#भारत की राजनीति

bolkar speaker

किसानों के आगे क्यों झुक गए मोदी सरकार?

Kisaano Ke Aage Kyun Jhuk Gayi Modi Sarkaar
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:47
आप गरीब किसानों के आगे क्यों झुक गए मोदी सरकार मोदी सरकार कहां चुके अभी तक तो कोई समझौता नहीं हुआ तीनों कृषि कानून वैसे ही हैं किसान वैसे भी बॉर्डर पर हैं योगी जी वहां पर बाढ़ लगवा रहे हैं तमाम कटीले तार लगवा रहे हैं चारों तरफ से उनका आवागमन बंद है अभी तक मतलब अगर उनके साथ सारी किसान अगर एक साथ ना हो तो तो सरकार अब तो खुद को उड़ा डाली होती तो सरकार के साथ कहां समझौता करे सरकार ने इसको प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया है और वह किसानों को हर तरह नुकसान पहुंचाने के लिए अपने संगीत सैनिकों के माध्यम से उनको नुकसान पहुंचा रही हो को बेइज्जत करवा रही जबरदस्त को पर तोहमत लगा रही है यह सारी बातें तो सरकार भी कहां चुकी है सरकार को झुकना पड़ेगा यह मेरा वादा है
Aap gareeb kisaanon ke aage kyon jhuk gae modee sarakaar modee sarakaar kahaan chuke abhee tak to koee samajhauta nahin hua teenon krshi kaanoon vaise hee hain kisaan vaise bhee bordar par hain yogee jee vahaan par baadh lagava rahe hain tamaam kateele taar lagava rahe hain chaaron taraph se unaka aavaagaman band hai abhee tak matalab agar unake saath saaree kisaan agar ek saath na ho to to sarakaar ab to khud ko uda daalee hotee to sarakaar ke saath kahaan samajhauta kare sarakaar ne isako pratishtha ka prashn bana liya hai aur vah kisaanon ko har tarah nukasaan pahunchaane ke lie apane sangeet sainikon ke maadhyam se unako nukasaan pahuncha rahee ho ko beijjat karava rahee jabaradast ko par tohamat laga rahee hai yah saaree baaten to sarakaar bhee kahaan chukee hai sarakaar ko jhukana padega yah mera vaada hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसानों के आगे क्यों झुक गए मोदी सरकार?Kisaano Ke Aage Kyun Jhuk Gayi Modi Sarkaar
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:51

bolkar speaker
किसानों के आगे क्यों झुक गए मोदी सरकार?Kisaano Ke Aage Kyun Jhuk Gayi Modi Sarkaar
Manish Bhati Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Manish जी का जवाब
Life coach, professional counsellor & Relationship expert. Fitness & Motivational Coach
1:18
तो जैसा कि आपका क्वेश्चन है सानू के आगे जो जो कि मोदी सरकार को किसानों के आगे झुके नहीं समझे जो चीज है उसके आगे झुकना हर किसी को पड़ता है किसानों को कोई बुरा नहीं चाहते ऑनलाइन की छोटी सी मांगे अपनी फसल का फसल अपनी सफलता वह अपने अकॉर्डिंग बेचना चाहते हैं अपने अकॉर्डिंग प्राप्त करना चाहते हैं प्लीज गलत क्या मैसेज में नहीं मानता कि मोदी सरकार गलत है लेकिन कई बार सर का हमारे लिए फैसला सही नहीं कर पाते इस गुस्से में विश्वास ए सेटिस्फाइंग जैसे आपको एक अच्छा उदाहरण देकर समझाता हूं हमारे पीएम सर की जगह मोदी सर की जगह राहुल गांधी पीएम सर बनते तो देखो देश का क्या होता है हमारे लिए सही नहीं है क्यों अगर उनमें एक नॉलेज की बात कह रहे हो या कोई भी बात कर लो कम इस वजह से उनका नहीं बैठ पाएगा तो इस सिचुएशन में हमारे मोदी सरकार की नहीं है उनका सम्मान किया एक तरीका जो हमारे देश के लिखित कारी है उनका आदर करना चाहिए इससे झुकना नहीं बोले मैसेज धन्यवाद
To jaisa ki aapaka kveshchan hai saanoo ke aage jo jo ki modee sarakaar ko kisaanon ke aage jhuke nahin samajhe jo cheej hai usake aage jhukana har kisee ko padata hai kisaanon ko koee bura nahin chaahate onalain kee chhotee see maange apanee phasal ka phasal apanee saphalata vah apane akording bechana chaahate hain apane akording praapt karana chaahate hain pleej galat kya maisej mein nahin maanata ki modee sarakaar galat hai lekin kaee baar sar ka hamaare lie phaisala sahee nahin kar paate is gusse mein vishvaas e setisphaing jaise aapako ek achchha udaaharan dekar samajhaata hoon hamaare peeem sar kee jagah modee sar kee jagah raahul gaandhee peeem sar banate to dekho desh ka kya hota hai hamaare lie sahee nahin hai kyon agar unamen ek nolej kee baat kah rahe ho ya koee bhee baat kar lo kam is vajah se unaka nahin baith paega to is sichueshan mein hamaare modee sarakaar kee nahin hai unaka sammaan kiya ek tareeka jo hamaare desh ke likhit kaaree hai unaka aadar karana chaahie isase jhukana nahin bole maisej dhanyavaad

bolkar speaker
किसानों के आगे क्यों झुक गए मोदी सरकार?Kisaano Ke Aage Kyun Jhuk Gayi Modi Sarkaar
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:58
आपका प्रश्न यह है कि किसानों के आगे क्यों झुक गए मोदी सरकार देखिए मैं इसका उत्तर पुनासा विस्तार से देना चाहूंगा कि किसान के आगे अगर सरकार झुक जाए मोदी सरकार झुक जाए तो इसमें कोई बुरी बात नहीं है क्योंकि किसान इस देश का नागरिक है जो वास्तविक किसान हैं वह इस देश का देश भक्त है जो वास्तविक ई किसान है वह हमारा अन्नदाता है उसके आगे अगर मोदी सरकार झुक जाए तो मुझे कोई तकलीफ नहीं है और देशवासियों को भी कोई तकलीफ नहीं होगी लेकिन जो भारतीय किसान नहीं है और जहां तक मैं समझता हूं अभी तक मोदी सरकार उन किसानों के आगे जो वास्तविक किसान नहीं है उन भाइयों के आगे आतंकवादियों के आगे सरकार नहीं चुकी है और झुकना भी नहीं चाहिए और जिस दिन रुक गई तो इस देश सरकार नहीं छूटेगी बल्कि इस देश का सर शर्म से झुक जाए देशवासियों को समझने की जरूरत है और जो वास्तविक किसान हैं उनको भी समझने की जरूरत है कि यह बहुत बड़ी अंतरराष्ट्रीय साजिश है जहां पर किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर के जो आतंकवादी हैं जो यह देश विरोधी लोग हैं जो पूरे विश्व में कुछ ऐसे लोग हैं कुछ ऐसी सरकारें हैं जो नहीं चाहती कि भारत सरकार भारत देश प्रगति करें भारत देश आगे जाए वह चाहते हैं कि भारत देश हमेशा उनके हाथों की कठपुतली बना रहे जो चाहते हैं कि भारत कभी आत्मनिर्भर नहीं हो ऐसे लोग अनेक तरह के षड्यंत्र करके इस किसान आंदोलन के नाम पर इसकी पीठ पीछे बहुत बड़ा षड्यंत्र रच रहे हैं और दुर्भाग्य की बात यह है कि कुछ किसान जो वास्तव में किसान तो हैं लेकिन इसके पीछे बड़े षड्यंत्र को नहीं समझ पा रहे हैं उनको कांग्रेस पार्टी वामपंथी और ऐसे कुछ देशद्रोही लोग कुछ देशद्रोही सरकारें अपने फंडे के माध्यम से को प्रचार के माध्यम से किसानों को भ्रमित कर रही है भड़का रही है जबकि 180 बिल खराब नहीं है या किसानों के जीवन में प्रगति लाने वाला है क्रांतिकारी परिवर्तन लाने वाला है किसानों के जीवन को बहुत उनके जीवन स्तर को ऊपर लाने वाला लेकिन दुर्भाग्य से कुछ किसान इस बात को नहीं समझ पा रहे हैं लेकिन अच्छी बात यह है कि इस देश के ज्यादातर किसान एक दो तीन राज्यों को छोड़कर के वह सरकार के साथ खड़ा है और किसानों के आगे सरकार चुके कोई तकलीफ नहीं है लेकिन आतंकवादियों के आगे झुकने में मुझे बहुत तकलीफ हो
Aapaka prashn yah hai ki kisaanon ke aage kyon jhuk gae modee sarakaar dekhie main isaka uttar punaasa vistaar se dena chaahoonga ki kisaan ke aage agar sarakaar jhuk jae modee sarakaar jhuk jae to isamen koee buree baat nahin hai kyonki kisaan is desh ka naagarik hai jo vaastavik kisaan hain vah is desh ka desh bhakt hai jo vaastavik ee kisaan hai vah hamaara annadaata hai usake aage agar modee sarakaar jhuk jae to mujhe koee takaleeph nahin hai aur deshavaasiyon ko bhee koee takaleeph nahin hogee lekin jo bhaarateey kisaan nahin hai aur jahaan tak main samajhata hoon abhee tak modee sarakaar un kisaanon ke aage jo vaastavik kisaan nahin hai un bhaiyon ke aage aatankavaadiyon ke aage sarakaar nahin chukee hai aur jhukana bhee nahin chaahie aur jis din ruk gaee to is desh sarakaar nahin chhootegee balki is desh ka sar sharm se jhuk jae deshavaasiyon ko samajhane kee jaroorat hai aur jo vaastavik kisaan hain unako bhee samajhane kee jaroorat hai ki yah bahut badee antararaashtreey saajish hai jahaan par kisaanon ke kandhe par bandook rakhakar ke jo aatankavaadee hain jo yah desh virodhee log hain jo poore vishv mein kuchh aise log hain kuchh aisee sarakaaren hain jo nahin chaahatee ki bhaarat sarakaar bhaarat desh pragati karen bhaarat desh aage jae vah chaahate hain ki bhaarat desh hamesha unake haathon kee kathaputalee bana rahe jo chaahate hain ki bhaarat kabhee aatmanirbhar nahin ho aise log anek tarah ke shadyantr karake is kisaan aandolan ke naam par isakee peeth peechhe bahut bada shadyantr rach rahe hain aur durbhaagy kee baat yah hai ki kuchh kisaan jo vaastav mein kisaan to hain lekin isake peechhe bade shadyantr ko nahin samajh pa rahe hain unako kaangres paartee vaamapanthee aur aise kuchh deshadrohee log kuchh deshadrohee sarakaaren apane phande ke maadhyam se ko prachaar ke maadhyam se kisaanon ko bhramit kar rahee hai bhadaka rahee hai jabaki 180 bil kharaab nahin hai ya kisaanon ke jeevan mein pragati laane vaala hai kraantikaaree parivartan laane vaala hai kisaanon ke jeevan ko bahut unake jeevan star ko oopar laane vaala lekin durbhaagy se kuchh kisaan is baat ko nahin samajh pa rahe hain lekin achchhee baat yah hai ki is desh ke jyaadaatar kisaan ek do teen raajyon ko chhodakar ke vah sarakaar ke saath khada hai aur kisaanon ke aage sarakaar chuke koee takaleeph nahin hai lekin aatankavaadiyon ke aage jhukane mein mujhe bahut takaleeph ho

bolkar speaker
किसानों के आगे क्यों झुक गए मोदी सरकार?Kisaano Ke Aage Kyun Jhuk Gayi Modi Sarkaar
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:11
सवाल ये है कि किसानों के आगे क्यों झुक गई है मोदी सरकार तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है वरिष्ठ पत्रकार अतिथि पड़ा निवेश केंद्र के इस फैसले को मास्टर स्ट्रोक करार देती है और इसमें आर एस एस की भूमिका को नहीं देखी वह कहती है कि आर एस एस की मांग तो बहुत पहले से थी फिर इतनी देर से सरकार क्यों मानी है तो दीदी जी कहती हैं कि सरकार अपने स्टंट्स बिल्कुल पीछे नहीं आई है सरकार ने किसानों की कोई मांग नहीं मानी है वह तो बस 18 महीने तक इस कानून को स्थगित कर रहे हैं 18 महीने तक कई राज्यों के महत्वपूर्ण चुनाव खत्म हो जाएंगे किसानों की मूल मांग थी कि कानून को वापस लेने की और एमएसपी पर कानून की गारंटी की ना तो सरकार कानून कानून वापस ले रही है और ना ही एमएसपी पर कोई गारंटी नहीं रही है यह सरकार का मास्टर स्ट्रोक है अगर किसानों की मूल मांग को ना मानते हुए भी वह किस एक आंदोलन खत्म करवा ले तो सरकार को दिक्कत है इस बात की थी कि किसान आंदोलन खत्म करने को तैयार ही नहीं थे और यह पॉलिटिशन इंफेक्शन की तरह देश में फैलता जा रहा था अदिति यह मानती है कि सरकार पहले भी इस की मांगों को पहले भी कर सकते थे लेकिन आप इस आंदोलन में सरकार बहुत कुछ खो चुकी है हालांकि बीजेपी के राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा का सरकार के रूपकुला लोकतांत्रिक प्रक्रिया का हिस्सा बता रहे हैं उन्होंने कहा है कि पूरे आंदोलन को खत्म करने के दो ही तरीके से शांतिपूर्ण तरीके से बातचीत से मुद्दे को सुलझाया जाए या फिर बल का प्रयोग करके जैसे इंदिरा गांधी के समय पर हमने देखा था हमारी सरकार बातचीत के ही मुद्दे सुलझाने की बात करती है हमेशा से कहती है आई है और आज भी वही बात बात कह रही है बातचीत में जब गतिरोध आया तो सरकार ने नए तरीके से समाधान खोजा डेढ़ साल तक कानून को स्थगित करने का हमने कानून को वापस तो आज भी नहीं लिया है तो इसका साफ साफ मतलब है कि किसानों के सामने अभी सरकार नहीं झुकी है
Savaal ye hai ki kisaanon ke aage kyon jhuk gaee hai modee sarakaar to aisa bilkul bhee nahin hai varishth patrakaar atithi pada nivesh kendr ke is phaisale ko maastar strok karaar detee hai aur isamen aar es es kee bhoomika ko nahin dekhee vah kahatee hai ki aar es es kee maang to bahut pahale se thee phir itanee der se sarakaar kyon maanee hai to deedee jee kahatee hain ki sarakaar apane stants bilkul peechhe nahin aaee hai sarakaar ne kisaanon kee koee maang nahin maanee hai vah to bas 18 maheene tak is kaanoon ko sthagit kar rahe hain 18 maheene tak kaee raajyon ke mahatvapoorn chunaav khatm ho jaenge kisaanon kee mool maang thee ki kaanoon ko vaapas lene kee aur emesapee par kaanoon kee gaarantee kee na to sarakaar kaanoon kaanoon vaapas le rahee hai aur na hee emesapee par koee gaarantee nahin rahee hai yah sarakaar ka maastar strok hai agar kisaanon kee mool maang ko na maanate hue bhee vah kis ek aandolan khatm karava le to sarakaar ko dikkat hai is baat kee thee ki kisaan aandolan khatm karane ko taiyaar hee nahin the aur yah politishan imphekshan kee tarah desh mein phailata ja raha tha aditi yah maanatee hai ki sarakaar pahale bhee is kee maangon ko pahale bhee kar sakate the lekin aap is aandolan mein sarakaar bahut kuchh kho chukee hai haalaanki beejepee ke raajyasabha saansad raakesh sinha ka sarakaar ke roopakula lokataantrik prakriya ka hissa bata rahe hain unhonne kaha hai ki poore aandolan ko khatm karane ke do hee tareeke se shaantipoorn tareeke se baatacheet se mudde ko sulajhaaya jae ya phir bal ka prayog karake jaise indira gaandhee ke samay par hamane dekha tha hamaaree sarakaar baatacheet ke hee mudde sulajhaane kee baat karatee hai hamesha se kahatee hai aaee hai aur aaj bhee vahee baat baat kah rahee hai baatacheet mein jab gatirodh aaya to sarakaar ne nae tareeke se samaadhaan khoja dedh saal tak kaanoon ko sthagit karane ka hamane kaanoon ko vaapas to aaj bhee nahin liya hai to isaka saaph saaph matalab hai ki kisaanon ke saamane abhee sarakaar nahin jhukee hai

bolkar speaker
किसानों के आगे क्यों झुक गए मोदी सरकार?Kisaano Ke Aage Kyun Jhuk Gayi Modi Sarkaar
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:43
रूपेश ने किसानों के आगे क्यों झुक गए हैं मोदी सरकार तो आपको बता दें कि देखिए यहां पर वोट बैंक की राजनीति होती है भारतवर्ष में जो मिडल क्लास पीपल है मुश्किल से 4 परसेंट होते हैं वोट बैंक का और उसी जगह अगर आप किसानों की बात करें तो एक बहुत बड़ा है यहां पर किसानों का फैक्टर निकल के सामने आता है जो कि वोट देता है तो ऐसी स्थिति में अगर आपके वोटर्स को नाराज कर दिया तो फिर कहां जाएगा कोई भी पसंद इस वजह से जो बड़ी-बड़ी सरकारें हैं वह भी किसान प्रदर्शनों के आगे जब जो बड़े वोट बैंक से उनके प्रदर्शनों के आगे झुक जाती है अपनी शुभकामनाएं आपके साथ है धन्यवाद
Roopesh ne kisaanon ke aage kyon jhuk gae hain modee sarakaar to aapako bata den ki dekhie yahaan par vot baink kee raajaneeti hotee hai bhaaratavarsh mein jo midal klaas peepal hai mushkil se 4 parasent hote hain vot baink ka aur usee jagah agar aap kisaanon kee baat karen to ek bahut bada hai yahaan par kisaanon ka phaiktar nikal ke saamane aata hai jo ki vot deta hai to aisee sthiti mein agar aapake votars ko naaraaj kar diya to phir kahaan jaega koee bhee pasand is vajah se jo badee-badee sarakaaren hain vah bhee kisaan pradarshanon ke aage jab jo bade vot baink se unake pradarshanon ke aage jhuk jaatee hai apanee shubhakaamanaen aapake saath hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसानों के आगे क्यों झुक गए मोदी सरकार
URL copied to clipboard