#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

एंटीमैटर का उपयोग क्या है या किस तरह बनाया जाता है?

Antimeter Ka Upyog Kya Hai Ya Kis Tarah Banaya Jata Hai
 Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:28
क्या कपड़ा सेंटीमीटर का उपयोग क्या है एंटी मीटर का उपयोग का पदार्थ के एंटीपार्टिकल के सिद्धांत का विस्तार है दूसरे शब्दों में जिस प्रकार पदार्थ का बना होता है उसी प्रकार प्रत्येक द्रव्य और प्रतीकों से मिलकर बना होता है जिसके परिणाम स्वरूप उच्च ऊर्जा फोटो या अन्य पार्टी कॉल एंटीपार्टिकल युगल बनते हैं
Kya kapada senteemeetar ka upayog kya hai entee meetar ka upayog ka padaarth ke enteepaartikal ke siddhaant ka vistaar hai doosare shabdon mein jis prakaar padaarth ka bana hota hai usee prakaar pratyek dravy aur prateekon se milakar bana hota hai jisake parinaam svaroop uchch oorja photo ya any paartee kol enteepaartikal yugal banate hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
एंटीमैटर का उपयोग क्या है या किस तरह बनाया जाता है?Antimeter Ka Upyog Kya Hai Ya Kis Tarah Banaya Jata Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:56
सवाल ये है कि एंटी मीटर का उपयोग क्या है और यह किस तरह से बनाया जाता है तो एंटीमैटर न विकृत ईंधन के रूप में बहुत उपयोगी होता है लेकिन इसे बनाने की प्रक्रिया फिलहाल इसके इंजन के ईंधन के तौर पर अंत में होने वाले प्रयोग से कहीं अधिक महंगी पड़ती है इसके अलावा आयुर्विज्ञान में भी यह कैंसर का पेट स्कैन यानी प्रोजेस्ट्रोन एमिशन टोमोग्राफी के द्वारा पता लगाने में भी किया जाता है साथ ही कई रेडिएशन तकनीकों में भी इसका प्रयोग होता है नासा के मुताबिक एंटीमैटर धरती का सबसे महंगा मटेरियल है ढाई $200000 रुपए तक लग जाते हैं एंटी मैटर का इस्तेमाल अंतरिक्ष में दूसरे ग्रहों पर जाने वाले विमानों में ईंधन की तरह किया जाता है 1 ग्राम एंटी मैटर की कीमत ₹312500 है यानी 3125 खराब रुपए
Savaal ye hai ki entee meetar ka upayog kya hai aur yah kis tarah se banaaya jaata hai to enteemaitar na vikrt eendhan ke roop mein bahut upayogee hota hai lekin ise banaane kee prakriya philahaal isake injan ke eendhan ke taur par ant mein hone vaale prayog se kaheen adhik mahangee padatee hai isake alaava aayurvigyaan mein bhee yah kainsar ka pet skain yaanee projestron emishan tomograaphee ke dvaara pata lagaane mein bhee kiya jaata hai saath hee kaee redieshan takaneekon mein bhee isaka prayog hota hai naasa ke mutaabik enteemaitar dharatee ka sabase mahanga materiyal hai dhaee $200000 rupe tak lag jaate hain entee maitar ka istemaal antariksh mein doosare grahon par jaane vaale vimaanon mein eendhan kee tarah kiya jaata hai 1 graam entee maitar kee keemat ₹312500 hai yaanee 3125 kharaab rupe

bolkar speaker
एंटीमैटर का उपयोग क्या है या किस तरह बनाया जाता है?Antimeter Ka Upyog Kya Hai Ya Kis Tarah Banaya Jata Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
एंटी मीटर का उपयोग क्या है क्या किस तरह से बनाई जाता है टाइम टू में एंट्री मीटर का विचारों में वैज्ञानिकों के फील्ड में आ गया जब उन्होंने सुख मुझसे सच बोलना चीजों को लेकर यह बात उनके ध्यान में आई थी आने वाली रिसीव फ्रॉम नेगेटिव होता है उसको बैलेंस करने के लिए टोटल पॉजिटिव जाटव में भी डिपाजिट उसी तरीके से इतनी नेगेटिव और पॉजिटिव कोलवंकर वक्त पूर्ण हो जाता था लड़की की पोल नहीं रहता था तो बैलेंस करने के लिए दोनों नेगेटिव और पॉजिटिव पोल्स अरे चींटी बाद में यह भी पता चला कि आकस्मिक ही जो तारे तू कई जुड़वा होते थे होते हैं अभी भी स्टुपिड पर यह बातें सब है 1 तारीख को दूसरा कोई तारा बैलेंस किया हुआ लगता था बाड़मेर शहर में आया कि इसको बैलेंस करने के लिए नुकसा एक तारा होता है लेकिन वह दिखाई नहीं देता है लेकिन उसे उसके अस्तित्व के समुद्र वार्ड में मिल गए तो वैज्ञानिक अनुसूची चकली हर चीज के लिए नेगेटिव और पॉजिटिव और नेगेटिव का बैलेंस एचडी में हमेशा रहता है अगर मैटर है 20 मीटर विशेष में ऐसा अब जरूर शामिल वैज्ञानिकों को मिल गया मिल रहा है डार्क एनर्जी बी लेकिन वह उसका अनुमान लगाते हैं लेकिन द डार्क मैटर भी और उसने बहुत सारा फेसबुक ऊपर की है हो किया हुआ है अंगूरी करने की सारे ब्रह्मांड का संतुलन बनाए रहता है इस तरह से पैसा इसमें डार्क एनर्जी तक इंसान का इंसान की समझ बढ़ गई 20 मीटर का उपयोग अगर हम समस्त समस्त है तो एक तो निश्चित ही किए हुए यह जो है वह बैलेंस करने वाला एलिमेंट ऐसी कोई चीज है जो अपने व्यवहार में बाजार में होती है इसके बारे में कुछ बात तो अभी तक मैंने पढ़ा नहीं है लेकिन एंटीमीटर होने के संकेत वैज्ञानिकों ने दिए हुए दिए हुए एंटीमैटर अस्तित्व में होता है यूट्यूब मेट अररिया डार्क मैटर डार्क एनर्जी इतना ही नहीं दूसरा ब्रह्मांड के नगर भ्रमण में बताया जाता है कि जो स्पेस साइंस के संदर्भ में मुझे जो मालूम थी उसके बारे में मैं नहीं हम
Entee meetar ka upayog kya hai kya kis tarah se banaee jaata hai taim too mein entree meetar ka vichaaron mein vaigyaanikon ke pheeld mein aa gaya jab unhonne sukh mujhase sach bolana cheejon ko lekar yah baat unake dhyaan mein aaee thee aane vaalee riseev phrom negetiv hota hai usako bailens karane ke lie total pojitiv jaatav mein bhee dipaajit usee tareeke se itanee negetiv aur pojitiv kolavankar vakt poorn ho jaata tha ladakee kee pol nahin rahata tha to bailens karane ke lie donon negetiv aur pojitiv pols are cheentee baad mein yah bhee pata chala ki aakasmik hee jo taare too kaee judava hote the hote hain abhee bhee stupid par yah baaten sab hai 1 taareekh ko doosara koee taara bailens kiya hua lagata tha baadamer shahar mein aaya ki isako bailens karane ke lie nukasa ek taara hota hai lekin vah dikhaee nahin deta hai lekin use usake astitv ke samudr vaard mein mil gae to vaigyaanik anusoochee chakalee har cheej ke lie negetiv aur pojitiv aur negetiv ka bailens echadee mein hamesha rahata hai agar maitar hai 20 meetar vishesh mein aisa ab jaroor shaamil vaigyaanikon ko mil gaya mil raha hai daark enarjee bee lekin vah usaka anumaan lagaate hain lekin da daark maitar bhee aur usane bahut saara phesabuk oopar kee hai ho kiya hua hai angooree karane kee saare brahmaand ka santulan banae rahata hai is tarah se paisa isamen daark enarjee tak insaan ka insaan kee samajh badh gaee 20 meetar ka upayog agar ham samast samast hai to ek to nishchit hee kie hue yah jo hai vah bailens karane vaala eliment aisee koee cheej hai jo apane vyavahaar mein baajaar mein hotee hai isake baare mein kuchh baat to abhee tak mainne padha nahin hai lekin enteemeetar hone ke sanket vaigyaanikon ne die hue die hue enteemaitar astitv mein hota hai yootyoob met arariya daark maitar daark enarjee itana hee nahin doosara brahmaand ke nagar bhraman mein bataaya jaata hai ki jo spes sains ke sandarbh mein mujhe jo maaloom thee usake baare mein main nahin ham

bolkar speaker
एंटीमैटर का उपयोग क्या है या किस तरह बनाया जाता है?Antimeter Ka Upyog Kya Hai Ya Kis Tarah Banaya Jata Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
2:02
रीजन 95 मीटर का उपयोग किया है और इस किस तरह बनाया जाता है बताना चाहूंगा चिकित्सा के क्षेत्र में इंटीमेट का मुख्य उपयोग जहां पॉजिटन टोमोग्राफी है गामा किरणें जिसके परिणाम स्वरूप एक पदार्थ और एक एंटीमैटर का विनाश होता है शरीर में कैंसर के ट्यूमर का पता लगाने के लिए इसका उपयोग किया जाता है और एंटी कैंसर चिकित्सालय जो होते हैं उनमें एंटी एंटी मैटर का उपयोग किया जाता है वर्तमान में कैंसर के उत्कूर का पूर्ण विनाश के लिए एंटी प्रोटॉन के रूप में इसका रिसर्च और अनुसंधान चल रहा है और एंटीमैटर के उत्पादन में बड़ी ऊर्जा की लागत की आवश्यकता होती है इसके अलावा एंटीमैटर को सपोर्ट करना बहुत मुश्किल है क्योंकि यह सामान्य पदार्थ के साथ किसी भी संपर्क में हाथ में विनाश करता है इसलिए इसे मजबूत और विद्युत चुंबकीय क्षेत्रों में संजोया जाने की संग्रहित किया जाता है जिसके निर्माण और रखरखाव के लिए उच्च ऊर्जा की लागत की आवश्यकता पड़ती है और वैसे तो प्रतियोगिता विकास के स्तर पर एंटीमैटर का कृतिम निर्माण अक्षम और महंगा तरीका है इसे देखते हुए नासा ने वैज्ञानिक चुंबकीय क्षेत्रों द्वारा पृथ्वी के वन एलेन बेल्ट सेंटीमीटर इकट्ठा करने की योजना बना रहा है यह बेल्ट हमारे ग्रह की सतह पर 300 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थित है और हजार किलोमीटर मोटी है ब्रह्मांड के क्षेत्र में बड़ी संख्या में प्रोटॉन होते हैं जो पृथ्वी के वायुमंडल के ऊपरी परतों में कॉस्मिक किरणों के टकराने के कारण बनने वाले प्राथमिक कणों की प्रतिज्ञा प्रतिक्रियाओं के परिणाम स्वरुप बनते हैं और उसको बनाने के लिए मुसले एंटीमैटर में एंटी हाइड्रोजन बनाने कामयाबी हासिल की है यह परंतु प्राण के साथ सापेक्ष गति और आंटी को टर्न को तेज करके इसका निर्माण किया जाता है जो परमाणु के नाभिक के गरीब से गुजरते हैं तो उनकी ऊर्जा इलेक्ट्रॉन एंड ट्रिक्स इलेक्ट्रॉन के जून के लिए पर्याप्त होती है उसे बनाना बहुत ही मुश्किल है लेकिन जैसे-जैसे आगे जिसे सबसे नाश्ता इस पर काम कर सकता है इस को जल्द से जल्द कराया जा सके अगर तो आपको आपके सवाल का जवाब मिल गया लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Reejan 95 meetar ka upayog kiya hai aur is kis tarah banaaya jaata hai bataana chaahoonga chikitsa ke kshetr mein inteemet ka mukhy upayog jahaan pojitan tomograaphee hai gaama kiranen jisake parinaam svaroop ek padaarth aur ek enteemaitar ka vinaash hota hai shareer mein kainsar ke tyoomar ka pata lagaane ke lie isaka upayog kiya jaata hai aur entee kainsar chikitsaalay jo hote hain unamen entee entee maitar ka upayog kiya jaata hai vartamaan mein kainsar ke utkoor ka poorn vinaash ke lie entee proton ke roop mein isaka risarch aur anusandhaan chal raha hai aur enteemaitar ke utpaadan mein badee oorja kee laagat kee aavashyakata hotee hai isake alaava enteemaitar ko saport karana bahut mushkil hai kyonki yah saamaany padaarth ke saath kisee bhee sampark mein haath mein vinaash karata hai isalie ise majaboot aur vidyut chumbakeey kshetron mein sanjoya jaane kee sangrahit kiya jaata hai jisake nirmaan aur rakharakhaav ke lie uchch oorja kee laagat kee aavashyakata padatee hai aur vaise to pratiyogita vikaas ke star par enteemaitar ka krtim nirmaan aksham aur mahanga tareeka hai ise dekhate hue naasa ne vaigyaanik chumbakeey kshetron dvaara prthvee ke van elen belt senteemeetar ikattha karane kee yojana bana raha hai yah belt hamaare grah kee satah par 300 kilomeetar kee oonchaee par sthit hai aur hajaar kilomeetar motee hai brahmaand ke kshetr mein badee sankhya mein proton hote hain jo prthvee ke vaayumandal ke ooparee paraton mein kosmik kiranon ke takaraane ke kaaran banane vaale praathamik kanon kee pratigya pratikriyaon ke parinaam svarup banate hain aur usako banaane ke lie musale enteemaitar mein entee haidrojan banaane kaamayaabee haasil kee hai yah parantu praan ke saath saapeksh gati aur aantee ko tarn ko tej karake isaka nirmaan kiya jaata hai jo paramaanu ke naabhik ke gareeb se gujarate hain to unakee oorja ilektron end triks ilektron ke joon ke lie paryaapt hotee hai use banaana bahut hee mushkil hai lekin jaise-jaise aage jise sabase naashta is par kaam kar sakata hai is ko jald se jald karaaya ja sake agar to aapako aapake savaal ka javaab mil gaya laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard