#जीवन शैली

bolkar speaker

इंसान को भय क्यों लगता है जबकि सब कुछ तो कल्पना मात्र है?

Insaan Ko Bhay Kyun Lagta Hai Jabki Sab Kuch To Kalpana Matra Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:16
तो आज आप का सवाल है कि इंसान को वह क्यों लगता है जो कि सब कुछ तो कल्पना मात्र है तो इंसान के बाद समझता है कि हां यह सर एक कल्पना है यह मार्जिनेशन है या फिर भी फिल्म देखने डरावनी वह सर्कल में यह तो सच में नहीं है तो जाकर वह इस चीज को समझ पाता अपने दिमाग में बोला पाता है की एक तरह की कल्पना क्या होता है कि जब तक मतलब नॉर्मल अभी रहते हैं तो हां ठीक है यह सब इमैजिनेशन है कल्पना अगर डर लगती है तो अगर कुछ भी देख लेते तो हमारे दिमाग में बस जाता है और कोई भी डरावनी है जो फिल्में होती है वह गर्म रियल स्टोरी है पर बेस्ट होता है तुम जैसे कि नहीं सच में किसी के साथ ऐसा हुआ है तो इसके कारण मतलब हम डर जाते हैं सोचते कि नहीं यह तो नहीं है यह तो मतलब वह सच्ची कहानी है तो यह जरूर किसी के साथ हुआ है तो फिर तो यह झूठ नहीं हो सकता तो हमारे साथ भी ऐसा हो सकता है हमारे दिमाग ही हो यह सब चीज को बहुत जल्दी कैच कर लेता तो कुछ भी हमारे आसपास मूवमेंट होते हैं हमें लगता है कि नहीं भूत प्रेत सभी हमें मतलब डर लगने लगता जिस वजह से हम चाहकर भी अपने दिमाग को नहीं समझा पाते की तरह की कल्पना या फिर मैजिनेशन में हर एक चीज सच लगने लगता है
To aaj aap ka savaal hai ki insaan ko vah kyon lagata hai jo ki sab kuchh to kalpana maatr hai to insaan ke baad samajhata hai ki haan yah sar ek kalpana hai yah maarjineshan hai ya phir bhee philm dekhane daraavanee vah sarkal mein yah to sach mein nahin hai to jaakar vah is cheej ko samajh paata apane dimaag mein bola paata hai kee ek tarah kee kalpana kya hota hai ki jab tak matalab normal abhee rahate hain to haan theek hai yah sab imaijineshan hai kalpana agar dar lagatee hai to agar kuchh bhee dekh lete to hamaare dimaag mein bas jaata hai aur koee bhee daraavanee hai jo philmen hotee hai vah garm riyal storee hai par best hota hai tum jaise ki nahin sach mein kisee ke saath aisa hua hai to isake kaaran matalab ham dar jaate hain sochate ki nahin yah to nahin hai yah to matalab vah sachchee kahaanee hai to yah jaroor kisee ke saath hua hai to phir to yah jhooth nahin ho sakata to hamaare saath bhee aisa ho sakata hai hamaare dimaag hee ho yah sab cheej ko bahut jaldee kaich kar leta to kuchh bhee hamaare aasapaas moovament hote hain hamen lagata hai ki nahin bhoot pret sabhee hamen matalab dar lagane lagata jis vajah se ham chaahakar bhee apane dimaag ko nahin samajha paate kee tarah kee kalpana ya phir maijineshan mein har ek cheej sach lagane lagata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
इंसान को भय क्यों लगता है जबकि सब कुछ तो कल्पना मात्र है?Insaan Ko Bhay Kyun Lagta Hai Jabki Sab Kuch To Kalpana Matra Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:17
बीके यह शरीर पूरा हमारा जो है वह कल्पना मात्र से नहीं है मन तो कल्पना में घूमता है लेकिन दो तरीके से होता है माने हमारा एक जब किसी चीज को दिल से सोचते हो देख मन से सोचते हैं तो दिल तो हमारे के स्थाई स्तंभ की तरह रहता है लेकिन मंजू हमारा कल्पनाशील होता है मन चंचल होता है मन में सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह के भाव आते हैं और भाव की अभिव्यंजना जो है मन को प्रफुल्लित भी करती हो और दुखी भी करती है इसलिए जमाने में हम कोई नकारात्मक विचार धारा ला देते हैं और तो सोचे कि और कहीं ऐसा आपको बहुत ना मिल जाएगा कोई आदमी हम अकेले जा रहे हैं जनरल से निकल रहे हैं और मन हमारा जो है वह बिल्कुल अधीर हो रहा है मन में नकारात्मक विचार आ रहे हैं कोई जानवर आ गया मैं खाना जाए या कोई आदमी ऐसा हो कि बदमाशों के चक्कर मुझे कोई नमस्ते सर सामान जो है तरह तरह की बातों के नकारात्मक विचार धाराओं के चक्कर में फंसकर के नकारात्मक सोच के कारण भयभीत होता रहता लेकिन मैंने जो हमारे अंदर जो जो है दिल की बात कहते हैं दिल स्थाई रूप से यार ऐसा कुछ नहीं होगा लंबा बढ़ते चलिए समस्याओं का समाधान स्वच्छता निकाल आता है तो दिल आपको समझाता है लेकिन मन जो है वह निर्मल तरीके से मतलब भाई भी उस होता रहता है
Beeke yah shareer poora hamaara jo hai vah kalpana maatr se nahin hai man to kalpana mein ghoomata hai lekin do tareeke se hota hai maane hamaara ek jab kisee cheej ko dil se sochate ho dekh man se sochate hain to dil to hamaare ke sthaee stambh kee tarah rahata hai lekin manjoo hamaara kalpanaasheel hota hai man chanchal hota hai man mein sakaaraatmak aur nakaaraatmak donon tarah ke bhaav aate hain aur bhaav kee abhivyanjana jo hai man ko praphullit bhee karatee ho aur dukhee bhee karatee hai isalie jamaane mein ham koee nakaaraatmak vichaar dhaara la dete hain aur to soche ki aur kaheen aisa aapako bahut na mil jaega koee aadamee ham akele ja rahe hain janaral se nikal rahe hain aur man hamaara jo hai vah bilkul adheer ho raha hai man mein nakaaraatmak vichaar aa rahe hain koee jaanavar aa gaya main khaana jae ya koee aadamee aisa ho ki badamaashon ke chakkar mujhe koee namaste sar saamaan jo hai tarah tarah kee baaton ke nakaaraatmak vichaar dhaaraon ke chakkar mein phansakar ke nakaaraatmak soch ke kaaran bhayabheet hota rahata lekin mainne jo hamaare andar jo jo hai dil kee baat kahate hain dil sthaee roop se yaar aisa kuchh nahin hoga lamba badhate chalie samasyaon ka samaadhaan svachchhata nikaal aata hai to dil aapako samajhaata hai lekin man jo hai vah nirmal tareeke se matalab bhaee bhee us hota rahata hai

bolkar speaker
इंसान को भय क्यों लगता है जबकि सब कुछ तो कल्पना मात्र है?Insaan Ko Bhay Kyun Lagta Hai Jabki Sab Kuch To Kalpana Matra Hai
Dt. Mayuari official Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dt. जी का जवाब
Medical field
2:48
उस इंसान को भेजो लगता है जबकि सब कुछ तो कल्पनिक है तो हां यह बात सच है कि सब कुछ काल्पनिक है लेकिन कभी-कभी इसको भी नहीं कहेंगे वह भी कई तरह के होते हैं तो उसको भी नहीं कह सकते लेकिन हां कभी-कभी जिन जिन लोगों को जिनके बारे में मैं बोल रही हूं उनको मैंने भाई मैं तो नहीं देखा है मोहब्बतें में उनको उत्तर जरूर कर सकती हूं की चिंता छोड़ कर सकती हूं कि मोदी को जो 50% या 60% जो देखा जाता है वह चिंता होती है जिससे यंगस्टर्स भी आते हैं बुजुर्ग भी आते हैं मगर इस ग्रुप के लोग आते हैं जिनको टेंशन रहती है चिंता रहती है और किसी ने किसी चीज की सोचते रहते हैं वह बहुत ज्यादा वह चीज कह सकते हैं चिंता के लिए बट उसमें यह नहीं कह सकते कि मैं होता होगा या फिर दूसरी मतलब बहुत डरते होंगे तो ऐसी ऐसी कोई चीज नहीं है कुछ चिंता हो सकती है तो चिंता तो एक-दो नॉर्मल सी चीज हो सबको होती है और यंगस्टर को भी होती है फ्यूचर की और बुजुर्गों को होती है फैमिली जी का बचपन में भी बहुत सारी पढ़ाई की कोई लेटर टेंशन होती है जो इंसान जॉब करता है उसे जॉब से रिलेटेड चिंता होती है भविष्य में क्या है क्या नहीं है भविष्य में नौकरी कहां जाएगी कहानी जाएगी फैमिली का क्या होगा क्या नहीं होगा फ्यूचर कैसा होगा तो इस बात के लिए इंसान जो है सोचता रहता है और यह किसी एक व्यक्ति के लिए नहीं है यह सब के लिए है और चाहे किसी भी चीज का भय हो जाए परिवार से दूर होने का भय हो या भविष्य कब है वह हर तरह का भय हो सकता है तू लगता है और अभय काम मैं समझती हूं कि मैं का तात्पर्य हां चिंता से है तू की चिंता ऐसी चीज होती है कि अगर कर रहे हो तो भी आप का नुकसान है और ऐसा तो हो ही नहीं सकता कि किसी को जो इस दुनिया में है उसको चिंता ना हो हर इंसान को चिंता होती है चाहे वह अमीर हो या गरीब हो चाहे वह किसी भी वर्क का होता है किसी किसी ना किसी ने में किसी न किसी रूप में आपके साथ होगी चाहे मां को बच्चे की चिंता हो बच्चे को पढ़ाई की जनता हो हस्बैंड को जॉब की चिंता हो किसी ना किसी भी में सबके साथ चिंता रहती रहती है तो इंसान को चुनता है जबकि सब कुछ काल्पनिक है बट फिर भी चिंता है ऐसी चीज है जिससे आपका कंट्रोल नहीं जानता हूं ना कि वास्तविक चीज है इसमें कोई मैसेज ही नहीं है बुराई नहीं है यह है कि इंसान को बहुत ज्यादा चिंता नहीं करनी चाहिए क्योंकि यह बीमारियों को जन्म देती है
Us insaan ko bhejo lagata hai jabaki sab kuchh to kalpanik hai to haan yah baat sach hai ki sab kuchh kaalpanik hai lekin kabhee-kabhee isako bhee nahin kahenge vah bhee kaee tarah ke hote hain to usako bhee nahin kah sakate lekin haan kabhee-kabhee jin jin logon ko jinake baare mein main bol rahee hoon unako mainne bhaee main to nahin dekha hai mohabbaten mein unako uttar jaroor kar sakatee hoon kee chinta chhod kar sakatee hoon ki modee ko jo 50% ya 60% jo dekha jaata hai vah chinta hotee hai jisase yangastars bhee aate hain bujurg bhee aate hain magar is grup ke log aate hain jinako tenshan rahatee hai chinta rahatee hai aur kisee ne kisee cheej kee sochate rahate hain vah bahut jyaada vah cheej kah sakate hain chinta ke lie bat usamen yah nahin kah sakate ki main hota hoga ya phir doosaree matalab bahut darate honge to aisee aisee koee cheej nahin hai kuchh chinta ho sakatee hai to chinta to ek-do normal see cheej ho sabako hotee hai aur yangastar ko bhee hotee hai phyoochar kee aur bujurgon ko hotee hai phaimilee jee ka bachapan mein bhee bahut saaree padhaee kee koee letar tenshan hotee hai jo insaan job karata hai use job se rileted chinta hotee hai bhavishy mein kya hai kya nahin hai bhavishy mein naukaree kahaan jaegee kahaanee jaegee phaimilee ka kya hoga kya nahin hoga phyoochar kaisa hoga to is baat ke lie insaan jo hai sochata rahata hai aur yah kisee ek vyakti ke lie nahin hai yah sab ke lie hai aur chaahe kisee bhee cheej ka bhay ho jae parivaar se door hone ka bhay ho ya bhavishy kab hai vah har tarah ka bhay ho sakata hai too lagata hai aur abhay kaam main samajhatee hoon ki main ka taatpary haan chinta se hai too kee chinta aisee cheej hotee hai ki agar kar rahe ho to bhee aap ka nukasaan hai aur aisa to ho hee nahin sakata ki kisee ko jo is duniya mein hai usako chinta na ho har insaan ko chinta hotee hai chaahe vah ameer ho ya gareeb ho chaahe vah kisee bhee vark ka hota hai kisee kisee na kisee ne mein kisee na kisee roop mein aapake saath hogee chaahe maan ko bachche kee chinta ho bachche ko padhaee kee janata ho hasbaind ko job kee chinta ho kisee na kisee bhee mein sabake saath chinta rahatee rahatee hai to insaan ko chunata hai jabaki sab kuchh kaalpanik hai bat phir bhee chinta hai aisee cheej hai jisase aapaka kantrol nahin jaanata hoon na ki vaastavik cheej hai isamen koee maisej hee nahin hai buraee nahin hai yah hai ki insaan ko bahut jyaada chinta nahin karanee chaahie kyonki yah beemaariyon ko janm detee hai

bolkar speaker
इंसान को भय क्यों लगता है जबकि सब कुछ तो कल्पना मात्र है?Insaan Ko Bhay Kyun Lagta Hai Jabki Sab Kuch To Kalpana Matra Hai
Chetan Chandrawanshi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chetan जी का जवाब
Finding a part time job
1:39
आपने बहुत ही बढ़िया सवाल पूछा है हम को डर लगता है कि वो मर गया तो क्या हुआ मर गया तो फिर भी कुछ नहीं कर पाएगा ना खुशियां मना पाए गाना फिर आएंगे ना नहीं कुछ जो जो उसकी इच्छा है या मुझसे कुछ योगदान होता है मरने से पहले मेरे शारीरिक क्षति ना हो जाए तो हाथ से खो गए यह सब कल्पना रहती है तो डरने वाले इंसान होती है इनकी तो सब लोग इससे आगे बढ़ो डर खत्म हो सकता है वह क्यों क्योंकि अगर वह सोचेंगे कि क्या डालने से उनके हाथ डालने के लिए याद आने के बाद बुनियादी समस्याएं क्या है दर क्या है हमारी सोच है वरना हम तुम्हारे हमने मौत ही आगे तो हम ना डालें तो हमें अफसोस नहीं हुआ मारने का थोड़ा बहुत ही बुरी डरना नहीं चाहिए जिंदगी में जब तक जियो खुशी से जियो इंजॉय धन्यवाद
Aapane bahut hee badhiya savaal poochha hai ham ko dar lagata hai ki vo mar gaya to kya hua mar gaya to phir bhee kuchh nahin kar paega na khushiyaan mana pae gaana phir aaenge na nahin kuchh jo jo usakee ichchha hai ya mujhase kuchh yogadaan hota hai marane se pahale mere shaareerik kshati na ho jae to haath se kho gae yah sab kalpana rahatee hai to darane vaale insaan hotee hai inakee to sab log isase aage badho dar khatm ho sakata hai vah kyon kyonki agar vah sochenge ki kya daalane se unake haath daalane ke lie yaad aane ke baad buniyaadee samasyaen kya hai dar kya hai hamaaree soch hai varana ham tumhaare hamane maut hee aage to ham na daalen to hamen aphasos nahin hua maarane ka thoda bahut hee buree darana nahin chaahie jindagee mein jab tak jiyo khushee se jiyo injoy dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान को भय क्यों लगता है जबकि सब कुछ तो कल्पना मात्र है?Insaan Ko Bhay Kyun Lagta Hai Jabki Sab Kuch To Kalpana Matra Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:36
इंसान को भाई को लगता है जबकि सब कुछ तो कल्पना भर है बिल्कुल सही सवाल है और जवाब भी सिकंदर है सब कुछ कल्पना मात्र है इसका एक साइंटिफिकली सुनते हैं मानकर चलते हैं कि हमारे घर के अंदर में कोई एक पोस्टर लगाया हुआ है हमने इस जो कि एक शेर का शेर मुझे दिख रहा है लेकिन क्या वह पोस्टर से शेर बाहर आएगा बिल्कुल नहीं आएगा तो देखते रहेगा हमेशा वापस अब यह शेर अगर जंगल में मेरे सामने आता है तो क्या हमें धोखा धोखा होने के चांसेस हमारे साथ में बिल्कुल भाई होता है वह पोस्टर जो आपके दीवाल पर घर पर लगा हुआ और कुछ पोस्टर को हमारा माइंड कंसिस्टेंट देखता है और उसको रिलेटेड क्या होता है कि जो भी शेर आपके आ जाने के बाद में आपके साथ क्या होगा एक्चुअली में आ जाए तो क्या होगा आप तोड़ोगे आपके हाथ पैर पड़ेगी आपके पीछे वह तो उड़ेगा आपकी रोके पढ़ोगे डर जाओगे सब कुछ होगा यह चीज आपको तो पता है कि ऐसा सब कुछ होगा थोड़ी सी आपको कैसे पता है आपके साथ में अभी तक तो शेर कभी आया नहीं है यह चीज आपको इसलिए पता है क्योंकि आपने मूवीस में देखा है सुना है न्यूज़ पेपर में पढ़ा है चेन्नई स्कोर खाया उसको मारा यह सब देखते थे माइंड में पिक्चर है और कभी हो सकता है किसी को डरे होंगे किसी कुत्ते को या किसी चीज को उसके लिए आप भागे होंगे आपका हाथ पैर पड़ रहा होगा तो एक्चुअली में यह सभी अलग-अलग होती है इनका पॉइंट 1 पॉइंट मिलाकर ब्रेन उसके ऊपर खुद की पिक्चर बनाता है वह पिक्चर आपके सामने तेरा भाई भी ऐसा ही एक प्रेजेंटेशन ऑफ पिक्चर होता है जो एक जिद नहीं करते हो जो कल्पना मात्र होता है इसके लिए सबसे अच्छा तरीका यह है कि अमन को हमेशा डर लगने के बाद इनको हमेशा यह बोलते रहे कि मैं जो भी देख रहा हूं अभी वह खाली एक एक पिक्चर है भाई आपको कितना भी अंदर से लगे कि नहीं है असलियत में कन्वर्ट हो जाएगा नहीं लेकिन वह पिक्चर है हर एक चीज एक पिक्चर जो पिक्चर है कल तक अपने माइल को बोलते रहिए आप को धीरे-धीरे समझ हो जाइए क्योंकि उस पिक्चर के साथ टाइम तो चाहिए पिक्चर दीजिए और पिक्चर में लिखा हुआ चुपचाप फ्यूचर फ्यूचर फ्यूचर भूतों की पिक्चर आ रही आपके सामने कभी हो सकता है पैसों को लेकर वह अपने करियर को लेकर उसके ऊपर एक्शन लेना चाहिए अपने आप आ एक्शन साहब को पिक्चर खटाई देखिए नु पिक्चर एक जिद्दी नहीं करें
Insaan ko bhaee ko lagata hai jabaki sab kuchh to kalpana bhar hai bilkul sahee savaal hai aur javaab bhee sikandar hai sab kuchh kalpana maatr hai isaka ek saintiphikalee sunate hain maanakar chalate hain ki hamaare ghar ke andar mein koee ek postar lagaaya hua hai hamane is jo ki ek sher ka sher mujhe dikh raha hai lekin kya vah postar se sher baahar aaega bilkul nahin aaega to dekhate rahega hamesha vaapas ab yah sher agar jangal mein mere saamane aata hai to kya hamen dhokha dhokha hone ke chaanses hamaare saath mein bilkul bhaee hota hai vah postar jo aapake deevaal par ghar par laga hua aur kuchh postar ko hamaara maind kansistent dekhata hai aur usako rileted kya hota hai ki jo bhee sher aapake aa jaane ke baad mein aapake saath kya hoga ekchualee mein aa jae to kya hoga aap todoge aapake haath pair padegee aapake peechhe vah to udega aapakee roke padhoge dar jaoge sab kuchh hoga yah cheej aapako to pata hai ki aisa sab kuchh hoga thodee see aapako kaise pata hai aapake saath mein abhee tak to sher kabhee aaya nahin hai yah cheej aapako isalie pata hai kyonki aapane moovees mein dekha hai suna hai nyooz pepar mein padha hai chennee skor khaaya usako maara yah sab dekhate the maind mein pikchar hai aur kabhee ho sakata hai kisee ko dare honge kisee kutte ko ya kisee cheej ko usake lie aap bhaage honge aapaka haath pair pad raha hoga to ekchualee mein yah sabhee alag-alag hotee hai inaka point 1 point milaakar bren usake oopar khud kee pikchar banaata hai vah pikchar aapake saamane tera bhaee bhee aisa hee ek prejenteshan oph pikchar hota hai jo ek jid nahin karate ho jo kalpana maatr hota hai isake lie sabase achchha tareeka yah hai ki aman ko hamesha dar lagane ke baad inako hamesha yah bolate rahe ki main jo bhee dekh raha hoon abhee vah khaalee ek ek pikchar hai bhaee aapako kitana bhee andar se lage ki nahin hai asaliyat mein kanvart ho jaega nahin lekin vah pikchar hai har ek cheej ek pikchar jo pikchar hai kal tak apane mail ko bolate rahie aap ko dheere-dheere samajh ho jaie kyonki us pikchar ke saath taim to chaahie pikchar deejie aur pikchar mein likha hua chupachaap phyoochar phyoochar phyoochar bhooton kee pikchar aa rahee aapake saamane kabhee ho sakata hai paison ko lekar vah apane kariyar ko lekar usake oopar ekshan lena chaahie apane aap aa ekshan saahab ko pikchar khataee dekhie nu pikchar ek jiddee nahin karen

bolkar speaker
इंसान को भय क्यों लगता है जबकि सब कुछ तो कल्पना मात्र है?Insaan Ko Bhay Kyun Lagta Hai Jabki Sab Kuch To Kalpana Matra Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:10
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न इंसान को भेजूंगा है जबकि सब कुछ तो कल्पना मात्र है तो फ्रेंड से जब हम डर जाते हैं किसी चीज को लेकर चिड़िया किसी विषय को देखकर हम बहुत ज्यादा घबरा जाते हैं तभी हमें लगता है जब मैं दिल्ली में होते हैं तभी हम आपको कुछ भी कल्पना कर लेते हैं और हमें अलग लगता है तो हमारे दिमाग की उपज हो तुम्हारा दिमाग जैसा सोचने लगता है तो हमें भय लगने लगता है यह सबको पता है की कल्पना मात्र जैसे कई लोग बहुत से डर जाते हैं वह को आज तक किसी ने नहीं देखा है लेकिन अपने मन में कल्पना बना लेते हैं कि यहां पर बहुत ना हो उसे देखकर डर जाएंगे फिर बना लेते हैं बस बाकी कारण ही हमें डर लगने लगता है कि अब जब भी जाते हैं तो फिर हमें भी नहीं होता है हमें अपने भाई को काबू में रखना चाहिए हमें यथार्थ में जाकर उस चीज को देखना चाहिए खोजना चाहिए और उसको वास्तविकता से अच्छे से ज्ञान करना चाहिए तो हमारा वह अपने आप हो जाएगा अगर में किसी चीज से डर लग रहा है तो हम किसी को भी साथ में ले जाकर देखें उसको समझे तो अपने आप खत्म हो जाएगा धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn insaan ko bhejoonga hai jabaki sab kuchh to kalpana maatr hai to phrend se jab ham dar jaate hain kisee cheej ko lekar chidiya kisee vishay ko dekhakar ham bahut jyaada ghabara jaate hain tabhee hamen lagata hai jab main dillee mein hote hain tabhee ham aapako kuchh bhee kalpana kar lete hain aur hamen alag lagata hai to hamaare dimaag kee upaj ho tumhaara dimaag jaisa sochane lagata hai to hamen bhay lagane lagata hai yah sabako pata hai kee kalpana maatr jaise kaee log bahut se dar jaate hain vah ko aaj tak kisee ne nahin dekha hai lekin apane man mein kalpana bana lete hain ki yahaan par bahut na ho use dekhakar dar jaenge phir bana lete hain bas baakee kaaran hee hamen dar lagane lagata hai ki ab jab bhee jaate hain to phir hamen bhee nahin hota hai hamen apane bhaee ko kaaboo mein rakhana chaahie hamen yathaarth mein jaakar us cheej ko dekhana chaahie khojana chaahie aur usako vaastavikata se achchhe se gyaan karana chaahie to hamaara vah apane aap ho jaega agar mein kisee cheej se dar lag raha hai to ham kisee ko bhee saath mein le jaakar dekhen usako samajhe to apane aap khatm ho jaega dhanyavaad

bolkar speaker
इंसान को भय क्यों लगता है जबकि सब कुछ तो कल्पना मात्र है?Insaan Ko Bhay Kyun Lagta Hai Jabki Sab Kuch To Kalpana Matra Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:31
सवाल यह है कि इंसान को भाई क्यों लगता है जबकि सब कुछ तो कल्पना मात्र है तो इंसान परिस्थिति को स्वीकार नहीं कर पाता कि सब कल्पना मात्र है हालांकि डर जैसी कोई चीज नहीं होती दुनिया में इंसान के दिमाग में बिठा लेता है वही उसका दिमाग मान लेता है और उसे डर लगने लगता है इंसान डर को अपने दिमाग में बैठा लेता है और तब तक बैठा रहता है जब तक उसका डर का भ्रम दिमाग से खत्म ना हो जाए किसी को रात के अंधेरे से डर लगता है किसी को अकेलेपन से डर लगता है तो किसी को रात से डर लगता है और किसी को और डर का सबसे ज्यादा असर उसके दिमाग पर पड़ता है क्योंकि जितना इंसान सोचेगा कि उसे डर लग रहा है उतना ही उसे और ज्यादा डर बढ़ता जाएगा इंसान का दिमाग सोचता है कि शायद उसे कोई घूर रहा है या फिर किसी ने उसे आवाज दी है या फिर कभी कभी रातों में लगता है कि शायद उसके सामने कोई खड़ा है जबकि ऐसा कुछ नहीं होता जैसे जैसे इन सब बातों को अपने रहन-सहन पर हावी कर लेता है और फिर इंसान रात को जो भी सोचता है वही उसके सपने में आता है और इंसान कभी कभी सपने में डर जाता है और इस बात का सबसे ज्यादा असर उसके दहन पर पड़ता है हम कभी-कभी असफलताओं के डर से कोई काम नहीं करते हैं उसे वही रोक देते हैं तो अगर आप कुछ अच्छा काम करने जा रहे हैं तो उसका अंजाम ना सोचे एक पल ताकि चिंता ना करें ऐसा पल तुमसे ही आप देखेंगे तो डरना नहीं है
Savaal yah hai ki insaan ko bhaee kyon lagata hai jabaki sab kuchh to kalpana maatr hai to insaan paristhiti ko sveekaar nahin kar paata ki sab kalpana maatr hai haalaanki dar jaisee koee cheej nahin hotee duniya mein insaan ke dimaag mein bitha leta hai vahee usaka dimaag maan leta hai aur use dar lagane lagata hai insaan dar ko apane dimaag mein baitha leta hai aur tab tak baitha rahata hai jab tak usaka dar ka bhram dimaag se khatm na ho jae kisee ko raat ke andhere se dar lagata hai kisee ko akelepan se dar lagata hai to kisee ko raat se dar lagata hai aur kisee ko aur dar ka sabase jyaada asar usake dimaag par padata hai kyonki jitana insaan sochega ki use dar lag raha hai utana hee use aur jyaada dar badhata jaega insaan ka dimaag sochata hai ki shaayad use koee ghoor raha hai ya phir kisee ne use aavaaj dee hai ya phir kabhee kabhee raaton mein lagata hai ki shaayad usake saamane koee khada hai jabaki aisa kuchh nahin hota jaise jaise in sab baaton ko apane rahan-sahan par haavee kar leta hai aur phir insaan raat ko jo bhee sochata hai vahee usake sapane mein aata hai aur insaan kabhee kabhee sapane mein dar jaata hai aur is baat ka sabase jyaada asar usake dahan par padata hai ham kabhee-kabhee asaphalataon ke dar se koee kaam nahin karate hain use vahee rok dete hain to agar aap kuchh achchha kaam karane ja rahe hain to usaka anjaam na soche ek pal taaki chinta na karen aisa pal tumase hee aap dekhenge to darana nahin hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • इंसान को भय क्यों लगता है जबकि सब कुछ तो कल्पना मात्र है इंसान को भय क्यों लगता है
URL copied to clipboard