#जीवन शैली

bolkar speaker

भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?

Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
2:03
कसवा हाल है भाई की उत्पत्ति कहां से होती दिल से या दिमाग से तो दे की उत्पत्ति दिमाग से होती है निक निक ने अपने पति के साथ हनीमून मनाने करने वाली मशीन फ्लाइट पर थी उसके साथ भगवान अनुवाद जिसे वे महीने नहीं भुला पाए जब किसी के साथ बहुत मूड श्री कल के आने जैसा समय हो तो उसे बसने के बाद ही वे वित्त होता है उसका पीछा नहीं छोड़ता वह बसने के बाद ईशान लंबे समय तक उस सिटी में रहता है डॉक्टरी भाषा में से रोमांटिक देश के थे लेकिन इसे पीछा छुड़ाना संभव है जबकि लगा कि अब मरे हैं मैकेनिक से मोड हकीकत ही समाज में नहीं थी 23 अगस्त 2001 में मैं के दिन पति से चलाना विमान में सवार थे ट्रांसलेट ने 236 जबरदस्ती सागर के ऊपर से गुजर रही थी तो वह के निकाली गई वहां कुछ भी काम नहीं कर रहा था लेकिन थोड़ी ऐसे जरूरी लेकिन उन्हें इसके बारे में ज्यादा सोचना नहीं पड़ा जो अपनी सीट पर लौटी तो ब्रेकफास्ट समय हो रहा था विमान के आपातकालीन लैंडिंग कौन सा भी एक बार बता कि बस इतनी जल्दी कैसे पहुंच गए लेकिन जबरदस्ती मच गई और कल आने का अंदाज़ हुआ उन्हें जल्दी पता लगा कि मान कर्मचारी सभी यात्री लाइफ जैकेट पहनने का अनुरोध किया है अभिमान के अंदर रोशनी कम होने लगी थी केबिन बाग कम होने लगा था उसकी ऑफिस इन मार्क्स दिए गए थे जो सिलेंडर लीक होने के चलते पूरा सिस्टम बंद हो गया था मैं बताता है कि चिल्ला रहे थे वह लोग समुद्र में जा रहे थे आधे घंटे के बाद विमान के तबाह होने के बाद में सोचने के बाद में कि नहीं याद करती है कि किसी ने बताया कि जा जमीन पर लेट किया गए हैं वह ऐसी जगह जो जो भूतकाल के तहत सजा 80 360 किलोमीटर दूर पायलट पर है धन्यवाद दोस्तों आपका सवाल
Kasava haal hai bhaee kee utpatti kahaan se hotee dil se ya dimaag se to de kee utpatti dimaag se hotee hai nik nik ne apane pati ke saath haneemoon manaane karane vaalee masheen phlait par thee usake saath bhagavaan anuvaad jise ve maheene nahin bhula pae jab kisee ke saath bahut mood shree kal ke aane jaisa samay ho to use basane ke baad hee ve vitt hota hai usaka peechha nahin chhodata vah basane ke baad eeshaan lambe samay tak us sitee mein rahata hai doktaree bhaasha mein se romaantik desh ke the lekin ise peechha chhudaana sambhav hai jabaki laga ki ab mare hain maikenik se mod hakeekat hee samaaj mein nahin thee 23 agast 2001 mein main ke din pati se chalaana vimaan mein savaar the traansalet ne 236 jabaradastee saagar ke oopar se gujar rahee thee to vah ke nikaalee gaee vahaan kuchh bhee kaam nahin kar raha tha lekin thodee aise jarooree lekin unhen isake baare mein jyaada sochana nahin pada jo apanee seet par lautee to brekaphaast samay ho raha tha vimaan ke aapaatakaaleen lainding kaun sa bhee ek baar bata ki bas itanee jaldee kaise pahunch gae lekin jabaradastee mach gaee aur kal aane ka andaaz hua unhen jaldee pata laga ki maan karmachaaree sabhee yaatree laiph jaiket pahanane ka anurodh kiya hai abhimaan ke andar roshanee kam hone lagee thee kebin baag kam hone laga tha usakee ophis in maarks die gae the jo silendar leek hone ke chalate poora sistam band ho gaya tha main bataata hai ki chilla rahe the vah log samudr mein ja rahe the aadhe ghante ke baad vimaan ke tabaah hone ke baad mein sochane ke baad mein ki nahin yaad karatee hai ki kisee ne bataaya ki ja jameen par let kiya gae hain vah aisee jagah jo jo bhootakaal ke tahat saja 80 360 kilomeetar door paayalat par hai dhanyavaad doston aapaka savaal

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए neelam जी का जवाब
Job
1:35
नमस्कार दोस्तों एक मित्र ने पूछा है कि वह की उत्पत्ति कहां से होती है दिल से या दिमाग से तो दोस्तों हम जहां तक मैं जानती हूं किसी भी मौसम की जो हमारे अंदर होता है वह भय हो या प्रेम हो या किसी के लिए दुख हो या सुख हो या गुस्सा हो यह सारी जो भी मोशन है वह सारे दिमाग से है दिमाग से रिलेटेड होते दिमाग हमारा सारी चीजों को कंट्रोल करता है कि हमें कब डल कोई चीज को देखकर डरना या कोई चीज को देख कर गुस्सा आना या कुछ भी चीज को देख कर खुश हो ना सारी जो भी इमोशंस है यह कंट्रोल हमारा दिमाग करता है दिल नहीं करता है दिल का काम सिर्फ लटको प्यूरीफायर करना और पूरी बॉडी में ऑक्सीजन को पहुंचाना यही होता है यह जो इमोशंस है यह जो भी जो भी क्रिया एक्टिविटी हम करते हैं यह सारी चीजों का कंट्रोल हमारे दिमाग के पास ब्रेन के पास होता है कहां जाता है ना पूरे शरीर का पावर हाउस आज तो जितने भी इमोशंस है यह भी और जो भी हम करते हैं ड्यूटी से मूवमेंट है जो भी हम करते हैं वह सारी चीजें हमारा ब्रेन कंट्रोल करता है और उसी उसी से उधर हमें वहीं से किसी भी चीज को देखकर हमें वहीं से आदेश मिलता है हमारी बॉडी को हमारे पूरे पार्ट को बॉडी पार्ट को की स्थित से डरना है यह सिस्टम है खतरा है इससे हमें डर है तो वह सारा कंट्रोल हमारा दिमाग करता है दिल नहीं करता है ना थैंक यू दोस्तों ऐसे ही हंसते रहिए मुस्कुराते रहिए जय हिंद दोस्तों
Namaskaar doston ek mitr ne poochha hai ki vah kee utpatti kahaan se hotee hai dil se ya dimaag se to doston ham jahaan tak main jaanatee hoon kisee bhee mausam kee jo hamaare andar hota hai vah bhay ho ya prem ho ya kisee ke lie dukh ho ya sukh ho ya gussa ho yah saaree jo bhee moshan hai vah saare dimaag se hai dimaag se rileted hote dimaag hamaara saaree cheejon ko kantrol karata hai ki hamen kab dal koee cheej ko dekhakar darana ya koee cheej ko dekh kar gussa aana ya kuchh bhee cheej ko dekh kar khush ho na saaree jo bhee imoshans hai yah kantrol hamaara dimaag karata hai dil nahin karata hai dil ka kaam sirph latako pyooreephaayar karana aur pooree bodee mein okseejan ko pahunchaana yahee hota hai yah jo imoshans hai yah jo bhee jo bhee kriya ektivitee ham karate hain yah saaree cheejon ka kantrol hamaare dimaag ke paas bren ke paas hota hai kahaan jaata hai na poore shareer ka paavar haus aaj to jitane bhee imoshans hai yah bhee aur jo bhee ham karate hain dyootee se moovament hai jo bhee ham karate hain vah saaree cheejen hamaara bren kantrol karata hai aur usee usee se udhar hamen vaheen se kisee bhee cheej ko dekhakar hamen vaheen se aadesh milata hai hamaaree bodee ko hamaare poore paart ko bodee paart ko kee sthit se darana hai yah sistam hai khatara hai isase hamen dar hai to vah saara kantrol hamaara dimaag karata hai dil nahin karata hai na thaink yoo doston aise hee hansate rahie muskuraate rahie jay hind doston

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:38
नमस्कार दोस्तों यूजर ने पूछा भाई की उत्पत्ति कहां से होती है दिल्ली या दिमाग से लेकर बताना चाहूंगा डर जिसे हम भाई आप बोलते हो डर जो है उसकी उत्पत्ति हमेशा जो है दिमाग से ही होती है दिल धड़का हमारा सिर्फ धड़कने का काम है दिल से हम कभी सोचते नहीं दिमाग से ही सोचते हैं कि अब दिमाग में बहुत सारे सोचने का तरीका है जिसको हम पर वो तेरे दिल से सोचना मन से सोचना बहुत सारे हिस्से हैं जिनसे हम जो हैं उन्हीं फिलिंग्स के आधार पर हम सोचते हैं और उनके दिल से सोचा जा रहे हैं दिमाग से चेहरा देखिए जो होता है वह हमारे दिमाग में होता है जैसे किसी वस्तु का जैसे ऊंचाइयों का रहता है जो दिमाग में वीरता के ऊंचाई से मगर गिर गया तो मेरा क्या होगा मैं मर जाऊंगा जब मेरे कुछ भी बचेगा इस तरह से दिमाग में बातें चलती रहती है और वही चीज है जो सिग्नल सिग्नल सिस्टम को बिल्कुल अपने वॉइस में करता है और उसमें नर्वस सिस्टम को बार-बार यह बता जिससे हमें कंपन या धड़कना दिल का जाते हैं धड़कना जब पसीना आना इस टाइप की चीजें होती हैं क्योंकि वह सभी चीजें हमारे नए सिस्टम से वीडियो ललिता मारे प्रेम से जुड़ा जाने कि दिमाग से जुड़ा है तो भाई की उत्पत्ति हर चीज का भय मोहर की उत्पत्ति जो है दिल से ही नहीं होती वह हमेशा आपके दिमाग से होती है क्योंकि अगर आपके दिमाग में बस है तभी आप चीजों को अच्छे से कर पाओगे और चीजों से डर दूर भगा पाओगे आशा करता हूं आपको आपका सही जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Namaskaar doston yoojar ne poochha bhaee kee utpatti kahaan se hotee hai dillee ya dimaag se lekar bataana chaahoonga dar jise ham bhaee aap bolate ho dar jo hai usakee utpatti hamesha jo hai dimaag se hee hotee hai dil dhadaka hamaara sirph dhadakane ka kaam hai dil se ham kabhee sochate nahin dimaag se hee sochate hain ki ab dimaag mein bahut saare sochane ka tareeka hai jisako ham par vo tere dil se sochana man se sochana bahut saare hisse hain jinase ham jo hain unheen philings ke aadhaar par ham sochate hain aur unake dil se socha ja rahe hain dimaag se chehara dekhie jo hota hai vah hamaare dimaag mein hota hai jaise kisee vastu ka jaise oonchaiyon ka rahata hai jo dimaag mein veerata ke oonchaee se magar gir gaya to mera kya hoga main mar jaoonga jab mere kuchh bhee bachega is tarah se dimaag mein baaten chalatee rahatee hai aur vahee cheej hai jo signal signal sistam ko bilkul apane vois mein karata hai aur usamen narvas sistam ko baar-baar yah bata jisase hamen kampan ya dhadakana dil ka jaate hain dhadakana jab paseena aana is taip kee cheejen hotee hain kyonki vah sabhee cheejen hamaare nae sistam se veediyo lalita maare prem se juda jaane ki dimaag se juda hai to bhaee kee utpatti har cheej ka bhay mohar kee utpatti jo hai dil se hee nahin hotee vah hamesha aapake dimaag se hotee hai kyonki agar aapake dimaag mein bas hai tabhee aap cheejon ko achchhe se kar paoge aur cheejon se dar door bhaga paoge aasha karata hoon aapako aapaka sahee javaab mil gaya hoga laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:14
भाई की उत्पत्ति कहां से होती है दिल से और दिमाग से लिखे भाई की उत्पत्ति हमेशा जो है दिमाग से होती है दिल आदमी को डरपोक नहीं होता है दिमाग में उस से तरह-तरह की बातें आती हैं कि हम चले जा रहे हैं कहीं रास्ते में एक्सीडेंट हो जाए हम चले जा रहे हैं कोई हमको ऐसा आदमी मिल जाए जो हम को गोली मार दे ज्ञान चले जा रहे हैं गाड़ी पलट जाती है क्या होता जो हमारे मन में जो नकारात्मक भाव आते नकारात्मक शक्तियां जो हमारे दिमाग को भ्रमित करने लगती है वह हमको भाई भी बनाने लगते हैं और परिस्थितियां ऐसी परिस्थितियों को पैदा करने लगती हैं कि हमारा मन संकालु हो जाते जब मन शंकालु हो जाता है तो हम दूसरे पर ट्रस्ट नहीं करते जब ट्रस्ट नहीं करते तो मन के अंदर वह सारे विभेद पैदा होने लगते हैं वह सारे भाई पैदा होने लगते हैं कि इसके बाद क्या होगा इसके बाद कहीं ऐसा तो यह हमारी बुराई तो नहीं कर रहा है कोई एक ऐसा तो नहीं होगा कि हमारी विषय में बात करके हमको नौकरी तो नहीं निकलवा देगा कहीं ऐसा तो नहीं कि हम अकेले जा रहे हैं रास्ते में कोई मिल आज भी लगा दे मर जाती हमारे दिमाग से ही होता है दिल से ऐसा कुछ नहीं होता इसलिए अपने दिमाग को संतुलित रखिए नकारात्मक शक्तियों को हटाइए और इस पर ट्रस्ट कीजिए हमेशा सतर्क रहिए और ईश्वर पर भरोसा रखें आप हमेशा बिजी रहेंगे
Bhaee kee utpatti kahaan se hotee hai dil se aur dimaag se likhe bhaee kee utpatti hamesha jo hai dimaag se hotee hai dil aadamee ko darapok nahin hota hai dimaag mein us se tarah-tarah kee baaten aatee hain ki ham chale ja rahe hain kaheen raaste mein ekseedent ho jae ham chale ja rahe hain koee hamako aisa aadamee mil jae jo ham ko golee maar de gyaan chale ja rahe hain gaadee palat jaatee hai kya hota jo hamaare man mein jo nakaaraatmak bhaav aate nakaaraatmak shaktiyaan jo hamaare dimaag ko bhramit karane lagatee hai vah hamako bhaee bhee banaane lagate hain aur paristhitiyaan aisee paristhitiyon ko paida karane lagatee hain ki hamaara man sankaalu ho jaate jab man shankaalu ho jaata hai to ham doosare par trast nahin karate jab trast nahin karate to man ke andar vah saare vibhed paida hone lagate hain vah saare bhaee paida hone lagate hain ki isake baad kya hoga isake baad kaheen aisa to yah hamaaree buraee to nahin kar raha hai koee ek aisa to nahin hoga ki hamaaree vishay mein baat karake hamako naukaree to nahin nikalava dega kaheen aisa to nahin ki ham akele ja rahe hain raaste mein koee mil aaj bhee laga de mar jaatee hamaare dimaag se hee hota hai dil se aisa kuchh nahin hota isalie apane dimaag ko santulit rakhie nakaaraatmak shaktiyon ko hataie aur is par trast keejie hamesha satark rahie aur eeshvar par bharosa rakhen aap hamesha bijee rahenge

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:38
आकाशवाणी की बेटी और पति कहां से होते हैं दिल या दिमाग से तू मेरी जान से प्यार की उत्पत्ति इंसान को अपने दिमाग के अंदर ही होती है अगर किसी चीज के बारे में एक बार इसको में पड़ जाता है तो वह किसी चीज को बार बार कभी नहीं कर पाता जैसे बहुत से बच्चों को गणित में बचपन से ही में प्रजातंत्र वेक्स्को कर नहीं पाते फिर धीरे-धीरे कोशिश करते हैं तो वह गणित के सवालों से आसानी से सॉल्व करते हैं धन्यवाद
Aakaashavaanee kee betee aur pati kahaan se hote hain dil ya dimaag se too meree jaan se pyaar kee utpatti insaan ko apane dimaag ke andar hee hotee hai agar kisee cheej ke baare mein ek baar isako mein pad jaata hai to vah kisee cheej ko baar baar kabhee nahin kar paata jaise bahut se bachchon ko ganit mein bachapan se hee mein prajaatantr veksko kar nahin paate phir dheere-dheere koshish karate hain to vah ganit ke savaalon se aasaanee se solv karate hain dhanyavaad

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:09
हेलो अभिमान तो आज आप का सवाल है कि मैं की उत्पत्ति कहां से होती है दिल से या दिमाग से तो देख कर दिल का तो वैसे कुछ मतलब काम ही नहीं होता है उसमें मैंने पढ़ा है साइंस में दिल का बस यही काम होता है कैसे ब्लड को काम करना बस इतना ही होता है जो भी चीज हमारे शरीर में चलता एक तरह के मैसेज के थ्रू दिमाग में जाता उसके बाद हम उसी हिसाब से एक्ट करते जो पागल लोगों को मैसेज पहुंच नहीं पाता है तुम को करना क्या क्या नहीं इसलिए अपने हिसाब से कुछ भी हरकत करते हैं तो जब भी हम कुछ डरते हैं या फिर कोई भी चीज हमारे दिमाग में चलता है कि इस मच्छर काट लिया हम सदन उसे मार देते हैं हम डर रहे हैं तो एक तरह का मैसेज और सीखने में हमारे दिमाग में जाता जिस वजह से उस तरह से लिया करते थे पूरी तरह से दिमागी तौर पर ही होता दिमाग सही दिमाग से व्यस्त होता है तू जो भी चीज जैसे कि अभी मैं डर गई या फिर अभी मैं खुश हुई या फिर अभी मैं अभी कुछ बोल रही हूं अभी मैं रो इस पवित्र का सिग्नल मेरे दिमाग में जाता उसके हिसाब से हमारा जो शरीर है वह कुछ भी मूवमेंट कुछ भी एक्टिविटीज कुछ भी रख कर पाता है
Helo abhimaan to aaj aap ka savaal hai ki main kee utpatti kahaan se hotee hai dil se ya dimaag se to dekh kar dil ka to vaise kuchh matalab kaam hee nahin hota hai usamen mainne padha hai sains mein dil ka bas yahee kaam hota hai kaise blad ko kaam karana bas itana hee hota hai jo bhee cheej hamaare shareer mein chalata ek tarah ke maisej ke throo dimaag mein jaata usake baad ham usee hisaab se ekt karate jo paagal logon ko maisej pahunch nahin paata hai tum ko karana kya kya nahin isalie apane hisaab se kuchh bhee harakat karate hain to jab bhee ham kuchh darate hain ya phir koee bhee cheej hamaare dimaag mein chalata hai ki is machchhar kaat liya ham sadan use maar dete hain ham dar rahe hain to ek tarah ka maisej aur seekhane mein hamaare dimaag mein jaata jis vajah se us tarah se liya karate the pooree tarah se dimaagee taur par hee hota dimaag sahee dimaag se vyast hota hai too jo bhee cheej jaise ki abhee main dar gaee ya phir abhee main khush huee ya phir abhee main abhee kuchh bol rahee hoon abhee main ro is pavitr ka signal mere dimaag mein jaata usake hisaab se hamaara jo shareer hai vah kuchh bhee moovament kuchh bhee ektiviteej kuchh bhee rakh kar paata hai

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
Dt. Mayuari official Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dt. जी का जवाब
Medical field
0:56
उसने बैग उत्पत्ति कहां से होती है दिल से या दिमाग से तो मुझे लगता है कि वह कर पति जो है यह चिंता की उत्पत्ति गडर की उत्पत्ति दिमाग से होती है क्योंकि हमारा दिमाग वर्क करता है हमारा दिमाग से ही हम सोचते हैं कि भविष्य में क्या होगा सूत्र क्या होगा हमारा हम कल क्या करेंगे या अगर किसी काम को हम कर रहे हैं तो उसका क्या नतीजा होगा क्या परिणाम होगा या अगर जैसे ऑफिस में कोई काम मिला है तो अगर वह काम है ना ऐसे नहीं ऐसे कर लिया तो मेरा दोस्त कुछ नहीं कहेगा कि इस तरह की जो चीजें होती हैं वह माइंड में ही हमारे चलती हैं तो जो अभय की उत्पत्ति होती है वह मुझे लगता है कि दिमाग से ही होती है दिमाग से ही हम सोचते हैं और दिमाग कहीं इसमें अहम रोल है अभय के पति होना यह चिंता गणपति होना एक डर सा लगना जो सभाव एक चीज होती है वह मुझे लगता है कि वह दिमाग से ही होती है
Usane baig utpatti kahaan se hotee hai dil se ya dimaag se to mujhe lagata hai ki vah kar pati jo hai yah chinta kee utpatti gadar kee utpatti dimaag se hotee hai kyonki hamaara dimaag vark karata hai hamaara dimaag se hee ham sochate hain ki bhavishy mein kya hoga sootr kya hoga hamaara ham kal kya karenge ya agar kisee kaam ko ham kar rahe hain to usaka kya nateeja hoga kya parinaam hoga ya agar jaise ophis mein koee kaam mila hai to agar vah kaam hai na aise nahin aise kar liya to mera dost kuchh nahin kahega ki is tarah kee jo cheejen hotee hain vah maind mein hee hamaare chalatee hain to jo abhay kee utpatti hotee hai vah mujhe lagata hai ki dimaag se hee hotee hai dimaag se hee ham sochate hain aur dimaag kaheen isamen aham rol hai abhay ke pati hona yah chinta ganapati hona ek dar sa lagana jo sabhaav ek cheej hotee hai vah mujhe lagata hai ki vah dimaag se hee hotee hai

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:48
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है कि उत्पत्ति कहां से होती है दिल से या दिमाग से तो फ्रेंड्स कोई भी भावना हो उसकी उत्पत्ति तो हमें दिल से होती है जो हमारे दिल में हम जैसी भावना उत्पन्न करेंगे वैसे ही होता है और एक पत्नी होने में दोनों का रोल होता है दिल का भी दिमाग कभी जब हम किसी चीज से डरेंगे तुम्हारे दिमाग में संदेश आएगा पहले कि हमारा दिल का बुरा नहीं लगेगा तो मैं की उत्पत्ति दिमाग से होती है पहले जब हम किसी चीज को देखेंगे अंधेरे में जाएंगे मान लो हमारे हिस्से में डर लगा तो हमारा दिमाग खराब को सोचना पड़ जाएगा तुम्हारा दिल एकदम से घबराहट होने लगेगी मैं डर लगने लगेगा तो ब्रेकिंग पट्टी दिमाग से ही होती है धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai ki utpatti kahaan se hotee hai dil se ya dimaag se to phrends koee bhee bhaavana ho usakee utpatti to hamen dil se hotee hai jo hamaare dil mein ham jaisee bhaavana utpann karenge vaise hee hota hai aur ek patnee hone mein donon ka rol hota hai dil ka bhee dimaag kabhee jab ham kisee cheej se darenge tumhaare dimaag mein sandesh aaega pahale ki hamaara dil ka bura nahin lagega to main kee utpatti dimaag se hotee hai pahale jab ham kisee cheej ko dekhenge andhere mein jaenge maan lo hamaare hisse mein dar laga to hamaara dimaag kharaab ko sochana pad jaega tumhaara dil ekadam se ghabaraahat hone lagegee main dar lagane lagega to breking pattee dimaag se hee hotee hai dhanyavaad

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक:
1:51
नमस्कार मित्र आपने प्रश्न किया है वह की उत्पत्ति कहां से होती है दिल से या दिमाग से मित्र भेजो है वह हमारे दिमाग में उत्पन्न होता है क्योंकि जब हम अपने दिमाग में से बात कर बैठा लेते हैं कि यह जी जैसा हो ऐसा है या ऐसा होने पर यह हो सकता है मैं खुद ही दिमाग में सोच रहे हैं देखो क्योंकि दिल तो क्या है एक मन है मतलब की एक तरीके से चंचल है तो आप जब दिमाग जो सोचेगा वही दिल सोचेगा मलक दिल में भी वही होगा तो हमारा दिमाग जो है उस चीज को लेकर के ज्यादा ही भयभीत रहता है जैसे कि मान लीजिए हमने कोई हॉरर फिल्म देखी और उस हॉरर फिल्म को जब हमने पूरी तरीके से ध्यान से देखा है तो उसमें जैसे से डरावने सीन है अब हमारा दिमाग उस चीज को खींच कर लेगा और हम उतना डालेंगे इतना भेज बंद हो जाएगा हमारे अंदर कि हम जो हैं अकेले नहीं रह पाएंगे अकेले सोने में भी डर लगेगा और मान लीजिए जैसे मैंने आज पिक्चर देखी है कल घर पर कोई नहीं है रात मुझे अकेले ही सोना तो मैं घर में नहीं सो सकता क्योंकि मैंने जब हॉरर फिल्म देखी थी तो वही चीज मेरे दिमाग में फिट हो गई है अब दिमाग उसी चीज को लेकर के खुद ही मन में उत्पन्न करेगा तो इस कारण से दिमाग में जो घर है वह हां व्यक्ति जो है दिमाग से होती है धन्यवाद
Namaskaar mitr aapane prashn kiya hai vah kee utpatti kahaan se hotee hai dil se ya dimaag se mitr bhejo hai vah hamaare dimaag mein utpann hota hai kyonki jab ham apane dimaag mein se baat kar baitha lete hain ki yah jee jaisa ho aisa hai ya aisa hone par yah ho sakata hai main khud hee dimaag mein soch rahe hain dekho kyonki dil to kya hai ek man hai matalab kee ek tareeke se chanchal hai to aap jab dimaag jo sochega vahee dil sochega malak dil mein bhee vahee hoga to hamaara dimaag jo hai us cheej ko lekar ke jyaada hee bhayabheet rahata hai jaise ki maan leejie hamane koee horar philm dekhee aur us horar philm ko jab hamane pooree tareeke se dhyaan se dekha hai to usamen jaise se daraavane seen hai ab hamaara dimaag us cheej ko kheench kar lega aur ham utana daalenge itana bhej band ho jaega hamaare andar ki ham jo hain akele nahin rah paenge akele sone mein bhee dar lagega aur maan leejie jaise mainne aaj pikchar dekhee hai kal ghar par koee nahin hai raat mujhe akele hee sona to main ghar mein nahin so sakata kyonki mainne jab horar philm dekhee thee to vahee cheej mere dimaag mein phit ho gaee hai ab dimaag usee cheej ko lekar ke khud hee man mein utpann karega to is kaaran se dimaag mein jo ghar hai vah haan vyakti jo hai dimaag se hotee hai dhanyavaad

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
Chetan Chandrawanshi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chetan जी का जवाब
Finding a part time job
1:00
देखिए भाई साहब भाई की उत्पत्ति तो मेरे हिसाब से दिमाग से ही होती है लेकिन उसकी जो प्रोग्रेस है वह दिल तक पहुंचती है क्योंकि आप हमको सोचता है किसी बारे में फिर उससे उसके बारे में और सोचते रहते हैं और फिर कुछ ख्याली पुलाव कैसे बनाते हैं कुछ और सोचते सोचते उससे डरने लगता है मैं फिर जब डरता है तो फिर दिल की धड़कन बढ़ती है तो उत्पत्ति दिमाग से अंत अंत तो होता नहीं पर प्रभाव दिल पर बस इतना कह सकता था बाकी और भी कुछ लोग आप ही सवाल का जवाब देंगे मैंने तो एक ही बात करेंगे जो मेरी इच्छा हुई तो कह दो धन्यवाद सुनने के लिए
Dekhie bhaee saahab bhaee kee utpatti to mere hisaab se dimaag se hee hotee hai lekin usakee jo progres hai vah dil tak pahunchatee hai kyonki aap hamako sochata hai kisee baare mein phir usase usake baare mein aur sochate rahate hain aur phir kuchh khyaalee pulaav kaise banaate hain kuchh aur sochate sochate usase darane lagata hai main phir jab darata hai to phir dil kee dhadakan badhatee hai to utpatti dimaag se ant ant to hota nahin par prabhaav dil par bas itana kah sakata tha baakee aur bhee kuchh log aap hee savaal ka javaab denge mainne to ek hee baat karenge jo meree ichchha huee to kah do dhanyavaad sunane ke lie

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:51
भैया की जो स्थिति है वह भेजो उत्पन्न होता है वह दिमाग से होता है बात करें दिल की तो दिल तो कुछ होता ही नहीं हमारे तो मस्तिष्क को पिक चेतन मस्तिष्क औद्योगिक क्षेत्र में स्थित है जो चेतन मस्तिष्क में हम उसको दिमाग कहते हैं और अवचेतन मस्तिष्क को हम दिल कहते हैं तो जो भी की उत्पत्ति है वह मस्तिष्क की होती है नहीं चेतन मस्तिष्क से होती है और जब वह बाद अवचेतन मस्तिष्क में बैठ जाती है तब व्यक्ति भयभीत रहता है हमेशा के लिए तो इसलिए जो भी है सब दिमाग का खेल है दिल जाना है मैंने दिल कुछ होता ही नहीं है मस्तिष्क का ही खेल है धन्यवाद
Bhaiya kee jo sthiti hai vah bhejo utpann hota hai vah dimaag se hota hai baat karen dil kee to dil to kuchh hota hee nahin hamaare to mastishk ko pik chetan mastishk audyogik kshetr mein sthit hai jo chetan mastishk mein ham usako dimaag kahate hain aur avachetan mastishk ko ham dil kahate hain to jo bhee kee utpatti hai vah mastishk kee hotee hai nahin chetan mastishk se hotee hai aur jab vah baad avachetan mastishk mein baith jaatee hai tab vyakti bhayabheet rahata hai hamesha ke lie to isalie jo bhee hai sab dimaag ka khel hai dil jaana hai mainne dil kuchh hota hee nahin hai mastishk ka hee khel hai dhanyavaad

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:29
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है भाई की उत्पत्ति कहां से होती है दिल से या दिमाग से दोस्तों जब भी वह की ऐसी स्थिति उत्पन्न होती है तो हमें ऐसा ही लगेगा जैसे कि कोई दिल से भाई की पत्नी हो रही हो दोस्तों सबसे पहले हमें मन तो वैसा का वैसा ही रहता है लेकिन हमें ऐसा प्रतीत होगा कि हमारा दिल जो है और वह पढ़ पढ़ कर रहा है किसी भी कोई घटना को लेकर कोई आने वाली घटना को लेकर हुई घटना को लेकर जो हमारा दिल है वह जोर-जोर से तेजी से धड़कने लग जाता है तो हमें ऐसा लगता है कि सबसे पहले हमारा हमारी तो वह की उत्पत्ति है वह दिल से हो रही है लेकिन दोस्तों ऐसा बिल्कुल नहीं है वह कि तू पति है वह मन से होती है दिमाग से तो सबसे पहले हम उस घटना को देखते ही सोचते हैं और सोच लेने मात्र से ही हम यदि भाई खा जाते हैं एकदम से घबरा जाते हैं और यह मन में तो ऐसा सोच लेते हैं क्यों रे यह क्या हो गया और अरे यह क्या होने वाला है अब जो होगा वह क्या होगा कैसे होगा कुछ भी नहीं मालूम ऐसे सोच कि यदि घबरा गए थोड़ा सा तो फिर दिल को तो धड़कन आई है फिर तो वह जोरो से धड़के का यदि पहले से ही आप यह दृढ़ संकल्प कर लें कि किसी भी घटना में बड़े ध्यान से और बड़ी गंभीर से देखूंगा और तेज हो सके जो भावना है उसे देखने से मरा दिल तेजी से नहीं धड़के गा बल्कि मन यदि अपने कंट्रोल में होगा उस पर नियंत्रण होगा तो दिल का धड़कना बाद में शुरू होता है यदि हम मन से ही भाई खा जाती है तो फिर हृदय की धड़कन तेज हो जाती है तो इसलिए बाय की उत्पत्ति जो है वह दिमाग से ही होती है अपने मन में सोच लेने से शुरू होती है धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai bhaee kee utpatti kahaan se hotee hai dil se ya dimaag se doston jab bhee vah kee aisee sthiti utpann hotee hai to hamen aisa hee lagega jaise ki koee dil se bhaee kee patnee ho rahee ho doston sabase pahale hamen man to vaisa ka vaisa hee rahata hai lekin hamen aisa prateet hoga ki hamaara dil jo hai aur vah padh padh kar raha hai kisee bhee koee ghatana ko lekar koee aane vaalee ghatana ko lekar huee ghatana ko lekar jo hamaara dil hai vah jor-jor se tejee se dhadakane lag jaata hai to hamen aisa lagata hai ki sabase pahale hamaara hamaaree to vah kee utpatti hai vah dil se ho rahee hai lekin doston aisa bilkul nahin hai vah ki too pati hai vah man se hotee hai dimaag se to sabase pahale ham us ghatana ko dekhate hee sochate hain aur soch lene maatr se hee ham yadi bhaee kha jaate hain ekadam se ghabara jaate hain aur yah man mein to aisa soch lete hain kyon re yah kya ho gaya aur are yah kya hone vaala hai ab jo hoga vah kya hoga kaise hoga kuchh bhee nahin maaloom aise soch ki yadi ghabara gae thoda sa to phir dil ko to dhadakan aaee hai phir to vah joro se dhadake ka yadi pahale se hee aap yah drdh sankalp kar len ki kisee bhee ghatana mein bade dhyaan se aur badee gambheer se dekhoonga aur tej ho sake jo bhaavana hai use dekhane se mara dil tejee se nahin dhadake ga balki man yadi apane kantrol mein hoga us par niyantran hoga to dil ka dhadakana baad mein shuroo hota hai yadi ham man se hee bhaee kha jaatee hai to phir hrday kee dhadakan tej ho jaatee hai to isalie baay kee utpatti jo hai vah dimaag se hee hotee hai apane man mein soch lene se shuroo hotee hai dhanyavaad

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
0:38
भाई तू उत्पत्ति कहां से होती है दिल से या दिमाग से भाई की उत्पत्ति दिमाग से होती है और दिल के ऊपर उसका फर्क पड़ता है भाई लगता है हमें एक ऐसा नहीं होता है सोचा नहीं होगा ऐसा हमें लगता है उन्हें यह वार भी नहीं रहता है और यह होता भी नहीं मोड ऑफ द टाइम कैसा हमें लगता है और जब हमें लगता है तो कई बार ऐसा होता है कि उस भाई को मैं तो लेटी में हम खुद ही कन्वर्ट कर देते तो भेजो तब यह दिमाग का दिमाग अपने सामने रखता है और उसका इफेक्ट जो पड़ता है वह दिल पर पड़ता है
Bhaee too utpatti kahaan se hotee hai dil se ya dimaag se bhaee kee utpatti dimaag se hotee hai aur dil ke oopar usaka phark padata hai bhaee lagata hai hamen ek aisa nahin hota hai socha nahin hoga aisa hamen lagata hai unhen yah vaar bhee nahin rahata hai aur yah hota bhee nahin mod oph da taim kaisa hamen lagata hai aur jab hamen lagata hai to kaee baar aisa hota hai ki us bhaee ko main to letee mein ham khud hee kanvart kar dete to bhejo tab yah dimaag ka dimaag apane saamane rakhata hai aur usaka iphekt jo padata hai vah dil par padata hai

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:15
तारा का प्रश्न है कि उत्पत्ति कहां से होती है दिल से या दिमाग से उतरा को बताना चाहिए कि डिपेंड करता है परसों परसों हर लड़की को ना मानना है कि मैं की उत्पत्ति दिमाग से होती है ना की शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Taara ka prashn hai ki utpatti kahaan se hotee hai dil se ya dimaag se utara ko bataana chaahie ki dipend karata hai parason parason har ladakee ko na maanana hai ki main kee utpatti dimaag se hotee hai na kee shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
भय की उत्पत्ति कहां से होती है, दिल से या दिमाग से?Bhay Ki Utpatti Kahan Se Hoti Hai Dil Se Ya Dimaag Se
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:11
लगाने की भाई की उत्पत्ति कहां से होती है दिल से या दिमाग छोटा एक नकारात्मक भावना है और संभावित खतरे के लिए एक सहज प्रतिक्रिया के रूप में सभी जानवरों और लोगों में पूर्व ग्राम आदेशित एक ऐसी भावना से यह भावना हमेशा अनूप पूरी नहीं यह एक अच्छी भावना नहीं कोई आजादी खुश नहीं खुशी नहीं है कई रूपों में प्रकट होता है सबसे आमद व्यक्ति गुस्सा आपका जीवन डर के जीत के लिए एक संघर्ष है डर के विपरीत एकता के बारे में जागरूकता है डर की सबसे शक्तिशाली जनरेटर बच्चों की अवधारणा डर हम सब एक समय पर महसूस करते हैं यह बच्चों के रूप में सबसे पहले अनुभव किया जाता है साधु लोगों को एकदम अप्रिय भावना लगती है खतरे की उपस्थिति या निकटता की वजह से एक बहुत अप्रिय भावना को डर कहते हैं भाई मानव प्रजाति वर्णन अनुभव किया जाता है पूरी तरह से

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भय की उत्पत्ति कहां से होती है, भय कहां से उत्पन्न होता है
URL copied to clipboard