#पढ़ाई लिखाई

Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:37
कैसे हैं आप सवाल है यदि विद्यार्थी के मन में परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने का दर्द ना रजत उसके दिल में क्या परिवर्तन आया कृपया अपना विचार अवश्य बताएंगे कि निश्चित तौर पर जहां तक मतलब ऐसा होता है कि जो मतलब स्टूडेंट होते हैं उन्हें विश्वास हो जाता है कि मैं इतना पढ़ लिया हूं और मेरे को एग्जाम मराठी लेट हो जाऊंगा अनुत्तीर्ण होने का कोई सवाल ही नहीं उठता लेकिन ऐसा नहीं होता है कि आप कितने परसेंटेज आपके बढ़ेंगे उतना ही आपका मिल अच्छा रहेगा ऐसा नहीं है कि मतलब आप अनुत्तीर्ण खरीदना हो मस्त हो रहे लेकिन वहां पर आपके काम आएंगे होली तो आप लोगों से क्या बताएंगे कि आपने किस तरह से पढ़ाई की तो मतलब नहीं तो पैसा आलसी आ जाता है कि यार अब चलो छोड़ो ज्यादा पढ़ लिया और फिर तो होगा नहीं मिला पास तो हो ही जाऊंगा तो ब्लॉक पढ़ने का कोई मतलब नहीं है क्योंकि यहां पढ़ लिया है कि ताकि आराम से पास हो जाऊंगा लेकिन आप यह बात बिल्कुल नहीं आ पर सोचने क्योंकि देख एक निश्चित अनुपात जितना अधिक बड़ा प्रयास करेंगे अच्छी तरह से पढ़ाई करेंगे आपके परसेंटेज इतनी आएंगे बहुत अच्छे परसेंटेज आएंगे और आपका जो मतलब दिमाग है ना ले जो काफी बढ़ेगा तो हमारे सब से यही सब बातें सुनती है देखे निश्चित तौर पर सफल होना मतलब तो अच्छी बात है लेकिन बहुत अच्छा सपनों में तो उससे भी अच्छी बात है तुम ईद करता हूं सॉल्व कर दो अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Kaise hain aap savaal hai yadi vidyaarthee ke man mein pareeksha mein anutteern hone ka dard na rajat usake dil mein kya parivartan aaya krpaya apana vichaar avashy bataenge ki nishchit taur par jahaan tak matalab aisa hota hai ki jo matalab stoodent hote hain unhen vishvaas ho jaata hai ki main itana padh liya hoon aur mere ko egjaam maraathee let ho jaoonga anutteern hone ka koee savaal hee nahin uthata lekin aisa nahin hota hai ki aap kitane parasentej aapake badhenge utana hee aapaka mil achchha rahega aisa nahin hai ki matalab aap anutteern khareedana ho mast ho rahe lekin vahaan par aapake kaam aaenge holee to aap logon se kya bataenge ki aapane kis tarah se padhaee kee to matalab nahin to paisa aalasee aa jaata hai ki yaar ab chalo chhodo jyaada padh liya aur phir to hoga nahin mila paas to ho hee jaoonga to blok padhane ka koee matalab nahin hai kyonki yahaan padh liya hai ki taaki aaraam se paas ho jaoonga lekin aap yah baat bilkul nahin aa par sochane kyonki dekh ek nishchit anupaat jitana adhik bada prayaas karenge achchhee tarah se padhaee karenge aapake parasentej itanee aaenge bahut achchhe parasentej aaenge aur aapaka jo matalab dimaag hai na le jo kaaphee badhega to hamaare sab se yahee sab baaten sunatee hai dekhe nishchit taur par saphal hona matalab to achchhee baat hai lekin bahut achchha sapanon mein to usase bhee achchhee baat hai tum eed karata hoon solv kar do achchha laga hoga dhanyavaad

और जवाब सुनें

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:09
खाना कपड़ा नहीं हटे विद्यार्थी के मने परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने का डर ही ना रह जाए तो उसके अध्ययन में क्या परिवर्तन आएगा तो नहीं बहुत ही अच्छा यहां पर आपने प्रश्न पूछा है प्रश्न पूछने के लिए धन्यवाद तो आपको बताए जाएंगे देखिए अगर किसी इंसान के अंदर परीक्षा का डर ही खत्म हो जाए तो फिर उसकी परफॉर्मेंस भी खत्म हो जाती है क्योंकि हमें पता चल जाता है कि यह चीज तो हमें हक से मिली जाएगी हम तो उस पर अपना हाथ में लग जाते हैं बताइए सोचने की कि इसमें अगर हम अच्छा परफॉर्म नहीं करेंगे तो आगे हमें जिंदगी में दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा बावजूद इसके अब वहां से अपना मन हटा लेते हैं और मेरा करने से जीत को चुराते हैं जिसके कारण उन विषयों का हमें अच्छा ज्ञान प्राप्त नहीं हो पाता और फिर आगे चलकर हमारे लिए ही समस्या खड़ी होती है तो ऐसे में थोड़ा सा शेयर होना चाहिए क्लियर कर होना चाहिए तभी कोई इंसान अच्छे से परफॉर्म कर पाता है आपकी क्या राय है इस बारे में कमेंट सेक्शन हो अपनी राय जरुर व्यक्त करें मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Khaana kapada nahin hate vidyaarthee ke mane pareeksha mein anutteern hone ka dar hee na rah jae to usake adhyayan mein kya parivartan aaega to nahin bahut hee achchha yahaan par aapane prashn poochha hai prashn poochhane ke lie dhanyavaad to aapako batae jaenge dekhie agar kisee insaan ke andar pareeksha ka dar hee khatm ho jae to phir usakee paraphormens bhee khatm ho jaatee hai kyonki hamen pata chal jaata hai ki yah cheej to hamen hak se milee jaegee ham to us par apana haath mein lag jaate hain bataie sochane kee ki isamen agar ham achchha paraphorm nahin karenge to aage hamen jindagee mein dikkaton ka saamana karana padega baavajood isake ab vahaan se apana man hata lete hain aur mera karane se jeet ko churaate hain jisake kaaran un vishayon ka hamen achchha gyaan praapt nahin ho paata aur phir aage chalakar hamaare lie hee samasya khadee hotee hai to aise mein thoda sa sheyar hona chaahie kliyar kar hona chaahie tabhee koee insaan achchhe se paraphorm kar paata hai aapakee kya raay hai is baare mein kament sekshan ho apanee raay jarur vyakt karen main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
🧖‍♀️life coach,Spiritual Advisor And Motivational speaker🙏
1:45
कृष्ण हरि विद्यार्थी के मन में परीक्षा में हो अनुसरण होने का डर ही ना रह जाए तो उसके अध्ययन में क्या परिवर्तन आएगा कृपया अपने विचार अवश्य पता है दोस्तों अगर आपके बच्चों को यह नहीं पता क्या नूतन का मतलब क्या होता है तो उन्हें अच्छे से आपको समझाना होगा ठीक है क्योंकि अगर आप इन्हें समझाएंगे तभी उस आज पाएंगे और मैं यह नहीं कहूंगी कि डरना क्यों नहीं कर पाती क्यों नहीं कर पाते उनके अंदर डर नहीं रहता तो उनके अंदर उस टाइम उस टाइम के लिए फ्यूचर के लिए वह पढ़ाई में अच्छे से फोकस करें थोड़ा सा डालना होगा बस ज्यादा नहीं क्योंकि वह मूड बन जाता है तो थोड़ा सा डर लाना होगा कि वह थोड़ा फोकस करें दूसरे बच्चे ऐसे होते हैं जो अनुच्छेद का मतलब जानते हैं लेकिन वह उनके से नहीं डरते वह उनका कॉन्फिडेंस है ऐसा होता है कि मैं पढ़ाई करूंगा और मैं तेरा बन जाऊंगा और अच्छे नंबर ले लूंगा तू बच्चे ने अपनी पढ़ाई पर फोकस करते हैं उन्हें अच्छे से पता हो जाएगी कैसे होते 2 बच्चों ने एक को समझाना पड़ता है एक को समझाया जा चुका है लेकिन अब वह समझ चुका है और रो कर रहा है अपने पढ़ाई मन करता है तू दो बच्चे होते दोनों में ऐसे-ऐसे फर्क होते हैं तो यह होता है और वह लोग अच्छे से पढ़ाई में ध्यान देते हैं जो कि समझ चुके हैं और अनुच्छेद को अपनी लाइफ में डर बना कर नहीं जी रहे हैं बल्कि अपनी पढ़ाई पर फोकस कर रहे हैं तो यह बहुत स्ट्रॉन्ग होते हैं आगे पढ़ते हैं लेकिन दूसरे को नॉलेज नहीं है तो उन्हें आप ही नॉलेज देंगे कि अनुच्छेद का मतलब क्या होता है ठीक है तो फिर वह अपनी साइड में फोकस करेंगे थैंक यू
Krshn hari vidyaarthee ke man mein pareeksha mein ho anusaran hone ka dar hee na rah jae to usake adhyayan mein kya parivartan aaega krpaya apane vichaar avashy pata hai doston agar aapake bachchon ko yah nahin pata kya nootan ka matalab kya hota hai to unhen achchhe se aapako samajhaana hoga theek hai kyonki agar aap inhen samajhaenge tabhee us aaj paenge aur main yah nahin kahoongee ki darana kyon nahin kar paatee kyon nahin kar paate unake andar dar nahin rahata to unake andar us taim us taim ke lie phyoochar ke lie vah padhaee mein achchhe se phokas karen thoda sa daalana hoga bas jyaada nahin kyonki vah mood ban jaata hai to thoda sa dar laana hoga ki vah thoda phokas karen doosare bachche aise hote hain jo anuchchhed ka matalab jaanate hain lekin vah unake se nahin darate vah unaka konphidens hai aisa hota hai ki main padhaee karoonga aur main tera ban jaoonga aur achchhe nambar le loonga too bachche ne apanee padhaee par phokas karate hain unhen achchhe se pata ho jaegee kaise hote 2 bachchon ne ek ko samajhaana padata hai ek ko samajhaaya ja chuka hai lekin ab vah samajh chuka hai aur ro kar raha hai apane padhaee man karata hai too do bachche hote donon mein aise-aise phark hote hain to yah hota hai aur vah log achchhe se padhaee mein dhyaan dete hain jo ki samajh chuke hain aur anuchchhed ko apanee laiph mein dar bana kar nahin jee rahe hain balki apanee padhaee par phokas kar rahe hain to yah bahut strong hote hain aage padhate hain lekin doosare ko nolej nahin hai to unhen aap hee nolej denge ki anuchchhed ka matalab kya hota hai theek hai to phir vah apanee said mein phokas karenge thaink yoo

Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:01
यदि विद्यार्थी के मन में परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने का डर ही ना रह जाए तो उसका अध्ययन में क्या परिवर्तन आएगा अगर मैं पास या फेल रिबन चीजों से नहीं चलता हूं तो मेरे में अपने आप ही मेरा सुधार होगा मेरे बिहेवियर के अंदर में अगर किसी विद्यार्थी के मन में परीक्षा फेल होने का डर अगर नहीं है तो वह नॉलेज के ऊपर फोकस करेगा अभी परीक्षा में फेल होने के चक्कर में उसको पास कैसे हो ना उसके ऊपर पर फोकस करना पड़ता है ब्रेन ऐसी काम करता है कि मुझे फेल नहीं होना मुझे फेल नहीं होना है तो मुझे पास होने मुझे पास कैसे होना है तो मुझे इतने क्वेश्चन सॉल्व करने पड़ेंगे कितने नंबर लाने पड़ेंगे तब मैं पास होगा तो इतना करना है ऐसे तो आप स्मार्ट इसलिए हमें नंबर लाने एग्जाम के अंदर तो आपका नंबर लगेगा पैसा कॉलेज में अच्छी नौकरी तो है उसको चेंज जब होगा तब की तब देखेंगे लेकिन अभी चेंज हो रहा है कि बैटरी पता है कि मैं नंबर हाईएस्ट कैसे ला सकता हूं दूसरे यह कि इस टाटा जगह कंफर्म है तो आपको कुंडली नहीं है फेल होने का दूसरा है कि अब यह तो सेठ जी के हिसाब से मैंने पढ़ लिया अब मैं पढ़ना चाहता हूं मेरे खुद के नॉलेज के लिए मत समझना चाहता हूं कि इंजीनियरिंग कैसा चलता है मैं समझना चाहता हूं कॉमर्स कैसे होता है उसके अंदर आपके एग्जाम निकल सकती नई भी निकल सकते लेकिन कॉलेज आपको हमेशा काम में आएगा जिंदगी भर काम में आएगा आपके क्षेत्र तो यह दो चीज आप अप्लाई करने से आंदोलन आंदोलन होने का डर निकाल सकते हो लेकिन अगर मैं दोनों चीजें ना करो और मुझे डर भी नहीं है तो वह तो मूर्खता है क्योंकि उसने तो नहीं क्या नहीं आपने पढ़ाई की है नहीं अपने पास होने की स्ट्रैटेजी बनाई है तो फिर तो भगवान भरोसे ही है सब कुछ
Yadi vidyaarthee ke man mein pareeksha mein anutteern hone ka dar hee na rah jae to usaka adhyayan mein kya parivartan aaega agar main paas ya phel riban cheejon se nahin chalata hoon to mere mein apane aap hee mera sudhaar hoga mere biheviyar ke andar mein agar kisee vidyaarthee ke man mein pareeksha phel hone ka dar agar nahin hai to vah nolej ke oopar phokas karega abhee pareeksha mein phel hone ke chakkar mein usako paas kaise ho na usake oopar par phokas karana padata hai bren aisee kaam karata hai ki mujhe phel nahin hona mujhe phel nahin hona hai to mujhe paas hone mujhe paas kaise hona hai to mujhe itane kveshchan solv karane padenge kitane nambar laane padenge tab main paas hoga to itana karana hai aise to aap smaart isalie hamen nambar laane egjaam ke andar to aapaka nambar lagega paisa kolej mein achchhee naukaree to hai usako chenj jab hoga tab kee tab dekhenge lekin abhee chenj ho raha hai ki baitaree pata hai ki main nambar haeeest kaise la sakata hoon doosare yah ki is taata jagah kampharm hai to aapako kundalee nahin hai phel hone ka doosara hai ki ab yah to seth jee ke hisaab se mainne padh liya ab main padhana chaahata hoon mere khud ke nolej ke lie mat samajhana chaahata hoon ki injeeniyaring kaisa chalata hai main samajhana chaahata hoon komars kaise hota hai usake andar aapake egjaam nikal sakatee naee bhee nikal sakate lekin kolej aapako hamesha kaam mein aaega jindagee bhar kaam mein aaega aapake kshetr to yah do cheej aap aplaee karane se aandolan aandolan hone ka dar nikaal sakate ho lekin agar main donon cheejen na karo aur mujhe dar bhee nahin hai to vah to moorkhata hai kyonki usane to nahin kya nahin aapane padhaee kee hai nahin apane paas hone kee straitejee banaee hai to phir to bhagavaan bharose hee hai sab kuchh

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:22
प्रणाम साथियों आपका सवाल है यदि विद्यार्थी के मन में परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने का डर ही नाराज रह जाए तो उसके अध्ययन में क्या परिवर्तन आएगा गरबा बताइए तो साथियों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार से विद्यार्थी के मन में परीक्षा से संबंधित उनके मेन मकसद होता है हमें अच्छे से अच्छी तरीके से पढ़ाई करके और अच्छे नंबर प्राप्त करना और अच्छे नंबरों से उतरने होना और जो विद्यार्थी सही ढंग से तैयारी नहीं करते हैं उनको हमेशा यह डर सताता रहता है कि अनुकरणीय ना हो जाए इसलिए अगर उतरने होना चाहते हैं और विद्यार्थी सही समय पर अच्छी तैयारी करते हैं और अपना टाइम को सही तरीके से वैल्युएशन को समझते हैं और जो विद्यार्थी सही ढंग से नहीं पड़ते हैं वह हमेशा अनुसरण ही रहते हैं इसलिए अगर आप सही टाइम मैनेजमेंट के हिसाब से जारी करेंगे तो आप जरूर पहने होंगे और आपको ऑन उतरने की समस्या से नहीं जूझना पड़ेगा धन्यवाद साथियों खुश रहो
Pranaam saathiyon aapaka savaal hai yadi vidyaarthee ke man mein pareeksha mein anutteern hone ka dar hee naaraaj rah jae to usake adhyayan mein kya parivartan aaega garaba bataie to saathiyon aapake savaal ka uttar is prakaar se vidyaarthee ke man mein pareeksha se sambandhit unake men makasad hota hai hamen achchhe se achchhee tareeke se padhaee karake aur achchhe nambar praapt karana aur achchhe nambaron se utarane hona aur jo vidyaarthee sahee dhang se taiyaaree nahin karate hain unako hamesha yah dar sataata rahata hai ki anukaraneey na ho jae isalie agar utarane hona chaahate hain aur vidyaarthee sahee samay par achchhee taiyaaree karate hain aur apana taim ko sahee tareeke se vailyueshan ko samajhate hain aur jo vidyaarthee sahee dhang se nahin padate hain vah hamesha anusaran hee rahate hain isalie agar aap sahee taim mainejament ke hisaab se jaaree karenge to aap jaroor pahane honge aur aapako on utarane kee samasya se nahin joojhana padega dhanyavaad saathiyon khush raho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • परीक्षा का डर, बिना डर की पढ़ाई कैसे होती है, बिना डर के पढ़ना
URL copied to clipboard