#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

एक मनुष्य में भावनाओं का होना कितना आवश्यक होता है?

Ek Manushya Mein Bhaavnao Ka Hona Kitna Aavashyak Hota Hai
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
1:05
वापस वाले एक मनुष्य में भावना को होना कितना आवश्यक है तो एक मनुष्य में भावनाओं को होना अति आवश्यक के दिन में भावना के मनुष्य नहीं समझते हमारी भावना ही हमें मनुष्य की श्रेणी में लाकर खड़ा करते हैं लेकिन आज आवश्यक नहीं है कि हम अपनी भावनाओं के साथ दूसरों की भावनाओं का भी ध्यान रखना चाहिए अगर हमारी कोई विवाद किसी को तकलीफ दे तो ऐसी बात नहीं करनी थी हम दूसरों के दुख दर्द को अपना सुनना चाहिए और उन्हें दूर करने के लिए परेशान करना चाहिए मेरे विचार हमारे अंदर संपूर्ण मानव जाति है पशु-पक्षी जीवन जंतु सभी के लिए अच्छी भावना होनी चाहिए हम उन्हें कष्ट नहीं देना चाहिए वह भी उनकी तकलीफों को दूर करने के लिए प्रस्थान करते हैं तो भावना के देहित मनुष्य जाति भावना मनुष्य की जाती है मनुष्य खाऊंगा वरना जीवन का एक परिणाम है और जीवन प्रेम और करीब लाने के लिए हमें भावनाओं को ध्यान रखना चाहिए मनुष्य की भावना हो ना उतना ही आवश्यक है मनुष्य होना आवश्यक है दोस्तों धन्यवाद सवाल नहीं शायद पसंद की थी और इस स्काई
Vaapas vaale ek manushy mein bhaavana ko hona kitana aavashyak hai to ek manushy mein bhaavanaon ko hona ati aavashyak ke din mein bhaavana ke manushy nahin samajhate hamaaree bhaavana hee hamen manushy kee shrenee mein laakar khada karate hain lekin aaj aavashyak nahin hai ki ham apanee bhaavanaon ke saath doosaron kee bhaavanaon ka bhee dhyaan rakhana chaahie agar hamaaree koee vivaad kisee ko takaleeph de to aisee baat nahin karanee thee ham doosaron ke dukh dard ko apana sunana chaahie aur unhen door karane ke lie pareshaan karana chaahie mere vichaar hamaare andar sampoorn maanav jaati hai pashu-pakshee jeevan jantu sabhee ke lie achchhee bhaavana honee chaahie ham unhen kasht nahin dena chaahie vah bhee unakee takaleephon ko door karane ke lie prasthaan karate hain to bhaavana ke dehit manushy jaati bhaavana manushy kee jaatee hai manushy khaoonga varana jeevan ka ek parinaam hai aur jeevan prem aur kareeb laane ke lie hamen bhaavanaon ko dhyaan rakhana chaahie manushy kee bhaavana ho na utana hee aavashyak hai manushy hona aavashyak hai doston dhanyavaad savaal nahin shaayad pasand kee thee aur is skaee

और जवाब सुनें

bolkar speaker
एक मनुष्य में भावनाओं का होना कितना आवश्यक होता है?Ek Manushya Mein Bhaavnao Ka Hona Kitna Aavashyak Hota Hai
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:34

bolkar speaker
एक मनुष्य में भावनाओं का होना कितना आवश्यक होता है?Ek Manushya Mein Bhaavnao Ka Hona Kitna Aavashyak Hota Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:32
मनुष्य में भावनाओं का होना कितना आवश्यक होता है दोस्त मनुष्य के अंदर भावना को होना बहुत आवश्यकता होता है इसका भी चेक कर लीजिए कि यदि मान लीजिए किसी व्यक्ति के अंदर भावना नहीं है तो हर एक व्यक्ति एक यानी कि एक ऐसे दौर में चला जाएगा कि वहां पर मारकाट इत्यादि जो है बड़ी तादाद में बढ़ जाएगी लगेंगे देखें कि मनुष्य मनुष्य नहीं रहेगा क्योंकि मनुष्य है
Manushy mein bhaavanaon ka hona kitana aavashyak hota hai dost manushy ke andar bhaavana ko hona bahut aavashyakata hota hai isaka bhee chek kar leejie ki yadi maan leejie kisee vyakti ke andar bhaavana nahin hai to har ek vyakti ek yaanee ki ek aise daur mein chala jaega ki vahaan par maarakaat ityaadi jo hai badee taadaad mein badh jaegee lagenge dekhen ki manushy manushy nahin rahega kyonki manushy hai

bolkar speaker
एक मनुष्य में भावनाओं का होना कितना आवश्यक होता है?Ek Manushya Mein Bhaavnao Ka Hona Kitna Aavashyak Hota Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:12
एक मनुष्य में भावनाओं का होना कितना आवश्यक होता है इमोशन भावनानी इमोशन इमोशन से पाटन पार्सल हमारे अविभाज्य घटक है हमारे ह्यूमन ह्यूमन विंग्स का इमोशंस एनिमल्स में भी होते लेकिन एनिमल्स की इमोशंस इतने एक्सप्रेसिव नहीं होते उनके एक इमोशन समय मदर्स लव रोज इसमें दिखेगा लेकिन जो इंसान इमोशंस होते तो जो यह पूरी भावनाएं होती है यार अब सोते हैं तेरस हमें हर एक अलग अलग तरीके से दिखेगा क्रोध है हंसना है वैसे कुछ नवरस है कंप्लीट तो यह जो भावनाएं होते यह इक्विवेलेंट एलर्जी होती है तो हमारी जो एलर्जी है अंदर की अलग अलग तरीके से बाहर पड़ती है तो यह अलग-अलग भावनाओं के थ्रू बाहर पड़ती है अगर हमें हैप्पीनेस फीलिंग होता है तभी भी उसमें एनर्जी एसोसिएटेड है और किसी अगर विचार से हैप्पी लग रहा है मैं तो उसके अंदर की फीलिंग तो उसके अंदर की भावना जो है जैकलिन एक्शन में डालती है अगर किसी का क्रोध हमें आता है और हमें अगर भावना होती है कि मैं इनको गाली दे दिया मार दूं तो यह एक्शन कहां से आती है तो उस फिलिंग्स वहां पर भावना है एक्जिस्ट करती है एनर्जी होती है एनर्जी का फॉर कन्वर्सेशन भावनाओं में होता है जो कि एक्सप्रेस होता है क्योंकि अगर कुछ दिखेगा तो ही तो हम समझेंगे कि यह क्रोधित है या हंस रहे तो वह बेवर में कन्वर्ट होता है उसके हिसाब से मैं आगे वाले आदमी से भी प्यार करते हैं तो भावना ही भावनाओं को ना बहुत ज्यादा आवश्यक एवं अगर हमें कोई गोलू करना है लाइफ में जहां में कोई बहुत बड़ा बनना है तो उसका प्लान हो कि नहीं चलता है सद्भावना अटैच हो नहीं पड़ती है कि क्या महसूस करो जा वह चीज वहां पर पाने के बाद जब ये भावनाएं अटैच होती है तो यह भावना अपने आप भी क्या करते यह एनर्जी का फॉर्म होती है और यह एनर्जी आपके बाकी बिहेवियरल एनर्जी को वैसे भी वेयर में कन्वर्ट कर दो और आप ऐसी हरकतें करना शुरू कर देते हुए ने उस प्लान की तरह कुछ बोल के तरफ जाने के लिए तो इसलिए भाव नहीं तो यह अविभाज्य घटक है मनुष्य का और यह होना बहुत ही आवश्यक है अगर भावना हीन हो जाते हो तो बड़ी दिक्कत है आपको एनिवर्सरी
Ek manushy mein bhaavanaon ka hona kitana aavashyak hota hai imoshan bhaavanaanee imoshan imoshan se paatan paarsal hamaare avibhaajy ghatak hai hamaare hyooman hyooman vings ka imoshans enimals mein bhee hote lekin enimals kee imoshans itane eksapresiv nahin hote unake ek imoshan samay madars lav roj isamen dikhega lekin jo insaan imoshans hote to jo yah pooree bhaavanaen hotee hai yaar ab sote hain teras hamen har ek alag alag tareeke se dikhega krodh hai hansana hai vaise kuchh navaras hai kampleet to yah jo bhaavanaen hote yah ikvivelent elarjee hotee hai to hamaaree jo elarjee hai andar kee alag alag tareeke se baahar padatee hai to yah alag-alag bhaavanaon ke throo baahar padatee hai agar hamen haippeenes pheeling hota hai tabhee bhee usamen enarjee esosieted hai aur kisee agar vichaar se haippee lag raha hai main to usake andar kee pheeling to usake andar kee bhaavana jo hai jaikalin ekshan mein daalatee hai agar kisee ka krodh hamen aata hai aur hamen agar bhaavana hotee hai ki main inako gaalee de diya maar doon to yah ekshan kahaan se aatee hai to us philings vahaan par bhaavana hai ekjist karatee hai enarjee hotee hai enarjee ka phor kanvarseshan bhaavanaon mein hota hai jo ki eksapres hota hai kyonki agar kuchh dikhega to hee to ham samajhenge ki yah krodhit hai ya hans rahe to vah bevar mein kanvart hota hai usake hisaab se main aage vaale aadamee se bhee pyaar karate hain to bhaavana hee bhaavanaon ko na bahut jyaada aavashyak evan agar hamen koee goloo karana hai laiph mein jahaan mein koee bahut bada banana hai to usaka plaan ho ki nahin chalata hai sadbhaavana ataich ho nahin padatee hai ki kya mahasoos karo ja vah cheej vahaan par paane ke baad jab ye bhaavanaen ataich hotee hai to yah bhaavana apane aap bhee kya karate yah enarjee ka phorm hotee hai aur yah enarjee aapake baakee biheviyaral enarjee ko vaise bhee veyar mein kanvart kar do aur aap aisee harakaten karana shuroo kar dete hue ne us plaan kee tarah kuchh bol ke taraph jaane ke lie to isalie bhaav nahin to yah avibhaajy ghatak hai manushy ka aur yah hona bahut hee aavashyak hai agar bhaavana heen ho jaate ho to badee dikkat hai aapako enivarsaree

bolkar speaker
एक मनुष्य में भावनाओं का होना कितना आवश्यक होता है?Ek Manushya Mein Bhaavnao Ka Hona Kitna Aavashyak Hota Hai
Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
1:03
वेलकम बैक स्वागत है आप सबका मेरे बोलकर है प्रोफाइल पर और आप सुन रहे हैं रोहित राठौर को तैयार मनुष्य में भावनाओं का होना कितना आवश्यक है उतना ही मैं कहूंगा उतना ही आवश्यक है जितना हमारे पृथ्वी पर नदियों में पानी अवश्य यहां दोस्तों अगर कोई भी मनुष्य भावनाएं रही थी या भावना ही नहीं है उसमें भावनाएं नहीं है किसी के बारे में कुछ अच्छा पति भी नहीं कर पा रहा है कुछ सोच ही नहीं पा रहा है वह शिव लाल लाल लाल लाल लाल लाल के बारे में सोचें तो उसका जीना व्यर्थ है क्योंकि ना कोई उसका सहयोगी बनना चाहेगा ना कोई उसका दोस्त बनना चाहेगा ना कोई उस से प्रेम करना चाहेगा ना कोई से कोई संबंध रखना चाहेगा तो यह उसी प्रकार हो जाएगा जिस प्रकार नदियों करेंगे यह मनुष्य के सुख ना या उसके पतन के कारण बनता है भावना ही मनुष्य जब तक मनुष्य में भावना नहीं होगी उसका कोई साथ ही नहीं हुआ तो ऐसे ही सवाल करते रहिए मंत्र जब तक के लिए टेक केयर
Velakam baik svaagat hai aap sabaka mere bolakar hai prophail par aur aap sun rahe hain rohit raathaur ko taiyaar manushy mein bhaavanaon ka hona kitana aavashyak hai utana hee main kahoonga utana hee aavashyak hai jitana hamaare prthvee par nadiyon mein paanee avashy yahaan doston agar koee bhee manushy bhaavanaen rahee thee ya bhaavana hee nahin hai usamen bhaavanaen nahin hai kisee ke baare mein kuchh achchha pati bhee nahin kar pa raha hai kuchh soch hee nahin pa raha hai vah shiv laal laal laal laal laal laal ke baare mein sochen to usaka jeena vyarth hai kyonki na koee usaka sahayogee banana chaahega na koee usaka dost banana chaahega na koee us se prem karana chaahega na koee se koee sambandh rakhana chaahega to yah usee prakaar ho jaega jis prakaar nadiyon karenge yah manushy ke sukh na ya usake patan ke kaaran banata hai bhaavana hee manushy jab tak manushy mein bhaavana nahin hogee usaka koee saath hee nahin hua to aise hee savaal karate rahie mantr jab tak ke lie tek keyar

bolkar speaker
एक मनुष्य में भावनाओं का होना कितना आवश्यक होता है?Ek Manushya Mein Bhaavnao Ka Hona Kitna Aavashyak Hota Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:58
आपका प्रश्न है कि एक मनुष्य में भावनाओं का होना के तमाशा देखे मनुष्य की बात हम बाद में करते हैं लेकिन आपने देखा होगा भावनाएं तो जानवरों में भी होती एक गाय को या गाय के बछड़े को अगर आप लाड प्यार करते हैं दुलार करते हैं उस को गोद में लेकर केक खिलाते हैं उसको ने लाते हैं उसको प्यार करते हैं तो वह गाय गाय का बछड़ा आपको दूर से देख कर के ही वह अपनी भाषा में आवाज देता है आपकी तरफ दौड़ के आ जाता है कि चा चलाता है जो लोग तुम को पालते हैं आपने वहां पर भी यह चीज देखी होगी तब जब जानवरों के अंदर की भावनाएं होती है तो इंसान से इंसान जैसा व्यक्तित्व मस्तिष्क वाला भी अगर भावनाओं से शादी है तो मैं समझता हूं फिर वह इस संसार में इस धरती पर मात्र एक रोज एक बार पशु से भी जानवर से भी गया बीता है किसी ने कितनी अच्छी लाइन कही है भरा नहीं जो भावों से बहती जिसमें रसधार नहीं हृदय नहीं वह पत्थर है तो वाकई वह पत्थर है इस व्यक्ति के अंदर भावनाएं और राधा एक से एक दूसरे के प्रति अपनी भावनाओं को समझ नहीं सकता जाहिर नहीं कर सकता महसूस नहीं कर सकता तो फिर वक्त किस तरह का व्यक्ति है उसको व्यक्ति कहना मनुष्य कहना मनुष्यता का अपमान होगा भावनाओं के कारण ही हम संसार में एक दूसरे का सम्मान करते हैं हम एक दूसरे की भावनाओं के कारण ही मदद करते हैं हम भावनाओं के कारण ही अपने बच्चों से प्यार करते हैं हम भावनाओं के कारण ही अपने माता-पिता से प्यार करते हैं हम भावनाओं के कारण ही शादी करते हैं और भावनाओं के कारण ही दो विपरीत दो अलग-अलग परिवारों से आने के बावजूद भी अपने संबंधों को उत्कृष्ट स्तर पर ले जाते हैं और जीवन यापन यह सारी भावनाओं की समाधि है और अगर सिर्फ भावनाएं नहीं है तो वह व्यक्ति इंसान का है कहो तो एक पत्थर की तरह है जिसका अपना कोई भावनाओं का अस्तित्व नहीं है तो उस व्यक्ति का ही अस्तित्व में यही मेरी समझ है भावनाओं का होना बहुत आवश्यक है
Aapaka prashn hai ki ek manushy mein bhaavanaon ka hona ke tamaasha dekhe manushy kee baat ham baad mein karate hain lekin aapane dekha hoga bhaavanaen to jaanavaron mein bhee hotee ek gaay ko ya gaay ke bachhade ko agar aap laad pyaar karate hain dulaar karate hain us ko god mein lekar kek khilaate hain usako ne laate hain usako pyaar karate hain to vah gaay gaay ka bachhada aapako door se dekh kar ke hee vah apanee bhaasha mein aavaaj deta hai aapakee taraph daud ke aa jaata hai ki cha chalaata hai jo log tum ko paalate hain aapane vahaan par bhee yah cheej dekhee hogee tab jab jaanavaron ke andar kee bhaavanaen hotee hai to insaan se insaan jaisa vyaktitv mastishk vaala bhee agar bhaavanaon se shaadee hai to main samajhata hoon phir vah is sansaar mein is dharatee par maatr ek roj ek baar pashu se bhee jaanavar se bhee gaya beeta hai kisee ne kitanee achchhee lain kahee hai bhara nahin jo bhaavon se bahatee jisamen rasadhaar nahin hrday nahin vah patthar hai to vaakee vah patthar hai is vyakti ke andar bhaavanaen aur raadha ek se ek doosare ke prati apanee bhaavanaon ko samajh nahin sakata jaahir nahin kar sakata mahasoos nahin kar sakata to phir vakt kis tarah ka vyakti hai usako vyakti kahana manushy kahana manushyata ka apamaan hoga bhaavanaon ke kaaran hee ham sansaar mein ek doosare ka sammaan karate hain ham ek doosare kee bhaavanaon ke kaaran hee madad karate hain ham bhaavanaon ke kaaran hee apane bachchon se pyaar karate hain ham bhaavanaon ke kaaran hee apane maata-pita se pyaar karate hain ham bhaavanaon ke kaaran hee shaadee karate hain aur bhaavanaon ke kaaran hee do vipareet do alag-alag parivaaron se aane ke baavajood bhee apane sambandhon ko utkrsht star par le jaate hain aur jeevan yaapan yah saaree bhaavanaon kee samaadhi hai aur agar sirph bhaavanaen nahin hai to vah vyakti insaan ka hai kaho to ek patthar kee tarah hai jisaka apana koee bhaavanaon ka astitv nahin hai to us vyakti ka hee astitv mein yahee meree samajh hai bhaavanaon ka hona bahut aavashyak hai

bolkar speaker
एक मनुष्य में भावनाओं का होना कितना आवश्यक होता है?Ek Manushya Mein Bhaavnao Ka Hona Kitna Aavashyak Hota Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:51
सवाल ये है कि मनुष्य में भावनाओं का होना आवश्यक होता है एक मनुष्य में भावनाओं का होना अत्यंत आवश्यक है जनाब भावना के मनुष्य मनुष्य नहीं बल्कि पशु के समान है हमारी भावना ही हमें मंजूर सिटी से लाकर खड़ा करती है लेकिन आज आवश्यकता है कि हमें अपनी भावनाओं के साथ दूसरों की भावनाओं को भी समझना चाहिए और अगर हमारी किसी की बात से किसी को तकलीफ हो तो मैं वह बात नहीं करनी चाहिए हमें दूसरों के दुख दर्द को अपना समझना चाहिए तथा उन्हें दूर करने का प्रयास करना चाहिए और मानव जाति पशु पक्षी जीव जंतु सभी के लिए उसकी भावनाएं होनी चाहिए मैं उन्हें कष्ट नहीं देना चाहिए बल्कि उनकी तकलीफों को दूर करने का प्रयास करना चाहिए
Savaal ye hai ki manushy mein bhaavanaon ka hona aavashyak hota hai ek manushy mein bhaavanaon ka hona atyant aavashyak hai janaab bhaavana ke manushy manushy nahin balki pashu ke samaan hai hamaaree bhaavana hee hamen manjoor sitee se laakar khada karatee hai lekin aaj aavashyakata hai ki hamen apanee bhaavanaon ke saath doosaron kee bhaavanaon ko bhee samajhana chaahie aur agar hamaaree kisee kee baat se kisee ko takaleeph ho to main vah baat nahin karanee chaahie hamen doosaron ke dukh dard ko apana samajhana chaahie tatha unhen door karane ka prayaas karana chaahie aur maanav jaati pashu pakshee jeev jantu sabhee ke lie usakee bhaavanaen honee chaahie main unhen kasht nahin dena chaahie balki unakee takaleephon ko door karane ka prayaas karana chaahie

bolkar speaker
एक मनुष्य में भावनाओं का होना कितना आवश्यक होता है?Ek Manushya Mein Bhaavnao Ka Hona Kitna Aavashyak Hota Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:16
देखिए मनुष्य की सोच कहां तक जा सकती है इसकी कल्पना नहीं की जा सकती लेकिन भावनाएं जो होती है वह मनुष्य को किस सोच को कंट्रोल करते हैं एक व्यक्ति कहता है कि मैं उड़ने की शक्ति पैदा करूं और मेहनत करो कि उसकी सोच है और कितना करता है करने के बाद भूल जाते लेकिन भावनाएं उस को प्रेरित करती है कि देखो तुमने वादा किया था कि तुम को चंद्रमा तक पहुंचना है और उसके लिए तुम प्रयास करो अगर प्रयास नहीं करता है तो वह उसकी दृढ़ता में कमी आ जाती लेकिन भावना उसको रोज-रोज इन बातों को याद दिलाती है कि वही देखी मन की जो भावना होती है वह मन की कोमलता से संबंधित होती हैं मन एक भावनात्मक विचार होता है मन हृदय के अंदर जो आपको अच्छे और बुराई दोनों का मंथन करके आपको सही मार्ग पर चलने की प्रेरणा देता है इसलिए भावनाओं का होना बहुत आवश्यक है बिना भाव ओके आप अपने मन को कंट्रोल नहीं कर सकते हैं और बिना भावनाओं के आप जीवन में कोई भी उन्नति करने से क्या कोई लक्ष्य नहीं बना सकते हैं और जब उन्नत करेंगे लक्ष्य करेंगे भावनाओं के माध्यम से उस लक्ष्य को प्राप्त करने की कोशिश करेंगे तो जरूर आप जीवन में सफल बनेंगे आप
Dekhie manushy kee soch kahaan tak ja sakatee hai isakee kalpana nahin kee ja sakatee lekin bhaavanaen jo hotee hai vah manushy ko kis soch ko kantrol karate hain ek vyakti kahata hai ki main udane kee shakti paida karoon aur mehanat karo ki usakee soch hai aur kitana karata hai karane ke baad bhool jaate lekin bhaavanaen us ko prerit karatee hai ki dekho tumane vaada kiya tha ki tum ko chandrama tak pahunchana hai aur usake lie tum prayaas karo agar prayaas nahin karata hai to vah usakee drdhata mein kamee aa jaatee lekin bhaavana usako roj-roj in baaton ko yaad dilaatee hai ki vahee dekhee man kee jo bhaavana hotee hai vah man kee komalata se sambandhit hotee hain man ek bhaavanaatmak vichaar hota hai man hrday ke andar jo aapako achchhe aur buraee donon ka manthan karake aapako sahee maarg par chalane kee prerana deta hai isalie bhaavanaon ka hona bahut aavashyak hai bina bhaav oke aap apane man ko kantrol nahin kar sakate hain aur bina bhaavanaon ke aap jeevan mein koee bhee unnati karane se kya koee lakshy nahin bana sakate hain aur jab unnat karenge lakshy karenge bhaavanaon ke maadhyam se us lakshy ko praapt karane kee koshish karenge to jaroor aap jeevan mein saphal banenge aap

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • एक मनुष्य में भावनाओं का होना कितना आवश्यक होता है मनुष्य में भावनाओं का होना आवश्यक होता है
URL copied to clipboard