#टेक्नोलॉजी

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:31
अंतरिक्ष में जब पृथ्वी घूमती है तो पृथ्वी का पानी अंतरिक्ष में क्यों नहीं गिरता दोस्तों आपको बता दें कि पृथ्वी जो है पृथ्वी खुद गुरुत्वाकर्षण की जनक है आप कह सकते पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण की जनक है और यह अपनी और चीजों को हंसती है ना कि अपने चीजें दूसरों की ओर तो इसी वजह से यह है कि उस गुरुत्वाकर्षण बल के कारण ही जो है बढ़ते को पानी अंतरिक्ष में नहीं जाता है
Antariksh mein jab prthvee ghoomatee hai to prthvee ka paanee antariksh mein kyon nahin girata doston aapako bata den ki prthvee jo hai prthvee khud gurutvaakarshan kee janak hai aap kah sakate prthvee ke gurutvaakarshan kee janak hai aur yah apanee aur cheejon ko hansatee hai na ki apane cheejen doosaron kee or to isee vajah se yah hai ki us gurutvaakarshan bal ke kaaran hee jo hai badhate ko paanee antariksh mein nahin jaata hai

और जवाब सुनें

Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
𝔖𝔱𝔲𝔡𝔢𝔫𝔱 | 𝔈𝔡𝔲𝔠𝔞𝔱𝔦𝔬𝔫𝔦𝔰𝔱
1:13
अंतरिक्ष में जब पृथ्वी घूमती है तो पृथ्वी का पानी अंतरिक्ष में क्यों नहीं गिरता है देखिए पृथ्वी जो है पृथ्वी का जो करोड है वर्क रोड है गुरुता कर सकती इसके अंदर है तो जो भी चीज होती है उसको वह अपनी और कैसी रहती है तो पानी भी रहता है तो उसे भी खींचती है जो धरातल रहता है वह इसीलिए धरातल पर कोई भी चीज है गुप्ता कस्टर्ड की शक्ति कारण ही वह पत्नी से अलग नहीं हो पाता है अगर आप कह रहे हैं कि पृथ्वी घूम रही है तंत्र इसमें और उसका पानी भी घर जाना चाहिए ऐसा भी नहीं सकता क्योंकि देखिए जो पृथ्वी है धरातल है ये खबर जरूर है लेकिन ऐसा नहीं है कि यह एक गोल पृथ्वी हम कह सकते हैं यह गुरुत्वाकर्षण के कारण ही इसकी जो बोलता है जब गोलाकार की स्थिति में यह पाई जाती है नारंगी के समान गोल है तू बिहार गुप्ता कृष्ण के ही कारण है ऐसा नहीं है कि पृथ्वी है तो पृथ्वी गोल हो गई तो कोई क्षेत्र नीचे हो जाएगा कोई शत्रु पर हो जाएगा सारा कचरा क्षेत्र जो होता है वह पिता से संताली होता है तो इस कारण ऐसा नहीं होता है कि जो भी है अगर घूमेगी पृथ्वी तो उसका पानी नीचे गिर जाएगा एक गुरुत्वाकर्षण के कारण सिर्फ एक करोड से जुड़ा रहता है धन्यवाद
Antariksh mein jab prthvee ghoomatee hai to prthvee ka paanee antariksh mein kyon nahin girata hai dekhie prthvee jo hai prthvee ka jo karod hai vark rod hai guruta kar sakatee isake andar hai to jo bhee cheej hotee hai usako vah apanee aur kaisee rahatee hai to paanee bhee rahata hai to use bhee kheenchatee hai jo dharaatal rahata hai vah iseelie dharaatal par koee bhee cheej hai gupta kastard kee shakti kaaran hee vah patnee se alag nahin ho paata hai agar aap kah rahe hain ki prthvee ghoom rahee hai tantr isamen aur usaka paanee bhee ghar jaana chaahie aisa bhee nahin sakata kyonki dekhie jo prthvee hai dharaatal hai ye khabar jaroor hai lekin aisa nahin hai ki yah ek gol prthvee ham kah sakate hain yah gurutvaakarshan ke kaaran hee isakee jo bolata hai jab golaakaar kee sthiti mein yah paee jaatee hai naarangee ke samaan gol hai too bihaar gupta krshn ke hee kaaran hai aisa nahin hai ki prthvee hai to prthvee gol ho gaee to koee kshetr neeche ho jaega koee shatru par ho jaega saara kachara kshetr jo hota hai vah pita se santaalee hota hai to is kaaran aisa nahin hota hai ki jo bhee hai agar ghoomegee prthvee to usaka paanee neeche gir jaega ek gurutvaakarshan ke kaaran sirph ek karod se juda rahata hai dhanyavaad

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:01
सवाल यह है कि अंतरिक्ष में जब पृथ्वी घूमती है तो पृथ्वी का पानी अंतरिक्ष में क्यों नहीं गिरता तो प्रत्येक आकाशीय पिंड अपने गुरुत्वाकर्षण बल से खुद को बांधकर रखता है पृथ्वी का गुरुत्वाकर्षण बल उसके * से उत्पन्न होने वाले अपकेंद्रीय बल से अधिक है इसलिए पृथ्वी अपने आप में बंधी हुई है यदि पृथ्वी की घूर्णन गति बढ़ा दी जाए तो पृथ्वी पर भूमध्य रेखा पर गुरुत्वीय त्वरण का मान घटने लगेगा और जैसे-जैसे घूर्णन की गति बढ़ाते रहेंगे गुरुत्वीय त्वरण का मान घटे रहेगा घटा जाएगा और एक बिंदु पर गुरुत्वीय त्वरण सुने हो जाएगा और पृथ्वी की संरचना आपस में बंद ही नहीं रह पाएगी आप पृथ्वी पर खुद को भारतीय महसूस करेंगे उस स्थिति में भी पृथ्वी से कोई चीज बाहर नहीं जाएगी जो क्योंकि पृथ्वी के सभी करण अलग अलग हो जाएंगे लेकिन सूर्य के चारों ओर उस गति के गति से घूमते रहे
Savaal yah hai ki antariksh mein jab prthvee ghoomatee hai to prthvee ka paanee antariksh mein kyon nahin girata to pratyek aakaasheey pind apane gurutvaakarshan bal se khud ko baandhakar rakhata hai prthvee ka gurutvaakarshan bal usake * se utpann hone vaale apakendreey bal se adhik hai isalie prthvee apane aap mein bandhee huee hai yadi prthvee kee ghoornan gati badha dee jae to prthvee par bhoomadhy rekha par gurutveey tvaran ka maan ghatane lagega aur jaise-jaise ghoornan kee gati badhaate rahenge gurutveey tvaran ka maan ghate rahega ghata jaega aur ek bindu par gurutveey tvaran sune ho jaega aur prthvee kee sanrachana aapas mein band hee nahin rah paegee aap prthvee par khud ko bhaarateey mahasoos karenge us sthiti mein bhee prthvee se koee cheej baahar nahin jaegee jo kyonki prthvee ke sabhee karan alag alag ho jaenge lekin soory ke chaaron or us gati ke gati se ghoomate rahe

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अंतरिक्ष से देखने पर पृथ्वी कैसी दिखाई देती है, अगर पृथ्वी गोल है तो हम गिरते क्यों नहीं, पृथ्वी घूमती है पर हम नहीं क्यों
URL copied to clipboard