#जीवन शैली

bolkar speaker

क्या व्यक्ति हमेशा हमेशा के लिए अपने लालच का परित्याग कर सकता है कैसे?

Kya Vyakti Hamesa Hamesa Ke Lie Apne Laalach Ka Parityaag Kar Sakta Hai Kaise
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:50
10 वाले क्या व्यक्ति हमेशा के लिए अपने लालच का परित्याग कर सकता है और कैसे करें तो चले भी गुलाब जामुन रस मलाई बहुत ही स्वास्थ्य और चिपचिपी होती है मधुमेह गैलरी फिर भी खाते हैं सवाल तो डालो सुतार में मदीना जो चौहान सेहत के लिए हानिकारक है फिर भी लेते हैं क्योंकि हाई सोसाइटी के सूचक का लालू से पैसा उदाहरण है सिर्फ समझ नहीं है कि तू धरा पर कुछ ना लाए तुम धरा पर से नहीं ले जाए इस धरा पर सब हैं सब धरा रह जाएगा तो मिस्टर टी वाय तो कुछ लेकर नहीं आया तुम इस धरती से चलकर कुछ लेकर जाओगे इस धरा पर जो लेकर आई है जो इस तरह पड़ेगा और सब कुछ नहीं मिलने वाला है साथ में कुछ नहीं गुजार सकते हैं तो समझ लीजिए की एक अदालत ने धन्यवाद दोस्तों
10 vaale kya vyakti hamesha ke lie apane laalach ka parityaag kar sakata hai aur kaise karen to chale bhee gulaab jaamun ras malaee bahut hee svaasthy aur chipachipee hotee hai madhumeh gailaree phir bhee khaate hain savaal to daalo sutaar mein madeena jo chauhaan sehat ke lie haanikaarak hai phir bhee lete hain kyonki haee sosaitee ke soochak ka laaloo se paisa udaaharan hai sirph samajh nahin hai ki too dhara par kuchh na lae tum dhara par se nahin le jae is dhara par sab hain sab dhara rah jaega to mistar tee vaay to kuchh lekar nahin aaya tum is dharatee se chalakar kuchh lekar jaoge is dhara par jo lekar aaee hai jo is tarah padega aur sab kuchh nahin milane vaala hai saath mein kuchh nahin gujaar sakate hain to samajh leejie kee ek adaalat ne dhanyavaad doston

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या व्यक्ति हमेशा हमेशा के लिए अपने लालच का परित्याग कर सकता है कैसे?Kya Vyakti Hamesa Hamesa Ke Lie Apne Laalach Ka Parityaag Kar Sakta Hai Kaise
Sandeep Goyal Chandigarh  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sandeep जी का जवाब
Tabla player artist and music home tutor
2:58
नमस्कार आप का सवाल है क्या कोई व्यक्ति हमेशा हमेशा के लिए लालच का त्याग कर सकता है बिल्कुल कर सकता है कैसे देखिए सब कुछ होता है संगति के असर पर ठीक है जैसी संगत वैसी रंगत हमारे अंदर ऐसे बिना किसी कारण के कुछ भी जो इसे कहा जाए लालच है या कुछ भी है तो बिना किसी कारण के हमारे अंदर कुछ भी भावनाएं नहीं आती उसके पीछे भी कारण होते हैं क्या संगत जिस प्रकार की संगत में आप बैठेंगे उसी प्रकार का आपको जो है रंगत चलेगी कि संत महापुरुष कहते हैं जैसी संगत वैसी रंगत ज्वारी जुआ खेलने वाला के पास अगर आप बैठ जाएंगे तो क्या होगा जुआ में क्या होता है पैसे लगाती हैं ठीक है और लालच करते हैं कि यार हमें अगर आपने किस को देखा क्यों मैं नहीं कर सकता अब मेहनत का काम कर रहे हैं तो आपके मन में क्या जाग जाएगा लालच तो आपने क्यों आपके मन में ना रुक जा का क्योंकि आपने जो है जुआरी को देखा ठीक है जुआ खेलते मैं भी करूं मुझे पता है मैं आज ₹20000 कमा रहा हूं यार ₹10000 कमा रहा हूं मेरा मालिक मुझे 10000 भी देता हूं जितनी मेहनत करनी पड़ती है तूने में 24 सर पर लगा कर के और एक बारी में ही दो ₹400000 इकट्ठे कर लूं तो यह क्या हुआ लालू चुका आपने उसको देखा और यूं ही आपने अगर किसी अच्छी संगति वाले व्यक्ति की संगत कि आप उसको देखा कि हां यार यह व्यक्ति बहुत मेहनत कर रहा है क्यों ना मैं अभी ऐसे करूं तो लालच इंसान को बर्बाद ही करता है लेकिन मेहनत का किया हुआ कभी इंसान को बर्बाद नहीं करेगा यार इस बंदे ने मेहनत की और बहुत अच्छा कमाई कर रहा है तो इस संगत की बात होती है जी आप अच्छे बंदे की संगत करेंगे तो लालच आपके मन से अपने आप भी भाग जाएगा दूसरों की भावनाओं को देखकर भावनाएं हमारे मन में जिसको जैसा देखोगे वैसी भावनाएं मन में जागती कोई अच्छा व्यक्ति भी होगा अगर वह बुरे की संगत कर ले तो उसके मन में भी बुरे वाली भावनाएं जागने बुराई वाली भावना जागरण लग जाएगी उम्मीद है आपको अच्छा जवाब मिल गया होगा कृपया लाइक जरूर करें मुझे
Namaskaar aap ka savaal hai kya koee vyakti hamesha hamesha ke lie laalach ka tyaag kar sakata hai bilkul kar sakata hai kaise dekhie sab kuchh hota hai sangati ke asar par theek hai jaisee sangat vaisee rangat hamaare andar aise bina kisee kaaran ke kuchh bhee jo ise kaha jae laalach hai ya kuchh bhee hai to bina kisee kaaran ke hamaare andar kuchh bhee bhaavanaen nahin aatee usake peechhe bhee kaaran hote hain kya sangat jis prakaar kee sangat mein aap baithenge usee prakaar ka aapako jo hai rangat chalegee ki sant mahaapurush kahate hain jaisee sangat vaisee rangat jvaaree jua khelane vaala ke paas agar aap baith jaenge to kya hoga jua mein kya hota hai paise lagaatee hain theek hai aur laalach karate hain ki yaar hamen agar aapane kis ko dekha kyon main nahin kar sakata ab mehanat ka kaam kar rahe hain to aapake man mein kya jaag jaega laalach to aapane kyon aapake man mein na ruk ja ka kyonki aapane jo hai juaaree ko dekha theek hai jua khelate main bhee karoon mujhe pata hai main aaj ₹20000 kama raha hoon yaar ₹10000 kama raha hoon mera maalik mujhe 10000 bhee deta hoon jitanee mehanat karanee padatee hai toone mein 24 sar par laga kar ke aur ek baaree mein hee do ₹400000 ikatthe kar loon to yah kya hua laaloo chuka aapane usako dekha aur yoon hee aapane agar kisee achchhee sangati vaale vyakti kee sangat ki aap usako dekha ki haan yaar yah vyakti bahut mehanat kar raha hai kyon na main abhee aise karoon to laalach insaan ko barbaad hee karata hai lekin mehanat ka kiya hua kabhee insaan ko barbaad nahin karega yaar is bande ne mehanat kee aur bahut achchha kamaee kar raha hai to is sangat kee baat hotee hai jee aap achchhe bande kee sangat karenge to laalach aapake man se apane aap bhee bhaag jaega doosaron kee bhaavanaon ko dekhakar bhaavanaen hamaare man mein jisako jaisa dekhoge vaisee bhaavanaen man mein jaagatee koee achchha vyakti bhee hoga agar vah bure kee sangat kar le to usake man mein bhee bure vaalee bhaavanaen jaagane buraee vaalee bhaavana jaagaran lag jaegee ummeed hai aapako achchha javaab mil gaya hoga krpaya laik jaroor karen mujhe

bolkar speaker
क्या व्यक्ति हमेशा हमेशा के लिए अपने लालच का परित्याग कर सकता है कैसे?Kya Vyakti Hamesa Hamesa Ke Lie Apne Laalach Ka Parityaag Kar Sakta Hai Kaise
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:07
मैं क्या व्यक्ति हमेशा हमेशा के लिए अपने लालच का परित्याग कर सकता है कैसे लेते दोस्तों यदि कोई व्यक्ति यह सोचकर चलता है कि हमें लालच नहीं करना है इस धरती के ऊपर हैं रोटी मिल जाए और जो भी हमारे पास बचा कुचा पति राम सा तो ले जा नहीं सकते पीछे छोड़ने वाले समय में क्या जब हम मर जाएंगे तो हमारी कुछ अच्छा है जो है क्या हमारे लोग पूरी करेंगे यदि हमने अच्छा काम किया है लालच नहीं किया है उनका उनका अनादर किया जाता है उनका खुद का किया जाता है तो उस व्यक्ति की दोस्ती बढ़ती है और ऐसा जो व्यक्ति कभी सोचे कि इस धरती के ऊपर हैं ले करके जाएंगे नहीं और हमारे विचार आते हैं तो हमें नहीं करनी चाहिए
Main kya vyakti hamesha hamesha ke lie apane laalach ka parityaag kar sakata hai kaise lete doston yadi koee vyakti yah sochakar chalata hai ki hamen laalach nahin karana hai is dharatee ke oopar hain rotee mil jae aur jo bhee hamaare paas bacha kucha pati raam sa to le ja nahin sakate peechhe chhodane vaale samay mein kya jab ham mar jaenge to hamaaree kuchh achchha hai jo hai kya hamaare log pooree karenge yadi hamane achchha kaam kiya hai laalach nahin kiya hai unaka unaka anaadar kiya jaata hai unaka khud ka kiya jaata hai to us vyakti kee dostee badhatee hai aur aisa jo vyakti kabhee soche ki is dharatee ke oopar hain le karake jaenge nahin aur hamaare vichaar aate hain to hamen nahin karanee chaahie

bolkar speaker
क्या व्यक्ति हमेशा हमेशा के लिए अपने लालच का परित्याग कर सकता है कैसे?Kya Vyakti Hamesa Hamesa Ke Lie Apne Laalach Ka Parityaag Kar Sakta Hai Kaise
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:29
क्या व्यक्ति हमेशा हमेशा के लिए अपने लालच का फल काटता है लालू चने हमें जो लग रहा है उससे ऊपर मिलने की आशा रखना या उसके लिए प्रयास करना अब इसकी कोई सीमा नहीं है जब तक आप अंदर हमारे अंदर डिफाइन नहीं करते कि मुझे क्या चाहिए क्योंकि इसमें स्टाइलिश द लिमिट है आप करते जाओगे आपको एक चीज मिलेगी अब फिर आप दूसरी चीज प्लान को रोकने की भी तीसरी चौथी पांचवी ऐसे उसकी कोई सीमा नहीं है अगर आप एनिमल्स को देखोगे तो एनिमल्स के पेट भरने के बाद उनको उस रोटी से कोई मतलब नहीं होता है फिर से भूख लगेगी फिर से आ कर खा कर खा लेते हो लेकिन कभी यह देखना है कि वह अपना खाना जो है बहुत ज्यादा पैक करके रखेंगे अगर ऐसा नहीं होता है उनको जब लगता है वह शिकार कर लेंगे या रोटी ले लेंगे और खा लेंगे तो जवाब लालच वाले मूड में हो जाए तो हम कंसिस्टेंसी हमारा माइंड जो है वह उस चीज को पाने के लिए प्रयास करते रहते और हम ऑन द टूल्स रहते हमेशा में दौड़ती रहते हैं जिंदगी के अंदर इसलिए हमें हमारी डिफाइन करना मुझे इतनी चीजें मिल जाए तो मैं खुश हूं उसके बाद जो कुछ मैं करूंगा एक पूरा करने के लिए करूंगा और अगर मुझे कुछ ऐसा आएगा तो मैं कुछ उससे यह बना लूंगा लेकिन अगर नहीं भी होता है तो भी मैं खुश हूं क्योंकि मेरी यह बेसिक्स नेसेसिटी कंप्लीटेड है यह खुद को समझाना जरूरी है और यहां पर लिमिट सेट होते हैं पर इनके अंदर में और फिर इंसान काम करता है
Kya vyakti hamesha hamesha ke lie apane laalach ka phal kaatata hai laaloo chane hamen jo lag raha hai usase oopar milane kee aasha rakhana ya usake lie prayaas karana ab isakee koee seema nahin hai jab tak aap andar hamaare andar diphain nahin karate ki mujhe kya chaahie kyonki isamen stailish da limit hai aap karate jaoge aapako ek cheej milegee ab phir aap doosaree cheej plaan ko rokane kee bhee teesaree chauthee paanchavee aise usakee koee seema nahin hai agar aap enimals ko dekhoge to enimals ke pet bharane ke baad unako us rotee se koee matalab nahin hota hai phir se bhookh lagegee phir se aa kar kha kar kha lete ho lekin kabhee yah dekhana hai ki vah apana khaana jo hai bahut jyaada paik karake rakhenge agar aisa nahin hota hai unako jab lagata hai vah shikaar kar lenge ya rotee le lenge aur kha lenge to javaab laalach vaale mood mein ho jae to ham kansistensee hamaara maind jo hai vah us cheej ko paane ke lie prayaas karate rahate aur ham on da tools rahate hamesha mein daudatee rahate hain jindagee ke andar isalie hamen hamaaree diphain karana mujhe itanee cheejen mil jae to main khush hoon usake baad jo kuchh main karoonga ek poora karane ke lie karoonga aur agar mujhe kuchh aisa aaega to main kuchh usase yah bana loonga lekin agar nahin bhee hota hai to bhee main khush hoon kyonki meree yah besiks nesesitee kampleeted hai yah khud ko samajhaana jarooree hai aur yahaan par limit set hote hain par inake andar mein aur phir insaan kaam karata hai

bolkar speaker
क्या व्यक्ति हमेशा हमेशा के लिए अपने लालच का परित्याग कर सकता है कैसे?Kya Vyakti Hamesa Hamesa Ke Lie Apne Laalach Ka Parityaag Kar Sakta Hai Kaise
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:49
गवालियर की व्याख्या व्यक्ति हमेशा हमेशा के लिए अपने लालच का परित्याग कर सकता है तो जी हां कर तो सकता है लेकिन इसके लिए थोड़ा समय लगेगा अगर उसे बहुत बुरी लत या आदत लग चुकी है लालच की तो उसका समाधान है कि आप इच्छा रहे तो बने यदि इच्छा रहित हो जाएंगे तो लालच क्या कोई भी दुर्गुण आपको विचलित नहीं कर पाएगा और जैसे कि आप आपको अपना मनपसंद खाना ही चाहिए तभी आपका ही खाएंगे या आपकी इच्छा है आपको भूख लगी है और खाना खाना है तो कुछ भी उचित मिले वह खा कर पेट भर ले आपका इच्छा रहित होना है दोनों अवस्थाओं में व्यक्ति खाना ही खा रहा है मैं यही खाऊंगा यही पियूंगा यही पहन लूंगा यही देख लूंगा यह अच्छा है पर जो सुगमता से उपलब्ध है उसी को खा लूंगा पियूंगा पहनना देख लूंगा यह सब इच्छा रहित होना है जब तक मुझे यह नहीं मिल जाएगा मजा नहीं आएगा यह इच्छा है जब तक मिल जाए तो ठीक ना मिले तो ठीक ही है अच्छा रहित होना है इस प्रकार हर क्रियाकलाप में विषय में आप जानो समझ सकते हैं काम ना करना इच्छा रहित होना नहीं है तो काम चोरी के लाई जाएगी संभाग से कम करना ही इच्छा रहित होने का बोल है ऐसे भी ना बने कि बिल्कुल ही इच्छा रहित हो जाए और कोई मोटिवेशन ना हो आपका ऐसे आप की ग्रोथ भी रुक सकती है तो एक लिमिटेड में ही काम करें दादा इच्छा रहित भी ना हो और दादा लालची भी ना बने एक बैलेंस बनाकर चलें अगर कुछ पाना है आपको और उसे पाने के लिए आप कोई गलत तरीका भी अपना सकते हैं तो यह आपका लालच है लेकिन आपको अगर कुछ खाना है और उसके लिए आप हर कोशिश कर सकते हर मेहनत कर सकते हैं कि आप का लालच नहीं कहलाएगा
Gavaaliyar kee vyaakhya vyakti hamesha hamesha ke lie apane laalach ka parityaag kar sakata hai to jee haan kar to sakata hai lekin isake lie thoda samay lagega agar use bahut buree lat ya aadat lag chukee hai laalach kee to usaka samaadhaan hai ki aap ichchha rahe to bane yadi ichchha rahit ho jaenge to laalach kya koee bhee durgun aapako vichalit nahin kar paega aur jaise ki aap aapako apana manapasand khaana hee chaahie tabhee aapaka hee khaenge ya aapakee ichchha hai aapako bhookh lagee hai aur khaana khaana hai to kuchh bhee uchit mile vah kha kar pet bhar le aapaka ichchha rahit hona hai donon avasthaon mein vyakti khaana hee kha raha hai main yahee khaoonga yahee piyoonga yahee pahan loonga yahee dekh loonga yah achchha hai par jo sugamata se upalabdh hai usee ko kha loonga piyoonga pahanana dekh loonga yah sab ichchha rahit hona hai jab tak mujhe yah nahin mil jaega maja nahin aaega yah ichchha hai jab tak mil jae to theek na mile to theek hee hai achchha rahit hona hai is prakaar har kriyaakalaap mein vishay mein aap jaano samajh sakate hain kaam na karana ichchha rahit hona nahin hai to kaam choree ke laee jaegee sambhaag se kam karana hee ichchha rahit hone ka bol hai aise bhee na bane ki bilkul hee ichchha rahit ho jae aur koee motiveshan na ho aapaka aise aap kee groth bhee ruk sakatee hai to ek limited mein hee kaam karen daada ichchha rahit bhee na ho aur daada laalachee bhee na bane ek bailens banaakar chalen agar kuchh paana hai aapako aur use paane ke lie aap koee galat tareeka bhee apana sakate hain to yah aapaka laalach hai lekin aapako agar kuchh khaana hai aur usake lie aap har koshish kar sakate har mehanat kar sakate hain ki aap ka laalach nahin kahalaega

bolkar speaker
क्या व्यक्ति हमेशा हमेशा के लिए अपने लालच का परित्याग कर सकता है कैसे?Kya Vyakti Hamesa Hamesa Ke Lie Apne Laalach Ka Parityaag Kar Sakta Hai Kaise
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:03
क्या पेपर हमेशा के लिए अपने लालच का परित्याग कर सकता है इसमें बेटा मन को दृढ़ करना बहुत जरूरी है करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान रसरी आवत जात ते सिल पर परत निशान जब हम अभ्यास करते हैं और मन में यह दर्द कर लेते हैं कि हमको किसी व्यक्ति से कोई लालच नहीं करना चाहिए हमारे पास जो है हम उसी में सुखी और संतोषी जीवन व्यतीत करेंगे नहीं होगा तो हम स्वयं करेंगे मेहनत करेंगे और अपनी भावनाओं को अपने घर परिवार को पालन करने के लिए अमूल्य अच्छी से अच्छी सुविधाएं देंगे लेकिन लालच के वशीभूत होकर किसी की चोरी कर लेना किसी को नुकसान पहुंचा अगर तू उसको छीन लेना यह अच्छी बात नहीं होती इसलिए लालच दो है कितने काम क्रोध मद लोभ लोभ लालच के पांच चीजें ऐसी हैं जो हमेशा मनुष्य को दुख सुख प्रदान करते हैं कौन से काम क्रोध मद लोभ मोह मद सर यह सब सारी चीजें जो है कि मनुष्य को गर्त में डालती हैं और उसे यदि अगर उन पर कंट्रोल नहीं करता तो हमेशा उसकी बेज्जती भी हो सकती है और उस समाज में अपमानित भी किए जा सकते हैं
Kya pepar hamesha ke lie apane laalach ka parityaag kar sakata hai isamen beta man ko drdh karana bahut jarooree hai karat karat abhyaas ke jadamati hot sujaan rasaree aavat jaat te sil par parat nishaan jab ham abhyaas karate hain aur man mein yah dard kar lete hain ki hamako kisee vyakti se koee laalach nahin karana chaahie hamaare paas jo hai ham usee mein sukhee aur santoshee jeevan vyateet karenge nahin hoga to ham svayan karenge mehanat karenge aur apanee bhaavanaon ko apane ghar parivaar ko paalan karane ke lie amooly achchhee se achchhee suvidhaen denge lekin laalach ke vasheebhoot hokar kisee kee choree kar lena kisee ko nukasaan pahuncha agar too usako chheen lena yah achchhee baat nahin hotee isalie laalach do hai kitane kaam krodh mad lobh lobh laalach ke paanch cheejen aisee hain jo hamesha manushy ko dukh sukh pradaan karate hain kaun se kaam krodh mad lobh moh mad sar yah sab saaree cheejen jo hai ki manushy ko gart mein daalatee hain aur use yadi agar un par kantrol nahin karata to hamesha usakee bejjatee bhee ho sakatee hai aur us samaaj mein apamaanit bhee kie ja sakate hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या व्यक्ति हमेशा हमेशा के लिए अपने लालच का परित्याग कर सकता है कैसे क्या व्यक्ति हमेशा के लिएलालच का परित्याग कर सकता है
URL copied to clipboard