#undefined

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:45
हेलो जीवन तो आज आप का सवाल है कि क्या दूसरों की समस्या का निदान करने से अपनी समस्याओं का भी निदान हो जाता है कि हमेशा तो नहीं होता है लेकिन कुछ कह सकते कि कभी कबार हो जाता है आप भूखे हैं आपके घर में खाना नहीं है मतलब नहीं हो पा रहा है नहीं बन रहा है नहीं इतने पैसे लेकिन वही अगर आपका दोस्त है वह अपने घर में खाना नहीं खा रहा था कि वह मेरा खाना है उसके घर में लेकिन वह खा नहीं रहा है किसी भी वजह से अपने मम्मी पापा से नाराज है तू अगर आप उसे समझाते हैं खाना का इंपॉर्टेंट कि खाना की अहमियत क्या है और वह इंसान अगर बहुत हद तक समझ जाता कि जब वह खाना खाने के लिए जब जाता है जब उसकी अहमियत समझता आपकी बातें समझता है तो वह आपको भी ऑफर करता है अगर दोस्त अच्छा होता है तो तो आप भी भूखे थे आपके घर में भी है प्रॉब्लम हो रहा था और वह इंसान को आप समझाएं कि खाना की अहमियत क्या है तो आपको भी वह मतलब यह सफर कर रहा है खाने के लिए तू कहीं ना कहीं उसे समझाते समझाते आपकी भी जो आज की समस्या जो खाने की समस्या थी वह ठीक हो गई कभी कदार ऐसा होता लेकिन बहुत बार क्या होता है जो दूसरों को समझा नहीं जाते हमारे अंदर भी जो क्षमता S10 तो वह बढ़ जाती कि नहीं तुम खुद से किसी दूसरे को समझा रहे हैं तो कल को ऐसे सचिवों से लगा हमारे साथ भी हो तो हम भी इस तरह से हैंडल कर सकते और कभी घम समझाते समझाते कुछ ऐसा वर्ड ऐसा लाइन बोल देते तो कहीं ना कहीं हमारी कोई भी परेशानी से रिलेटेड करता और फिर हमारा भी समाधान निकल जाता है आईडिया हो जाता है इस तरह से हम जब दूसरों की समस्या को ठीक करने जाते तो कभी कदार हमारी भी समस्या ठीक हो जाती नहीं तो हमें कुछ एक्सपीरियंस मिलता है डियर मिलता और हम हमारी जस्ट फ्रेंड है वह बढ़ जाती है
Helo jeevan to aaj aap ka savaal hai ki kya doosaron kee samasya ka nidaan karane se apanee samasyaon ka bhee nidaan ho jaata hai ki hamesha to nahin hota hai lekin kuchh kah sakate ki kabhee kabaar ho jaata hai aap bhookhe hain aapake ghar mein khaana nahin hai matalab nahin ho pa raha hai nahin ban raha hai nahin itane paise lekin vahee agar aapaka dost hai vah apane ghar mein khaana nahin kha raha tha ki vah mera khaana hai usake ghar mein lekin vah kha nahin raha hai kisee bhee vajah se apane mammee paapa se naaraaj hai too agar aap use samajhaate hain khaana ka importent ki khaana kee ahamiyat kya hai aur vah insaan agar bahut had tak samajh jaata ki jab vah khaana khaane ke lie jab jaata hai jab usakee ahamiyat samajhata aapakee baaten samajhata hai to vah aapako bhee ophar karata hai agar dost achchha hota hai to to aap bhee bhookhe the aapake ghar mein bhee hai problam ho raha tha aur vah insaan ko aap samajhaen ki khaana kee ahamiyat kya hai to aapako bhee vah matalab yah saphar kar raha hai khaane ke lie too kaheen na kaheen use samajhaate samajhaate aapakee bhee jo aaj kee samasya jo khaane kee samasya thee vah theek ho gaee kabhee kadaar aisa hota lekin bahut baar kya hota hai jo doosaron ko samajha nahin jaate hamaare andar bhee jo kshamata s10 to vah badh jaatee ki nahin tum khud se kisee doosare ko samajha rahe hain to kal ko aise sachivon se laga hamaare saath bhee ho to ham bhee is tarah se haindal kar sakate aur kabhee gham samajhaate samajhaate kuchh aisa vard aisa lain bol dete to kaheen na kaheen hamaaree koee bhee pareshaanee se rileted karata aur phir hamaara bhee samaadhaan nikal jaata hai aaeediya ho jaata hai is tarah se ham jab doosaron kee samasya ko theek karane jaate to kabhee kadaar hamaaree bhee samasya theek ho jaatee nahin to hamen kuchh eksapeeriyans milata hai diyar milata aur ham hamaaree jast phrend hai vah badh jaatee hai

और जवाब सुनें

Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:02
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं सवाल क्या दूसरों की समस्या का निदान करने से निश्चित कभी निधन हो जाता है कि नहीं चेक कर पर आप दूसरों की समस्या का निदान करते तो उससे आपको मिली सीख मिल जाती के लोगों की समस्याओं का निदान कैसे किया जाता है कैसे उन्हें मतलब उनकी समस्याओं का निदान करके उन्हें कैसे खुश किया जा सकता है तो निश्चित तौर पर आप दूसरों की मतलब जो समस्याओं का निदान करते हैं तो निश्चित रूप से आप को स्विच मिल जाती कि हमें इस प्रकार से इसकी मतलब समझते जो है उसका निदान करना है तो मना बगैर उसका निदान हो जाता है तो हम लोग भी काफी आपसे खुश रहता है और वह आपके प्रति उसका विश्वास बढ़ जाती चित्र को दोबारा भी आपसे मदद मांग सकते हैं तो नीचे तक अगर आप उसकी मदद करते हैं अपनी समस्याओं की बात हो तो निश्चित तौर पर आप पहले ही सीख चुके हैं कि मैं दूसरे व्यक्ति की जो समस्याएं होती हैं उन्हें कैसे मिलोगी धड़कनों से अपनी जो समझते हैं उन्हें भी दिमाग का सही उपयोग कर लेते हैं सब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hain savaal kya doosaron kee samasya ka nidaan karane se nishchit kabhee nidhan ho jaata hai ki nahin chek kar par aap doosaron kee samasya ka nidaan karate to usase aapako milee seekh mil jaatee ke logon kee samasyaon ka nidaan kaise kiya jaata hai kaise unhen matalab unakee samasyaon ka nidaan karake unhen kaise khush kiya ja sakata hai to nishchit taur par aap doosaron kee matalab jo samasyaon ka nidaan karate hain to nishchit roop se aap ko svich mil jaatee ki hamen is prakaar se isakee matalab samajhate jo hai usaka nidaan karana hai to mana bagair usaka nidaan ho jaata hai to ham log bhee kaaphee aapase khush rahata hai aur vah aapake prati usaka vishvaas badh jaatee chitr ko dobaara bhee aapase madad maang sakate hain to neeche tak agar aap usakee madad karate hain apanee samasyaon kee baat ho to nishchit taur par aap pahale hee seekh chuke hain ki main doosare vyakti kee jo samasyaen hotee hain unhen kaise milogee dhadakanon se apanee jo samajhate hain unhen bhee dimaag ka sahee upayog kar lete hain sab achchha laga hoga dhanyavaad

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:27
क्या दूसरों की समस्याओं का निदान करने से अपनी समस्याओं का भी निदान हो जाएगा विदेशी निश्चित तौर पर जाता है यदि आप दूसरे की समस्याओं को ध्यान से सुनते हैं और उसका निदान करने की कोशिश करते हैं तो हंड्रेड परसेंट में गेहूं का भाव जाता क्योंकि आपके सामने जो भी समस्या है आती है उस में सक्षम होते हैं उसको दूर करने और निश्चित तौर पर आपकी समस्याएं कम से कम होती चली जाती हो ऐसा एहसास नहीं हो पाता और लिखी समस्याएं हर इंसान के पास होती है आती जाती है अगर इंसान अपनी समस्याओं का सही समाधान कर ले और सही स्थितियों को ध्यान में रखकर कर ले तो निश्चित तौर पर अगर आप दूसरे की समस्याओं को देखते हैं और उसका निदान करने का प्रयास करते हैं मैं आपको बता दूं हंड्रेड परसेंट आपकी समस्याएं ऑटोमेटिक निदान हो जाती निश्चित तौर पर जब अपनी समस्याओं का निदान आपसे कर लेते हैं तब आप अपने आप को बेहतर समझने का प्रयास करें और अच्छा परिणाम आपको मिलता है और निश्चित तौर पर अपनी समस्याओं का सही निदान और दिशा कर पाते हैं आप
Kya doosaron kee samasyaon ka nidaan karane se apanee samasyaon ka bhee nidaan ho jaega videshee nishchit taur par jaata hai yadi aap doosare kee samasyaon ko dhyaan se sunate hain aur usaka nidaan karane kee koshish karate hain to handred parasent mein gehoon ka bhaav jaata kyonki aapake saamane jo bhee samasya hai aatee hai us mein saksham hote hain usako door karane aur nishchit taur par aapakee samasyaen kam se kam hotee chalee jaatee ho aisa ehasaas nahin ho paata aur likhee samasyaen har insaan ke paas hotee hai aatee jaatee hai agar insaan apanee samasyaon ka sahee samaadhaan kar le aur sahee sthitiyon ko dhyaan mein rakhakar kar le to nishchit taur par agar aap doosare kee samasyaon ko dekhate hain aur usaka nidaan karane ka prayaas karate hain main aapako bata doon handred parasent aapakee samasyaen otometik nidaan ho jaatee nishchit taur par jab apanee samasyaon ka nidaan aapase kar lete hain tab aap apane aap ko behatar samajhane ka prayaas karen aur achchha parinaam aapako milata hai aur nishchit taur par apanee samasyaon ka sahee nidaan aur disha kar paate hain aap

Sanjay Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjay जी का जवाब
Unknown
0:42
क्या दूसरों की समस्या का निदान करने से अपनी समस्याओं का भी निदान हो जाता है ऐसा आप कह सकते हैं कि बहुत है कि समय से देखा गया है कि यदि आम तौर पर जो लोगों की समस्याएं होती हैं वो एक ही तरीके की होती है तो अगर आप किसी की समस्या का निवारण कट रहे हैं तो इसका मतलब आप इतने काबिल होंगे तो इसका मतलब यह हुआ कि जो आपकी समस्याएं होंगी उनको आपने साल कर लिया होगा तभी आप दूसरों की हेल्प कर पा रहे हैं अगर ऐसा नहीं है तो मेरे हिसाब से तो यह काफी मुश्किल होगा कम से कम अगर आप अपने ही आपके अपनी समस्याओं के साल में नहीं कर पाएंगे तो दूसरों की समस्याओं को क्या साल करेंगे ऐसा कह सकते हैं लेकिन थोड़ा मुश्किल है धन्यवाद
Kya doosaron kee samasya ka nidaan karane se apanee samasyaon ka bhee nidaan ho jaata hai aisa aap kah sakate hain ki bahut hai ki samay se dekha gaya hai ki yadi aam taur par jo logon kee samasyaen hotee hain vo ek hee tareeke kee hotee hai to agar aap kisee kee samasya ka nivaaran kat rahe hain to isaka matalab aap itane kaabil honge to isaka matalab yah hua ki jo aapakee samasyaen hongee unako aapane saal kar liya hoga tabhee aap doosaron kee help kar pa rahe hain agar aisa nahin hai to mere hisaab se to yah kaaphee mushkil hoga kam se kam agar aap apane hee aapake apanee samasyaon ke saal mein nahin kar paenge to doosaron kee samasyaon ko kya saal karenge aisa kah sakate hain lekin thoda mushkil hai dhanyavaad

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:21
सवाल है कि क्या दूसरों की समस्या का निदान करने से अपनी समस्याओं का भी निदान हो जाता है कि नहीं ऐसा तो नहीं होता है कि दूसरों की समस्या का निदान करने साठी को की समस्या भी हल हो जाए लेकिन हां यह जरूर है यह दूसरों की समस्या का हल ढूंढने का प्रयास कर रहे हैं और कभी-कभी हमें अपनी समस्याएं छोटी लगने लग जाती है या फिर हमें उनका हल्का भी आसानी से मिल जाता है आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Savaal hai ki kya doosaron kee samasya ka nidaan karane se apanee samasyaon ka bhee nidaan ho jaata hai ki nahin aisa to nahin hota hai ki doosaron kee samasya ka nidaan karane saathee ko kee samasya bhee hal ho jae lekin haan yah jaroor hai yah doosaron kee samasya ka hal dhoondhane ka prayaas kar rahe hain aur kabhee-kabhee hamen apanee samasyaen chhotee lagane lag jaatee hai ya phir hamen unaka halka bhee aasaanee se mil jaata hai aapaka din shubh rahe dhanyavaad

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:00
हेलो दोस्तों क्या दूसरी की समस्याओं का निदान करने से अपनी समस्याओं का भी निदान हो सकता है तो जी हां दोस्तों अगर आप दूसरों की समस्या को सही से समझते हैं और उनका हल निकालते हैं तो वह भी आपकी समस्या में जरूर आपकी भागीदारी करेंगे और आपको मदद जरूर करेंगे और जितना भी हो सकता है आपकी मदद वही करेंगे तो इससे आपको अपनी निदान मिलने से बहुत ही आपको फायदा होगा तो ऐसा करके जरूर दिखेगा आपको कुछ ना कुछ फायदा जरूर देखने को मिलेगा तो दूसरों की मदद वैसे भी हमें करनी चाहिए जब हम दूसरों की मदद करेंगे तभी दूसरे हमारी मदद करेंगे तो दोस्तों मैं ऐसे ही जवाब देता रहता हूं तो प्लीज हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं और लाइक भी कर सकते हैं और दूसरों की समस्याओं का निदान करना अच्छी बात होती है तो हमें यह करना ही चाहिए धन्यवाद
Helo doston kya doosaree kee samasyaon ka nidaan karane se apanee samasyaon ka bhee nidaan ho sakata hai to jee haan doston agar aap doosaron kee samasya ko sahee se samajhate hain aur unaka hal nikaalate hain to vah bhee aapakee samasya mein jaroor aapakee bhaageedaaree karenge aur aapako madad jaroor karenge aur jitana bhee ho sakata hai aapakee madad vahee karenge to isase aapako apanee nidaan milane se bahut hee aapako phaayada hoga to aisa karake jaroor dikhega aapako kuchh na kuchh phaayada jaroor dekhane ko milega to doosaron kee madad vaise bhee hamen karanee chaahie jab ham doosaron kee madad karenge tabhee doosare hamaaree madad karenge to doston main aise hee javaab deta rahata hoon to pleej hamaare chainal ko sabsakraib kar sakate hain aur laik bhee kar sakate hain aur doosaron kee samasyaon ka nidaan karana achchhee baat hotee hai to hamen yah karana hee chaahie dhanyavaad

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:52
सवाल यह है कि क्या दूसरों की समस्या का निदान करने का अपनी समस्याओं का निदान हो जाता है तो ऐसा कई बार होता भी है और कई बार नहीं भी होता क्योंकि जब हम दूसरों की समस्या का निदान कर रहे होते हैं तो हम इसमें काफी चीजें सीख भी रहे होते हैं हमारा थॉट प्रोसेस एक तरह से वर्क करता है हमारे सोचने की क्षमता को बढ़ाता है कि हम किस तरह से उस प्रॉब्लम को सॉल्व कर रही हैं तो कहीं ना कहीं वह हमारे सोचने की क्षमता पर भी प्रभाव पर अच्छा प्रभाव डालता है जो कि भविष्य में हमें कहीं ना कहीं काम आते हैं हमें ज्यादा से ज्यादा प्रॉब्लम की समस्याओं के बारे में सोच प्रॉब्लम को 100 का सलूशन के बारे में सोचना चाहिए चाहे वह किसी की हो या अपनी क्योंकि कहीं ना कहीं वह सलूशन काम जरूर आता है अपनी जिंदगी में जिंदगी में
Savaal yah hai ki kya doosaron kee samasya ka nidaan karane ka apanee samasyaon ka nidaan ho jaata hai to aisa kaee baar hota bhee hai aur kaee baar nahin bhee hota kyonki jab ham doosaron kee samasya ka nidaan kar rahe hote hain to ham isamen kaaphee cheejen seekh bhee rahe hote hain hamaara thot proses ek tarah se vark karata hai hamaare sochane kee kshamata ko badhaata hai ki ham kis tarah se us problam ko solv kar rahee hain to kaheen na kaheen vah hamaare sochane kee kshamata par bhee prabhaav par achchha prabhaav daalata hai jo ki bhavishy mein hamen kaheen na kaheen kaam aate hain hamen jyaada se jyaada problam kee samasyaon ke baare mein soch problam ko 100 ka salooshan ke baare mein sochana chaahie chaahe vah kisee kee ho ya apanee kyonki kaheen na kaheen vah salooshan kaam jaroor aata hai apanee jindagee mein jindagee mein

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:48
अनुभव क्या दूसरों की समस्या का निदान करने से अपनी समस्याओं का निदान हो जाता है मनुष्य जब समस्या अपनी समस्या का निपटारा कर लेता है तो एक अनुभवी हो जाता है अनुभव बहुत बड़ा ज्ञान होता है अनुभवी बीमारी मरीज होता बहुत बड़ा डॉक्टर हो जाता है और जब जो परिस्थितियों के अनुभव से अपने आप को निकाल ले जाता है तो जब दूसरा व्यक्ति किसी परेशान होता है तो उसकी समस्या का निदान अब बहुत आसानी से कर देते हैं क्योंकि आप उन समस्याओं से गुजर चुके हैं उनसे बचने के रास्ते निकाल चुके हैं इसलिए आप अनुभवी हैं उसे श्रेष्ठ हैं सीनियर हैं और जब उसको आप रास्ता बताएंगे तो बिल्कुल भी बज जाएगा इसलिए आपको समस्या से जूझ और इसकी और अपनी दोनों की समस्याओं को बिल्कुल निकाल ले जाएगा
Anubhav kya doosaron kee samasya ka nidaan karane se apanee samasyaon ka nidaan ho jaata hai manushy jab samasya apanee samasya ka nipataara kar leta hai to ek anubhavee ho jaata hai anubhav bahut bada gyaan hota hai anubhavee beemaaree mareej hota bahut bada doktar ho jaata hai aur jab jo paristhitiyon ke anubhav se apane aap ko nikaal le jaata hai to jab doosara vyakti kisee pareshaan hota hai to usakee samasya ka nidaan ab bahut aasaanee se kar dete hain kyonki aap un samasyaon se gujar chuke hain unase bachane ke raaste nikaal chuke hain isalie aap anubhavee hain use shreshth hain seeniyar hain aur jab usako aap raasta bataenge to bilkul bhee baj jaega isalie aapako samasya se joojh aur isakee aur apanee donon kee samasyaon ko bilkul nikaal le jaega

Rajesh Kumar swami Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Student
0:31
आजकल आजकल के टाइम ज्यादातर दूसरों की समस्या निदान करने से कभी कबार अपनी समस्या का निदान होता है यार कभी कबार आप जो उसकी समस्या का हल कर रहे हैं और समस्याओं पर भारी पड़ जाती है कि हमने किसी दूसरे साल की और वह उल्टा हम पर समस्या अपनी जो उसके साथी ओपनर कर देता पूरा क्या आपने यह सब कर दिया आपने ऐसा कर दिया तो कभी खबरदार उधर समस्या निदान करने से कैसे करें और अपनी समस्या में कभी बंद होता है कभी कबार हमसे भी आ जाती हो ऑफिस सब बहुत बार होते हैं
Aajakal aajakal ke taim jyaadaatar doosaron kee samasya nidaan karane se kabhee kabaar apanee samasya ka nidaan hota hai yaar kabhee kabaar aap jo usakee samasya ka hal kar rahe hain aur samasyaon par bhaaree pad jaatee hai ki hamane kisee doosare saal kee aur vah ulta ham par samasya apanee jo usake saathee opanar kar deta poora kya aapane yah sab kar diya aapane aisa kar diya to kabhee khabaradaar udhar samasya nidaan karane se kaise karen aur apanee samasya mein kabhee band hota hai kabhee kabaar hamase bhee aa jaatee ho ophis sab bahut baar hote hain

Dukh kaise mite? Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
2:41
श्री कृष्णा आपके पूछे क्या दूसरों की समस्या के निदान करने से अपनी समस्या का निदान हो जाता है बिल्कुल हो जाता है अपने शारीरिक संबंध है शरीर में सबसे पहले सपने में भी हम प्रार्थना करते हैं तो हम इस पता नहीं होता नहीं साले को मेरे को भी पता नहीं था मैं तो ऐसे साथ में पढ़ते हैं जितनी संस्कृत में लगाएं हम जानते हैं लेकिन जब हमारे सांसद कब आती है कब हम यह सोचते हैं कि मैं अकेला हूं अकेला अपने विचार ही दुख देता है कि लड़की तो कुछ तो सोते हैं काल्पनिक बिलासपुर जंक्शन से कोई आने के लिए बनाने के लिए कितना शास्त्र बहुत है अब उन पर चाहिए एक-एक करके आप सुनिए तो कैसे मिलता है उनका नाम है कुछ भी संख्या के बार बार बार पूछते सेक्सी मूवीस
Shree krshna aapake poochhe kya doosaron kee samasya ke nidaan karane se apanee samasya ka nidaan ho jaata hai bilkul ho jaata hai apane shaareerik sambandh hai shareer mein sabase pahale sapane mein bhee ham praarthana karate hain to ham is pata nahin hota nahin saale ko mere ko bhee pata nahin tha main to aise saath mein padhate hain jitanee sanskrt mein lagaen ham jaanate hain lekin jab hamaare saansad kab aatee hai kab ham yah sochate hain ki main akela hoon akela apane vichaar hee dukh deta hai ki ladakee to kuchh to sote hain kaalpanik bilaasapur jankshan se koee aane ke lie banaane ke lie kitana shaastr bahut hai ab un par chaahie ek-ek karake aap sunie to kaise milata hai unaka naam hai kuchh bhee sankhya ke baar baar baar poochhate seksee moovees

Ganesh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganesh जी का जवाब
Unknown
0:07

Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Life coach
2:16
प्रश्न क्या दूसरों की समस्या का निदान करने से अपनी समस्या कभी निदान हो जाता है तो चलिए हम इस टॉपिक पर बहुत अच्छे से डिटेल में बात करते हैं जैसे कि आपके दोस्त की लाइफ में कोई प्रॉब्लम है कोई आपका दोस्त जैसा ही है या फिर कोई अजनबी है उसके लिए हम को प्रॉब्लम है तो आप उसकी लाइफ की प्रॉब्लम को अच्छे से सुने दिन उसको समझा फिर आपने उसका सलूशन निकाल दिया ठीक है बहुत अच्छी तरीके से अपने से बता भी दिया वह कोई भी हो गए कितना अच्छा सलूशन बताया ठीक है अब ऐसे ही प्रॉब्लम आपकी लाइफ में आई लेकिन आपको सलूशन ही नहीं मिल रहा क्योंकि आपने अपनी लाइफ की प्रॉब्लम को बहुत है बिल्ली ले लिया है आपने खुद को और अपनी समस्या को हल्के-फुल्के से लेना ही छोड़ दिया बल्कि बहुत ज्यादा हैवी तरीके से लेकर रखा है अब क्या करना है आपको अपनी समस्या को और अपने आप को भी हल्के-फुल्के से लेना सीखो ठीक है अगर आपकी लाइफ में कोई ऐसी प्रॉब्लम आ रही है तो यह समझो कि वह प्रॉब्लम आपकी दोस्ती अब आप उस प्रॉब्लम का सलूशन कैसे ढूंढोगे आपके दोस्त की लाइफ में प्रॉब्लम है उसका सलूशन कैसे ढूंढना है तो आपने सलूशन हुलिया जबकि वह प्रॉब्लम आपकी है जब उसका समाधान आपने ढूंढ लिया तो अपने ऊपर आप लागू करें कि मेरी लाइफ में सेम यही प्रॉब्लम है तो उसका समाधान यही होगा जो मैंने निकाला अभी अपने दोस्त के ऊपर रखकर तुम दूसरों की समस्या का निदान जैसे हमें मिल जाता है ना तो अपनी प्रॉब्लम को भी ऐसे ही रखना होगा कि जैसे दूसरों की लाइफ नहीं है प्रॉब्लम है जैसे हम नहीं रखा तो हम सीख जाते हैं कि अपनी लाइफ की जो भी प्रॉब्लम है उसका सलूशन कैसे निकाले जाते हैं तो क्या होता है खुद को सबको और हमारी समस्याओं को भी हल्के-फुल्के में लेना शुरू करते हैं ताकि फिर हमें कभी लाइफ में प्रॉब्लम नहीं होती क्योंकि सलूशन हम कैसे ढूंढ रहे हैं हमारी लाइफ की जो प्रॉब्लम है वह किसी और की प्रॉब्लम है अगर किसी और की प्रॉब्लम है तो उसका समाधान कैसे निकलेगा कुछ तरीके से हम सीख जाते हैं यही होता है कि दूसरों की समस्या निदान अगर हम करना सीखते हैं तो अपनी प्रॉब्लम को भी हम दूसरों पर रखकर सीख सकते हैं तो हम अपनी हर एक प्रॉब्लम का समाधान निकाल सकते हैं तो इसी तरीके से यह काम करता है बहुत अच्छे से मैंने क्लियर किया ठीक है थैंक यू सो मच

Dharm  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dharm जी का जवाब
Unknown
0:59

Trainer Yogi Yogendra Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trainer जी का जवाब
Motivational Speaker | Career Coach | Corporate Trainer | Marketing & Management Expert's. Follow Us YouTube channel : https://www.youtube.com/channel/UCKY3o0Bey-4L8mWF9hyTRdQ
1:03

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्या दूसरों की समस्या का निदान करने से अपनी समस्याओं का भी निदान हो जाता है दूसरों की समस्या का निदान करने से अपनी समस्याओं का भी निदान हो जाता
URL copied to clipboard