#रिश्ते और संबंध

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:59
किसी महिला को गर्भवती होने से पहले अगर खून की जरूरत हो और उसे किसी और का खून दे दिए गए तो डीएनए में परिवर्तन जी नहीं डीएनए में कोई परिवर्तन नहीं होता है कौन उसी ग्रुप का ही चाहता है जिस ग्रुप की महिला जो महिला का जो ग्रुप फोन का होता है मान लीजिए ओ पॉजिटिव है ए नेगेटिव है बी नेगेटिव है वह नेगेटिव होती है इसलिए ग्रुप ब्लड के बने हुए हैं और ब्लड में वही जिस ग्रुप की महिला होगी वही ग्रुप से उस पर स्वीकार होगा क्योंकि अन्य ग्रुप हो तो रिएक्शन कर जाएगा इसलिए क्योंकि ग्रुप में कोई परिवर्तन नहीं होता है इसलिए डीएनए में भी किसी प्रकार के परिवर्तन की कोई संभावना उसमें नहीं होती है और डीएनए उसको स्वीकार भी नहीं करेगा और डीएनए जो भी होता है वह एक मौलिक संरचना से होता है उसके डीएनए में कोई परिवर्तन नहीं हो सकता
Kisee mahila ko garbhavatee hone se pahale agar khoon kee jaroorat ho aur use kisee aur ka khoon de die gae to deeene mein parivartan jee nahin deeene mein koee parivartan nahin hota hai kaun usee grup ka hee chaahata hai jis grup kee mahila jo mahila ka jo grup phon ka hota hai maan leejie o pojitiv hai e negetiv hai bee negetiv hai vah negetiv hotee hai isalie grup blad ke bane hue hain aur blad mein vahee jis grup kee mahila hogee vahee grup se us par sveekaar hoga kyonki any grup ho to riekshan kar jaega isalie kyonki grup mein koee parivartan nahin hota hai isalie deeene mein bhee kisee prakaar ke parivartan kee koee sambhaavana usamen nahin hotee hai aur deeene usako sveekaar bhee nahin karega aur deeene jo bhee hota hai vah ek maulik sanrachana se hota hai usake deeene mein koee parivartan nahin ho sakata

और जवाब सुनें

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:25
आपका सवाल है कि किसी महिला के गर्भवती होने से पहले अगर खून में की जरूरत हो और किसी और कौन से दिया जाए तो क्या माता-पिता के लिए में बदलाव होगा तो देखिए खून चढ़ाने से कभी भी डीएनए में चेंज नहीं आते हैं डीएनए जो होते हैं वह पैतृक होते हैं वह आपकी बॉडी मेरे डीएनए हैं वह कहीं से भी काम पर लिया जाएगा वह वहीं रहने वाला है बाप के माता-पिता से ही मैच होने वाला है वह कभी भी चेंज नहीं होता है ब्लड चढ़ाने से कभी भी डीएनए नहीं बदलता आपका दिन शुभ रहे थे निवास
Aapaka savaal hai ki kisee mahila ke garbhavatee hone se pahale agar khoon mein kee jaroorat ho aur kisee aur kaun se diya jae to kya maata-pita ke lie mein badalaav hoga to dekhie khoon chadhaane se kabhee bhee deeene mein chenj nahin aate hain deeene jo hote hain vah paitrk hote hain vah aapakee bodee mere deeene hain vah kaheen se bhee kaam par liya jaega vah vaheen rahane vaala hai baap ke maata-pita se hee maich hone vaala hai vah kabhee bhee chenj nahin hota hai blad chadhaane se kabhee bhee deeene nahin badalata aapaka din shubh rahe the nivaas

pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:25
डिग्गी का पॉइंट को देखो कि जो वर्ल्ड है उसका डीएनए से कुछ खास रिलेशन नहीं होता भी मींस होता है कि एक महिला गर्भवती कब होती है जब एक महिला और पुरुष दोनों आपस में फिजिकली कांटेक्ट में आते हैं और उनका जो इंटर ट्रांजैक्शंस होता है उसकी वजह से एक महिला ने क्या बोलते हैं गर्भवती होती है लेकिन उससे वर्ल्ड में तो कोई बड़ा नहीं होता बट किसी का भी हो तो बोलने रहेगा जीने का अलग चीज है अगर आपको मैं आपको एक बेसिक भाषा में समझाऊं तो एक कंप्यूटर के अंदर एक मदरबोर्ड होता है एक सीपीयू होता है एक कीबोर्ड होता है तो तीनों के जो फंक्शन अलग-अलग होते हैं मदरबोर्ड की का का मदरबोर्ड ही करेगा और अगर बाकी फंक्शंस काम नहीं कर रहे हैं और आपको मान लो कि सीपीयू को चेंज करना पड़ गया है या आपको कीबोर्ड पर मदर बोर्ड के ऊपर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा एक बच्चा जन्म लेता है जो स्त्री और पुरुष जो आपस में आते फिजिकली कांटेक्ट में आते हैं और फिजिकली कांटेक्ट आने के बाद जब वह ट्रांजिशन करते हैं और उसके बाद जो प्रोसेसिंग शुरू होती बच्चे की बनने की उसका वर्ल्ड से कोई रिलेशन नहीं होता है थैंक यू
Diggee ka point ko dekho ki jo varld hai usaka deeene se kuchh khaas rileshan nahin hota bhee meens hota hai ki ek mahila garbhavatee kab hotee hai jab ek mahila aur purush donon aapas mein phijikalee kaantekt mein aate hain aur unaka jo intar traanjaikshans hota hai usakee vajah se ek mahila ne kya bolate hain garbhavatee hotee hai lekin usase varld mein to koee bada nahin hota bat kisee ka bhee ho to bolane rahega jeene ka alag cheej hai agar aapako main aapako ek besik bhaasha mein samajhaoon to ek kampyootar ke andar ek madarabord hota hai ek seepeeyoo hota hai ek keebord hota hai to teenon ke jo phankshan alag-alag hote hain madarabord kee ka ka madarabord hee karega aur agar baakee phankshans kaam nahin kar rahe hain aur aapako maan lo ki seepeeyoo ko chenj karana pad gaya hai ya aapako keebord par madar bord ke oopar koee prabhaav nahin padega ek bachcha janm leta hai jo stree aur purush jo aapas mein aate phijikalee kaantekt mein aate hain aur phijikalee kaantekt aane ke baad jab vah traanjishan karate hain aur usake baad jo prosesing shuroo hotee bachche kee banane kee usaka varld se koee rileshan nahin hota hai thaink yoo

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
0:55
किसी महिला को गर्भवती होने से पहले अगर खून की जरूरत हो तो उसे किसी और का खून दिया जाए तो क्या माता पिता पिता का डीएनए अलग हो जाएगा क्या डिफरेंट होगा या नहीं ऐसा नहीं होगा क्योंकि देते हैं उसके बाद जो हमारा ओम सोम सोते हैं वह तो अभी दोनों का रहेगा ना उसी से डिसाइड होता है आपका डीएनए और आपकी जो भी चीजें होती है उसी से लिया अब यह नहीं कि हम किसी के अंदर किसी का अगर ब्लड ले ले तो उसका डीएनए हमारे अंदर आ गया बस ही रहता है कि आपकी ब्लड जो ग्रुप है वह ब्लड ग्रुप सेम होना चाहिए उसके बाद आपकी जो लोगों से हम सोते हैं जो भी आप की एक्टिविटी होती है वह तो पर्सनली आप ही के वजह से इसमें कुछ भी रहेगा आपका ही रहेगा और इसमें कुछ भी चेंज नहीं होगा
Kisee mahila ko garbhavatee hone se pahale agar khoon kee jaroorat ho to use kisee aur ka khoon diya jae to kya maata pita pita ka deeene alag ho jaega kya dipharent hoga ya nahin aisa nahin hoga kyonki dete hain usake baad jo hamaara om som sote hain vah to abhee donon ka rahega na usee se disaid hota hai aapaka deeene aur aapakee jo bhee cheejen hotee hai usee se liya ab yah nahin ki ham kisee ke andar kisee ka agar blad le le to usaka deeene hamaare andar aa gaya bas hee rahata hai ki aapakee blad jo grup hai vah blad grup sem hona chaahie usake baad aapakee jo logon se ham sote hain jo bhee aap kee ektivitee hotee hai vah to parsanalee aap hee ke vajah se isamen kuchh bhee rahega aapaka hee rahega aur isamen kuchh bhee chenj nahin hoga

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:46
किसी महिला को गर्भवती होने से पहले अगर खून की जरूरत हो तो किसी और का खोल दिया जाए तो क्या माता पिता के बयान को लेकर गया भेजो सवार है दोस्तों यदि किसी महिला का ब्लड ग्रुप जो है उसी के अनुसार उसको जो है ब्लड पड़ेगा तो मेरे हिसाब से देने में कोई दिक्कत नहीं होने वाली है क्योंकि जो महिलाएं हैं उनको खून चढ़ाया जाता है तो दूसरा बाकी है कि खानपान इत्यादि के माध्यम से भी इसमें सुधार किया जाता है देने को लेकर मुझे नहीं लगता कि कोई फर्क पड़ेगा इतना दूर करेंगे कि खून जोड़ना जरूरी हो जाता है या फिर खानपान के माध्यम से खून को बढ़ाना पड़ता है और तो कुछ नहीं है इस चीज को लेकर के
Kisee mahila ko garbhavatee hone se pahale agar khoon kee jaroorat ho to kisee aur ka khol diya jae to kya maata pita ke bayaan ko lekar gaya bhejo savaar hai doston yadi kisee mahila ka blad grup jo hai usee ke anusaar usako jo hai blad padega to mere hisaab se dene mein koee dikkat nahin hone vaalee hai kyonki jo mahilaen hain unako khoon chadhaaya jaata hai to doosara baakee hai ki khaanapaan ityaadi ke maadhyam se bhee isamen sudhaar kiya jaata hai dene ko lekar mujhe nahin lagata ki koee phark padega itana door karenge ki khoon jodana jarooree ho jaata hai ya phir khaanapaan ke maadhyam se khoon ko badhaana padata hai aur to kuchh nahin hai is cheej ko lekar ke

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
0:59
सवाल ये है कि किसी महिला को गर्भवती होने से पहले अगर खून की जरूरत हो और उसे किसी और का खून दिया जाए तो क्या माता-पिता के डीएनए बदलाव होता है तो जी नहीं ऐसा डीएनए में कोई फर्क देखने को नहीं मिलता अगर दर्द बाद गर्भावस्था में एनीमिया ज्यादा बढ़ गया है तो डॉक्टर आयरन की गोलियां खाने के लिए देते हैं ज्यादातर गर्भवती को आयरन के सप्लीमेंट किए जाते हैं ताकि गर्भवती और शिशु दोनों में ही खून की कमी ना हो उसके अलावा डॉक्टर वाले कैसेट के कंपलीमेंट्स भी दे सकते हैं अगर किसी महिला को गर्भवती महिला को गंभीर खून की कमी है तो उस वक्त भी चढ़ाया जा सकता है इसमें कोई भी नुकसान नहीं होगा इसके अलावा आयरन का इंजेक्शन भी नसों में दिया जाता है कुछ समय तक ही सप्लीमेंट खाने के बाद डॉक्टर रक्त जांच करके आपके हीमोग्लोबिन और हेमाटोक्रिट स्तर की जांच करते हैं इसमें डोकरिया चेंगे कि आपके रखकर में कितना सुधार आया है
Savaal ye hai ki kisee mahila ko garbhavatee hone se pahale agar khoon kee jaroorat ho aur use kisee aur ka khoon diya jae to kya maata-pita ke deeene badalaav hota hai to jee nahin aisa deeene mein koee phark dekhane ko nahin milata agar dard baad garbhaavastha mein eneemiya jyaada badh gaya hai to doktar aayaran kee goliyaan khaane ke lie dete hain jyaadaatar garbhavatee ko aayaran ke sapleement kie jaate hain taaki garbhavatee aur shishu donon mein hee khoon kee kamee na ho usake alaava doktar vaale kaiset ke kampaleements bhee de sakate hain agar kisee mahila ko garbhavatee mahila ko gambheer khoon kee kamee hai to us vakt bhee chadhaaya ja sakata hai isamen koee bhee nukasaan nahin hoga isake alaava aayaran ka injekshan bhee nason mein diya jaata hai kuchh samay tak hee sapleement khaane ke baad doktar rakt jaanch karake aapake heemoglobin aur hemaatokrit star kee jaanch karate hain isamen dokariya chenge ki aapake rakhakar mein kitana sudhaar aaya hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard