#undefined

bolkar speaker

क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?

Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:02
हे भगवान आज आप का सवाल है कि क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है यह बिल्कुल बेरोजगारी जो है वह मतलब बहुत बड़ा सवाल खड़ा करती है अगर आप बेरोजगार हैं तो आपके घर परिवार आपका खुद का मन आप की आस पड़ोस हर एक इंसान आपको ताना मसला देते हैं और आप भी यह समझते हैं कि मैं बेरोजगार हूं ना ही मैं कोई जरूरत पूरा कर रहा हूं घर पर मैं बैठकर बस खा रहा हूं ऐसे सब बहुत फील होता है तो इतना सारे जगह से सुन करताना भले आपके परिवार को भी कदर नहीं भी बोलते हैं पर आप को पता होता है कि नहीं घर में जरूरत है अभी मेरे कमाई कि मैं कुछ दो चार पैसा लाओ फिर भी मैं बेरोजगार हूं तू कि बहुत बड़ा मजाक एक सवाल खड़ा करता है तो इस वजह से इंसान मानसिक तनाव में आ जाता है क्योंकि छोटी मोटी नहीं होती जॉब्लेस होना या फिर आप को रोजगार नहीं मिल रहा है या फिर पढ़ने लिखने के बाद आपको समझ नहीं आ रहा इतना पैसा खर्च आपको जवाब नहीं मिल रहा तो बहुत बहुत टेंशन होता है कि कैसे किसी को फेस करेंगे क्या खुद की जरूरत को कैसे पूरा करेंगे कैसे घर परिवार में मदद करेंगे तो यह सब एक बहुत बड़ा प्रॉब्लम हो जाता है जब जवाब नहीं मिलता तो मेरे हिसाब से मानसिक तनाव होने की होता है इसमें यह नहीं मैं कहूंगी कि जवाब नहीं मिल रहा है फिर भी आप हंसी खुशी से रही है क्या कोशिश कीजिए जितना जो भी काम में ले जाए वह छोटा काम में ले बड़ा काम में ले अखिलेश दुबे पहले काम में लेना वह काम कर लेना चाहिए उसके बाद भले ही कम पैसा हो काम को करते कोई बड़े काम के बारे में कुछ बिजनेस के बारे में ऐसा कोई भी व्यापार छोटा-मोटा व्यापार उसकी काम करते ही सोचना चाहिए था कि कुछ पैसे भी मिलते रहे और अखिलेश आप कुछ सोच भी रहे हैं इस तरह से ठीक रहता है
He bhagavaan aaj aap ka savaal hai ki kya berojagaar hone kee vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai yah bilkul berojagaaree jo hai vah matalab bahut bada savaal khada karatee hai agar aap berojagaar hain to aapake ghar parivaar aapaka khud ka man aap kee aas pados har ek insaan aapako taana masala dete hain aur aap bhee yah samajhate hain ki main berojagaar hoon na hee main koee jaroorat poora kar raha hoon ghar par main baithakar bas kha raha hoon aise sab bahut pheel hota hai to itana saare jagah se sun karataana bhale aapake parivaar ko bhee kadar nahin bhee bolate hain par aap ko pata hota hai ki nahin ghar mein jaroorat hai abhee mere kamaee ki main kuchh do chaar paisa lao phir bhee main berojagaar hoon too ki bahut bada majaak ek savaal khada karata hai to is vajah se insaan maanasik tanaav mein aa jaata hai kyonki chhotee motee nahin hotee jobles hona ya phir aap ko rojagaar nahin mil raha hai ya phir padhane likhane ke baad aapako samajh nahin aa raha itana paisa kharch aapako javaab nahin mil raha to bahut bahut tenshan hota hai ki kaise kisee ko phes karenge kya khud kee jaroorat ko kaise poora karenge kaise ghar parivaar mein madad karenge to yah sab ek bahut bada problam ho jaata hai jab javaab nahin milata to mere hisaab se maanasik tanaav hone kee hota hai isamen yah nahin main kahoongee ki javaab nahin mil raha hai phir bhee aap hansee khushee se rahee hai kya koshish keejie jitana jo bhee kaam mein le jae vah chhota kaam mein le bada kaam mein le akhilesh dube pahale kaam mein lena vah kaam kar lena chaahie usake baad bhale hee kam paisa ho kaam ko karate koee bade kaam ke baare mein kuchh bijanes ke baare mein aisa koee bhee vyaapaar chhota-mota vyaapaar usakee kaam karate hee sochana chaahie tha ki kuchh paise bhee milate rahe aur akhilesh aap kuchh soch bhee rahe hain is tarah se theek rahata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
0:57
मस्तान आप का सवाल है कि क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है जी हां काफी हद तक ए बात सही है क्योंकि जब कोई व्यक्ति बेरोजगार हो जाता है तो उसके सामने खाने कमाने की चिंता सताने लगी जाती है उसके सामने काफी सारी समस्याएं खड़ी हो जाती है कि वह अपना भरण-पोषण कैसे करेगा या अपने परिवार का भरण पोषण कैसे करेगा आगे वह कैसे कमाए गा कैसे खाएगा क्या करेगा कुछ समझ नहीं आता और उस समय काफी हद तक मानसिक तनाव में इंसान पहुंचाता है यह परिस्थितियां जीवन में हर किसी के साथ होती हैं और बड़े दुख की बात है कि शायद मेरे साथ भी एक दो बार हो चुकी है कि जब मैं काम नहीं कर रहा था काम छूट गया था और मैं बेरोजगार था तो उस समय मेरे सामने भी पोजीशन हो गई थी मुसला रखी है हिम्मत न हारी है प्रभु ईश्वर को याद रखती है भगवान सब ठीक कर देता है धन्यवाद
Mastaan aap ka savaal hai ki kya berojagaar hone kee vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai jee haan kaaphee had tak e baat sahee hai kyonki jab koee vyakti berojagaar ho jaata hai to usake saamane khaane kamaane kee chinta sataane lagee jaatee hai usake saamane kaaphee saaree samasyaen khadee ho jaatee hai ki vah apana bharan-poshan kaise karega ya apane parivaar ka bharan poshan kaise karega aage vah kaise kamae ga kaise khaega kya karega kuchh samajh nahin aata aur us samay kaaphee had tak maanasik tanaav mein insaan pahunchaata hai yah paristhitiyaan jeevan mein har kisee ke saath hotee hain aur bade dukh kee baat hai ki shaayad mere saath bhee ek do baar ho chukee hai ki jab main kaam nahin kar raha tha kaam chhoot gaya tha aur main berojagaar tha to us samay mere saamane bhee pojeeshan ho gaee thee musala rakhee hai himmat na haaree hai prabhu eeshvar ko yaad rakhatee hai bhagavaan sab theek kar deta hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:15
सवाल ये है कि क्या बेरोजगार होने की वजह से किसान मानसिक तनाव में आ सकता है तो जी हां बिल्कुल हालांकि ऐसा सब के साथ नहीं होता लेकिन कई लोग ऐसे होते हैं जो मानसिक तनाव में आ जाते हैं तो इस क्वेश्चन में हमें बिल्कुल भी हार नहीं माननी चाहिए और जॉब के लिए अप्लाई लगातार करते रहना चाहिए हर कंपनी में अप्लाई करना चाहिए और बिल्कुल भी हिम्मत ना हारे क्योंकि यह जिंदगी है जिंदगी में तो यह सब चलता ही रहता है आपको कई ऐसे उदाहरण मिल जाएंगे जिन्होंने और इंटरव्यू में कुछ खास नहीं किया और बार-बार उन्हें रिजेक्शन मिला उसके बाद उन्होंने अपनी गलतियों से सीख कर एक अच्छे बड़ी से बड़ी अच्छी से अच्छी जॉब हासिल की और कई ऐसे भी एग्जांपल है जिन्हें इंटरव्यू में जॉब बजे ने कितने इंटरव्यू में दिया लेकिन उन्हें उन्हें जॉब नहीं मिली और फिर बाद में बाद में उन्हें उन्होंने अपना एक बिजनेस खड़ा किया और एक बहुत ही अच्छा नाम हासिल किया और काफी ऊंचाई अच्छी हुई और अपने काम में सफलता भी हासिल तो आप बिल्कुल भी उदास मत होइए आप मेहनत करेंगे तो आप बिल्कुल आपको बिल्कुल सफलता मिलेगी इतिहास गवाह है जीवन का चक्र सबके लिए बदलता है स्वयं पर विश्वास रखिए और मेहनत कीजिए आपको सफलता जरूर मिलेगी
Savaal ye hai ki kya berojagaar hone kee vajah se kisaan maanasik tanaav mein aa sakata hai to jee haan bilkul haalaanki aisa sab ke saath nahin hota lekin kaee log aise hote hain jo maanasik tanaav mein aa jaate hain to is kveshchan mein hamen bilkul bhee haar nahin maananee chaahie aur job ke lie aplaee lagaataar karate rahana chaahie har kampanee mein aplaee karana chaahie aur bilkul bhee himmat na haare kyonki yah jindagee hai jindagee mein to yah sab chalata hee rahata hai aapako kaee aise udaaharan mil jaenge jinhonne aur intaravyoo mein kuchh khaas nahin kiya aur baar-baar unhen rijekshan mila usake baad unhonne apanee galatiyon se seekh kar ek achchhe badee se badee achchhee se achchhee job haasil kee aur kaee aise bhee egjaampal hai jinhen intaravyoo mein job baje ne kitane intaravyoo mein diya lekin unhen unhen job nahin milee aur phir baad mein baad mein unhen unhonne apana ek bijanes khada kiya aur ek bahut hee achchha naam haasil kiya aur kaaphee oonchaee achchhee huee aur apane kaam mein saphalata bhee haasil to aap bilkul bhee udaas mat hoie aap mehanat karenge to aap bilkul aapako bilkul saphalata milegee itihaas gavaah hai jeevan ka chakr sabake lie badalata hai svayan par vishvaas rakhie aur mehanat keejie aapako saphalata jaroor milegee

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:26
अबे साले क्या बेरोजगार होने की वजह से इसे की मात्रा में आ सकता है जी हां बिल्कुल आ सकता है यदि व्यक्ति के ऊपर से घर परिवार की ओर से बच्चों की जिम्मेदारी है और ऐसे व्यक्ति के पास में यदि रोजगार नहीं है तो मानसिक तनाव बहुत ज्यादा होगा इस बारे में लेकर के कि कितने पैसे बैंक से कब तक कि वह चलने वाली है और कब जैसे बच्चों का भरण पोषण होने वाला है कैसे खान-पान चलेगा इन सब चीजों को लेकर के स्ट्रेस बहुत ज्यादा होता है आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Abe saale kya berojagaar hone kee vajah se ise kee maatra mein aa sakata hai jee haan bilkul aa sakata hai yadi vyakti ke oopar se ghar parivaar kee or se bachchon kee jimmedaaree hai aur aise vyakti ke paas mein yadi rojagaar nahin hai to maanasik tanaav bahut jyaada hoga is baare mein lekar ke ki kitane paise baink se kab tak ki vah chalane vaalee hai aur kab jaise bachchon ka bharan poshan hone vaala hai kaise khaan-paan chalega in sab cheejon ko lekar ke stres bahut jyaada hota hai aapaka din shubh rahe dhanyavaad

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:36
प्यारी होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है और आ ही जाता है कभी जो इंसान पर मंथली रिटर्न था वही कमाता है अचानक से उसका बैलेंस मदस्सरी जीरो हो जाए उसको 100 घंटे लगेगा वह अपनी शेविंग से कोशिश कर सकते पर एक लंबे टाइम तक अपने घर का खर्चा नहीं चला सके वह सिंगल खर्चा भी चलाता है तो नहीं चला पाएगा क्योंकि आज के टाइम में हर लोग जॉब के साथ घूमना फिरना सब चीजें रखते हैं वह घूमना पड़ेगा नहीं तो वह बोर हो जाएगा डिप्रेशन में चला जाएगा तो बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान में मानसिक तनाव आ ही जाता है
Pyaaree hone kee vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai aur aa hee jaata hai kabhee jo insaan par manthalee ritarn tha vahee kamaata hai achaanak se usaka bailens madassaree jeero ho jae usako 100 ghante lagega vah apanee sheving se koshish kar sakate par ek lambe taim tak apane ghar ka kharcha nahin chala sake vah singal kharcha bhee chalaata hai to nahin chala paega kyonki aaj ke taim mein har log job ke saath ghoomana phirana sab cheejen rakhate hain vah ghoomana padega nahin to vah bor ho jaega dipreshan mein chala jaega to berojagaar hone kee vajah se ek insaan mein maanasik tanaav aa hee jaata hai

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Priyal dawar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Priyal जी का जवाब
Future Doctor
1:12
जो पूछा गया है क्या बेरोजगार होने की वजह से इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है तो मेरा मानना है कि ऐसा बिल्कुल हो सकता है जैसे कि कहा जाता है कि खाली दिमाग जो होता है वह शैतान का घर होता है तू जब हम बेरोजगार होते हैं या कोई व्यक्ति बेरोजगार होता है तो वह ज्यादा से ज्यादा टाइम खाली ही होता है कुछ काम नहीं कर रहा होता है जिससे कि वह तनावग्रस्त हो जाता है वह सोचता रहता है कि उसका क्या काम करें क्या नहीं करें कौन सी जॉब के लिए अप्लाई करें ऊपर से फैमिली का भी प्रेशर बढ़ने ही लगता है क्योंकि आप बेरोजगार होते हो या तो आपने पढ़ाई की होती है तो आपको ऐसा फील होने लगता है अपने आप को कोसने लगते हो कि मुझे जॉब क्यों नहीं मिल रही है मैं क्या करूं क्या नहीं करूं उस से मानसिक तनाव बढ़ जाता है तो ऐसी कंडीशन में क्या करना चाहिए कि कुछ ना कुछ काम करते रहना चाहिए कुछ ना कुछ अपने आप को इनक्रीस रखना चाहिए हर वक्त जॉब कॉस्मेटिक को ढूंढते रहना चाहिए भले वह छोटी क्यों ना हो पर कुछ ना कुछ ढूंढते रहना चाहिए अपने आप को इनक्रीस रखना चाहिए जिससे क्या होता है हमारे मानसिक तनाव कम होता है और हमें फ्यूचर की अप्वाइंतीस दिखती है तो हम थोड़ा सा टेंशन से कम होने लगते हैं तो जी हां ऐसा होता है कि मैं बेरोजगार जो व्यक्ति होता है वह मानसिक तनाव में आने लगता है
Jo poochha gaya hai kya berojagaar hone kee vajah se insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai to mera maanana hai ki aisa bilkul ho sakata hai jaise ki kaha jaata hai ki khaalee dimaag jo hota hai vah shaitaan ka ghar hota hai too jab ham berojagaar hote hain ya koee vyakti berojagaar hota hai to vah jyaada se jyaada taim khaalee hee hota hai kuchh kaam nahin kar raha hota hai jisase ki vah tanaavagrast ho jaata hai vah sochata rahata hai ki usaka kya kaam karen kya nahin karen kaun see job ke lie aplaee karen oopar se phaimilee ka bhee preshar badhane hee lagata hai kyonki aap berojagaar hote ho ya to aapane padhaee kee hotee hai to aapako aisa pheel hone lagata hai apane aap ko kosane lagate ho ki mujhe job kyon nahin mil rahee hai main kya karoon kya nahin karoon us se maanasik tanaav badh jaata hai to aisee kandeeshan mein kya karana chaahie ki kuchh na kuchh kaam karate rahana chaahie kuchh na kuchh apane aap ko inakrees rakhana chaahie har vakt job kosmetik ko dhoondhate rahana chaahie bhale vah chhotee kyon na ho par kuchh na kuchh dhoondhate rahana chaahie apane aap ko inakrees rakhana chaahie jisase kya hota hai hamaare maanasik tanaav kam hota hai aur hamen phyoochar kee apvaintees dikhatee hai to ham thoda sa tenshan se kam hone lagate hain to jee haan aisa hota hai ki main berojagaar jo vyakti hota hai vah maanasik tanaav mein aane lagata hai

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
Unknown
1:03
क्या बोलो जी कार होने की वजह से एक व्यक्ति मानसिक तनाव में आ जाता है बिल्कुल ऐसा संभव है अगर कोई भी व्यक्ति मानसिक तनाव में आ रहा है तो उसका एक प्रमुख कारण यह भी होता है कि भाग बेरोजगार हो ऐसा होता है कि कई बार हम हमारे जो ग्रुप होते हैं हम ग्रुप में रहना पसंद करते हैं तो हमारे दोस्त होते हैं वह दोस्त क्या होते हैं उनकी नौकरी लग गई होती है तो आप अभी तैयारी कर रहे हैं बेरोजगारी फील करते हैं आप उनको देखते हैं तो आपको लगेगा कि कौन कितना आगे बढ़ गया है वह भी कर रहा है प्राइवेट जॉब कर रहे लेकिन वह काफी आगे बढ़ गया है मैं भी प्राइवेट सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहा हूं फिर मुझे सरकारी नौकरी मिल नहीं रही है तो हम तो दूसरे से कंपेयर करने लगेंगे तो हमारा जीना मुश्किल हो जाएगा खासतौर पर जब बेरोजगार है तो हमें जो भी हम न कर रहे हैं उसी पर फोकस करें अपने से मतलब रखें दूसरों को देख जलन ना करें तो इस तरह से हम मानसिक तनाव से बचे रहेंगे धन्यवाद
Kya bolo jee kaar hone kee vajah se ek vyakti maanasik tanaav mein aa jaata hai bilkul aisa sambhav hai agar koee bhee vyakti maanasik tanaav mein aa raha hai to usaka ek pramukh kaaran yah bhee hota hai ki bhaag berojagaar ho aisa hota hai ki kaee baar ham hamaare jo grup hote hain ham grup mein rahana pasand karate hain to hamaare dost hote hain vah dost kya hote hain unakee naukaree lag gaee hotee hai to aap abhee taiyaaree kar rahe hain berojagaaree pheel karate hain aap unako dekhate hain to aapako lagega ki kaun kitana aage badh gaya hai vah bhee kar raha hai praivet job kar rahe lekin vah kaaphee aage badh gaya hai main bhee praivet sarakaaree naukaree kee taiyaaree kar raha hoon phir mujhe sarakaaree naukaree mil nahin rahee hai to ham to doosare se kampeyar karane lagenge to hamaara jeena mushkil ho jaega khaasataur par jab berojagaar hai to hamen jo bhee ham na kar rahe hain usee par phokas karen apane se matalab rakhen doosaron ko dekh jalan na karen to is tarah se ham maanasik tanaav se bache rahenge dhanyavaad

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:30
जी आप का सवाल है कि क्या है बेरोजगारों की वजह से युक्त इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है तो बिल्कुल आ सकता है क्योंकि वह ज्यादा वक्त है सोच नहीं करेगा और ज्यादा यह सोचेगा कि अपने परिवार के बारे में बच्चों के बारे में उनको क्या खिलाएगा खिलाएगा इसका धीरे-धीरे वे मानसिक तनाव में जाता रहता है
Jee aap ka savaal hai ki kya hai berojagaaron kee vajah se yukt insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai to bilkul aa sakata hai kyonki vah jyaada vakt hai soch nahin karega aur jyaada yah sochega ki apane parivaar ke baare mein bachchon ke baare mein unako kya khilaega khilaega isaka dheere-dheere ve maanasik tanaav mein jaata rahata hai

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
itishree Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए itishree जी का जवाब
Unknown
1:55
प्रश्न है क्या बेरोजगार होने के वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है बिल्कुल भी आ सकता है क्योंकि लोग कहते हैं कि जो इंसान के पास विशेषकर लड़के लोग के पास पॉकेट में अगर पैसा नहीं होता है तो वह बहुत ही टेंशन में होता है क्योंकि वही घर को और ज्यादातर सबके घर में मुख्य होती है घर चलाने के लिए लड़की भी बराबर होते हैं पर लड़कों करके पिकपॉकेट पर पैसा रहना बहुत ही जरूरत होती है क्योंकि घर को एक लड़का ही संभालती है लड़की तो आज है कल वह ससुराल चली जाएगी पर लड़का आजकल का जो कि बेरोजगार सब होते हैं ज्यादातर युवाओं जो बेरोजगार में घर में बैठते हैं तो ज्यादातर मानसिक तनाव में आते हैं पैसों के लिए खराब का रास्ता अपनाते हैं चोरी डकायती मर्डर जैसी ऐसे कार्य में लिप्त होता है इसलिए आप बिल्कुल भी नौकरी के लिए इंतजार मत करिए क्योंकि आपको पैसा कमाने के बहुत सारा रास्ता आपके पास पड़ा है आप छोटे-मोटे बिजनेस कर सकते हैं जिससे आपको तरक्की पा सकते हैं ऊपर बहुत ही जान सकते हैं इसलिए भगवान आप को सही सलामत हाथ दो हाथ दो पैर दिया है और हम किसके दिया है जो कि आप सोच समझकर अपने घर को आप खुद का है तो वह आपके घर को आप खुद चला सकते हैं आपके परिवार को चला सकते हैं तो पहले आप छोटे हो या बड़ा काम कोई भी छोटा बड़ा काम नहीं होता है आपके सक्षम में आपके शिक्षा में जो भी काम है अब वह काम करें इस मानसिकता अगर समय होता तो आज बेरोजगार युवाओं में बेरोजगार होकर घर में नहीं बैठती और मानसिक तनाव में वह चले जाते हैं
Prashn hai kya berojagaar hone ke vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai bilkul bhee aa sakata hai kyonki log kahate hain ki jo insaan ke paas visheshakar ladake log ke paas poket mein agar paisa nahin hota hai to vah bahut hee tenshan mein hota hai kyonki vahee ghar ko aur jyaadaatar sabake ghar mein mukhy hotee hai ghar chalaane ke lie ladakee bhee baraabar hote hain par ladakon karake pikapoket par paisa rahana bahut hee jaroorat hotee hai kyonki ghar ko ek ladaka hee sambhaalatee hai ladakee to aaj hai kal vah sasuraal chalee jaegee par ladaka aajakal ka jo ki berojagaar sab hote hain jyaadaatar yuvaon jo berojagaar mein ghar mein baithate hain to jyaadaatar maanasik tanaav mein aate hain paison ke lie kharaab ka raasta apanaate hain choree dakaayatee mardar jaisee aise kaary mein lipt hota hai isalie aap bilkul bhee naukaree ke lie intajaar mat karie kyonki aapako paisa kamaane ke bahut saara raasta aapake paas pada hai aap chhote-mote bijanes kar sakate hain jisase aapako tarakkee pa sakate hain oopar bahut hee jaan sakate hain isalie bhagavaan aap ko sahee salaamat haath do haath do pair diya hai aur ham kisake diya hai jo ki aap soch samajhakar apane ghar ko aap khud ka hai to vah aapake ghar ko aap khud chala sakate hain aapake parivaar ko chala sakate hain to pahale aap chhote ho ya bada kaam koee bhee chhota bada kaam nahin hota hai aapake saksham mein aapake shiksha mein jo bhee kaam hai ab vah kaam karen is maanasikata agar samay hota to aaj berojagaar yuvaon mein berojagaar hokar ghar mein nahin baithatee aur maanasik tanaav mein vah chale jaate hain

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:22
बिल्कुल सही बात है क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है जब एक आदमी बेरोजगार है उसको कार्य करने का प्रयास करता है लेकिन से काम नहीं मिलता उसे लोग काम नहीं देते हैं अपने घर परिवार का संचालन करने के लिए उसके पास अर्थ की कोई व्यवस्था नहीं है तो वह डिप्रेशन में आ जाता कि मैं आखिरकार करूं क्या लेकिन जब वह प्रयास करता है उसको कार मिलते हैं तो धीरे-धीरे उसकी स्थितियां बदल जाती है जो परिस्थितियां होती है यह तो आप पढ़े लिखे हैं आप शर्म नहीं करना चाहते हैं अगर नहीं कुछ है तो परिस्थितियों बस आप कहीं लेबर का भी काम करते हैं पुलिसगिरी का भी काम कर सकते हैं छोटे-मोटे भी कार्य कर सकते हैं आप अपनी पढ़ाई और देवता को किनारे उठाकर कर दीजिए क्योंकि समाज में हर तरह के लोग होते हैं अगर आप विद्वान और विद्वानों के बीच में अगर आप जाएंगे तो हो सकता है कि वहां भी आपको सम्मान मिले क्योंकि गरीब है गरीब का लोग सम्मान विजेता होने के बाद भी नहीं करते हैं इसलिए जब धन की कमी हो जाती है और काम नहीं मिलता भाई को शर्म नहीं मिलता और हम बेरोजगार हो जाते हैं और उस रोजगार का किसी हमारी विद्युत अगर किसी को लाभ नहीं मिलता है और नाम किसी को लाभ दे पाते हैं और हमारे अंदर वह सहनशक्ति नहीं हो जाती कि हम आगे अपने आप को बड़ा सके तो ऐसा भी आदमी डिप्रेशन जाता है डिप्रेशन यह दूसरा या अपने उद्देश्य की पूर्ति न कर पाने के कारण भी आदमी डिप्रेशन में चला जाता है
Bilkul sahee baat hai kya berojagaar hone kee vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai jab ek aadamee berojagaar hai usako kaary karane ka prayaas karata hai lekin se kaam nahin milata use log kaam nahin dete hain apane ghar parivaar ka sanchaalan karane ke lie usake paas arth kee koee vyavastha nahin hai to vah dipreshan mein aa jaata ki main aakhirakaar karoon kya lekin jab vah prayaas karata hai usako kaar milate hain to dheere-dheere usakee sthitiyaan badal jaatee hai jo paristhitiyaan hotee hai yah to aap padhe likhe hain aap sharm nahin karana chaahate hain agar nahin kuchh hai to paristhitiyon bas aap kaheen lebar ka bhee kaam karate hain pulisagiree ka bhee kaam kar sakate hain chhote-mote bhee kaary kar sakate hain aap apanee padhaee aur devata ko kinaare uthaakar kar deejie kyonki samaaj mein har tarah ke log hote hain agar aap vidvaan aur vidvaanon ke beech mein agar aap jaenge to ho sakata hai ki vahaan bhee aapako sammaan mile kyonki gareeb hai gareeb ka log sammaan vijeta hone ke baad bhee nahin karate hain isalie jab dhan kee kamee ho jaatee hai aur kaam nahin milata bhaee ko sharm nahin milata aur ham berojagaar ho jaate hain aur us rojagaar ka kisee hamaaree vidyut agar kisee ko laabh nahin milata hai aur naam kisee ko laabh de paate hain aur hamaare andar vah sahanashakti nahin ho jaatee ki ham aage apane aap ko bada sake to aisa bhee aadamee dipreshan jaata hai dipreshan yah doosara ya apane uddeshy kee poorti na kar paane ke kaaran bhee aadamee dipreshan mein chala jaata hai

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:33
नमस्कार दोस्तों यूज़र ने पूछा है क्या बेरोजगार होने की वजह से इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है देखिए काफी हद तक यह बात सही है कि जब इंसान बेरोजगार होता है तो बहुत ही चीजों के बारे में व्यर्थ ही सोचना शुरु कर देता है देश की आवश्यकता है जो उसकी फैमिली की आवश्यकताएं पूरी नहीं हो पाती हैं जिसके कारण वह बहुत सी चीजों को सूचना शुरू कर देता है वही चीज का अवधारणा बनाना शुरु कर देता है और अपने आप को सबसे अलग करना शुरू कर देता है जब वह दूसरों इंसानों को देखता है कि उसके पास अच्छी नौकरी है अच्छा व्यवसाय है अच्छी आमदनी है हर समस्या हर समस्याओं को ठीक से कर पा रहा है हर चीजों को पूरे कर पा रहा अपनी जरूरतों को पूरी कर रहा है तो उसकी वजह से कहीं ना कहीं भी इंसान को होती है और अपने आप को अलग-थलग करने का वैसे वह बिल्कुल मानसिक तनाव में आना शुरू हो जाता है और गलत चीजों के बारे में सोचना शुरु कर देता है और इन्हीं वजह से वह मानसिक रूप से ब्रो का शिकार होना शुरू हो जाता है जो कि एक बहुत ही समस्या की समस्या वाली बात है तो बिल्कुल सही बात है कि अगर आप बेरोजगार हैं तो हो सकता काव्या तक आप मानसिक रूप से मानसिक रोग से मैं मानसिक रूप से बीमार हो सकते हैं अगर आपका मानसिक संतुलन वो स्ट्रांग नहीं तो बिल्कुल सही है बेरोजगारी जब किसी वजह से भी इंसान के मानसिक रोगी होने का कारण बन सकते हैं आशा करता हूं आपको आपके सवाल का जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Namaskaar doston yoozar ne poochha hai kya berojagaar hone kee vajah se insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai dekhie kaaphee had tak yah baat sahee hai ki jab insaan berojagaar hota hai to bahut hee cheejon ke baare mein vyarth hee sochana shuru kar deta hai desh kee aavashyakata hai jo usakee phaimilee kee aavashyakataen pooree nahin ho paatee hain jisake kaaran vah bahut see cheejon ko soochana shuroo kar deta hai vahee cheej ka avadhaarana banaana shuru kar deta hai aur apane aap ko sabase alag karana shuroo kar deta hai jab vah doosaron insaanon ko dekhata hai ki usake paas achchhee naukaree hai achchha vyavasaay hai achchhee aamadanee hai har samasya har samasyaon ko theek se kar pa raha hai har cheejon ko poore kar pa raha apanee jarooraton ko pooree kar raha hai to usakee vajah se kaheen na kaheen bhee insaan ko hotee hai aur apane aap ko alag-thalag karane ka vaise vah bilkul maanasik tanaav mein aana shuroo ho jaata hai aur galat cheejon ke baare mein sochana shuru kar deta hai aur inheen vajah se vah maanasik roop se bro ka shikaar hona shuroo ho jaata hai jo ki ek bahut hee samasya kee samasya vaalee baat hai to bilkul sahee baat hai ki agar aap berojagaar hain to ho sakata kaavya tak aap maanasik roop se maanasik rog se main maanasik roop se beemaar ho sakate hain agar aapaka maanasik santulan vo straang nahin to bilkul sahee hai berojagaaree jab kisee vajah se bhee insaan ke maanasik rogee hone ka kaaran ban sakate hain aasha karata hoon aapako aapake savaal ka javaab mil gaya hoga laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Aditya Dangayach  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Aditya जी का जवाब
Student
2:06
जानना चाहता है कि क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है तो देखिए सकते कि एक बेरोजगार होने की वजह से यह किंतु मानसिक तनाव में आ सकता है इसलिए देखता है कि रोजगारी का मतलब समझते हैं कि वास्तव में बेरोजगारी होती है कि बेरोजगारी करने को कुछ नहीं है मैं घर पर खाली बैठा हुआ है मैं कहीं भी कुछ काम नहीं कर रहा था इसकी वजह से उसे पैसा मिले तथा उसकी जिंदगी आगे चल पाए वह अपना पैसा किसी और से ले रहा है अभी कुछ काम नहीं कर रहे हम तो सो गए अभी किसी और से पैसे लेने पढ़ रहे हो जिंदगी चलाने के लिए हम कुछ हमारे दिमाग में किस प्रकार की चीजें कर सकती है जिसकी वजह से हमें काफी ज्यादा एक्साइटेड होती है समाज का प्रचार भी होता है कि यदि आप इतने बड़े हो गए आपके कब करोगे कपूर अपनी माता यदि आप मेरी मर्जी तो आप अपने लिए कुछ ना कुछ नौकरी जरूर की थी हो सकता है कि आपको नौकरी करते वक्त थोड़ा कम पैसा भेजना है लेकिन इतना पैसा प्यार करते हो उससे कम पैसा मिला बैठे हैं नौकरी करना हो सकता है आप कुछ काम कीजिए तब तक इन सरकारी एग्जाम करेगा तब समझ में आ रहा होगा मेरा समझ में आया होगा इसी प्रकार मुझसे और सवाल के जवाब पाने के लिए मुझे सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Jaanana chaahata hai ki kya berojagaar hone kee vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai to dekhie sakate ki ek berojagaar hone kee vajah se yah kintu maanasik tanaav mein aa sakata hai isalie dekhata hai ki rojagaaree ka matalab samajhate hain ki vaastav mein berojagaaree hotee hai ki berojagaaree karane ko kuchh nahin hai main ghar par khaalee baitha hua hai main kaheen bhee kuchh kaam nahin kar raha tha isakee vajah se use paisa mile tatha usakee jindagee aage chal pae vah apana paisa kisee aur se le raha hai abhee kuchh kaam nahin kar rahe ham to so gae abhee kisee aur se paise lene padh rahe ho jindagee chalaane ke lie ham kuchh hamaare dimaag mein kis prakaar kee cheejen kar sakatee hai jisakee vajah se hamen kaaphee jyaada eksaited hotee hai samaaj ka prachaar bhee hota hai ki yadi aap itane bade ho gae aapake kab karoge kapoor apanee maata yadi aap meree marjee to aap apane lie kuchh na kuchh naukaree jaroor kee thee ho sakata hai ki aapako naukaree karate vakt thoda kam paisa bhejana hai lekin itana paisa pyaar karate ho usase kam paisa mila baithe hain naukaree karana ho sakata hai aap kuchh kaam keejie tab tak in sarakaaree egjaam karega tab samajh mein aa raha hoga mera samajh mein aaya hoga isee prakaar mujhase aur savaal ke javaab paane ke lie mujhe sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:11
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका आपका प्रश्न है क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है जी आप फ्रेंड से बात बिल्कुल सच है अगर कोई व्यक्ति बेरोजगार होता है तुम्हें मानसिक तनाव में आ जाता है उसे सब कुछ बेकार लगने लगता है और अगर उसकी कमाने की उम्र है अगर वह बेरोजगार है तो वह अपने आप को अपने आप को परिवार के ऊपर मुझे लगता है और बेरोजगार होने से कोई भी इंसान होता है उसकी शादी भी नहीं होती है क्योंकि कोई भी मां बाप की लड़की की उसी शादी करेंगे जो रोजगार में हो जो कोई काम धंधा करता हो बेरोजगार व्यक्ति को कोई अपनी लड़की भी नहीं देना चाहता इसलिए उस इंसान की शादी भी नहीं होती है और समाज में उसकी इज्जत भी नहीं होती है बेरोजगार होने की वजह से यहां वहां पर निठल्ला बैठा रहता है तो इसीलिए बेरोजगार होने से इंसान बिल्कुल मानसिक तनाव में आ सकता है यह बिल्कुल सच बात है तो बेरोजगार होने की वजह से और जैसे कि हम हम लोग कहीं भी जा आते हैं तो हमें तानी भी सुनने पड़ते हैं लोगों के लिए तो कुछ नहीं करता है तो बेरोजगार है तो इस तरह से आता है धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka aapaka prashn hai kya berojagaar hone kee vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai jee aap phrend se baat bilkul sach hai agar koee vyakti berojagaar hota hai tumhen maanasik tanaav mein aa jaata hai use sab kuchh bekaar lagane lagata hai aur agar usakee kamaane kee umr hai agar vah berojagaar hai to vah apane aap ko apane aap ko parivaar ke oopar mujhe lagata hai aur berojagaar hone se koee bhee insaan hota hai usakee shaadee bhee nahin hotee hai kyonki koee bhee maan baap kee ladakee kee usee shaadee karenge jo rojagaar mein ho jo koee kaam dhandha karata ho berojagaar vyakti ko koee apanee ladakee bhee nahin dena chaahata isalie us insaan kee shaadee bhee nahin hotee hai aur samaaj mein usakee ijjat bhee nahin hotee hai berojagaar hone kee vajah se yahaan vahaan par nithalla baitha rahata hai to iseelie berojagaar hone se insaan bilkul maanasik tanaav mein aa sakata hai yah bilkul sach baat hai to berojagaar hone kee vajah se aur jaise ki ham ham log kaheen bhee ja aate hain to hamen taanee bhee sunane padate hain logon ke lie to kuchh nahin karata hai to berojagaar hai to is tarah se aata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
1:26
तू जी हां अगर कोई इंसान बेरोजगार है और काफी समय से बेरोजगार है उसके उसको उस बात की चिंता है कि वह पुरस्कार है तो जरूर मानसिक तनाव जा सकता है मानसिक तनाव ऐसा नहीं आती बिल्कुल कुछ विशेष की वजह से ही होता है मानसिक तनाव एक ऐसी चीज है जिसके बारे में अभी साइंटिस्ट और डॉक्टर से ज्यादा कुछ नहीं बता सकते हैं कि यह कैसे होता है कैसे ठीक किया जा सकता है कोई एक कारण नहीं होता कि यह क्यों होता है बस कुछ चीजें होती हैं इंसानों की लाइफ में आप किसी की लाइफ में हो जाती है जिसको सोच सोच के वह काफी दुखी हो जाता है उसे दुखी नहीं कहेंगे कुछ लोग डिप्रैस हो जाते हैं जो इस एक्सट्रीम लेवल होता है दुखी होने का एंजाइटी होती है किसी की तो एक प्रकाश जब आपको मानसिक तनाव होते तो ऐसा नहीं है कि आप सो जाओगे तो सही हो जाएगा मानसिक तनाव काफी समय तक आपके साथ रहता और आपकी आम जिंदगी में रोजमर्रा की जिंदगी में भी दखल देने लगता है तो इस चीज को नजरअंदाज भी नहीं किया जा सकता जवाब बेरोजगारों तो आपको एक टेंशन है जब मैं कैसे करूंगा कैसे जिऊंगा क्योंकि ढूंढ लेकिन हमारी आजकल की लाइफ काफी कॉम्प्लिकेटेड है जॉब ढूंढो एक ऐसी जॉब ढूंढो जहां पर अच्छी सैलरी मिले फिर घर ढूंढ हो जाती है और काफी पैसे देती है और कितने पैसे हर एक जॉब नहीं देती
Too jee haan agar koee insaan berojagaar hai aur kaaphee samay se berojagaar hai usake usako us baat kee chinta hai ki vah puraskaar hai to jaroor maanasik tanaav ja sakata hai maanasik tanaav aisa nahin aatee bilkul kuchh vishesh kee vajah se hee hota hai maanasik tanaav ek aisee cheej hai jisake baare mein abhee saintist aur doktar se jyaada kuchh nahin bata sakate hain ki yah kaise hota hai kaise theek kiya ja sakata hai koee ek kaaran nahin hota ki yah kyon hota hai bas kuchh cheejen hotee hain insaanon kee laiph mein aap kisee kee laiph mein ho jaatee hai jisako soch soch ke vah kaaphee dukhee ho jaata hai use dukhee nahin kahenge kuchh log diprais ho jaate hain jo is eksatreem leval hota hai dukhee hone ka enjaitee hotee hai kisee kee to ek prakaash jab aapako maanasik tanaav hote to aisa nahin hai ki aap so jaoge to sahee ho jaega maanasik tanaav kaaphee samay tak aapake saath rahata aur aapakee aam jindagee mein rojamarra kee jindagee mein bhee dakhal dene lagata hai to is cheej ko najarandaaj bhee nahin kiya ja sakata javaab berojagaaron to aapako ek tenshan hai jab main kaise karoonga kaise jioonga kyonki dhoondh lekin hamaaree aajakal kee laiph kaaphee kompliketed hai job dhoondho ek aisee job dhoondho jahaan par achchhee sailaree mile phir ghar dhoondh ho jaatee hai aur kaaphee paise detee hai aur kitane paise har ek job nahin detee

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Chetan Chandrawanshi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chetan जी का जवाब
Finding a part time job
2:00
देखिए इंसान एक छोटी है छोटी चीज से भी मानसिक तनाव में आ सकता है और या फिर बड़ी से बड़ी चीज से बनी हो सकता दोस्त ऊपर डिपेंड करता है कि उसकी इच्छा क्या है उसके इरादे क्या है इंसान की अगर इच्छा पूरी नहीं होती है तो वो टेंशन लेने लगता है लेकिन अगर उसकी इच्छा ही नहीं होगी ज्यादा तो क्या टेंशन जो मिलेगा उसी में खुश रहेगा वह कितनी कीमत है बेचारा राखी नहीं जिंदगी से तो नहीं भी मिलेगा कुछ तो सोच नहीं होगा तो मानसिक तनाव की बात ही नहीं है फिर बनाने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता मानसिक तनाव होने का और नई बात बेरोजगारी की तो यह तो बहुत बड़ी समस्या बेरोजगारी से घबराइए मत हो सकता है आपने और का भी है ले जाते और आप शिबू होगा तो आप उसमें कामयाब हो जाएं अगर नहीं हो तो नहीं हो पर आपको जो पसंद है वह करने की कोशिश की थी उसने वहां पर आप पैसे नहीं देखेंगे वहां पर आपको मजा आएगा काम करने में पैसे हो या ना हो बस काम करने में जान जाएगी फिर जिंदगी नहीं बची तो पैसे का क्या करना है कि नहीं इसमें जो है उसी से काम चलाइए भगवान ने जिसको जितना दिया उसके लिए इतना काफी है धन्यवाद
Dekhie insaan ek chhotee hai chhotee cheej se bhee maanasik tanaav mein aa sakata hai aur ya phir badee se badee cheej se banee ho sakata dost oopar dipend karata hai ki usakee ichchha kya hai usake iraade kya hai insaan kee agar ichchha pooree nahin hotee hai to vo tenshan lene lagata hai lekin agar usakee ichchha hee nahin hogee jyaada to kya tenshan jo milega usee mein khush rahega vah kitanee keemat hai bechaara raakhee nahin jindagee se to nahin bhee milega kuchh to soch nahin hoga to maanasik tanaav kee baat hee nahin hai phir banaane ka koee savaal hee paida nahin hota maanasik tanaav hone ka aur naee baat berojagaaree kee to yah to bahut badee samasya berojagaaree se ghabaraie mat ho sakata hai aapane aur ka bhee hai le jaate aur aap shiboo hoga to aap usamen kaamayaab ho jaen agar nahin ho to nahin ho par aapako jo pasand hai vah karane kee koshish kee thee usane vahaan par aap paise nahin dekhenge vahaan par aapako maja aaega kaam karane mein paise ho ya na ho bas kaam karane mein jaan jaegee phir jindagee nahin bachee to paise ka kya karana hai ki nahin isamen jo hai usee se kaam chalaie bhagavaan ne jisako jitana diya usake lie itana kaaphee hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:50
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है हां जी बिल्कुल आ सकता है क्योंकि बेरोजगार होने का मतलब है आप 10 पैसे नहीं है और लाइफ जीने के लिए पैसे लगते हैं आपको तो पैसे अगर नहीं है आपके पास में तो उस पैसे को लाने के लिए छटपटाते हो या फिर बेसिक रोजमर्रा की जिंदगी में स्ट्रगल करते हो बेसिक चीजों को एक तनावपूर्ण स्थिति तैयार करते क्योंकि माइंड के अंदर यह क्वेश्चन चलते रहता है कि अब मैं क्या करूं मैं कैसे करूं मेरे पास फैमिली में पास बच्चे यह है वह है लेकिन उसका को रुला दिया ऐसा है कि हमें एक्शन करेंगे तो पैसा आएगा और उस पैसे से अनिरुद्ध नेहा रोजगार कैसे मिलेगा तो मैं नहीं मानता यह चीज के बेरोजगार अपने आप होता है ना अगर आपके अंदर काम करने की क्षमता है चाय आपके अंदर छोटे-बड़े कोई भी इसकी हो और आपके अंदर इमानदारी है तो आप को रोजगार इजीली मिल जाता बहुत ही जिले मिल जाता है इंडिया के अंदर तो बिल्कुल मिल जाता है क्योंकि फिलहाल इंडिया के अंदर में ह्यूमन रिसोर्सेज का इस्तेमाल पर ज्यादा भर दिया जाता है क्योंकि टेक्नोलॉजी के लिए हम उतने एडवांस नहीं है लेकिन रोजगार दिलाने के लिए आपको एटीट्यूड माइंड सेट कर रखना पड़ेगा कि मैं पिक तो प्लीज किसी काम की लाज लज्जा शर्म नहीं होनी चाहिए और बसंती ईमानदारी पर तुम गा और तो अपने आप आपका रिजल्ट रोजगार क्रिएट होगा उसका रेट होगा तो आपका उसके रिलेटेड मानसिक तनाव दूर हो जाएगा अगर भाई साहब उस पर काम नहीं करोगे रोजगार क्रिएशन पर तो मानसिक तनाव के साइकिल में जाते जाते हैं डिप्रेशन के साइकिल में इंट्री मारो लेकिन याद रहे ऐसी परिस्थिति बहुत लोगों के ऊपर हो सकते ही किसी की नौकरी गई जो बेरोजगार है अपने आप को और त्रिशूल के नीचे ना जाने दे आज नहीं तो कल हम लाइफ बना लेंगे यह विश्वास रखें खुद को विश्वास दीजिए हंड्रेड परसेंट आपका काम होता है
Kya berojagaar hone kee vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai haan jee bilkul aa sakata hai kyonki berojagaar hone ka matalab hai aap 10 paise nahin hai aur laiph jeene ke lie paise lagate hain aapako to paise agar nahin hai aapake paas mein to us paise ko laane ke lie chhatapataate ho ya phir besik rojamarra kee jindagee mein stragal karate ho besik cheejon ko ek tanaavapoorn sthiti taiyaar karate kyonki maind ke andar yah kveshchan chalate rahata hai ki ab main kya karoon main kaise karoon mere paas phaimilee mein paas bachche yah hai vah hai lekin usaka ko rula diya aisa hai ki hamen ekshan karenge to paisa aaega aur us paise se aniruddh neha rojagaar kaise milega to main nahin maanata yah cheej ke berojagaar apane aap hota hai na agar aapake andar kaam karane kee kshamata hai chaay aapake andar chhote-bade koee bhee isakee ho aur aapake andar imaanadaaree hai to aap ko rojagaar ijeelee mil jaata bahut hee jile mil jaata hai indiya ke andar to bilkul mil jaata hai kyonki philahaal indiya ke andar mein hyooman risorsej ka istemaal par jyaada bhar diya jaata hai kyonki teknolojee ke lie ham utane edavaans nahin hai lekin rojagaar dilaane ke lie aapako eteetyood maind set kar rakhana padega ki main pik to pleej kisee kaam kee laaj lajja sharm nahin honee chaahie aur basantee eemaanadaaree par tum ga aur to apane aap aapaka rijalt rojagaar kriet hoga usaka ret hoga to aapaka usake rileted maanasik tanaav door ho jaega agar bhaee saahab us par kaam nahin karoge rojagaar krieshan par to maanasik tanaav ke saikil mein jaate jaate hain dipreshan ke saikil mein intree maaro lekin yaad rahe aisee paristhiti bahut logon ke oopar ho sakate hee kisee kee naukaree gaee jo berojagaar hai apane aap ko aur trishool ke neeche na jaane de aaj nahin to kal ham laiph bana lenge yah vishvaas rakhen khud ko vishvaas deejie handred parasent aapaka kaam hota hai

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:50
बेरोजगारी होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है जी हां दोस्तों बिल्कुल आ सकता है और आपको बता दें कि अलवर के अंदर तीन दोस्तों ने इसी वजह से ट्रेन के आगे आकर के सुसाइड कर लिया था क्योंकि वह बेरोजगार के जयपुर के अंदर एक व्यक्ति ने इसलिए सुसाइड कर लिया था क्योंकि वह बेरोजगार था और यदि बात करें यानी कि अलवर की एक और बात जिसमें एक महिला ने इस वजह से सुसाइड कर लिया था क्योंकि वह बेरोजगार थी तो बेरोजगार दोस्तों तनाव में आ जाते हैं कि उनके पास कोई रोजगार नहीं है दूसरों का कैसा होगा उनके परिवार की स्थिति कितनी खराब है तो इस स्थिति को लेकर जो व्यक्ति हैं वह गलत कदम उठा लेते हैं तनाव में आ जाते हैं क्योंकि उनके पास कोई साधन नहीं होता रोजगार नहीं होता खर्चा इत्यादि नहीं होता कि परिवार की तरीके से चलाएंगे
Berojagaaree hone kee vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai jee haan doston bilkul aa sakata hai aur aapako bata den ki alavar ke andar teen doston ne isee vajah se tren ke aage aakar ke susaid kar liya tha kyonki vah berojagaar ke jayapur ke andar ek vyakti ne isalie susaid kar liya tha kyonki vah berojagaar tha aur yadi baat karen yaanee ki alavar kee ek aur baat jisamen ek mahila ne is vajah se susaid kar liya tha kyonki vah berojagaar thee to berojagaar doston tanaav mein aa jaate hain ki unake paas koee rojagaar nahin hai doosaron ka kaisa hoga unake parivaar kee sthiti kitanee kharaab hai to is sthiti ko lekar jo vyakti hain vah galat kadam utha lete hain tanaav mein aa jaate hain kyonki unake paas koee saadhan nahin hota rojagaar nahin hota kharcha ityaadi nahin hota ki parivaar kee tareeke se chalaenge

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
2:10
उसका दोस्तों प्रश्न क्या बेरोजगारी होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है निश्चित रूप से दोस्तों आ सकता है आप देखेंगे जो पढ़ाई खत्म कर लेता है ज्यादातर स्नातक की डिग्री इकट्ठे कर लेता है ले लेता है तो युवा रोजगार के लिए जाता है अब उसको जब उम्र ज्यादा हो जाती है तो छोटे-मोटे कार्यों के लिए पैसे मांगने के लिए माता-पिता पर निर्भर रहना पड़ता है और शुरू में तो लेता रहता है लेकिन उसे निराशा हाथ लगती है नौकरी नहीं लगती एक 2 वर्ष निकल जाते हैं तो वह संकोच करने लग जाता है माता-पिता से खर्चा पानी कैसे मांगे और कई बार माता-पिता की ताने देते रहते हैं कितने पैसे खर्च कर देता है और यह नहीं कर पाता है वही कर पाता है तो निश्चित रूप से मानसिक तनाव होगी क्योंकि इसकी यार दोस्त कहीं नौकरी कर चुके होते हुए माता पिता को पैसे भी दे रहे होते हैं ऐसे ही कई बार ऐसा होता है कि शादी होने के बाद व्यक्ति बेरोजगार हो जाता है उस पर मानसिक दबाव रहता है परिवार होता है उसके बच्चे होते हैं और अचानक नौकरी छूट जाती है नौकरी जल्दी नहीं मिल पाती रोजगार नहीं मिल पाता है या बहुत सारी युवा है चेंज को रोजगार के लिए परेशान होते हैं नहीं मिल पाता वह मानसिक तनाव में आ जाते हैं कई बार ऐसा लोगों के होती है कि नौकरी छूटने की कगार पर आती तो मानसिक तनाव में आ जाते हैं आजकल आप देखेंगे करो ना कॉल में बहुत सारे हमारी फैक्ट्री यहां लोगों की बंद हो गई है उसे लोगों की छंटनी हो रही है उसे लोग मानसिक तनाव में हैं लोगों की सैलरी कई जगह 50000 की जगह 25000 ही दे दिया जा रहा उसका मजबूरी है बाहर 25 मिलेंगे नहीं मालिक ने कह दिया कि पच्चीस यारी मिलेंगे काम नहीं है तो वह मानसिक तनाव में है तो यह तो बहुत बड़ा एक मुद्दा है मानसिक तनाव का बेरोजगारी क्योंकि आपको पूरा जीवन जीना होता है उसमें लक्ष्य करने होते हैं और आप भी रोजगार रहेंगे तो हमेशा मानसिक तनाव बना रहेगा मानसिक तनाव तब तक महसूस नहीं होता जब तक आप जिम्मेवारी नहीं लेते कयुवा देखते हुए अपना खेल कूद रहे होते क्योंकि पारिवारिक दबाव नहीं होता अभी वह परिपक्व को नहीं होता कि मेरे को नौकरी करता करनी है वह सोचते हैं चलो सरकारी नौकरी की तैयारी करने लग जाएगी तो ठीक है नहीं तो कोई बात नहीं समय निकल जाता है तो 4 साल नौकरी नहीं लगती है सरकारी में नहीं प्राइवेट में तब वह अधिक मानसिक तनाव का शिकार हो जाता है धन्यवाद
Usaka doston prashn kya berojagaaree hone kee vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai nishchit roop se doston aa sakata hai aap dekhenge jo padhaee khatm kar leta hai jyaadaatar snaatak kee digree ikatthe kar leta hai le leta hai to yuva rojagaar ke lie jaata hai ab usako jab umr jyaada ho jaatee hai to chhote-mote kaaryon ke lie paise maangane ke lie maata-pita par nirbhar rahana padata hai aur shuroo mein to leta rahata hai lekin use niraasha haath lagatee hai naukaree nahin lagatee ek 2 varsh nikal jaate hain to vah sankoch karane lag jaata hai maata-pita se kharcha paanee kaise maange aur kaee baar maata-pita kee taane dete rahate hain kitane paise kharch kar deta hai aur yah nahin kar paata hai vahee kar paata hai to nishchit roop se maanasik tanaav hogee kyonki isakee yaar dost kaheen naukaree kar chuke hote hue maata pita ko paise bhee de rahe hote hain aise hee kaee baar aisa hota hai ki shaadee hone ke baad vyakti berojagaar ho jaata hai us par maanasik dabaav rahata hai parivaar hota hai usake bachche hote hain aur achaanak naukaree chhoot jaatee hai naukaree jaldee nahin mil paatee rojagaar nahin mil paata hai ya bahut saaree yuva hai chenj ko rojagaar ke lie pareshaan hote hain nahin mil paata vah maanasik tanaav mein aa jaate hain kaee baar aisa logon ke hotee hai ki naukaree chhootane kee kagaar par aatee to maanasik tanaav mein aa jaate hain aajakal aap dekhenge karo na kol mein bahut saare hamaaree phaiktree yahaan logon kee band ho gaee hai use logon kee chhantanee ho rahee hai use log maanasik tanaav mein hain logon kee sailaree kaee jagah 50000 kee jagah 25000 hee de diya ja raha usaka majabooree hai baahar 25 milenge nahin maalik ne kah diya ki pachchees yaaree milenge kaam nahin hai to vah maanasik tanaav mein hai to yah to bahut bada ek mudda hai maanasik tanaav ka berojagaaree kyonki aapako poora jeevan jeena hota hai usamen lakshy karane hote hain aur aap bhee rojagaar rahenge to hamesha maanasik tanaav bana rahega maanasik tanaav tab tak mahasoos nahin hota jab tak aap jimmevaaree nahin lete kayuva dekhate hue apana khel kood rahe hote kyonki paarivaarik dabaav nahin hota abhee vah paripakv ko nahin hota ki mere ko naukaree karata karanee hai vah sochate hain chalo sarakaaree naukaree kee taiyaaree karane lag jaegee to theek hai nahin to koee baat nahin samay nikal jaata hai to 4 saal naukaree nahin lagatee hai sarakaaree mein nahin praivet mein tab vah adhik maanasik tanaav ka shikaar ho jaata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Manish Bhati Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Manish जी का जवाब
Life coach, professional counsellor & Relationship expert. Fitness & Motivational Coach
1:12
सर जी संख्या में पहुंचे नहीं क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है बेरोजगारी आप इन्हीं चीजों में अगर आपकी छोटी-मोटी भी फैमिली आप उसके रोजगार के लिए आपको पैसों की जरूरत पड़ती है जीवन यापन करने के लिए पैसों की जरूरत है अगर आपके बच्चे वगैरह है आप उनका जीवन यापन करें उनकी स्कूल दिखाएं दिन हर चीज की पैसों की जरूरत होती है तुम उसको सोच कर उनके करियर के बारे में अपने करियर के बारे में अपने फैमिली के बारे में मानसिक तनाव में आ सकता हूं मैं इसलिए यह माना जाता हूं अगर आप कोई भी जॉब पर है या कोई इंटरेस्ट में है काम में आप कम पैसों से चालू कीजिए अपना हेल्प का काम कीजिए आपने कुछ आईडिया सोचे हैं कुछ उसे 1 सीटें बढ़ाने की सूची पप्पू भगवान और आप के कारण भारतीय जरूर आपके उस काम को बढ़ाएगा मैंने काफी जनों को देखा है जो उस टाइम भी करने के एनी शुरू से ज्यादा आज अच्छे मुकाम तक है लेकिन उनकी मेहनत बहुत मेहनत लगन इमानदारी है बहुत डिपेंड करती है छोटे भाई साहब लेकिन हमारे जीवन को बदलने के लिए बहुत बड़ा माई तुझे संवाद
Sar jee sankhya mein pahunche nahin kya berojagaar hone kee vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai berojagaaree aap inheen cheejon mein agar aapakee chhotee-motee bhee phaimilee aap usake rojagaar ke lie aapako paison kee jaroorat padatee hai jeevan yaapan karane ke lie paison kee jaroorat hai agar aapake bachche vagairah hai aap unaka jeevan yaapan karen unakee skool dikhaen din har cheej kee paison kee jaroorat hotee hai tum usako soch kar unake kariyar ke baare mein apane kariyar ke baare mein apane phaimilee ke baare mein maanasik tanaav mein aa sakata hoon main isalie yah maana jaata hoon agar aap koee bhee job par hai ya koee intarest mein hai kaam mein aap kam paison se chaaloo keejie apana help ka kaam keejie aapane kuchh aaeediya soche hain kuchh use 1 seeten badhaane kee soochee pappoo bhagavaan aur aap ke kaaran bhaarateey jaroor aapake us kaam ko badhaega mainne kaaphee janon ko dekha hai jo us taim bhee karane ke enee shuroo se jyaada aaj achchhe mukaam tak hai lekin unakee mehanat bahut mehanat lagan imaanadaaree hai bahut dipend karatee hai chhote bhaee saahab lekin hamaare jeevan ko badalane ke lie bahut bada maee tujhe sanvaad

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Manish Bhati Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Manish जी का जवाब
Life coach, professional counsellor & Relationship expert. Fitness & Motivational Coach
1:12
सर जी संख्या में पहुंचे नहीं क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है बेरोजगारी आप इन्हीं चीजों में अगर आपकी छोटी-मोटी भी फैमिली आप उसके रोजगार के लिए आपको पैसों की जरूरत पड़ती है जीवन यापन करने के लिए पैसों की जरूरत है अगर आपके बच्चे वगैरह है आप उनका जीवन यापन करें उनकी स्कूल दिखाएं दिन हर चीज की पैसों की जरूरत होती है तुम उसको सोच कर उनके करियर के बारे में अपने करियर के बारे में अपने फैमिली के बारे में मानसिक तनाव में आ सकता हूं मैं इसलिए यह माना जाता हूं अगर आप कोई भी जॉब पर है या कोई इंटरेस्ट में है काम में आप कम पैसों से चालू कीजिए अपना हेल्प का काम कीजिए आपने कुछ आईडिया सोचे हैं कुछ उसे 1 सीटें बढ़ाने की सूची पप्पू भगवान और आप के कारण भारतीय जरूर आपके उस काम को बढ़ाएगा मैंने काफी जनों को देखा है जो उस टाइम भी करने के एनी शुरू से ज्यादा आज अच्छे मुकाम तक है लेकिन उनकी मेहनत बहुत मेहनत लगन इमानदारी है बहुत डिपेंड करती है छोटे भाई साहब लेकिन हमारे जीवन को बदलने के लिए बहुत बड़ा माई तुझे संवाद
Sar jee sankhya mein pahunche nahin kya berojagaar hone kee vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai berojagaaree aap inheen cheejon mein agar aapakee chhotee-motee bhee phaimilee aap usake rojagaar ke lie aapako paison kee jaroorat padatee hai jeevan yaapan karane ke lie paison kee jaroorat hai agar aapake bachche vagairah hai aap unaka jeevan yaapan karen unakee skool dikhaen din har cheej kee paison kee jaroorat hotee hai tum usako soch kar unake kariyar ke baare mein apane kariyar ke baare mein apane phaimilee ke baare mein maanasik tanaav mein aa sakata hoon main isalie yah maana jaata hoon agar aap koee bhee job par hai ya koee intarest mein hai kaam mein aap kam paison se chaaloo keejie apana help ka kaam keejie aapane kuchh aaeediya soche hain kuchh use 1 seeten badhaane kee soochee pappoo bhagavaan aur aap ke kaaran bhaarateey jaroor aapake us kaam ko badhaega mainne kaaphee janon ko dekha hai jo us taim bhee karane ke enee shuroo se jyaada aaj achchhe mukaam tak hai lekin unakee mehanat bahut mehanat lagan imaanadaaree hai bahut dipend karatee hai chhote bhaee saahab lekin hamaare jeevan ko badalane ke lie bahut bada maee tujhe sanvaad

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
1:28
बेरोजगारी होने की वजह से एक इंसान को मानसिक तनाव उत्पन्न हो जाते हैं यह सत्य है क्योंकि आज तुम देख रहे हो आज के भारतीय जीवन में जीने के लिए डोंकी डोंकी बहुत बढ़िया सकता है और जब मानव के पास में रोजगार नहीं होता है उसके पास धन अभाव होता है गरीबी होती है वह साला तू उसके पास मानसिक तनाव और बढ़ जाते हैं क्योंकि जीवन जीने के लिए सुविधाएं तो सभी चाहिए जो आज लोग क्योंकि आज का भारतीय जीवन सुविधा भोगी हो गया है तो जीवन जीने के लिए भोजन भी चाहिए अन्य सामान भी चाहिए वह सब प्राप्त करने के लिए धन चाहिए और धन की प्राप्ति की कंडीशन है नहीं क्योंकि रोजगार नहीं कोई बिजनेस नहीं है कोई जॉब नहीं है तो ऐसी हालात में उस व्यक्ति के पास मानसिक तनाव के अतिरिक्त और कुछ नहीं रह जाता है जो भारत की गंदी राजनीति का परिणाम है भारत की गंदी राजनीति इतनी गंदी है तो भारत की युवा शक्ति को सही मूल्यांकन नहीं कर पा रही है युवा शक्ति का सदुपयोग नहीं कर पा रही है गंदी स्वार्थ लालच से भरी हुई राजनीति ने भारत में बेरोजगारों की संख्या बहुत ज्यादा बढ़ा दी है बड़ा दुर्भाग्य का विषय है

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
मोहित कुमार Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए मोहित जी का जवाब
बिजनेस
0:30
कुछ तो सवाल है क्या बेरोजगार होने की वजह से ही एक इंसान मानसिकता में आ सकता है तो दोस्तों बेरोजगार होने से आपकी मानसिक तनाव में आ सकते हैं क्योंकि आपके पास कोई काम नहीं है आप खाली घर पर बैठे रहेंगे तो आपकी दिमाग की टेंशन बढ़ जाएगी और मन में आपके विचार आते रहेंगे आपका मानसिक तनाव खराब हो सकता है धन्यवाद

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Christina KC Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Christina जी का जवाब
MBA Govt job in PSU/Assistant Manager (HR)
0:49
अपनी क्या-क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है जी हां बिल्कुल अगर आप एक इंसान हो जो बेरोजगार हो तो आप मानसिक तनाव में भी आ सकते हो क्योंकि बेरोजगारी के साथ साथ जो है इंसान अपना कभी कबार से अपना आत्म सम्मान भी खोले था उनका मानना होता है और यह फिल्म को लगता है कि उन्हें वह बात नहीं है जिनसे जो है वह कमा सकते हैं अपने लिए अपने परिवार के लिए और बहुत सारी ताने सुनने पड़ते हैं दूसरे लोगों के लिए और यही वजह होती है कि काफी काफी पार्षद देखने को मिलता है कि इंसान जो है जब बेरोजगार होता है तो आप उनकी मानसिक स्थिति सही नहीं होती है और उनका कुछ भी मतलब इस समय में कुछ भी वह कर लेने की चर्चा शंका होती है मेरे ख्याल से यही सवाल का जवाब है
Apanee kya-kya berojagaar hone kee vajah se ek insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai jee haan bilkul agar aap ek insaan ho jo berojagaar ho to aap maanasik tanaav mein bhee aa sakate ho kyonki berojagaaree ke saath saath jo hai insaan apana kabhee kabaar se apana aatm sammaan bhee khole tha unaka maanana hota hai aur yah philm ko lagata hai ki unhen vah baat nahin hai jinase jo hai vah kama sakate hain apane lie apane parivaar ke lie aur bahut saaree taane sunane padate hain doosare logon ke lie aur yahee vajah hotee hai ki kaaphee kaaphee paarshad dekhane ko milata hai ki insaan jo hai jab berojagaar hota hai to aap unakee maanasik sthiti sahee nahin hotee hai aur unaka kuchh bhee matalab is samay mein kuchh bhee vah kar lene kee charcha shanka hotee hai mere khyaal se yahee savaal ka javaab hai

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Ankit Singh Kshatriya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ankit जी का जवाब
Unknown
2:56
नमस्कार आप ने प्रश्न किया है क्या बेरोजगारी होने की वजह से इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है बिल्कुल आ सकता है क्योंकि हमारे देश में या कहीं पर भी बेरोजगारी एक बीमारी की तरह ही है कहने को तो हमारे देश की जनसंख्या सबसे ज्यादा युवाओं से भरी है सबसे ज्यादा युवा है हमारी जनसंख्या में लेकिन दूसरी तरफ सच्चाई यह भी है कि हमारे बहुत सारे युवा भाई बहन ऐसे हैं जो बेरोजगार है यहां तक कि जिनके पास अच्छे डिग्रियां हैं अच्छे नॉलेज है वही बेरोजगार है और बेरोजगारी भी बीमारी की तरह है इसके कई सारे कारण हैं पहला कारण यह है कि कई बार हमारी परिवार की स्थिति ऐसी होती है जहां पर एक ऐसे व्यक्ति का होना बहुत जरूरी होता है जो अपने परिवार का पालन पोषण अच्छी तरीके से कर सके लेकिन वह बेरोजगार होने की वजह से नहीं कर पाता है दूसरा कारण है कि कई बार लोग एक अच्छी डिग्री लेने के बाद भी बेरोजगार रह जाते हैं तो यह भी उनके दिमाग में एक परेशानी की बात बन जाती है जिसके बारे में सोचते रहते हैं कि इतनी पढ़ाई होने के बाद उनको नौकरी क्यों नहीं मिल रही क्या उन में कमी है या सिस्टम में कमी है यह कहां दिक्कत आ रही है वह समझ नहीं पाते तीसरा कारण है एज जब इंसान का एक उम्र हो जाता है तो उस उम्र के बाद इंसान को यह लगने लग जाता है कि अभी मैं 28 साल का हो गया हूं 30 साल का हो गया हूं 32 साल का हो गया हूं लेकिन मैं पास नौकरी नहीं है थैंक यू उनके भाई उनकी बहन ने उनके दोस्त वह कहीं ना कहीं जॉब कर रहे होते हैं तू उस माहौल में भी ऐसा ही लगता है कि यार मुझ में ऐसी क्या कमी रह गई मुझे जॉब नहीं मिल रही है तो इसके और भी कई कारण है कहीं पर हमारा सिस्टम ऐसा है कि उसके शिकार हो जाते हैं कहीं पर और कोई कारण हो जाता है तू इस तरीके से देखा जाए तो बेरोजगारी भी बीमारी की तरह जो है जो कि इंसान के अंदर एक मानसिक तनाव पैदा करती है और जिसकी वजह से लोग परेशान रहते हैं कई बाईसा सलूशन मिल जाता है लोगों को कई बार नहीं मिल पाता है तो इसी ताने-बाने में लगे रहते हैं कि कैसे इस स्थिति से निजात पाई जाए तुम क्या सकते हैं कि बेरोजगार होना एक इंसान के लिए मानसिक तनाव का कारण बन सकता है धन्यवाद
Namaskaar aap ne prashn kiya hai kya berojagaaree hone kee vajah se insaan maanasik tanaav mein aa sakata hai bilkul aa sakata hai kyonki hamaare desh mein ya kaheen par bhee berojagaaree ek beemaaree kee tarah hee hai kahane ko to hamaare desh kee janasankhya sabase jyaada yuvaon se bharee hai sabase jyaada yuva hai hamaaree janasankhya mein lekin doosaree taraph sachchaee yah bhee hai ki hamaare bahut saare yuva bhaee bahan aise hain jo berojagaar hai yahaan tak ki jinake paas achchhe digriyaan hain achchhe nolej hai vahee berojagaar hai aur berojagaaree bhee beemaaree kee tarah hai isake kaee saare kaaran hain pahala kaaran yah hai ki kaee baar hamaaree parivaar kee sthiti aisee hotee hai jahaan par ek aise vyakti ka hona bahut jarooree hota hai jo apane parivaar ka paalan poshan achchhee tareeke se kar sake lekin vah berojagaar hone kee vajah se nahin kar paata hai doosara kaaran hai ki kaee baar log ek achchhee digree lene ke baad bhee berojagaar rah jaate hain to yah bhee unake dimaag mein ek pareshaanee kee baat ban jaatee hai jisake baare mein sochate rahate hain ki itanee padhaee hone ke baad unako naukaree kyon nahin mil rahee kya un mein kamee hai ya sistam mein kamee hai yah kahaan dikkat aa rahee hai vah samajh nahin paate teesara kaaran hai ej jab insaan ka ek umr ho jaata hai to us umr ke baad insaan ko yah lagane lag jaata hai ki abhee main 28 saal ka ho gaya hoon 30 saal ka ho gaya hoon 32 saal ka ho gaya hoon lekin main paas naukaree nahin hai thaink yoo unake bhaee unakee bahan ne unake dost vah kaheen na kaheen job kar rahe hote hain too us maahaul mein bhee aisa hee lagata hai ki yaar mujh mein aisee kya kamee rah gaee mujhe job nahin mil rahee hai to isake aur bhee kaee kaaran hai kaheen par hamaara sistam aisa hai ki usake shikaar ho jaate hain kaheen par aur koee kaaran ho jaata hai too is tareeke se dekha jae to berojagaaree bhee beemaaree kee tarah jo hai jo ki insaan ke andar ek maanasik tanaav paida karatee hai aur jisakee vajah se log pareshaan rahate hain kaee baeesa salooshan mil jaata hai logon ko kaee baar nahin mil paata hai to isee taane-baane mein lage rahate hain ki kaise is sthiti se nijaat paee jae tum kya sakate hain ki berojagaar hona ek insaan ke lie maanasik tanaav ka kaaran ban sakata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
NEHAA P MISHRA  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए NEHAA जी का जवाब
Teacher, Soul Healer
4:03
यह सवाल तो आज जरूरी हो गया है इस सवाल का जवाब देना कि जी हां एक बेरोजगार होने की वजह से इंसान मानसिक तनाव में आ जाता है इस वक्त मैं भी मध्य प्रदेश शिक्षक भर्ती वर्ग 1 की एक सिलेक्टेड टीचर हूं और इंतजार कर रही हूं काउंसलिंग का क्योंकि मैं सिलेक्टेड हूं तो मुझे पोस्टिंग चाहिए जल्दी से बरा डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन हो जाए मुझे पोस्टिंग मिल जाए मेरी नौकरी चालू हो जाए तो इस सवाल का जवाब एक शिक्षक या आज इस समय जो 30,000 चयनित शिक्षक हैं वही दे सकते हैं कि हां मानसिक तनाव जो होता है वह बेरोजगारी सबसे बड़ी वजह है क्योंकि सिर्फ यह अपने आप के लिए तनाव नहीं है यह पूरे परिवार के लिए तनाव होता पूरे कुटुंब के लिए तरह होता है बेरोजगारी सिर्फ इंसान को नहीं मारती या एक इंसान को डिफरेंस नहीं करती हो पूरे परिवार को डिप्रेस्ड करती है और यह होती है कि परिवार चाह कर भी उस इंसान को सांत्वना नहीं दे पाता क्योंकि मूवी जानता है कि इस हमारे घर के बच्चे को अपने पैरों पर खड़े होना है जरूरी है इसके लिए नौकरी करना घर परिवार आगे परिवार बढ़ाना जी लोगों की शादी नहीं हुई थी लोगों की शादी हो चुकी उनके अपने बीवी बच्चों को देखना है हस्बैंड बच्चों को देखना है तो इसीलिए बेरोजगारी जो है वह आप सबसे बड़ा तनाव का कारण बनी हुई है लोग आत्महत्या भी कर रहे हैं कुछ लोग ऐसे हैं कि उनका भी मन होता है कई बार की बस अब तो बहुत किच किच हो चुकी है अब तो बहुत देर लगता है ली खत्म हो जाती मन मुझे भी कई बार ऐसा फील आता है जब मैं बहुत परेशान हो जाती हूं क्या रे रास्ता ही नहीं दिख रहा है अब जीने से क्या मतलब है तो आप समझ सकते हैं कि बेरोजगारी कितना बड़ा विश्क हो रही है आज इंसान की मानसिक स्थिति में फिर मैं अपने अलावा और भी लोगों की बात करूं कुछ ऐसे लोग होते हैं जो बेचारे शोषण का शिकार हो जाते हैं बेरोजगारी की वजह से वह नौकरी करने जाते हैं तो यह सब सबसे बड़ा इसका जो बीच है वह बेरोजगारी है मानसिक तनाव देती है लोगों को खत्म करने की ताकत रखती है बेरोजगारी और इसके लिए क्या करें नेताओं के हाथ जोड़ रहे हैं ज्ञापन दे रहे हैं आंदोलन कर रहे हैं लेकिन लोगों को अपने अलावा दूसरों की चिंता नहीं होती है बेरोजगारी बड़े जा रही है अभी नहीं चाहेगा हाई लेवल पर पहुंचा सके बना सके आज इधर उधर ना करना पड़े तो बेरोजगारी जो है वही है जो इंसान को इतना तनाव दे रही है अपराध करने पर भी मजबूर करती है खुद को खत्म करने पर भी मजबूर करती है और क्या नीम ही है रोजगार इंसान के जीवन का अर्थ ही है रोजगार अगर वह पैसा कम आएगा तो उसकी इज्जत भी होती है वरना छोटी छोटी चीजों के लिए पूछना यह सोचना पड़ता है कई बार कुछ जरूरी चीजें भी वह मैं नहीं कर सकता क्योंकि वह रोजगार नहीं कब आ रहा है क्योंकि वह बेरोजगार इंसान है और ऐसी स्थिति में फिर उसे लगता है कि मैं तो पढ़ा हुआ हूं तो अपने आप को खत्म करने की कोशिश करता है या कर भी लेता है तो मानसिक तनाव तो बढ़ा दिया ना बेरोजगारी ने उम्मीद करती हूं मेरा जवाब सेटिस्फाइंग होगा थैंक यू
Yah savaal to aaj jarooree ho gaya hai is savaal ka javaab dena ki jee haan ek berojagaar hone kee vajah se insaan maanasik tanaav mein aa jaata hai is vakt main bhee madhy pradesh shikshak bhartee varg 1 kee ek silekted teechar hoon aur intajaar kar rahee hoon kaunsaling ka kyonki main silekted hoon to mujhe posting chaahie jaldee se bara dokyooment veriphikeshan ho jae mujhe posting mil jae meree naukaree chaaloo ho jae to is savaal ka javaab ek shikshak ya aaj is samay jo 30,000 chayanit shikshak hain vahee de sakate hain ki haan maanasik tanaav jo hota hai vah berojagaaree sabase badee vajah hai kyonki sirph yah apane aap ke lie tanaav nahin hai yah poore parivaar ke lie tanaav hota poore kutumb ke lie tarah hota hai berojagaaree sirph insaan ko nahin maaratee ya ek insaan ko dipharens nahin karatee ho poore parivaar ko dipresd karatee hai aur yah hotee hai ki parivaar chaah kar bhee us insaan ko saantvana nahin de paata kyonki moovee jaanata hai ki is hamaare ghar ke bachche ko apane pairon par khade hona hai jarooree hai isake lie naukaree karana ghar parivaar aage parivaar badhaana jee logon kee shaadee nahin huee thee logon kee shaadee ho chukee unake apane beevee bachchon ko dekhana hai hasbaind bachchon ko dekhana hai to iseelie berojagaaree jo hai vah aap sabase bada tanaav ka kaaran banee huee hai log aatmahatya bhee kar rahe hain kuchh log aise hain ki unaka bhee man hota hai kaee baar kee bas ab to bahut kich kich ho chukee hai ab to bahut der lagata hai lee khatm ho jaatee man mujhe bhee kaee baar aisa pheel aata hai jab main bahut pareshaan ho jaatee hoon kya re raasta hee nahin dikh raha hai ab jeene se kya matalab hai to aap samajh sakate hain ki berojagaaree kitana bada vishk ho rahee hai aaj insaan kee maanasik sthiti mein phir main apane alaava aur bhee logon kee baat karoon kuchh aise log hote hain jo bechaare shoshan ka shikaar ho jaate hain berojagaaree kee vajah se vah naukaree karane jaate hain to yah sab sabase bada isaka jo beech hai vah berojagaaree hai maanasik tanaav detee hai logon ko khatm karane kee taakat rakhatee hai berojagaaree aur isake lie kya karen netaon ke haath jod rahe hain gyaapan de rahe hain aandolan kar rahe hain lekin logon ko apane alaava doosaron kee chinta nahin hotee hai berojagaaree bade ja rahee hai abhee nahin chaahega haee leval par pahuncha sake bana sake aaj idhar udhar na karana pade to berojagaaree jo hai vahee hai jo insaan ko itana tanaav de rahee hai aparaadh karane par bhee majaboor karatee hai khud ko khatm karane par bhee majaboor karatee hai aur kya neem hee hai rojagaar insaan ke jeevan ka arth hee hai rojagaar agar vah paisa kam aaega to usakee ijjat bhee hotee hai varana chhotee chhotee cheejon ke lie poochhana yah sochana padata hai kaee baar kuchh jarooree cheejen bhee vah main nahin kar sakata kyonki vah rojagaar nahin kab aa raha hai kyonki vah berojagaar insaan hai aur aisee sthiti mein phir use lagata hai ki main to padha hua hoon to apane aap ko khatm karane kee koshish karata hai ya kar bhee leta hai to maanasik tanaav to badha diya na berojagaaree ne ummeed karatee hoon mera javaab setisphaing hoga thaink yoo

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
1:01
कुछ नहीं की क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है जी हां बेरोजगार होने के बाद इंसान मांस इतना में बिल्कुल आ सकता है उसका कारण यह है कि जब एक आदमी बेरोजगार हो जाता है तो उसे समाज द्वारा एक अजूबा रीता ने दिए जाते हैं यह तो बैठकर खाएगा बीवी का गुलाम है और भीतर असुरक्षा से बोली जाती है क्योंकि उसके मस्तिष्क पर प्रभाव करती हैं जिससे क्या होता है कि वह भारी रूप से बने आपको हंसते खेलते हुए दिखाओ लेकिन मैं अंदर ही अंदर एक मानसिक तनाव में दूसरा होता है और आज के समय करुणा काल के बाद बहुत से लोगों ने यह मानसिक तनाव देखा गया है जिसके पीछे कारण यह है कि वह लोगों की गुणाकार के समय में जॉब चली गई है अब लेकिन समाज में यह चीजें मैं तो आप लोगों को यही सलाह दूंगा कि जब कोई व्यक्ति की जॉब चली जाए वह बेरोजगार हो जाए तो आप मुझे ध्यान से सुनना है प्यार को समझा और उसे सलाह दें कि आप यह नहीं कह सकते हैं ताकि वह मानसिक बीमारियों का अंगुल में ना आ जाए

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Braj Kishor  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Braj जी का जवाब
Student
1:16
जहां तक आप का सवाल है कि क्या बेरोजगार होने से इंसान मानसिक तनाव में आ जाता है तो हां यह बात मेरे ख्याल से बिल्कुल सही है आपका क्योंकि हर वह इंसान जो चारों तरफ से ठोकर खा करके उनको जवाब नहीं मिल रहा है मेरा शो करो घर पर बैठा रहता है तो उनके दिमाग में ऐसे से प्रेशर आते हैं ऐसे सीआईडी आ जाते हैं समझ में नहीं आता कि वह आगे क्या करेंगे अगर ऐसे बैठे रहेंगे तो क्या होगा मतलब कि ऐसे ऐसे विचार उत्पन्न होते हैं ऐसे ही मतलब की भावनाएं आती है अपने अंदर की ऐसा मन करता है कि दुनिया में ना रहूं और मतलब की मानसिक तनाव में आ जाते हैं वह लोग तो ऐसी परिस्थिति में आप क्या कर सकते हैं फ्रेश माइंड होकर जो भी काम करना है आप फ्रेश माइंड हो गए करिए और अच्छे से करिए तो दोस्तों उम्मीद करता हूं यह ऑडियो महाराजा लगा होगा अच्छा लगा तो जरूर शेयर करें

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
3:32
भी देखें अगर किसी के पास कोई जवाब नहीं होता है काम धंधा नहीं होता है तो डेफिनिटी वही तो चिंता का कारण बनता है अब मैं तो यह बोलूंगा कि आज स्वाभाविक है कि आप चिंता करेंगे आप लेकिन मैं बोलूंगा चिंता करने से कुछ होने वाला नहीं है भाई आप चिंता कैसे करते हैं कि मेरे पास जवाब नहीं है आप उसकी चिंता छोड़ दीजिए क्योंकि हमेशा यह सीट तो रहने वाला नहीं है ऐसा तो है नहीं कि आप बुढ़ापे तक ऐसी अवस्था में रहेंगे भाई आज कुछ नहीं है लेकिन कल तो कुछ हो सकता है इसी आशा के साथ आप प्रयत्न प्रयास कीजिए प्रयास कीजिए और कार्य में जुट चाहिए चिंता करने से कोई नियम कोई कुछ नहीं मिलेगा लेकिन चिंतन करके प्रयास करने से चिंतन के असली चिंतन इसलिए कि किस दिशा में मुझे आगे बढ़ना चाहिए कौन से सेक्टर को पकड़ना चाहिए और कहां से किस तरीके से अप्लाई करना है रिज्यूमे मेरा ठीक-ठाक देख रहा है नहीं मेरे को इंटरव्यू के लिए तैयारी करनी है क्या करनी है कुछ मुझे अकेला ऐड करना है कॉन्फिडेंसेस डेवलप तू ही सारा काम कर लीजिए और करते रहे हैं साथ में यह देखिए कि जब तक आप कोई जवाब नहीं मिल रही है तू तो फिर काम उस समय क्योंकि नहीं होता है तो अच्छा नहीं लगता कि कोई और आपको पैसे दे यहां किसी के मांगे भले ही वह घर के लोग ही क्यों ना हो तो उस समय आपको अपने आप को चाह जब रखना पड़ता है और क्योंकि आप कोई काम नहीं कर रहे आप घर में बैठे रहते हैं और तो देश ने तीनों कई तरीके के माता बाल आते हैं समझ नहीं आता हम कहां जाएंगे क्या करेंगे हर घर में हीरो हो सकता है कुछ लोग कभी कभी ताना नहीं मार दे दोस्त वगैरह से भी आपको बात करने में आता हूं फिर भी महसूस नहीं करता था वगैरह मेरे बहुत सारी चीजें होती है तुम्हें इसलिए कहता हूं कि उस समय यह देखिए जब आपके पास कुछ नहीं है कि मैं क्या कर सकता हूं जब तुझे स्थाई पर मिनट या कुछ बढ़िया जॉब नहीं मिले तब तक या मैं कुछ और कर सकता हूं क्या मैं अपने आपको इंगेज कर सकता हूं कुछ पढ़ने में लिखने में जानने में क्या मैं किसी को ट्यूशन पढ़ा सकता हूं कि ऐसा कुछ पार्ट टाइम कर सकता होता कि मेरा मन भी लगा रे और मेरे को दो पैसे भी आए जब दो पैसे आएंगे तो आपका कॉन्फिडेंस लेवल थोड़ा सा ठीक-ठाक रहेगा आप डगमग आएंगे नहीं और आपको किसी से पैसे नहीं मांगने पड़ेंगे और आपका घर था वगैरा भी चल जाएगा तो अभी देखे की अवस्था में मुझे क्या करने की जरूरत है बजाय इसके कि आप बैठकर चिंता करें और कुछ नहीं तो आप अपनी सेहत पर ध्यान दे सकते हैं और कुछ नहीं तो आपकी अगर कोई हॉबी बगैर है जो आप कहना चाहते हैं वह कर सकते हैं जिसमें ज्यादा पैसे नहीं लगते हो क्योंकि जब आपके पास नौकरी नहीं होती है तो एक बार इंपॉर्टेंट बातें होती है कि आपको अपने खर्चों को कंट्रोल कर के चला होता है बिकॉज़ हमें पता नहीं होता है कि कब तक हमें जवाब नहीं मिलेगी तो शॉप इन का मुबारक कब तक नहीं आएगा आप हर रोज और दिन में कई बार हताश होते होंगे आपको समझ नहीं आता होगा क्या करूं तुम होते होंगे तो आपको समझ नहीं आता होगा कि हेलो आवाज क्या करूं अब क्या करूं आप पूरे दिन बैठकर तो आप अप्लाई नहीं करते हैं ना जॉब के लिए आप अप्लाई कर भी नहीं सकते हैं और वह सब अपने दोस्त को या किसी रेफरेंस है किसी को बोल नहीं सकते ना किया कुछ हुआ क्या या कुछ हुआ क्या ऐसा कुछ भी नहीं होता वह तो आप दिन में 1 घंटे 2 घंटे जैसे सुबह एक घंटा आपने देख लिया नेट शॉपिंग कर ली देखिए अभी कहां पर कुछ आप अर्जेंट है कोई मेल कोई नोटिफिकेशन कुछ रिमाइंडर कुछ आया वह देख लिया शाम को इसी तरीके से देख लिया और बाकी पूरे दिन भर में आप चाहे तो कुछ कर सकते हैं तो वह देखेगा कि मैं अभी इस समय क्या कर सकता हूं वह काम करिए और इस तरीके से आगे बढ़ते जाएंगे
Bhee dekhen agar kisee ke paas koee javaab nahin hota hai kaam dhandha nahin hota hai to dephinitee vahee to chinta ka kaaran banata hai ab main to yah boloonga ki aaj svaabhaavik hai ki aap chinta karenge aap lekin main boloonga chinta karane se kuchh hone vaala nahin hai bhaee aap chinta kaise karate hain ki mere paas javaab nahin hai aap usakee chinta chhod deejie kyonki hamesha yah seet to rahane vaala nahin hai aisa to hai nahin ki aap budhaape tak aisee avastha mein rahenge bhaee aaj kuchh nahin hai lekin kal to kuchh ho sakata hai isee aasha ke saath aap prayatn prayaas keejie prayaas keejie aur kaary mein jut chaahie chinta karane se koee niyam koee kuchh nahin milega lekin chintan karake prayaas karane se chintan ke asalee chintan isalie ki kis disha mein mujhe aage badhana chaahie kaun se sektar ko pakadana chaahie aur kahaan se kis tareeke se aplaee karana hai rijyoome mera theek-thaak dekh raha hai nahin mere ko intaravyoo ke lie taiyaaree karanee hai kya karanee hai kuchh mujhe akela aid karana hai konphidenses devalap too hee saara kaam kar leejie aur karate rahe hain saath mein yah dekhie ki jab tak aap koee javaab nahin mil rahee hai too to phir kaam us samay kyonki nahin hota hai to achchha nahin lagata ki koee aur aapako paise de yahaan kisee ke maange bhale hee vah ghar ke log hee kyon na ho to us samay aapako apane aap ko chaah jab rakhana padata hai aur kyonki aap koee kaam nahin kar rahe aap ghar mein baithe rahate hain aur to desh ne teenon kaee tareeke ke maata baal aate hain samajh nahin aata ham kahaan jaenge kya karenge har ghar mein heero ho sakata hai kuchh log kabhee kabhee taana nahin maar de dost vagairah se bhee aapako baat karane mein aata hoon phir bhee mahasoos nahin karata tha vagairah mere bahut saaree cheejen hotee hai tumhen isalie kahata hoon ki us samay yah dekhie jab aapake paas kuchh nahin hai ki main kya kar sakata hoon jab tujhe sthaee par minat ya kuchh badhiya job nahin mile tab tak ya main kuchh aur kar sakata hoon kya main apane aapako ingej kar sakata hoon kuchh padhane mein likhane mein jaanane mein kya main kisee ko tyooshan padha sakata hoon ki aisa kuchh paart taim kar sakata hota ki mera man bhee laga re aur mere ko do paise bhee aae jab do paise aaenge to aapaka konphidens leval thoda sa theek-thaak rahega aap dagamag aaenge nahin aur aapako kisee se paise nahin maangane padenge aur aapaka ghar tha vagaira bhee chal jaega to abhee dekhe kee avastha mein mujhe kya karane kee jaroorat hai bajaay isake ki aap baithakar chinta karen aur kuchh nahin to aap apanee sehat par dhyaan de sakate hain aur kuchh nahin to aapakee agar koee hobee bagair hai jo aap kahana chaahate hain vah kar sakate hain jisamen jyaada paise nahin lagate ho kyonki jab aapake paas naukaree nahin hotee hai to ek baar importent baaten hotee hai ki aapako apane kharchon ko kantrol kar ke chala hota hai bikoz hamen pata nahin hota hai ki kab tak hamen javaab nahin milegee to shop in ka mubaarak kab tak nahin aaega aap har roj aur din mein kaee baar hataash hote honge aapako samajh nahin aata hoga kya karoon tum hote honge to aapako samajh nahin aata hoga ki helo aavaaj kya karoon ab kya karoon aap poore din baithakar to aap aplaee nahin karate hain na job ke lie aap aplaee kar bhee nahin sakate hain aur vah sab apane dost ko ya kisee repharens hai kisee ko bol nahin sakate na kiya kuchh hua kya ya kuchh hua kya aisa kuchh bhee nahin hota vah to aap din mein 1 ghante 2 ghante jaise subah ek ghanta aapane dekh liya net shoping kar lee dekhie abhee kahaan par kuchh aap arjent hai koee mel koee notiphikeshan kuchh rimaindar kuchh aaya vah dekh liya shaam ko isee tareeke se dekh liya aur baakee poore din bhar mein aap chaahe to kuchh kar sakate hain to vah dekhega ki main abhee is samay kya kar sakata hoon vah kaam karie aur is tareeke se aage badhate jaenge

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
राम सिंह Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए राम जी का जवाब
शिक्षण
1:50
नमस्कार दोस्तों मेरा नाम सुनकर आप का सवाल है क्या बेरोजगारी होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ जाता है मैनपुरी स्टेशन आएगा पहले आपको यह समझना होगा कि मानसिक तनाव है क्या कुछ लोग सामान्य सी टेंशन को भी मानसिक तनाव कहीं भी हो मानसिक तनाव के छोटा सा भाग मान मानसिक तनाव से भी व्यक्ति अपने चारों और जो आयाम दिख रहे हैं जो प्रयास दिख रही है जो खुशियां दिख रही जो नए कदम दिख रही है उनको एक प्रकार से भूल ही जाएं और एक ही आ जाता है जिसमें चारों ओर अंधकार बेचैनी अशांति तनाव यह चीजें देखने को मिलती है यहां तक कि सुसाइड भी करता है प्रतिशत सुसाइड है तनाव के कारण होते हैं दुख और तनाव के कारण है बेरोजगारी बेरोजगारी की सबसे बड़ी समस्या होती है उसका इस तरह वह बहुत ही नीचे गिर जाता है और दूसरा सामाजिक स्तर भी बहुत ही नीचे गिर जाता है और जिस व्यक्ति का आर्थिक और सामाजिक स्तर नीचे गिर जाता है उसका बाद में क्या होगा मनुष्य एक सामाजिक प्राणी बताया जाता है और मजबूत होने के लिए हमें सोशल होना अर्थ होना जरूरी है दोनों चीजें खो जाती है जिससे व्यक्ति समाज में कुल में निर्माता है और अकेला रह जाता है तो बिल्कुल आप कह सकते हैं कि बेरोजगारी मानसिक तनाव

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
rohit paste Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए rohit जी का जवाब
Unknown
0:20

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Trainer Yogi Yogendra Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trainer जी का जवाब
Motivational Speaker | Career Coach | Corporate Trainer | Marketing & Management Expert's. Follow Us YouTube channel : https://www.youtube.com/channel/UCKY3o0Bey-4L8mWF9hyTRdQ
1:06

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
ABHAI PRATAP SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ABHAI जी का जवाब
teacher
1:12

bolkar speaker
क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है?Kya Berojgar Hone Ki Vajah Se Ek Insaan Mansik Tanaav Mein Aa Sakta Hai
Hitesh jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Hitesh जी का जवाब
Blogger- Content Writer
1:20

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या बेरोजगार होने की वजह से एक इंसान मानसिक तनाव में आ सकता है बेरोजगार होने की वजह से मानसिक तनाव
URL copied to clipboard