#भारत की राजनीति

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:30
देखिए बजट जो है सरकार ने के पास किया है 2021 का एक अनुमानित बजट होता है उस हिसाब से खर्च किया जाता है आप सरकार हमारी व्यापारी और उसमें व्यापारियों के लिए उसने वह प्रावधान रखे हैं कि एलआईसी में ज्यादा से ज्यादा फायदा कैसे हो एलआईसी का विशाल मार्केट में लगा देंगे तो मार्केट में और पैसा पैदा होगा इससे बारे रेलवे ने भी उसने कर दिया हवाई जहाज मिले तो सरकार का जो फोकस है और निजी कारण का है और निजी कारणों की वजह से एक तो उन लोगों को रोजगार भी ज्यादा नहीं मिल पा रहे हैं तो अब आम जनता को क्या चाहिए रोटी कपड़ा और मकान सरकार देश की कोई व्यवस्था नहीं की है वह कहते हैं कि आप खुद ही अपने रोजगार की तलाश की तो रोजगार की तलाश क्या करेंगे आप जब नवकार या नहीं है कहीं तो नोकरिया नहीं मिलेंगे कोई व्यवसाय के लिए आपके पास पैसा नहीं है तो सरकार ने इन सब चीजों पर ध्यान नहीं दिया क्यों लिखी सीनियर सिटीजन के लिए क्यों उनकी पेंशन पर आयकर नहीं लगेगा इसलिए और इसके अलावा सरकार ने किसी भी तरह की किसी भी तरह की कोई भी सुविधा नंबर नंबर के लिए धन्यवाद के लिए कुछ नहीं दिया है किसानों के लिए भी एक को चौथे चने की तरह उसने बजट में व्यवस्था की है इसलिए बजट बिल्कुल एकदम नकारात्मक है जनता का नहीं है और यह बिल्कुल एक जन विरोधी बजट है मैं इसको स्वीकार करता हूं
Dekhie bajat jo hai sarakaar ne ke paas kiya hai 2021 ka ek anumaanit bajat hota hai us hisaab se kharch kiya jaata hai aap sarakaar hamaaree vyaapaaree aur usamen vyaapaariyon ke lie usane vah praavadhaan rakhe hain ki elaeesee mein jyaada se jyaada phaayada kaise ho elaeesee ka vishaal maarket mein laga denge to maarket mein aur paisa paida hoga isase baare relave ne bhee usane kar diya havaee jahaaj mile to sarakaar ka jo phokas hai aur nijee kaaran ka hai aur nijee kaaranon kee vajah se ek to un logon ko rojagaar bhee jyaada nahin mil pa rahe hain to ab aam janata ko kya chaahie rotee kapada aur makaan sarakaar desh kee koee vyavastha nahin kee hai vah kahate hain ki aap khud hee apane rojagaar kee talaash kee to rojagaar kee talaash kya karenge aap jab navakaar ya nahin hai kaheen to nokariya nahin milenge koee vyavasaay ke lie aapake paas paisa nahin hai to sarakaar ne in sab cheejon par dhyaan nahin diya kyon likhee seeniyar siteejan ke lie kyon unakee penshan par aayakar nahin lagega isalie aur isake alaava sarakaar ne kisee bhee tarah kee kisee bhee tarah kee koee bhee suvidha nambar nambar ke lie dhanyavaad ke lie kuchh nahin diya hai kisaanon ke lie bhee ek ko chauthe chane kee tarah usane bajat mein vyavastha kee hai isalie bajat bilkul ekadam nakaaraatmak hai janata ka nahin hai aur yah bilkul ek jan virodhee bajat hai main isako sveekaar karata hoon

और जवाब सुनें

pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:58
देखिए कोई भी चीज होती है या कोई भी बजट आज तक हमारे देश में पास किया गया है जो पिछले लगभग 70 सालों से पास किया किया जाता रहा है तो हर बजट में किसी ना किसी और को आप संतुष्ट नहीं कर पाए कि कोई ना कोई वर्ग हमेशा आप से असंतुष्ट रहा है और 2021 का मैं आपको बजट बताऊं तो यह पूरी तरह से लोन फ्रॉम डेवलपमेंट को ध्यान में रखा गया है क्योंकि इस दुनिया के बहुत से देशों ने कहा है कि अगर भारत को एक अच्छे डेवलप्ड कंट्री के अंदर शामिल होना है तो उसी अपना इन्फ्रास्ट्रक्चर डिवेलप करना पड़ेगा इंफ्रास्ट्रक्चर इन द सेंस कि आपके पास अच्छे रोड होने चाहिए अच्छे पोर्ट्स होने चाहिए अच्छे बंदर का होने चाहिए अगर यह चीजें होंगी तो दुनिया की दूसरी कंपनियां भारत में आएंगी वह अपना पैसा लगाएगी पैसा लगाएंगे तो भारत के लोगों को रोजगार देंगे और इसके पॉजिटिव और फोटो क्योंकि कृषि में फैला दो टेक्नोलॉजी हैं वो इनडायरेक्टली रूप से इंटर कर रही हैं और भारत सरकार ने कानून भी बनाए हैं जिसके कुछ बेनिफिट्स और लोग भी हैं और अगर हम में हम बात की बात करूं तो इस बजट में आम आदमी को कुछ ज्यादा फिलहाल बेनिफिट होता नहीं दिखाई दे रहा है लक्की लेकिन जो वर्तमान बजट सरकार ने पेश किया है यह समय की रिक्वायरमेंट थी अगर आज भारत सरकार इस बजट को पेश नहीं करती इस तरह का बजट वह योजनाओं पर ही फोकस कर देती आमजन की योजनाओं पर ही फोकस कर दी आमजन में ही पैसा सारा खर्च कर देती तो जो बड़ा बड़ा इंफ्रास्ट्रक्चर की रिक्वायरमेंट है जिसको देखकर आप दुनिया की मल्टीनैशनल कंपनीज को भारत में एंट्री करवा सकते हैं वह भारत में आना उनके लिए बड़ा मुश्किल हो जाता है क्योंकि जब तक आप दुनिया की दूसरी कंपनियों को इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं देंगे उनको लैंड नहीं देंगे उनको फैसिलिटी नहीं देंगे उनको गुड गवर्नेंस नहीं देंगे तब तब वह भारत में नहीं आएंगी जो भारत में नहीं आएंगी इसका मतलब इन्वेस्टमेंट नहीं हुआ इन्वेस्टमेंट नहीं हुआ है कंप्लीमेंट्री नहीं लगी फैक्ट्री नहीं लगी इसका मतलब लोगों को रोजगार नहीं मिला रोजगार नहीं मिला भारत में बेरोजगारी व्याप्त रहेगी लेकिन अगर आप आम आदमी वही पैसा खर्च कर दोगे तो कहीं ना कहीं आपको किस चीज से दूर जा रहे हो कि जो पैसा एयरपोर्ट बनने में लगना चाहिए था या एक बड़ा रेलवे बनने में लगना चाहिए था आपका पैसा लगाना चाहिए था आप पुल बनने में वह पैसा आपने योजना पर या फिर किसी और सिस्टम पर खर्च कर दिया तो उसे क्या है कि यह तीनों चीजें नहीं है तो बाहर की कंपनियां आएंगी नहीं भारतीय कंपनियां नहीं आएगी तो मैंने आपको शक्ल बता दिया कि वह कंपनी स्टाफ नहीं होगी कंपनी नहीं होगी लोगों को रोजगार नहीं मिलेगा रोजगार मिलेगा बेरोजगारी बनी रहेगी इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट किसी भी देश की विकासशील देश की ग्रोसरी प्रोडक्ट बहुत जरूरी है इसलिए जहां तक मेरा पॉइंट है बजट कुल मिलाकर में बजट में 10 में से आठ नंबर दूंगा थैंक यू
Dekhie koee bhee cheej hotee hai ya koee bhee bajat aaj tak hamaare desh mein paas kiya gaya hai jo pichhale lagabhag 70 saalon se paas kiya kiya jaata raha hai to har bajat mein kisee na kisee aur ko aap santusht nahin kar pae ki koee na koee varg hamesha aap se asantusht raha hai aur 2021 ka main aapako bajat bataoon to yah pooree tarah se lon phrom devalapament ko dhyaan mein rakha gaya hai kyonki is duniya ke bahut se deshon ne kaha hai ki agar bhaarat ko ek achchhe devalapd kantree ke andar shaamil hona hai to usee apana inphraastrakchar divelap karana padega imphraastrakchar in da sens ki aapake paas achchhe rod hone chaahie achchhe ports hone chaahie achchhe bandar ka hone chaahie agar yah cheejen hongee to duniya kee doosaree kampaniyaan bhaarat mein aaengee vah apana paisa lagaegee paisa lagaenge to bhaarat ke logon ko rojagaar denge aur isake pojitiv aur photo kyonki krshi mein phaila do teknolojee hain vo inadaayarektalee roop se intar kar rahee hain aur bhaarat sarakaar ne kaanoon bhee banae hain jisake kuchh beniphits aur log bhee hain aur agar ham mein ham baat kee baat karoon to is bajat mein aam aadamee ko kuchh jyaada philahaal beniphit hota nahin dikhaee de raha hai lakkee lekin jo vartamaan bajat sarakaar ne pesh kiya hai yah samay kee rikvaayarament thee agar aaj bhaarat sarakaar is bajat ko pesh nahin karatee is tarah ka bajat vah yojanaon par hee phokas kar detee aamajan kee yojanaon par hee phokas kar dee aamajan mein hee paisa saara kharch kar detee to jo bada bada imphraastrakchar kee rikvaayarament hai jisako dekhakar aap duniya kee malteenaishanal kampaneej ko bhaarat mein entree karava sakate hain vah bhaarat mein aana unake lie bada mushkil ho jaata hai kyonki jab tak aap duniya kee doosaree kampaniyon ko imphraastrakchar nahin denge unako laind nahin denge unako phaisilitee nahin denge unako gud gavarnens nahin denge tab tab vah bhaarat mein nahin aaengee jo bhaarat mein nahin aaengee isaka matalab investament nahin hua investament nahin hua hai kampleementree nahin lagee phaiktree nahin lagee isaka matalab logon ko rojagaar nahin mila rojagaar nahin mila bhaarat mein berojagaaree vyaapt rahegee lekin agar aap aam aadamee vahee paisa kharch kar doge to kaheen na kaheen aapako kis cheej se door ja rahe ho ki jo paisa eyaraport banane mein lagana chaahie tha ya ek bada relave banane mein lagana chaahie tha aapaka paisa lagaana chaahie tha aap pul banane mein vah paisa aapane yojana par ya phir kisee aur sistam par kharch kar diya to use kya hai ki yah teenon cheejen nahin hai to baahar kee kampaniyaan aaengee nahin bhaarateey kampaniyaan nahin aaegee to mainne aapako shakl bata diya ki vah kampanee staaph nahin hogee kampanee nahin hogee logon ko rojagaar nahin milega rojagaar milega berojagaaree banee rahegee imphraastrakchar devalapament kisee bhee desh kee vikaasasheel desh kee grosaree prodakt bahut jarooree hai isalie jahaan tak mera point hai bajat kul milaakar mein bajat mein 10 mein se aath nambar doonga thaink yoo

vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
0:47
झारखंड छोरी कमाल का सफर के लिए चेहरे पर कॉल कन्वर्सेशन देंगे क्या हुआ सवाल किया कि सरकार ने पास किया है तो इसमें क्या मेरी सारी कमियां है या नहीं है मुझे कमी नजर आ रही है अपना पुलिस और कानून पास किया है तुमको काफी तुम्हें किसानों का भुगतान नहीं है आम लोगों को मीडियम लोगों को परेशान किया गया और खेत में कोई काम नहीं है पेपरलेस बजट बनाया प्रोसिटी नहीं होता है कोई बदलाव के बनाए पेपर सहित होना है वह तो ज्यादा उसे निवेदक लिखित रूप में होता जब लेकिन रूम में क्या फायदा क्या है क्या बोलूं कल आज और कल दूसरा कुछ नहीं मुझे नहीं लगता सरकार कभी फायदा देगी हम लोग हम लोग मीडिया मीडिया में लग रहा किसी दिन साथ में लेने के भी पैसा लगेगा यहां अपने देश में और किस राज्य में
Jhaarakhand chhoree kamaal ka saphar ke lie chehare par kol kanvarseshan denge kya hua savaal kiya ki sarakaar ne paas kiya hai to isamen kya meree saaree kamiyaan hai ya nahin hai mujhe kamee najar aa rahee hai apana pulis aur kaanoon paas kiya hai tumako kaaphee tumhen kisaanon ka bhugataan nahin hai aam logon ko meediyam logon ko pareshaan kiya gaya aur khet mein koee kaam nahin hai peparales bajat banaaya prositee nahin hota hai koee badalaav ke banae pepar sahit hona hai vah to jyaada use nivedak likhit roop mein hota jab lekin room mein kya phaayada kya hai kya boloon kal aaj aur kal doosara kuchh nahin mujhe nahin lagata sarakaar kabhee phaayada degee ham log ham log meediya meediya mein lag raha kisee din saath mein lene ke bhee paisa lagega yahaan apane desh mein aur kis raajy mein

Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
3:46
सवाल यह है कि सरकार ने जो बजट पास किया है 2021 का उसमें किस तरह की कमी आपको नजर आती हैं तो कमियां और कमियां तो हर चीज में चलती ही रहती हैं बात कर लेते हैं कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को देश का आम बजट पेश किया सरकार की तरफ से इस बार ज्यादा फोकस वास्ते बुनियादी ढांचे पर किया गया जबकि आयकर में छूट को लेकर मध्यम वर्ग को किसी भी तरह की कोई राहत नहीं दी गई है और यह एक बहुत ही बड़ी कमी है इस बजट में इस वक्त ढाई लाख तक की आय पर कोई टैक्स नहीं देना पड़ता है साल 2014 में बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने टैक्स में छूट की सीमा को दो लाख से बढ़ाकर ढाई लाख रुपए किया था 7 साल बाद मिडिल क्लास की तरफ से यह उम्मीद की जा रही थी कि से 2:30 से बढ़ाकर तीन लाख कर देने की करने की लेकिन मिडिल क्लास को इस मोर्चे में काम ही हाथ लगी है जो कि बहुत ही बहुत बड़ी कम ना क्या कामयाबी है बहुत बड़ी कमी है सरकार की इस बजट की यही नहीं आवत मंत्री निर्मला सीतारमण ने पेट्रोल पर दो 2.5 रुपए और डीजल पर ₹4 का कृषि टैक्स लगाने का ऐलान किया है हालांकि उन्होंने कहा कि इसका ग्राहकों पर कोई असर नहीं होगा फिर भी भविष्य में ग्राहकों पर इसका प्रभाव पड़ने की आशंका जताई जा रही है सरकार ने देश में बुनियादी संरचना के सृजन के जरिए आर्थिक वृद्धि को गति देने के लिए वित्त 2000 21 22 की पूंजीगत व्यय को 34.5% को बढ़ाकर 5.5 लाख करोड़ रुपए करने का प्रस्ताव दिया है चालू वित्त वर्ष के लिए पूंजीगत व्यय को 4:30 दशमलव 1200000 करोड रुपए के बजट अनुमान से बढ़ाकर 4.39 करो रुपए कर दिया गया है सीतारमण ने बजट के भाषण में कहा कि 2020 में पूंजीगत व्यय तेजी तेजी से किया गया है हमने पूंजीगत व्यय के लिए आज 4.1 ₹120000000 दिए हैं संसाधनों में कमी के बाद भी हमारा प्रयास रहा कि पूंजीगत व्यय को तेज करें हम इस वर्ष में करीब 4 दशमलव 3900000 करोड रुपए का खर्च करने वाले हैं हमने यह 2020 21 के लिए संशोधित बजट में प्रावधान किया है वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा कि देश में गेहूं बोने वाले किसानों की संख्या दोगुनी हो गई है यूपीए सरकार की से करीब 3 गुना राशि मोदी सरकार ने किसानों के खाते में पहुंचाई मोदी सरकार की ओर से हर सेक्टर में किसानों की मदद हुई दाल गेहूं धान समेत अन्य पक्षियों की एमएसपी बढ़ाई गई वहीं वित्त मंत्री ने प्रवासी मजदूरों के लिए देश भर में एक देश एक राशन की योजना शुरू की है उन्होंने कहा यह पोर्टल की शुरूआत की जाएगी जिसमें प्रवासी मजदूरों से जुड़ा डाटा होगा वित्त मंत्री ने विधानसभा चुनाव वाले राज्य पश्चिम बंगाल के लिए ढाई हजार करोड़ रुपए की सड़क परियोजनाओं की घोषणा की है सीतारमण ने कहा कि सड़क बुनियादी ढांचा को अवैध और बेहतर बनाने के लिए मार्च 2022 तक 50 से 8500 किलोमीटर सड़क राजमार्ग परियोजनाओं का आवंटन किया जाएगा वित्त मंत्री ने केरल में सड़क राजमार्ग परियोजना परियोजना के लिए 65000 करोड रुपए का आतंक के लिए 342 करोड़ रुपए का आवंटित किए हैं
Savaal yah hai ki sarakaar ne jo bajat paas kiya hai 2021 ka usamen kis tarah kee kamee aapako najar aatee hain to kamiyaan aur kamiyaan to har cheej mein chalatee hee rahatee hain baat kar lete hain ki vitt mantree nirmala seetaaraman ne somavaar ko desh ka aam bajat pesh kiya sarakaar kee taraph se is baar jyaada phokas vaaste buniyaadee dhaanche par kiya gaya jabaki aayakar mein chhoot ko lekar madhyam varg ko kisee bhee tarah kee koee raahat nahin dee gaee hai aur yah ek bahut hee badee kamee hai is bajat mein is vakt dhaee laakh tak kee aay par koee taiks nahin dena padata hai saal 2014 mein bajat pesh karate hue vitt mantree arun jetalee ne taiks mein chhoot kee seema ko do laakh se badhaakar dhaee laakh rupe kiya tha 7 saal baad midil klaas kee taraph se yah ummeed kee ja rahee thee ki se 2:30 se badhaakar teen laakh kar dene kee karane kee lekin midil klaas ko is morche mein kaam hee haath lagee hai jo ki bahut hee bahut badee kam na kya kaamayaabee hai bahut badee kamee hai sarakaar kee is bajat kee yahee nahin aavat mantree nirmala seetaaraman ne petrol par do 2.5 rupe aur deejal par ₹4 ka krshi taiks lagaane ka ailaan kiya hai haalaanki unhonne kaha ki isaka graahakon par koee asar nahin hoga phir bhee bhavishy mein graahakon par isaka prabhaav padane kee aashanka jataee ja rahee hai sarakaar ne desh mein buniyaadee sanrachana ke srjan ke jarie aarthik vrddhi ko gati dene ke lie vitt 2000 21 22 kee poonjeegat vyay ko 34.5% ko badhaakar 5.5 laakh karod rupe karane ka prastaav diya hai chaaloo vitt varsh ke lie poonjeegat vyay ko 4:30 dashamalav 1200000 karod rupe ke bajat anumaan se badhaakar 4.39 karo rupe kar diya gaya hai seetaaraman ne bajat ke bhaashan mein kaha ki 2020 mein poonjeegat vyay tejee tejee se kiya gaya hai hamane poonjeegat vyay ke lie aaj 4.1 ₹120000000 die hain sansaadhanon mein kamee ke baad bhee hamaara prayaas raha ki poonjeegat vyay ko tej karen ham is varsh mein kareeb 4 dashamalav 3900000 karod rupe ka kharch karane vaale hain hamane yah 2020 21 ke lie sanshodhit bajat mein praavadhaan kiya hai vitt mantree seetaaraman ne kaha ki desh mein gehoon bone vaale kisaanon kee sankhya dogunee ho gaee hai yoopeee sarakaar kee se kareeb 3 guna raashi modee sarakaar ne kisaanon ke khaate mein pahunchaee modee sarakaar kee or se har sektar mein kisaanon kee madad huee daal gehoon dhaan samet any pakshiyon kee emesapee badhaee gaee vaheen vitt mantree ne pravaasee majadooron ke lie desh bhar mein ek desh ek raashan kee yojana shuroo kee hai unhonne kaha yah portal kee shurooaat kee jaegee jisamen pravaasee majadooron se juda daata hoga vitt mantree ne vidhaanasabha chunaav vaale raajy pashchim bangaal ke lie dhaee hajaar karod rupe kee sadak pariyojanaon kee ghoshana kee hai seetaaraman ne kaha ki sadak buniyaadee dhaancha ko avaidh aur behatar banaane ke lie maarch 2022 tak 50 se 8500 kilomeetar sadak raajamaarg pariyojanaon ka aavantan kiya jaega vitt mantree ne keral mein sadak raajamaarg pariyojana pariyojana ke lie 65000 karod rupe ka aatank ke lie 342 karod rupe ka aavantit kie hain

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
2:03
सरकार ने जो बजट पास किया है 2021 के रिश्ते में किस तरह की करना नजर आती है मुझे तो उसने कई कमियां नजर आ रही है सरकार का बजट रानी रहा कुछ और शास्त्रों ने बेहतर का लेकिन एक आम आदमी की तौर पर मैं मानता हूं कि निश्चित तौर पर इस कोविड-19 के प्रभाव से हजारों लाखों करोड़ों का इनकम टैक्स का स्लैब में जो परिवर्तन नहीं किया गया थोड़ा सा दुर्भाग्यपूर्ण रहता है दूसरा है कि एफडीआई को सरकार ने अच्छा कदम मैं मानता हूं लेकिन सरकारी नौकरियों में पब्लिक सेक्टर 5 एलएसी है और प्राइवेट सेक्टर की कंपनियों को जो सेल सेल करने का इरादा एफडीआई लाने का है क्या उससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे इसको थोड़ा डाउट हो रहा है जो सबसे क्यूट सर्किल सेक्टर मैंने पैसा दिया है और किस रास्ते से चैट 1 घंटों में जाएगा और इस तरह से उन लोगों को फायदा होगा इसमें भी थोड़ा सा समय मिले और कहीं ना कहीं बजट में भ्रष्टाचार को ध्यान दिया गया है रेलवे हो जाए रोड का हो जाए बस ठीक है इसके बाद और कई प्रोजेक्ट सराहनीय कितने आप जानते हैं आम जनता को तो स्टेट से ज्यादा कुछ बेवकूफ नजर नहीं आया रोजगार के अवसर पर जिस तरह से इंफ्रास्ट्रक्चर पर जोर दिया अगर खुल जाता है और सारी चीजें तो शादी में बेहतर करो फिर भी सरकार ने अपने ढंग से प्रस्तुत किया है लेकिन मैं अभी शुरुआती दौर में मानता हूं कि को 119 की कारण से अभी भी बहुत सारे लोग बेकार बेरोजगार है और रोजगार नहीं हो इसके लिए कुछ अच्छा पता होना चाहिए
Sarakaar ne jo bajat paas kiya hai 2021 ke rishte mein kis tarah kee karana najar aatee hai mujhe to usane kaee kamiyaan najar aa rahee hai sarakaar ka bajat raanee raha kuchh aur shaastron ne behatar ka lekin ek aam aadamee kee taur par main maanata hoon ki nishchit taur par is kovid-19 ke prabhaav se hajaaron laakhon karodon ka inakam taiks ka slaib mein jo parivartan nahin kiya gaya thoda sa durbhaagyapoorn rahata hai doosara hai ki ephadeeaee ko sarakaar ne achchha kadam main maanata hoon lekin sarakaaree naukariyon mein pablik sektar 5 elesee hai aur praivet sektar kee kampaniyon ko jo sel sel karane ka iraada ephadeeaee laane ka hai kya usase rojagaar ke avasar badhenge isako thoda daut ho raha hai jo sabase kyoot sarkil sektar mainne paisa diya hai aur kis raaste se chait 1 ghanton mein jaega aur is tarah se un logon ko phaayada hoga isamen bhee thoda sa samay mile aur kaheen na kaheen bajat mein bhrashtaachaar ko dhyaan diya gaya hai relave ho jae rod ka ho jae bas theek hai isake baad aur kaee projekt saraahaneey kitane aap jaanate hain aam janata ko to stet se jyaada kuchh bevakooph najar nahin aaya rojagaar ke avasar par jis tarah se imphraastrakchar par jor diya agar khul jaata hai aur saaree cheejen to shaadee mein behatar karo phir bhee sarakaar ne apane dhang se prastut kiya hai lekin main abhee shuruaatee daur mein maanata hoon ki ko 119 kee kaaran se abhee bhee bahut saare log bekaar berojagaar hai aur rojagaar nahin ho isake lie kuchh achchha pata hona chaahie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सरकार द्वारा पेश किया हुआ 2021 का बजट,
URL copied to clipboard