#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

फ्रांस की क्रांति का क्या कारण था?

France Ki Kranti Ka Kya Kaaran Tha
Srishti Mehrotra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Srishti जी का जवाब
Unknown
2:00
क्रांति का क्या कारण था फ्रांस की क्रांति का एक महत्वपूर्ण कारण सामाजिक समानता थी मैडम के अनुसार 17 से 89 ईसवी की क्रांति का विद्रोह तानाशाही से अधिक समानता के प्रति समाज में व्याप्त थी समाज दो वर्गों में विभाजित विशेषाधिकार वाले वर्ग में कुल्लू और पादरी थे और विनय विशेषाधिकार प्राप्त है वहीं दूसरी और वह करो मैं आदि से विमुक्त थे अनुमान लगाया जाता है करो केक देने के पश्चात किसान के पास अपनी उपज का कुल 20% क्षेत्र कहा जाता था किसानों को चुकाने के पश्चात किसी तरह का निरहुआ कर लेते थे परंतु शेष भाग में उनकी दशा अत्यंत सोचनीय थी व्यापार करने में स्वयं को असमर्थ पाते थे यद्यपि ने सत्र में शताब्दी में लो बल्कि राजनीतिक शक्तियां समाप्त कर दी थी किंतु इसे कुलीन वर्ग में साधारण और के लिए और भी उत्पन्न हो गई मैं इस विषय में लिखा है 1789 की स्वीकृति के लिए त्रिशूल बहुत अधिक उत्तरदाई था मध्यम वर्ग के लोग भी भारत के समाज के साधारण वर्ग में शामिल थे इसके अंतर्गत प्रोफेसर अनिल साहू का व्यावहारिक आदि थे उधर भी थे और प्रयोग विधि तथा संसार विभागों में घूम चुके थे पुराने राज्य द्वारा दी गई नीची सामाजिक स्थिति को स्वीकार करने के लिए तैयार न थे इसी वर्ग के लोग कि फ्रांस की जनता के द्वारा पुराने राज्य के विरुद्ध किए गए विद्रोह में उसके नेता बने धन्यवाद
Kraanti ka kya kaaran tha phraans kee kraanti ka ek mahatvapoorn kaaran saamaajik samaanata thee maidam ke anusaar 17 se 89 eesavee kee kraanti ka vidroh taanaashaahee se adhik samaanata ke prati samaaj mein vyaapt thee samaaj do vargon mein vibhaajit visheshaadhikaar vaale varg mein kulloo aur paadaree the aur vinay visheshaadhikaar praapt hai vaheen doosaree aur vah karo main aadi se vimukt the anumaan lagaaya jaata hai karo kek dene ke pashchaat kisaan ke paas apanee upaj ka kul 20% kshetr kaha jaata tha kisaanon ko chukaane ke pashchaat kisee tarah ka nirahua kar lete the parantu shesh bhaag mein unakee dasha atyant sochaneey thee vyaapaar karane mein svayan ko asamarth paate the yadyapi ne satr mein shataabdee mein lo balki raajaneetik shaktiyaan samaapt kar dee thee kintu ise kuleen varg mein saadhaaran aur ke lie aur bhee utpann ho gaee main is vishay mein likha hai 1789 kee sveekrti ke lie trishool bahut adhik uttaradaee tha madhyam varg ke log bhee bhaarat ke samaaj ke saadhaaran varg mein shaamil the isake antargat prophesar anil saahoo ka vyaavahaarik aadi the udhar bhee the aur prayog vidhi tatha sansaar vibhaagon mein ghoom chuke the puraane raajy dvaara dee gaee neechee saamaajik sthiti ko sveekaar karane ke lie taiyaar na the isee varg ke log ki phraans kee janata ke dvaara puraane raajy ke viruddh kie gae vidroh mein usake neta bane dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
फ्रांस की क्रांति का क्या कारण था?France Ki Kranti Ka Kya Kaaran Tha
Saloni vishwkarma   Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Saloni जी का जवाब
Unknown
1:25
नमस्कार दोस्तों आप का सवाल है कि फ्रांस की क्रांति के क्या कारण थे कि फ्रांस की क्रांति की पहुंच से गांधी जैसे पहले मैं आपको बता दो कि उस समय का राज्य था और बार-बार युद्ध की मा छे विस्की कारण फ्रांस की आर्थिक स्थिति बहुत ही जर्जर हो चुकी थी उसके साथ ही अमेरिका के स्वतंत्रता युद्ध में असली सुनाने में भाग ले लिया और भी उसकी स्थिति जर्जर हो चुकी और फिर उस समय किसानों का शोषण हो रहा था किसान मजदूर इन सब का शोषण हो रहा था महंगाई महंगाई की दर से जो उनकी मजबूरी थी वेतन था वह नहीं बढ़ रहा था उस समय किसानों की फसलें नष्ट हो जाने के कारण भुखमरी आ गई थी और किसानों की फसलें नष्ट हो गई थी युद्ध के कारण प्रशासन था वह बहुत ही निरंकुश उसने अपनी मर्जी से कानून बनाया वह भी उनका कानून एक भी अच्छा नहीं था और जो तीसरे स्टेट के प्रतिनिधि थे वह खुद को असेंबल नेशनल असेंबली घोषित कर चुके थे और निदान बनाना भी शुरू कर दिया था इस निरंकुश शासन के कारण फ्रांस की क्रांति और भी बढ़ती गई और यही कारण हो गया
Namaskaar doston aap ka savaal hai ki phraans kee kraanti ke kya kaaran the ki phraans kee kraanti kee pahunch se gaandhee jaise pahale main aapako bata do ki us samay ka raajy tha aur baar-baar yuddh kee ma chhe viskee kaaran phraans kee aarthik sthiti bahut hee jarjar ho chukee thee usake saath hee amerika ke svatantrata yuddh mein asalee sunaane mein bhaag le liya aur bhee usakee sthiti jarjar ho chukee aur phir us samay kisaanon ka shoshan ho raha tha kisaan majadoor in sab ka shoshan ho raha tha mahangaee mahangaee kee dar se jo unakee majabooree thee vetan tha vah nahin badh raha tha us samay kisaanon kee phasalen nasht ho jaane ke kaaran bhukhamaree aa gaee thee aur kisaanon kee phasalen nasht ho gaee thee yuddh ke kaaran prashaasan tha vah bahut hee nirankush usane apanee marjee se kaanoon banaaya vah bhee unaka kaanoon ek bhee achchha nahin tha aur jo teesare stet ke pratinidhi the vah khud ko asembal neshanal asembalee ghoshit kar chuke the aur nidaan banaana bhee shuroo kar diya tha is nirankush shaasan ke kaaran phraans kee kraanti aur bhee badhatee gaee aur yahee kaaran ho gaya

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • फ्रांस की क्रांति का क्या कारण था फ्रांस की क्रांति का कारण
URL copied to clipboard