#भारत की राजनीति

bolkar speaker

मोदी सरकार की ऐसी कौन सी मजबूरी है जो कुछ आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रही है?

Modi Sarkar Ki Esi Kon Si Majburi Hai Jo Mutthi Bhar Andolankariyo Par Lagaam Nahi Lga Pa Rahi Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:06
सिवान तो आज आप का सवाल है कि मोदी सरकार की ऐसी कौन सी मजबूरी है जो मुट्ठी भर आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रहे हैं तो उनके जब कोई इंसान किसी चीज के लिए आवाज उठाता है तो उसे दबाया जा सकता है चाहे वह सही क्यों ना हो उसे दबाया जा सकता और ऐसा हमारे देश में सोता भी आ रहा है और अभी भी यह हो भी रहा है और जब बहुत सारे लोग मिलकर किसी चीज के लिए आवाज उठाते हैं जैसे कि किसान आंदोलन अभी जैसे चल रहा है तो उसमें दबाना इतने सारे लोगों को दबाना और चुप कराना बहुत ही मतलब मुश्किल हो जाता है तो यह किसान ऐसा तो नहीं है कि किसी गलत चीज के लिए लड़ रहे हैं अपने लिए ही लड़ रहा है सभी नहीं किसी और की लड़की किसी और देश के लिए लड़ रहे अपने लिए ही लड़ रहे हैं और ऐसा नहीं कि हमारे देश में उन्हें सपोर्ट नहीं किया जा रहा बहुत सारे सेलिब्रिटी जो है वह लोग भी सपोर्ट कर रहे हैं बहुत सारे लोग किसान के फेवर में है कि हां वह सही करें सरकार को समझना चाहिए तो जब वह सही चीज के लिए लड़ रहे हैं और सही चीज सही उनके लिए जो मुद्दा है और इतनी ज्यादा लोग हैं तो यहां पर सरकार को चुप कराना मतलब सरकार किसानों को चुप कर आएगी और फिर अदरक यह सब चीज बंद करवा देगी तो यह मतलब पॉसिबल नहीं है क्योंकि जब कोई इंसान इतना ज्यादा इतने सारे लोग हैं और सही चीज के लिए लड़ रहे हैं तो इतनी सारी मीडिया हर एक जगह सोशल नेटवर्क पर यह चीज दिखाया जा रहा है तू यह चीज बंद नहीं हो सकता जब आप आवाज उठाते हैं और आपकी आवाज को इतने सारे लोग इतने आवाज सुनते हैं और सपोर्ट भी करते हैं और आप भी एक-दो दिन से नहीं 2 महीने से यह चीज कर रहे हैं तो यहां पर नाही किसान हार मानने वाली है और ना ही वह झुकने वाले और ना ही वह जाने वाली है तो मेरी सांसे जब तक उन्हें इंसाफ नहीं मिलेगा कुछ चाहते हैं जिस तरह से मॉडिफिकेशन चाहते हैं अगर वह नहीं हो मुझे लगता है तब तक वह पोस्ट करते रहेंगे और जो सरकार है हमारी वह मदद उठा नहीं सकती हो ना इन्हें मतलब जैसा कि आप कह रहे हैं कि इस आंदोलन को बंद करवाना है वह बंद नहीं करवा सकते
Sivaan to aaj aap ka savaal hai ki modee sarakaar kee aisee kaun see majabooree hai jo mutthee bhar aandolanakaariyon par lagaam nahin laga pa rahe hain to unake jab koee insaan kisee cheej ke lie aavaaj uthaata hai to use dabaaya ja sakata hai chaahe vah sahee kyon na ho use dabaaya ja sakata aur aisa hamaare desh mein sota bhee aa raha hai aur abhee bhee yah ho bhee raha hai aur jab bahut saare log milakar kisee cheej ke lie aavaaj uthaate hain jaise ki kisaan aandolan abhee jaise chal raha hai to usamen dabaana itane saare logon ko dabaana aur chup karaana bahut hee matalab mushkil ho jaata hai to yah kisaan aisa to nahin hai ki kisee galat cheej ke lie lad rahe hain apane lie hee lad raha hai sabhee nahin kisee aur kee ladakee kisee aur desh ke lie lad rahe apane lie hee lad rahe hain aur aisa nahin ki hamaare desh mein unhen saport nahin kiya ja raha bahut saare selibritee jo hai vah log bhee saport kar rahe hain bahut saare log kisaan ke phevar mein hai ki haan vah sahee karen sarakaar ko samajhana chaahie to jab vah sahee cheej ke lie lad rahe hain aur sahee cheej sahee unake lie jo mudda hai aur itanee jyaada log hain to yahaan par sarakaar ko chup karaana matalab sarakaar kisaanon ko chup kar aaegee aur phir adarak yah sab cheej band karava degee to yah matalab posibal nahin hai kyonki jab koee insaan itana jyaada itane saare log hain aur sahee cheej ke lie lad rahe hain to itanee saaree meediya har ek jagah soshal netavark par yah cheej dikhaaya ja raha hai too yah cheej band nahin ho sakata jab aap aavaaj uthaate hain aur aapakee aavaaj ko itane saare log itane aavaaj sunate hain aur saport bhee karate hain aur aap bhee ek-do din se nahin 2 maheene se yah cheej kar rahe hain to yahaan par naahee kisaan haar maanane vaalee hai aur na hee vah jhukane vaale aur na hee vah jaane vaalee hai to meree saanse jab tak unhen insaaph nahin milega kuchh chaahate hain jis tarah se modiphikeshan chaahate hain agar vah nahin ho mujhe lagata hai tab tak vah post karate rahenge aur jo sarakaar hai hamaaree vah madad utha nahin sakatee ho na inhen matalab jaisa ki aap kah rahe hain ki is aandolan ko band karavaana hai vah band nahin karava sakate

और जवाब सुनें

bolkar speaker
मोदी सरकार की ऐसी कौन सी मजबूरी है जो कुछ आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रही है?Modi Sarkar Ki Esi Kon Si Majburi Hai Jo Mutthi Bhar Andolankariyo Par Lagaam Nahi Lga Pa Rahi Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:38

bolkar speaker
मोदी सरकार की ऐसी कौन सी मजबूरी है जो कुछ आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रही है?Modi Sarkar Ki Esi Kon Si Majburi Hai Jo Mutthi Bhar Andolankariyo Par Lagaam Nahi Lga Pa Rahi Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:58
आपका प्रश्न है कि मुट्ठी भर आंदोलनकारियों पर लगाम मोदी सरकार की ऐसी कौन सी मजबूरी है जो मुट्ठी भर आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रही है देखिए मोदी सरकार बहुत सशक्त सरकार है लेकिन यह आप भी जानते हैं कि जब हमारे घर में हमारे परिवार में अगर किसी बात को लेकर के अगर झगड़ा हो रहा हो और हमारे परिवार के किसी सदस्य को अगर पड़ोसी शहर दे रहा हूं पड़ोसी अगर भड़का रहा पड़ोसी उसके पीछे बहुत बड़ा षड्यंत्र रच रहा है पड़ोसी किसी षड्यंत्र के माध्यम से आपके परिवार को बर्बाद करने पर तोला तब भी आप अगर घर के बड़े हैं तो आप अपने घर के सदस्य को समझाएंगे बुझायेंगे ना कि पर किसी तरह का आर करेंगे ना कि उसके साथ में कोई क्रूरता करेंगे ठीक यही आज मोदी सरकार के साथ पूरा क्योंकि जो ऐसे आंदोलनकारी हैं जो षड्यंत्र कारी हैं जो देश विरोधी लोग हैं वह वास्तव में सामने नहीं आ रहे वह पीठ पीछे किसानों के पीठ पीछे उनके उनके कंधे पर बंदूक रखकर के इस देश को नीचे गिराने का प्रयास कर रहे हैं यहां की जनता को यहां के भोले-भाले किसानों को भड़का करके भ्रमित करके उनको देश विरोधी कार्यो के लिए उनका इस्तेमाल कर और यही बहुत बड़ी समस्या है कि सरकार अगर कोई कठोर कदम उठाती है तो उसके आगे किसान खड़ा दिखाई दे रहा है वह किसान हमारा अन्नदाता है वह किसान हमारे ही देश का नागरिक है और वह किसान हमारे ही समाज का हिस्सा है सरकार उनके साथ बहुत कठोरता से पेश नहीं आना चाहती लेकिन दुर्भाग्य यह है कि कुछ किसान इस बात को नहीं समझ पा रहे हैं कि वह ऐसे आतंकवादियों ने आगे ऐसे जो देश विरोधी तत्व हैं उनके हाथों में कहीं न कहीं जाने अनजाने इस्तेमाल हो रहे हैं यह बहुत बड़ा दुर्भाग्य है और यही कारण है कि इन मुट्ठी भर आंदोलनकारियों पर सरकार की मजबूरी कुछ नहीं है पर इसी वजह से लगाम नहीं लगा पा मैं समझता हूं देश का वास्तविक किसान इसको समझेगा क्योंकि यह बिल खराब नहीं है यह सिर्फ माहौल बनाया गया है यह भ्रमित किया गया है किसानों को भड़काया गए इसमें राजनीति की जा रही है इसमें अंतरराष्ट्रीय षड्यंत्रकारी तत्व शामिल है मेरे समझ में यही चीज वास्तविक है और यही मजबूरी है धन्यवाद
Aapaka prashn hai ki mutthee bhar aandolanakaariyon par lagaam modee sarakaar kee aisee kaun see majabooree hai jo mutthee bhar aandolanakaariyon par lagaam nahin laga pa rahee hai dekhie modee sarakaar bahut sashakt sarakaar hai lekin yah aap bhee jaanate hain ki jab hamaare ghar mein hamaare parivaar mein agar kisee baat ko lekar ke agar jhagada ho raha ho aur hamaare parivaar ke kisee sadasy ko agar padosee shahar de raha hoon padosee agar bhadaka raha padosee usake peechhe bahut bada shadyantr rach raha hai padosee kisee shadyantr ke maadhyam se aapake parivaar ko barbaad karane par tola tab bhee aap agar ghar ke bade hain to aap apane ghar ke sadasy ko samajhaenge bujhaayenge na ki par kisee tarah ka aar karenge na ki usake saath mein koee kroorata karenge theek yahee aaj modee sarakaar ke saath poora kyonki jo aise aandolanakaaree hain jo shadyantr kaaree hain jo desh virodhee log hain vah vaastav mein saamane nahin aa rahe vah peeth peechhe kisaanon ke peeth peechhe unake unake kandhe par bandook rakhakar ke is desh ko neeche giraane ka prayaas kar rahe hain yahaan kee janata ko yahaan ke bhole-bhaale kisaanon ko bhadaka karake bhramit karake unako desh virodhee kaaryo ke lie unaka istemaal kar aur yahee bahut badee samasya hai ki sarakaar agar koee kathor kadam uthaatee hai to usake aage kisaan khada dikhaee de raha hai vah kisaan hamaara annadaata hai vah kisaan hamaare hee desh ka naagarik hai aur vah kisaan hamaare hee samaaj ka hissa hai sarakaar unake saath bahut kathorata se pesh nahin aana chaahatee lekin durbhaagy yah hai ki kuchh kisaan is baat ko nahin samajh pa rahe hain ki vah aise aatankavaadiyon ne aage aise jo desh virodhee tatv hain unake haathon mein kaheen na kaheen jaane anajaane istemaal ho rahe hain yah bahut bada durbhaagy hai aur yahee kaaran hai ki in mutthee bhar aandolanakaariyon par sarakaar kee majabooree kuchh nahin hai par isee vajah se lagaam nahin laga pa main samajhata hoon desh ka vaastavik kisaan isako samajhega kyonki yah bil kharaab nahin hai yah sirph maahaul banaaya gaya hai yah bhramit kiya gaya hai kisaanon ko bhadakaaya gae isamen raajaneeti kee ja rahee hai isamen antararaashtreey shadyantrakaaree tatv shaamil hai mere samajh mein yahee cheej vaastavik hai aur yahee majabooree hai dhanyavaad

bolkar speaker
मोदी सरकार की ऐसी कौन सी मजबूरी है जो कुछ आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रही है?Modi Sarkar Ki Esi Kon Si Majburi Hai Jo Mutthi Bhar Andolankariyo Par Lagaam Nahi Lga Pa Rahi Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:43
तारक बस ने मोदी सरकार की ऐसी कौन सी मजबूरी है जो मुट्ठी मार आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रही हैं तो आपको बता दें कि थी कि मोदी सरकार यहां पर जो लगा नहीं लगा पा रही है क्योंकि जो पदाधिकारी हैं उनको पॉलिटिकल सपोर्ट प्राप्त एवरीवन अब तो इंटरनेशनल लेवल पर वह अपनी बात कर ले गए हैं लोगों के रिहाना मिया खलीफा इन जसलोक स्वीट्स आने लग गए हैं उनके सपोर्ट में तो बात काफी आगे बढ़ चुकी है इन फैक्ट सुप्रीम कोर्ट में भी मामला लंबित है इस पर बहुत ज्यादा कमेंट करने की चीज बची नहीं है आपके कह रहे हैं इस बारे में कमेंट सेक्शन है अपनी राय जरुर व्यक्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Taarak bas ne modee sarakaar kee aisee kaun see majabooree hai jo mutthee maar aandolanakaariyon par lagaam nahin laga pa rahee hain to aapako bata den ki thee ki modee sarakaar yahaan par jo laga nahin laga pa rahee hai kyonki jo padaadhikaaree hain unako politikal saport praapt evareevan ab to intaraneshanal leval par vah apanee baat kar le gae hain logon ke rihaana miya khaleepha in jasalok sveets aane lag gae hain unake saport mein to baat kaaphee aage badh chukee hai in phaikt supreem kort mein bhee maamala lambit hai is par bahut jyaada kament karane kee cheej bachee nahin hai aapake kah rahe hain is baare mein kament sekshan hai apanee raay jarur vyakt karen meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
मोदी सरकार की ऐसी कौन सी मजबूरी है जो कुछ आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रही है?Modi Sarkar Ki Esi Kon Si Majburi Hai Jo Mutthi Bhar Andolankariyo Par Lagaam Nahi Lga Pa Rahi Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:47
कव्वाली है कि मोदी सरकार की ऐसी कौन सी मजबूरी है जो मुट्ठी भर आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रही है तो फिलहाल है परिस्थिति ऐसी बन चुके बन चुकी है कितना तो किसान अपनी मांग के पीछे हटने के लिए तैयार है और ना ही सरकार पीछे हटने के लिए तैयार है दोनों अपनी-अपनी जगहों पर अड़े हुए हैं एक तरफ किसान अहिंसा के मार्ग पर अपनी मांगों को पूरी करवाने की कोशिश कर रहे हैं दूसरी तरफ सरकार किसानों के पक्षों को सुनने के लिए बिल्कुल तैयार नहीं है तो सरकारी है नहीं चाहती किसी कठोर निर्णय से कोई खून खराबा हो या हिंसा भड़के तो दोनों ही अपनी अपनी जगह सही है देखते हैं इस परिस्थिति में सरकार की जीत होती है किसानों की
Kavvaalee hai ki modee sarakaar kee aisee kaun see majabooree hai jo mutthee bhar aandolanakaariyon par lagaam nahin laga pa rahee hai to philahaal hai paristhiti aisee ban chuke ban chukee hai kitana to kisaan apanee maang ke peechhe hatane ke lie taiyaar hai aur na hee sarakaar peechhe hatane ke lie taiyaar hai donon apanee-apanee jagahon par ade hue hain ek taraph kisaan ahinsa ke maarg par apanee maangon ko pooree karavaane kee koshish kar rahe hain doosaree taraph sarakaar kisaanon ke pakshon ko sunane ke lie bilkul taiyaar nahin hai to sarakaaree hai nahin chaahatee kisee kathor nirnay se koee khoon kharaaba ho ya hinsa bhadake to donon hee apanee apanee jagah sahee hai dekhate hain is paristhiti mein sarakaar kee jeet hotee hai kisaanon kee

bolkar speaker
मोदी सरकार की ऐसी कौन सी मजबूरी है जो कुछ आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रही है?Modi Sarkar Ki Esi Kon Si Majburi Hai Jo Mutthi Bhar Andolankariyo Par Lagaam Nahi Lga Pa Rahi Hai
RAJESH KUMAR PANDEY Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए RAJESH जी का जवाब
Director of Study Gateway+
1:00
दीपक न्यूज़ मोदी सरकार कैसे ऐसी कौन सी मजबूरी है जो कुछ आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रही है सरकार की मजबूरी है यह है कि वह सरकार किसान बिल वापस ले लेगी तो फिर बाकी के विकास में धारा 370 इन आर सी सी डब्ल्यू जे सी शपथ इंस्ट्रक्शन तुरंत शुरू हो जाएंगे मजबूरी यह मोदी सरकार की लुगाई की लिस्ट को लेकर दे दे इसमें कोई गुनाह नहीं है लेकिन एमएसपी के लिए उसके बाद आंदोलन होना चाहिए सरकार के समय जो मोदी गवर्नमेंट है वह कंपनियों को बेच रही है गलत चीज है जो कमेंट जमा करा दी गई है लेकिन सी मोटर की कटौती कर रही है यह भी गलत है कुछ चीजें गलत है उसका विरोध होना चाहिए दूध का तरीका सही होना चाहिए बस यही है कि हमारे देश के जो जनधन कनेक्शन नाव सरकारी संपत्ति को नुकसान ना हो क्योंकि वह भी आम जनता के पैसों से ही बना हुआ है
Deepak nyooz modee sarakaar kaise aisee kaun see majabooree hai jo kuchh aandolanakaariyon par lagaam nahin laga pa rahee hai sarakaar kee majabooree hai yah hai ki vah sarakaar kisaan bil vaapas le legee to phir baakee ke vikaas mein dhaara 370 in aar see see dablyoo je see shapath instrakshan turant shuroo ho jaenge majabooree yah modee sarakaar kee lugaee kee list ko lekar de de isamen koee gunaah nahin hai lekin emesapee ke lie usake baad aandolan hona chaahie sarakaar ke samay jo modee gavarnament hai vah kampaniyon ko bech rahee hai galat cheej hai jo kament jama kara dee gaee hai lekin see motar kee katautee kar rahee hai yah bhee galat hai kuchh cheejen galat hai usaka virodh hona chaahie doodh ka tareeka sahee hona chaahie bas yahee hai ki hamaare desh ke jo janadhan kanekshan naav sarakaaree sampatti ko nukasaan na ho kyonki vah bhee aam janata ke paison se hee bana hua hai

bolkar speaker
मोदी सरकार की ऐसी कौन सी मजबूरी है जो कुछ आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रही है?Modi Sarkar Ki Esi Kon Si Majburi Hai Jo Mutthi Bhar Andolankariyo Par Lagaam Nahi Lga Pa Rahi Hai
KAUSHAL KUMAR SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए KAUSHAL जी का जवाब
Gmind institute
1:58
देखें जरा पिछले 2 महीने के घटनाक्रम को बारीकी से अध्ययन करेंगे तो आपको सारी चीजें स्पष्ट दिखाई देगी मोदी सरकार की कौन सी मजबूरी है कि आंदोलनकारियों पर लगाम नहीं लगा उस सबसे पहले जो मजबूरी नहीं है उस पे समझ लेते हैं भारत सरकार ने 12 रावण की बातचीत किसानों से की लेकिन उसके बाद भी कोई फैसला नहीं निकला हालांकि लगभग बातें सरकार ने मान ली है अब सरकार को नीचा दिखाने के लिए जब सारी मांगे मान ली जाएंगे तो किसान आंदोलन को विपक्ष की पार्टियां बढ़ावा दे रही हैं और तमाम अभी आपने देखा होगा कि जो ग्रुप है खालिस्तान समर्थक और तमाम ऐसे संगठन जो है उसका हिस्सा थे जो कि गलत तरीके से आंदोलन को आगे बढ़ा रहे थे तो मैं उस पर नहीं जाना चाहूंगा लेकिन सरकार ने लाल किले पर जो हुआ उस समय यह था कि यह किसान है और किसानों के सरकार को समर्थन देना चाहिए और सही बात भी है लेकिन लाल किले की घटना के बाद जिस तरह से गुड्डन को आंदोलन हुआ 400 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हुए उसके बाद से सरकार ने सिंधु बॉर्डर पर जहां पर किए आंदोलन चल रहा था वहां पर बैरिकेडिंग की और तार लगाए तो उसके बाद यह सरकार के ऊपर प्रश्नचिन्ह उठने लगा कि सरकार तो इन किसानों के साथ आतंकवादियों जैसा घुसपैठियों जैसा व्यवहार कर रही है तो सरकार अगर कुछ करती है तो उसके ऊपर यह आरोप लगता है नहीं करती है तो सरकार गलत है और सरकार दुख रही है तो देखिए आलोचना करना हर आदमी का कर्तव्य है लेकिन गलत तरीके से सरकार को रिप्रेजेंट करना आलोचना करना वह सही नहीं किसान का बिल्कुल अधिकार है और उनको अपने राइट के लिए प्रदर्शन करने का भी अधिकार है लेकिन गलत तरीके से नहीं उसको सही तरीके से प्रदर्शन करें और सरकार को दबाव में लेने के लिए जो जायज मांगे हैं उन पर सैद्धांतिक रूप से सरकार से बात करें
Dekhen jara pichhale 2 maheene ke ghatanaakram ko baareekee se adhyayan karenge to aapako saaree cheejen spasht dikhaee degee modee sarakaar kee kaun see majabooree hai ki aandolanakaariyon par lagaam nahin laga us sabase pahale jo majabooree nahin hai us pe samajh lete hain bhaarat sarakaar ne 12 raavan kee baatacheet kisaanon se kee lekin usake baad bhee koee phaisala nahin nikala haalaanki lagabhag baaten sarakaar ne maan lee hai ab sarakaar ko neecha dikhaane ke lie jab saaree maange maan lee jaenge to kisaan aandolan ko vipaksh kee paartiyaan badhaava de rahee hain aur tamaam abhee aapane dekha hoga ki jo grup hai khaalistaan samarthak aur tamaam aise sangathan jo hai usaka hissa the jo ki galat tareeke se aandolan ko aage badha rahe the to main us par nahin jaana chaahoonga lekin sarakaar ne laal kile par jo hua us samay yah tha ki yah kisaan hai aur kisaanon ke sarakaar ko samarthan dena chaahie aur sahee baat bhee hai lekin laal kile kee ghatana ke baad jis tarah se guddan ko aandolan hua 400 se adhik pulisakarmee ghaayal hue usake baad se sarakaar ne sindhu bordar par jahaan par kie aandolan chal raha tha vahaan par bairikeding kee aur taar lagae to usake baad yah sarakaar ke oopar prashnachinh uthane laga ki sarakaar to in kisaanon ke saath aatankavaadiyon jaisa ghusapaithiyon jaisa vyavahaar kar rahee hai to sarakaar agar kuchh karatee hai to usake oopar yah aarop lagata hai nahin karatee hai to sarakaar galat hai aur sarakaar dukh rahee hai to dekhie aalochana karana har aadamee ka kartavy hai lekin galat tareeke se sarakaar ko riprejent karana aalochana karana vah sahee nahin kisaan ka bilkul adhikaar hai aur unako apane rait ke lie pradarshan karane ka bhee adhikaar hai lekin galat tareeke se nahin usako sahee tareeke se pradarshan karen aur sarakaar ko dabaav mein lene ke lie jo jaayaj maange hain un par saiddhaantik roop se sarakaar se baat karen

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मोदी सरकार ने अब तक क्या क्या काम किया है .. मोदी सरकार को भाजपा सरकार क्यों नहीं बोला जाता है ?
URL copied to clipboard