#धर्म और ज्योतिषी

शिवम मौर्या Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए शिवम जी का जवाब
Unknown
1:30
जी आपने अपने हिसाब से प्रश्न बहुत ही बढ़िया पूछा है कि इंसान समय कोकेन दोष देता है जबकि उसके कर्म दोषी होते हैं लेकिन हर बार ऐसा नहीं होता है समझने का फेर है मान लीजिए अगर कोई लड़का है वह कोई अच्छी पढ़ाई कर रहा है और एक समय ऐसा आता है जब वह नौकरी के लिए जाता है या मान लीजिए किसी अच्छे पोस्ट पर उसने अप्लाई कर दिया है और उसने उसका एग्जाम है और वो एग्जाम देने जाता है और उम्मीद है पूरा सौ परसेंट कि वह निकल जाएगा तो अचानक उसे खबर मिलती है कि उसके पिताजी की मृत्यु हो गई है अब वह क्या करें अब या तो अपने पिताजी के दाह संस्कार संस्कार में जाए या तो वह पेपर दे तू कुछ ऐसी परिस्थितियां बन जाती है इंसान को समय को दोष देना ही पड़ता है क्योंकि कुछ नहीं उसका कर्म क्या है वह तो अपना कर्म कर ही रहा था अब उसने कुछ परिस्थितियां हैं जो समय है उसके खिलाफ चल रही हैं तो आगे जाकर अब अगर वह लड़का परीक्षा दे भी देता है तो उस समय वह हो सकता और टेंशन में हो और चीजों का अच्छे से लिख ना पाए तब भी वह मतलब नौकरी देने से रह जाएगा नौकरी नहीं मिल पाएगी अगर वह चला जाता है अपने पिता के दाह संस्कार में तो फिर उसको जिंदगी भर यही मलाल रहेगा कि काश मैं उस दिन चला गया होता कि पर देने तो कहने का मतलब भाई समझिए समय कुछ परिस्थितियां जो होती है वह बाद में जाकर दोषी बन जाती हैं
Jee aapane apane hisaab se prashn bahut hee badhiya poochha hai ki insaan samay koken dosh deta hai jabaki usake karm doshee hote hain lekin har baar aisa nahin hota hai samajhane ka pher hai maan leejie agar koee ladaka hai vah koee achchhee padhaee kar raha hai aur ek samay aisa aata hai jab vah naukaree ke lie jaata hai ya maan leejie kisee achchhe post par usane aplaee kar diya hai aur usane usaka egjaam hai aur vo egjaam dene jaata hai aur ummeed hai poora sau parasent ki vah nikal jaega to achaanak use khabar milatee hai ki usake pitaajee kee mrtyu ho gaee hai ab vah kya karen ab ya to apane pitaajee ke daah sanskaar sanskaar mein jae ya to vah pepar de too kuchh aisee paristhitiyaan ban jaatee hai insaan ko samay ko dosh dena hee padata hai kyonki kuchh nahin usaka karm kya hai vah to apana karm kar hee raha tha ab usane kuchh paristhitiyaan hain jo samay hai usake khilaaph chal rahee hain to aage jaakar ab agar vah ladaka pareeksha de bhee deta hai to us samay vah ho sakata aur tenshan mein ho aur cheejon ka achchhe se likh na pae tab bhee vah matalab naukaree dene se rah jaega naukaree nahin mil paegee agar vah chala jaata hai apane pita ke daah sanskaar mein to phir usako jindagee bhar yahee malaal rahega ki kaash main us din chala gaya hota ki par dene to kahane ka matalab bhaee samajhie samay kuchh paristhitiyaan jo hotee hai vah baad mein jaakar doshee ban jaatee hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कर्म के विचार प्रकार जो हमारे शास्त्रों में वर्णित है, मनुष्य के कर्मों का फल कैसे मिलता है, कर्मों का फल कैसे मिलता है गीता सार
URL copied to clipboard