#जीवन शैली

bolkar speaker

ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे?

Jyada Gyaan Aur Jyada Samajh Bhe Humare Lie Hanikarak Hoti Hai Kaise
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:07
तो आज आप का सवाल है कि ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे जितना भी मिले तो आ जाता है की कमी पड़ जाता है तो जितना भीम नॉलेज अगर ले रहे हैं तो यह सही होता है और अच्छा भी होता है क्योंकि जरूरी नहीं होता है क्या हर एक चीज हर एक बड़ी के बारे में हर चीज जानते हो तो सिर्फ आपको नॉलेज ना ही कंपनी आपको जानने की जिज्ञासा भी होती है और आप जाने के क्वेश्चन पर करते हैं और आप नॉलेज की भी करते हैं लेकिन किसी इंसान को लगता है कि नहीं उसे ज्ञान तरफ से मर चुका तो कभी कदार ओवर कॉन्फिडेंस नहीं हो जाता है जिसकी वजह से वह किसी की नहीं सुनता है और ना ही समझता नहीं जाने की कोशिश करता है वह गलत भी है तो यह तो एक हो जाता है दूसरा क्या होता है जब हमें किसी चीज के बारे में ज्यादा पढ़ लेते ज्यादा नॉलेज ज्यादा ज्ञान हो जाता है तो कभी कदार जैसे की हमारे मम्मी पापा कैसे पढ़े लिखे हैं तू कभी कदार इमोशनली और मतलब वह जिस तरह से मैं कोई भी चीज बोल दिया समझाते अपनी फ्रेंड के साथ से में भी वह हमारी किताब या फिर हम जितना पढ़े लिखे हैं उस चीज में वह चीज नहीं लेकिन मैं भी अपनी तरफ से बोल रहे थे ज्यादा कमेंट करते हैं वहां पर लेकिन ऐसा होता आपको कुछ भी नहीं पता तो यहां पर रिलेशन भी खराब होता है मम्मी पापा के साथ इनके साथ भी हम इस चीज को लेकर बहस करते हैं उनके साथ रिलेशन भी खराब होता है और मतलब उन्हें भी बुरा लगता है और मैं भी बाद में मैं पता भी चल सकता है कि हम गलत तो बाद में पछताना कभी कदर क्या होता है कि किसी एक का दिल रखने के लिए प्ले समय वहां पर समझना पड़ता है कि नहीं मैं भी वह अपनी फ्रेंड के हिसाब से सही हो सकता है और अगर वह हमसे इतना बड़ा को समझा दो ठीक है सब बोलने देते लेकिन जब आपको ज्यादा ज्ञान हो जाता किसी को बोलने नहीं देता सिर्फ आप अपनी बात रखते और आपको लगता है क्या आपकी सही है तो यह बहुत मतलब बार ऐसा होता है लेकिन कहा जाता है कि जिन नागिन करना चाहिए कभी खुद को यह नहीं सोचना चाहिए कि मुझे बहुत कुछ पता है तो हमेशा मैं ही सही हूं
To aaj aap ka savaal hai ki jyaada gyaan aur jyaada samajh bhee hamaare lie haanikaarak hotee hai kaise jitana bhee mile to aa jaata hai kee kamee pad jaata hai to jitana bheem nolej agar le rahe hain to yah sahee hota hai aur achchha bhee hota hai kyonki jarooree nahin hota hai kya har ek cheej har ek badee ke baare mein har cheej jaanate ho to sirph aapako nolej na hee kampanee aapako jaanane kee jigyaasa bhee hotee hai aur aap jaane ke kveshchan par karate hain aur aap nolej kee bhee karate hain lekin kisee insaan ko lagata hai ki nahin use gyaan taraph se mar chuka to kabhee kadaar ovar konphidens nahin ho jaata hai jisakee vajah se vah kisee kee nahin sunata hai aur na hee samajhata nahin jaane kee koshish karata hai vah galat bhee hai to yah to ek ho jaata hai doosara kya hota hai jab hamen kisee cheej ke baare mein jyaada padh lete jyaada nolej jyaada gyaan ho jaata hai to kabhee kadaar jaise kee hamaare mammee paapa kaise padhe likhe hain too kabhee kadaar imoshanalee aur matalab vah jis tarah se main koee bhee cheej bol diya samajhaate apanee phrend ke saath se mein bhee vah hamaaree kitaab ya phir ham jitana padhe likhe hain us cheej mein vah cheej nahin lekin main bhee apanee taraph se bol rahe the jyaada kament karate hain vahaan par lekin aisa hota aapako kuchh bhee nahin pata to yahaan par rileshan bhee kharaab hota hai mammee paapa ke saath inake saath bhee ham is cheej ko lekar bahas karate hain unake saath rileshan bhee kharaab hota hai aur matalab unhen bhee bura lagata hai aur main bhee baad mein main pata bhee chal sakata hai ki ham galat to baad mein pachhataana kabhee kadar kya hota hai ki kisee ek ka dil rakhane ke lie ple samay vahaan par samajhana padata hai ki nahin main bhee vah apanee phrend ke hisaab se sahee ho sakata hai aur agar vah hamase itana bada ko samajha do theek hai sab bolane dete lekin jab aapako jyaada gyaan ho jaata kisee ko bolane nahin deta sirph aap apanee baat rakhate aur aapako lagata hai kya aapakee sahee hai to yah bahut matalab baar aisa hota hai lekin kaha jaata hai ki jin naagin karana chaahie kabhee khud ko yah nahin sochana chaahie ki mujhe bahut kuchh pata hai to hamesha main hee sahee hoon

और जवाब सुनें

bolkar speaker
ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे?Jyada Gyaan Aur Jyada Samajh Bhe Humare Lie Hanikarak Hoti Hai Kaise
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
3:56
कभी गुस्सा तक सही सोच है आपकी अति हर चीज की हानिकारक होती है अति भोजन भी हानिकारक होता है बिना परामर्श के अत्यंत बड़ी मात्रा में दी हुई दवाई भी हानिकारक होती है जो दवाई जो सही मात्रा में दी जाए डॉक्टर की परामर्श दी जाए वह दवाई आपके जीवन रक्षक होती है लेकिन भाई दवाई बिना परामर्श के अधिक मात्रा में लेने पर आपका जीवन भी समाप्त कर सकती है ठीक इसी प्रकार अधिक ज्ञान अधिक समझदारी भी अभिमान उत्पन्न कर देता है और अभिमान हमेशा ही हानिकारक होता है इसलिए हर समझदार व्यक्ति हर ज्ञानी व्यक्ति अपने आपको हमेशा ज्ञानी मानता है अपूर्ण मानता है और यह एकदम कटु सत्य है कि संसार में पूर्ण ज्ञानी पूर्व सरपंच पूर्व समझदार तो मात्र एक गोविंद है बाकी और कोई नहीं क्योंकि भगवान ही पूर्ण है बाकी मानव सभी अपूर्ण है हमेशा उन्हें पूर्ण थे अब उन्हें अपूर्ण रहेगा लेकिन यह तुच्छ मानव थोड़ी सी ज्ञान को पाकर कि अपने आप में मदान दो जाता है अभिमान में फूल जाता है परिणाम स्वरूप व्यक्तियों को करने लगता है एग्जांपल देखिए आप रावण को केवल आप राक्षस की ना माने रावण रावण इतना बड़ा तपस्वी था कि भगवान शिव जी भगवान ब्रह्मा जी की आराधना करके कितने वरदान प्राप्त किए थे वह समझदारी से काम लेता अभिमान से सुनी हो जाता तो आज वह संसार में बंद नहीं होता स्तुति होता लेकिन उसने तपस्या को प्राप्त कर के प्रधानों का मिस यूज किया परिणाम स्वरूप उसकी समस्त तपस्या है उसका समस्त ज्ञान भी उसे बचा नहीं सका और आगरा जो संसार में कुख्यात एक दानव के रूप में एक राक्षस के रूप में याद किया जाता है इसलिए एक समझदार व्यक्ति को अपने आप को पूर्ण मानते हुए हमेशा ज्ञान अर्जन करने में की ओर प्रयासरत रहना चाहिए हिमांशु ही रहना चाहिए जो जितना अधिक पर नंबर है उतना ही अधिक स्तुत्य हैं सम्मानीय हैं और वंदनीय है वह उतना ही बड़ा ज्ञानी है तुमने नदियों में बाढ़ आती हुए देखे देखा हुआ जो साल भर की रहती हैं उनमें बरसात का पानी आ जाता है और वह बारात लेकर के बाद का रूप लेकर के अपार जनधन की हानि करती हैं विनाश ओपन कर देती हैं लेकिन इन समस्त नदियों का पानी समुद्र में समा जाता है शब्दों में कभी बढ़ाते हुए अपने नहीं सुनाऊंगा क्योंकि समुद्र में आग आता है जो जितना आघात है जो जितना सहनशीलता जो जितना भी नंबर है जो जितना उधार है जो जितना क्षमाशील है वही महान है
Kabhee gussa tak sahee soch hai aapakee ati har cheej kee haanikaarak hotee hai ati bhojan bhee haanikaarak hota hai bina paraamarsh ke atyant badee maatra mein dee huee davaee bhee haanikaarak hotee hai jo davaee jo sahee maatra mein dee jae doktar kee paraamarsh dee jae vah davaee aapake jeevan rakshak hotee hai lekin bhaee davaee bina paraamarsh ke adhik maatra mein lene par aapaka jeevan bhee samaapt kar sakatee hai theek isee prakaar adhik gyaan adhik samajhadaaree bhee abhimaan utpann kar deta hai aur abhimaan hamesha hee haanikaarak hota hai isalie har samajhadaar vyakti har gyaanee vyakti apane aapako hamesha gyaanee maanata hai apoorn maanata hai aur yah ekadam katu saty hai ki sansaar mein poorn gyaanee poorv sarapanch poorv samajhadaar to maatr ek govind hai baakee aur koee nahin kyonki bhagavaan hee poorn hai baakee maanav sabhee apoorn hai hamesha unhen poorn the ab unhen apoorn rahega lekin yah tuchchh maanav thodee see gyaan ko paakar ki apane aap mein madaan do jaata hai abhimaan mein phool jaata hai parinaam svaroop vyaktiyon ko karane lagata hai egjaampal dekhie aap raavan ko keval aap raakshas kee na maane raavan raavan itana bada tapasvee tha ki bhagavaan shiv jee bhagavaan brahma jee kee aaraadhana karake kitane varadaan praapt kie the vah samajhadaaree se kaam leta abhimaan se sunee ho jaata to aaj vah sansaar mein band nahin hota stuti hota lekin usane tapasya ko praapt kar ke pradhaanon ka mis yooj kiya parinaam svaroop usakee samast tapasya hai usaka samast gyaan bhee use bacha nahin saka aur aagara jo sansaar mein kukhyaat ek daanav ke roop mein ek raakshas ke roop mein yaad kiya jaata hai isalie ek samajhadaar vyakti ko apane aap ko poorn maanate hue hamesha gyaan arjan karane mein kee or prayaasarat rahana chaahie himaanshu hee rahana chaahie jo jitana adhik par nambar hai utana hee adhik stuty hain sammaaneey hain aur vandaneey hai vah utana hee bada gyaanee hai tumane nadiyon mein baadh aatee hue dekhe dekha hua jo saal bhar kee rahatee hain unamen barasaat ka paanee aa jaata hai aur vah baaraat lekar ke baad ka roop lekar ke apaar janadhan kee haani karatee hain vinaash opan kar detee hain lekin in samast nadiyon ka paanee samudr mein sama jaata hai shabdon mein kabhee badhaate hue apane nahin sunaoonga kyonki samudr mein aag aata hai jo jitana aaghaat hai jo jitana sahanasheelata jo jitana bhee nambar hai jo jitana udhaar hai jo jitana kshamaasheel hai vahee mahaan hai

bolkar speaker
ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे?Jyada Gyaan Aur Jyada Samajh Bhe Humare Lie Hanikarak Hoti Hai Kaise
Manish Bhati Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Manish जी का जवाब
Life coach, professional counsellor & Relationship expert. Fitness & Motivational Coach
1:45
नमस्कार जैसा क्या वह कोष में ज्यादा ध्यान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए नुकसान होती है कैसे देखो हमारे रियल लाइफ से भी अटैच किसी को सजेस्ट करते रहते हैं काफी उस चीज को मानने में कोई ना माने लेकिन फिर भी आप एक ऐसे यानी हो जाते हैं कि आप सबको बोल सकते हैं आप ऐसा कीजिए सर जी यह भी एक हमारे लिए हानिकारक की वादा कोई हमें बुरा बुरा बोलता है कि मैं आपको यह बताना काफी अच्छी नॉलेज शेख टीवी चैनल्स में कॉफी क्राइम पेट्रोल सावधान इंडिया वगैरा कैसे एपिसोड अध्ययन सीआईडी वगैरा तो काफी दिन है क्या करते हैं जिनमें से 6 घंटे या 700 घंटे देरी से बहुत करती है एपिसोड को ठीक है हर किसी को शक की नजर से देखते हैं जो 8 घंटे क्राइम पेट्रोल सावधान इंडिया सीआईडी यह कोई भी एपिसोड चाहते हैं कि क्राइम के रिलेटेड उनको देखते रहते हैं तो यह देखा जाए तो एक अच्छा भी है लेकिन तब दिल्ली भेज दो देख रहे हो तो बाप की एक सोचने का नजरिया वैसा ही होता जाता है तो इस वजह से मैं यह कहना चाहता हूं आप ज्यादा समझ हो ज्यादा यानी हमारे बॉडी और हमारे स्वास्थ्य और हमारे समाज के लिए नुकसानदायक हो सकती है मैसेज धन्यवाद
Namaskaar jaisa kya vah kosh mein jyaada dhyaan aur jyaada samajh bhee hamaare lie nukasaan hotee hai kaise dekho hamaare riyal laiph se bhee ataich kisee ko sajest karate rahate hain kaaphee us cheej ko maanane mein koee na maane lekin phir bhee aap ek aise yaanee ho jaate hain ki aap sabako bol sakate hain aap aisa keejie sar jee yah bhee ek hamaare lie haanikaarak kee vaada koee hamen bura bura bolata hai ki main aapako yah bataana kaaphee achchhee nolej shekh teevee chainals mein kophee kraim petrol saavadhaan indiya vagaira kaise episod adhyayan seeaeedee vagaira to kaaphee din hai kya karate hain jinamen se 6 ghante ya 700 ghante deree se bahut karatee hai episod ko theek hai har kisee ko shak kee najar se dekhate hain jo 8 ghante kraim petrol saavadhaan indiya seeaeedee yah koee bhee episod chaahate hain ki kraim ke rileted unako dekhate rahate hain to yah dekha jae to ek achchha bhee hai lekin tab dillee bhej do dekh rahe ho to baap kee ek sochane ka najariya vaisa hee hota jaata hai to is vajah se main yah kahana chaahata hoon aap jyaada samajh ho jyaada yaanee hamaare bodee aur hamaare svaasthy aur hamaare samaaj ke lie nukasaanadaayak ho sakatee hai maisej dhanyavaad

bolkar speaker
ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे?Jyada Gyaan Aur Jyada Samajh Bhe Humare Lie Hanikarak Hoti Hai Kaise
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:35
सारे की ज्यादा ज्ञान होगा तो समझ भी हमारे लिए हानिकारक होता है कैसे निश्चित तौर पर है सीरियस बात कही है हद से ज्यादा किसी भी चीज के बारे में ज्ञान होना आपके लिए नुकसानदेह हो सकता है क्योंकि अगर कभी किसी चीज के बारे में आपको नॉलेज नहीं होती है तो आप उसके लिए दूसरे के पास में जाते हैं या किसी ने कुछ सजेस्ट किया है तो आप उस बात को मानते हैं और आपको अक्सर उसका फायदा भी देखने को मिलता है लेकिन किसी भी चीज के बारे में यदि आपको हद से ज्यादा ज्ञान पहले से ही होगा तो आप दूसरों की बातों को ना सुनते हुए ना मानते हुए अपने ही चलाएंगे और जिसकी वजह से आपको से कौन सीक्वेंसेस भी भुगतने पड़ेंगे आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Saare kee jyaada gyaan hoga to samajh bhee hamaare lie haanikaarak hota hai kaise nishchit taur par hai seeriyas baat kahee hai had se jyaada kisee bhee cheej ke baare mein gyaan hona aapake lie nukasaanadeh ho sakata hai kyonki agar kabhee kisee cheej ke baare mein aapako nolej nahin hotee hai to aap usake lie doosare ke paas mein jaate hain ya kisee ne kuchh sajest kiya hai to aap us baat ko maanate hain aur aapako aksar usaka phaayada bhee dekhane ko milata hai lekin kisee bhee cheej ke baare mein yadi aapako had se jyaada gyaan pahale se hee hoga to aap doosaron kee baaton ko na sunate hue na maanate hue apane hee chalaenge aur jisakee vajah se aapako se kaun seekvenses bhee bhugatane padenge aapaka din shubh rahe dhanyavaad

bolkar speaker
ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे?Jyada Gyaan Aur Jyada Samajh Bhe Humare Lie Hanikarak Hoti Hai Kaise
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:01
अज्ञान और ज्यादा समाज भी हमारे लिए हानिकारक होती है क्या अच्छे दोस्तों यह तो आपके विचार है कि नहीं रहता कि 70 सोचते हैं ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझदार हो तो हमारे लिए हानिकारक नहीं होती है यह आपके लिए फायदेमंद होती है यदि आपके पास ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ जाते फायदेमंद है कुछ ज्यादा ही ज्ञान और ज्यादा ही समझ है तो लोग आपके पास कुछ ज्यादा तादाद में आएंगे आपके पास राय लेने ऐसे समय में आपके दोस्तों जो आपको जो फैमिली का टाइम है या कुछ और अपना गृहस्ती जीवन अपने संबंधियों के साथ मुलाकात का समय से आप पीछे हट जाएंगे अन्यथा जो है आपकी जो समाज के अंदर देखे तो इज्जत तो खाती होगी क्योंकि हर काम के लिए आपको जो लोग पहले मुझे क्योंकि आपके अंदर ज्यादा ज्ञान है ज्यादा समय हानिकारक तत्व से चली है कि आपका जो समय वह लोगों के मसले सुलझाने में लगा हुआ होगा लोगों को नसीहत देने में लग जाएगा और हनी तो कुछ नहीं है
Agyaan aur jyaada samaaj bhee hamaare lie haanikaarak hotee hai kya achchhe doston yah to aapake vichaar hai ki nahin rahata ki 70 sochate hain jyaada gyaan aur jyaada samajhadaar ho to hamaare lie haanikaarak nahin hotee hai yah aapake lie phaayademand hotee hai yadi aapake paas jyaada gyaan aur jyaada samajh jaate phaayademand hai kuchh jyaada hee gyaan aur jyaada hee samajh hai to log aapake paas kuchh jyaada taadaad mein aaenge aapake paas raay lene aise samay mein aapake doston jo aapako jo phaimilee ka taim hai ya kuchh aur apana grhastee jeevan apane sambandhiyon ke saath mulaakaat ka samay se aap peechhe hat jaenge anyatha jo hai aapakee jo samaaj ke andar dekhe to ijjat to khaatee hogee kyonki har kaam ke lie aapako jo log pahale mujhe kyonki aapake andar jyaada gyaan hai jyaada samay haanikaarak tatv se chalee hai ki aapaka jo samay vah logon ke masale sulajhaane mein laga hua hoga logon ko naseehat dene mein lag jaega aur hanee to kuchh nahin hai

bolkar speaker
ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे?Jyada Gyaan Aur Jyada Samajh Bhe Humare Lie Hanikarak Hoti Hai Kaise
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:27
सवाल है कि ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ में हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे तू जब हमें ज्यादा ज्ञान हो जाता है तो हमारे अंदर घमंड आ जाता है और हम अपने सामने वाले को कुछ नहीं समझते अपने आगे ज्यादा ज्ञान होने से हम आगे और कुछ नहीं देखना चाहते हमें लगता है कि हमारे पास जितना है बहुत ज्यादा है और ज्यादा समझ होने से हम कहीं ना कहीं लाइफ को एंजॉय करना भूल जाते हैं
Savaal hai ki jyaada gyaan aur jyaada samajh mein hamaare lie haanikaarak hotee hai kaise too jab hamen jyaada gyaan ho jaata hai to hamaare andar ghamand aa jaata hai aur ham apane saamane vaale ko kuchh nahin samajhate apane aage jyaada gyaan hone se ham aage aur kuchh nahin dekhana chaahate hamen lagata hai ki hamaare paas jitana hai bahut jyaada hai aur jyaada samajh hone se ham kaheen na kaheen laiph ko enjoy karana bhool jaate hain

bolkar speaker
ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे?Jyada Gyaan Aur Jyada Samajh Bhe Humare Lie Hanikarak Hoti Hai Kaise
Dukh kaise mite? Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
1:56
कृष्णा आप उनको से ज्यादा ज्ञान ज्यादा समझ में हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे देखो मेरे को तो मैंने ज्ञान प्राप्त किया इससे किशोर के विधान क्या है आत्मा हमारे शरीर छोड़ने के बाद कहां जाती है कैसे रहती है ईश्वर हमारी सहायता करते हैं मदद करते हैं जब मैं टेंशन था तुम्हें ईश्वर का विधान जानने की लगातार नानी तेरे तथा इस रिकॉर्ड है तो कृपा करके इसने मुझे अपनी जानकारी दी शायद की मदद की जो मैं ज्यादा ज्ञान मिला लेते तो तुम मुझे तो कुछ भी हानि नहीं हुई मुझे चला भी लागू हुआ इसमें खुद का है गीता में हेयर तूने मेरे भक्तों ज्ञान मैं देता हूं सब तेरे को ज्ञान देते तो उसे ज्ञान भौतिक चीजों की जान ज्ञान के बारे में मुझे जानकारी नहीं है कि वह उस से हानि होती है लाभ होता है लेकिन इस तरीके बारे में ज्ञान फेकना आत्मा के बारे में ज्ञान ज्ञान प्राप्त नाइस विधान के बारे में ज्ञान प्राप्त करना बिल्कुल हानिकारक नहीं है कि मेल जानकारी बिडेसिनी टेंशन से मुक्त हो गया हूं दीदी आज कितने लोग इश्क में क्या से युक्त तकलीफ पाते हैं और मैं बिल्कुल फ्री हो गया तो इस विज्ञान रात में ज्ञान तक नुकसानदायक है ही नहीं हरे कृष्ण हरे कृष्ण गोखले पेमेंट काफी हो गया फ्रूट किए उन्हें आप एक-एक ऑडियो को ध्यान पूर्वक सुने अपना जीवन सफल बनाएं कुछ विश्लेषक पूछिए इसलिए कृपा से बताऊंगा और भक्ति में आगे बढ़ते रहिए स्वस्थ रहिए वहां सर्च करेंगे तो लोकेशन बेटे का नाम से वहां सर्च कर ले आप हरे कृष्णा हरि कुछ नहीं करने का तरीका
Krshna aap unako se jyaada gyaan jyaada samajh mein hamaare lie haanikaarak hotee hai kaise dekho mere ko to mainne gyaan praapt kiya isase kishor ke vidhaan kya hai aatma hamaare shareer chhodane ke baad kahaan jaatee hai kaise rahatee hai eeshvar hamaaree sahaayata karate hain madad karate hain jab main tenshan tha tumhen eeshvar ka vidhaan jaanane kee lagaataar naanee tere tatha is rikord hai to krpa karake isane mujhe apanee jaanakaaree dee shaayad kee madad kee jo main jyaada gyaan mila lete to tum mujhe to kuchh bhee haani nahin huee mujhe chala bhee laagoo hua isamen khud ka hai geeta mein heyar toone mere bhakton gyaan main deta hoon sab tere ko gyaan dete to use gyaan bhautik cheejon kee jaan gyaan ke baare mein mujhe jaanakaaree nahin hai ki vah us se haani hotee hai laabh hota hai lekin is tareeke baare mein gyaan phekana aatma ke baare mein gyaan gyaan praapt nais vidhaan ke baare mein gyaan praapt karana bilkul haanikaarak nahin hai ki mel jaanakaaree bidesinee tenshan se mukt ho gaya hoon deedee aaj kitane log ishk mein kya se yukt takaleeph paate hain aur main bilkul phree ho gaya to is vigyaan raat mein gyaan tak nukasaanadaayak hai hee nahin hare krshn hare krshn gokhale pement kaaphee ho gaya phroot kie unhen aap ek-ek odiyo ko dhyaan poorvak sune apana jeevan saphal banaen kuchh vishleshak poochhie isalie krpa se bataoonga aur bhakti mein aage badhate rahie svasth rahie vahaan sarch karenge to lokeshan bete ka naam se vahaan sarch kar le aap hare krshna hari kuchh nahin karane ka tareeka

bolkar speaker
ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे?Jyada Gyaan Aur Jyada Samajh Bhe Humare Lie Hanikarak Hoti Hai Kaise
AFTAB ALAM Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए AFTAB जी का जवाब
Business
1:48
322 आपका सवाल है ज्यादा ध्यान होता था तब भी हमारे लिए हानिकारक होता है कि नहीं तो बिल्कुल बात नहीं सकता है इसको मैं एक छोटा सा उदाहरण की जिंदगी आपको थोड़ी सी केमिस्ट की जानकारी है आप किसी दावा की कंपनी तक के बारे में जानते हैं किसी दवा के युद्ध के बारे में जानते हैं जल के बारे में जानते हैं आप उसको क्यों करना चाहते हैं और आप किसी विशेषज्ञ से किसी डॉक्टर से अपना इलाज करा था मानते हैं कि आप यह क्या नहीं है तो आप मुझसे क्यों कर सकते हैं आप समझ में तो अगर कोई ऐसा डीपी से आपके अंदर बहुत छोटी हो आप अपने डायग्नोसिस को खुद देख कर के पानी में डूबते आप मानसिक तनाव में और भी कुछ ज्यादा परेशान हो सकते हैं क्या बीमारी हो सकती है दूसरी बात कि अगर आपको डॉक्टर ने कोई दवा भी कमेंट किया है और दवा की खासियत पहले पता नहीं थी और आपने जैसे उस दवा को देखा पता चल गया कि आपका तो यह तो यह दवाई जो है यह बीमारी में काम आता है तो आपको वहां पर वह पता चल जाएगा जिससे आप चलाओ कुछ ले जाएंगे और आप परेशान हो जाएंगे तो यह एक तरफ से है कि ज्यादा जानकारी आपको साबित कर सकती है अगर कोई डॉक्टर बीमार पड़ता है और उससे पता चलता है कि किडनी आपके जीवन में यह प्रॉब्लम है लिवर सिरोसिस है या फिर कोई बीमारी है या तो उससे वह इसको पता चल जाता है कि यह बीमारी इतने दिन में मुझे पसंद आए तो इस तरह से हम कह सकते हैं कि ज्ञान और समझ भी कभी-कभी नुकसानदायक हो सकता है अगर उनका जवाब आपको अच्छा लगा तो लाइक करें कमेंट करें और मुझे बोल करें और सब्सक्राइब कर दे

bolkar speaker
ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे?Jyada Gyaan Aur Jyada Samajh Bhe Humare Lie Hanikarak Hoti Hai Kaise
Hitesh jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Hitesh जी का जवाब
Blogger- Content Writer
2:58
कुछ बहुत अच्छा ज्यादा ज्ञान हो ज्यादा समझ में मेरे लिए हानिकारक है कि एक ऐसे ही पड़ेगा कुछ ना में जवाब दे देता हूं क्योंकि काफी कम टाइम है मेरे पास तो सबसे ज्यादा किया हो जाती है बाकी ज्यादा दोनों ज्यादा समझदार होती है तो कितने दिन बाकी जो ज्यादातर बुद्धिमान लोग होते हैं वह क्या करते हैं कि डिसीजन डिसीजन लेने में काफी वक्त लगाते हो डिसीजन ले उसके बारे में काफी सोच है कि यह होगा या नहीं होगा यह होगा तो कैसे होगा यह नहीं होगा तो कैसे नहीं होगा तो उनके मन में वह विचार चलते रहते एक छोटी सी बात को लेकर के भी वह पता है हजार सवाल खड़े कर देते तो काफी बुद्धिमान है तो उनकी वह भी जो है वह इस तरह से डेवलपर के उनको वह जो चीज है सामने पड़ी होती है वह मतलब रियालिटी में साइंटिफिक चीज है कभी उनको जल्दी मिलोगे हमको उस पर भरोसा नहीं होता है वह अपनी बुद्धिमता से सोचने का टाइम हो तब तक सोचते रहते हैं तब तक उस चीज में फंसे रहते जब तक खुद से ही खुद का रिजल्ट नहीं निकाल ले तो यह उनके सबसे बड़ी होती है बुद्धिमान लोगों की मतलब मैं कोर्ट में अगर आप को नहीं समझ में आ रहा तो मैं यह कहना चाहता हूं कि ज्यादा ज्ञान होने की वजह से क्या कि हम मेक जोक ऑफ अ डिसीजन हमें कोई छोटी सी बात पर भी जो लेना होता है वह हम नहीं ले सकते नहीं ले पाते और दूसरी बात है यह है कि कुछ होगा मतलब उनको तब तक भरोसा नहीं होता जब तक होती साइंटिफिक रोजा कुछ बुद्धिमान तो ऐसे होते की साइड इफेक्ट होने के बाद भी उनके दिमाग में कुछ ना कुछ कुछ ना कुछ चलता ही रहता है तो यह तो बड़ी कमजोरी होती है बुद्धिमान लोगों की कि वह अपने निर्णय पर अडिग नहीं देखा था जबकि जो कम समझदार लोग हैं और जिनको ज्यादा नॉलेज नहीं है कि तो क्या होता कि बुद्धिमान लोगों को नॉलेज घर जाना होता तो सबसे बड़ी तकलीफ हुई होती होंगी बहुत बुद्धिमान बन जाते हैं जैसे मान दे एकदम परेशान करे प्यार के काफी शुक्रवार लोग भी होंगे तो बुद्धिमान बन गई लेकिन मेरे जैसे समझ लीजिएगा किसी को बुरा नहीं लगे तो यह बात है कि काफी नॉलेज बढ़ाने काफी बुद्धिमान हो गए लेकिन अब वह क्या है कि अगर कोई क्वेश्चन करना है तो उसे अच्छे से आंसर देना है तो उसमें क्या मैं तुम्हें बहुत ज्यादा सोच रहा हूं अब ठीक इसी क्वेश्चन का आंसर कैसे दे सकता हूं जब कि मैंने पहले भी अच्छा सांसद ही रहा था लोग पसंद कर रहे हैं तो यहां मैं अपना एग्जांपल कर दे करके समझा आप लोगों को कि जैसे जैसे आपकी बुद्धि बढ़ती है ना वैसे वैसे क्या होता है कि आपको डिसीजन लेने में काफी कठिनाई आती क्योंकि आपकी बुद्धि हजार तरीके से चलती है उस समय की यह सही होगा या नहीं होगा आप सही टाइम पर डिसीजन नहीं ले पाते जबकि बहुत कम बुद्धिमान कम समझदार हो ज्यादा इन बातों में नहीं करते हो वह तुरंत एक्शन लेते हैं और स्ट्रेट फॉरवर्ड होते हैं वह देख लिए वह सोचते कि जो होगा देखा जाएगा तो यह दिनेश कर लिया है उनकी जितनी समझ होती है उसके रिकॉर्डिंग वह निर्णय ले लेते हो आपको जानकर यह बहुत बड़ा सदमा पहुंचेगा की जो कम समझदार लोगों से वही ज्यादा जल्दी सफल हो जाते हैं वह बुद्धिमान लोगों का क्लास में टॉप टेन ट्वेल्थ में कॉलेज में जो फर्स्ट रैंक आता था आज वह क्या कौन सी नौकरी करा 10000 की और जो पहले था वह पहले बुद्धिमानी का

bolkar speaker
ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे?Jyada Gyaan Aur Jyada Samajh Bhe Humare Lie Hanikarak Hoti Hai Kaise
mahendra meena Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए mahendra जी का जवाब
Unknown
2:58
नमस्कार मैं महेंद्र प्रताप ने सवाल किया है ज्यादा ज्ञान हो ज्यादा समझ जी हमारे लिए हानिकारक होती है ऐसे में ज्यादा ज्ञान हो जाए यदि हम उसके प्रकार करने लगे दूसरे व्यक्ति को छोटा समय लगे तो समझने लगे कमजोर समझने लगे तो वह ज्ञान ज्यादा ज्ञान भी हानिकारक हमारे लिए 239 रनों की हार जीत मसूद में पहले दिन लिमिट से है तो हमारे लिए हानिकारक नहीं है यदि कम है तो भी हानिकारक ज्यादा है तब भी हानिकारक है या दिल्ली मिर्ची माध्यम है तो हमारे लिए आने का समय अक्षरा चौधरी के द्वारा समझदार होते हुए भी ज्यादा सोचते पुजारा तो हम उस पर मैसेज करें हैं वह हमारे मोहल्ले में पहली बार सुना है ओके तो फिर हम उसके साथ करेंगे क्योंकि हमारे पास दिमाग हो जाता है ना आपने पोस्ट मत आप समझते हैं ना बहुत ज्यादा से ज्यादा तो ज्ञानी बनो समझदार बनो पल्सर की सूचना मिलेगी व के लिए हानिकारक होगा थैंक यू हेलो हेलो

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है कैसे ज्यादा ज्ञान और ज्यादा समझ भी हमारे लिए हानिकारक होती है
URL copied to clipboard