे तो ज्यादा बेहतर होगा आप खुद की जिंदगी को ज्यादा छतरी कैसे सुधार पाएंगे खुद को सक्सेसफुल बना पाएंगे आदेशों के बाद
Aisee bhaasha seekhana itana hee aasaan hota hai to jin logon ko inglish nahin aatee hai vah hindee mein aasaanee se kyon nahin seekh paate hain to dekhe koee doosaree bhaasha seekhana aasaan nahin hota hai kisane kaha hai aapase ki aasaan hota hai aasaan to kuchh bhee nahin hai duniya mein saans lena bhee aasaan nahin hota hai lekin phir bhee insaan ka prayaas karenge to jyaada behatar hoga aap khud kee jindagee ko jyaada chhataree kaise sudhaar paenge khud ko saksesaphul bana paenge aadeshon ke baad

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:10
आपका प्रश्न है कि दूसरी भाषा सीखना अगर आसान होता तो लोग अंग्रेजी गुजराती को हिंदी इतनी आसानी से कैसे सीख लेता है देखिए हिंदी हमारी मातृभाषा है हमारी राजभाषा है हमारी राष्ट्रभाषा भी नहीं है और अंग्रेजी अंतर्राष्ट्रीय भाषा है हर व्यक्ति अंग्रेजी पढ़ना नहीं चाहता उसका कारण यह है कि को केवल परीक्षाओं के माध्यम से और सरकारी काम-काज के माध्यम से अधिक क्षेत्रों में रह गई है इसलिए हिंदी जो है कक्षा 6 से पढ़ाई जाती है लेकिन आप अंग्रेजी कक्षा 6 से पढ़ाई जाती है और हिंदी जो है आप शुरू से ही ऐसी गुस्से से पढ़ते हैं का खा गा घा से लेकर के घर में भी बोली जाती है इसलिए जो प्रखरता आपके बोलने और पढ़ने में आ जाती है और उसी माध्यम से जो पुस्तकें जब हम पढ़ते हैं इसके अलावा हमारे धर्म ग्रंथ भी सब हिंदी में जोश रामायण है बीता है महाभारत इन सब चीजों को हम पढ़ते रह नहीं पुराण है तो इन सब चीजों के माध्यम से भी हमें हिंदी के वह गति मिल जाती है जो हमें समाज में और हमारे ऐसा हो सकता है क्योंकि हमारी मातृभाषा है इसलिए मैं समझने में आसानी हो जाती अंग्रेजी क्योंकि मातृभाषा नहीं है इसलिए हम उसको देर से सीखने हैं उसके लिए काफी सतत अभ्यास करना पड़ता है
Aapaka prashn hai ki doosaree bhaasha seekhana agar aasaan hota to log angrejee gujaraatee ko hindee itanee aasaanee se kaise seekh leta hai dekhie hindee hamaaree maatrbhaasha hai hamaaree raajabhaasha hai hamaaree raashtrabhaasha bhee nahin hai aur angrejee antarraashtreey bhaasha hai har vyakti angrejee padhana nahin chaahata usaka kaaran yah hai ki ko keval pareekshaon ke maadhyam se aur sarakaaree kaam-kaaj ke maadhyam se adhik kshetron mein rah gaee hai isalie hindee jo hai kaksha 6 se padhaee jaatee hai lekin aap angrejee kaksha 6 se padhaee jaatee hai aur hindee jo hai aap shuroo se hee aisee gusse se padhate hain ka kha ga gha se lekar ke ghar mein bhee bolee jaatee hai isalie jo prakharata aapake bolane aur padhane mein aa jaatee hai aur usee maadhyam se jo pustaken jab ham padhate hain isake alaava hamaare dharm granth bhee sab hindee mein josh raamaayan hai beeta hai mahaabhaarat in sab cheejon ko ham padhate rah nahin puraan hai to in sab cheejon ke maadhyam se bhee hamen hindee ke vah gati mil jaatee hai jo hamen samaaj mein aur hamaare aisa ho sakata hai kyonki hamaaree maatrbhaasha hai isalie main samajhane mein aasaanee ho jaatee angrejee kyonki maatrbhaasha nahin hai isalie ham usako der se seekhane hain usake lie kaaphee satat abhyaas karana padata hai

Dhruv Singh Ghosh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Dhruv जी का जवाब
Student🖍️
2:58
धर्मेंद्र सिंह घोष आपने सुदाम बोलकर सा सवाल पूछा कि दूसरी बार सीखना इतना ही आसान होता है तो जिन लोगों को इंग्लिश आती है बहन जी आसानी से क्यों नहीं सीख पाते क्या रहता है कितना आसान नहीं होता है मींस मदर टंग तो ऐसा है कि नॉर्मल होता है बच्चा कौन होते ही सीखे लगता है जब वह स्पीकर बोलने की अवस्था में आ जाता है तो वह मदर टंग नहीं बोलता है चाहे आपकी इंग्लिश मदर टंग हो या फिर हिंदी में लेट आऊंगा अगर आप तो इंग्लिश रीजन में होम इंसाफ का जो फैमिली में हो इंग्लिश लैंग्वेज यूज करते हैं चाहे वह इंडिया से ही क्यों ना तो बच्चे की मदर टंग जो है धीरे-धीरे इंग्लिश बन जाती है तेरे तेरे को 9 शब्दों को सीखते जाता है तो उससे क्या रहता है क्या बोल रहे हैं कि बस इतना आसान होता होता है वह तो फिर भी अगर मदर टंग की अपेक्षा ना हम बहुत ही कम सीख पाते हैं जैसे आपने तो आसानी से बोल दिया बट कुछ कुछ लोगों को इंग्लिश बहुत अच्छी लगती हो आप बोल रहे हैं कि इतना आसान है क्या आपने संस्कृत पढ़िए बेचनी पड़ी होगी फर्स्ट टू 10th मर्यादा कंपलसरी है संस्कृत की प्रणाली आपको तो आपको संस्कृत में कुछ बोल तो सकते हैं गार्ड लाइन तो बोल सकते हैं बट पूरा * नहीं दे सकते अपना इंट्रो में नाम नहीं बोला फुल इंडो नहीं देख सकते वह तो ठीक-ठाक है कोई भी नहीं हर कोई एक्सपायर डेट में नहीं होता और जरूरी भी नहीं समझता आजकल कोई संस्कृत कुछ नहीं जरूरी नहीं समझता और कुछ जाओ उससे फिल से है तो वह सीख रहे होते हैं कुछ कुछ लक्षण कैसे होते हैं और इंग्लिश का ज्यादा प्रकोप है लाइक कमेंट इंग्लिश तो ज्यादा लोग सीखने की ट्राई करना सीखना चाहिए क्योंकि इंग्लिश जो है सब अगर आपको ऑनलाइन बिजनेस करना है कुछ भी करना है तो आपको डिफरेंट डिफरेंट रीजन इन डिफरेंट स्टेट इंडिया में क्या लोकंट्री से बाहर तो ठीक है इंडिया में खेलो तो इंडिया में बहुत सी भाषाएं बोली जाती हैं क्या होता है कि कुछ कुछ लोग तो सुननी भी नहीं समझते या फिर आप उनकी लैंग्वेज नहीं समझ पाते बात की जाए इधर साउथ इंडिया की तो साउथ इंडिया की लैंग्वेज नॉर्थ इंडिया को थोड़ा कम समझ में आती है वह अपने रीजनल लैंग्वेज क्षेत्र इन लैंग्वेज हिंदी लैंग्वेज आती है लेकिन अगर वह अपने मदर टंग तो नहीं कह सकते उसको मदर टंग तो अलग हिंदी है लेकिन कोई भी हो सकती है लेकिन करते हैं तो आप ही कोई भी बघेलखंडी बघेलखंडी कुछ भी लैंग्वेज हो सकती है तो उसमें क्या रहता है कि आप उनके लैंग्वेज देखो तो उनकी लैंग्वेज समझ में नहीं आती तो इंग्लिश में क्या रहता है कि इंग्लिश हेल्पफुल होती है क्यों इंग्लिश सबको पढ़ना पड़ता है कॉमन इंग्लिश सबको आती है सबको आना चाहिए आती तो नहीं है सबको आना चाहिए कंपलसरी है
Dharmendr sinh ghosh aapane sudaam bolakar sa savaal poochha ki doosaree baar seekhana itana hee aasaan hota hai to jin logon ko inglish aatee hai bahan jee aasaanee se kyon nahin seekh paate kya rahata hai kitana aasaan nahin hota hai meens madar tang to aisa hai ki normal hota hai bachcha kaun hote hee seekhe lagata hai jab vah speekar bolane kee avastha mein aa jaata hai to vah madar tang nahin bolata hai chaahe aapakee inglish madar tang ho ya phir hindee mein let aaoonga agar aap to inglish reejan mein hom insaaph ka jo phaimilee mein ho inglish laingvej yooj karate hain chaahe vah indiya se hee kyon na to bachche kee madar tang jo hai dheere-dheere inglish ban jaatee hai tere tere ko 9 shabdon ko seekhate jaata hai to usase kya rahata hai kya bol rahe hain ki bas itana aasaan hota hota hai vah to phir bhee agar madar tang kee apeksha na ham bahut hee kam seekh paate hain jaise aapane to aasaanee se bol diya bat kuchh kuchh logon ko inglish bahut achchhee lagatee ho aap bol rahe hain ki itana aasaan hai kya aapane sanskrt padhie bechanee padee hogee pharst too 10th maryaada kampalasaree hai sanskrt kee pranaalee aapako to aapako sanskrt mein kuchh bol to sakate hain gaard lain to bol sakate hain bat poora * nahin de sakate apana intro mein naam nahin bola phul indo nahin dekh sakate vah to theek-thaak hai koee bhee nahin har koee eksapaayar det mein nahin hota aur jarooree bhee nahin samajhata aajakal koee sanskrt kuchh nahin jarooree nahin samajhata aur kuchh jao usase phil se hai to vah seekh rahe hote hain kuchh kuchh lakshan kaise hote hain aur inglish ka jyaada prakop hai laik kament inglish to jyaada log seekhane kee traee karana seekhana chaahie kyonki inglish jo hai sab agar aapako onalain bijanes karana hai kuchh bhee karana hai to aapako dipharent dipharent reejan in dipharent stet indiya mein kya lokantree se baahar to theek hai indiya mein khelo to indiya mein bahut see bhaashaen bolee jaatee hain kya hota hai ki kuchh kuchh log to sunanee bhee nahin samajhate ya phir aap unakee laingvej nahin samajh paate baat kee jae idhar sauth indiya kee to sauth indiya kee laingvej north indiya ko thoda kam samajh mein aatee hai vah apane reejanal laingvej kshetr in laingvej hindee laingvej aatee hai lekin agar vah apane madar tang to nahin kah sakate usako madar tang to alag hindee hai lekin koee bhee ho sakatee hai lekin karate hain to aap hee koee bhee baghelakhandee baghelakhandee kuchh bhee laingvej ho sakatee hai to usamen kya rahata hai ki aap unake laingvej dekho to unakee laingvej samajh mein nahin aatee to inglish mein kya rahata hai ki inglish helpaphul hotee hai kyon inglish sabako padhana padata hai koman inglish sabako aatee hai sabako aana chaahie aatee to nahin hai sabako aana chaahie kampalasaree hai

Manju Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए Manju जी का जवाब
Unknown
0:59

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसी भी नई भाषा को सीखने के लिए कहां से प्रारंभ किया जाना चाहिए, किसी भाषा को सीखने के लिए सबसे पहले क्या सीखना होता है?, भाषा कैसे सीखें
URL copied to clipboard