#जीवन शैली

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:56
हां ना का प्रश्न एक ऐसा क्यों होता है कि जब लोगों का भाग्य बुरा होता है तो अच्छी चीजें भी बुराई में तब्दील हो जाती हैं तो देखिए मैं यहां पर भाग गए की बजाय समय को कहना चाहूंगा कि जो समय बुरा होता है तो एक कहावत है कि ऊंट पर बैठे हुए बोने आदमी को भी कुत्ता काट लेता है तो ऐसी स्थिति में हमेशा अपना धैर्य बनाए रखें अगर कोई बुरा समय चल रहा है तो कोशिश करें कि वह समय पर हो जाए व्यतीत हो जाए तो ऐसी स्थिति में अपने को पोस्टिव रखना चाहिए सकारात्मक रखना है अपनी सोच को बहुत ही रखना है और शादी साथ धैर्य बनाकर रखना है मुश्किल से मुश्किल समय भी आपका कट जाएगा और जब उस समय करेगा दोबारा से आपके जीवन में खुशियां आएंगी और सारी चीजें परिवर्तित हो जाएंगे तो थोड़ा सा टाइम करे कि जिंदगी में आता है उसको व्यक्ति को निकालना चाहिए में शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Haan na ka prashn ek aisa kyon hota hai ki jab logon ka bhaagy bura hota hai to achchhee cheejen bhee buraee mein tabdeel ho jaatee hain to dekhie main yahaan par bhaag gae kee bajaay samay ko kahana chaahoonga ki jo samay bura hota hai to ek kahaavat hai ki oont par baithe hue bone aadamee ko bhee kutta kaat leta hai to aisee sthiti mein hamesha apana dhairy banae rakhen agar koee bura samay chal raha hai to koshish karen ki vah samay par ho jae vyateet ho jae to aisee sthiti mein apane ko postiv rakhana chaahie sakaaraatmak rakhana hai apanee soch ko bahut hee rakhana hai aur shaadee saath dhairy banaakar rakhana hai mushkil se mushkil samay bhee aapaka kat jaega aur jab us samay karega dobaara se aapake jeevan mein khushiyaan aaengee aur saaree cheejen parivartit ho jaenge to thoda sa taim kare ki jindagee mein aata hai usako vyakti ko nikaalana chaahie mein shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:07
उसका दुश्मन का प्रश्न है ऐसा क्यों होता है कि जब लोगों का भाग्य पूरा होता है तो अच्छी चीजें भी बुराई में तब्दील हो जाती है दोस्तों जब लोगों में दिन बुरे आ रहे होते तो उस वक्त उस का माहौल बुरा हो जाता है और मन भी चिड़चिड़ा शांत हो जाता है जिसकी वजह से उसे बाहर की चीजें भी नेगेटिव नकारात्मक दिखाई देती है कुछ भी अच्छा होता है तो उनसे बुरा होने की संभावना ही दिखाई देती है क्योंकि दोस्तों उस वक्त हम मन से बिल्कुल शांत हो रहे होते हैं बिल्कुल भी शांति नहीं होती है हमारे मन में उस वक्त चाहे में कितना ही अच्छा सुख क्यों नहीं प्राप्त हो जा लेकिन कुछ मन में ऐसी दुविधा ऐसी समस्या घर कर लेती है जिसकी वजह से हमें जो कुछ भी अच्छा हो रहा है वह हमें बुरा लगता जाता है और हमेशा लगता है एक काम पूरा हो जाने के बाद या भाग गया पूरा समझा जाने के बाद में और जो दूसरा काम अच्छा भी हो जाए तो वह भी आपको अच्छा नहीं लगेगा ऐसा नेगेटिव जो एलर्जी है नकारात्मक ऊर्जा है उसके कारण होता है क्योंकि आपका मन हो गया होता है उस वक्त हालांकि दोस्तों जिंदगी में उतार-चढ़ाव तो जरूर आते हैं कभी सुख तो कभी दुख सुख की जो स्थिति है उसका आनंद बहुत ही अच्छे से लेते हैं उसमें गहराई से उतर के लेते हैं लेकिन जो दुख होता है उस दुख को झेलने में हमें बहुत कठिनाई होती है दुख को भी एक अच्छे तरीके से सुख की तरह हम अनुभव नहीं करते हैं बल्कि उसे बहुत ज्यादा डर जाते हैं वह खाने लगते हैं और हम समझते हैं इस दुख से ज्यादा कोई बड़ा दुख है नहीं तो अब ज्यादा से ज्यादा नहीं सोचते हैं इससे भी बड़ा दुख हो और क्या हो सकता है अब ज्यादा से ज्यादा नहीं सोचते हैं तो इसलिए जब भी कोई दूसरा दुखाता है तो वह आपको उस दुख से और भी बड़ा लगता है और अपने मन पर बहुत ही सादा ड्रेस लेकर के हम बैठ जाते हैं कि अब क्या होगा फिर से हल्की समस्या ही क्यों ना जाए आपको वह बहुत ही बड़ी लगेगी और जब कोई अच्छाई का काम हो रहा होता है तो भी आपका मन खिन्न होने की वजह से मैं प्रसन्न रहने की वजह से वह आपको बुरा होता हुआ दिखाई देगा क्योंकि उस वक्त हम सिर चढ़े बोर नहीं होते हैं गुस्सैल परवर्ती के गोरे होते हैं तो सिर्फ और सिर्फ नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव ही होता है धन्यवाद
Usaka dushman ka prashn hai aisa kyon hota hai ki jab logon ka bhaagy poora hota hai to achchhee cheejen bhee buraee mein tabdeel ho jaatee hai doston jab logon mein din bure aa rahe hote to us vakt us ka maahaul bura ho jaata hai aur man bhee chidachida shaant ho jaata hai jisakee vajah se use baahar kee cheejen bhee negetiv nakaaraatmak dikhaee detee hai kuchh bhee achchha hota hai to unase bura hone kee sambhaavana hee dikhaee detee hai kyonki doston us vakt ham man se bilkul shaant ho rahe hote hain bilkul bhee shaanti nahin hotee hai hamaare man mein us vakt chaahe mein kitana hee achchha sukh kyon nahin praapt ho ja lekin kuchh man mein aisee duvidha aisee samasya ghar kar letee hai jisakee vajah se hamen jo kuchh bhee achchha ho raha hai vah hamen bura lagata jaata hai aur hamesha lagata hai ek kaam poora ho jaane ke baad ya bhaag gaya poora samajha jaane ke baad mein aur jo doosara kaam achchha bhee ho jae to vah bhee aapako achchha nahin lagega aisa negetiv jo elarjee hai nakaaraatmak oorja hai usake kaaran hota hai kyonki aapaka man ho gaya hota hai us vakt haalaanki doston jindagee mein utaar-chadhaav to jaroor aate hain kabhee sukh to kabhee dukh sukh kee jo sthiti hai usaka aanand bahut hee achchhe se lete hain usamen gaharaee se utar ke lete hain lekin jo dukh hota hai us dukh ko jhelane mein hamen bahut kathinaee hotee hai dukh ko bhee ek achchhe tareeke se sukh kee tarah ham anubhav nahin karate hain balki use bahut jyaada dar jaate hain vah khaane lagate hain aur ham samajhate hain is dukh se jyaada koee bada dukh hai nahin to ab jyaada se jyaada nahin sochate hain isase bhee bada dukh ho aur kya ho sakata hai ab jyaada se jyaada nahin sochate hain to isalie jab bhee koee doosara dukhaata hai to vah aapako us dukh se aur bhee bada lagata hai aur apane man par bahut hee saada dres lekar ke ham baith jaate hain ki ab kya hoga phir se halkee samasya hee kyon na jae aapako vah bahut hee badee lagegee aur jab koee achchhaee ka kaam ho raha hota hai to bhee aapaka man khinn hone kee vajah se main prasann rahane kee vajah se vah aapako bura hota hua dikhaee dega kyonki us vakt ham sir chadhe bor nahin hote hain gussail paravartee ke gore hote hain to sirph aur sirph nakaaraatmak oorja ka prabhaav hee hota hai dhanyavaad

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:44
प्रश्न है कि ऐसा क्यों होता है कि जब लोगों का भाग्य बुरा होता है तो अच्छी चीजें भी बुराई में तब्दील हो जाती हैं तो दोस्तों ऐसा नहीं है यह हमारी मानसिक स्थिति पर भी निर्भर करता है जब हमारे साथ कुछ बुरा होने लग जाता है तो जो और भी घटनाएं होती हैं जो सकारात्मक रूप उसका हम नहीं देखते उसको हम नकारात्मक रूप में देखना शुरु कर देते हैं तो यह मन की स्थिति का सारा खेल है आत्मविश्वास की कमी का है लेकिन कई ऐसे व्यक्ति होंगे जो बुरा होने के बाद भी दृढ़ता से जीवन में परिस्थितियों का सामना कर रहे होते हैं और बाद में गिर के ऊपर उठते हैं और सफलता प्राप्त करते हैं तो हमें किसी भी परिस्थिति में चाहे कैसी भी स्थिति आए हो सकता है कि हमारे पैर लड़खड़ा ही लग जाए लेकिन हमें पुनः उतनी ही जोश से उतना ही उमंग से सारी चीजों को सकारात्मक रूप में देखना है और जो हमारे साथ घटना हो रही है उस को सकारात्मक रूप में उसमें भी कुछ ना कुछ सर्कल जैसे मैं एक सरकारी विश्वविद्यालय में ट्रेनिंग दे रहा था टैली सॉफ्टवेयर की एक महिला ने बोला कि मैं तो समझ ही नहीं आ रहा ना तो सब भूलती जा रही हूं तो मैंने कहा आपको समझ कभी नहीं आएगा जैसे मैं 10 चीजें बताइए आप यह देख रही है कि मेरे को नौकरी नहीं समझ आई आप उस पर ध्यान केंद्रित करें एक चीज मेरे को समझ आ गई है ना और समझ नहीं है पूजा उसको समझाया तो उसकी सोच में परिवर्तन आया और निश्चित रूप से उसका आत्मविश्वास बढ़ा उसे आगे चाहिए समझने की कोशिश भी की और समझी भी वैसे ही जीवन में कोई घटना घटती है बुरा होता है तो उसमें कहीं ना कहीं हमें अच्छा पाठ देखें कि उसे हम प्रेरित होकर आगे अच्छे कदम लेकर सफलता प्राप्त कर सके धन्यवाद
Prashn hai ki aisa kyon hota hai ki jab logon ka bhaagy bura hota hai to achchhee cheejen bhee buraee mein tabdeel ho jaatee hain to doston aisa nahin hai yah hamaaree maanasik sthiti par bhee nirbhar karata hai jab hamaare saath kuchh bura hone lag jaata hai to jo aur bhee ghatanaen hotee hain jo sakaaraatmak roop usaka ham nahin dekhate usako ham nakaaraatmak roop mein dekhana shuru kar dete hain to yah man kee sthiti ka saara khel hai aatmavishvaas kee kamee ka hai lekin kaee aise vyakti honge jo bura hone ke baad bhee drdhata se jeevan mein paristhitiyon ka saamana kar rahe hote hain aur baad mein gir ke oopar uthate hain aur saphalata praapt karate hain to hamen kisee bhee paristhiti mein chaahe kaisee bhee sthiti aae ho sakata hai ki hamaare pair ladakhada hee lag jae lekin hamen punah utanee hee josh se utana hee umang se saaree cheejon ko sakaaraatmak roop mein dekhana hai aur jo hamaare saath ghatana ho rahee hai us ko sakaaraatmak roop mein usamen bhee kuchh na kuchh sarkal jaise main ek sarakaaree vishvavidyaalay mein trening de raha tha tailee sophtaveyar kee ek mahila ne bola ki main to samajh hee nahin aa raha na to sab bhoolatee ja rahee hoon to mainne kaha aapako samajh kabhee nahin aaega jaise main 10 cheejen bataie aap yah dekh rahee hai ki mere ko naukaree nahin samajh aaee aap us par dhyaan kendrit karen ek cheej mere ko samajh aa gaee hai na aur samajh nahin hai pooja usako samajhaaya to usakee soch mein parivartan aaya aur nishchit roop se usaka aatmavishvaas badha use aage chaahie samajhane kee koshish bhee kee aur samajhee bhee vaise hee jeevan mein koee ghatana ghatatee hai bura hota hai to usamen kaheen na kaheen hamen achchha paath dekhen ki use ham prerit hokar aage achchhe kadam lekar saphalata praapt kar sake dhanyavaad

Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
🧖‍♀️life coach,Spiritual Advisor And Motivational speaker🙏
2:57
प्रश्न है ऐसा क्यों होता है कि जब लोगों का भाग्य पूरा होता है तो अच्छी चीजें भी बुराई में तब्दील हो जाती है तो ऐसा कुछ नहीं है यह एक सोसाइटी की बना दी गई एक थिंकिंग है जो कि लोग इस तरह से फॉलो करते आ रहे हैं और उनके दिमाग में यह बैठ गया है यह प्रकाश से डर की तरह बैठ गया लेकिन एक्चुअली में भी कुछ और है रियलिटी यह है कि यह लाइफ इस गेम एंड ध्यान से देखें तो बुरी चीज है जिसे आप बुरा कहते हैं बुरा कुछ है ही नहीं है यह जो सारी चीज है यह चैलेंज है ठीक है एक चीज को अगर आप देखेंगे तो चलेंगे होती है और लाइफ में यह भी होता है कि हमारा कर्मा ऑफ लॉ सोसायटी का कर्मा ऑफ लव इफेक्ट करता है हर एक इंसान पर हो सकता है कि कभी ना कभी आपने किसी के साथ किया होगा हो सकता है इस बॉडी में नहीं की किसी और बॉडी में किया हूं खुद को बॉडी तो नहीं समझना है ना हम ने बताया कि हम कौन हैं 16 एनर्जी तो किसी न किसी बॉडी मैसेज किया होगा तो वह वाला लो हमारे ऊपर इफेक्ट होता है वह फल मिलता है धन सोसाइटी का लो क्या होता है किसी ना किसी को पड़ा ऐसा होता है कि हमारे ऊपर काम करता है यह सभी चीजें क्या होती है कि हम पर काम करती है सब पर काम करती हैं और यह चैलेंज होते हैं इन्हीं क्या करना है प्लीज करना है इन चैलेंज इसके सलूशन होने ठीक है जैसे आप एक गेम खेलते कि मैं आपको पास चैलेंज को क्लियर करना होता है फिर दूसरे में जाते हैं दूसरे को क्लियर करना होता है फिर तीसरे में जाते ही नहीं पूरा होता है लोग हमारे साथ अच्छी नहीं होती क्यों नहीं होते ही होता है कि हमारी चैलेंज के रूप में लेते नहीं हैं हम हर एक चीज से डर जाते हैं हमको हमें लगता है कि यह तो हमारा पूरा भाग है इसलिए हमसे दूर भागता है बुरे लोग मिल रहे हैं अच्छे लोग मिल नहीं रहे तो हमारा यह चैलेंज है कि हम अच्छे लोग नहीं मिले कोई बात नहीं हमें अच्छा बुरे लोग को हम अपनी जिंदगी में एंट्री क्यों करनी थी जो अच्छे थे वह समय आने पर हमें बता दिया कि हां हम अच्छे हैं और जो अच्छा बनने का नाटक करे थे इस समय आने पर आपको पता चल गया कि यह समय बुरा समय चलने पर यह लोग बुरे हो जाते हैं तो आपने उनकी रियालिटी को भी देखा उसके बाद इस चैलेंज इसका सलूशन भी नहीं आ रहा और हर एक चीज को अगर आप चैलेंज के रूप में लेंगे तो अपनी लाइफ फॉर इजी तरीके से जी सकते हैं लेकिन अगर आप किसी चीज को टेंशन मिलेंगे डिप्रेशन में जाएंगे मेरी कोई दोस्त नहीं है यह करेंगे वह करेंगे तो उससे क्या होगा अब कोई नहीं कर पाएंगे तू यह सोसाइटी के नियम को चेंज करो अपनी जिंदगी को अच्छी तरीके से देखना शुरू करो सलूशन अपने आप निकलेगा थैंक यू सो मच
Prashn hai aisa kyon hota hai ki jab logon ka bhaagy poora hota hai to achchhee cheejen bhee buraee mein tabdeel ho jaatee hai to aisa kuchh nahin hai yah ek sosaitee kee bana dee gaee ek thinking hai jo ki log is tarah se pholo karate aa rahe hain aur unake dimaag mein yah baith gaya hai yah prakaash se dar kee tarah baith gaya lekin ekchualee mein bhee kuchh aur hai riyalitee yah hai ki yah laiph is gem end dhyaan se dekhen to buree cheej hai jise aap bura kahate hain bura kuchh hai hee nahin hai yah jo saaree cheej hai yah chailenj hai theek hai ek cheej ko agar aap dekhenge to chalenge hotee hai aur laiph mein yah bhee hota hai ki hamaara karma oph lo sosaayatee ka karma oph lav iphekt karata hai har ek insaan par ho sakata hai ki kabhee na kabhee aapane kisee ke saath kiya hoga ho sakata hai is bodee mein nahin kee kisee aur bodee mein kiya hoon khud ko bodee to nahin samajhana hai na ham ne bataaya ki ham kaun hain 16 enarjee to kisee na kisee bodee maisej kiya hoga to vah vaala lo hamaare oopar iphekt hota hai vah phal milata hai dhan sosaitee ka lo kya hota hai kisee na kisee ko pada aisa hota hai ki hamaare oopar kaam karata hai yah sabhee cheejen kya hotee hai ki ham par kaam karatee hai sab par kaam karatee hain aur yah chailenj hote hain inheen kya karana hai pleej karana hai in chailenj isake salooshan hone theek hai jaise aap ek gem khelate ki main aapako paas chailenj ko kliyar karana hota hai phir doosare mein jaate hain doosare ko kliyar karana hota hai phir teesare mein jaate hee nahin poora hota hai log hamaare saath achchhee nahin hotee kyon nahin hote hee hota hai ki hamaaree chailenj ke roop mein lete nahin hain ham har ek cheej se dar jaate hain hamako hamen lagata hai ki yah to hamaara poora bhaag hai isalie hamase door bhaagata hai bure log mil rahe hain achchhe log mil nahin rahe to hamaara yah chailenj hai ki ham achchhe log nahin mile koee baat nahin hamen achchha bure log ko ham apanee jindagee mein entree kyon karanee thee jo achchhe the vah samay aane par hamen bata diya ki haan ham achchhe hain aur jo achchha banane ka naatak kare the is samay aane par aapako pata chal gaya ki yah samay bura samay chalane par yah log bure ho jaate hain to aapane unakee riyaalitee ko bhee dekha usake baad is chailenj isaka salooshan bhee nahin aa raha aur har ek cheej ko agar aap chailenj ke roop mein lenge to apanee laiph phor ijee tareeke se jee sakate hain lekin agar aap kisee cheej ko tenshan milenge dipreshan mein jaenge meree koee dost nahin hai yah karenge vah karenge to usase kya hoga ab koee nahin kar paenge too yah sosaitee ke niyam ko chenj karo apanee jindagee ko achchhee tareeke se dekhana shuroo karo salooshan apane aap nikalega thaink yoo so mach

अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
1:09
ऐसा क्यों होता है कि जब लोगों का भाग पूरा होता है तो अच्छी चीजें भी बुराई में तब्दील हो जाती है देखिए जब इंसान का भाग बुरा होता तो उसे देखिए नकारात्मक सोच और शक्तियां के लेती हूं जो भी दिखे अच्छा सोचता है जो भी अच्छा करता है वही के बुरे विचारों यह बुराई में बदल जाती लेकिन इंसान तो भागने के हमेशा बुरा नहीं होता वह अपने कर्मों से भले ही उस दौरान अधिक सफलता हासिल ना कर सके लेकिन बुरी स्थिति देख सकता भगवान को आप को देखे बुरे हालात देने का मतलब आप को तराशना है इंसान भी की बुरी परिस्थितियों में ज्यादा सीखता है ज्यादा अनुभव प्राप्त करता है संघर्ष में देकर व्यक्तित्व निखरता है तो ऐसे इस वजह से होता है क्योंकि देखिए आपने हमेशा योगिता में ध्यान दिया कभी एक युग समाज की कल्पना नहीं की तो भगवान आपके समाज के विषय में भी सोचने की मदद करता है लेकिन मेरे साथ भी देखिए बहुत बार बुराई हुआ मुझे बुरी परिस्थितियों से लिखित कोई गिला शिकवा नहीं कोई अफसोस नहीं बल्कि मैं तो उनका स्वागत करूंगा कि मेरे व्यक्तित्व को दिखा रहे तो कभी भी कुछ पुराना सोचे जय हिंद जय भारत
Aisa kyon hota hai ki jab logon ka bhaag poora hota hai to achchhee cheejen bhee buraee mein tabdeel ho jaatee hai dekhie jab insaan ka bhaag bura hota to use dekhie nakaaraatmak soch aur shaktiyaan ke letee hoon jo bhee dikhe achchha sochata hai jo bhee achchha karata hai vahee ke bure vichaaron yah buraee mein badal jaatee lekin insaan to bhaagane ke hamesha bura nahin hota vah apane karmon se bhale hee us dauraan adhik saphalata haasil na kar sake lekin buree sthiti dekh sakata bhagavaan ko aap ko dekhe bure haalaat dene ka matalab aap ko taraashana hai insaan bhee kee buree paristhitiyon mein jyaada seekhata hai jyaada anubhav praapt karata hai sangharsh mein dekar vyaktitv nikharata hai to aise is vajah se hota hai kyonki dekhie aapane hamesha yogita mein dhyaan diya kabhee ek yug samaaj kee kalpana nahin kee to bhagavaan aapake samaaj ke vishay mein bhee sochane kee madad karata hai lekin mere saath bhee dekhie bahut baar buraee hua mujhe buree paristhitiyon se likhit koee gila shikava nahin koee aphasos nahin balki main to unaka svaagat karoonga ki mere vyaktitv ko dikha rahe to kabhee bhee kuchh puraana soche jay hind jay bhaarat

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:15
सवाल यह है कि ऐसा क्यों होता है जब लोगों का भाग्य बुरा होता है तो अच्छी चीजें भी बुराई में तब्दील हो जाती हैं तो ऐसा कभी नहीं होता भाग्य कभी भी बुरा या अच्छा नहीं होता बुरा या अच्छा हमारी हमारा पर परिस्थितियों को देखने का नजरिया होता है यह हम पर डिपेंड करता है कि हम पर श्रुति को किस तरफ से देखते हैं सकारात्मक तरफ या फिर नकारात्मक की तरफ अगर हम गलत तरीके से किसी परिस्थिति को देख रहे हैं तो हम अपने भाग्य को देश दोष देने लगते हैं कि हमारा भाग्य कितना बुरा है भगवान को दोष देने लगते हैं जबकि ऐसा नहीं है बस किसी भी सिचुएशन को लेकर हमें अपना नजरिया बदलना होगा तो सब चीजें अच्छी हो जाएंगी हमें किसी प्रॉब्लम अगर हम किसी प्रॉब्लम में फंस जाते हैं तो उस प्रॉब्लम को सोचने से अच्छा उस पर चिंतन करने से अच्छा यह होगा कि हम उसका सोल्युशन ढूंढे ना कि उस प्रॉब्लम को लेकर टेंशन लेते रहे जैसे ही हर पल मिशन पर चिंतन करना शुरू करेंगे वैसे ही हमारी प्रॉब्लम सॉल्व हो जाएगी तो अगली बार हम आगे को दोष देने से अच्छा किसी भी परिस्थिति के सकारात्मक पहलू पर नजर डाले और फिर खुश रहे
Savaal yah hai ki aisa kyon hota hai jab logon ka bhaagy bura hota hai to achchhee cheejen bhee buraee mein tabdeel ho jaatee hain to aisa kabhee nahin hota bhaagy kabhee bhee bura ya achchha nahin hota bura ya achchha hamaaree hamaara par paristhitiyon ko dekhane ka najariya hota hai yah ham par dipend karata hai ki ham par shruti ko kis taraph se dekhate hain sakaaraatmak taraph ya phir nakaaraatmak kee taraph agar ham galat tareeke se kisee paristhiti ko dekh rahe hain to ham apane bhaagy ko desh dosh dene lagate hain ki hamaara bhaagy kitana bura hai bhagavaan ko dosh dene lagate hain jabaki aisa nahin hai bas kisee bhee sichueshan ko lekar hamen apana najariya badalana hoga to sab cheejen achchhee ho jaengee hamen kisee problam agar ham kisee problam mein phans jaate hain to us problam ko sochane se achchha us par chintan karane se achchha yah hoga ki ham usaka solyushan dhoondhe na ki us problam ko lekar tenshan lete rahe jaise hee har pal mishan par chintan karana shuroo karenge vaise hee hamaaree problam solv ho jaegee to agalee baar ham aage ko dosh dene se achchha kisee bhee paristhiti ke sakaaraatmak pahaloo par najar daale aur phir khush rahe

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हमेशा अच्छी चीजे बुरी क्यों लगती है ..कुण्डली भाग्य
URL copied to clipboard