#undefined

bolkar speaker

गुटनिरपेक्षता का मूल रूप से क्या अभिप्राय है?

Gutnirpekshata Ka Mool Roop Se Kya Abhipraay Hain
Srishti Mehrotra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Srishti जी का जवाब
Unknown
0:51
का मूल रूप से क्या अभिप्राय सितंबर को भारत के प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने मिस्र के राष्ट्रपति कर्नल नाचे तथा युगोस्लाविया के राष्ट्रपति मार्शल टीटो के सहयोग से विश्व की तीसरी शक्ति के रूप में बदलाव या की राजधानी में गुटनिरपेक्ष आंदोलन का गठन किया गया इसका पहला सम्मेलन सितंबर 1961 में बेलग्रेड में हुआ था राष्ट्रपति के सुझाव में इस सम्मेलन में 20 देशों की आमंत्रित किया गया जिसमें 25 देशों ने अपने प्रतिनिधि भेजकर और 3 देशों ने अपने पर्यवेक्षक दिनकर के सम्मेलन में भाग लिया धन्यवाद
Ka mool roop se kya abhipraay sitambar ko bhaarat ke pradhaanamantree pandit javaaharalaal neharoo ne misr ke raashtrapati karnal naache tatha yugoslaaviya ke raashtrapati maarshal teeto ke sahayog se vishv kee teesaree shakti ke roop mein badalaav ya kee raajadhaanee mein gutanirapeksh aandolan ka gathan kiya gaya isaka pahala sammelan sitambar 1961 mein belagred mein hua tha raashtrapati ke sujhaav mein is sammelan mein 20 deshon kee aamantrit kiya gaya jisamen 25 deshon ne apane pratinidhi bhejakar aur 3 deshon ne apane paryavekshak dinakar ke sammelan mein bhaag liya dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • गुटनिरपेक्षता से क्या अभिप्राय है, गुटनिरपेक्षता का अर्थ, गुटनिरपेक्षता की नीति क्या है
URL copied to clipboard