#भारत की राजनीति

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:18
एक तरफ से मांगो भेजना दूसरी तरफ लोगों को मैंने कैसे में जाना है इसका सेवन नहीं करना चाहिए क्या सरकार के लिए सिर्फ टेक्स्ट से सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है स्वास्थ्य आपकी बात तो बिल्कुल सही सबसे ज्यादा रेगुलर जानते हो सरकार को जाए स्टेट गवर्नमेंट ऑय सेंटर गवर्नमेंट तो ऐसी चीजों से मिलता जितने भी तंबाकू बीड़ी सिगरेट शराब है अब आप सोच लीजिए कि कोरोनावायरस में जब शराब की दुकानें बंद हो गए तो ब्लैक मार्केटिंग होगा और जिस समय सबसे पहले सरकार ने शराब की दुकानें खोली तो कितनी लंबी लाइनें दो 2 किलोमीटर तक की लाइन लग गई और लोग इंतजार करते रहने वाली उसी तरह से तंबाकू है सिगरेट है जितनी भी निश्चित तौर पर इसका प्रोडक्शन सरकार करवाती है इसको लाइसेंस सरकार देती है और उस पर जगह-जगह लिखवा दी भी है कि वह इंद्रेश्वर हेल्प है बड़े-बड़े विज्ञापन बेबी किस तरह से नुकसान होगा लेकिन आमदनी का सबसे बड़ा जरिया भी सरकार का है तो रोक नहीं पायेगा क्योंकि नशा कभी भी लोगों के सिर चढ़कर बोलता है अगर आप रोक देंगे यार कोई भी सरकार आ जाए गिरीश को भोंकते देखिए कि निश्चित तौर पर एक बंदर और एक बेचैनी हो जाएगी और जिस तरह से आबादी पूरी आबादी में हम तो कहते हैं 30 से 40 50 पर सेंट कभी अस्सी परसेंट लोग इसमें कहीं न कहीं किसी न किसी रूप में कर सकते हैं जितने भी है सब इल्लीगल है लेकिन सब बहुत तेज चलता अब चाहे सिगरेट हो तंबाकू है अगर अनेक प्रकार की खैनी बनाने वाली कंपनियां बड़े स्क्रीन पर आ रही है और बहुत बड़ा प्रोजेक्ट के कई हजारों करोड़ का बिजनेस है इसमें 12 लाख करोड़ का बिजनेस चलाना है कैसे बड़े बिजनेस में जहां पर सरकार को सबसे ज्यादा टैक्स मिलती है तो ड्रामा करेगी भी दिखाएगी वर्ड लेवल पर की भैया देखी हम कर रहे हैं हम लोगों को मना भी कर रहे हैं कि मत कीजिए जहर है इसको भी लेकिन हेल्थ सर्विसेज में उसको करना सरकार के बस की बात नहीं है
Ek taraph se maango bhejana doosaree taraph logon ko mainne kaise mein jaana hai isaka sevan nahin karana chaahie kya sarakaar ke lie sirph tekst se sabase jyaada mahatvapoorn hai svaasthy aapakee baat to bilkul sahee sabase jyaada regular jaanate ho sarakaar ko jae stet gavarnament oy sentar gavarnament to aisee cheejon se milata jitane bhee tambaakoo beedee sigaret sharaab hai ab aap soch leejie ki koronaavaayaras mein jab sharaab kee dukaanen band ho gae to blaik maarketing hoga aur jis samay sabase pahale sarakaar ne sharaab kee dukaanen kholee to kitanee lambee lainen do 2 kilomeetar tak kee lain lag gaee aur log intajaar karate rahane vaalee usee tarah se tambaakoo hai sigaret hai jitanee bhee nishchit taur par isaka prodakshan sarakaar karavaatee hai isako laisens sarakaar detee hai aur us par jagah-jagah likhava dee bhee hai ki vah indreshvar help hai bade-bade vigyaapan bebee kis tarah se nukasaan hoga lekin aamadanee ka sabase bada jariya bhee sarakaar ka hai to rok nahin paayega kyonki nasha kabhee bhee logon ke sir chadhakar bolata hai agar aap rok denge yaar koee bhee sarakaar aa jae gireesh ko bhonkate dekhie ki nishchit taur par ek bandar aur ek bechainee ho jaegee aur jis tarah se aabaadee pooree aabaadee mein ham to kahate hain 30 se 40 50 par sent kabhee assee parasent log isamen kaheen na kaheen kisee na kisee roop mein kar sakate hain jitane bhee hai sab illeegal hai lekin sab bahut tej chalata ab chaahe sigaret ho tambaakoo hai agar anek prakaar kee khainee banaane vaalee kampaniyaan bade skreen par aa rahee hai aur bahut bada projekt ke kaee hajaaron karod ka bijanes hai isamen 12 laakh karod ka bijanes chalaana hai kaise bade bijanes mein jahaan par sarakaar ko sabase jyaada taiks milatee hai to draama karegee bhee dikhaegee vard leval par kee bhaiya dekhee ham kar rahe hain ham logon ko mana bhee kar rahe hain ki mat keejie jahar hai isako bhee lekin helth sarvisej mein usako karana sarakaar ke bas kee baat nahin hai

और जवाब सुनें

Bhavesh Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Bhavesh जी का जवाब
West Bengal India is Great
2:01
जैसे कि शराब के बोतल पर कुछ लिखा होता है कि शराब जो है वह पीना नहीं चाहिए हानिकारक होता है और साथी अभी लिख दिया जाता है कि आज ही जो है हम अंतिम पिएंगे मतलब लास्ट टुडे कुछ ऐसी कुछ सेटिंग शो रहता है मुझे अच्छे से याद नहीं है तो हम सब जानते हैं उसे खरीदते हैं पड़ता है ल कि वह काफी कम लोगों को मालूम होता है उसके बारे में लेकिन वह लिखा होता है कुछ ना कुछ तो आप मुझे बताइए कि जब उस्तुखुद्दुस से लिखा हुआ है यह हानिकारक है तो फिर भी उसे आदमी पीता है हर पुड़िया सिगरेट के पैकेट पर हर जगह यह लिखा होता कि तंबू का तमाकू जो है वह कैंसिल कर सकता है लोगों को लेकिन फिर भी उसे खाता है क्यों जब क्लीयरली लिखा हुआ है और यह सिर्फ लिखा हुआ ही नहीं अगर कोई कपट इंसान खाता है उसके लिए छवि बैठाई गई है पिक्चर दिया हुआ है कैंसर की पर फिर भी खाता है उसे तो सरकार क्या कर सकते इस पर सरकार को देखी जितनी सारी कंपनियां रहेंगे उतना फायदा होगा तो सरकार का भी चीज नहीं चाहेगा उनका मन नहीं है कि मैं यहां पर लोगों को बिल्कुल इसे नहीं छुपा सकता है कि से जो प्रॉब्लम होने का जो होता है वह आप लोगों के सामने चौकी से उसके बाद भी अगर लोग खाएंगे तो उसकी जिम्मेदारी उसकी आंख में और हम यही सोच कर खाते हैं कि चलो एक बार ट्राई कर लेते हैं दोबारा नहीं खाएंगे और फिर तेरे दिल का क्या मैं लत लग जाती है उसे छोड़ना मुश्किल नहीं करीब-करीब नमकीन होता है तो बड़ी बिजी है सिगरेट भेजिए जो भी किसी हम बेचैन भी फिर हम समझाएं भी तो कहां तक गई है मुझे लगता बिल्कुल भी सही नहीं है बकवास क्यों बकवास है क्योंकि जब जो बंदा एक बार पीना शुरु कर देगा उसे खाना शुरु कर देगा वह थोड़ी नहीं सकता है उसके लिए कुछ भी क्यों ना हो जाए अगर आप यह भी लिख देंगे कि कंटिन्यूज ओं से 1 साल खाएगा वह यहां से और तीन साले बचेगा उसके बाद वह मर जाएगा तब भी वह बंदा खाना नहीं छोड़ेगा इसलिए यह बकवास है
Jaise ki sharaab ke botal par kuchh likha hota hai ki sharaab jo hai vah peena nahin chaahie haanikaarak hota hai aur saathee abhee likh diya jaata hai ki aaj hee jo hai ham antim pienge matalab laast tude kuchh aisee kuchh seting sho rahata hai mujhe achchhe se yaad nahin hai to ham sab jaanate hain use khareedate hain padata hai la ki vah kaaphee kam logon ko maaloom hota hai usake baare mein lekin vah likha hota hai kuchh na kuchh to aap mujhe bataie ki jab ustukhuddus se likha hua hai yah haanikaarak hai to phir bhee use aadamee peeta hai har pudiya sigaret ke paiket par har jagah yah likha hota ki tamboo ka tamaakoo jo hai vah kainsil kar sakata hai logon ko lekin phir bhee use khaata hai kyon jab kleeyaralee likha hua hai aur yah sirph likha hua hee nahin agar koee kapat insaan khaata hai usake lie chhavi baithaee gaee hai pikchar diya hua hai kainsar kee par phir bhee khaata hai use to sarakaar kya kar sakate is par sarakaar ko dekhee jitanee saaree kampaniyaan rahenge utana phaayada hoga to sarakaar ka bhee cheej nahin chaahega unaka man nahin hai ki main yahaan par logon ko bilkul ise nahin chhupa sakata hai ki se jo problam hone ka jo hota hai vah aap logon ke saamane chaukee se usake baad bhee agar log khaenge to usakee jimmedaaree usakee aankh mein aur ham yahee soch kar khaate hain ki chalo ek baar traee kar lete hain dobaara nahin khaenge aur phir tere dil ka kya main lat lag jaatee hai use chhodana mushkil nahin kareeb-kareeb namakeen hota hai to badee bijee hai sigaret bhejie jo bhee kisee ham bechain bhee phir ham samajhaen bhee to kahaan tak gaee hai mujhe lagata bilkul bhee sahee nahin hai bakavaas kyon bakavaas hai kyonki jab jo banda ek baar peena shuru kar dega use khaana shuru kar dega vah thodee nahin sakata hai usake lie kuchh bhee kyon na ho jae agar aap yah bhee likh denge ki kantinyooj on se 1 saal khaega vah yahaan se aur teen saale bachega usake baad vah mar jaega tab bhee vah banda khaana nahin chhodega isalie yah bakavaas hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • तंबाकू कैसे बनती है, तंबाकू खाने के क्या नुकसान है, तंबाकू पर सरकार कितना टैक्स लगती है
URL copied to clipboard