#भारत की राजनीति

bolkar speaker

भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?

Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:31
इसका दोस्तों जून बजे भारत के किसान इतने जिंदगी बन गए हो देखिए पहले तो मैं आपको यह बताना चाहूंगा यह किसान नहीं है मैं तथागत किसान है किसान इस वक्त अपने खेतों में हैं काम कर रहे हैं आने वाली फसलों को गा रहे हैं अगर वह यहां पर होते तो आपके मंडियों में सब्जी नहीं आती और जो आप को सामान ले रहे हो वह नहीं मिल पाता और उनकी रेट बहुत ज्यादा हाई होते हैं पहली बार दूसरा यह सब जो दलाल हैं जो मुनाफा को रहे बीच के यह सब कुछ मैं ऑफिस को यह बन गया राजनीतिक पार्टियों का गढ़ सभी अपनी रोटी सेक रहे हैं इसमें और दूसरे देश के भी लोग जो हैं इसमें इंक्लूड हो गए हैं और देश भारत देश को बदनाम करने के लिए खाली स्थान की तरफ से पेंडिंग हो रही है अपना मुद्दा और अपना उल्लू सीधा करने के लिए वह चाहते हैं कि भारत टूटे और बाकी पार्टियां चाहती हैं कि बीजेपी यह मोदी सरकार जो है उसमें न रहकर कि उनका खाना पीना सब कुछ हराम हो चुका है अभी यह किस में हो सकता है थोड़ा बहुत किसान हूं लेकिन गलत तरीके से इन चीजों को डिलीट किया जा रहा है यही वजह है कानून अभी वह फस चुके हैं ना तो आगे कहना पीछे के सभी का भंडाफोड़ हो रहा है सामने के सामने और हो जाएगा राम से आशा करता हूं आपको कुछ सवाल का जवाब मिल गया वर्क लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Isaka doston joon baje bhaarat ke kisaan itane jindagee ban gae ho dekhie pahale to main aapako yah bataana chaahoonga yah kisaan nahin hai main tathaagat kisaan hai kisaan is vakt apane kheton mein hain kaam kar rahe hain aane vaalee phasalon ko ga rahe hain agar vah yahaan par hote to aapake mandiyon mein sabjee nahin aatee aur jo aap ko saamaan le rahe ho vah nahin mil paata aur unakee ret bahut jyaada haee hote hain pahalee baar doosara yah sab jo dalaal hain jo munaapha ko rahe beech ke yah sab kuchh main ophis ko yah ban gaya raajaneetik paartiyon ka gadh sabhee apanee rotee sek rahe hain isamen aur doosare desh ke bhee log jo hain isamen inklood ho gae hain aur desh bhaarat desh ko badanaam karane ke lie khaalee sthaan kee taraph se pending ho rahee hai apana mudda aur apana ulloo seedha karane ke lie vah chaahate hain ki bhaarat toote aur baakee paartiyaan chaahatee hain ki beejepee yah modee sarakaar jo hai usamen na rahakar ki unaka khaana peena sab kuchh haraam ho chuka hai abhee yah kis mein ho sakata hai thoda bahut kisaan hoon lekin galat tareeke se in cheejon ko dileet kiya ja raha hai yahee vajah hai kaanoon abhee vah phas chuke hain na to aage kahana peechhe ke sabhee ka bhandaaphod ho raha hai saamane ke saamane aur ho jaega raam se aasha karata hoon aapako kuchh savaal ka javaab mil gaya vark laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
0:41
छत वाले भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गई लेकिन आज तक मैं मानता हूं तुम लोग इसलिए वह जिद्दी बन गए क्योंकि वह मरते मरते मतलब कि उनकी तो मरते सरकार उनकी मांग नहीं रही इसलिए हम लोग इसके अतिरिक्त मुझे कुछ नहीं समझ में आता हूं किसी ना किसी का समर्थन जरूरत तभी तो मैंने बात की जो किसान मुझे इतनी जिद्दी बन गई तो जिस का भी समर्थन मतलब जो भी किसानों का समर्थन कर रहा हो या कोई भी हो सकते हैं बाकी आप लोगों की अलग-अलग राय हो सकती है तो उम्मीद करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Chhat vaale bhaarat ke kisaan itanee jiddee kyon ban gaee lekin aaj tak main maanata hoon tum log isalie vah jiddee ban gae kyonki vah marate marate matalab ki unakee to marate sarakaar unakee maang nahin rahee isalie ham log isake atirikt mujhe kuchh nahin samajh mein aata hoon kisee na kisee ka samarthan jaroorat tabhee to mainne baat kee jo kisaan mujhe itanee jiddee ban gaee to jis ka bhee samarthan matalab jo bhee kisaanon ka samarthan kar raha ho ya koee bhee ho sakate hain baakee aap logon kee alag-alag raay ho sakatee hai to ummeed karata hoon savaal ka javaab achchha laga hoga dhanyavaad

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
Ankit Singh Kshatriya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ankit जी का जवाब
Unknown
2:59
नमस्कार आप ने प्रश्न किया है भारतीय किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं भैया जी मैं आपसे और सभी श्रोताओं से एक बात कहना चाहता हूं कि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं यह हम सब जानते हैं एक चीज और एक पाठ उसे जब कोई भी कार्य होता है तो उसके दो पल निकलते हैं एक अच्छा एक बुरा और यह अच्छा बुरा हमारे ऊपर हमारे नजरे के ऊपर डिपेंड करता है कि हम किस चीज को किस तरीके से ले रहे हैं उसी तरीके से जब कोई भी सरकार किसी भी बिल को पास करती है तो उसके कुछ अच्छे प्रभावी दिखते हैं कुछ बुरे प्रभाव दिखते हैं जो हमारी विपक्ष की सरकार होती है वह किसी भी कार्य को जो पक्ष के द्वारा किया जा रहा है उसमें वर्क करने का प्रयास करती है और यह चाहे कोई भी सरकार हो वैसा ही करती है जो सरकार आज पक्ष में है कल जब वह विपक्ष में थी या होगी तो फिर वही बॉबी भाई कार्य करेगी और जो आज सरकार विपक्ष में है जब वह कल पक्ष में थी या जब कल होगी तो उनको भी इन सभी चीजों का सामना करना पड़ा था करना पड़ेगा अब बात करते हैं किसानों की हमारे देश के किसान बहुत ही पूजनीय हैं हमारे लिए और हमारे बहुत ही दिलों के करीब हैं जब पूरे देश में लॉकडाउन लगा था तब हम में से कोई भी भूखा नहीं सोया था क्योंकि हमारे घरों तक अनाज पहुंच रहा था और वह अनाज हमारे घरों तक इसलिए पहुंच रहा था क्योंकि हमारे किसान अपने खेतों में दिन-रात कार्य कर रहे थे हमें अनाज की कमी नहीं हुई और हमारे किसान बहुत ही भोले हैं बहुत ही अच्छे हैं आप देख लीजिए कि आज जो भी घटनाएं हो रही हैं उसमें कई सारे ऐसे किसान है मतलब आप समझिए 90% ऐसे किसान हैं जो बहुत शांतिप्रिय से अपना धरना प्रदर्शन कर रहे हैं यह 10 पर सतलोक उनमें ऐसे लोग हैं जो अपनी राजनीति की रोटी सेकना चाहते हैं और वह अपनी राजनीतिक रोटी सेकने के लिए इस शांतिप्रिय जो उनका आंदोलन चल रहा है उसको बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं दूसरी चीज यह है कि इसमें कई सारे ऐसे किसान हैं जिनको भी कानून बिल जो आई है आई है नई उसने मौसा चीजों को लेकर अभी चीजें पॉइंट क्लियर नहीं है वह उनको समझने का प्रयास कर रहे हैं तो अच्छी बात है सरकार भी अपने तरह समझाने का प्रयास कर रही है लेकिन जो इसमें उपद्रवी बैठे हैं वह इस चीज को बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं इस आंदोलन को बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं हम डेमोक्रेसी में है डेमोक्रेसी में हमारा अधिकार है आंदोलन करना लेकिन शांतिप्रिय होना चाहिए जो शांति तरीके से हो रहा है वह अच्छा है जो नहीं हो रहा है उसमें किसानों की गलती नहीं है उन में उन लोगों की गलती है जो अपनी राजनीति की रोटी सेकना चाहते हैं धन्यवाद
Namaskaar aap ne prashn kiya hai bhaarateey kisaan itanee jiddee kyon ban gae hain bhaiya jee main aapase aur sabhee shrotaon se ek baat kahana chaahata hoon ki har sikke ke do pahaloo hote hain yah ham sab jaanate hain ek cheej aur ek paath use jab koee bhee kaary hota hai to usake do pal nikalate hain ek achchha ek bura aur yah achchha bura hamaare oopar hamaare najare ke oopar dipend karata hai ki ham kis cheej ko kis tareeke se le rahe hain usee tareeke se jab koee bhee sarakaar kisee bhee bil ko paas karatee hai to usake kuchh achchhe prabhaavee dikhate hain kuchh bure prabhaav dikhate hain jo hamaaree vipaksh kee sarakaar hotee hai vah kisee bhee kaary ko jo paksh ke dvaara kiya ja raha hai usamen vark karane ka prayaas karatee hai aur yah chaahe koee bhee sarakaar ho vaisa hee karatee hai jo sarakaar aaj paksh mein hai kal jab vah vipaksh mein thee ya hogee to phir vahee bobee bhaee kaary karegee aur jo aaj sarakaar vipaksh mein hai jab vah kal paksh mein thee ya jab kal hogee to unako bhee in sabhee cheejon ka saamana karana pada tha karana padega ab baat karate hain kisaanon kee hamaare desh ke kisaan bahut hee poojaneey hain hamaare lie aur hamaare bahut hee dilon ke kareeb hain jab poore desh mein lokadaun laga tha tab ham mein se koee bhee bhookha nahin soya tha kyonki hamaare gharon tak anaaj pahunch raha tha aur vah anaaj hamaare gharon tak isalie pahunch raha tha kyonki hamaare kisaan apane kheton mein din-raat kaary kar rahe the hamen anaaj kee kamee nahin huee aur hamaare kisaan bahut hee bhole hain bahut hee achchhe hain aap dekh leejie ki aaj jo bhee ghatanaen ho rahee hain usamen kaee saare aise kisaan hai matalab aap samajhie 90% aise kisaan hain jo bahut shaantipriy se apana dharana pradarshan kar rahe hain yah 10 par satalok unamen aise log hain jo apanee raajaneeti kee rotee sekana chaahate hain aur vah apanee raajaneetik rotee sekane ke lie is shaantipriy jo unaka aandolan chal raha hai usako bigaadane ka prayaas kar rahe hain doosaree cheej yah hai ki isamen kaee saare aise kisaan hain jinako bhee kaanoon bil jo aaee hai aaee hai naee usane mausa cheejon ko lekar abhee cheejen point kliyar nahin hai vah unako samajhane ka prayaas kar rahe hain to achchhee baat hai sarakaar bhee apane tarah samajhaane ka prayaas kar rahee hai lekin jo isamen upadravee baithe hain vah is cheej ko bigaadane ka prayaas kar rahe hain is aandolan ko bigaadane ka prayaas kar rahe hain ham demokresee mein hai demokresee mein hamaara adhikaar hai aandolan karana lekin shaantipriy hona chaahie jo shaanti tareeke se ho raha hai vah achchha hai jo nahin ho raha hai usamen kisaanon kee galatee nahin hai un mein un logon kee galatee hai jo apanee raajaneeti kee rotee sekana chaahate hain dhanyavaad

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
Unknown
1:01
भारत के किसान सब्सिडी क्यों बंद है तो भारत की पारी खेली थी इसलिए बन गए हैं चीजों के नाम है इनका जो पूरा जीवन है वहीं पर ही टिका हुआ है कि सरकार है यूनिवर्सिटी के द्वारा फूड कॉरपोरेशन आफ इंडिया द्वारा मृतिका नहीं जानती है पंजाब और हरियाणा के साथ मिलकर अधिकतम पर गेहूं खरीदी 88% तथा उत्पादन इकाइयों में होता है नियमों का 75 परसेंट कितना भी उत्पादन चावल का एशियाई खरीद लेती है ऐसी पर पूरा विश्वास sg13 जरिया है यह इसी बात पर टिकी हुई है कि उन्होंने ऐसी बात लिखी हुई है इस दुनिया की रित रास्ते में जाते हैं कि आश्वासन मिल जाती रहेगी और योग मंडी है इनको बंद नहीं करेंगे और प्राइवेटाइजेशन के भी खिलाफ है इसलिए ऐसा किया जा रहा है
Bhaarat ke kisaan sabsidee kyon band hai to bhaarat kee paaree khelee thee isalie ban gae hain cheejon ke naam hai inaka jo poora jeevan hai vaheen par hee tika hua hai ki sarakaar hai yoonivarsitee ke dvaara phood koraporeshan aaph indiya dvaara mrtika nahin jaanatee hai panjaab aur hariyaana ke saath milakar adhikatam par gehoon khareedee 88% tatha utpaadan ikaiyon mein hota hai niyamon ka 75 parasent kitana bhee utpaadan chaaval ka eshiyaee khareed letee hai aisee par poora vishvaas sg13 jariya hai yah isee baat par tikee huee hai ki unhonne aisee baat likhee huee hai is duniya kee rit raaste mein jaate hain ki aashvaasan mil jaatee rahegee aur yog mandee hai inako band nahin karenge aur praivetaijeshan ke bhee khilaaph hai isalie aisa kiya ja raha hai

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:37
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है भारत की शान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं तो फ्रेंड को जब सरकार अपनी जिद पर अड़ी हुई है तो किसान भी अपनी जिद पर अड़ गए हैं वह लोग जो किसान कानून 3 किसान कानून बने हुए हैं उनको भी रद्द कराना चाहते हैं और सरकारों ने रद्द कर नहीं रही है इसी कारण से किसान जिद्दी बन गए हैं और ब्रदर प्रदर्शन जगह-जगह पर कर रहे हैं ट्रैक्टर रैली निकाल रहे हैं चक्का जाम कर रहे हैं रैलियां हो रही हैं चर्चाएं हो रही हैं और उनकी मांगे पूरी नहीं हो रही है इसी वजह से भी जिद्दी बन गए धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai bhaarat kee shaan itanee jiddee kyon ban gae hain to phrend ko jab sarakaar apanee jid par adee huee hai to kisaan bhee apanee jid par ad gae hain vah log jo kisaan kaanoon 3 kisaan kaanoon bane hue hain unako bhee radd karaana chaahate hain aur sarakaaron ne radd kar nahin rahee hai isee kaaran se kisaan jiddee ban gae hain aur bradar pradarshan jagah-jagah par kar rahe hain traiktar railee nikaal rahe hain chakka jaam kar rahe hain railiyaan ho rahee hain charchaen ho rahee hain aur unakee maange pooree nahin ho rahee hai isee vajah se bhee jiddee ban gae dhanyavaad

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
सवाल पूछा गया है कि भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों हो गए मैं पूछता हूं सरकार भी इतनी जिद्दी क्यों हो गई जब किसान नहीं चाहते हैं पूरे देश से विवेक मिलता है सरकार को अपने यंत्र नाम के माध्यम से और फिर भी बिना कोई चर्चा बिना कोई विचार मंथन बहुमत के आधार पर किया गया उसके बाद विरोध हुआ अब यह विरोध जो है वह संघर्ष में बदलने के मोड़ पर है लगभग डेढ़ सौ किसान इस आंदोलन में मर चुके तो किसान होते हैं उनका काम ही अन्य का निर्माण करना उसका श्रम जो होता है उस नाम से ही उसको एक आनंद मिलता है और उसमें एक कॉन्फ्रेंस आता है और समाज के लिए कुछ करने का जो है उसके अंदर सेटिस्फेक्शन का भाव होता है जब उसके जो पिक है वह उनके आते हैं और जब वह देखता है तो उतनी किशन भावनाओं के ऊपर जूता किसान की भावना अपनी खेती जमीन से इतनी गहरी जुड़ी हुई है कि कई सैकड़ों साल का उसका किसी के साथ उसके पुरुषों के सहित जुड़ा होता है चाय कभी-कभी खींची रिजल्ट ना दे फिर भी किसान को बहुत प्यारी होती है और यह कैसा कानून एक्सप्रेस भी बता रहे हैं एक कारपोरेट सिटी करने की संकल्पना गई उसमें कुछ चीजें अच्छी है लेकिन कुछ और हो गई तो फिर इतिहास को वापस घुमाया नहीं जाया जाएगा जा सकता कि फिर वापस अपनी जमीन का हक बढ़िया माल की नई पार्षद दोनों मिलकर किसानों के साथ बरसों से करते आ रहे हैं और यह होने की संभावना उसको दिखाई देती है और ऐसी बन गई क्या अभी नहीं तो कभी नहीं इतने गहरे प्रभाव होने वाले हैं कि किसान की जिंदगी और मृत्यु का समय सवाल और ज्यादा करके किसान जो पंजाब हरियाणा उत्तर प्रदेश के हैं वह जो है भारत को उन्होंने पानी में 100 लंबी बनाया बनाने वाले फौज में वह भारत को देश को बचाने वाले लोगों में से बाकी सत्ता में बैठे और सामाजिक और हर तरह के क्षेत्र में बैठे जो डिसीजन मेकर्स है वह फोकट का खाने वाले दिन आश्रम का खाने वाले या पैसों से पैसा कमाने वाले इस देश के लिए जो पहले से ही हानिकारक तो तू है वह मजे में रहेंगे फायदे में रहेंगे उठेंगे हाउस में काम करेगा किसान लेकिन मालूम नहीं मालिक नहीं होगा वैसे प्राइवेटाइजेशन के तत्वों के बाद बहुत लोगों को नौकरियां मिली लेकिन जमीनी गई और वहां पर मिलने वाली जो मजबूरी मजबूरी थी वह कम होते होते 8000 तक आ गई है हमारे और एक वक्त है ऐसी ऐसा पकड़ लगता था कि जैसे क्रांति हो गई है आर्थिक क्रांति यह सब देखते हुए किसान जिद्दी नहीं बनेंगे तो और क्या बनेगा
Savaal poochha gaya hai ki bhaarat ke kisaan itanee jiddee kyon ho gae main poochhata hoon sarakaar bhee itanee jiddee kyon ho gaee jab kisaan nahin chaahate hain poore desh se vivek milata hai sarakaar ko apane yantr naam ke maadhyam se aur phir bhee bina koee charcha bina koee vichaar manthan bahumat ke aadhaar par kiya gaya usake baad virodh hua ab yah virodh jo hai vah sangharsh mein badalane ke mod par hai lagabhag dedh sau kisaan is aandolan mein mar chuke to kisaan hote hain unaka kaam hee any ka nirmaan karana usaka shram jo hota hai us naam se hee usako ek aanand milata hai aur usamen ek konphrens aata hai aur samaaj ke lie kuchh karane ka jo hai usake andar setisphekshan ka bhaav hota hai jab usake jo pik hai vah unake aate hain aur jab vah dekhata hai to utanee kishan bhaavanaon ke oopar joota kisaan kee bhaavana apanee khetee jameen se itanee gaharee judee huee hai ki kaee saikadon saal ka usaka kisee ke saath usake purushon ke sahit juda hota hai chaay kabhee-kabhee kheenchee rijalt na de phir bhee kisaan ko bahut pyaaree hotee hai aur yah kaisa kaanoon eksapres bhee bata rahe hain ek kaaraporet sitee karane kee sankalpana gaee usamen kuchh cheejen achchhee hai lekin kuchh aur ho gaee to phir itihaas ko vaapas ghumaaya nahin jaaya jaega ja sakata ki phir vaapas apanee jameen ka hak badhiya maal kee naee paarshad donon milakar kisaanon ke saath barason se karate aa rahe hain aur yah hone kee sambhaavana usako dikhaee detee hai aur aisee ban gaee kya abhee nahin to kabhee nahin itane gahare prabhaav hone vaale hain ki kisaan kee jindagee aur mrtyu ka samay savaal aur jyaada karake kisaan jo panjaab hariyaana uttar pradesh ke hain vah jo hai bhaarat ko unhonne paanee mein 100 lambee banaaya banaane vaale phauj mein vah bhaarat ko desh ko bachaane vaale logon mein se baakee satta mein baithe aur saamaajik aur har tarah ke kshetr mein baithe jo diseejan mekars hai vah phokat ka khaane vaale din aashram ka khaane vaale ya paison se paisa kamaane vaale is desh ke lie jo pahale se hee haanikaarak to too hai vah maje mein rahenge phaayade mein rahenge uthenge haus mein kaam karega kisaan lekin maaloom nahin maalik nahin hoga vaise praivetaijeshan ke tatvon ke baad bahut logon ko naukariyaan milee lekin jameenee gaee aur vahaan par milane vaalee jo majabooree majabooree thee vah kam hote hote 8000 tak aa gaee hai hamaare aur ek vakt hai aisee aisa pakad lagata tha ki jaise kraanti ho gaee hai aarthik kraanti yah sab dekhate hue kisaan jiddee nahin banenge to aur kya banega

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
0:55
जिस प्रकार दो-तीन महीना से किसानों का जो आंदोलन चल रहा है कहीं ना कहीं कुछ लोग चाहते हैं कि यह आंदोलन खत्म होना चाहिए लेकिन किसान भी इस बात को मानने के लिए तैयार नहीं है हम जी दी या कुछ और उपमा दे सकते हैं लेकिन मुझे लगता है कि जो किसान कर रहे हैं वह अच्छा कर रहे हैं क्योंकि जो कृषि बिल है अगर सरकार चाहती तो सब खत्म कर सकती है और उसमें क्या सरकार के स्वार्थ है कि यह बिल कितना चाहती है और वह भी किसानों के फेवर में जबकि किसान खुद इसका नहीं चाहते हैं तो कहीं ना कहीं जो है इसमें ऐसा मानता दिख रही है तो हम कुछ भी भारत के किसानों को क्या दे सकते हैं लेकिन जो सच्चाई है मुझे लगता है कि वही सामने होना चाहिए
Jis prakaar do-teen maheena se kisaanon ka jo aandolan chal raha hai kaheen na kaheen kuchh log chaahate hain ki yah aandolan khatm hona chaahie lekin kisaan bhee is baat ko maanane ke lie taiyaar nahin hai ham jee dee ya kuchh aur upama de sakate hain lekin mujhe lagata hai ki jo kisaan kar rahe hain vah achchha kar rahe hain kyonki jo krshi bil hai agar sarakaar chaahatee to sab khatm kar sakatee hai aur usamen kya sarakaar ke svaarth hai ki yah bil kitana chaahatee hai aur vah bhee kisaanon ke phevar mein jabaki kisaan khud isaka nahin chaahate hain to kaheen na kaheen jo hai isamen aisa maanata dikh rahee hai to ham kuchh bhee bhaarat ke kisaanon ko kya de sakate hain lekin jo sachchaee hai mujhe lagata hai ki vahee saamane hona chaahie

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
0:54
आपका प्रश्न है कि भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं वास्तव में मैं कहूं आप ना सबके सामने नहीं आपका किसानों से कोई नाता है नहीं किसानों के प्रति आपके मन में कोई संभावनाएं बढ़ कि आप भारत सरकार को केंद्र की मोदी सरकार की तरह आप भी उनके पक्षकारों में किसान जिद्दी नहीं होती मोदी सरकार है प्रेम मुदित जिद्दी हैं जो यह साबित करना चाहते हैं कि दुनिया हिंदुस्तान के समस्त किसान जाएं आत्मदाह कर ले लेकिन मोदी कानून को वापस नहीं लेंगे और नहीं झुकेंगे मोदी भूल गए हैं यह कि इन्हीं किसानों ने चुन कर उनको सत्ता सौंपी है वक्त ऐसा ना हो कि उनके यहां से प्रस्तावित है और उनकी जो सर्वोच्च से है
Aapaka prashn hai ki bhaarat ke kisaan itanee jiddee kyon ban gae hain vaastav mein main kahoon aap na sabake saamane nahin aapaka kisaanon se koee naata hai nahin kisaanon ke prati aapake man mein koee sambhaavanaen badh ki aap bhaarat sarakaar ko kendr kee modee sarakaar kee tarah aap bhee unake pakshakaaron mein kisaan jiddee nahin hotee modee sarakaar hai prem mudit jiddee hain jo yah saabit karana chaahate hain ki duniya hindustaan ke samast kisaan jaen aatmadaah kar le lekin modee kaanoon ko vaapas nahin lenge aur nahin jhukenge modee bhool gae hain yah ki inheen kisaanon ne chun kar unako satta saumpee hai vakt aisa na ho ki unake yahaan se prastaavit hai aur unakee jo sarvochch se hai

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
अनन्या सिहं Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए अनन्या जी का जवाब
शिक्षारत
0:26
क्या आपको सच में लगता है कि वह सिर्फ जो कर रहे हैं सड़कों पर वह किसान है उनमें से ज्यादातर तो किसान है भी नहीं भारत के किसान इतनी जिद्दी नहीं है वह सहनशील है और जो लोग सड़कों पर उतर रहे हैं वह तब कहां होते हैं जब बहुत सारे किसानों की फसल जल जाती है और बहुत सारी किसान आत्महत्या कर लेते हैं
Kya aapako sach mein lagata hai ki vah sirph jo kar rahe hain sadakon par vah kisaan hai unamen se jyaadaatar to kisaan hai bhee nahin bhaarat ke kisaan itanee jiddee nahin hai vah sahanasheel hai aur jo log sadakon par utar rahe hain vah tab kahaan hote hain jab bahut saare kisaanon kee phasal jal jaatee hai aur bahut saaree kisaan aatmahatya kar lete hain

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:58
देखिए आप ने प्रश्न किया है कि भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए दिखे मेरी दृष्टि में जो मेरे देश का वास्तविक किसान है जो जमीन से जुड़ा हुआ है जिसने केवल धोती कुर्ता केवल दुनिया को दिखाने के लिए नहीं पहना हुआ है वह आज भी अपने घर पर है और अपने खेती के और अपने रोजमर्रा के कार्यों के अंदर जाता है लेकिन कुछ तथाकथित किसान नेता कुछ कांग्रेस और वामपंथी और टुकड़े टुकड़े गैंग के सदस्य जिनके पीछे रॉकेट लगा हुआ है उनको अंग्रेजी यों का वामपंथियों का तथाकथित बुद्धिजीवियों का और वह लोग जो कि मोदी सरकार को सत्ता में नहीं देखना चाहते हैं उन लोगों ने पीछे अपनी सहायता का एक रॉकेट लगा रखा है और उसी ब्रॉकेट में कब कहीं गिरते हैं कब कहीं करते हैं और कब कहीं करते हैं उनका एजेंडा बहुत स्पष्ट लगता है कि कृषि बिल का विरोध तो बहाना है मोदी सरकार को गिराना है लेकिन जनता समझदार 21वीं शताब्दी में लोग बाग अपने सही और गलत को लेकर के कुछ हद तक समझने लग गए हैं और सबसे अच्छी बात यह हुई है कि लोगों ने अब धीरे-धीरे एक विचारधारा को स्वीकार करना शुरू किया कि वह व्यक्ति देश के साथ है या देश के खिलाफ है जो देश के साथ है इस तरह की हरकत नहीं करता जो देश के खिलाफ है इसको अपनी मिट्टी से प्यार नहीं इसको अपने वतन से प्यार नहीं अन्यथा आप एक बात बताएं कि जब 500 पुलिस वाले को स्पिटल के बिस्तर पर पड़े 50 पुलिसवाले गंभीर घायल को सड़कों पर दिल्ली में 26 जनवरी को तांडव दिखा गया लाल किले पर दूसरे झंडे फहराए गए हो आप उनको किसान कहते हैं आप मान सकते हैं कि वह किसान हैं देखिए कुछ हद तक अभी जो किसान आंदोलन है वह केवल एक जातिगत समीकरणों के साथ में व आंदोलन हैं अन्यथा वास्तविक आंकलन नहीं रह गया है मेरे देश का किसान खेती नहीं है जो लोग वहां बैठे हैं वह उनका अपना एक एजेंट धन्यवाद
Dekhie aap ne prashn kiya hai ki bhaarat ke kisaan itanee jiddee kyon ban gae dikhe meree drshti mein jo mere desh ka vaastavik kisaan hai jo jameen se juda hua hai jisane keval dhotee kurta keval duniya ko dikhaane ke lie nahin pahana hua hai vah aaj bhee apane ghar par hai aur apane khetee ke aur apane rojamarra ke kaaryon ke andar jaata hai lekin kuchh tathaakathit kisaan neta kuchh kaangres aur vaamapanthee aur tukade tukade gaing ke sadasy jinake peechhe roket laga hua hai unako angrejee yon ka vaamapanthiyon ka tathaakathit buddhijeeviyon ka aur vah log jo ki modee sarakaar ko satta mein nahin dekhana chaahate hain un logon ne peechhe apanee sahaayata ka ek roket laga rakha hai aur usee broket mein kab kaheen girate hain kab kaheen karate hain aur kab kaheen karate hain unaka ejenda bahut spasht lagata hai ki krshi bil ka virodh to bahaana hai modee sarakaar ko giraana hai lekin janata samajhadaar 21veen shataabdee mein log baag apane sahee aur galat ko lekar ke kuchh had tak samajhane lag gae hain aur sabase achchhee baat yah huee hai ki logon ne ab dheere-dheere ek vichaaradhaara ko sveekaar karana shuroo kiya ki vah vyakti desh ke saath hai ya desh ke khilaaph hai jo desh ke saath hai is tarah kee harakat nahin karata jo desh ke khilaaph hai isako apanee mittee se pyaar nahin isako apane vatan se pyaar nahin anyatha aap ek baat bataen ki jab 500 pulis vaale ko spital ke bistar par pade 50 pulisavaale gambheer ghaayal ko sadakon par dillee mein 26 janavaree ko taandav dikha gaya laal kile par doosare jhande phaharae gae ho aap unako kisaan kahate hain aap maan sakate hain ki vah kisaan hain dekhie kuchh had tak abhee jo kisaan aandolan hai vah keval ek jaatigat sameekaranon ke saath mein va aandolan hain anyatha vaastavik aankalan nahin rah gaya hai mere desh ka kisaan khetee nahin hai jo log vahaan baithe hain vah unaka apana ek ejent dhanyavaad

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:36
भारत देश में भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं तो आपको बता देंगे लेकिन भारतीय किसानों को दूसरे ढंग से नहीं पता कि किसानों कानून बनाए गए हैं वह क्या है और कैसे उनके लिए वरदान साबित हो सकते हैं या किस तरह से उन को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है यह सारी चीजें हम को पता ही नहीं है वह तो सिर्फ संगठन या संगठित होने के नाते ही उसमें शिरकत कर रहे हैं आपकी क्या राय है इस बारे में कमेंट सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Bhaarat desh mein bhaarat ke kisaan itanee jiddee kyon ban gae hain to aapako bata denge lekin bhaarateey kisaanon ko doosare dhang se nahin pata ki kisaanon kaanoon banae gae hain vah kya hai aur kaise unake lie varadaan saabit ho sakate hain ya kis tarah se un ko dikkaton ka saamana karana pad sakata hai yah saaree cheejen ham ko pata hee nahin hai vah to sirph sangathan ya sangathit hone ke naate hee usamen shirakat kar rahe hain aapakee kya raay hai is baare mein kament sekshan apanee raay jarur vyakt karen meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:35

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:53
नमस्कार लव यू आपका सवाल है भारतीय किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं तो साथियों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है हमारे भारत के सामने जीत इसलिए बन गए हैं क्योंकि हमारे देश में किसानों पर जो कानून बने हैं वह हमारे देश के अन्नदाता को पसंद नहीं है भोला भारती के किसान वह एमएसपी वाला कानून चाहते हैं जिनमें एमएसपी की पूरी गारंटी हो और किसानों को उसकी सीरियल मिला इसलिए उस कानून को बनवाना चाहते हैं और जो तीन काले कानून बनाए हैं उसको तो लागू नहीं करवाना चाहते हैं इसलिए हमारे दादा जी बन गए हैं धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaskaar lav yoo aapaka savaal hai bhaarateey kisaan itanee jiddee kyon ban gae hain to saathiyon aapake savaal ka uttar is prakaar hai hamaare bhaarat ke saamane jeet isalie ban gae hain kyonki hamaare desh mein kisaanon par jo kaanoon bane hain vah hamaare desh ke annadaata ko pasand nahin hai bhola bhaaratee ke kisaan vah emesapee vaala kaanoon chaahate hain jinamen emesapee kee pooree gaarantee ho aur kisaanon ko usakee seeriyal mila isalie us kaanoon ko banavaana chaahate hain aur jo teen kaale kaanoon banae hain usako to laagoo nahin karavaana chaahate hain isalie hamaare daada jee ban gae hain dhanyavaad saathiyon khush raho

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:39
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं तो दोस्तों जो आपको किसान दिखाई दे रहे हैं जिसको आप जिद्दी कह रहे हैं वह वास्तव में किसान पहले कभी हुआ करते होंगे हो सकता है आज वह बहुत बड़े किसान हो चुके हैं एक प्रकार से उद्योगपति हो चुके हैं वह तो इसलिए आपको जिद्दी दिखाई दे रहे हैं जो वास्तव में किसान है उसके पास समय ही नहीं है कि खेत को अपने छोड़कर इसको कर्मभूमि मानता है वहां पर फसल लगी है या उसमें काम करना है उसको छोड़ कर आ जाए तो यह जो आंदोलन में आप जैसे किसान को जिद्दी बता रहे हैं तो यह तो एक प्रकार से दलाल का काम कर रहे हैं इनकम टैक्स में सरकार लाभ देती है सारे इनकम को हाय को छूट देती है जो कि सरकार को इस पर विचार करना चाहिए तो यह तो पहले जमानत जमीदारी प्रथा थी वैसे ही यह प्रकाश बड़े किसानों की छोटे किसानों से खेती कर आते हैं और कुछ पैसा देकर और यह करोड़ों रुपए कमाते हैं तो उनको ऐसा लग रहा है कि किसी कराना हमारा धंधा खत्म हो जाएगा हमारा जो है दबदबा खत्म हो जाएगा तो इसलिए वह जिद्दी दिखाई दे रहे हैं वह मुट्ठी भरी किसान हैं जो कि कुछ विशेष राज्यों से आए हुए कुछ इसमें राजनीतिक कारण भी हैं कुछ किसान तो है लेकिन राजनीति से प्रेरित है इसलिए ऐसा लग रहा है कि जिद्दी है अन्यथा कोई भी ऐसा कोई तुक नहीं है इसके अंदर किसानों का लेना देना इसमें भी किसान होता पूरे बड़े स्तर पर होता है पूरे सारे भारत के राज्यों से किसान आते लेकिन ऐसा नहीं है तो बस ऐसा कुछ लोगों को देखकर भ्रांति पैदा कर लेना कि किसान जिद्दी हैं ऐसा नहीं है धन्यवाद
Namaskaar doston prashn hai ki bhaarat ke kisaan itanee jiddee kyon ban gae hain to doston jo aapako kisaan dikhaee de rahe hain jisako aap jiddee kah rahe hain vah vaastav mein kisaan pahale kabhee hua karate honge ho sakata hai aaj vah bahut bade kisaan ho chuke hain ek prakaar se udyogapati ho chuke hain vah to isalie aapako jiddee dikhaee de rahe hain jo vaastav mein kisaan hai usake paas samay hee nahin hai ki khet ko apane chhodakar isako karmabhoomi maanata hai vahaan par phasal lagee hai ya usamen kaam karana hai usako chhod kar aa jae to yah jo aandolan mein aap jaise kisaan ko jiddee bata rahe hain to yah to ek prakaar se dalaal ka kaam kar rahe hain inakam taiks mein sarakaar laabh detee hai saare inakam ko haay ko chhoot detee hai jo ki sarakaar ko is par vichaar karana chaahie to yah to pahale jamaanat jameedaaree pratha thee vaise hee yah prakaash bade kisaanon kee chhote kisaanon se khetee kar aate hain aur kuchh paisa dekar aur yah karodon rupe kamaate hain to unako aisa lag raha hai ki kisee karaana hamaara dhandha khatm ho jaega hamaara jo hai dabadaba khatm ho jaega to isalie vah jiddee dikhaee de rahe hain vah mutthee bharee kisaan hain jo ki kuchh vishesh raajyon se aae hue kuchh isamen raajaneetik kaaran bhee hain kuchh kisaan to hai lekin raajaneeti se prerit hai isalie aisa lag raha hai ki jiddee hai anyatha koee bhee aisa koee tuk nahin hai isake andar kisaanon ka lena dena isamen bhee kisaan hota poore bade star par hota hai poore saare bhaarat ke raajyon se kisaan aate lekin aisa nahin hai to bas aisa kuchh logon ko dekhakar bhraanti paida kar lena ki kisaan jiddee hain aisa nahin hai dhanyavaad

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
1:51
कम बैक स्वागत है आप सब काम मेरी बोलकर ए प्रोफाइल पर और आप सुन रहे हैं रोहित राठौर को तैयार भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गई आप का आज का सवाल है क्या मैं तो यही कहूंगा कि भारत के किसान जिद्दी नहीं है अरे आपको क्या सड़क पर दिख किसान दिख रहा है यह किसान नहीं है आप भी समझ रहे होंगे यह कौन है क्योंकि आ रहा था किसान सड़क पर तुम की खेती कौन सा माल रहे यह बताइए क्या उनके खेत में पानी समय तो कौन दे रहा है गेहूं की फसल खराब नहीं हो रही है कि अगर उसके खेत अगर किसान लोग सड़क पर है तो उनके खेत में उनको खेती कौन सा माल है मेरे खुद के पिता से इस किसान है पर मैंने अभी तक उन्हें कोई ऐसे ही जिद्दी पन है या फिर कोई भी ऐसे आंदोलन भाग लेते हुए नहीं देखा क्योंकि वह खुद अपने अपना पेट पालन के लिए अपने खेत में लगे हुए हैं उन्हें इससे कोई मतलब नहीं है कि जो भी सरकार के अपोजिट में या फिर उसमें जो आंदोलन चल रहा है उनमें क्या हो रहा है बस बस की नॉलेज ले लेते हैं उसके बाद भी उससे ज्यादा होने से कुछ लेना-देना नहीं क्योंकि उन्हें पता कर मैं सड़क पर चले गया तो खेत कौन संभालेगा असली किसान तू पर ही है असली किसान सड़क पर नहीं है आपको पता है सड़क पर कौन है और वह क्या उनका उद्देश्य क्या है इसके पीछे यह बताने की आवश्यकता ही नहीं है क्योंकि असली किसान अपने खेतों में वह अपनी पूरी लगन और मेहनत से अपने देश के लिए काम कर रहा है वह किसी को भूखा नहीं रखना चाहता इसलिए वह अपने खेतों पर काम कर रहा है दिन-रात काम कर रहा है उसकी अभी शायद कट कटाई का सीजन चल रहा है जिसमें गेहूं और चने काटने तो अभी किसान सड़क पर नहीं है वह सड़क पर और कोई लोग ही हैं जो सरकार का विरोध करना चाहते हैं किसी प्रकार से सरकार को नीचा दिखाना चाहते हैं किसी प्रकार से किसानों का भला नहीं होने देना चाहते हैं तो आप समझ रहे होंगे उम्मीद है मेरी बातों को की सड़क पर कौन व्यक्ति है और कौन जिद्दी है किसान अपनी सही राह पर है इसमें कोई दिक्कत नहीं है तो मिलते हैं आप सभी सवाल में जब तक के लिए टेक केयर गुड बाय
Kam baik svaagat hai aap sab kaam meree bolakar e prophail par aur aap sun rahe hain rohit raathaur ko taiyaar bhaarat ke kisaan itanee jiddee kyon ban gaee aap ka aaj ka savaal hai kya main to yahee kahoonga ki bhaarat ke kisaan jiddee nahin hai are aapako kya sadak par dikh kisaan dikh raha hai yah kisaan nahin hai aap bhee samajh rahe honge yah kaun hai kyonki aa raha tha kisaan sadak par tum kee khetee kaun sa maal rahe yah bataie kya unake khet mein paanee samay to kaun de raha hai gehoon kee phasal kharaab nahin ho rahee hai ki agar usake khet agar kisaan log sadak par hai to unake khet mein unako khetee kaun sa maal hai mere khud ke pita se is kisaan hai par mainne abhee tak unhen koee aise hee jiddee pan hai ya phir koee bhee aise aandolan bhaag lete hue nahin dekha kyonki vah khud apane apana pet paalan ke lie apane khet mein lage hue hain unhen isase koee matalab nahin hai ki jo bhee sarakaar ke apojit mein ya phir usamen jo aandolan chal raha hai unamen kya ho raha hai bas bas kee nolej le lete hain usake baad bhee usase jyaada hone se kuchh lena-dena nahin kyonki unhen pata kar main sadak par chale gaya to khet kaun sambhaalega asalee kisaan too par hee hai asalee kisaan sadak par nahin hai aapako pata hai sadak par kaun hai aur vah kya unaka uddeshy kya hai isake peechhe yah bataane kee aavashyakata hee nahin hai kyonki asalee kisaan apane kheton mein vah apanee pooree lagan aur mehanat se apane desh ke lie kaam kar raha hai vah kisee ko bhookha nahin rakhana chaahata isalie vah apane kheton par kaam kar raha hai din-raat kaam kar raha hai usakee abhee shaayad kat kataee ka seejan chal raha hai jisamen gehoon aur chane kaatane to abhee kisaan sadak par nahin hai vah sadak par aur koee log hee hain jo sarakaar ka virodh karana chaahate hain kisee prakaar se sarakaar ko neecha dikhaana chaahate hain kisee prakaar se kisaanon ka bhala nahin hone dena chaahate hain to aap samajh rahe honge ummeed hai meree baaton ko kee sadak par kaun vyakti hai aur kaun jiddee hai kisaan apanee sahee raah par hai isamen koee dikkat nahin hai to milate hain aap sabhee savaal mein jab tak ke lie tek keyar gud baay

bolkar speaker
भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं?Bharat Ke Kisan Itne Jiddi Kyun Ban Gaye Hain
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:24
सवाल है कि भारत के किसान इतने प्रतीक्षा बंद है किसी से नहीं कहते इसे अपने अधिकारों की अभ्यस्त आवाज उठाना कहते हैं झूठ के लिए सही नहीं है मैं उसके लिए आवाज उठा रहे हैं यह सरकार की गलती है कि मैं उनकी बातों को ना ही तोड़ रही है और ना ही मान रही है तो किसान भी अड़े हुए हैं कि अगर उनकी मांगे पूरी नहीं होगी तो वह प्रोटेस्ट जारी रखेंगे
Savaal hai ki bhaarat ke kisaan itane prateeksha band hai kisee se nahin kahate ise apane adhikaaron kee abhyast aavaaj uthaana kahate hain jhooth ke lie sahee nahin hai main usake lie aavaaj utha rahe hain yah sarakaar kee galatee hai ki main unakee baaton ko na hee tod rahee hai aur na hee maan rahee hai to kisaan bhee ade hue hain ki agar unakee maange pooree nahin hogee to vah protest jaaree rakhenge

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत के किसान इतनी जिद्दी क्यों बन गए हैं भारत के किसान जिद्दी क्यों बन गए हैं
URL copied to clipboard