#भारत की राजनीति

bolkar speaker

भारत सरकार ने रेल नीति में क्या घोषणा की?

Bharat Sarkar Ne Rail Neeti Mein Kya Ghoshna Ki
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
2:20
इतिहास की जो भारत सरकार है इन्होंने जुड़ी नीतियां बनाई मैंगो आम नागरिकों के कार्य नहीं मानता देश के स्वतंत्र होने के 74 साल हो चुके हैं और इन 74 सालों में जितने भी रेलमंत्री हुए हैं आज तक आम जनता की दृष्टि से आम नागरिक की दृष्टि से यदि देखा जाएगा तो इन 74 सालों में जितने भी रेलमंत्री हुए हैं उनसे में सबसे सरल से निसंकोच रूप से लालू प्रसाद यादव को खा जाता है जो 5 साल शासन में रहे लेकिन उन्हें कभी चल आम जनता के लिए साधारण किराया नहीं अब यह जो ट्रेन रेल मंत्री जी या भारत सरकार कर रही है आज आम नागरिक के लिए कितना किराया बढ़ चुका है आम भारती का जीवन कितना कठिन हो गया है आम नागरिक के लिए यह दिल कराए उसकी पोस्ट से बहुत ज्यादा बहारों की सरकार तो इस बहाने से रेलों के द्वारा अर्निंग कर रही है 2 दिनों की खींची निकाल रही है लेकिन आम नागरिक का ट्रेन का सफर बहुत कठिन हो गया है उसका कारण उसका कारण कभी 40 को ध्यान नहीं रखा जनसाधारण का ध्यान हमेशा बजट वह बेहतर होता है जिसमें गौतम के व्यक्ति को ध्यान में रखा जाता है और उस उसको लेकर के जो बनाया जाता है वह बजट के अलावा इनकी जोड़ी नीति है अब यह कुछ भी बना रहे हैं मैं इसको जनहितकारी नहीं कह सकता हूं क्योंकि इन्होंने रेल का सफर आम नागरिक के लिए बहुत ही कठिन कर दिया है और बहुत ही खर्चीला बना दिया है क्योंकि इनको सिर्फ अपनी अर्निंग से मतलब है आम नागरिक लिखित में दर पर हो जाएगा क्योंकि तुम सोचो रेल मंत्री भाई का जा सकता है अच्छी सरकार वही क्या सोचती है कही जा सकती है तो एक आम नागरिक के हितों को ध्यान रखें आम नागरिक की चीज का ध्यान रखें जबकि इस सरकार ने ऐसा कुछ नहीं किया है बड़ा दुर्भाग्य का विषय है
Itihaas kee jo bhaarat sarakaar hai inhonne judee neetiyaan banaee maingo aam naagarikon ke kaary nahin maanata desh ke svatantr hone ke 74 saal ho chuke hain aur in 74 saalon mein jitane bhee relamantree hue hain aaj tak aam janata kee drshti se aam naagarik kee drshti se yadi dekha jaega to in 74 saalon mein jitane bhee relamantree hue hain unase mein sabase saral se nisankoch roop se laaloo prasaad yaadav ko kha jaata hai jo 5 saal shaasan mein rahe lekin unhen kabhee chal aam janata ke lie saadhaaran kiraaya nahin ab yah jo tren rel mantree jee ya bhaarat sarakaar kar rahee hai aaj aam naagarik ke lie kitana kiraaya badh chuka hai aam bhaaratee ka jeevan kitana kathin ho gaya hai aam naagarik ke lie yah dil karae usakee post se bahut jyaada bahaaron kee sarakaar to is bahaane se relon ke dvaara arning kar rahee hai 2 dinon kee kheenchee nikaal rahee hai lekin aam naagarik ka tren ka saphar bahut kathin ho gaya hai usaka kaaran usaka kaaran kabhee 40 ko dhyaan nahin rakha janasaadhaaran ka dhyaan hamesha bajat vah behatar hota hai jisamen gautam ke vyakti ko dhyaan mein rakha jaata hai aur us usako lekar ke jo banaaya jaata hai vah bajat ke alaava inakee jodee neeti hai ab yah kuchh bhee bana rahe hain main isako janahitakaaree nahin kah sakata hoon kyonki inhonne rel ka saphar aam naagarik ke lie bahut hee kathin kar diya hai aur bahut hee kharcheela bana diya hai kyonki inako sirph apanee arning se matalab hai aam naagarik likhit mein dar par ho jaega kyonki tum socho rel mantree bhaee ka ja sakata hai achchhee sarakaar vahee kya sochatee hai kahee ja sakatee hai to ek aam naagarik ke hiton ko dhyaan rakhen aam naagarik kee cheej ka dhyaan rakhen jabaki is sarakaar ne aisa kuchh nahin kiya hai bada durbhaagy ka vishay hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत सरकार ने रेल नीति में क्या घोषणा की रेल नीति में क्या घोषणा की
URL copied to clipboard