#भारत की राजनीति

bolkar speaker

भारत में नेता चुनाव नजदीक आने पर पार्टियां क्यों बदल लेते हैं?

Bharat Mein Neta Chunaav Najdeek Aane Par Partiyaan Kyun Badal Lete Hain
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
3:56
एक बात नोट करो संसार में सबसे घटिया राजनीति भी कहीं होती है तो वह भारत देश है अन्य देशों में देश सर्वोपरि होता है गणित सर्वोच्च सर्वोपरि होता है किसी भी देश के जनतंत्र को उठाकर लोकतंत्र को उठाकर देख लो आप मां के संविधान के अंतर्गत चयनित सर्वोपरि माना जाता है लेकिन हमारे देश की सबसे घटिया राजनीति यह है कि हमारे देश के यह पॉलीटिकल पार्टीज है यह इतनी स्वार्थी इतनी खुदगर्ज लालची नेताओं से भरी हुई है कि कहते कुछ हैं यह करते कुछ है यह बातें बड़ी बड़ी जनसभाओं में जनसेवा की करते हैं जनकल्याण की करते हैं जनहित की करते हैं देश सेवा की बात करते हैं लेकिन इतिहास उठाकर देख लो इन 74 साल के इतिहास में इन नेताओं ने केवल अपने घर भरेंगे अपने में मेरी की की है अपने पुत्र पुत्रियों के लिए किया है वंशवाद इस कदर हावी है जैसे राजाओं के बाद में राजा के मरने के बाद में उसका पुत्र पुत्र का उत्तराधिकारी बनता था ठीक इसी प्रकार इन नेताओं ने वंशवाद इस देश में चला दिया है हर नेता ने अपने लड़के लड़कियों को आगे बढ़ाया है अपने रिश्तेदार उनको तवज्जो दी हैं उनके नाम से ही ब्लैक मनी करती की है स्वार्थ खुदगर्जी का आलम इस कदर है कि इनको देश की कोई परवाह नहीं है क्योंकि तुम सोचो एक छोटा सा एग्जांपल दे रहा हूं कि कोरोनावायरस प्राकृतिक रूप में योग्य पति आई थी यह तो यह को विदेशों में हमसे भारत देश से ज्यादा फैला हुआ था वरना यह आदमी डर यहां से छोड़ छोड़ करके भारत को तुम को सुकून मरता हमको छोड़कर किसी देश में पड़ी अपने-अपने विदेशों में भाग जाते हैं क्योंकि इनकी विदेशों मकान है कि ब्लैक मनी इनके लिए कोई नियम नहीं है कोई सिद्धांत नहीं है कोई पॉलिटिकल पार्टी स्क्रीन के कोई सिद्धांत नहीं है यह स्वार्थ के लिए रातों-रात पार्टियां बदल लेते हैं स्वार्थ के लिए रात रात पार्टी अगले कर लेते हैं इसके लिए सत्ता का सुख सर्वोपरि है सत्ता का लालच सड़कों पर यही सत्ता के लिए लड़ते हैं सत्ता के लिए जुड़ते हैं सत्ता के लिए ही तोड़ते हैं सत्ता के लिए ही उनका सब कुछ कार्य होता है हर राजनीतिक पार्टी का ही है यार यहां तक कि कोई मर जाता है उस पर भी राजनीति करने से बाज नहीं आते उसके घर पहुंच जाते हैं अपने चमचों को ले करके फिर राजनीति प्रारंभ करते हैं सिर्फ सत्ता के लिए ही उनका सब कुछ होता है सत्ता के लिए जोड़ते हैं तोड़ते हैं तो बेटा इनका कोई स्थिति ऐसी नहीं कह सकते आप पार्टी के सिद्धांत नहीं है किसी के भी जब बीजेपी हो चाहे कांग्रेस हो चाहे पापा को समझता हूं सबके यहां सिर्फ आप बताइए मुझे कितने इस देश में भारत देश में कितने मोदी जैसे योग्य जीनियस समर्पित देश के प्रति निष्ठावान कष्ट देता है कितने योगी जैसे हैं जो कर्तव्यनिष्ठ है वफादार हैं देश के प्रति समर्पित हैं ऐसे देश से भी नेता यदि आपके ने बैठेंगे तो भारत की राजनीति में शायद 10:05 नाम आपको मुश्किल से मिलेंगे क्योंकि जो समर्पित हैं जो देश सेवा करते हैं जो कर्तव्यनिष्ठ है वफादार हैं उनका लालच कि नहीं उनके लालच नहीं पकड़ सकते उनके लालच नहीं है उनके पास क्योंकि पिकअप तब भी नष्ट हैं ऐसे नेता कम है जो जीते भी एक पार्टी में है मरते भी एक पार्टी में एक पार्टी में ही रहते हैं यह स्वार्थी खुदगर्ज लालची गिरगिट नेता हैं गिरगिट की तरह रंग बदलते हैं
Ek baat not karo sansaar mein sabase ghatiya raajaneeti bhee kaheen hotee hai to vah bhaarat desh hai any deshon mein desh sarvopari hota hai ganit sarvochch sarvopari hota hai kisee bhee desh ke janatantr ko uthaakar lokatantr ko uthaakar dekh lo aap maan ke sanvidhaan ke antargat chayanit sarvopari maana jaata hai lekin hamaare desh kee sabase ghatiya raajaneeti yah hai ki hamaare desh ke yah poleetikal paarteej hai yah itanee svaarthee itanee khudagarj laalachee netaon se bharee huee hai ki kahate kuchh hain yah karate kuchh hai yah baaten badee badee janasabhaon mein janaseva kee karate hain janakalyaan kee karate hain janahit kee karate hain desh seva kee baat karate hain lekin itihaas uthaakar dekh lo in 74 saal ke itihaas mein in netaon ne keval apane ghar bharenge apane mein meree kee kee hai apane putr putriyon ke lie kiya hai vanshavaad is kadar haavee hai jaise raajaon ke baad mein raaja ke marane ke baad mein usaka putr putr ka uttaraadhikaaree banata tha theek isee prakaar in netaon ne vanshavaad is desh mein chala diya hai har neta ne apane ladake ladakiyon ko aage badhaaya hai apane rishtedaar unako tavajjo dee hain unake naam se hee blaik manee karatee kee hai svaarth khudagarjee ka aalam is kadar hai ki inako desh kee koee paravaah nahin hai kyonki tum socho ek chhota sa egjaampal de raha hoon ki koronaavaayaras praakrtik roop mein yogy pati aaee thee yah to yah ko videshon mein hamase bhaarat desh se jyaada phaila hua tha varana yah aadamee dar yahaan se chhod chhod karake bhaarat ko tum ko sukoon marata hamako chhodakar kisee desh mein padee apane-apane videshon mein bhaag jaate hain kyonki inakee videshon makaan hai ki blaik manee inake lie koee niyam nahin hai koee siddhaant nahin hai koee politikal paartee skreen ke koee siddhaant nahin hai yah svaarth ke lie raaton-raat paartiyaan badal lete hain svaarth ke lie raat raat paartee agale kar lete hain isake lie satta ka sukh sarvopari hai satta ka laalach sadakon par yahee satta ke lie ladate hain satta ke lie judate hain satta ke lie hee todate hain satta ke lie hee unaka sab kuchh kaary hota hai har raajaneetik paartee ka hee hai yaar yahaan tak ki koee mar jaata hai us par bhee raajaneeti karane se baaj nahin aate usake ghar pahunch jaate hain apane chamachon ko le karake phir raajaneeti praarambh karate hain sirph satta ke lie hee unaka sab kuchh hota hai satta ke lie jodate hain todate hain to beta inaka koee sthiti aisee nahin kah sakate aap paartee ke siddhaant nahin hai kisee ke bhee jab beejepee ho chaahe kaangres ho chaahe paapa ko samajhata hoon sabake yahaan sirph aap bataie mujhe kitane is desh mein bhaarat desh mein kitane modee jaise yogy jeeniyas samarpit desh ke prati nishthaavaan kasht deta hai kitane yogee jaise hain jo kartavyanishth hai vaphaadaar hain desh ke prati samarpit hain aise desh se bhee neta yadi aapake ne baithenge to bhaarat kee raajaneeti mein shaayad 10:05 naam aapako mushkil se milenge kyonki jo samarpit hain jo desh seva karate hain jo kartavyanishth hai vaphaadaar hain unaka laalach ki nahin unake laalach nahin pakad sakate unake laalach nahin hai unake paas kyonki pikap tab bhee nasht hain aise neta kam hai jo jeete bhee ek paartee mein hai marate bhee ek paartee mein ek paartee mein hee rahate hain yah svaarthee khudagarj laalachee giragit neta hain giragit kee tarah rang badalate hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत के वर्तमान में कुल कितने राष्ट्रीय दल है, भारतीय लोकतंत्र में राजनीतिक दलों की भूमिका, भारत में क्षेत्रीय दलों की भूमिका
URL copied to clipboard