#भारत की राजनीति

bolkar speaker

किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?

Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:06
स्पेशल किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा मेरी राशि के लिए सहयोग नहीं मिला क्योंकि ऐसा देखा था कि जब किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रही हो देश के अन्य राज्यों से लोगों के सामने उसका नेतृत्व नहीं करें कहने का मतलब है क्या केवल पंजाब के किसान खेती करते हैं बाकी देश के मध्य जितने भी किसानों के किसान के उनका नाम न्यू बिजनेस थोड़ी ना करते हो अभी किसानी करता हूं कोई प्रॉब्लम नहीं होगी क्योंकि किसानों में ऐसा क्या है क्यों नहीं प्रॉब्लम हो रही है तो जहां तक मेरा विचार है तू मैं भी एक तरह से मतलब मुझे लगता है कि शादी से जारी राजनीतिक षड्यंत्र खेला जा रहा है इसलिए नींद लोग सहयोग नहीं मिल रहा जाता है कि जो पंजाब के किसान ने काफी संपन्न किसान काफी पैसे वाले का पिन के पास प्रॉपर्टी कॉपी एक महंगी गाड़ियां हैं तथा किसान तो है ही है लेकिन एक बहुत बड़े बिजनेसमैन जैसी जिंदगी जीते हैं तो मेरे हिसाब से मतलब है इसलिए नहीं मिलेगा कि आप लोगों की अलग अलग हो सकती है लिखता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Speshal kisaan aandolan ko kisaanon ka sahayog kyon nahin mil raha meree raashi ke lie sahayog nahin mila kyonki aisa dekha tha ki jab kisaan aandolan ka netrtv kar rahee ho desh ke any raajyon se logon ke saamane usaka netrtv nahin karen kahane ka matalab hai kya keval panjaab ke kisaan khetee karate hain baakee desh ke madhy jitane bhee kisaanon ke kisaan ke unaka naam nyoo bijanes thodee na karate ho abhee kisaanee karata hoon koee problam nahin hogee kyonki kisaanon mein aisa kya hai kyon nahin problam ho rahee hai to jahaan tak mera vichaar hai too main bhee ek tarah se matalab mujhe lagata hai ki shaadee se jaaree raajaneetik shadyantr khela ja raha hai isalie neend log sahayog nahin mil raha jaata hai ki jo panjaab ke kisaan ne kaaphee sampann kisaan kaaphee paise vaale ka pin ke paas propartee kopee ek mahangee gaadiyaan hain tatha kisaan to hai hee hai lekin ek bahut bade bijanesamain jaisee jindagee jeete hain to mere hisaab se matalab hai isalie nahin milega ki aap logon kee alag alag ho sakatee hai likhata hoon savaal ka javaab achchha laga hoga dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है यह बात सही है कि किसान आंदोलन को सभी किसानों का सहयोग नहीं मिल रहा है एक बात की शुरुआत पंजाब और हरियाणा से वहीं पर दिल्ली में आंदोलन चल रहा है और दूर के जो राज्य है वहां पर लोगों सारी पार्टियों ने और किसान संगठनों ने इसका विरोध किया है यह आपके जो लोकल मीडिया है वहां पर वह सब चीजें अरे लेकिन सर सारे किसान जो है वह दिल्ली तक नहीं पहुंच रहे हैं लेकिन मेंस्ट्रीमिंग मिलिया सोशल मीडिया और दूसरा जन्म लिया है इनमें से इनमें एक ही नारा दिखाई देता है कि बिल वापस लो इनमें से एक चीज ऐसी है कि जिस दिन राज्य में बीजेपी का राज्य है वहां पर किसानों का आंदोलन बीजेपी पर नहीं जाना चाहिए उल्टा इस आंदोलन को लोगों में खनिज खालिस्तानी उनका आंदोलन बताने की कोशिश कर रहे हैं तो बाकी सारे की शादी हुई हु इस बिल के प्रावधानों को छोड़कर नखलिस्तान वाले कोई चीज है इस तरीके से सोचने लगे वीडियो क्लिक करना और जो हंगामा लाल किले पर हुआ उसके साथ मिलकर फिर से बहुत सारी किसानों को कि कानून क्या है मालूम ही नहीं है क्योंकि यह की एक वीडियो है बहुत जल्दबाजी में हमेशा की तरह लाए गए हैं इसमें राष्ट्रीय बहस नहीं की हुई है नहीं तो हर क्षेत्र के किसानों के प्रति तुझे यहां पर आ जाओ लेकिन इन दिनों में जॉब बहुत सी चीज ऐसी है कि किसान जो है कहीं भी भेज सकता है तो उसका ऐसा कई किसानों को लगता है कि जहां रेट ज्यादा है वहां हम भेजते हैं और ज्यादा पैसे कमा सकते हैं कई लोगों को यह लगता है कि मंडी में जो बिजनेस उनसे छुटकारा पाया जा सकता है लेकिन कारपोरेट खेती की पूरी जानकारी इन किसानों को नहीं है जब कंपनियां एस्टीमेट वेस्ट करेगी तू पहले से ठीक पहले से तो बहुत अच्छा है एक माहौल बनाइए लेकिन बाद में किचन के हाथ में डिसीजन मेकिंग का पावर नहीं रह जाएगा अपनी किस्मत कनेक्शन नहीं जानते कानपुर कंपनी आएंगे तो सिर्फ प्रॉफिट नजर में देख कर उस तरीके से प्लानिंग करें और हमेशा की तरह लोकल गुंडे जो है हमको किसी ना किसी तरह की कॉन्ट्रैक्ट ज्योति है वह माफिया ऐसे माफियाओं से वहां पर ऋषभ फैला दिया हुआ है हमारी एमआईडीसी इसी तरीके से चली कम कीमतों में जमीनी हुई किसी को नौकरी मिली किसी ने पेट में मिला हुआ पैसा खर्च उसी कंपनी में जमीनों की मारामारी किधर के सिक्योरिटी गार्ड का सफाई का काम करते हैं वैसे सब की बातें हैं न बनने के कारण
Kisaan aandolan ko kisaanon ka sahayog kyon nahin mil raha hai yah baat sahee hai ki kisaan aandolan ko sabhee kisaanon ka sahayog nahin mil raha hai ek baat kee shuruaat panjaab aur hariyaana se vaheen par dillee mein aandolan chal raha hai aur door ke jo raajy hai vahaan par logon saaree paartiyon ne aur kisaan sangathanon ne isaka virodh kiya hai yah aapake jo lokal meediya hai vahaan par vah sab cheejen are lekin sar saare kisaan jo hai vah dillee tak nahin pahunch rahe hain lekin menstreeming miliya soshal meediya aur doosara janm liya hai inamen se inamen ek hee naara dikhaee deta hai ki bil vaapas lo inamen se ek cheej aisee hai ki jis din raajy mein beejepee ka raajy hai vahaan par kisaanon ka aandolan beejepee par nahin jaana chaahie ulta is aandolan ko logon mein khanij khaalistaanee unaka aandolan bataane kee koshish kar rahe hain to baakee saare kee shaadee huee hu is bil ke praavadhaanon ko chhodakar nakhalistaan vaale koee cheej hai is tareeke se sochane lage veediyo klik karana aur jo hangaama laal kile par hua usake saath milakar phir se bahut saaree kisaanon ko ki kaanoon kya hai maaloom hee nahin hai kyonki yah kee ek veediyo hai bahut jaldabaajee mein hamesha kee tarah lae gae hain isamen raashtreey bahas nahin kee huee hai nahin to har kshetr ke kisaanon ke prati tujhe yahaan par aa jao lekin in dinon mein job bahut see cheej aisee hai ki kisaan jo hai kaheen bhee bhej sakata hai to usaka aisa kaee kisaanon ko lagata hai ki jahaan ret jyaada hai vahaan ham bhejate hain aur jyaada paise kama sakate hain kaee logon ko yah lagata hai ki mandee mein jo bijanes unase chhutakaara paaya ja sakata hai lekin kaaraporet khetee kee pooree jaanakaaree in kisaanon ko nahin hai jab kampaniyaan esteemet vest karegee too pahale se theek pahale se to bahut achchha hai ek maahaul banaie lekin baad mein kichan ke haath mein diseejan meking ka paavar nahin rah jaega apanee kismat kanekshan nahin jaanate kaanapur kampanee aaenge to sirph prophit najar mein dekh kar us tareeke se plaaning karen aur hamesha kee tarah lokal gunde jo hai hamako kisee na kisee tarah kee kontraikt jyoti hai vah maaphiya aise maaphiyaon se vahaan par rshabh phaila diya hua hai hamaaree emaeedeesee isee tareeke se chalee kam keematon mein jameenee huee kisee ko naukaree milee kisee ne pet mein mila hua paisa kharch usee kampanee mein jameenon kee maaraamaaree kidhar ke sikyoritee gaard ka saphaee ka kaam karate hain vaise sab kee baaten hain na banane ke kaaran

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:46
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिलना पाठ में किसान आंदोलन को किसानों का भरपूर सहयोग है लेकिन सरकार की हट नीच और सरकार का किसानों के प्रति निराधार और अपमानजनक जो आचरण और व्यवहार है इस बात का प्रतीक है किसान आंदोलन को सरकार को चुनने के लिए मजबूर है जो कि सरकार ने सड़कों पीले दांत लगवाने की शादी है को रोको 6 के दरवाजों से सील कर दिए गए ताकि किसान आंदोलन आगे ना बोले कि यह सरकार की कमजोरी है ना कि किसानों का डांस होना किसान की ताकत सरकार को पता लग चुकी है सरकार किसी भी आंदोलन को अगर पूछना चाहती है तो अपनी नुमाइंदों को उस आंदोलन में फिट कर उस आंदोलन को सेंड सा करो दिला देती है जिससे क्यूट आंदोलन को तोड़ने में सरकार को कामयाबी मरते थे लेकिन इस बार ऐसा संभव नहीं हुआ क्योंकि इस सरकार कई बार चाहे वह एनआरसी से रिलेटेड टो सीए से रिलेटेड टो ए साइन बाग से रिलेटेड हर आंदोलन को सरकार ने अपनी नुमाइंदों या अपने कार्यकर्ताओं से उस में हिंसा की सूची बनाकर उसे कुचलने की कोशिश की है यह कहना कि किसानों को आज सहयोग नहीं मिलना यह उचित पूर्ण नहीं है
Kisaan aandolan ko kisaanon ka sahayog kyon nahin milana paath mein kisaan aandolan ko kisaanon ka bharapoor sahayog hai lekin sarakaar kee hat neech aur sarakaar ka kisaanon ke prati niraadhaar aur apamaanajanak jo aacharan aur vyavahaar hai is baat ka prateek hai kisaan aandolan ko sarakaar ko chunane ke lie majaboor hai jo ki sarakaar ne sadakon peele daant lagavaane kee shaadee hai ko roko 6 ke daravaajon se seel kar die gae taaki kisaan aandolan aage na bole ki yah sarakaar kee kamajoree hai na ki kisaanon ka daans hona kisaan kee taakat sarakaar ko pata lag chukee hai sarakaar kisee bhee aandolan ko agar poochhana chaahatee hai to apanee numaindon ko us aandolan mein phit kar us aandolan ko send sa karo dila detee hai jisase kyoot aandolan ko todane mein sarakaar ko kaamayaabee marate the lekin is baar aisa sambhav nahin hua kyonki is sarakaar kaee baar chaahe vah enaarasee se rileted to seee se rileted to e sain baag se rileted har aandolan ko sarakaar ne apanee numaindon ya apane kaaryakartaon se us mein hinsa kee soochee banaakar use kuchalane kee koshish kee hai yah kahana ki kisaanon ko aaj sahayog nahin milana yah uchit poorn nahin hai

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:48
सवाल है किसान आंदोलन में किसानों को सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है देखिए किसान आंदोलन एजुकेशन में आंदोलन में सम्मिलित हैं उनको सही हो जो है वो इसलिए नहीं मिल पा रहा है क्योंकि मैं स्पष्ट रूप से सरकार से नहीं मांग रहे हैं एग्जाम आ गए हैं और दूसरी तरफ ही है जो किसान लोग हैं वह निर्धारित हैं और कुछ ही लोग जो है वही इस आंदोलन में सम्मिलित हैं और वो अपनी मांगों को सरकार कर रही है मांग कर रहे थे कि उन्हें किसी का सहयोग नहीं मिल पा रहा है बस कुछ ही लोग एकत्रित होकर इस में लगे हुए हैं
Savaal hai kisaan aandolan mein kisaanon ko sahayog kyon nahin mil raha hai dekhie kisaan aandolan ejukeshan mein aandolan mein sammilit hain unako sahee ho jo hai vo isalie nahin mil pa raha hai kyonki main spasht roop se sarakaar se nahin maang rahe hain egjaam aa gae hain aur doosaree taraph hee hai jo kisaan log hain vah nirdhaarit hain aur kuchh hee log jo hai vahee is aandolan mein sammilit hain aur vo apanee maangon ko sarakaar kar rahee hai maang kar rahe the ki unhen kisee ka sahayog nahin mil pa raha hai bas kuchh hee log ekatrit hokar is mein lage hue hain

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:02
आपका सवाल है किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है तो दोस्तों आपके सवाल का एक प्रकार से किसान आंदोलन को किसानों का पूरा सहयोग मिल रहा है क्योंकि यह आम इंसान का क्योंकि हमारे देश के प्रत्येक किसान को इन तीन काले कानूनों से नुकसान होगा इसलिए हमारे देश के प्रत्येक अन्नदाता किसान आंदोलन से जुड़ा हुआ है जो गांव में में भी किसान किसान आंदोलन का पूर्ण करें और अपने हक की लड़ाई को लड़ रहे हैं इसलिए किसानों आंदोलन को किसानों का पूरा सहयोग और समर्थन है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Aapaka savaal hai kisaan aandolan ko kisaanon ka sahayog kyon nahin mil raha hai to doston aapake savaal ka ek prakaar se kisaan aandolan ko kisaanon ka poora sahayog mil raha hai kyonki yah aam insaan ka kyonki hamaare desh ke pratyek kisaan ko in teen kaale kaanoonon se nukasaan hoga isalie hamaare desh ke pratyek annadaata kisaan aandolan se juda hua hai jo gaanv mein mein bhee kisaan kisaan aandolan ka poorn karen aur apane hak kee ladaee ko lad rahe hain isalie kisaanon aandolan ko kisaanon ka poora sahayog aur samarthan hai dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक:
1:32
नमस्कार मित्र आप ने प्रश्न किया है किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है मित्र किसान पहले जब किसान आंदोलन चल रहा था तब किसानों को लगातार इसकी मदद मिल रही थी सहयोग मिल रहा था समर्थन मिल रहा था परंतु अब जब 26 जनवरी के बाद किसानों ने लाल किले पर जाकर के जो तिरंगे का अपमान किया है इसके बाद से अब लोगों में जो किसानों के प्रति सहानुभूति थी वह खत्म हो गई है इसलिए इस आंदोलन के प्रति लोगों की जो भावनाएं पहले देगी किसानों को उनके जो समस्या है उसे दूर कर दी जाए लोग पहले यह चाहते थे अब यह चाहते हैं किन को यहां से हटा दिया जाए चाहे एमएसपी बिल जो है वह पास हो या नहीं हो वह आगे रहे नहीं रहे वह जनता को मतलब नहीं है अब वह यह चाहते हैं कि केवल आंदोलन को खत्म कैसे भी कर दिया जाए क्योंकि यह तिरंगे का अपमान किया गया है किसानों के द्वारा वह अब यहां की जनता स्वीकार नहीं कर रही है इसीलिए ऐसे इसी के कारण जो है किसान आंदोलन को लेकर आप किसानों को कोई भी जनता समर्थन नहीं कर रही है केवल जो विपक्षी दल है वही समर्थन कर रहे हैं और उनका भी एक एक ही मकसद है कि इसे आंदोलन के साथ में वह मोदी सरकार को भी गिरा सके धन्यवाद
Namaskaar mitr aap ne prashn kiya hai kisaan aandolan ko kisaanon ka sahayog kyon nahin mil raha hai mitr kisaan pahale jab kisaan aandolan chal raha tha tab kisaanon ko lagaataar isakee madad mil rahee thee sahayog mil raha tha samarthan mil raha tha parantu ab jab 26 janavaree ke baad kisaanon ne laal kile par jaakar ke jo tirange ka apamaan kiya hai isake baad se ab logon mein jo kisaanon ke prati sahaanubhooti thee vah khatm ho gaee hai isalie is aandolan ke prati logon kee jo bhaavanaen pahale degee kisaanon ko unake jo samasya hai use door kar dee jae log pahale yah chaahate the ab yah chaahate hain kin ko yahaan se hata diya jae chaahe emesapee bil jo hai vah paas ho ya nahin ho vah aage rahe nahin rahe vah janata ko matalab nahin hai ab vah yah chaahate hain ki keval aandolan ko khatm kaise bhee kar diya jae kyonki yah tirange ka apamaan kiya gaya hai kisaanon ke dvaara vah ab yahaan kee janata sveekaar nahin kar rahee hai iseelie aise isee ke kaaran jo hai kisaan aandolan ko lekar aap kisaanon ko koee bhee janata samarthan nahin kar rahee hai keval jo vipakshee dal hai vahee samarthan kar rahe hain aur unaka bhee ek ek hee makasad hai ki ise aandolan ke saath mein vah modee sarakaar ko bhee gira sake dhanyavaad

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:55
आरा का प्रश्न किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है तो आपको बता देते कि यहां पर जो किसान जो धरने पर बैठे हुए हैं एक तो वह एक वर्ग विशेष के हैं समुदाय विशेष के भी हैं और साथ ही साथ यहां पर जो किसान हैं वह वह किसान है जो कि संबंध किसानों में आते हैं आपने का फोटोग्राफ्स भी देखी होंगी तो उनके पास एवं मर्सिडीज़ तक की गाड़ियां फॉर्च्यूनर गाड़ियों में घूम रहे हैं वह सब है तो संपन्न किसानों में आते हैं उनको सही में इस किसान बिल से नुकसान ही होने वाला है उनको फायदा नहीं मिलेगा जो आम किसान जो है उनको ही इस किसान बिल का फायदा मिलेगा इसलिए वह लोग यहां पर प्रदर्शन भी कर रहे हैं आपकी क्या राय है इस बारे में कमेंट सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Aara ka prashn kisaan aandolan ko kisaanon ka sahayog kyon nahin mil raha hai to aapako bata dete ki yahaan par jo kisaan jo dharane par baithe hue hain ek to vah ek varg vishesh ke hain samudaay vishesh ke bhee hain aur saath hee saath yahaan par jo kisaan hain vah vah kisaan hai jo ki sambandh kisaanon mein aate hain aapane ka photograaphs bhee dekhee hongee to unake paas evan marsideez tak kee gaadiyaan phorchyoonar gaadiyon mein ghoom rahe hain vah sab hai to sampann kisaanon mein aate hain unako sahee mein is kisaan bil se nukasaan hee hone vaala hai unako phaayada nahin milega jo aam kisaan jo hai unako hee is kisaan bil ka phaayada milega isalie vah log yahaan par pradarshan bhee kar rahe hain aapakee kya raay hai is baare mein kament sekshan apanee raay jarur vyakt karen meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
4:02
सवाल ये है कि किसान आंदोलन को किसानों को ही सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है डेढ़ डेढ़ महीने से भी ज्यादा समय से पंजाब में आंदोलन कर रहे किसान नेताओं ने दावा किया है कि 5 नवंबर को दो-दो हर 200 किसान संगठन राष्ट्रव्यापी बंद का आयोजन करेंगे लेकिन यह चक्का जाम से पंजाब तक ही सीमित रहा कुल मिलाकर आप सर पंजाब के किसान संगठन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं बाकी राज्यों में या तो नाममात्र के प्रदर्शन में या फिर थम गए शुरुआत में हरियाणा की कृषक संगठन पंजाब के संगठनों के पक्ष में आए थे और कई जगह पर लाठीचार्ज और धरने प्रदर्शन आयोजित हुए लेकिन बाद में सब शांत हो गया इस किसान किसान संगठनों के मुताबिक है हरियाणा में आयोजित किए जा रहे धरने प्रदर्शन तक कांग्रेस समर्थित थे जिसे बाद में ज्यादा समर्थन नहीं मिला किसान आंदोलन को आम के कानों से ज्यादा समर्थन इसलिए भी नहीं मिला क्योंकि आम किसानों को अपनी फसल बेचने उस पर मिलने वाले एमएसपी और सरकारी खरीद की सुविधा बराबर मिलती रहे और उसमें कोई रुकावट पैदा नहीं हुई पंजाब में 30 के लगभग कृषि संगठन केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ लामबंद है लेकिन अभी प्रदर्शन अब अलग-अलग पड़ता दिखाई दे रहा है दरअसल पंजाब में किसान संगठनों के दो धड़े हैं एक धड़ा जो वामपंथी है सालों से ताल्लुक रखता है और दूसरे के किसान संगठन या तो स्वतंत्र है या फिर किसी ना किसी राजनीतिक पार्टी से ताल्लुक रखते हैं वामपंथी दलों से संबंध रखने वाले निशान संगठन अपने धरने प्रदर्शन जारी रखना चाहते हैं जबकि दूसरे संगठन संगठन अपनी मांगे मनवा कर वापस खेती में लौटना चाहते हैं पंजाब में क्योंकि गेहूं और दूसरी फसल की बुवाई का काम शुरू हो गया है प्लीज किसान अब घरों को लौट गए हैं जो किसान की संगठन जगह-जगह विरोध कर रहे हैं उनके पास प्रदर्शनकारियों की ज्यादा संख्या नहीं है कई जगह पर तो सरकार प्रदर्शनकारियों की संख्या को एक दर्जन या उससे भी कम है किसान नेता सुखदेव सिंह का मानना है कि देश के लगभग 400 किसान संगठन केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ लामबंद है कुकरी ने बताया कि 26 और 27 नवंबर को दिल्ली में आयोजित किए जा रहे हैं विरोध प्रदर्शन में लगभग 400 किसान संगठन हिस्सा लेंगे उधर इस मसले पर जब भारतीय जनता पार्टी के नेता मनीष जोशी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि पंजाब छोड़कर देश के किसी भी दूसरे से में प्रदर्शन नहीं हो रहे हैं क्योंकि पंजाब में हो रहे प्रदर्शनों की बुनियाद झूठ और अफवाह पर टिकी है क्योंकि ना तो केंद्र सरकार ने एमएससी वापस लिया है और ना ही खाद्यान्न की सरकारी खरीद बंद कि पिछले महीने के दौरान पंजाब कार पंजाब के उद्योगों और केंद्र सरकार को हजारों करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है अब तक 1986 यात्री और 3090 माल गाड़ियां रद्द की गई है आंदोलनकारी किसान पटरियों और रेलवे स्टेशनों पर डटे हुए हैं पहले से ही राजस्व घाटा झेल रही पंजाब सरकार अब एक और आर्थिक संकट से गुजर रही है माल गाड़ी है ठप हो जाने से किसानों को यूरिया और दूसरे विमानों की आपूर्ति नहीं हो पा रही है इन सब से साफ है कि और कृषि कानूनों के खिलाफ खेड़ा गया किसान आंदोलन पंजाब तक ही सीमित होकर रह गया है और अलग-थलग पड़ा है और किसान संगठन आंदोलन को लेकर न केवल भ्रम में था बल्कि बैठे हुए भी और 26 जनवरी को झंडा फेंककर भारतीय तिरंगा लेकर जो किसानों ने शर्मनाक काम किया है इससे तो किसान आंदोलन और ही और भी कमजोर हो गया है
Savaal ye hai ki kisaan aandolan ko kisaanon ko hee sahayog kyon nahin mil raha hai dedh dedh maheene se bhee jyaada samay se panjaab mein aandolan kar rahe kisaan netaon ne daava kiya hai ki 5 navambar ko do-do har 200 kisaan sangathan raashtravyaapee band ka aayojan karenge lekin yah chakka jaam se panjaab tak hee seemit raha kul milaakar aap sar panjaab ke kisaan sangathan nae krshi kaanoonon ke khilaaph pradarshan kar rahe hain baakee raajyon mein ya to naamamaatr ke pradarshan mein ya phir tham gae shuruaat mein hariyaana kee krshak sangathan panjaab ke sangathanon ke paksh mein aae the aur kaee jagah par laatheechaarj aur dharane pradarshan aayojit hue lekin baad mein sab shaant ho gaya is kisaan kisaan sangathanon ke mutaabik hai hariyaana mein aayojit kie ja rahe dharane pradarshan tak kaangres samarthit the jise baad mein jyaada samarthan nahin mila kisaan aandolan ko aam ke kaanon se jyaada samarthan isalie bhee nahin mila kyonki aam kisaanon ko apanee phasal bechane us par milane vaale emesapee aur sarakaaree khareed kee suvidha baraabar milatee rahe aur usamen koee rukaavat paida nahin huee panjaab mein 30 ke lagabhag krshi sangathan kendr ke teen krshi kaanoonon ke khilaaph laamaband hai lekin abhee pradarshan ab alag-alag padata dikhaee de raha hai darasal panjaab mein kisaan sangathanon ke do dhade hain ek dhada jo vaamapanthee hai saalon se taalluk rakhata hai aur doosare ke kisaan sangathan ya to svatantr hai ya phir kisee na kisee raajaneetik paartee se taalluk rakhate hain vaamapanthee dalon se sambandh rakhane vaale nishaan sangathan apane dharane pradarshan jaaree rakhana chaahate hain jabaki doosare sangathan sangathan apanee maange manava kar vaapas khetee mein lautana chaahate hain panjaab mein kyonki gehoon aur doosaree phasal kee buvaee ka kaam shuroo ho gaya hai pleej kisaan ab gharon ko laut gae hain jo kisaan kee sangathan jagah-jagah virodh kar rahe hain unake paas pradarshanakaariyon kee jyaada sankhya nahin hai kaee jagah par to sarakaar pradarshanakaariyon kee sankhya ko ek darjan ya usase bhee kam hai kisaan neta sukhadev sinh ka maanana hai ki desh ke lagabhag 400 kisaan sangathan kendr ke krshi kaanoonon ke khilaaph laamaband hai kukaree ne bataaya ki 26 aur 27 navambar ko dillee mein aayojit kie ja rahe hain virodh pradarshan mein lagabhag 400 kisaan sangathan hissa lenge udhar is masale par jab bhaarateey janata paartee ke neta maneesh joshee se baat kee gaee to unhonne kaha ki panjaab chhodakar desh ke kisee bhee doosare se mein pradarshan nahin ho rahe hain kyonki panjaab mein ho rahe pradarshanon kee buniyaad jhooth aur aphavaah par tikee hai kyonki na to kendr sarakaar ne emesasee vaapas liya hai aur na hee khaadyaann kee sarakaaree khareed band ki pichhale maheene ke dauraan panjaab kaar panjaab ke udyogon aur kendr sarakaar ko hajaaron karod rupe ka nukasaan ho chuka hai ab tak 1986 yaatree aur 3090 maal gaadiyaan radd kee gaee hai aandolanakaaree kisaan patariyon aur relave steshanon par date hue hain pahale se hee raajasv ghaata jhel rahee panjaab sarakaar ab ek aur aarthik sankat se gujar rahee hai maal gaadee hai thap ho jaane se kisaanon ko yooriya aur doosare vimaanon kee aapoorti nahin ho pa rahee hai in sab se saaph hai ki aur krshi kaanoonon ke khilaaph kheda gaya kisaan aandolan panjaab tak hee seemit hokar rah gaya hai aur alag-thalag pada hai aur kisaan sangathan aandolan ko lekar na keval bhram mein tha balki baithe hue bhee aur 26 janavaree ko jhanda phenkakar bhaarateey tiranga lekar jo kisaanon ne sharmanaak kaam kiya hai isase to kisaan aandolan aur hee aur bhee kamajor ho gaya hai

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:09
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है यह धीरे-धीरे छोटी बातें थी लेकिन अब उग्र हो रही है अब देख रहे हैं किस तरह की बैरियर सरकार के द्वारा और पुलिस प्रशासन के द्वारा लगाए जा रहे हैं जो आप सोच नहीं सकते मतलब तू किसी देश का बॉर्डर होता है लेकिन आपकी ही देश के अंदर ऐसी बैरियर लगाया जा रहे हैं ऐसे इन इंडिकेशन लगाया जा रहा है कि जो दुश्मन के लिए लगाए जाते हैं जैसे क्या होता है फेंसिंग लगाना या अब कांटेदार तार बिछाना या तो फिर कीली बिछाना बहुत सारी ऐसी चीजें हैं कि बड़े-बड़े पत्थर लगाना या सड़क खोद देना सड़क खुद की उस में किल्ली डाल देना इस सूची की किसानों किसान किसान के आंदोलन से डरते हुए हैं डर रहे हैं लोग देखा जाए तो इस सरकार जबरदस्ती अपना काम करना चाहती हो और इस पर सोच रही मैं अपने हिसाब से बहुत कुछ अच्छा कर रहा हूं लेकिन गलत है क्योंकि मुझे लगता है कि धीरे-धीरे आंदोलन बहुत उग्र रूप ले है और आने वाले समय में इस आंदोलन के द्वारा देश में इतिहास लिखा जाएगा और इतिहास वही होगा जो आने वाली पीढ़ियां पड़ेगी मुझे ऐसा हंड्रेड परसेंट प्रतीत होता है लेकिन सरकार आज भी 7072 दिन हो गए लेकिन सरकार आज भी अपने किसानों से कुछ भी वार्ता नहीं की बस खाली अपने ही जो कृषि कानूनी उसी की बस बढ़ाया करते आ रही है जहां तक की बस केवल किसानों को प्रताड़ित प्रताड़ित किया जा रहा है ना कि किसानों की सुनी जा रहा है और सबसे बड़ी बात है मुझे लगता है कि सरकार और पुलिस प्रशासन किसान आंदोलन से पूरी तरह से डर गई है इसी वजह से क्या कर रही है कि अब वे रियली बहुत ज्यादा कुछ डिवाइडर लगा रही है और मैं आपको बता दूं कि किसान आंदोलन धीरे-धीरे को ग्रुप से और बढ़ती हुई तादाद में दिल्ली की तरफ कूच करने वाला है
Kisaan aandolan ko kisaanon ka sahayog kyon nahin mil raha hai yah dheere-dheere chhotee baaten thee lekin ab ugr ho rahee hai ab dekh rahe hain kis tarah kee bairiyar sarakaar ke dvaara aur pulis prashaasan ke dvaara lagae ja rahe hain jo aap soch nahin sakate matalab too kisee desh ka bordar hota hai lekin aapakee hee desh ke andar aisee bairiyar lagaaya ja rahe hain aise in indikeshan lagaaya ja raha hai ki jo dushman ke lie lagae jaate hain jaise kya hota hai phensing lagaana ya ab kaantedaar taar bichhaana ya to phir keelee bichhaana bahut saaree aisee cheejen hain ki bade-bade patthar lagaana ya sadak khod dena sadak khud kee us mein killee daal dena is soochee kee kisaanon kisaan kisaan ke aandolan se darate hue hain dar rahe hain log dekha jae to is sarakaar jabaradastee apana kaam karana chaahatee ho aur is par soch rahee main apane hisaab se bahut kuchh achchha kar raha hoon lekin galat hai kyonki mujhe lagata hai ki dheere-dheere aandolan bahut ugr roop le hai aur aane vaale samay mein is aandolan ke dvaara desh mein itihaas likha jaega aur itihaas vahee hoga jo aane vaalee peedhiyaan padegee mujhe aisa handred parasent prateet hota hai lekin sarakaar aaj bhee 7072 din ho gae lekin sarakaar aaj bhee apane kisaanon se kuchh bhee vaarta nahin kee bas khaalee apane hee jo krshi kaanoonee usee kee bas badhaaya karate aa rahee hai jahaan tak kee bas keval kisaanon ko prataadit prataadit kiya ja raha hai na ki kisaanon kee sunee ja raha hai aur sabase badee baat hai mujhe lagata hai ki sarakaar aur pulis prashaasan kisaan aandolan se pooree tarah se dar gaee hai isee vajah se kya kar rahee hai ki ab ve riyalee bahut jyaada kuchh divaidar laga rahee hai aur main aapako bata doon ki kisaan aandolan dheere-dheere ko grup se aur badhatee huee taadaad mein dillee kee taraph kooch karane vaala hai

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
vk yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vk जी का जवाब
Student
1:01
दोस्तों राम राम दोस्तों मेरा सभी को बड़े भाइयों बहनों को राम राम मेरे बोल आपको अच्छी लगे मेरा चैनल अच्छा लगे यह मेरी बात अच्छी लगे तो प्लीज मुझे फॉलो कीजिए शेयर कीजिए लाइक कीजिए कमेंट कीजिए तो ज्यादा ज्यादा प्लीज सहयोग कीजिए मेरा पूरा चली आई है तो देखते इनका प्रश्न किया है किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है ऐसा नहीं है कि से किसान आंदोलन को किसानों को नहीं मिल रहा है दूसरे राज्य पंजाब के किसानों को सटी सीमा से खूब जोर शोर से आंदोलन कर रहे हैं अदर राज्य के किसानों को भी आंदोलन कर रहे हो जिला लेवल अपने शहर लेवल पर कर रहे लेकिन वहां पर पाबंदी ज्यादा से ज्यादा कर दी तो गांव से बुझाने में प्रॉब्लम होती है सबसे बड़ी बात यह है ऐसा नहीं है कि सहयोग नहीं कर रहे सारे किसान मिलकर सहयोग कर रहे हैं और फेसबुक और सारे इंटरनेट माध्यम से सभी लोग किसानों का ही प्रयोग कर रहे हैं फैशन
Doston raam raam doston mera sabhee ko bade bhaiyon bahanon ko raam raam mere bol aapako achchhee lage mera chainal achchha lage yah meree baat achchhee lage to pleej mujhe pholo keejie sheyar keejie laik keejie kament keejie to jyaada jyaada pleej sahayog keejie mera poora chalee aaee hai to dekhate inaka prashn kiya hai kisaan aandolan ko kisaanon ka sahayog kyon nahin mil raha hai aisa nahin hai ki se kisaan aandolan ko kisaanon ko nahin mil raha hai doosare raajy panjaab ke kisaanon ko satee seema se khoob jor shor se aandolan kar rahe hain adar raajy ke kisaanon ko bhee aandolan kar rahe ho jila leval apane shahar leval par kar rahe lekin vahaan par paabandee jyaada se jyaada kar dee to gaanv se bujhaane mein problam hotee hai sabase badee baat yah hai aisa nahin hai ki sahayog nahin kar rahe saare kisaan milakar sahayog kar rahe hain aur phesabuk aur saare intaranet maadhyam se sabhee log kisaanon ka hee prayog kar rahe hain phaishan

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
Akash Chaudhary  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Akash जी का जवाब
Motivational speaker
2:21
नमस्कार आपको सवाल है कि किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि आज के समय में किसान इतना फ्री नहीं है कि वह बकवास की जगह जाएगा और किसान आंदोलन करेगा क्योंकि किसान खुद इस टाइम फ्री नहीं है किसान के गांव में अगर कोई दावत होती है कोई फंक्शन होता है तो किसान वहां भी नहीं जा पाता क्योंकि उसे फ़िक्र होती है कि पानी कौन करेगा मेरी फसल को और मेरी फसल काटेगा को तो मुझे जो बॉर्डर पर बैठे हैं यह अराजक तत्व है जो भारतीय राजनीति में एक धब्बा बन चुके हैं सभी राजनीतिक दल यहां रोटियां सेकने आ रहे हैं गरम चुनाव में मिल रहा है तो यह सब हो रहा है किसान आंदोलन एक तरह से पूरी तरह से फंडिंग के पीछे डिपेंडेंट है मैं सीधा बोलता हूं मैं नहीं डरता क्योंकि मैं इस देश का नागरिक हूं और मुझे अपनी बात रखने का हक है किसान को इतनी फुर्सत नहीं है कि वह अपनी बेटी को जाकर ससुराल से अपने घर ले आए वास्तव में मैं इसके लिए स्पेशल टाइम निकालते लोग तो धरने में क्यों जाएंगे भाई इस टाइम आप देखिए जनवरी फरवरी-मार्च और अप्रैल तक गन्ना मिल का सीजन होता है और किसान गन्ने की छिलाई करता है और गंदी को मेल पर पहुंचाता है तो किसान इतना फ्री नहीं होता कि सांझा के धरने पर बैठे गा और पंजाब के किसान है भाई धान काट कर उस को तूने खाली छोड़ रखे वहां पर खेत उनके बड़े-बड़े फॉर्म हैं वहां उनके काम करते हैं किसान छोटे-छोटे दो यह तो भाई कांग्रेसका वहां पर शासन है कांग्रेस पूरी तरह से सहयोग कर रही है रात एक बयान जारी हुआ भाई सुन रहा था कि पंजाब सरकार मदद करेगी दंगाइयों की मतलब वकीलों की टीमें बनाई जाएंगी जो किसानों का सहयोग करेंगे किसानों का केस लड़ेंगे और जो कि किसान लड़ते हो सही कह रहे हो भाई वह किताब नहीं है जो अभी तक वामपंथी थे धन्यवाद अगर आपको मेरा जवाब अच्छा लगा हो तो लाइक और सब्सक्राइब जरूर करें
Namaskaar aapako savaal hai ki kisaan aandolan ko kisaanon ka sahayog kyon nahin mil raha hai to main aapako bataana chaahoonga ki aaj ke samay mein kisaan itana phree nahin hai ki vah bakavaas kee jagah jaega aur kisaan aandolan karega kyonki kisaan khud is taim phree nahin hai kisaan ke gaanv mein agar koee daavat hotee hai koee phankshan hota hai to kisaan vahaan bhee nahin ja paata kyonki use fikr hotee hai ki paanee kaun karega meree phasal ko aur meree phasal kaatega ko to mujhe jo bordar par baithe hain yah araajak tatv hai jo bhaarateey raajaneeti mein ek dhabba ban chuke hain sabhee raajaneetik dal yahaan rotiyaan sekane aa rahe hain garam chunaav mein mil raha hai to yah sab ho raha hai kisaan aandolan ek tarah se pooree tarah se phanding ke peechhe dipendent hai main seedha bolata hoon main nahin darata kyonki main is desh ka naagarik hoon aur mujhe apanee baat rakhane ka hak hai kisaan ko itanee phursat nahin hai ki vah apanee betee ko jaakar sasuraal se apane ghar le aae vaastav mein main isake lie speshal taim nikaalate log to dharane mein kyon jaenge bhaee is taim aap dekhie janavaree pharavaree-maarch aur aprail tak ganna mil ka seejan hota hai aur kisaan ganne kee chhilaee karata hai aur gandee ko mel par pahunchaata hai to kisaan itana phree nahin hota ki saanjha ke dharane par baithe ga aur panjaab ke kisaan hai bhaee dhaan kaat kar us ko toone khaalee chhod rakhe vahaan par khet unake bade-bade phorm hain vahaan unake kaam karate hain kisaan chhote-chhote do yah to bhaee kaangresaka vahaan par shaasan hai kaangres pooree tarah se sahayog kar rahee hai raat ek bayaan jaaree hua bhaee sun raha tha ki panjaab sarakaar madad karegee dangaiyon kee matalab vakeelon kee teemen banaee jaengee jo kisaanon ka sahayog karenge kisaanon ka kes ladenge aur jo ki kisaan ladate ho sahee kah rahe ho bhaee vah kitaab nahin hai jo abhee tak vaamapanthee the dhanyavaad agar aapako mera javaab achchha laga ho to laik aur sabsakraib jaroor karen

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:41
जी लाल किले में जब यह एक ऐसा ऐसी घटनाएं हो गई तो ऐसा लग रहा था कि किसान आंदोलन में फेल हो जाएगा लेकिन दो-तीन दिन बाद जब राकेश टिकैत के द्वारा फिर से अपील की गई और उन्होंने यह कहा कि नहीं भाई हम हम सरकार को झुकाना नहीं चाहते हैं लेकिन हम किसानों को भी अपनी बात कहना चाहते हो सीधे प्रधानमंत्री से दो टूक बात करके उन तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने की बात कर रहे हैं लेकिन सरकार अपने स्वाभिमान पर आई हुई है और किसानों पर कोई ध्यान नहीं दे रही है इसलिए इसका परिणाम गलत पड़ रहा है और किसानों को भरपूर सहयोग मिल रहा है आप सारे सामाजिक संगठनों को भी किसानों के साथ हैं
Jee laal kile mein jab yah ek aisa aisee ghatanaen ho gaee to aisa lag raha tha ki kisaan aandolan mein phel ho jaega lekin do-teen din baad jab raakesh tikait ke dvaara phir se apeel kee gaee aur unhonne yah kaha ki nahin bhaee ham ham sarakaar ko jhukaana nahin chaahate hain lekin ham kisaanon ko bhee apanee baat kahana chaahate ho seedhe pradhaanamantree se do took baat karake un teenon krshi kaanoonon ko nirast karane kee baat kar rahe hain lekin sarakaar apane svaabhimaan par aaee huee hai aur kisaanon par koee dhyaan nahin de rahee hai isalie isaka parinaam galat pad raha hai aur kisaanon ko bharapoor sahayog mil raha hai aap saare saamaajik sangathanon ko bhee kisaanon ke saath hain

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:32
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिलेगी किसान है जो अपने खेतों में आ जाएगा तो उसकी फसल बर्बाद हो जाएगी जो आवारा पशु खा जाएंगे निगाहें गुस्सा आएगी उसको खरपतवार बेटा ने उसको पानी भी देना है तो सारे काम है इसलिए सभी किसान भाई जा सकते जो किसानों के नाम के नेता बने हुए वही वहां गए हुए उसने सभी किसान भाइयों मिलना तो संभव नहीं है
Kisaan aandolan ko kisaanon ka sahayog kyon nahin milegee kisaan hai jo apane kheton mein aa jaega to usakee phasal barbaad ho jaegee jo aavaara pashu kha jaenge nigaahen gussa aaegee usako kharapatavaar beta ne usako paanee bhee dena hai to saare kaam hai isalie sabhee kisaan bhaee ja sakate jo kisaanon ke naam ke neta bane hue vahee vahaan gae hue usane sabhee kisaan bhaiyon milana to sambhav nahin hai

bolkar speaker
किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है?Kisaan Andolan Ko Kisanon Ka Sahyog Kyun Nahin Mil Raha Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Self development online classes abhi join kare instagram me
2:22
आपका प्रश्न है किसानों को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है तो जी हां दोस्तों किसान आंदोलन में वैसे किसान तो बहुत ही कम होंगे किसान के भेष में हमारे देश को नुकसान पहुंचाने वाले लोग हैं चलिए अब बात करते हैं कि किसान जो इतनी पसंद गरीब किसान हैं इस बिल का उनको फायदा हो रहा है वह लो अच्छी खासी इनकम जनरेट कर पा रहे हैं अपनी सब्जियों को सेंड कर पा रहे हैं और एक अच्छे खासे तरीके से हो रहा है अगर आप रिसर्च करेंगे तो देख पाएंगे कि इस बिल के पारित होने से बहुत लोग जो कर रहे हैं हमारे देश की अर्थव्यवस्था को भी धीरे धीरे करो कर रही है ठीक है और बाकी लोग थे जो किसान आंदोलन में बिल को बंद करो सब्जियां मंडी बंद हो जाएंगी यह सारी चीजें कल की सब्जी मंडी बंद नहीं होने वाली और भी नहीं सब्जियां सब्जी मंडी क्रिएट हो रही है ठीक है हर एक चीज रुकती नहीं है वह बढ़ती है सब बोलते सब्जी मंडी बंद हो जाए यह हो जाएगा कुछ नहीं हो रहा है और बढ़ गई है अगर आप इस मंडी में बेचना चाहते बढ़िया-बढ़िया यह आपके ऊपर डिपेंड करता है अब कुछ चीजें ऐसी होती कह देते हैं कि टॉर्च यही टॉर्च बनेगी जिंदगी भर चलेगी ठीक है सामान बनते हैं तो सामान उस टाइम खराब हो जाएंगे फिर दूसरे सामान बन रहे हैं ऐसा होता है अगर यह बिल पारित हुआ है तो सब्जी मंडी नई नई और क्रिएट हो अगर आप सर्च करेंगे समझेंगे 1 पॉइंट को पकड़े हैं ना तब आप देखेंगे कि अभी तो ग्रोथ शुरू हुई है अभी तो विकास शुरू हुआ है आप खत्म करने की बात क्यों कर रही है तू ग्रोथ हो रहा है देखिए जाकर आप बहुत सारे लोग को बेनिफिट हो रहा है जो सब्जियां सड़कों में रहती थी आज घरों में हैं कंपनियों में है और सभी लोग रो कर रहे हैं ठीक है तो किसानों का सहयोग नहीं मिल रहा है क्योंकि किसान है ही नहीं कि उन्हीं के फायदे के लिए बिल है और उस पर वह काम करें और उन्हें फायदा हो रहा है तो हर एक चीज में मैंने बहुत रिसर्च करती हूं तब मैं जाकर आपसे शेयर करती हूं थैंक यू सो मच
Aapaka prashn hai kisaanon ko kisaanon ka sahayog kyon nahin mil raha hai to jee haan doston kisaan aandolan mein vaise kisaan to bahut hee kam honge kisaan ke bhesh mein hamaare desh ko nukasaan pahunchaane vaale log hain chalie ab baat karate hain ki kisaan jo itanee pasand gareeb kisaan hain is bil ka unako phaayada ho raha hai vah lo achchhee khaasee inakam janaret kar pa rahe hain apanee sabjiyon ko send kar pa rahe hain aur ek achchhe khaase tareeke se ho raha hai agar aap risarch karenge to dekh paenge ki is bil ke paarit hone se bahut log jo kar rahe hain hamaare desh kee arthavyavastha ko bhee dheere dheere karo kar rahee hai theek hai aur baakee log the jo kisaan aandolan mein bil ko band karo sabjiyaan mandee band ho jaengee yah saaree cheejen kal kee sabjee mandee band nahin hone vaalee aur bhee nahin sabjiyaan sabjee mandee kriet ho rahee hai theek hai har ek cheej rukatee nahin hai vah badhatee hai sab bolate sabjee mandee band ho jae yah ho jaega kuchh nahin ho raha hai aur badh gaee hai agar aap is mandee mein bechana chaahate badhiya-badhiya yah aapake oopar dipend karata hai ab kuchh cheejen aisee hotee kah dete hain ki torch yahee torch banegee jindagee bhar chalegee theek hai saamaan banate hain to saamaan us taim kharaab ho jaenge phir doosare saamaan ban rahe hain aisa hota hai agar yah bil paarit hua hai to sabjee mandee naee naee aur kriet ho agar aap sarch karenge samajhenge 1 point ko pakade hain na tab aap dekhenge ki abhee to groth shuroo huee hai abhee to vikaas shuroo hua hai aap khatm karane kee baat kyon kar rahee hai too groth ho raha hai dekhie jaakar aap bahut saare log ko beniphit ho raha hai jo sabjiyaan sadakon mein rahatee thee aaj gharon mein hain kampaniyon mein hai aur sabhee log ro kar rahe hain theek hai to kisaanon ka sahayog nahin mil raha hai kyonki kisaan hai hee nahin ki unheen ke phaayade ke lie bil hai aur us par vah kaam karen aur unhen phaayada ho raha hai to har ek cheej mein mainne bahut risarch karatee hoon tab main jaakar aapase sheyar karatee hoon thaink yoo so mach

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान आंदोलन को किसानों का सहयोग क्यों नहीं मिल रहा है
URL copied to clipboard