#जीवन शैली

bolkar speaker

नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं?

Nayi Umra Me Log Itne Jajbati Kyo Hote Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:04
देखिए मनुष्य जज्बातों का ही बना होता है कुछ लोग भावुक होते हैं बात बात पर भावुक हो जाते हैं कुछ लोग दृढ़ विश्वास ही होते हैं कुछ लोग कल्पना में घूमते रहते हैं तो यह हर आदमी की प्रकृति अलग-अलग होती है जो लोग जज्बाती होते हैं उनके जज्बात इतने प्रकार होते हैं कि वह अपने जज्बात के हिसाब से काम करते हैं कुछ लोग जैसे आप सब सुबह उठे आप आलस के कारण लेते हैं लेकिन जो जज्बाती आदमी होता हिम्मती आदमी होता है वह तुरंत उठा और उसने अपना चारपाई छोड़कर चारपाई छोड़ने के बाद अपना नाम तो नियम दम करने के बाद उसने तुरंत आप अपना योगा वगैरा किया तो यह जज्बात नहीं है वह जज्बात उसके जीवन से जुड़ा हुआ है तो जो आदमी जज्बाती होता है कि मुझे यह कार्य करना है वह कार कश्मीर जुनून जज्बात मने एक होता जुनून जब आदमी के अंदर जुनून पैदा हो जाता है तो वह कठिन से कठिन कार्य को करने के लिए सफल हो जाता है वह तो वह उनके प्रक्रिया होती है और ऊपर किया उनके मानसिक अभ्यास का एक अंग होती है
Dekhie manushy jajbaaton ka hee bana hota hai kuchh log bhaavuk hote hain baat baat par bhaavuk ho jaate hain kuchh log drdh vishvaas hee hote hain kuchh log kalpana mein ghoomate rahate hain to yah har aadamee kee prakrti alag-alag hotee hai jo log jajbaatee hote hain unake jajbaat itane prakaar hote hain ki vah apane jajbaat ke hisaab se kaam karate hain kuchh log jaise aap sab subah uthe aap aalas ke kaaran lete hain lekin jo jajbaatee aadamee hota himmatee aadamee hota hai vah turant utha aur usane apana chaarapaee chhodakar chaarapaee chhodane ke baad apana naam to niyam dam karane ke baad usane turant aap apana yoga vagaira kiya to yah jajbaat nahin hai vah jajbaat usake jeevan se juda hua hai to jo aadamee jajbaatee hota hai ki mujhe yah kaary karana hai vah kaar kashmeer junoon jajbaat mane ek hota junoon jab aadamee ke andar junoon paida ho jaata hai to vah kathin se kathin kaary ko karane ke lie saphal ho jaata hai vah to vah unake prakriya hotee hai aur oopar kiya unake maanasik abhyaas ka ek ang hotee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं?Nayi Umra Me Log Itne Jajbati Kyo Hote Hai
Prince Khan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prince जी का जवाब
Unknown
0:36

bolkar speaker
नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं?Nayi Umra Me Log Itne Jajbati Kyo Hote Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:03
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सब लोग इतने जज्बाती क्यों से देखें जहां तक मैं जानता हूं तो हमारे साथ में इसलिए लोग जब बात होगी क्योंकि उसके शरीर में स्फूर्ति दायक इसको इस शरीर में काफी ताकत होती नया सिम होता है ना दिमाग होता है तो सभी लोग मतलब इसलिए जज्बात होते क्योंकि वह मतलब जब आना भी देखा नहीं हूं अभी नई उम्र में उनकी उम्र कम से कम लंबी किस देश में 25 साल तक हो सकती है तो मुझे दिमाग नहीं ताकत का ज्यादा यूज करना चाहते क्योंकि भगवान ने उन्हें इस ताकत दी होती है क्योंकि उनके युवा होते हो तो तुम लोग उनका जो खून खून होता तो मैं ज्यादा जोश भरा रहा था और उन्हें इस बात का नहीं पता होता है कि उन्होंने भी समाज देखा नहीं सब आना देखने किस तरह से दबाना गलत चल रहा है तुम्हारे हिसाब से ही दिखाते क्यों क्यों नहीं हमने हर चीज के बारे में ज्यादा नॉलेज नहीं होता ज्ञान नहीं होता है कि जमाने में कैसे जिया जाए किस तरह से जिया जाए कैसे क्या करना कैसे नहीं क्या करना बस उन्हें मतलब उनके ताकत होती तो ताकत का इस्तेमाल ज्यादा करना चाहते तो मिस कॉल करो अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hain aap sab log itane jajbaatee kyon se dekhen jahaan tak main jaanata hoon to hamaare saath mein isalie log jab baat hogee kyonki usake shareer mein sphoorti daayak isako is shareer mein kaaphee taakat hotee naya sim hota hai na dimaag hota hai to sabhee log matalab isalie jajbaat hote kyonki vah matalab jab aana bhee dekha nahin hoon abhee naee umr mein unakee umr kam se kam lambee kis desh mein 25 saal tak ho sakatee hai to mujhe dimaag nahin taakat ka jyaada yooj karana chaahate kyonki bhagavaan ne unhen is taakat dee hotee hai kyonki unake yuva hote ho to tum log unaka jo khoon khoon hota to main jyaada josh bhara raha tha aur unhen is baat ka nahin pata hota hai ki unhonne bhee samaaj dekha nahin sab aana dekhane kis tarah se dabaana galat chal raha hai tumhaare hisaab se hee dikhaate kyon kyon nahin hamane har cheej ke baare mein jyaada nolej nahin hota gyaan nahin hota hai ki jamaane mein kaise jiya jae kis tarah se jiya jae kaise kya karana kaise nahin kya karana bas unhen matalab unake taakat hotee to taakat ka istemaal jyaada karana chaahate to mis kol karo achchha laga hoga dhanyavaad

bolkar speaker
नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं?Nayi Umra Me Log Itne Jajbati Kyo Hote Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:33
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होती हैं तो फ्रेंड से जो नई उम्र के बच्चे होते हैं तो उन्होंने जीवन की कोई भी परेशानियां कठिनाइयां ज्यादा नहीं देखी होती है ना उन्हें जीवन का कोई अनुभव होता है कि वे जीवन के बारे में अच्छे से जानते हैं तो वह जल्दी से जज्बाती हो जाते हैं नए नए बच्चे होते हैं लड़की लड़की होते हैं बहुत जल्दी उम्र में उन्हें प्यार हो जाएगा आप भी ऐड ब्रेकअप हो जाएगा वह जल्दी डिप्रेशन में आ जाते हैं बहुत सारे बच्चे पढ़ाई करते हैं अच्छे मार्क्स नहीं आ पाते तो बहुत जल्दी डिप्रेशन में हो जाती है यहां तक खबरें आती हैं कि सुसाइड तक कर लेते हैं बच्चे तो यह बहुत जल्दी जज्बात में आ जाते हैं उनके अंदर नया खून होता है ना दिमाग होता है और वे जीवन का तजुर्बा तो उनके पास होता नहीं है इसलिए कोई भी बात जल्दी से जज्बात में आकर फैसला ले लेती है बहुत जल्दी गुस्सा हो जाएंगे बहुत जल्दी जज्बाती हो जाएंगे यही सब कारण लेकिन उन्हें अपने घर के बड़ों से सलाह लेनी चाहिए तो उन्हें अच्छा मार्गदर्शन मिलेगा और अच्छी राय मिलेगी तो जल्दी जज्बाती नहीं हो पाएंगे अब नई उम्र के बच्चे जो होते हैं तो उनका दिमाग बिल्कुल फूल की तरह होता है नाजुक होता है उन्हें ऐसा कोई भी जो काम है वह अच्छे से नहीं कर पाएंगे क्योंकि जो उनके काम करने का तरीका है उसमें सोचेंगे कि हमें जल्दी काम करना है लेकिन उसका अच्छा बुरा नहीं सोच पाएंगे बस यही कारण है कि वे जल्दी जज्बाती हो जाते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai naee umr mein log itane jajbaatee kyon hotee hain to phrend se jo naee umr ke bachche hote hain to unhonne jeevan kee koee bhee pareshaaniyaan kathinaiyaan jyaada nahin dekhee hotee hai na unhen jeevan ka koee anubhav hota hai ki ve jeevan ke baare mein achchhe se jaanate hain to vah jaldee se jajbaatee ho jaate hain nae nae bachche hote hain ladakee ladakee hote hain bahut jaldee umr mein unhen pyaar ho jaega aap bhee aid brekap ho jaega vah jaldee dipreshan mein aa jaate hain bahut saare bachche padhaee karate hain achchhe maarks nahin aa paate to bahut jaldee dipreshan mein ho jaatee hai yahaan tak khabaren aatee hain ki susaid tak kar lete hain bachche to yah bahut jaldee jajbaat mein aa jaate hain unake andar naya khoon hota hai na dimaag hota hai aur ve jeevan ka tajurba to unake paas hota nahin hai isalie koee bhee baat jaldee se jajbaat mein aakar phaisala le letee hai bahut jaldee gussa ho jaenge bahut jaldee jajbaatee ho jaenge yahee sab kaaran lekin unhen apane ghar ke badon se salaah lenee chaahie to unhen achchha maargadarshan milega aur achchhee raay milegee to jaldee jajbaatee nahin ho paenge ab naee umr ke bachche jo hote hain to unaka dimaag bilkul phool kee tarah hota hai naajuk hota hai unhen aisa koee bhee jo kaam hai vah achchhe se nahin kar paenge kyonki jo unake kaam karane ka tareeka hai usamen sochenge ki hamen jaldee kaam karana hai lekin usaka achchha bura nahin soch paenge bas yahee kaaran hai ki ve jaldee jajbaatee ho jaate hain dhanyavaad

bolkar speaker
नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं?Nayi Umra Me Log Itne Jajbati Kyo Hote Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
2:12
नई उम्र में लोग इतने जज्बाती को होते हैं नई उम्र में या कम उम्र में जो युवा युवती होते हैं उनको अनुभव का अनुभव की कमी होती है खासकर के प्रसंग में उनके ऐसे होते हैं कि जो जिंदगी में पहली बार आई होती और उसको रिजेक्ट करने में उनको उसका तरीका मालूम नहीं होता कुछ प्रश्न को पचा नहीं पाते क्योंकि उनका अनुभव नहीं होता है और जब उम्र बढ़ जाती है तो एक जैसे एक तरीके के बहुत सारे अनुभव आ जाते हैं अमित फैमिली में अनुभव को मिलते हैं तो उसके समझ में आता है कि यह बात सिर्फ मेरे साथ नहीं यह बात कई लोगों के साथ हो रही है होती है मैं एक अकेला व्यक्ति नहीं हूं कि जिसके सामने ही है घटना घटी है या समस्या निर्माण हुई है या कुछ अनुभव हुआ है प्रमुखता से मुख्य कारण है बाकी माइनर कारण है लेकिन मुख्य कारण तो यही हम बता सकते हैं अनु की कमी होना धन्यवाद
Naee umr mein log itane jajbaatee ko hote hain naee umr mein ya kam umr mein jo yuva yuvatee hote hain unako anubhav ka anubhav kee kamee hotee hai khaasakar ke prasang mein unake aise hote hain ki jo jindagee mein pahalee baar aaee hotee aur usako rijekt karane mein unako usaka tareeka maaloom nahin hota kuchh prashn ko pacha nahin paate kyonki unaka anubhav nahin hota hai aur jab umr badh jaatee hai to ek jaise ek tareeke ke bahut saare anubhav aa jaate hain amit phaimilee mein anubhav ko milate hain to usake samajh mein aata hai ki yah baat sirph mere saath nahin yah baat kaee logon ke saath ho rahee hai hotee hai main ek akela vyakti nahin hoon ki jisake saamane hee hai ghatana ghatee hai ya samasya nirmaan huee hai ya kuchh anubhav hua hai pramukhata se mukhy kaaran hai baakee mainar kaaran hai lekin mukhy kaaran to yahee ham bata sakate hain anu kee kamee hona dhanyavaad

bolkar speaker
नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं?Nayi Umra Me Log Itne Jajbati Kyo Hote Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
🧖‍♀️life coach,Spiritual Advisor And Motivational speaker🙏
2:58
प्रश्न नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं तो मैं सिर्फ इतना ही कहूंगी कि अकेले में ह्यूमन को नाम बताया नहीं गया है कि कैसे रहना है वह कौन है क्या है मतलब दुनिया चलती आ रही है 10 की चीजें सुनती हुई तू 10 की चीजों को ही फॉलो करते हैं खुद के दिमाग को यूज नहीं करते यू नो रूट रोबोट जैसा काम करते हैं किसी ने बोल दिया कि ऐसा है तो ऐसे ही चलना है किसी ने बोल दिया कि यह रूल बुक के अकॉर्डिंग है ऐसे ही चलना है यही नहीं हमें यहां ऐसे ही रहना है और उसी अकॉर्डिंग रहना पड़ता है ठीक है तो ऐसे में क्या होता है कि बच्चे लोग समझदार नहीं होते छोटी बातों में बहुत उदास हो जाते हैं बहुत रोने लगते हैं अभी देखा होगा एक टिक टिक टिक टॉक स्टार थी नाम नहीं पता मुझे वह 16 साल की थी सी मस्ती शायद और साल में हूं डिप्रेशन का शिकार हो गए उसने सुसाइड कर लिया देखिए बच्चों को समझाना है सोशल मीडिया में आप बच्चों को छोड़ तो दिए हो लेकिन सोशल मीडिया के चलते बच्चे गलत चीजों में चले जा रहे हैं वहां अगर आप अच्छे से नहीं संभाल रहे अपने बच्चों को तो कहीं ना कहीं बच्चे बहुत ज्यादा जज्बाती हो जाते हैं फिर धीरे-धीरे डिप्रेशन में आ जाते हैं और फिर गलत कदम उठा लेते हैं यहां सबसे ज्यादा इंपॉर्टेंट बात यह है कि यह जो इज होती है यहां हार्मोन बढ़ते हैं हारमोंस बढ़ते हैं एक टाइम में घटना शुरू हो जाते जब 11 से हमारी ऐज शुरू होती है तो हारमोंस हमारी 21 तक बहुत अच्छे से बढ़ते हैं ठीक है तो एक दो बहुत अच्छे से बढ़ते हैं और इस टाइम क्या है कि हार्मोन हार्मोन के चेंज होते हैं और उसके चलते हमारे अंदर बहुत सारी ऐसी चीजें आती हैं जाती हैं फिर बातें बुरी लगती हैं और धीरे धीरे धीरे करके हावी हो जाती हूं तो यहां मीन यही चीज है कि बच्चों को 11 से 20 साल की एज में बहुत अच्छे से समझ ना उन्हें समझाना सही गाइडलाइन देना कह देना अगर इन समय में 11 से लेकर 20 तक की एज में अगर आपने सही गाइडलाइन अपने बच्चों को नहीं दी तो बच्चे ऐसा ही कुछ कर लेते हैं जैसे मैंने अभी रॉकस्टार का एग्जांपल दिया ठीक है तो वहां संभाला है सारे लोग तो गलत जगह चले जाते हो ड्रग्स सिगरेट न जाने ऐसी जगह चले जाते किसी पोषित जज्बाती चक्कर में मतलब जज्बात इतनी ज्यादा ओवर फ्लो होते हैं उनके ठीक है इसलिए होता है कि दुख हो रहा है क्या करें अरे चल एक सट्टा मार ले लगा ले दर्द खत्म हो जाएगा हम आशिक को ऐसे न जाने क्या-क्या चीजें होती हैं इंग्लिश में नाम हमें अवेयर करना होगा हर एक बच्चे को लेकर हम जब तक खुद आ गए होंगे बच्चों को कैसे करेंगे पहले आप खुद हो जाइए फिर
Prashn naee umr mein log itane jajbaatee kyon hote hain to main sirph itana hee kahoongee ki akele mein hyooman ko naam bataaya nahin gaya hai ki kaise rahana hai vah kaun hai kya hai matalab duniya chalatee aa rahee hai 10 kee cheejen sunatee huee too 10 kee cheejon ko hee pholo karate hain khud ke dimaag ko yooj nahin karate yoo no root robot jaisa kaam karate hain kisee ne bol diya ki aisa hai to aise hee chalana hai kisee ne bol diya ki yah rool buk ke akording hai aise hee chalana hai yahee nahin hamen yahaan aise hee rahana hai aur usee akording rahana padata hai theek hai to aise mein kya hota hai ki bachche log samajhadaar nahin hote chhotee baaton mein bahut udaas ho jaate hain bahut rone lagate hain abhee dekha hoga ek tik tik tik tok staar thee naam nahin pata mujhe vah 16 saal kee thee see mastee shaayad aur saal mein hoon dipreshan ka shikaar ho gae usane susaid kar liya dekhie bachchon ko samajhaana hai soshal meediya mein aap bachchon ko chhod to die ho lekin soshal meediya ke chalate bachche galat cheejon mein chale ja rahe hain vahaan agar aap achchhe se nahin sambhaal rahe apane bachchon ko to kaheen na kaheen bachche bahut jyaada jajbaatee ho jaate hain phir dheere-dheere dipreshan mein aa jaate hain aur phir galat kadam utha lete hain yahaan sabase jyaada importent baat yah hai ki yah jo ij hotee hai yahaan haarmon badhate hain haaramons badhate hain ek taim mein ghatana shuroo ho jaate jab 11 se hamaaree aij shuroo hotee hai to haaramons hamaaree 21 tak bahut achchhe se badhate hain theek hai to ek do bahut achchhe se badhate hain aur is taim kya hai ki haarmon haarmon ke chenj hote hain aur usake chalate hamaare andar bahut saaree aisee cheejen aatee hain jaatee hain phir baaten buree lagatee hain aur dheere dheere dheere karake haavee ho jaatee hoon to yahaan meen yahee cheej hai ki bachchon ko 11 se 20 saal kee ej mein bahut achchhe se samajh na unhen samajhaana sahee gaidalain dena kah dena agar in samay mein 11 se lekar 20 tak kee ej mein agar aapane sahee gaidalain apane bachchon ko nahin dee to bachche aisa hee kuchh kar lete hain jaise mainne abhee rokastaar ka egjaampal diya theek hai to vahaan sambhaala hai saare log to galat jagah chale jaate ho drags sigaret na jaane aisee jagah chale jaate kisee poshit jajbaatee chakkar mein matalab jajbaat itanee jyaada ovar phlo hote hain unake theek hai isalie hota hai ki dukh ho raha hai kya karen are chal ek satta maar le laga le dard khatm ho jaega ham aashik ko aise na jaane kya-kya cheejen hotee hain inglish mein naam hamen aveyar karana hoga har ek bachche ko lekar ham jab tak khud aa gae honge bachchon ko kaise karenge pahale aap khud ho jaie phir

bolkar speaker
नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं?Nayi Umra Me Log Itne Jajbati Kyo Hote Hai
Dt. Mayuari official Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dt. जी का जवाब
Medical field
2:26
नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं मेरे जज्बात है जहां तक किससे बात का ताल्लुक है तो जज्बात ही तो इंसान ने जब हमारी इच्छाएं होती हैं या जब हमारी हमारी हां इंग्लिश चाहती हैं जो नॉर्मल नहीं मिल फीलिंग होती है और जब हम उनको फील करने लगते हैं चाहे वह गुस्से की हूं चाहे वह प्यार की हो चाहे वह चाहे किसी के बिछड़ने की हो तो जब ऐसी फीलिंग हम महसूस करने लगते हैं हम फोन करने लगते हैं पर जो है वह मन लाइक होती है वह नहीं जो पहली होता है वह हमारी लाइफ से थोड़ा चेंज हो जाती है हम अपनी लाइफ को थोड़ा सीरियसली लगते हैं जो एक बचपना होता है कहीं ना कहीं एक एज में वह बचपन आज आने लगता है मैं छोटी आने लगती है हम बातों को एक पहलू के अलावा दूसरे पहलू समझने लगते हैं तुम मेरे हिसाब से नहीं उनका तात्पर्य हां आयोजन रेशंस है तो यंग जनरेशन में इसलिए होता है क्योंकि अनशन में आप यार भी महसूस होता है जो अब धीरे-धीरे बड़े होने लगते हो तो अटैचमेंट आफ का बढ़ता है लोगों से चाहे मां-बाप पहुंचे फैमिली हो जाए फ्रेंड्स हो चाहे टीचर्स मुझे कोई भी वेबसाइट कोई नहीं जो हमारे चरित्र होता है तो मैं उस सर्किल से प्यार होने लगता है अगर उससे कोई दूर जाने लगता है कोई फ्रेंड बिछड़ने लगता है तो बुरा लगता है तो हम अपने जज्बातों को उसी में महसूस करने लगते हैं तो इसलिए और महसूस करते करते वह कहीं ना कहीं हम बड़े होते हैं उसी इन माय माइंड में उन्ही दोस्तों को या उन्ही रिश्तो के साथ तो रिश्ते हम जीने लगते हैं इसलिए इंसान जब वह अधिवेशन में आता है तो आ डोनेशन से एडल्ट होते जज्बातों से खेल चुका होता है क्योंकि वह सारी फिलिंग्स वो रिलेशन से एडल्टहुड तक जी रहा होता है महसूस कर रहा होता है तो मुझे लगता है कि वह एडल्टहुड आते आते और जाते आते बहुत ही इमोशनल और जैसे कहते हैं कि बच्चे और डेज में जो लोग होते हैं वह भी कुछ बच्चे जैसे होते हैं तो इसलिए इतना जज्बाती बन जाते हैं
Naee umr mein log itane jajbaatee kyon hote hain mere jajbaat hai jahaan tak kisase baat ka taalluk hai to jajbaat hee to insaan ne jab hamaaree ichchhaen hotee hain ya jab hamaaree hamaaree haan inglish chaahatee hain jo normal nahin mil pheeling hotee hai aur jab ham unako pheel karane lagate hain chaahe vah gusse kee hoon chaahe vah pyaar kee ho chaahe vah chaahe kisee ke bichhadane kee ho to jab aisee pheeling ham mahasoos karane lagate hain ham phon karane lagate hain par jo hai vah man laik hotee hai vah nahin jo pahalee hota hai vah hamaaree laiph se thoda chenj ho jaatee hai ham apanee laiph ko thoda seeriyasalee lagate hain jo ek bachapana hota hai kaheen na kaheen ek ej mein vah bachapan aaj aane lagata hai main chhotee aane lagatee hai ham baaton ko ek pahaloo ke alaava doosare pahaloo samajhane lagate hain tum mere hisaab se nahin unaka taatpary haan aayojan reshans hai to yang janareshan mein isalie hota hai kyonki anashan mein aap yaar bhee mahasoos hota hai jo ab dheere-dheere bade hone lagate ho to ataichament aaph ka badhata hai logon se chaahe maan-baap pahunche phaimilee ho jae phrends ho chaahe teechars mujhe koee bhee vebasait koee nahin jo hamaare charitr hota hai to main us sarkil se pyaar hone lagata hai agar usase koee door jaane lagata hai koee phrend bichhadane lagata hai to bura lagata hai to ham apane jajbaaton ko usee mein mahasoos karane lagate hain to isalie aur mahasoos karate karate vah kaheen na kaheen ham bade hote hain usee in maay maind mein unhee doston ko ya unhee rishto ke saath to rishte ham jeene lagate hain isalie insaan jab vah adhiveshan mein aata hai to aa doneshan se edalt hote jajbaaton se khel chuka hota hai kyonki vah saaree philings vo rileshan se edaltahud tak jee raha hota hai mahasoos kar raha hota hai to mujhe lagata hai ki vah edaltahud aate aate aur jaate aate bahut hee imoshanal aur jaise kahate hain ki bachche aur dej mein jo log hote hain vah bhee kuchh bachche jaise hote hain to isalie itana jajbaatee ban jaate hain

bolkar speaker
नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं?Nayi Umra Me Log Itne Jajbati Kyo Hote Hai
Chetan Chandrawanshi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chetan जी का जवाब
Finding a part time job
1:45
नहीं-नहीं उम्र में लोग जज्बाती क्यों होते हैं जिसका जवाब नहीं है मेरे पास पर मैं इसी टॉपिक पर कुछ और कहना चाहूंगा जज्बाती होना चाहिए या नहीं पढ़ाते तो जज्बाती होना अच्छा है लेकिन ज्यादा जज्बात में बहना गलत है किसी की फिक्र करना कदर करना मुश्किल अहमियत को पहचानना उसके लिए कुछ करना अच्छा है लेकिन उसके बारे में सोचना और यह उसकी फिक्र करना गलत है ताकि फिर शायद भगवान ने करें कि चाहने वाले ने धोखा दे दिया तो बहुत दर्द होता है और फिर जिंदगी जीने की तमन्ना कम हो जाती है और सीनियर्स ऐसे समय में हम चाहते हैं कि कोई हमें सहारा दी और हमें कोई झूठ मुठ कभी बोल दे कि तसल्ली दे दी किसी प्रकार की तो हम फिर उस पर विश्वास ज्यादा करने लगते हैं बस फिर उसने भी धोखा दिया तो फिर तो किसी पर विश्वास नहीं होता जिंदगी भर तो जिंदगी में किसी पर इतना विश्वास ही ना करो कि उसके विश्वास तो उन पर हमें फर्क पड़े बस यह सोचो कि एक हवा का झोंका धन जो आया उसको जो मिला उसे उड़ा ले गया धन्यवाद
Nahin-nahin umr mein log jajbaatee kyon hote hain jisaka javaab nahin hai mere paas par main isee topik par kuchh aur kahana chaahoonga jajbaatee hona chaahie ya nahin padhaate to jajbaatee hona achchha hai lekin jyaada jajbaat mein bahana galat hai kisee kee phikr karana kadar karana mushkil ahamiyat ko pahachaanana usake lie kuchh karana achchha hai lekin usake baare mein sochana aur yah usakee phikr karana galat hai taaki phir shaayad bhagavaan ne karen ki chaahane vaale ne dhokha de diya to bahut dard hota hai aur phir jindagee jeene kee tamanna kam ho jaatee hai aur seeniyars aise samay mein ham chaahate hain ki koee hamen sahaara dee aur hamen koee jhooth muth kabhee bol de ki tasallee de dee kisee prakaar kee to ham phir us par vishvaas jyaada karane lagate hain bas phir usane bhee dhokha diya to phir to kisee par vishvaas nahin hota jindagee bhar to jindagee mein kisee par itana vishvaas hee na karo ki usake vishvaas to un par hamen phark pade bas yah socho ki ek hava ka jhonka dhan jo aaya usako jo mila use uda le gaya dhanyavaad

bolkar speaker
नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं?Nayi Umra Me Log Itne Jajbati Kyo Hote Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
4:00
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है कि नहीं उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों हो जाते हैं दोस्तों वर्तमान समय में इस समय में युवा लोग और दो लड़के हैं कोई भी हो वह नई उम्र में जज्बाती इसलिए हो जाते हैं क्योंकि आज का जो माहौल है दुनिया का वह बिल्कुल बदल चुका है और दौड़ भाग भरी जिंदगी हो गई है और इसमें सब कुछ जल्दी-जल्दी बहुत कुछ कर लेना चाहते हैं अपनी जो मानसिक स्थिति है वह भी इस कारण से बिगड़ चुकी है कि वह जल्दी ही कुछ बन लेना चाहते हैं जल्दी ही कुछ कर लेना चाहते हैं और जो दिखावटी पन है वह सबसे ज्यादा हो गया है तो इस दिखावटी पल में जो कुछ भी वह करते हैं और उसको किसी के द्वारा ऐसा कह दिया जाता है कि ऐसा मत करो तो वह गुस्से की प्रवृत्ति वाला हो जाता है और अपना गुस्सा दिखाता है और उसे के साथ-साथ अपना अहम वो भी दिखाता जाता है कि हम तो ऐसा करेंगे क्योंकि हमारे पास ऐसा है वैसा है बात-बात पर बिगड़ना शुरू हो जाते हैं और अपना जो हम भाव है वह दिखाना शुरू कर देते हैं क्योंकि जो वर्तमान समय में जो हमारे आसपास का वातावरण है वह कुछ ऐसा ही हो गया है लोगों ने बना दिया है ऐसा ही और वैसे भी अपने घरों में अपने समाज में सब अपने अपने हिसाब से रहने लगे हैं अपने मन से तो वह अपने केवल और केवल अपने मन की सुनते हैं दूसरों से उसे कोई लेना देना नहीं होता है जो मन कहता है जो अच्छा लगता है बस उसी के अनुसार चलते हैं और जो कोई पूरे समाज के लिए तो सही बात होती है और उस लड़के को क्या उस युवा को कह दी जाती है तो उसे थोड़ा सा अच्छा नहीं लगता है तो इसलिए वह बात बात बेबी करना शुरू कर देते हैं कम समय में आगे बढ़ने की घोड़ा घोड़ी में जो लोग हैं वह जज्बाती बन जाते हैं और कहीं ना कहीं उन पर खान-पान का भी असर पड़ता है जैसे कि आजकल लोग जंक फूड खाने लगे हैं फर्स्टली जो ब्रेकफास्ट करते हैं और घंटो घंटो पर इधर उधर रहते हैं तो अपने काम में बेकार की व्यस्तता के कारण उसके मन में शैतानी अभी उत्पन्न होती है और जो तू भावना भी पैदा हो जाती है इस कारण से मन भी ऐसा नहीं रहता है तो सभी काम बिगड़ जाने से अपने स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है और दिमाग पर भी पड़ता है तो इतना बुझाने मात्र से ही और जो नई उम्र के जो लोग हैं वह फिर अपने अंदर बदलाव ला ले आते हैं कपड़े मानसिक तौर पर अपने कथित तौर पर बहुत बड़ा बदलाव ले आते हैं जो कि उस बदलाव में कुछ अच्छाइयां कम होती है और बुराइयां ज्यादा होती है गुस्सैल परवर्ती जलन इर्षा समय की व्यस्तता तो यह जो कुछ बुरी आदत समय टोपी को शब्दों में दिनचर्या में तो दोस्तों ऐसा नहीं होना चाहिए उन्हें इस दिखावटी पन की दुनिया से बाहर आना चाहिए और अपने जो भी अनुभवी बुजुर्ग हैं उनकी सहित उनकी मदद सहयोग लेना चाहिए और बड़े ही सोच समझ कर आगे बढ़ना चाहिए धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai ki nahin umr mein log itane jajbaatee kyon ho jaate hain doston vartamaan samay mein is samay mein yuva log aur do ladake hain koee bhee ho vah naee umr mein jajbaatee isalie ho jaate hain kyonki aaj ka jo maahaul hai duniya ka vah bilkul badal chuka hai aur daud bhaag bharee jindagee ho gaee hai aur isamen sab kuchh jaldee-jaldee bahut kuchh kar lena chaahate hain apanee jo maanasik sthiti hai vah bhee is kaaran se bigad chukee hai ki vah jaldee hee kuchh ban lena chaahate hain jaldee hee kuchh kar lena chaahate hain aur jo dikhaavatee pan hai vah sabase jyaada ho gaya hai to is dikhaavatee pal mein jo kuchh bhee vah karate hain aur usako kisee ke dvaara aisa kah diya jaata hai ki aisa mat karo to vah gusse kee pravrtti vaala ho jaata hai aur apana gussa dikhaata hai aur use ke saath-saath apana aham vo bhee dikhaata jaata hai ki ham to aisa karenge kyonki hamaare paas aisa hai vaisa hai baat-baat par bigadana shuroo ho jaate hain aur apana jo ham bhaav hai vah dikhaana shuroo kar dete hain kyonki jo vartamaan samay mein jo hamaare aasapaas ka vaataavaran hai vah kuchh aisa hee ho gaya hai logon ne bana diya hai aisa hee aur vaise bhee apane gharon mein apane samaaj mein sab apane apane hisaab se rahane lage hain apane man se to vah apane keval aur keval apane man kee sunate hain doosaron se use koee lena dena nahin hota hai jo man kahata hai jo achchha lagata hai bas usee ke anusaar chalate hain aur jo koee poore samaaj ke lie to sahee baat hotee hai aur us ladake ko kya us yuva ko kah dee jaatee hai to use thoda sa achchha nahin lagata hai to isalie vah baat baat bebee karana shuroo kar dete hain kam samay mein aage badhane kee ghoda ghodee mein jo log hain vah jajbaatee ban jaate hain aur kaheen na kaheen un par khaan-paan ka bhee asar padata hai jaise ki aajakal log jank phood khaane lage hain pharstalee jo brekaphaast karate hain aur ghanto ghanto par idhar udhar rahate hain to apane kaam mein bekaar kee vyastata ke kaaran usake man mein shaitaanee abhee utpann hotee hai aur jo too bhaavana bhee paida ho jaatee hai is kaaran se man bhee aisa nahin rahata hai to sabhee kaam bigad jaane se apane svaasthy par bura asar padata hai aur dimaag par bhee padata hai to itana bujhaane maatr se hee aur jo naee umr ke jo log hain vah phir apane andar badalaav la le aate hain kapade maanasik taur par apane kathit taur par bahut bada badalaav le aate hain jo ki us badalaav mein kuchh achchhaiyaan kam hotee hai aur buraiyaan jyaada hotee hai gussail paravartee jalan irsha samay kee vyastata to yah jo kuchh buree aadat samay topee ko shabdon mein dinacharya mein to doston aisa nahin hona chaahie unhen is dikhaavatee pan kee duniya se baahar aana chaahie aur apane jo bhee anubhavee bujurg hain unakee sahit unakee madad sahayog lena chaahie aur bade hee soch samajh kar aage badhana chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं?Nayi Umra Me Log Itne Jajbati Kyo Hote Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:42
मुझे तो आज आपके सवाल है कि नहीं उम्र में लूंगी प्लीज बातें क्यों होते हैं तो भी जवाब पर क्यों स्टेज में जाते हैं जब आपके मतलबी मतलबी टाइप का होता है अब मतलब भी करीब 17 साल के 16 साल के अधीन एक्सपीरियंस करने का जब कॉलेज लाइफ आता है तो लाइट जला सकते हैं एक जगह रहते हैं स्कूल जाना घर में ट्यूशन मम्मी पापा सब के सराउंडिंग में अब कौन है कि किसी अलग दुनिया के बारे में कुछ पता होता है क्या हो रहा है क्या नहीं सिर्फ आप टीवी में ही देर लाइफ में आपके साथ होता है अब आप अपनी मनमर्जी से कॉलेज जाते हैं नहीं जाते हैं घूमना फिरना उसके बाद ऐसे समय पर अगर कोई इंसान को कंट्रोल करता है पढ़ाई लिखाई पर ध्यान देता तो उसका भविष्य आगे जाकर उज्जवल होता है तो जब आप इस पेज में आते हैं कॉलेज टाइप के 17 अट्ठारह साल तक में आते हैं यहां पर आपको बहुत सारी नई नई चीजें देखने के लिए मिलती है लोग मिलते हैं अपने नहीं मतलब लोग ऐसे समय पर गलत रात में भी चले जाते पीना खाना तो आपके मन में यह चलता है क्यों नहीं ट्राई करके देखिए क्यों लोग बना कर देख लो ट्राई करके देखे लोग क्यों पसंद करते यह सोच सोच कर आपका हर एक चीज में मन करता है क्या भेजा फ्राई कर दे यह जस्ट एक्सपीरियंस लेटर कब किसे लोगों को लत लग जाती है आदत हो जाता कोई समझ जाता है कि नहीं यह सब चीज गलत है इसलिए जवाब मैसेज में आते हैं तो आपको खुद पर कंट्रोल करना अभी समझना कि सही क्या गलत क्या है क्या खराब हो जाएगा इतना जज्बाती होना बिल्कुल भी सही नहीं होता
Mujhe to aaj aapake savaal hai ki nahin umr mein loongee pleej baaten kyon hote hain to bhee javaab par kyon stej mein jaate hain jab aapake matalabee matalabee taip ka hota hai ab matalab bhee kareeb 17 saal ke 16 saal ke adheen eksapeeriyans karane ka jab kolej laiph aata hai to lait jala sakate hain ek jagah rahate hain skool jaana ghar mein tyooshan mammee paapa sab ke saraunding mein ab kaun hai ki kisee alag duniya ke baare mein kuchh pata hota hai kya ho raha hai kya nahin sirph aap teevee mein hee der laiph mein aapake saath hota hai ab aap apanee manamarjee se kolej jaate hain nahin jaate hain ghoomana phirana usake baad aise samay par agar koee insaan ko kantrol karata hai padhaee likhaee par dhyaan deta to usaka bhavishy aage jaakar ujjaval hota hai to jab aap is pej mein aate hain kolej taip ke 17 atthaarah saal tak mein aate hain yahaan par aapako bahut saaree naee naee cheejen dekhane ke lie milatee hai log milate hain apane nahin matalab log aise samay par galat raat mein bhee chale jaate peena khaana to aapake man mein yah chalata hai kyon nahin traee karake dekhie kyon log bana kar dekh lo traee karake dekhe log kyon pasand karate yah soch soch kar aapaka har ek cheej mein man karata hai kya bheja phraee kar de yah jast eksapeeriyans letar kab kise logon ko lat lag jaatee hai aadat ho jaata koee samajh jaata hai ki nahin yah sab cheej galat hai isalie javaab maisej mein aate hain to aapako khud par kantrol karana abhee samajhana ki sahee kya galat kya hai kya kharaab ho jaega itana jajbaatee hona bilkul bhee sahee nahin hota

bolkar speaker
नई उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं?Nayi Umra Me Log Itne Jajbati Kyo Hote Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:42
आरा का प्रश्न नहीं उम्र में लोग इतनी जल्दी क्यों होते हैं तो आपको बता देते कि आज के समय में जहां पर सभी व्यक्ति एक प्रोडक्ट का हिस्सा बने हुए हैं सोने जा रहे हैं ऐसे में बहुत सारी परिस्थितियां ऐसी ही आ जाती है जिसका सामना नई उम्र के लोगों करना होता है क्योंकि उनको कोई तजुर्बा नहीं होता है कई बार अच्छी तरीके से उन प्रश्नों का सामना नहीं कर पाते हैं तो इसलिए यहां पर उनके जज्बात कई बार बह निकलते हैं या आप उनको बुरा लगता है खाना की तैयारी है जैसे ऐसे हो बड़े होते जाते हैं परिपक्व होते जाते तब उनको चीजों का अधिक ज्ञान होने लगता है मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Aara ka prashn nahin umr mein log itanee jaldee kyon hote hain to aapako bata dete ki aaj ke samay mein jahaan par sabhee vyakti ek prodakt ka hissa bane hue hain sone ja rahe hain aise mein bahut saaree paristhitiyaan aisee hee aa jaatee hai jisaka saamana naee umr ke logon karana hota hai kyonki unako koee tajurba nahin hota hai kaee baar achchhee tareeke se un prashnon ka saamana nahin kar paate hain to isalie yahaan par unake jajbaat kaee baar bah nikalate hain ya aap unako bura lagata hai khaana kee taiyaaree hai jaise aise ho bade hote jaate hain paripakv hote jaate tab unako cheejon ka adhik gyaan hone lagata hai main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • नहीं उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों हैं, नहीं उम्र में लोग इतने जज्बाती क्यों होते हैं, जज्बाती क्यों होते हैं
URL copied to clipboard