#भारत की राजनीति

bolkar speaker

जब सरकार और किसान अपनी- अपनी जिद पर लम्बे समय तक अडे रहते हैं तव तीसरा विकल्प क्या हो सकता है?

Jab Sarakaar Aur Kisaan Apanee Apanee Jid Par Lambe Samay Tak Ade Rahate Hain Tav Teesara Vikalp Kya Ho Sakata Hai
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:39
हाय फ्रेंड्स प्रश्न है कि जब सरकार और के समय अपनी अपनी जीत पर लंबे समय तक बैठे रहे थे तब तक जागोगे क्या हो सकता है जब किसानों और सरकार अपनी अपनी मांगों पर अड़े रहेंगे कुछ हल नहीं निकलेगा तो समाधान नहीं हुआ तो तीसरा नगर भाई कौन हो सकता है फुर्सत में थोड़ा बताइए अर्जी दायर की 32 लड़ाई सरकार के खिलाफ फैसला लिया तब सरकार उनकी मांगों को पूरा करेगी उस में सक्षम होंगे फिर क्या नजारा क्या फैसला रहा वहीं सरकार और किसानों को मानना
Haay phrends prashn hai ki jab sarakaar aur ke samay apanee apanee jeet par lambe samay tak baithe rahe the tab tak jaagoge kya ho sakata hai jab kisaanon aur sarakaar apanee apanee maangon par ade rahenge kuchh hal nahin nikalega to samaadhaan nahin hua to teesara nagar bhaee kaun ho sakata hai phursat mein thoda bataie arjee daayar kee 32 ladaee sarakaar ke khilaaph phaisala liya tab sarakaar unakee maangon ko poora karegee us mein saksham honge phir kya najaara kya phaisala raha vaheen sarakaar aur kisaanon ko maanana

और जवाब सुनें

bolkar speaker
जब सरकार और किसान अपनी- अपनी जिद पर लम्बे समय तक अडे रहते हैं तव तीसरा विकल्प क्या हो सकता है?Jab Sarakaar Aur Kisaan Apanee Apanee Jid Par Lambe Samay Tak Ade Rahate Hain Tav Teesara Vikalp Kya Ho Sakata Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:54
कार और किसान अपनी अपनी जीत पर लंबे समय तक खड़े रहते हैं तब तीसरा विकल्प क्या हो सकता है दोस्तों तीसरा विकल्प यह हो सकता है कि सरकार को अपनी भर्ती में भाग लेना चाहिए या फिर किसानों को जमीन को सरकार की जो बातें हैं इनको मार लेनी चाहिए या फिर तीसरा विकल्प और दूसरा दोस्तों नहीं निकलने वाला विकल्प जो निकलेगा तीसरा विकल्प यहीं है कि कोर्ट के अंदर जाइए कोर्ट का निर्णय देगी वही सर्वोपरि होगा सरकार को भी मानना होगा और जनता को भी तो कोर्ट के निर्णय के ऊपर ही तीसरा विकल्प वर्तमान में तो टिका हुआ है अन्यथा जो है तीसरा विकल्प आप ही कर सकते हैं कि सरकार किसानों की बात मानो के सामने वह सरकार की बात मान ले
Kaar aur kisaan apanee apanee jeet par lambe samay tak khade rahate hain tab teesara vikalp kya ho sakata hai doston teesara vikalp yah ho sakata hai ki sarakaar ko apanee bhartee mein bhaag lena chaahie ya phir kisaanon ko jameen ko sarakaar kee jo baaten hain inako maar lenee chaahie ya phir teesara vikalp aur doosara doston nahin nikalane vaala vikalp jo nikalega teesara vikalp yaheen hai ki kort ke andar jaie kort ka nirnay degee vahee sarvopari hoga sarakaar ko bhee maanana hoga aur janata ko bhee to kort ke nirnay ke oopar hee teesara vikalp vartamaan mein to tika hua hai anyatha jo hai teesara vikalp aap hee kar sakate hain ki sarakaar kisaanon kee baat maano ke saamane vah sarakaar kee baat maan le

bolkar speaker
जब सरकार और किसान अपनी- अपनी जिद पर लम्बे समय तक अडे रहते हैं तव तीसरा विकल्प क्या हो सकता है?Jab Sarakaar Aur Kisaan Apanee Apanee Jid Par Lambe Samay Tak Ade Rahate Hain Tav Teesara Vikalp Kya Ho Sakata Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:16
सवाल है कि जब सरकार और किसान अपनी अपनी जिद पर लंबे समय तक खड़े रहे सब तीसरा विकल्प क्या हो सकता है तो कोर्ट हाईकोर्ट या सुप्रीम कोर्ट तीसरा विकल्प हो सकता है जहां दोनों पक्षों पर सुनवाई होगी और फिर आखरी फैसला कोर्ट लेगी
Savaal hai ki jab sarakaar aur kisaan apanee apanee jid par lambe samay tak khade rahe sab teesara vikalp kya ho sakata hai to kort haeekort ya supreem kort teesara vikalp ho sakata hai jahaan donon pakshon par sunavaee hogee aur phir aakharee phaisala kort legee

bolkar speaker
जब सरकार और किसान अपनी- अपनी जिद पर लम्बे समय तक अडे रहते हैं तव तीसरा विकल्प क्या हो सकता है?Jab Sarakaar Aur Kisaan Apanee Apanee Jid Par Lambe Samay Tak Ade Rahate Hain Tav Teesara Vikalp Kya Ho Sakata Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:46
जब सरकार और के साथ दोनों अपने-अपने जिद्द पर अड़े हैं तो अब नाम सरकार को समझाया जा सकता है ना किसानों को समझाया जा सकता है जनता के बस का तो कुछ है ही नहीं है इसलिए सरकार को चाहिए कि उस कानून को जो कानून कह रहे हैं कोई किसानों के हित के लिए बनाया गया है तो उस कानून को समाप्त कर दें या इस पर तीसरा विकल्प यहीं का हाई कोर्ट जो है जनहित को ध्यान में रखते हुए उसको उस पर रोक लगा दे कि बिल्कुल किसी भी तरह से यह चुकी कानून जनता के हित के लिए होते हैं और इस पर जनता का उसमें अपना ही तो नहीं समझ रही है इसलिए जनहित को ध्यान में देते इसको निरस्त किया जाता तो तीसरा विकल्प सुप्रीम कोर्ट है उसको निरस्त कर दे बस यही एक विकल्प है
Jab sarakaar aur ke saath donon apane-apane jidd par ade hain to ab naam sarakaar ko samajhaaya ja sakata hai na kisaanon ko samajhaaya ja sakata hai janata ke bas ka to kuchh hai hee nahin hai isalie sarakaar ko chaahie ki us kaanoon ko jo kaanoon kah rahe hain koee kisaanon ke hit ke lie banaaya gaya hai to us kaanoon ko samaapt kar den ya is par teesara vikalp yaheen ka haee kort jo hai janahit ko dhyaan mein rakhate hue usako us par rok laga de ki bilkul kisee bhee tarah se yah chukee kaanoon janata ke hit ke lie hote hain aur is par janata ka usamen apana hee to nahin samajh rahee hai isalie janahit ko dhyaan mein dete isako nirast kiya jaata to teesara vikalp supreem kort hai usako nirast kar de bas yahee ek vikalp hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सरकार और किसान दोनों अपनी जिद पे अडे है तो आब क्या करना चाहिए
URL copied to clipboard