#जीवन शैली

Vaishnavi Pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Vaishnavi जी का जवाब
Student / Artist
1:14
नमस्कार आपका प्रश्न है कि क्या जब कोई किसी का भक्त बन कर किसी और की किस्मत की चीज किसी और को दिलवा देता है तब क्या उस दीक्षित की चीज भी किसी और को मिल जाती है क्या ऐसे ही करना कहते हैं तो देख एक गर्म जो है साइकिल साइकिल की तरह अनेक चक्र की तरह कार्य करता है अगर आप अच्छे कार्य करते हैं तो उसका फल है यार जो भी उसके अफेक्ट थे वह आपको कहीं ना कहीं देखने में मिल जाते हैं और अगर आप पूरे कार्य करते हैं तो भी वह कहीं ना कहीं आपको देखने में मिल जाते हैं आप देखे जैसे हम एक एग्जांपल के तौर पर समझते हैं कि क्या कर्म क्या होता है तो अगर आप एक बीज लगाते हैं तो वह अंकुरित होता है और उसके बाद उसका पौधा लगता है आपने बीज लगाया वह आप का करम है और उसका जो परिणाम आपको मिला वह यह मिला कि पौधा निकल आया तो हां आप पर जो भी करते हैं उसका कहीं ना कहीं तो परिणाम आपको देखने को मिलता ही है और किसी ना किसी रूप में वह फल आपको मिलता ही है धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki kya jab koee kisee ka bhakt ban kar kisee aur kee kismat kee cheej kisee aur ko dilava deta hai tab kya us deekshit kee cheej bhee kisee aur ko mil jaatee hai kya aise hee karana kahate hain to dekh ek garm jo hai saikil saikil kee tarah anek chakr kee tarah kaary karata hai agar aap achchhe kaary karate hain to usaka phal hai yaar jo bhee usake aphekt the vah aapako kaheen na kaheen dekhane mein mil jaate hain aur agar aap poore kaary karate hain to bhee vah kaheen na kaheen aapako dekhane mein mil jaate hain aap dekhe jaise ham ek egjaampal ke taur par samajhate hain ki kya karm kya hota hai to agar aap ek beej lagaate hain to vah ankurit hota hai aur usake baad usaka paudha lagata hai aapane beej lagaaya vah aap ka karam hai aur usaka jo parinaam aapako mila vah yah mila ki paudha nikal aaya to haan aap par jo bhee karate hain usaka kaheen na kaheen to parinaam aapako dekhane ko milata hee hai aur kisee na kisee roop mein vah phal aapako milata hee hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard