#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकर करना चाहता है?

Desh Ka Yuva Kyun Padh Likhkar Naukar Karna Chahta Hai
Vicky Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vicky जी का जवाब
अभी हम पढ़ाई करते हैं
0:36
डीजे में भजन जंग देश का हर युवा दिवस चाहता हूं अपने पैरों पर खड़ा हो जाए क्योंकि वह कहीं भी काम पर एक कंपनी में कहीं भी वही बन गई है सरकारी काम है तू इस नई का नौकर है अगर वह किसी भी बारे में निबंध उसको ज्यादा तनखा मिलेगी और नेट चालू करना कल के लोगों को अपना बिजनेस करना चाहिए अपने को निकाल करना चाहिए दूसरी नौकरी पर ध्यान ना दें
Deeje mein bhajan jang desh ka har yuva divas chaahata hoon apane pairon par khada ho jae kyonki vah kaheen bhee kaam par ek kampanee mein kaheen bhee vahee ban gaee hai sarakaaree kaam hai too is naee ka naukar hai agar vah kisee bhee baare mein nibandh usako jyaada tanakha milegee aur net chaaloo karana kal ke logon ko apana bijanes karana chaahie apane ko nikaal karana chaahie doosaree naukaree par dhyaan na den

और जवाब सुनें

bolkar speaker
देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकर करना चाहता है?Desh Ka Yuva Kyun Padh Likhkar Naukar Karna Chahta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:05
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न देश का युवा क्यों मर लिखकर नौकरी करना चाहता है तो फ्रेंड्स हर किसी का सपना होता है कि हम पढ़ लिख कर नौकरी करें तो देश की युवा भी पढ़ लिखकर नौकरी करना चाहते हैं क्योंकि सबको पता है कि जो हम नौकरी करेंगे तो हमारा जीवन सेटल हो जाएगा हमें पैसों की तंगी नहीं रहेगी हमारी नौकरी लग जाएगी हमारी शादी हो जाएगी हमारी घर की स्थिति पर चाय पास जाएगी मराठी वन अच्छे से चलने लगेगा बस नौकरी करके वे अपने जीवन को आसान बनाते हैं और नौकरी करने से पैसा आता है समाज में इज्जत मिलती है और काम धंधे में लग जाते हैं इसलिए नौकरी करना चाहते हैं हर व्यक्ति की जिंदगी जो होती है नौकरी से धंधे से व्यवसाय से जो भी है वह करने से सेट हो जाती है इसीलिए युवा नौकरी करना चाहते हैं प्राइवेट नौकरी हो जाए सरकारी नौकरी हो उसमें पैसे भी मिलते हैं तो वे नौकरी में सेट होना चाहते हैं जिसमें सरकारी नौकरी मिल जाती है तो बहुत ही अच्छी जिंदगी चलने लगती है और पैसे भी बहुत अच्छी मिलने लग इनके लिए देश की जो नौकरी करना चाहते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn desh ka yuva kyon mar likhakar naukaree karana chaahata hai to phrends har kisee ka sapana hota hai ki ham padh likh kar naukaree karen to desh kee yuva bhee padh likhakar naukaree karana chaahate hain kyonki sabako pata hai ki jo ham naukaree karenge to hamaara jeevan setal ho jaega hamen paison kee tangee nahin rahegee hamaaree naukaree lag jaegee hamaaree shaadee ho jaegee hamaaree ghar kee sthiti par chaay paas jaegee maraathee van achchhe se chalane lagega bas naukaree karake ve apane jeevan ko aasaan banaate hain aur naukaree karane se paisa aata hai samaaj mein ijjat milatee hai aur kaam dhandhe mein lag jaate hain isalie naukaree karana chaahate hain har vyakti kee jindagee jo hotee hai naukaree se dhandhe se vyavasaay se jo bhee hai vah karane se set ho jaatee hai iseelie yuva naukaree karana chaahate hain praivet naukaree ho jae sarakaaree naukaree ho usamen paise bhee milate hain to ve naukaree mein set hona chaahate hain jisamen sarakaaree naukaree mil jaatee hai to bahut hee achchhee jindagee chalane lagatee hai aur paise bhee bahut achchhee milane lag inake lie desh kee jo naukaree karana chaahate hain dhanyavaad

bolkar speaker
देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकर करना चाहता है?Desh Ka Yuva Kyun Padh Likhkar Naukar Karna Chahta Hai
 Neeraj Kumar  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए जी का जवाब
Unknown
1:38
हेलो दोस्तो मैंने सवाल है देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकर करना चाहता या नौकरी करना चाहता है तो पढ़ाई लिखाई जीवन को एक अच्छा बनाने में मदद करती है अगर आपके पास अच्छी खासी नॉलेज है पड़ा यह तो आप कहीं भी आपको जॉब मिल सकती है या आप खुद का बिजनेस भी कर सकते हैं और आज के युवा सिर्फ नौकरी की तैयारी नहीं करते वह स्टार्टअप भी खुलते हैं और अपना खुद का बिजनेस चलाते हैं तू अगर आपको लगता है कि आप मैं भी बिजनेस करने की क्षमता है तो आप भी बिजनेस कर सकते हैं जरूरी नहीं कि सिर्फ सरकारी नौकरी तैयारी करें और क्योंकि सरकारी नौकरी में इतना रहता है कि आप दोनों को ही होती है उसमें जो इनकम होती है वह बिल्कुल लिमिटेड होती है लेकिन अगर आपको लगता है कि मुझे अच्छा खासा पैसा कमाना है तो वह से बिजनेस में पॉसिबल है वह गारमेंट जॉब मैं बिल्कुल भी पॉसिबल नहीं है क्योंकि बिजनेस में लोग अनलिमिटेड पैसा कमा सकते हैं जिसकी कोई सोच भी नहीं सकता सकता है लेकिन एक सरकारी नौकरी में आप सो सकते हैं कि आपको 60 साल तक आप कितना कमा सकते हैं इससे ज्यादा आप नहीं कमा पाएंगे तो सोचने की बात होती है कि कौन सा स्टैंड दुआ में क्या चल रहा है वह किस तरह से अपने करियर को ले जाना चाहता है या घर में जॉब के साथ अपने करियर को ले जाना चाहता है या खुद का करके
Helo dosto mainne savaal hai desh ka yuva kyon padh likhakar naukar karana chaahata ya naukaree karana chaahata hai to padhaee likhaee jeevan ko ek achchha banaane mein madad karatee hai agar aapake paas achchhee khaasee nolej hai pada yah to aap kaheen bhee aapako job mil sakatee hai ya aap khud ka bijanes bhee kar sakate hain aur aaj ke yuva sirph naukaree kee taiyaaree nahin karate vah staartap bhee khulate hain aur apana khud ka bijanes chalaate hain too agar aapako lagata hai ki aap main bhee bijanes karane kee kshamata hai to aap bhee bijanes kar sakate hain jarooree nahin ki sirph sarakaaree naukaree taiyaaree karen aur kyonki sarakaaree naukaree mein itana rahata hai ki aap donon ko hee hotee hai usamen jo inakam hotee hai vah bilkul limited hotee hai lekin agar aapako lagata hai ki mujhe achchha khaasa paisa kamaana hai to vah se bijanes mein posibal hai vah gaarament job main bilkul bhee posibal nahin hai kyonki bijanes mein log analimited paisa kama sakate hain jisakee koee soch bhee nahin sakata sakata hai lekin ek sarakaaree naukaree mein aap so sakate hain ki aapako 60 saal tak aap kitana kama sakate hain isase jyaada aap nahin kama paenge to sochane kee baat hotee hai ki kaun sa staind dua mein kya chal raha hai vah kis tarah se apane kariyar ko le jaana chaahata hai ya ghar mein job ke saath apane kariyar ko le jaana chaahata hai ya khud ka karake

bolkar speaker
देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकर करना चाहता है?Desh Ka Yuva Kyun Padh Likhkar Naukar Karna Chahta Hai
रमेश सिन्हा Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रमेश जी का जवाब
Unknown
1:11
उसका दोस्त आपका प्रश्न देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकरी करना चाहता है तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि आप मूसली हमार एजुकेशन सिस्टम में युवाओं को इस प्रकार से तैयार कर रहा है कि आगे चलकर नौकरी की तरफ जो है अक्सर हूं अलवर मेरा मानना है कि अगर युवा अपने स्किल डेवलपमेंट पर फोकस करें पढ़ाई के दौरान तो वह अपना एक सैंपल भेजना ओपन कर सकता है और नौकरी के हिसाब से वह कई गुना ज्यादा पैसा बिजनेस से कमा सकता है इनके अगर वह बिजनेस नहीं चला तो उनको कम से कम एक्सपीरियंस हो जाएगा और आगे जाकर करो नौकरी करते हैं उनमें उसकी उसमें होगी काफी सहायता होगी और वह अपनी नौकरी या अपनी जॉब में काफी सही तरीके से परफॉर्म कर पाएंगे आता है जानकारी स्पष्ट होगी धन्यवाद
Usaka dost aapaka prashn desh ka yuva kyon padh likhakar naukaree karana chaahata hai to main aapako bataana chaahoonga ki aap moosalee hamaar ejukeshan sistam mein yuvaon ko is prakaar se taiyaar kar raha hai ki aage chalakar naukaree kee taraph jo hai aksar hoon alavar mera maanana hai ki agar yuva apane skil devalapament par phokas karen padhaee ke dauraan to vah apana ek saimpal bhejana opan kar sakata hai aur naukaree ke hisaab se vah kaee guna jyaada paisa bijanes se kama sakata hai inake agar vah bijanes nahin chala to unako kam se kam eksapeeriyans ho jaega aur aage jaakar karo naukaree karate hain unamen usakee usamen hogee kaaphee sahaayata hogee aur vah apanee naukaree ya apanee job mein kaaphee sahee tareeke se paraphorm kar paenge aata hai jaanakaaree spasht hogee dhanyavaad

bolkar speaker
देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकर करना चाहता है?Desh Ka Yuva Kyun Padh Likhkar Naukar Karna Chahta Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:49
हेलो शिवांशु आज आप का सवाल है कि देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकरी करना चाहता है तो देखी नौकरी का मतलब होता है मुझे नौकरी नहीं करना मुझे किसी का नौकर नहीं बना नहीं होता है आपको मुझे कुछ काम करते हैं तो क्या वह भी नौकर से नहीं चलाता अपने पेट के लिए इंसान जानता है आप अपने जो भी पढ़े लिखे हैं उस हिसाब से आपको जो भी काम मिलता तो काम करते हैं तो आप उस ऑफिस को आप उस कंपनी को नहीं समझते जांच के लिए आप कुछ काम करते हैं हर काम के मेरे की डिजाइन भेजो होता है तो लोग नहीं कर पाते हैं लोगों के अंदर यह पोटेंशियल और यह सुनता नहीं होती हर एक इंसान बिजनेस संभाल सके या फिर कल मुझे अपनी अपनी पढ़ लिखकर अपने आप से करना पड़ता पड़ता है जादू कर सकते लेकिन के पास पैसा नहीं होता जिनके वजह से उनको थोड़ा कुछ नौकरी करना पड़ता है कुछ पैसे कलेक्ट कर के फिर कुछ बिजनेस करते हैं वह लाइफ में बहुत तरक्की करें टेबल कैसे आया था कि हर फैसिलिटी उसे मिल सके उसके फैमिली को मिल सके करने का तरीका अलग अलग होता है जैसे मेरा तरीका होगा कि मैं नौकरी करके कुछ वाला पैसा कमाओ फिर कहीं पर भी लागू होता है कि नहीं वह डायरेक्ट उसके पास इतना पैसा है नौकरी करने में इतना मतलब दोनों करके लाते हैं
Helo shivaanshu aaj aap ka savaal hai ki desh ka yuva kyon padh likhakar naukaree karana chaahata hai to dekhee naukaree ka matalab hota hai mujhe naukaree nahin karana mujhe kisee ka naukar nahin bana nahin hota hai aapako mujhe kuchh kaam karate hain to kya vah bhee naukar se nahin chalaata apane pet ke lie insaan jaanata hai aap apane jo bhee padhe likhe hain us hisaab se aapako jo bhee kaam milata to kaam karate hain to aap us ophis ko aap us kampanee ko nahin samajhate jaanch ke lie aap kuchh kaam karate hain har kaam ke mere kee dijain bhejo hota hai to log nahin kar paate hain logon ke andar yah potenshiyal aur yah sunata nahin hotee har ek insaan bijanes sambhaal sake ya phir kal mujhe apanee apanee padh likhakar apane aap se karana padata padata hai jaadoo kar sakate lekin ke paas paisa nahin hota jinake vajah se unako thoda kuchh naukaree karana padata hai kuchh paise kalekt kar ke phir kuchh bijanes karate hain vah laiph mein bahut tarakkee karen tebal kaise aaya tha ki har phaisilitee use mil sake usake phaimilee ko mil sake karane ka tareeka alag alag hota hai jaise mera tareeka hoga ki main naukaree karake kuchh vaala paisa kamao phir kaheen par bhee laagoo hota hai ki nahin vah daayarekt usake paas itana paisa hai naukaree karane mein itana matalab donon karake laate hain

bolkar speaker
देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकर करना चाहता है?Desh Ka Yuva Kyun Padh Likhkar Naukar Karna Chahta Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:15
देखिए देश का युवा जो है पढ़ लिख करके नौकरी के लिए करना चाहता है क्योंकि वह अपने जीवन को नौकरी पर आधारित बनाना चाहता है क्योंकि अभी तक जो परिस्थितियां रही है देश में नौकरी की ज्यादा रहे ना आदमी के पास इतना पैसा है ना उसके पास इतने कैपिटल है ना उसके पास जमीन है ज्यादा दवे के परिवार में चार चार पांच लोग हैं किसान भी खेती भी करेंगे तो घर के कितने लोग करेंगे दुकान भी करें तो घर के कितने लोग करेंगे एक ही दुकान में सारे लोग हो जाएंगे इसलिए अलग अलग तरीके के लोग घर में काम करना चाहते हैं और मां बाप अपने बेटे को इसी परिकल्पना के साथ पढ़ाते हैं कि आगे चलकर के बड़ा अधिकारी बनेगा कंपनी का मालिक बनने का और पढ़ने लिखने के बाद भी जब कोई उद्योग धंधा खोल ना होता है उसके लिए बहुत जुनून और उसके कैपिटल की जरूरत होती है और वह कैपिटल हर आदमी के पास उपलब्ध नहीं है क्योंकि हमारा कृषि प्रधान देश है और सत्तर से अस्सी परसेंट लोग इस बेशर्म का काम करते हैं इसलिए युवा वर्ग जो है वह सब नौकरी की तरफ आगे बढ़ रहा है कोई शिक्षा की तरफ जाना चाहता है कोई इंजीनियर बनना चाहता है कोई डॉक्टर बनना चाहता क्योंकि समाज में इन सब की भी आवश्यकता होती है तो अपने अपने जो फ्यूचर को देखते हुए जहां पर उसको अवसर मिलते हैं वह सब सर के साथ जो काम करना चाहता है
Dekhie desh ka yuva jo hai padh likh karake naukaree ke lie karana chaahata hai kyonki vah apane jeevan ko naukaree par aadhaarit banaana chaahata hai kyonki abhee tak jo paristhitiyaan rahee hai desh mein naukaree kee jyaada rahe na aadamee ke paas itana paisa hai na usake paas itane kaipital hai na usake paas jameen hai jyaada dave ke parivaar mein chaar chaar paanch log hain kisaan bhee khetee bhee karenge to ghar ke kitane log karenge dukaan bhee karen to ghar ke kitane log karenge ek hee dukaan mein saare log ho jaenge isalie alag alag tareeke ke log ghar mein kaam karana chaahate hain aur maan baap apane bete ko isee parikalpana ke saath padhaate hain ki aage chalakar ke bada adhikaaree banega kampanee ka maalik banane ka aur padhane likhane ke baad bhee jab koee udyog dhandha khol na hota hai usake lie bahut junoon aur usake kaipital kee jaroorat hotee hai aur vah kaipital har aadamee ke paas upalabdh nahin hai kyonki hamaara krshi pradhaan desh hai aur sattar se assee parasent log is besharm ka kaam karate hain isalie yuva varg jo hai vah sab naukaree kee taraph aage badh raha hai koee shiksha kee taraph jaana chaahata hai koee injeeniyar banana chaahata hai koee doktar banana chaahata kyonki samaaj mein in sab kee bhee aavashyakata hotee hai to apane apane jo phyoochar ko dekhate hue jahaan par usako avasar milate hain vah sab sar ke saath jo kaam karana chaahata hai

bolkar speaker
देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकर करना चाहता है?Desh Ka Yuva Kyun Padh Likhkar Naukar Karna Chahta Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:44
आरा का दुश्मन देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकरी करना चाहता है तो आपको बता देंगे तो क्या हर एक व्यक्ति की इच्छा होती है कि वह बड़ा होकर कोई नौकरी करें अपना जीवन यापन ने किस तरह बनाएं तो यहां पर जो देश के युवा है उनकी यात्रा की सोच यही है कि वह नौकरी करना चाहते हैं बहुत कम लोग ऐसे होते हैं जो कि दूसरों को जो होगा देना चाहते हैं दूसरों के लिए एंप्लॉय बनना चाहते हैं मैं समझूंगा यहां पर खुद को नौकरी में ही रखना चाहते हैं इसी वजह से यहां पर हो आगे बढ़कर पढ़ाई पढ़ाई करके अपना नौकरी का कार्य करना चाहते हैं मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Aara ka dushman desh ka yuva kyon padh likhakar naukaree karana chaahata hai to aapako bata denge to kya har ek vyakti kee ichchha hotee hai ki vah bada hokar koee naukaree karen apana jeevan yaapan ne kis tarah banaen to yahaan par jo desh ke yuva hai unakee yaatra kee soch yahee hai ki vah naukaree karana chaahate hain bahut kam log aise hote hain jo ki doosaron ko jo hoga dena chaahate hain doosaron ke lie employ banana chaahate hain main samajhoonga yahaan par khud ko naukaree mein hee rakhana chaahate hain isee vajah se yahaan par ho aage badhakar padhaee padhaee karake apana naukaree ka kaary karana chaahate hain main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकर करना चाहता है?Desh Ka Yuva Kyun Padh Likhkar Naukar Karna Chahta Hai
Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
0:46
विनमेक्स प्रजापत मेरी बोल मेरे प्रोफाइल पर सुन रहे हैं रोहित राठौर होते हैं देश का युवा पर लिखकर नौकरी क्यों करना चाहता है तो यार उसका आंसर आप सभी जानते हैं और हम सबको पता है और आज के जीवन का यह सत्य है और वह पैसा धन कमाने के लिए पढ़ाई करते हैं और इंसान भी बदल जाते हैं पर एक प्रमुख कारण यह भी है कि आज का युवा नौकरी करना नहीं चाहते कि उसे इस प्रकार की शिक्षा दी जाती है उसमें से उसे नौकरी मिलती है और वह भी नौकरी में कितना वेतन नहीं दे पाते जितना मुझे मिलना चाहिए इस प्रकार से कई बार तो देश के युवा मन मार कर नौकरी करते हैं और अपने घर वालों के परिवार वालों को कहने पर नौकरी करते हैं धन्यवाद मिलते हैं आपसे अखिलेश से 1 मिनट के लिए टेक केयर
Vinameks prajaapat meree bol mere prophail par sun rahe hain rohit raathaur hote hain desh ka yuva par likhakar naukaree kyon karana chaahata hai to yaar usaka aansar aap sabhee jaanate hain aur ham sabako pata hai aur aaj ke jeevan ka yah saty hai aur vah paisa dhan kamaane ke lie padhaee karate hain aur insaan bhee badal jaate hain par ek pramukh kaaran yah bhee hai ki aaj ka yuva naukaree karana nahin chaahate ki use is prakaar kee shiksha dee jaatee hai usamen se use naukaree milatee hai aur vah bhee naukaree mein kitana vetan nahin de paate jitana mujhe milana chaahie is prakaar se kaee baar to desh ke yuva man maar kar naukaree karate hain aur apane ghar vaalon ke parivaar vaalon ko kahane par naukaree karate hain dhanyavaad milate hain aapase akhilesh se 1 minat ke lie tek keyar

bolkar speaker
देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकर करना चाहता है?Desh Ka Yuva Kyun Padh Likhkar Naukar Karna Chahta Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
2:09
नमस्कार मित्रों प्रश्न है कि देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकर नौकरी करना चाहता है यह नौकर बर्थडे लग रहा है गलत हो गया है टाइपिंग में नौकरी करना चाहता है यह प्रश्न दोस्तों हमें शुरू से ही पढ़ाया जाता है कि दो अच्छा डॉक्टर बनियों अच्छा इंजीनियर बनियों बच्चे को या अच्छा अफसर बनना तो बच्चों को राह एक लक्ष्य दिया जाता है केवल नौकरी का ही दिया जाता है तो हमें नौकरी बनाने वाला व्यक्ति कभी नहीं सलाह दी जाती है ऐसा कोई मां-बाप नहीं कहता है कि अपने बच्चों को कि तू 10 लोगों को नौकरी पर रखी हो 15 लोगों को नौकरी पर रखे इतना बड़ा साम्राज्य व्यापार स्थापित कर लो आप तो मन में लोगों की सोच ऐसी रहती है प्लस एक कुछ गरीबी भी है वह व्यापार नहीं कर सकते उन्हें पता है तू जी की कमी रहेगी तो गरीब व्यक्ति या मध्यम परिवार का व्यक्ति तो नौकरी के लिए ही कहेगा तो दोस्तों सरकार को ऐसा करना चाहिए पढ़ाई के समय ही उसके मन में ऐसे लक्ष्य बच्चों के रखना चेहरा खाना चाहिए कि वह आगे एंटरटेन और बने व्यवसाई बने लोगों को रोक नौकरी दे दिल्ली सरकार में ऐसा एक ओर चला गया इंटरशिप का जिसमें कि कई लोग चर्चा होती है बच्चों के साथ एक अच्छी शुरुआत है ऐसी सभी सरकारों को राज्य सरकारों को ऐसा शिक्षा नीति में ही प्रावधान करना चाहिए कि बच्चे के जेहन में नौकरी के अलावा व्यापार का भी ऑप्शन खुला रहेगा पार करने की सोची लोगों को नौकरी खुद ना करने की जगह नौकरी पर रखने की उसके दिमाग में ऐसा रहे और सरकार को ऐसे स्थलालू माय करनी चाहिए कि नए जो बिजनेस करना चाहते हैं उनको आसानी से लोन मिल जाए उनको आसानी से सलाह मिल जाए आने से आसानी से सपोर्ट मिल जाए तो हवा हमारे युवाओं के ध्यान से नौकरी का भूत उतरेगा और बेरोजगारी की समस्या खत्म होगी लेकिन अभी मेरे को नहीं लगता कि ऐसा सरकार को प्रावधान कर रही है बैंक में साधारण व्यक्ति लोन लेने जाता है उसे लोन मिलता ही नहीं है तो सरकार कोई नीचे स्तर पर भी चीजों को देखना चाहिए
Namaskaar mitron prashn hai ki desh ka yuva kyon padh likhakar naukar naukaree karana chaahata hai yah naukar barthade lag raha hai galat ho gaya hai taiping mein naukaree karana chaahata hai yah prashn doston hamen shuroo se hee padhaaya jaata hai ki do achchha doktar baniyon achchha injeeniyar baniyon bachche ko ya achchha aphasar banana to bachchon ko raah ek lakshy diya jaata hai keval naukaree ka hee diya jaata hai to hamen naukaree banaane vaala vyakti kabhee nahin salaah dee jaatee hai aisa koee maan-baap nahin kahata hai ki apane bachchon ko ki too 10 logon ko naukaree par rakhee ho 15 logon ko naukaree par rakhe itana bada saamraajy vyaapaar sthaapit kar lo aap to man mein logon kee soch aisee rahatee hai plas ek kuchh gareebee bhee hai vah vyaapaar nahin kar sakate unhen pata hai too jee kee kamee rahegee to gareeb vyakti ya madhyam parivaar ka vyakti to naukaree ke lie hee kahega to doston sarakaar ko aisa karana chaahie padhaee ke samay hee usake man mein aise lakshy bachchon ke rakhana chehara khaana chaahie ki vah aage entaraten aur bane vyavasaee bane logon ko rok naukaree de dillee sarakaar mein aisa ek or chala gaya intaraship ka jisamen ki kaee log charcha hotee hai bachchon ke saath ek achchhee shuruaat hai aisee sabhee sarakaaron ko raajy sarakaaron ko aisa shiksha neeti mein hee praavadhaan karana chaahie ki bachche ke jehan mein naukaree ke alaava vyaapaar ka bhee opshan khula rahega paar karane kee sochee logon ko naukaree khud na karane kee jagah naukaree par rakhane kee usake dimaag mein aisa rahe aur sarakaar ko aise sthalaaloo maay karanee chaahie ki nae jo bijanes karana chaahate hain unako aasaanee se lon mil jae unako aasaanee se salaah mil jae aane se aasaanee se saport mil jae to hava hamaare yuvaon ke dhyaan se naukaree ka bhoot utarega aur berojagaaree kee samasya khatm hogee lekin abhee mere ko nahin lagata ki aisa sarakaar ko praavadhaan kar rahee hai baink mein saadhaaran vyakti lon lene jaata hai use lon milata hee nahin hai to sarakaar koee neeche star par bhee cheejon ko dekhana chaahie

bolkar speaker
देश का युवा क्यों पढ़ लिखकर नौकर करना चाहता है?Desh Ka Yuva Kyun Padh Likhkar Naukar Karna Chahta Hai
Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:24
हमारे देश का युवा पढ़ लिखकर नौकरी क्यों करना चाहता है तूने यह देश का युवा जो भी पढ़ाई लिखाई करता है वह हमेशा नौकरी की तलाश में रहता है क्योंकि उसे पता है भविष्य में ऐसी नौकरी जो है बहुत सहायता करती है और फायदेमंद होती है परिवार के लिए और फिर से जीवन को सफल करने के लिए इसलिए वह पढ़ लिखकर नौकरी की तलाश करता है
Hamaare desh ka yuva padh likhakar naukaree kyon karana chaahata hai toone yah desh ka yuva jo bhee padhaee likhaee karata hai vah hamesha naukaree kee talaash mein rahata hai kyonki use pata hai bhavishy mein aisee naukaree jo hai bahut sahaayata karatee hai aur phaayademand hotee hai parivaar ke lie aur phir se jeevan ko saphal karane ke lie isalie vah padh likhakar naukaree kee talaash karata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard